Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Showing posts with label बुंदेलखंड. Show all posts
Showing posts with label बुंदेलखंड. Show all posts

Tuesday, 12 November 2019

08:55

बुंदेलखंड की दिग्गज नेत्री के समर्थकों ने अलग तरीके से मनाया उनका जन्म दिन


पंकज पाराशर छतरपुर भोपाल सामाजिक क्षेत्र में बुंदेलखंड की राष्ट्रीय पहचान बनाने वाली, बुंदेलखंड की दिग्गज नेत्री, टीकमगढ़ विधानसभा क्षेत्र के विधायक राकेश गिरी गोस्वामी की पत्नी एवं नगर पालिका परिषद टीकमगढ़ की अध्यक्ष श्रीमती लक्ष्मी राकेश गिरी गोस्वामी के हजारों समर्थकों ने उनका जन्मदिन अनूठे अंदाज में मनाया गया l उनके पति ने क्षेत्र में पहुंचकर बुजुर्गों का सम्मान कर शाल श्रीफल से उत्कृष्ट विद्यार्थियों का भी सम्मान किया गया l इसके पहले उनके समर्थकों ने मंदिरों में पूजा अर्चना कर ईश्वर से उनकी दीर्घायु की कामना की l टीकमगढ़ विधायक राकेश गिरी गोस्वामी ने अपनी पत्नी नगर पालिका परिषद टीकमगढ़ की अध्यक्ष श्रीमती लक्ष्मी राकेश गिरी गोस्वामी ने भी अपने बुजुर्गों सहित कन्याओं के पैर छूकर मंदिरों में पूजा आराधना की l उधर मध्य प्रदेश एवं उत्तर प्रदेश के दिग्गज नेताओं एवं समर्थकों सहित जनप्रतिनिधियों ने उन्हें बधाई दी है l बुंदेलखंड सहित मध्य प्रदेश एवं देश की राजनीति में नगर परिषद टीकमगढ़ में विकास के उत्कृष्ट कार्यों के लिए श्रीमती लक्ष्मी राकेश गिरी गोस्वामी की पहचान विकास पुरोधा के दिग्गजों में है l वह इसके साथ ही भाजपा महिला मोर्चा के प्रदेश और राष्ट्रीय राजनीति में अनेक पदों पर रही हैं l छात्र राजनीति से ही नगर पालिका परिषद टीकमगढ़ की अध्यक्ष श्रीमती लक्ष्मी राकेश गिरी गोस्वामी जनहित में कार्य करते आ रही हैं l उनके द्वारा गरीबों एवं निराशतो की सहायता एवं सेवा कर क्षेत्र में अपनी पहचान बना चुकी हैं l नगर पालिका परिषद टीकमगढ़ की अध्यक्ष श्रीमती लक्ष्मी राकेश गिरी गोस्वामी के पति टीकमगढ़ विधानसभा क्षेत्र के विधायक राकेश गिरी गोस्वामी ने कहा जनसेवा हमेशा करता रहूंगा, मेरा जीवन जनसेवा व क्षेत्र के लिए समर्पित हैं l

