Thursday, February 14, 2019

इंदौर शहर की पहली महिला एसएसपी ने सम्हाली कमान

शहर की पहली महिला एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र ने मंगलवार को इंदौर पुलिस की कमान संभाल ली। वे सुबह 11 बजे कार से कलेक्टर पति शशांक मिश्रा , बेटे और सास के साथ डीआईजी कार्यालय पहुंचीं। सास को खुद हाथ पकड़कर ऑफिस तक ले गईं। डीआईजी हरि नारायणाचारी मिश्र ने उनका स्वागत किया और चार्ज सौंपा। एसएसपी ने पहले सास के पैर छूकर बहु और बेटी दोनों का फर्ज निभाया। फिर नई जिम्मेदारी संभाली। बाद में वे एडीजी वरुण कपूर के कार्यालय पहुंचीं।वर्ष 2006 की आईपीएस बैच की टॉपर और अचूक निशानेबाज रुचि वर्धन मूल रूप से सतना की रहने वाली हैं। वे होशंगाबाद में एसपी और भोपाल व राजगढ़ में एएसपी रह चुकी हैं। भोपाल की ही सबसे प्रमुख सातवीं बटालियन में कमांडेंट भी रह चुकी हैं।
उनके पति शशांक मिश्र वर्तमान समय मे उज्जैन के कलेक्टर हैं। उनकी एक बेटी है। रुची मिश्र बताती हैं कि मुझे शुरू से ही कुछ अलग करने का जुनून था। मेरा आईएएस और आईपीएस दोनों के लिए चयन हो गया था। पहले अटैम्प्ट में ही आईपीएस का इंटरव्यू क्लियर कर लिया था। आईपीएस को चैलेंजिंग जॉब मानकर इसे चुना। इसमें फील्ड में हमेशा देश के लिए कुछ करने के अवसर मिलते हैं।रुची मिश्र बताती हैं कि 2006 में वे दिल्ली की जेएनयू यूनिवर्सिटी में एमए और एमफील की पढ़ाई करने के साथ यूपीएससी परीक्षा में भी सेलेक्ट हुई। उनकी ऑल इंडिया में 67वीं रैंक थी। आईपीएस बनने के बाद तीन महीने की इंडक्शन ट्रेनिंग मसूरी में मिली। फिर हैदराबाद में सरदार वल्लभभाई पटेल नेशनल पुलिस एकेडमी में ट्रेनिंग ली। यूपीएससी परीक्षा के नंबरों सहित दो साल की ट्रेनिंग के नंबर का टोटल मिलाने पर मिश्र को एकेडमी की बैच ऑफ टॉपर का अवॉर्ड और ट्रॉफी भी मिली। इसी ऑफिसर मीट में हुए शूटिंग कॉम्पिटिशन में 10 में से 10 नंबर लाकर अचूक निशाने लगाने पर उन्हें पहला अवॉर्ड मिला था।

महेंद्र मणि पाण्डेय

No comments:

Post a Comment