Friday, 23 August 2019

अपने बच्चों को अनुशासन में रहना सिखाएं लेकिन डराएं नहीं क्योंकि

आज के दौर में कुछ माता पिता अपने बच्चों को अपने कंट्रोल में रखने के लिए उनके दिल में डर भर देते हैं जबकि उन्हें यह मालूम ही नहीं होता कि बच्चों के दिल में भरा जाने वाला यही डर आगे चलकर आपके बच्चों का भविष्य चौपट कर सकता है और उस दर से आपके बच्चे का निकलना मुश्किल हो सकता है इसलिए अपने बच्चों से डिसिप्लिन और तरीके से बात करें जिससे वह आपकी बात को समझेंगे और मानेंगे भी आपको बताते चलें कि कुछ बच्चे ऐसे होते हैं जिन्हें संभालना थोड़ा मुश्किल होता है खासतौर पर हाय पर एक्टिव बच्चे जो किसी की भी बात जल्दी नहीं सुनते परंतु उसका यह अर्थ कतई नहीं है कि आप उनके मन में बेवजह का डर भर दे जरा ने से पहले यह सोच ले कि आप अपने बच्चे को खुद ही धरना सिखा रहे हैं जबकि आपको उन्हें तो निडर बनाना चाहिए क्योंकि वह अपने जीवन में आने वाली कठिनाइयों का सामना आसानी से कर सकें अपने बच्चों को कभी भी भूत प्रेत शेर पुलिस आदि का एग्जांपल नहीं देना चाहिए क्योंकि इस तरीके के डर के आपके बच्चे पर आने वाले समय में दुष्परिणाम भी देखे जा सकते हैं डर के कारण आपके बच्चे के मन में असुरक्षा की भावना घर कर जाती है जोश के व्यक्तित्व के विकास में बाधक होती है ऐसे बच्चे ज्यादातर बड़े होकर भी डरे सहमे से रहते हैं ऐसे बच्चों में आत्मविश्वास की कमी हो जाती है और वह डर के कारण स्कूल की एक्टिविटी में भी हिस्सा लेने से कतराते हैं जिसका सीधा असर उनके व्यक्तित्व पर पड़ता है बच्चों के मन में कई गलत धारणाएं भी बैठ जाती है जिसका उनकी सोच पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है इसलिए ध्यान रखें कि अपने बच्चे को अपनी बात प्यार से समझा करें मनवाए डर एक बाहरी दबाव है इसलिए आप अपने बच्चे को चाहे कितना भी डर आए अगर उनकी काम करने की इच्छा नहीं होगी तब वह नहीं करेंगे इसलिए डराने से ज्यादा जरूरी है कि आप अपने बच्चों को अनुशासित रहना सिखाएं जिससे वह जिंदगी में एक कामयाब इंसान बन सके

No comments:

Post a Comment