Wednesday, March 13, 2019

चुनावी अधिसूचना के बाद बढ़ी राजनीतिक सरगर्मियां

चुनाव आयोग द्वारा आगामी लोकसभा चुनाव की अधिसूचना जारी कर कार्यक्रम घोषित करते ही मौसम के साथ ही चुनावी सरगर्मियों का पारा भी बढ़ने लगा है। विपक्षी राजनैतिक दलों के कुछ लोग आयोग के चुनावी कार्यक्रम के दौरान पड़ने वाले पवित्र रमजान महीनें को लेकर चुनावी वोट की रोटियां सेंकने में जुट गये हैं और उन्हें इसमें राजनैतिक साजिश नजर आने लगी है।आयोग की चुनावी रणभेरी बजते ही शहर कस्बा बाजार गांव गली मुहल्ला हर जगह आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर खेत की मेड़ से देश की राजधानी के राजनैतिक गलियारों ऐव चौबारों में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है तथा सभी दल अपने अपने प्रत्याशियों की सूची फाइनल करने के साथ ही एक दूसरे पर राजनैतिक व्यंगबाण छोड़ने एवं आरोप प्रत्यारोप लगाने लगे हैं।अधिसूचना जारी होने के बाद चुनाव के होने या टल जाने को लेकर चल रही अटकलों का सिलसिला थम गया है।अधिसूचना जारी होने के बाद अब लोगो को यकीन हो गया है कि अब पाकिस्तान से युद्ध या आतंकियो के खिलाफ सर्जिकल नहीं बल्कि राजनैतिक अखाड़े में  पोल्टिकल सर्जिकल  के रूप में चुनावी महासमर होगा। अधिसूचना जारी होने के   साथ ही मौसम के यकायक बदलाव के  साथ ही राजनैतिक क्षेत्र में भी गरमाहट आ गई है और सरकारी अमले की चाल ढाल स्वरूप और तेवर सभी अचानक बदल गयें है। जो प्रशासनिक अधिकारी कर्मचारी कल तक अपनी कुर्सी बचाने के लिये सत्तादल के गलियारे में नेताओं की गणेश परिक्रमा लगाकर अपनी कुर्सी की खैरियत मनाने में जुटे थे उन्होंने गिरगिट की तरह अपना रंग बदलकर कन्नी काटकर चुनाव आयोग का गुणगान गाना शुरू कर दिया  है।इतना ही नहीं वह अधिसूचना के साथ ही राजनैतिक दलों के पोस्टर बैनरों एवं होर्डिंगों को बेदर्दी से तोड़कर हटाने में जुट गये हैं। जारी चुनाव की तिथियों की घोषणा से स्पष्ट हो गया है कि इस बार लोकसभा चुनाव रबी की फसलों की कटाई मड़ाई के बीच मतदाताओं की व्यस्तता के मध्य होगें और वोट मांगने एवं मतदान करने दोनों में पसीना बहने लगेगा।इतना ही राजनैतिक दलों के लोगों को वोट मांगने के लिए मतदाताओं से मिलने के लिये उनके घरों पर नहीं बल्कि खेत खलिहान जाना पड़ेगा। रबी की फसलों की कटाई सरसों के साथ मार्च के प्रथम सप्ताह से शुरू हो जाती है और सरसों के बाद दलहनी फसलों की बारी आती है। चैत्र यानी अप्रैल माह में नवरात्रि आते ही रबी की मुख्य फसल गेहूं की भी कटाई मड़ाई शुरू हो जाती है जो मई जून तक चलती रहती है। अधिसूचना के बाद यह सुनिश्चित हो गया है कि इस बार मतदाताओं को मतदान करने के लिए असहनीय तेज धूप के बीच लाइन में खड़ा होना पड़ेगा जिसे सभी मतदाता बर्दाश्त नहीं कर पायेंगे जिसका सीधा असर मतदान प्रतिशत पर पड़ सकता है।अधिसूचना जारी होते ही प्रशासनिक अमला मतदान व्यवस्था की तैयारियों में जुट गया हैं और मतदान केंद्रों तक पहुंचने एवं अन्य सुविधाओं का आंकलन कर उसे सुव्यस्थित करने मुहिम शुरू कर दी गई हैं।अधिसूचना जारी  होते ही पुलिस भी मतदान को निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण सम्पन्न कराने के लिए पुलिस अशांति फैलाने वाले लोगों को  प्रतिबंधित करने के लिये संदिग्ध लोगों की सूची तैयार करने में जुट गई है।चुनाव अधिसूचना जारी होने के साथ ही जिलाधिकारी जिला निर्वाचन अधिकारी के रूप में तथा उनके अन्य सहयोगी उनके सहायक निर्वाचन अधिकारी के रूप में तब्दील होकर आयोग के इशारे पर कार्य कर उसका दिल जीतने के लिये सकुशल चुनाव सम्पन्न कराने की दिशा में प्रयत्नशील हो गये हैं।कल तक राजनीति और राजनेताओं का गुणानुवाद गाने वाला सरकारी तंत्र आज चुनाव आयोग का गुणानवाद करने लगा है।सत्तादल को सत्ताच्युत करने के विपक्षी दलो कै गठबंधन को मजबूत करने का कार्य युद्ध स्तर पर शुरू हो गया है।धन्यवाद।। भूलचूक गलती माफ।। सुप्रभात/वंदेमातरम/गुडमार्निंग/नमस्कार/अदाब/जयहिंद/शुभकामनाएं।। ऊँ भूर्भुवः स्वः------/ऊँ नमः शिवाय।।।

  . भोलानाथ मिश्र
रामसनेहीघाट, बाराबंकी यूपी।

No comments:

Post a Comment