Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Showing posts with label हिन्दू पंचांग. Show all posts
Showing posts with label हिन्दू पंचांग. Show all posts

Sunday, 29 December 2019

09:24

आज का हिंदू पंचांग पण्डित विश्णु जोशी के साथ



🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग पंडित विष्णु जोशी* ~
 🌞7905156547
⛅ *दिनांक 28 दिसम्बर 2019*
⛅ *दिन - शनिवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2076*
⛅ *शक संवत - 1941*
⛅ *अयन - दक्षिणायन*
⛅ *ऋतु - शिशिर*
⛅ *मास - पौष*
⛅ *पक्ष - शुक्ल*
⛅ *तिथि - द्वितीया सुबह 11:10 तक तत्पश्चात तृतीया*
⛅ *नक्षत्र - उत्तराषाढा शाम 06:44 तक तत्पश्चात श्रवण*
⛅ *योग - व्याघात रात्रि 08:28 तक  तत्पश्चात हर्षण*
⛅ *राहुकाल - सुबह 09:50 से सुबह 11:09 तक*
⛅ *सूर्योदय - 07:15*
⛅ *सूर्यास्त - 18:04*
⛅ *दिशाशूल - पूर्व दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण -
 💥 *विशेष - द्वितीया को बृहती (छोटा बैंगन या कटेहरी) खाना निषिद्ध है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
               🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *वास्तु शास्त्र* 🌷
📅 *वास्तु में पुराने कैलेंडर लगाए रखना अच्छा नहीं माना गया है। ये प्रगति के अवसरों को कम करता है। इसलिए, पुराने कैलेंडर को हटा देना चाहिए और नए साल में नया कैलेंडर लगाना चाहिए। जिससे नए साल में पुराने साल से भी ज्यादा शुभ अवसरों की प्राप्ति होती रहे।*
*अगर सालभर अच्छे योग और फायदे चाहते हैं तो घर में कैलेंडर को वास्तु के अनुसार ही लगाएं।*
👉🏻 *वास्तु अनुरुप कहां लगाएं कैलेंडर*
📅  *कैलेंडर उत्तर,पश्चिम या पूर्वी दीवार पर लगाना चाहिए। हिंसक जानवरों, दुःखी चेहरों की तस्वीरोंवाला ना हो। इस प्रकार की तस्वीरें घर में नेगेटिव एनर्जी का संचार करती है।*
📅 *पूर्व में कैलेंडर लगाना बढ़ा सकता हैं प्रगति के अवसर- पूर्व दिशा के स्वामी सूर्य हैं , जो लीडरशिप के देवता हैं। इस दिशा में कैलेंडर रखना जीवन में प्रगति लाता है। लाल या गुलाबी रंग के कागज पर उगते सूरज, भगवान आदि की तस्वीरों वाला कैलेंडर हो।*
📅 *उत्तर दिशा में कैलेंडर बढ़ाता है सुख-समृद्धि- उत्तर दिशा कुबेर की दिशा है। इस दिशा में हरियाली,फव्वारा, नदी,समुद्र, झरने, विवाह आदि की तस्वीरों वाला कैलेंडर इस दिशा में लगाना चाहिए। कैलेंडर पर ग्रीन व सफेद रंग का उपयोग अधिक किया हो।*
📅 *पश्चिम दिशा में कैलेंडर लगाने से बन सकते हैं रुके हुए कई कार्य- पश्चिम दिशा बहाव की दिशा है। इस दिशा में कैलेंडर लगाने से कार्यों में तेजी आती हैं। कार्यक्षमता भी बढ़ती है। पश्चिम दिशा का जो कोना उत्तर की ओर हो। उस कोने की ओर कैलेंडर लगाना चाहिए।*
📅  *कैलेंडर नहीं लगाना चाहिए घर की दक्षिण दिशा में- घड़ी और कैलेंडर दोनों ही समय के सूचक हैं। दक्षिण ठहराव की दिशा है। यहां समय सूचक वस्तुओं को ना रखें। ये घर के सदस्यों की तरक्की के अवसर रोकता है। घर के मुखिया के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।*
📅  *मुख्य दरवाजे से नजर आता कैलेंडर भी नहीं लगाएं- मुख्य दरवाजे के सामने कैलेंडर नहीं लगाना चाहिए। दरवाजे से गुजरने वाली ऊर्जा प्रभावित होती है। साथ ही तेज हवा चलने से कैलेंडर हिलने से पेज उलट सकते हैं । जो कि अच्छा नहीं माना जाता है।*
💥 *विशेष : अगर कैलेंडर में संतों महापुरुषों तथा भगवान के श्रीचित्र लगे हों,तो ये और अधिक पुण्यदायी और आनंददायी माना जाता है |

