Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Wednesday, 12 February 2020

सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी कर किया विरोध प्रदर्शन



सवाईमाधोपुर@रिपोर्ट चन्द्र शेखर शर्मा। गंगापुर सिटी उपखंड मुख्यालय पर बुधवार को भाजपा की ओर से राजस्थान सरकार द्वारा बढ़ाई गई बिजली दरों को वापस लेने की मांग को लेकर जमकर विरोध प्रदर्शन किया गया। सैकड़ों भाजपाई  प्रातःकाल 11:30 बजे मिनी सचिवालय पहुंचे और पूर्व विधायक मानसिंह गुर्जर के नेतृत्व में जमकर नारेबाजी की और कांग्रेस सरकार के खिलाफ बढ़ाई गई बिजली दरों को वापस लेने की मांग को लेकर प्रदर्शन करते हुए आंशिक तौर पर धरना भी दिया गया। गुर्जर के नेतृत्व में भाजपा के प्रतिनिधि मंडल ने उपजिला कलेक्टर विजेंद्र कुमार मीना से मुलाकात कर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा ।
भाजपाइयों ने ज्ञापन में बताया कि राजस्थान की वर्तमान कांग्रेस सरकार द्वारा बिजली दरों को बढ़ाकर आमजन के साथ न्याय नहीं किया गया है।इन्होंने अपने घोषणा पत्र में वायदा किया था, कि बिजली की दरें नही बढ़ाई जायेंगी। लेकिन सरकार अपने वादे पर खरी नहीं उतरी।
राजस्थान में कुल 1 करोड़ 20 लाख परिवार बिजली का उपयोग करते हैं, इनमें से 68 फीसदी किसान परिवार हैं।सरकार के बिजली की दरे नही बढ़ाने की घोषणा आज  कपोल कल्पित साबित हुई  है। विडम्बना यह है की राजस्थान नियामक आयोग की सिफारिश पर 1 फरवरी 2020 से राज्य में 15 से 25 प्रतिशत विधुत दरों को बढ़ाने के आदेश जारी कर दिए गए।प्रति यूनिट 95 पैसे  बढ़ाने के साथ ही 115 रुपये फिक्स चार्ज भी प्रतिमाह बढ़ाकर अब तक कि सबसे अधिक बढ़ोतरी करआम उपभोक्ता कि जेब पर 1 हजार 800 करोड़ रूपये का अनावश्यक भार डाला गया है। हालातों पर नजर डाले तो
गरीब किसान जो गांव या ढ़ाणी में 2 या 3 कमरों के मकान में रहता है उसकी विधुत खपत 150 से 200 यूनिट प्रतिमाह तक होती है।अब गरीब किसान को 6 रुपये 40 पैसे की जगह पर 7 रुपये 35 पैसे फिक्स चार्ज, 220 रुपये प्रतिमाह की जगह 275 रुपये प्रतिमाह का भुगतान करना होगा। जो की सरकार की ओर से की गई वादा खिलाफी है और आमजन के साथ धोखाधड़ी भी।
राजस्थान में इलेक्ट्रिसिटी एक्ट वर्ष 2004 से प्रभावशील है।यह एक्ट कहता है ,कि विधुत उपभोक्ताओं पर किसी भी प्रकार की दरें, चार्ज या सरचार्ज बिना नियामक आयोग की अनुमति के नही लगाया जा सकता। जबकि जनविरोधी कांग्रेस
सरकार ने इससे पूर्व फ्यूज चार्ज के नाम से विधुत उपभोक्ताओं पर 37 पैसे प्रति यूनिट से लगाये जा रहे फ्यूज चार्ज को 55 पैसे कर दियाऔर इसमें विधुत नियामक आयोग की अनुमति भी नहीं ली।
 अड़ानी पावर को उपकृत करने के लिए राज्य के खजाने से दिए जाने वाले 27 हजार करोड़ का भार राज्य के 1करोड़ 20 लाख  तथा एफिशनल सिक्योरिटी के नाम पर भी 1 हजार 200 करोड़ का भार भी उपभोक्ताओं पर ही डाल दिया गया है।जिसके अंतर्गत 42 लाख 25 हजार उपभोक्ताओं को विभाग द्वारा नोटिस भी जारी किए जा चुके हैं। इसके अतिरिक्त एडिशन सिक्योरिटी चार्ज के रूप में  आम उपभोक्ताओं को 600 रुपये से लेकर 8 हजार रुपये तक का अतिरिक्त भार भी सहना पड़ेगा। यह बढ़ोत्तरी नही है तो क्या है...?
भाजपाइयों ने मांग की बिजली की दरों को तत्काल प्रभाव से वापस लिया जावे।
 भाजपा मिडिया प्रभारी मनोज कुनकटा ने बताया कि पूर्व विधायक मानसिंह गुर्जर ने कांग्रेस सरकार द्वारा बिजली के दाम बढ़ाने की निंदा करते हुए कहा ,कि कांग्रेस सरकार अपने जनघोषणा पत्र में किये गए वादे से मुकर रही है।कांग्रेस सरकार का वादा था कि पांच वर्षों तक बिजली के दाम  कभी नहीं बढ़ेंगे और पूरी बिजली दी जाएगी। बिजली दर बढ़ाने से यह साबित होता है, कि सरकार किसानों की हितैषी नहीं है।
        गुर्जर ने कहा कि सरकार लगातार अपने जनघोषणा पत्र से मुकर रही है, जिसके चलते किसान कर्ज माफी,बेरोजगार युवाओं को दिया जाने वाला 3500 रुपये प्रतिमाह बजीफा, बुजुर्ग किसानों को पेंशन आदि सभी से सरकार ने पल्ला झाड़कर केवल सत्ता लोलुपता के लिए कांग्रेस द्वारा हमेशा किये गए छलावे को पुनः दोहराया हैं।
साथ ही गुर्जर ने कहा की
दूसरी ओर सर्दी में किसानों की मौत के बावजूद किसानों को दिन के स्थान पर रात में बिजली दी जा रही हैं।
भाजपा सरकार के समय चालू की गई सब्सिडी को भी इधर -उधर कर किसानों के साथ कुठाराघात किया जा रहा है।
इस प्रकार पिछले दरवाजे से दरे बढ़ाकर जनता के साथ धोखा किया जा रहा है जो निंदनीय है।आने वाले समय में जनता कभी कांग्रेस पर विश्वास नही करेंगी।बजट सत्र से ठीक पहले दरे बढ़ाना लोकतांत्रिक मर्यादाओ एवं सदन का अपमान हैं, जो कांग्रेस संविधान की दुहाई दे रही हैं, वह स्वयं संविधान की धज्जियां उड़ा रही हैं।
मनोज कुनकटा ने बताया कि इस दौरान पूर्व विधायक मानसिंह गुर्जर के अलावा जिला महामंत्री मनोज बंसल,पुखराज सलेमपुर,सवाई सिंह राजपूत,दीपक सिंघल,रामसिंह खटाना, हरिओम पटेल,शिवदयाल,जमनालाल वैष्णव, महेन्द्र दीक्षित,मिथलेश व्यास,वीरू पुजारी,मनोज कुनकटा, कौशल बोहरा,सूरज मास्टर,गोपाल धामोनिया,वेदप्रकाश सोनवाल,राजेन्द्र शहजपूरा,भवानी मानपुर,हिमांशु शर्मा,विवेक पाठक,धनेश शर्मा,संदीप सिंह,मुनीम मच्छीपुरा,विरेन्द्र सिंह पटेल समेत सैकड़ों भाजपा युवा मोर्चा कार्यकर्ता मौजूद रहे।

No comments:

Post a comment