Monday, June 24, 2019

बेरोजगारों को झांसा देकर ठगने वाली फाइनेंस कंपनी पर्दाफाश

बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने के नाम पर और उनके संबंधों का इस्तेमाल ठगी के लिए करने वाली एक फर्जी फाइनेस कंपनी का पर्दाफाश कोतवाली फेज 3 पुलिस ने किया है। पुलिस ने सेक्टर-63 से 9 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए लोगों के कब्जे से 90 हजार रुपये की नकदी, 19 मोबाइल फोन, दो कार, बड़ी मात्रा में लोन फार्म, लेटर हेड आदि बरामद किए गए हैं। नोएडा के फेज 3 कोतवाली पर अपनी शिकायत के कर पहुंचे बिहार के पश्चिम चंपारण निवासी आनंद प्रकाश और मिथिलेश लिखित शिकायत दी की सैक्टर 63 स्थित कंपनी नवजीवन इन्फो सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड मालिक राजा नावाज ने उन्हे डीएसए (डायरेक्ट सेलिंग एसोसिएट) के पद पर नियुक्त किया।कंपनी ने 25500 सेलरी देने का वादा किया। कंपनी की तरफ से उनको आईकार्ड भी दिया गया। कुछ दिन बाद कंपनी ने उन्हें लोन देने के लिए टारगेट दिया। आम जनता को एक लाख से 9 लाख तक को लोन देने के नाम 3500 रुपये तथा 9 लाख से एक करोड़ रुपये तक के लोन के लिए 4130 रुपये फाइल चार्च के रूप में लेते थे। इसके अलावा लोन पास कराने के नाम पर प्रोसेसिंग फीस के रूप में 12430 रुपये वसूलते हैं। दोनों पीड़ितो ने अपने संबंधो के सहारे 177 लोगो लोन देते के नाम पर फाइल चार्च के रूप 6 लाख 20 हजार रुपये इक्कठा कर कंपनी के खाते में जमा कर दिये पर कंपनी ने कोई लोन नहीं दिया। जब इसकी शिकायत करने कंपनी पहुंचे तो उन्हे डराया धमकाया गया।  इस मामले में पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू की गई। पुलिस टीम ने सूचना के आधार पर ए-82 सेक्टर-63 से 09 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है। इनके कब्जे से 90 हजार रुपये की नगदी, बड़ी मात्रा में कम्पनी के लोन सेंग्शन फार्म, लेटर पैड, कम्पनी को संचालित करने के लिये प्रयोग किये गये 19 मोबाइल और दो कार बरामद की गई है। गिरफ्तार आरोपियों में फैसल, अशद, समीर, बिलाल, मोहम्मद जैनुल, आरिफ, अजीम, अमन और मोहम्मद आकिल शामिल हैं। सभी आरोपी से जब पूछताछ की गई  तो पता चला इन लोगों ने आज तक किसी का कोई लोन स्वीकृत नहीं किया है। आरोपियों ने यह भी बताया कि वे काफी लोगों से इसी प्रकार का फर्जीवाड़ा कर चुके हैं

No comments:

Post a Comment