Wednesday, July 10, 2019

जल संचयन को लेकर तालाबों और छोटी नदियों का होगा कायाकल्प

गोंडा ब्यूरो पवन कुमार द्विवेदी
घटते हुए जलस्तर को बढ़ाने के लिए तथा बरसात के पानी को नदियों में बेकार बहने से बचाने के लिए जिले की टेढ़ी व मनवर नदियों के किनारे वाले गांवों में विशेष अभियान शुरू होने जा रहा है। इस मुख्य विकास अधिकारी आशीष कुमार ने बावत कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक कर योजना की रूपरेखा तय की।
सीडीओ ने बताया कि तेजी से घट रहे भूगर्भ स्तर को रोकने तथा वर्षा जल जो नदियों में बेकार ही बह जाता हे, को संचित कर जल स्तर बढ़ाने के लिए टेंढ़ी व मनवर नदियों के किनारे पड़ने वाले गांवों को चिन्हांकित किया जाएगा। उन्होने राजस्व विभाग  के अधिकारियों को निर्देश दिए है कि दोनों नदियों के किनारे पड़ने वाले सभी गांवों का वे एक सप्ताह के अन्दर चिन्हांकन कर कार्य येाजना बना लें। उन्होने कहा कि इस गांवों के तालाबों का चिन्हांकन उनका जीर्णोद्धार, सुन्दरीकरण व सघन वृक्षारोपण कराया जाएगा जिससे वर्षा जल नदियों में बह जाने के बजाय इन गहरे तालाबों में स्टोर हो जिससे जलस्तर मेनटेन हो सके। इसके अलावा गांवों में मौजूद धार्मिक महत्व के तालाबों को विषेष रूप से सुन्दर व गहरा बनाकर जल संचयन का काम किया जाएगा। समीक्षा में ज्ञात हुआ कि जिले केे दो ब्लाक नवाबगंज व छपिया में भूगर्भ स्तर तेजी से घटा है। उन्होने बताया कि जब तक वर्षा जल संचयन के समुचित प्रबन्ध नहीं तैयार किए जाएगें आने वाले दिनों में पानी की विकराल समस्या सामने आ सकती है। इसलिए ऐसे गांव जो नदियों के किनारे हैं तथा उनका वर्षा जल नदियों में बह जाता है उसे रोककर तालाबों में संचित किया जाएगा जिससे जल स्तर मेनटेन हो सके।
बैठक में पीडी, डीसी मनरेगा, डीपीआरओ, एक्सईएन जल निगम, जिला कृषि अधिकारी सहित अन्य सम्बन्धित विभागीय अधिकारी रहे।

No comments:

Post a Comment