Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Sunday, 1 September 2019

पहले आप मन की दुर्बलता पर विजय पाएं तभी आप जीवन संघर्ष में विजयी हो पाएंगे

किताबें जानकारी देने का माध्यम ही नहीं होती बल्कि वह आपकी सच्ची दोस्त और बेहतर अध्यापक भी होती हैं अच्छी किताबें बाहर की चुनौतियों से लड़ते हुए अंदर की कमजोरियों से  जीने का सबक देती है और आत्मविश्वास और संघर्ष को सिखाते हुए हमारी मानसिक स्थिति भी मजबूत करती हैं महान कथाकार मुंशी प्रेमचंद्र की ज्यादातर कहानियों में कथा नायक गरीबी और भुखमरी और सामाजिक व्यवस्था में संघर्ष की कहानी छुपी होती है मुंशी प्रेमचंद्र का कहना है कि मन एक डरपोक शत्रु है जो मौका पाने पर पीछे से वार करने की कोशिश करता है इसलिए जीवन संग्राम में सबसे पहले मन की दुर्बलता पर विजय पाएं तभी आप जीवन में भी सभी कामों में विजई हो सकते हैं।
आपको बताते चले की मौजूदा हालात में कई घटनाओं से प्रेरित होकर ऐसी कई किताबें लिखी गई है जिसके नायक और नायिका लक्ष्य में सफल होने से पहले अपने आसपास से और मन की दुर्बलता से लड़ाई लड़नी सीख रहे हैं ओम प्रकाश राय यायावर का उपन्यास आपका रसिया इसकी नायिका का व्याख्या व्यक्तित्व कई मानवीय अंतर्विरोध से भरा पड़ा है मन को शांति रखने को वह चुनौती की तरह लेती है और दोगुनी ऊर्जा के साथ इस काम को आगे बढ़ाती हैं इस तरीके से वह नाही सिर्फ अंतर्विरोध बल्कि समाज की रूढ़ियों के साथ लड़ाई लड़ने में भी सक्षम हो पाती है जिसके लेखक ओमप्रकाश राजभर का कहना है कि इंसान अपनी मंजिल तब तक नहीं पा सकता जब तक वह अंतर्विरोध ऊपर विजय ना पाले समाज विज्ञानी संदीप शर्मा के अनुसार मन के अंदर विचारों की लड़ाइयां लाजमी है जब सकारात्मक विचार हमारी नकारात्मकता पर विजय पा लेते हैं तभी हम बाहरी लड़ाइयां के लिए तैयार हो पाते हैं

No comments:

Post a Comment