Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Showing posts with label केरल. Show all posts
Showing posts with label केरल. Show all posts

Tuesday, 6 October 2020

16:20

केरल के इस कपल ने 58 साल की शादीशुदा जिंदगी में पहली बार कराया फोटोशूट जाने क्यों deepak tiwari

केरल के इडुकी राज्य में रहने वाले 85 साल के कंजूट्‌टी और 80 साल की चिनम्मा की शादी को 58 वर्ष हो गए। पिछले 58 वर्ष के दौरान इस कपल का एक भी फोटो साथ में नहीं था। ये बात जब उनके पोते को पता चली तो उसने अपने दादा-दादी के लिए वेडिंग फोटोशूट प्लान किया।
इस कपल का पोता वेडिंग फोटोग्राफर है। उसने इन दोनों की जिन फोटोज को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया, वे वायरल हुई जिसे लोगों को खूब सराहा।
इस कपल के पोते ने इंस्टाग्राम पर लिखा कि जब मुझे अपने दादा-दादी से ये पता चला कि इतनी लंबी मैरिड लाइफ में उनका एक भी फोटो साथ में नहीं है तो मैंने तभी ये तय किया कि मैं इन दोनों का वेडिंग फोटोशूट करूंगा।
कंजूट्‌टी ने फोटो में ब्लैक कलर का सूट पहना है और इसी कलर का सनग्लास लगा रखा है। वहीं चिनम्मा ने सफेद साड़ी पहन रखी है जिसमें वे सुंदर लग रही हैं। इन दोनों के हाथ में फ्लॉवर बकेट है और गले में खूबसूरत सफेद फूलों की माला है। ये वेडिंग कपल जब भी इन फोटोज को देखेंगे तो उनके चेहरे पर मुस्कान जरूर आएगी।

Saturday, 12 September 2020

05:46

इन दिनों चर्चा में है भागीरथी और कार्थयायनी अम्मा जाने क्यों:deepak tiwari

चर्चा में भागीरथी और कार्थयायनी अम्मा:deepak tiwari केरल की 2 बुजुर्ग महिलाएं ऑनलाइन क्लास के जरिये सीख रहीं पढ़ना, 10 वी कक्षा पास करके पूरा करना चाहती हैं पढ़ाई करने का सपना
केरल में कोल्लम की भागीरथी और अलपुझा में कार्थयायनी अम्मा 10 वीं की परीक्षा देने वाली हैं। 10 वी पास करना इनका सपना है और इसे पूरा करने के लिए ये दोनों लैपटॉप और मोबाइल पर ऑनलाइन पढ़ाई कर रही हैं।
इसी साल दोनों को नारी शक्ति पुरस्कार भी मिला है। भागीरथी ने सबसे ज्यादा उम्र में चौथी कक्षा पास करने का खिताब जीता था। चौथी में वे स्टेट टॉपर रहीं थीं। फिलहाल ये दोनों बुजुर्ग महिलाएं ऑनलाइन पढ़ाई को लेकर चर्चा में हैं।
वे ब्लैकबोर्ड या स्लेट पर लिखने के बजाय कम्प्यूटर स्क्रीन पर टाइप करना सीख रही हैं। हालांकि उन्हें मोबाइल चलाना सीखने में भी वक्त लगा, लेकिन लॉकडाउन के वक्त का उपयोग उन्होंने डिजिटल ज्ञान बढ़ाने में बिताया।
भागीरथी अम्मा हमेशा ही पढ़ना चाहती थीं लेकिन बचपन में ही उनकी मां के न रहने की वजह से उन्हें अपना ये सपना छोड़ना पड़ा। मां के गुजर जाने के बाद भाई-बहनों की देखरेख की जिम्मेदारी उन पर आ गई थी। तब से अपनी जिम्मेदारियां पूरी करते हुए उन्हें पढ़ाई करने का कभी मौका नहीं मिला।
जब उन्हें पढ़ने का मौका मिला तो वे एक दिन भी बेकार गंवाना नहीं चाहतीं। वे फिलहाल अपनी ऑनलाइन क्लासेस पर ध्यान दे रहीं हैं। स्कूल बंद होने की वजह से उनके पोता-पोती भी घर में हैं जो पढ़ाई के साथ-साथ दिनभर मस्ती करते रहते हैं। इसलिए वे अपनी इंस्ट्रक्टर शर्ली के साथ सुबह और शाम कमरे का दरवाजा बंद कर पढ़ाई करती हैं ताकि पढ़ते समय बच्चे उन्हें तंग न करें।
कार्थयायनी अम्मा आजकल अपना अधिकांश समय लैपटॉप के सामने बिता रही हैं। लैपटॉप पर वे अपनी पढ़ाई के साथ-साथ साक्षरता मिशन से जुड़े यू ट्यूब चैनल 'अक्षरम' को भी देखती हैं। इस चैनल पर पहले से रिकॉर्ड किए गए क्लासरूम के वीडियोज प्रसारित होते हैं। इसकी मदद से वे अपने लिए नोट्स तैयार करती हैं।