Tap news india

Tap here for latest news, entertainment news from India in Hindi. Read news from your city top news in india .हिंदी में

Breaking news

Wednesday, 11 September 2019

ट्रैफिक का चालान कटने पर कोर्ट में दिखाई चालाकी तो पहुंचा सीधा जेल


दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट में चालान भुगतने के लिए मजिस्ट्रेट के सामने एक ड्राइवर खड़ा था जो अपना ड्राइविंग लाइसेंस लेकर खड़ा  था जिसमें चालान और लाइसेंस में लिखा हुआ नाम एक ही था लेकिन ट्रैफिक डिपार्टमेंट ने चालान के साथ ट्रैफिक नियमों को तोड़ने वाले जानवर की फोटो भी कोर्ट में पेश कर रखी थी मजिस्ट्रेट ने गौर किया तो पाया कि सामने खड़े शख्स का फोटो से मिला नहीं हो पा रहा है मजिस्ट्रेट से पूछताछ की तो पेश हुए शख्स ने कबूल किया किया  की चालान के समय वह गाड़ी नहीं चला रहा था उस वक्त गाड़ी चला रहा शख्स कोर्ट के बाहर खड़ा हुआ है जिसे  बुलाया गया और दोनों को पुलिस के हवाले कर दिया गया पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट बलवीर सिंह की कोर्ट में ट्रैफिक नियम तोड़ने का चालान पेश हुआ चालान मनीष कुमार के नाम से था इसीलिए ड्राइवर ने चालान के समय खुद गाड़ी चलाने को साबित करने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस पेश किया और ओरिजिनल चालान की कॉपी के साथ आरोपी कोर्ट में पेश हुआ लेकिन ट्रैफिक इंस्पेक्टर ने आरोपी की फोटो भी कोर्ट में जमा कर रखी थी जिसकी उसे जानकारी नहीं थी कोर्ट में ट्रैफिक मजिस्ट्रेट मैं महसूस किया कि आरोपी की शक्ल ट्रैफिक द्वारा भेजी फोटो से मैच नहीं कर रही है उसकी शक्ल की मिलान की तो उसकी फोटो से उसकी शक्ल मेल नहीं खा रही थी मजिस्ट्रेट ने सवाल-जवाब करने पर मनीष ने कबूल किया कि गाड़ी नहीं चला रहा था गाड़ी चला रहे यूपी के मैनपुरी निवासी अजीत के पास नहीं था इसलिए उसने मनीष का नाम लिखा  दिया वह अदालत के बाहर खड़ा है है जिसे भीतर बुला लिया जाए बाहर खड़े मजिस्ट्रेट ने नायाब  को कोर्ट के साथ बाहर भेजकर असली आरोपी को अंदर बुला लिया जिस पर प्रदीप ने स्वीकार किया कि चालान के समय वह गाड़ी चला रहा था लेकिन उसके पास लाइसेंस नहीं था इसलिए लाइसेंस धारी मनीष का नाम लिखवा दिया था अदालत ने दोनों को चालान करने वाले अधिकारी और कोर्ट को गुमराह करने के लिए तत्काल पुलिस कस्टडी में दे दिया बाजार थाने के एसएचओ को दोनों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के निर्देश दिए पुलिस ने मजिस्ट्रेट के निर्देश पर आई आईपीसी की धारा 419 चीटिंग और 120 भी अपराधिक षड्यंत्र रचने का मामला दर्ज कर आरोपी मनीष और प्रदीप को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया

No comments:

Post a Comment