Saturday, 2 November 2019

15:25

पूर्व विधायक आरडी प्रजापति का खनिज माफियाओं के खिलाफ अनोखा प्रदर्शन


पंकज पाराशर छतरपुर*
बुंदेलखंड में रेत माफियाओं और जनप्रतिनिधियों के गठजोड़ से नदियों का अस्तित्व खतरे में है l छतरपुर जिले के चंदला विधानसभा क्षेत्र के भाजपा विधायक राजेश प्रजापति के पिता एवं पूर्व विधायक आरडी प्रजापति ने बैंड बाजों के साथ रेत उत्खनन करने एवं करवाने वाले माफियाओं और उनका सहयोग करने वाले अधिकारियों की यात्रा निकाली, बताते चलें कि वर्तमान में  भाजपा विधायक राजेश प्रजापति के पिता पूर्व विधायक आरडी प्रजापति  चंदला विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे हैं और खनन माफियाओं के खिलाफ हमेशा से सक्रिय रहे हैं  इस बैंड बाजा और बारात में माफियाओं के मुर्दाबाद के नारे लगाए गए और केन नदी बचाने की गई की गई इसके अलावा जगह जगह रोड पर शव रखकर जूतों-चप्पलों से की गई  पूरे छतरपुर शहर में निकाली गई यह बालू माफियाओं की शव यात्रा, कई दिनों से पूर्व विधायक आरडी प्रजापति का चल रहा धरना प्रदर्शन, का परिणाम रहा है  इसी के बाद या यात्रा निकाली गई  जिसके बाद  शव यात्रा में शामिल सव को छतरपुर शहर के छत्रसाल चौराहे पर फूंका गया शव। गौरतलब है कि बुंदेलखंड में सत्ता पक्ष के दिग्गजों के गठजोड़ से खनिज माफिया अवैध उत्खनन कर रहे हैं, जिससे बुंदेलखंड की जीवनदायिनी नदियां अपना अस्तित्व खोती जा रही हैं जो वाकई चिंता का विषय है ।

Friday, 25 October 2019

08:57

अटकलें तेज क्या कांग्रेस में जाएंगे बीजेपी के विधायक जी


पंकज पाराशर छतरपुर*
बुंदेलखंड में घमासान मचा हुआ है, मध्य प्रदेश में सियासत का उलटफेर जारी है। झाबुआ में कांग्रेस को मिली जीत के बाद अब टीकमगढ़ में भी भाजपा विधायक राकेश गिरी गोस्वामी के कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें तेज़ हो गई हैं। इससे पहले जब टीकमगढ़ के विधायक और कैबिनेट मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर की एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी, तभी यह माना जा रहा था कि राकेश गिरी गोस्वामी कभी भी पार्टी छोड़ सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं हुआ था, किन्तु अब एक बार फिर यह चर्चाओं का बाजार गर्म हो चला है कि भाजपा विधायक कांग्रेस खेमे में शामिल हो सकते हैं। अगर ऐसा हुआ तो भाजपा को मध्य प्रदेश में दूसरा बड़ा झटका लगेगा। मामला नगर पालिका से जुड़ा है। दरअसल,  टीकमगढ़ की नगर पालिका में विधायक राकेश गिरी की पत्नी श्रीमती लक्ष्मी राकेश गिरी गोस्वामी अध्यक्ष हैं, इससे पहले का कार्यकाल स्वयं राकेश गिरी ने संभाला था, लेकिन मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आने के बाद कांग्रेसी पार्षदों का दबदबा बढ़ते ही नगर पालिका में पीएम घोटाला जैसे अन्य निर्माण कार्यों की जांच खड़ी हो गई है और इसके प्रतिवेदन बनाकर वरिष्ठ कार्यालयों तक भेज दिए गए हैं। इसी से नाराज भाजपाई विधायक राकेश गिरी गोस्वामी ने नगर पालिका सीएमओ माधुरी शर्मा का तबादला कराया था। ऐसी चर्चा है, लेकिन उनका तबादला रुक गया था। इसके बाद पिछले दो दिन पूर्व एक बार फिर सीएमओ माधुरी शर्मा का तबादला सागर कर दिया गया और अब भाजपा विधायक राकेश गिरी गोस्वामी के चहेते सीएमओ हरिहर गंधर्व को यह कमान मिली है। इसके बाद से कांग्रेसियों में सरकार के प्रति नाराजगी देखी जा रही है। कंग्रेसियों की माने तो यह तबादला भाजपा विधायक को खुश करने के लिए किया गया है। जिससे वह कांग्रेस का दामन थाम लें। सूत्र बतातें है कि भाजपा विधायक राकेश गिरी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ से भी मुलाकात की है और उन्होंने यह आश्वासन भी दिया है कि वह कांग्रेस के साथ हैं। भाजपा के प्रदेश संगठन में भी यह चर्चा जोरों पर है और अटकलें लगाई जा रही हैं कि राकेश गिरी कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं। फिलहाल यह आने वाला वक्त ही बताएगा कि आगे राजनीति के गलियारों में किसका बिगुल बज पाएगा l