 मेष
राशि के लोगों का दिन शानदार रहेगा. कार्यक्षेत्र में सफलता मिलेगी. नई सोच के साथ काम शुरू करने से अच्छा फल मिलेगा. आज दिन खुशी से भरपूर रहेगा. सेहत को लेकर सावधान रहने की जरूरत है.
वृषभ
 राशि के लोगों का दिन शुभ रहेगा. आज आपके प्रयासों से सफलता मिलेगी. नई ऊर्जा के साथ आज दिन बिताएंगे. दिन पॉजिटिव रहेगा. प्रेम संबंधों में दिन शानदार रहेगा. दिन लाभदायक रहेगा.
मिथुन
राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा. आज सेहत से जुड़ी परेशानी हो सकती है. खर्चों में अधिकता रहेगी. जीवनसाथी की सेहत परेशान कर सकती है. कार्यक्षेत्र में सफलता की प्राप्ति होगी
कर्क
राशि के लोगों का दिन शुभ रहेगा. आज दिन खूबसूरत होगा. कारोबार के सिलसिले में कहीं यात्रा का योग बन सकता है. पारिवारिक जीवन खुशहाल रहेगा. कार्यक्षेत्र में समय अच्छा बीतेगा.
सिंह
राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा. कार्य में विलंब होगा, मेहनत को रंग लाने में समय लगेगा. प्रेम जीवन के अनुसार दिन अनुकूल नहीं रहेगा. नौकरी में ट्रांस्फर का योग बन सकता है.
कन्या
 राशि के लोगों का दिन शुभ रहेगा. शिक्षा से जुड़े मामलों में सफलता के योग हैं. संतान का सुख मिलेगा. पारिवारिक जीवन में उतार-चढ़ाव रहेगा.
तुला
राशि के लोगों का दिन शानदार रहेगा. परिवार के साथ अच्छा समय व्यतीत होगा. माता से सुख की प्राप्ति होगी. मानसिक रूप से घर में कोई परेशान हो सकता है उनका ध्यान रखें.
वृश्चिक
 राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा. किसी यात्रा पर जाना लाभदायक रहेगा. इनकम में बढ़ोतरी होगी. प्रेम जीवन में सफलता की प्राप्ति होगी. कार्यक्षेत्र में दिन अनुकूल होगा.
धनु
राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा. आज सेहत का थोड़ा मामला बिगड़ सकता है. वाणी में मिठास रहेगी. सेहत में थोड़ी कमजोरी आएगी. खर्चे थोड़े से अधिक होंगे.
मकर
 राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा. खर्चों के मामले में आज सतर्कता रखें. प्रॉपर्टी के मामलों में लाभ मिलेगा. संतान सुख की प्राप्ति होगी. शादीशुदा लोगों के लिए दिन बेहतरीन रहेगा.
कुंभ
 राशि के लोगों के लिए दिन अच्छा रहेगा. सेहत थोड़ी कमजोर हो सकती है. खर्चे काफी होंगे जिन्हें संभाल लें. दफ्तर में आपका दबदबा बना रहेगा.
मीन
राशि के लोगों का दिन अनुकूल रहेगा. भाग्य का पूरा साथ मिलेगा. प्रयासों से तरक्की होगी. लोगों की इनकम बढ़ेगी. दांपत्य जीवन में जीवनसाथी का सहयोग आपको कार्यों में मिलेगा.


जिनका आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाये

दिनांक 28 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 1 होगा। 2 और 8 आपस में मिलकर 10  होते हैं। इस तरह आपका मूलांक 1 होगा। आप राजसी प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं। आपको अपने ऊपर किसी का शासन पसंद नहीं है। आप साहसी और जिज्ञासु हैं। आपका मूलांक सूर्य ग्रह के द्वारा संचालित होता है। आप अत्यंत महत्वाकांक्षी हैं। आपकी मानसिक शक्ति प्रबल है। आपको समझ पाना बेहद मुश्किल है। आप आशावादी होने के कारण हर स्थिति का सामना करने में सक्षम होते हैं। आप सौन्दर्यप्रेमी हैं। आपमें सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाला आपका आत्मविश्वास है। इसकी वजह से आप सहज ही महफिलों में छा जाते हैं।

