Wednesday, March 6, 2019

सीडीओ ने सभी बीडीओ को रोजाना रिपोर्ट सौंपने के दिये निर्देश

देवीपाटन मंडल प्रभारी  पवन कुमार द्विवेदी

असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के जीवन में प्रधानमंत्री श्रम-योगी मानधन योजना क्रान्तिकारी परिवर्तन लाएगी। अंसगठित क्षेत्र के ऐसे लोग जिनके बुढ़ानें में जीवनयापन का कोई भी सहारा नहीं रहता ऐसे लोगों के चेहरे पर इस योजना से मुस्कान आ गई है। यह बातें जिला पंचायत सभागार में आयोजित प्रधानमंत्री श्रम-योगी मानधन योजना के शुभारम्भ कार्यक्रम में देवीपाटन मण्डल के आयुक्त महेन्द्र कुमार ने कही।
जिला पंचायत हाल में कार्यक्रम की औपचारिक मंडलायुक्त महेन्द्र कुमार ने सदर विधायक प्रतीक भूषण सिंह तथा सीडीओ आशीष कुमार ने की। जिले के कोने-कोने से आण् हुए श्रमिकों ने जिला पंचायत सभागार में आयोजित इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री द्वारा योजना के शुभारम्भ का लाइव प्रसारण देखा गया। इस अवसर पर आयुक्त ने कहा कि यह योजना असंगठित क्षेत्र के लोगों के लिए एक क्रान्तिकारी योजना है। अब जरूरत है कि कैसे ऐसे लोगों तक योजना का लाभ पहुंचाया जाय। उन्होने कहा कि इसके लिए पूरी लगन और मेहनत की जरूरत है। कार्यक्रम में विधायक सदर ने श्रमिकों को सम्मानित करने के बाद कहाकि असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले 18-40 आयु वर्ग के श्रमिक इस योजना में अंशदान कर इसकी लाभ उठा सकेंगे। जिले के करीब डेढ़ लाख श्रमिकों को इस योजना का लाभ मिलने की उम्मीद है। असंगठित क्षेत्र श्रमिकों को उनके बुढ़ापे में पेंशन मुहैया कराने के लिए केंद्र की मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री मानधन योजना लागू की है। इस योजना का उद्देश्य असंगठित क्षेत्र के उन श्रमिकों को पेंशन मुहैया कराना है जो दैनिक मजदूरी कर अपनी जीवन यापन करते हैं। इस तरह के श्रमिक इस योजना में अंशदान कर 60 वर्ष की आयु के बाद मासिक पेंशन प्राप्त कर सकेंगे। उन्होने कहा कि असंगठित क्षेत्र के ऐसे श्रमिक जिनके संबंध में आज तक किसी भी सरकार ने चिंता नहीं की, ऐसे श्रमिकों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पेंशन की योजना लाकर क्रांतिकारी कदम उठाया है। इस योजना में अंशदान कर श्रमिक पेंशन योजना का लाभ उठा सकेंगे। कार्यक्रम में मौजूद लोगों ने योजना के शुभारंभ का प्रधानमंत्री का लाइव प्रसारण भी देखा। मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि अब तक जिले में 3484 श्रमिकों का पंजीकरण किया जा चुका है। उन्होने इस सम्बन्ध में ग्राम प्रधानों तथ सभी खण्ड विकास अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि पात्रों का पंजीकरण कराकर प्रतिदिन की रिपोर्ट उप श्रमायुक्त को करें। उपश्रमायुक्त शमीम अख्तर ने बताया कि 18-40 आयु वर्ग के ऐसे श्रमिक जिनके मासिक आय 15 हजार से कम है वह आधार कार्ड व बैंक खाते के साथ जिले में संचालित काॅमन सर्विस सेन्टर्ट पर जाकर पंजीकरण करा सकते हैं। पंजीकरण के बाद श्रमिकों को मालिक रूप से इस योजना के तहत अंशदान करना होगा। 18 वर्ष के श्रमिकों के लिए न्यूनतम 55 रुपये, 18-40 वर्ष तक के श्रमिक 100 रुपये व 40 वर्ष से अधिक आयु के श्रमिक 200 रुपये अंशदान कर इस योजना में शामिल हो सकेंगे। श्रमिकों के अंशदान के बराबर की धनराशि केंद्र सरकार भी जमा करेगी। 60 वर्ष तक की आयु पूरी करने के बाद श्रमिकों को तीन हजार रुपये मासिक पेंशन प्रदान की जाएगी।
          इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी आशीष कुमार, अपर जिलाधिकारी रत्नाकर मिश्र, कैसरगंज सांसद प्रतिनिधि संजीव सिंह, विधायक मेहनौन प्रतिनिधि मनोज तिवारी, उप श्रमायुक्त शमीम अख्तर, श्रम प्रवर्तन अधिकारी अब्बास, बीएसए मनीराम सिंह, उपायुक्त श्रम एवं रोजगार हरिश्चन्द्र प्रजापति, सीएससी इन्चार्ज अभय श्रीवास्तव, विधायक सदर प्रतिनिधि अजय सिंह, बीजेपी मीडिया सहप्रमुख सौरभ श्रीवास्तव, समेत अन्य मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ पत्रकार जानकी शरण द्विवेदी ने किया।

No comments:

Post a Comment