Wednesday, December 26, 2018

बेसहारा बुजुर्गो की सेवा से मिलती है आत्मसंतुष्टि-सुभाशीष पांडेय

दिलीपपुर/प्रतापगढ़।

''असहाय मानव देखकर जो दे नहीं दो पल का सहारा, ऐसी जज्बे की रवानी किस काम की, कर्ज नर सेवा चुकाये बिना ढल जाये जो, ऐसी जोशीली जवानी किस काम की'' इन्हीं पंक्तियों को चरितार्थ करते हुए रानीगंज  तहसील के नजियापुर गाँव के युवा समाजसेवी शुभासीष पाण्डेय ने आज सोमवार को  बसीरपुर दिलीपपुर रतनमई गाँव मे पहुँचकर  शीत लहरी से उत्पन्न होने वाले समस्या के दृष्टिगत समाज के बुजुर्ग विधवा व असहाय व्यक्तियों को राहत पहुंचाने के उद्देश्य से दो दर्जन से अधिक जरूरतमंदो  को कम्बल वितरित किया। उन्होने कहा कि जरूरतमंद की मदद के बाद उनके चेहरे की मुस्कान जो सुकून देती है उसे बयान नही किया जा सकता कहा कि आज  ब्राह्मण समाज के पिछड़ेपन का मुख्य कारण सामाजिक कुरीतियां और नशापान है समाज को नशामुक्त समाज बनाने एवं युवा पीढी वर्ग को शिक्षा के साथ साथ सामाजिक स्वच्छता अपनाने व समाज के लोगो को जागरूप करने की जरूरत है  लोगो के सहयोग से इस तरह के कार्य को आगे भी जारी रखूंगा ।  इस दौरान परशुराम सेना प्रभारी अनिल पाण्डेय ने  कहा कि ठंढ मे गरीबो की मदद करना सबसे पुनीत कार्य है  भगवान ने हम सभी को कुछ न कुछ दिया है ऐसे मे हम सभी का दायित्व बनता है कि जरूरतमंदो को गर्म वस्त्र देकर के उनका सहयोग करें।
इस मौके पर कम्बल वितरण के दौरान अमित मिश्रा, आदर्श पाण्डेय अरूण त्रिपाठी,रामलखन पाण्डेय, मनकामेश्वर धाम के पुजारी जी , अनुज मिश्रा, सूर्यकली, कलावती, रामचरित्र मिश्रा, समेत अन्य लोग मौजूद रहे ।

No comments:

Post a Comment