Tuesday, 15 October 2019

07:58

बुंदेलखंड के छतरपुर में अवैध खनन जारी


पंकज पाराशर छतरपुर
मध्य प्रदेश में भले ही सरकार को बदले हुए 9 महीने पूरे हो गए हो छतरपुर जिले से तमाम बड़े प्रशासनिक अधिकारी भी बदल गए परंतु बुंदेलखंड के भू भाग से बालू चोरों का चोरी करना बंद नहीं हुआ है l केन नदी को तहस-नहस कर अब पानी होने के कारण नदी के किनारे ही खेतों में रेत माफियाओं ने बड़ी बड़ी सुरंग खोद डाली है l प्रधानमंत्री सड़क योजना से लवकुशनगर अनुभाग में बनाई गई 1 दर्जन से अधिक सड़कें गड्ढों में तब्दील हो गई इन सड़कों को तहस-नहस करने का सारा श्रेय इन बालू के चोरों को जाता है l मध्य प्रदेश में भले ही रेत व्यापार पर रोक लगी हो क्योंकि अभी नई खनिज नीति में ईटीपी जारी होना थी, जो अभी तक जारी नहीं की गई परंतु बुंदेलखंड में रेत माफियाओं को सरकारी दस्तावेजों की जरूरत ही नहीं पड़ती क्योंकि छतरपुर में जिला खनिज अधिकारी अमित मिश्रा ने अवैध रेत उत्खनन करवाने का ठेका ले रखा है और पूरे जिले में जोर शोर से अवैध रेत उत्खनन करवा रहे है l कार्यवाही के नाम पर औपचारिकता करते हुए इक्का दुक्का कुछ ट्रकों को पकड़कर झूठी वाहवाही कार्यवाही के नाम पर बटोरते हैं l खनिज अधिकारी के निवास पर रेत माफियाओं का जमावड़ा लगा रहता है तो यही हाल दफ्तर का है यहां पर वैध काम के लिए खनिज अधिकारी को फुर्सत ही नहीं क्योंकि वह अवैध कार्यों के लिए व्यस्त रहते हैं l टीकमगढ़ में पदस्थ रहते हुए इन्होंने मोटी कमाई अर्जित कर रखी है, वहां पर भी यह अपनी इसी कार्यशैली को लेकर विवादित रहे यही हाल इन्होंने छतरपुर में कर रखा है l जिले के प्रकृति प्रेमी तथा समाजसेवियों ने इनके खिलाफ पुख्ता दस्तावेज तैयार कर रखें और जल्द ही इनका का चिट्ठा खनिज मंत्री के सामने रखा जाएगा हाल ही के दिनों में इन्होंने रेत से भरे अवैध ट्रकों को पकड़ा था उनमें से कई ट्रकों को पैसे लेकर छोड़ दिया  गया है l बुंदेलखंड की प्राकृतिक भूमि को इन्होंने नष्ट करने का बीड़ा उठाया है यही हाल रहा तो आने वाले दिनों में यहां की जमीन बंजर में तब्दील हो जाएंगी और प्रकृति अपना संतुलन खो देगी रहते ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों को जिले से हटाया जाना चाहिए ताकि प्रकृति को बचाया जा सके 