शुभ दिनांक : 1,  10,  19,  28

शुभ अंक : 1,  10,  19,  28,  37,  46,  55,  64,  73,  82
शुभ वर्ष : 2021,  2026,  2044,  2053,  2062

ईष्टदेव : सूर्य उपासना तथा मां गायत्री

शुभ रंग : लाल,  केसरिया,  क्रीम,

कैसा रहेगा यह वर्ष
यह वर्ष आपके लिए अत्यंत सुखद रहेगा। अधूरे कार्यों में सफलता मिलेगी। स्वास्थ्य की दृष्टि से यह वर्ष उत्तम रहेगा। पारिवारिक मामलों में महत्वपूर्ण कार्य होंगे। अविवाहितों के लिए सुखद स्थिति बन रही है। विवाह के योग बनेंगे। नौकरीपेशा के लिए समय उत्तम हैं। पदोन्नति के योग हैं। बेरोजगारों के लिए भी खुशखबर है इस वर्ष आपकी मनोकामना पूरी होगी।🌞☀🌷🍒🍓🌷☀🙏

Thursday, 26 December 2019

04:02

शिक्षक तुम उठो तो नागरिक बने निवेदिता सक्सेना



*" शिक्षक तुम उठो तो -नागरिक बने "-निवेदिता सक्सेना*


   "गुरु "हर कठिन कार्य को सम्भव कर देने मे सहायक है शास्त्रो मे गुरु को अतुल्य शब्दो मे महिमा मंडित कीया जाता रहा हैं,आज जब बड़े महानगरो की उच्च शिक्षा श्रेणी के छात्र भटकाव की स्थिति मे आ गये वही उनके शिक्षको का जगना अत्यंत जरुरी हैं अपने शिष्यो को समझाए नागरिक संशोधन अधिनियम व उसका मह्त्व।

      हाल ही मे फिल्म देखी "सुपर 30" देखी तो जहन मे ख्याल आया देश की वर्तमान दयनीय स्थिति का कितना अशोभनीय होता हैं जब देश के उन महाविद्यालयो शिष्य  सडको पर आ जाए और महाविद्यालय व वहा के प्रोफसर खामोशी गंदी राजनीती की सीढ़ी चढ़ते शिष्यो को देख रहे ।

     विडम्बना हमारे देश की उस जनता के  वर्तमान हालातो की जो देश की शान्ती व प्रगति के लीये बनाये गये ,संशोधित अधिनियमो को समझ नही पा रही वही कुछ देश विरोधी ताकते बाहरी लोगो की घुसपेठ  न हो पाने के कारण अपनी शैतानि ताकतो को अंजाम न दे पाने के कारण तिलमिला रही हैं ।वही उनका पुर जोर साथ दे रहे जो खुद को भारतीय होने का दावा कर रहे और आतंक को शीर्ष पर पहुचा कर देश को अशांत वातावरण मे बदल रहे है ।वही जहा हम धीमी गती से भारत को शीर्ष पर पहुचाने की कोशिश कर रहे वही तीव्र गती से देश द्रोही ताकते भारत को पीछे धकेलने का पुरजोर प्रयास कर रही है ।

      फिर  जहन मे आए वही महाविद्यालयीन उच्च शिक्षित शिक्षक जो उच्च पद श्रेणी मे प्रोफेसर कहलाए जाते हैं ,ये वही प्रोफेसर हे जो कुछ समय पहले देश के संस्कार ,संस्कृति व देश मे अशांति के लीये कन्हैया जेसे विद्यार्थी तैयार करते आए है । अब गायब हैं, कहा ?स्वाभविक सी बात है की नागरिक संशोधन अधिनियम उनके गले उतरना भी मुश्किल है क्युकी उसका सीधा समबन्ध उन सभी से है जिन्हे अपनी सच्चाई देनी होगी हालाकि है कुछ नही बस इतना की पुन:अपनी देश मे रहने की वैधता करवाना हैं तो डर क्यू क्या हम बाहर से घुसपैठ कर भारत के महानगरो मे अध्ययन अध्यापन कर रहे या मुल निवासी की तरह जीवन व्यापन कर रहे। आज फिर देश उन्नति व शन्ति मे बाधक बन रहे । शायद भुल गये जिस ईश्वर को मानते है वह हमे क्या नही देख रहा ,क्या हम फिर इन्तजार कर रहे जब नकली ड्रामा छात्र बनाकर देश मे हंगामा करवा रहे क्या इन महाविद्यालयो के प्रोफसर व प्रबंधन सो रहा जो इन विद्यार्थियो को रेसटिगेट तक नही करवा पाया ।

