Sunday, January 27, 2019

पत्रकारों को गुमराह करके अपनी रोटियां सेकती सरकार

लेख वरिष्ठ पत्रकार महेंद्र मणि पांडेय की कलम से

जी हाँ पत्रकारों को गुमराह कर रही हैं सरकारें ये शब्द सुनने में आपको अटपटा  लगने के बाद आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि आखिर सरकारें पत्रकारों को कहां  गुमराह कर रही है तो हम सीधे उस मुद्दे पर आते हैं  हम आपको बतादें की जब कहीं  किसी भी पत्रकार पर जानलेवा हमले होते हैं या उनके साथ अभद्रता के साथ धमकी दी जाती है तो एक बार मामला बड़े पैमाने पर आकर तूल तो पकड़ता है और सरकार के नुमाइंदे मंत्री - नेता लंबे लंबे बयान भी देते फिरते हैं और पत्रकार सुरक्षा की बातें ऐसे पेस करते हैं कि जैसे  अब सब पत्रकार हितैसी हो गये हैं और पत्रकार सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं  जिसकी कुछ खबरे एवं फ़ोटो को हमारे एकाध  पत्रकार भाई अपनी पहली  भी  खबर भी बना कर अपने अखबार और चैनल पर स्थान दे देते हैं , मगर क्या कभी खबर लगाने वाले इन पत्रकार भाईयों ने सोचा या अधिक कानूनी जानकारी ली  की जो नेता - मंत्री महोदय पत्रकार की सुरक्षा की बात कर रहे हैं उसको कानूनी मान्यता भी है कि नहीं या फिर हवा में घोषणाएं ही हो रही है चलिए थोड़े समय के लिए मान भी ले कि नेता - मंत्री जी  सही बोल रहे हैं और पत्रकार हित / सुरक्षा की बात अपना कर्तव्य मानकर कर रहे हैं तो मेरा उनसे क्रमशः दो सवाल है,
सवाल (1)
पत्रकार के ऊपर हो रहे अत्याचार या हुए हमले को कौन से IPC Section में पुलिस मामले को दर्ज करे ?सवाल नम्बर (2)
यदि मौजूद कानून ब्यवस्था के आधार पर करेंगे तो फिर कैसा अलग से पत्रकारों के हित और सुरक्षा  की बात ?
पत्रकार भाईयों को सरकारें गुमराह मत करें अगर सरकारें या मंत्री पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर वाकई में चिंतित हैं तो माननीय कानून मंत्री जी कृपया  कानून ब्यवस्था में पत्रकारों की सुरक्षा के लिये अलग से   IPC section Act का समावेश करें,  जिससे पीड़ित पत्रकार पुलिस स्टेशन में  कम्प्लेन करते समय भ्रमित ना हो , मौखिक बयान बहोत आया है कि पत्रकारों पर हमला करने वालों पर 50 हज़ार जुर्माना और 3 साल की कैद , अगर ये नेताओ के बयान सही हैं तो महोदय जी पत्रकार सुरक्षा GR कहा है ?? और कौन सी  IPC Section में   अलग से धारा है और कहाँ है इसकी भी जानकारी मुहैया करायें  , ये मेरा सबसे बड़ा  सवाल है  ??

महेंद्र मणि पाण्डेय ( मुम्बई - 9930422156 )
Mahendramanipandey@gmail.com

No comments:

Post a Comment