Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Monday, 15 February 2021

महिलाओं की मदद करेगी 'ऊर्जा':tap news India

उज्जैन.MP में महिला अपराधों पर रोकथाम और प्रभावी कार्रवाई के लिए प्रदेश के 700 थानों में महिला हेल्प डेस्क की शुरुआत अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस यानि आठ मार्च से होने जा रही है। उज्जैन में 21 थानों को चयनित किया गया है। थानों में हेल्प डेस्क का गठन तीन श्रेणियों में होगा। उसी हिसाब से यहां महिला पुलिसकर्मियों की तैनाती होगी। सोमवार को डीजीपी विवेक जौहरी ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए इसकी रूपरेखा पर चर्चा की। इसे 'ऊर्जा' (URJENT RESPONSE FOR JUST ACTION-URJA) नाम दिया गया है। यानि कि सिर्फ कार्रवाई के लिए तत्काल प्रतिक्रिया।
दर्ज अपराधों की संख्या के हिसाब से A, B, C क्लास में होंगे थाने
उज्जैन एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल ने बताया, साल भर में जिस थाने में 75 से अधिक महिला अपराध दर्ज होंगे, उन्हें ए-क्लास, जहां 40-75 होंगे, उन्हें बी-क्लास और 40 से कम अपराध वाले थानों को सी-क्लास की श्रेणी में रखा गया है। ए-क्लास के थानों में सात (एक एसआई, दो प्रधान आरक्षक और चार आरक्षक), बी-क्लास में पांच (एक एसआई या एएसआई और चार प्रधान आरक्षक या आरक्षक) और सी-क्लास वाले थानों के महिला हेल्प डेस्क पर चार (एक एसआई व तीन प्रधान आरक्षक या आरक्षक) महिला पुलिसकर्मियों का स्टाफ रहेगा।
20 फरवरी तक तैयार हो जाएंगे कक्ष
एसपी ने बताया, उज्जैन के चयनित सभी 21 थानों में 20 फरवरी तक महिला हेल्प डेस्क कक्ष तैयार कर लिया जाएगा। जहां महिलाओं के लिए कई सुविधाएं उपलब्ध होंगी। थाना प्रभारी डेस्क के इंचार्ज होंगे। हेल्प डेस्क पर तैनात महिला अधिकारी संचालक होंगी। प्रधान आरक्षक को-ऑर्डिनेशन का काम करेंगे।
इन थानों में महिला हेल्प डेस्क की सुविधा
माधवनगर, नीलगंगा, नागझिरी, महाकाल, चिमनगंज मंडी, जीवाजीगंज, नानाखेड़ा, नागदा, बिरलाग्राम, महिदपुर, झारड़ा, राघवी, माकड़ोन, बड़नगर, इंगोरिया, तराना, उन्हेल, भाटपचलाना, घटि्टया, भैरवगढ़ व खाचरौद।
दूरदराज की महिलाओं को महिला थाने तक नहीं आना होगा
एसपी ने बताया कि ग्रामीण इलाकों के थानों में महिला हेल्प डेस्क बनने से महिलाओं को उनके विरुद्ध हो रहे अत्याचारों या घरेलू हिंसा की शिकायत के लिए अब शहर में स्थित महिला थाने तक आने की जरूरत नहीं होगी। जिले के अंतिम छोर पर बसे गांवों की महिलाओं को शिकायत के लिए 70 से 80 किमी चलकर शहर आना होता है। आने-जाने में पैसा भी खर्च होता है। थानों में महिला हेल्प डेस्क से ही समस्याओं का निराकरण किया जाएगा।
एसपी ने छह महिला अधिकारियों की नियुक्ति की
एसपी शुक्ल ने बताया, उज्जैन के 15 थानों में पहले से हेल्प डेस्क पर महिला अधिकारियों की तैनाती है। रविवार को झारडा थाना में उपनिरीक्षक विंध्या तोमर, उन्हेंल थाना के लिए उपनिरीक्षक राखी गुर्जर, राघवी थाना में अन्नपूर्णा कठेरिया, बड़नगर थाना में प्रियंका शुक्ला व भाटपचलाना थाना में उपनिरीक्षक हेमलता की नियुक्ति की गई। एएसआई जुबेदा शेख को माकड़ौन थाने की महिला डेस्क प्रभारी बनाया गया।

No comments:

Post a comment