           आज चाणक्य का वह विचार याद आया जिसमे शिक्षक के लीये कहा की "एक शिक्षक अगर चाहे को राष्ट्र को शीर्ष पर बैठा सकता हैं क्युकी नव निर्माण की सीढ़ी उसी के पास से होकर गुजरती हैं "वही अगर शिक्षक राजनीती मे आ जाए तो पाजीटिविटी व नेगेटीवीटी दोनो ला सकता हैं । बात तो यू भी विचारणीय् तब लगी जब सुपर 30 के कुछ अंश देखे। याद आयी अभिव्यक्ति की आज़ादी का आन्दोलन भुल गये वही तो नागरिकता संशोधन अधिनियम अभिन्न अंग हैं अब जब आपको वह अधिनियम व बिल की धारणाओ से अवगत करवाया ।

   ध्यान रहे की जब हम विदेशो मे जाते हैं तो वहा के कानून का पालन करते हुये वहा रहते है जबकी भारत मे कानून को एक तरफ रख घुसपैठिये आतंक फेला कर देश की जनता व सम्पत्ति का हनन कर रहे है व साथ ही यहा शरण लेकर यही से शिक्षा ग्रहण कर यही के स्थापित्य जनता को खत्म करने पर उतारू हैं । वही इन्हे शिक्षा देने वाले शिक्षक जो चाहे धर्मावल्म्बी हो या अन्य एक गलत फसल तैयार कर शुध्ध पौधो को भी खरपतवार मे बदल रहे हैं ।

   हाल ही मे एक अखबार मे पढा की" ब्रिटेन मे आई टी सिस्टम मे गढबढि  से सैकडों भारतीय कर्मियो का कैरियर बर्बाद" ,तब ध्यान आया के कर्मचारी जो वहा जॉब कर रहे कोई आँदोलन भी नही करने की हिम्मत कर पायेंगे व चुप चाप अपने घरो को लौट जायेंगे लेकिन वही स्थिति जब भारत मे आती हैं तो आँदोलन का आक्रमक रुख आ जाता हैं अगर भारतीय संविधान मे संशोधन भी हो तो भी गलत ताकतो को परेशानी होगी ही क्युकी उनकी जढ का अंत पता जो लग जाएगा ।

    बहरहाल ,अधजल गगरि छलकत जाए ,यही स्थिति इन प्रोटीसट करने वालो की है जिन्हे खुद को बचाने का मोका भी मील रहा इन "सीएए "द्वारा लेकिन इन्हे अब तक पढ़ाने वाले शिक्षक नदारद हैं ।

        प्राचीन समय मे बनी "नालंदा यूनिवर्सिटी " मे पाये गये सभी ग्रंथ आदि किन्ही बाहरी लोगो के आतंक से जलकर खाक हो गयी और वही बाहरी लोग देश मे स्थायीत्व कर देश की जढ को रोग ग्रस्त कर देश को खोखला कर रहे है ।वेसे ये नागरिकता संशोधन अधिनियम तभी लागू हो जाना चाहिये था ,लेकिन विडम्बना देश की इस प्रकार बाहारि लोगो की आवाजाही लगाती रही लेकिन ,अब तक किसी भी सरकार ने ये मुद्दा नही उठाया  अब जब हर व्यक्ति को उनका सुरक्षित नागरिकता का आधार प्राप्त हो रहा तो उसे पढ्ना व समझना आवश्यक है ।

           "   जिम्मेदारी हमारी "

       अभिव्यक्ति की आज़ादी की अलख जगाने वाले वाले सभी गुरु व जानकारो की जरुरत है की पहले संविधान पढे व सभी विद्यार्थियो को समझाए की नागरिकता संशोधन अधिनियम की सकारत्म्क्ता क्या है ।

Saturday, 14 December 2019

12:16

सवाई माधोपुर भाजपा ने आगामी पंचायत चुनाव को लेकर पंचायत चुनाव प्रभारियों की सूची जारी की



