Tuesday, July 2, 2019

नोएडा में दो फैक्ट्रियों में लगी भीषण आग करोड़ों का सामान जलकर खाक

नोएडा के फेज-दो क्षेत्र में स्थित नोएडा स्पेशन इकोनॉमिक जोन (एनएसईजेड) में स्थित एक प्लास्टिक का दाना बनाने वाली फ़ैक्टरी में सोमवार की दोपहर भयानक आग लग गई। देखते ही देखते आग ने अपनी बगल वाली फैक्ट्री को भी चपेट में ले लिया। इस आग में करोड़ो के नुकसान की आशंका जताई जा रही है। सूचना पाकर मौके पर पहुंची दमकल की तीन दर्जन गाड़ियां आग को काबू करने में लगी हैं।फैक्ट्री में आग धधक रही है और पूरे इलाके में काला धुआं फैला हुआ है। ये नज़ारा है फेज-दो क्षेत्र के एनएसईजेड में 24 नंबर के प्लॉट पर आरबीएफ लेटेक्स लिमिटेड नाम की फैक्ट्री का। उसमें प्लास्टिक का दाना बनाने का काम होता है। सोमवार की दोपहर उसमें अचानक अग लग गई। बताया जाता है कि प्लास्टिक का दाना बनाने के लिए केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है। फैक्ट्री में ड्रमों में भरे केमिकल रखे थे। केमिकल से भरे ड्रम से आग की शुरुआत हुई और देखते ही देखते पूरी फैक्ट्री को अपनी चपेट में ले लिया। जिस समय आग लगी, वहां पर बड़ी संख्या में कर्मचारी और श्रमिक काम कर रहे थे। आनन फानन उन्हें बाहर निकाला गया। आग लगने की सूचना पाकर मौके पर फेज-दो फायर स्टेशन के अधिकारी और कर्मचारी मौके पर पहुंचे और आग बुझाने की कोशिश में जुट गए। लेकिन, आग इतनी तेजी से फैली की उसने बगल में स्थित 24ए नंबर के प्लाट पर स्थित प्रोसेसर्स एंड एक्सपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड को भी अपने लपेटे में ले लिया। इस फैक्ट्री में प्लास्टिक के ग्लब्ज बनाने का काम होता है। दोनों की फैक्ट्रियों में प्लास्टिक और केमिकल बेस्ड उत्पादन होने के कारण आग बुझाने में भारी दिक्कतें आ रही हैफेज-दो के फायर स्टेशन आफिसर ने आग के विकराल रूप को देखकर नोएडा फेज-एक, सेक्टर-58 और ग्रेटर नोएडा, नोएडा और ग्रेटर नोएडा के निजी फायर टेंडर के अलावा गाजियाबाद से भी दमकल की गाड़ियां बुलाई गई हैं। मौके पर लगभग तीन दर्जन गाड़ियां आग बुझाने में लगी हैं, लेकिन शाम छह बजे तक उस पर काबू नहीं किया जा सका था। आग पर पानी का कोई असर ही नहीं हो रहा है। फैक्ट्री में आग धधक रही है और पूरे इलाके में काला धुआं फैला हुआ है। इस आग में अब तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं है, लेकिन इसमें करोड़ों के नुकसान की आशंका जताई जा रही है। आग लगने के कारणों का अभी पता नहीं चला है।

विक्रम

No comments:

Post a Comment