Monday, April 29, 2019

राजस्थान के जयपुर में सुद्ध के लिए युद्ध सुरु

राजधानी जयपुर में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से चलाए जा रहे 'शुद्ध के लिए युद्ध अभियान' में अब पांच सितारा होटलों पर लगातार हो रही कार्रवाई से उनके यहां रेस्टोरेंट में परोसे जा रहे महंगे खाने की पोल खुल रही है. जवाहर सर्किल स्थित पांच सितारा होटल मेरियट में विभाग की सेंट्रल टीम जब कार्रवाई के लिए पहुंची तो वहां उन्हें अनेक खामियां मिलीं. वहां रसोई से मिले खराब हो चुके खाद्य पदार्थों को मौके पर ही नष्ट कराया गया और होटल को एफएसएसएआई की धारा 32 का नोटिस जारी करते हुए जांच के लिए सैंपल भी लिए.
प्रदेश का चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग इस समय पूरे प्रदेश में 'शुद्ध के लिए युद्ध' अभियान चला रहा है. लोगों को साफ सुथरा और बिना मिलावट के भोजन मिले इसके लिए विभाग की सेंट्रल टीम इन दिनों पूरे प्रदेश में घूम-घूम कर कार्रवाई कर रही है. विभाग की सेंट्रल टीम इन दिनों राजधानी जयपुर में पांच सितारा होटलों में उनके रेस्टोरेंट्स में परोसे जा रहे खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता की जांच कर रही है. विभाग की टीम नोडल अधिकारी डॉ. सुनील सिंह के नेतृत्व में कार्रवाई के लिए जवाहर सर्किल स्थित होटल मेरियट पहुंची.
विभाग की टीम को यहां निरीक्षण में अनेक कमियां मिली सेंट्रल विभाग की टीम ने एफएसएसएआई की धारा 32 का नोटिस जारी किया और मौके से खाद्य पदार्थों के सैंपल लिए. होटल में मौजूद रिकॉर्ड्स के अनुसार 160 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से पनीर खरीदा जा रहा था जबकि बाजार भाव 220 रुपए प्रति किलो की दर या इससे अधिक है.
निरीक्षण के दौरान गंदे बर्तनों में फूड प्रोडक्ट रखे हुए पाए गए. साथ ही फूड हैंडलर्स का भी उचित मेडिकल नहीं करवाया गया था. कुछ फूड हैंडलर्स ने तो कैप और ग्लव्ज भी नहीं पहने हुए थे. मायोनीज और ऑयल की खुली बोतल काम में ली जा रही थी.खाद्य पदार्थों पर टेगिंग उचित तरीके से नहीं की गई थी. यह भी जांच की गई कि वेज और नॉनवेज फूड अलग-अलग रखा गया है या नहीं.काम में लिए जा रहे खाद्य पदार्थों की एक्सपायरी डेट चैक की तो पानी की टेस्टिंग रिपोर्ट भी मौके पर चैक की. फूड लाइसेंस और अन्य जरुरी दस्तावेज डिस्प्ले किए हैं या नहीं और सड़े गले सब्जी-फल और नॉनवेज तो इस्तेमाल नहीं हो रहे, इसकी भी जांच की गई

No comments:

Post a Comment