Sunday, May 12, 2019

सीएचसी खरगूपुर अव्यस्थाओं के मकड़जाल

गोंडा पवन कुमार द्विवेदी   
गोंडा जनपद के खरगूपुर स्थित सीएचसी के मुख्य मार्ग पर गन्दा पानी व बगल में कूड़े का अंबार लगा हुआ है ।वही एक तरफ बॉण्डरीवाल है दूसरी तरफ बॉण्डरीवाल न होने से नाली का पानी कैम्पस में घुस रहा है जिससे आने वाले मरीजों को गंदे पानी से होकर गुजरना पड़ता है ।वही इस ब्लॉक की सीएचसी दो जगह एक आर्य नगर व एक खरगूपुर स्थित होने के कारण मरीजो को काफी परेशानियो से रूबरू होना पड़ता है ।वही डॉक्टरों व अन्य स्टाफ व दवाओं का टोटा बना रहता है ।वही इस सीएचसी के अधीक्षक डॉक्टर जे पी शुक्ल है जो मौके पर नही मिले ।सीएचसी पर तैनात डॉक्टर उमेश मौर्य से बात किया गया तो यह जानकारी मिली कि कैंपस के दक्षिण दिशा में विवाद चल रहा है वही पहले प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र आर्य नगर पर स्थित था जब समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खरगूपुर में बन गया तो स्वास्थ्य कर्मियो ने इसका विरोध किया तो यह तय हुआ कि तीन- दिन दोनो जगह  डॉक्टर व अन्य स्टाफ बैठेगे ।इस निर्णय से आर्य नगर के कर्मियो व आशाओ को तो फायदा हुआ लेकिन पुरे क्षेत्र के लोगो ,कर्मचारियो व अन्य लोगो को भारी दिक्कतो का सामना करना पड़ रहा है ।एक ही जगह पूरी व्यवस्था होनी चाहिए ।खरगूपुर कस्बा है यहाँ पर ब्लॉक से लेकर अन्य विभागों को होना चाहिए ।लेकिन इसे इस कस्बे का अहोभाग्य कहे तो अतिसयोक्त नही होगा ।इस कस्बे में सीएचसी बनते ही उसका विरोध शुरू हो गया ।बिरोध इस स्तर पर हुआ कि विभाग को झुकना पड़ा और तीन -तीन दिन दो जगह कार्य होगा ।यह जनपद का पहला सीएचसी है जिसने यह उपलब्धि हासिल की है ।सीएचसी बनने से पहले इन बिन्दुओ पर विचार करना चाहिए ।इस तरह के कृत से जन धन की तो हानि हुई ही वही मरीजो को भी भारी दिक्कतो का सामना करना पड़ रहा है ।इसका माकूल जबाब विभाग के पास नही है ।

No comments:

Post a Comment