सवाई माधोपुर ।(रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा ) भारतीय जनता पार्टी द्वारा आगामी पंचायत चुनाव को लेकर सवाई माधोपुर जिले के पंचायत चुनाव प्रभारियो की सूची जारी कर दी गई है। भाजपा द्वारा सवाई माधोपुर तहसील से प्रेमप्रकाश शर्मा (पूर्व जिलाध्यक्ष भाजपा), मलारना डूंगर तहसील से हरिमोहन मथुरिया,गंगापुर तहसील से  सत्यनारायण धाकड़ (जिलाध्यक्ष भाजपा युवा मोर्चा), बामनवास तहसील से गिर्राज गुर्जर (पूर्व प्रधान खण्डार), बौंली तहसील से अरविन्द गौतम (पूर्व जिला महामंत्री भाजपा)एवं  चौथ का बरवाड़ा से आचार्य लोकेंद्र शर्मा (जिला महामंत्री भाजपा) तथा खंडार तहसील से भरत लाल मथुरिया ( जिला संगठन महामंत्री भाजपा) आदि को पंचायत चुनाव प्रभारी नियुक्त कर संगठन एवं केंद्र में स्थापित भाजपा सरकार की रीति नीति एवं मोदी सरकार द्वारा विगत वर्षों में जनता के हित में किए गए कार्यों के बारे में उचित जानकारी जनता के समक्ष पहुंचाने एवं बदले में जनता का दिल जीतने हेतु  महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गई है। इन सभी प्रभारियों को संगठन के बूथ लेवल से लेकर जिला लेवल तक कार्यकर्ताओं के कामकाज को प्रभावी बनाने का दायित्व सौंपा गया है, ताकि राज्य में पंचायत चुनाव के चलते भाजपा की विचारधारा के लोग वार्ड पंच से लेकर सरपंच ,पंचायत समिति सदस्य ,जिला परिषद सदस्य ही नहीं बल्कि जिला प्रमुख के पद पर अपनी विचारधारा के लोगों को चुनाव जीता कर काबिज कर सके। जिसके चलते संपूर्ण सवाई माधोपुर जिले  में सर्वत्र भाजपा ही भाजपा दिखाई दे।

Thursday, 10 October 2019

19:34

युवक मंगल दल ने अपर पुलिस अधीक्षक को सम्मानित कर नशे के खिलाफ कार्यवाही की मांग की



युवा कल्याण एंव प्रांतीय रक्षक दल(पीआरडी) विभाग उ0 प्र0 सरकार द्वारा संचालित संगठन युवक मंगल दल के कार्यकर्ताओं ने लोकप्रिय अपर पुलिस अधीक्षक मुख्यालय ओपी सिंह व सीओ सिटी को नशे के कारोबारियों पर कार्रवाई के लिए बुके भेंटकर सम्मानित किया।संगठन के जिलाध्यक्ष सौरभ कांत पति तिवारी ने कहा कि जनपद के लोकप्रिय पुलिस अधीक्षक एंव अपर पुलिस अधीक्षक के द्वारा लगातार नशे के कारोबारियों के विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है जिससे नशे का सामान बेचने वाले लोग दहसत में है।उन्होंने अपर पुलिस अधीक्षक से बताया कि अभी भी कुछ लोग चोरी छिपे भांग की दुकानों पर गांजा बेच रहे है है,जिससे वे नशामुक्ति अभियान को प्रभावित करने का काम कर रहे है।उन्होंने मांग की है कि ऐसी भांग की सभी दुकानों पर औचक छापा मारा जाए जिससे गांजे के कारोबारी रँगे हाँथ पकड़े जाए और उनको बेनकाब किया जाये।जिला मंत्री मनोज कुमार दीक्षित व सामाजिक कार्यकर्ता नीतीश कुमार चतुर्वेदी ने कहा कि संगठन के द्वारा लगातार जनपद के युवाओ के भविष्य को बचाने को लेकर नशामुक्ति अभियान चलाकर युवाओं को नशामुक्ति की शपथ दिलायी जा रही हैं।शपथोंपरान्त युवाओ को खेल कूद सामग्री बालीबाल फुटबाल चेस्ट स्पलेंडर इत्यादि देकर युवाओ को नशे के लत से बाहर निकालते हुए खेल के तरफ प्रेरित किया जा रहा है।जहाँ नशे से स्वास्थ्य बर्बाद हो रहा था वही खेल सामग्री के वितरण से स्वास्थ्य मजबूत हो रहा है। बीमारी दूर हो रही हैं।वही डॉ0 नीरज मिश्रा व घोरावल ब्लॉक के सचिव बिरजू पटेल ने बताया कि नशामुक्ति का संदेश जन जन तक पहुँचाकर लोगो को नशे के दुष्प्रभाव के बारे जागरूक किया जायेगा।नशे की आदत जिसने भी डाली उसका जीवन शेष ही बचा है।जो लोग भी नशे का सेवन कर रहे हैं।वे लोग जानकर अनजान हो रहे हैं।क्योंकि किसी भी तम्बाकू के पूड़ियाँ पर स्पष्ट शब्दों में लिखा रहता है कि तम्बाकू जानलेवा है।उसके बाद भी लोगो के आँख की पट्टी नही खुल रहा है और कहा  कि जनपद सोनभद्र के पुलिस विभाग के तरफ से जो भी नशामुक्ति अभियान के क्षेत्र में कार्यक्रम चलाया जा रहा है वो काबिले तारीफ है।हम जनपद के युवाओं का उत्साह और बढ़ा है। कही न कही नशामुक्ति अभियान चलाकर लोगो को निरन्तर जागरूक किया जाएगा।इस मौके पर आलोक पाण्डेय,अनुज पांडेय, छविनाथ इत्यादि लोग मौजूद रहे।