Monday, 14 October 2019

10:25

बुंदेलखंड में राजनेताओं के बीच वर्चस्व की जंग जमीनी मुद्दों से नहीं कोई सरोकार


पंकज पाराशर छतरपुर*
बुंदेलखंड में वर्चस्व की जंग से  अंचल का विकास आतम थम गया है l राजनितिज्ञ लोग कभी भी नीतिगत सिद्धांतों से समझौता नहीं करते है और इसी को राजनीति कहा जाता है, परन्तु  इन दिनों शहर में सबसे अधिक किसी भी कार्य की सफलता का श्रेय लेने की होड़ मची हुई है और सच यह है कि कोई भी कार्य सफल होता नहीं दिखाई दे रहा है। सरकार की तमाम प्रकार की योजनाएं महज खानापूर्ति का रूप ले रही है। सूबे में सियासत को बदले हुए एक वर्ष होने को जा रहा है, परन्तु जिन मुद्दों को लेकर नेताओं के द्वारा जनता के घर पहुंचकर मत्था टेकते हुए वोट मांगे गये थे वह मुद्दे असल में आज भी जस के तस बने हुए है। जनप्रतिनिधियों के द्वारा पब्लिसिटी स्टंट करके जनता को बरगलाया जा रहा है। लोगों की समस्याओं के समाधान हेतु जनप्रतिनिधियों के द्वारा कोई भी ठोस प्रयास नहीं किया जा रहा है। यही कारण है कि समस्याओं का निदान नहीं हो पा रहा है। खेल, कूद, सांस्कृतिक कार्यक्रम व धर्म के नाम पर फूहड़ जैसे आयोजन कर जनता को असल मुद्दों से भटका कर क्षणिक सुखद वातावरण देकर जनप्रतिनिधि अपनी असल जिम्मेबारी से बच रहें है और समाजसेवा का ढोंग रच रहे है।
*यह है असल मुद्दे:-*
.कलेक्टर व जनप्रतिनिधियों के बार-बार जिला चिकित्सालय के निरीक्षण तथा अस्पताल प्रबंधन आलू चित्र विधि को सख्त निर्देश देने के बावजूद भी जिला चिकित्सालय में सुधार नहीं दिखाई दे रहा है।
. अमृत मिशन जल योजना के लिए शहर में डाले गये पाइपों के कारण सडक़ो पूरी तरह नष्ट कर दिया गया है जो नगर वासियों के लिए विकराल समस्या बनी हुई है साथ ही बिजली के भारी भरकम बिल और बिजली की आंख मिचौली से लोगों को निजात नहीं मिल पा रही है।
.चौबे तिराहा से बस स्टैंड मार्ग पर लोगों के लिए चलना युद्ध के समान चुनौती बना हुआ है। धूल के गुब्बारे व सडक़ों पर  बड़े-बड़े गड्ढे सडक़ हादसों का मुख्य कारण बन रहें है।
. शहर के तालाबों को अतिक्रमण से मुक्ति न मिल पाना व शासकीय जमीनों पर भू-माफियों द्वारा बेजा अतिक्रमण किया जाना । न्यू कॉलौनी से सनसिटी को जाने वालो रास्ते में पार्क के पास गंदगी का अंबार लगा हुआ है। सुअरों के आंतक से मुंह पर कपड़ा बांधे हुए लोगों को स्वाइन फ्लू जैसी गंभीर बीमारी होने खतरा मडऱा रहा है।
 . मेडिकल कॉलेज के निर्माण में प्रगति नहीं, शहर की बिगड़ी हुई यातायात व्यवस्था में कोई सुधार नहीं, जिले में बड़े उद्योग स्थापित करवाने के लिए जनप्रतिनिधियों के द्वारा प्रयास न करना, शहर में बेरोजगारी, मजदूरों को कोई काम नहीं मिलना, शिक्षित युवाओं को रोजगार के अवसर नहीं। इस तरह के तमाम अनगिनत जमीनी मुद्दे जनप्रतिनिधियों को सरोकार नहीं रखते, सीना चौड़ाकर आंख फाडक़र कैमेरे के सामने बड़ी-बड़ी बातें करने वाले जनप्रतिनिधि असल में शहर का विकास न देखकर स्वयं के विकास के लिए अग्रसर है।
 नगर पालिका परिषद छतरपुर की अध्यक्ष श्रीमती अर्चना गुड्डू सिंह और छतरपुर विधायक आलोक चतुर्वेदी में तकरार- नपा अध्यक्ष श्रीमती अर्चना गड्डू सिंह और सदर विधायक आलोक चतुर्वेदी के बीच तू-तू मैं मैं जग जाहिर है राजनैतिक प्रतिद्वंद्विता निजी तकरार में तब्दील हो गई है। एक दूसरे को नीचा दिखाने के लिए दोनों लोगों में अवसर की तलाश बनी रहती है। जिस कारण सरकार के द्वारा नगर पालिका के माध्यम से लोगों को मिलने वाला लाभ ठीक तरह से नहीं मिल पा रहा है। प्रधानमंत्री आवास योजना में शामिल लोगों को नपा से किस्त की दरकरार बनी हुई है। रुपये नहीं मिलने के कारण लोगों के भवन निर्माण के कार्य अधर में लटक हुए है।