Tuesday, 8 October 2019

12:38

आज का हिंदू पंचांग 8 अक्टूबर 2019-tap news india पर


Tapnewsindia





🙏~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🙏पं. विष्णु जोशी
⛅ *दिनांक 08 अक्टूबर 2019*
⛅ *दिन - मंगलवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2076 (गुजरात. 2075)*
⛅ *शक संवत -1941*
⛅ *अयन - दक्षिणायन*
⛅ *ऋतु - शरद*
⛅ *मास - अश्वीन*
⛅ *पक्ष - शुक्ल*
⛅ *तिथि - दशमी दोपहर 02:50 तक तत्पश्चात एकादशी*
⛅ *नक्षत्र - श्रवण रात्रि 10:13 तक तत्पश्चात धनिष्ठा*
⛅ *योग - धृति रात्रि 12:47 तक तत्पश्चात शूल*
⛅ *राहुकाल - शाम 03:09 से शाम 04:37 तक*
⛅ *सूर्योदय - 06:32*
⛅ *सूर्यास्त - 18:19*
⛅ *दिशाशूल - उत्तर दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण - विजयादशमी (पूरा दिन शुभ मुहूर्त), विजय मुहूर्त  (दोपहर 02:25 से 03:12 तक) संकल्प, शुभारंभ, नूतन कार्य, सीमोल्लंधन के लिए), दशहरा, गुरु - पूजन, अस्त्र-शस्त्र-शमी वृक्ष-आयुध-वाहन पूजा, सरस्वती विसर्जन*
 *विशेष -
                *~ हिन्दू पंचांग ~*

 *एकादशी व्रत के लाभ*
➡ *08 अक्टूबर 2019 मंगलवार को दोपहर 02:51 से 09 अक्टूबर 2019 बुधवार को शाम 05:19 तक एकादशी है ।*


*विशेष ~ 09 अक्टूबर 2019 बुधवार को एकादशी का व्रत (उपवास) रखें ।*

🙏🏻 *एकादशी व्रत के पुण्य के समान और कोई पुण्य नहीं है ।*
🙏🏻 *जो पूण्य सूर्यग्रहण में दान से होता है, उससे कई गुना अधिक पूण्य एकादशी के व्रत से होता है ।*
🙏🏻 *जो पूण्य गौ-दान सुवर्ण-दान, अश्वमेघ यज्ञ से होता है, उससे अधिक पूण्य एकादशी के व्रत से होता है ।*

🙏🏻 *एकादशी करनेवालों के पितर नीच योनि से मुक्त होते हैं और अपने परिवारवालों पर प्रसन्नता बरसाते हैं ।इसलिए यह व्रत करने वालों के घर में सुख-शांति बनी रहती है ।*

🙏🏻 *धन-धान्य, पुत्रादि की वृद्धि होती है ।*

🙏🏻 *कीर्ति बढ़ती है, श्रद्धा-भक्ति बढ़ती है, जिससे जीवन रसमय बनता है ।*

🙏🏻 *परमात्मा की प्रसन्नता प्राप्त होती है ।पूर्वकाल में राजा नहुष, अंबरीष, राजा गाधी आदि जिन्होंने भी एकादशी का व्रत किया, उन्हें इस पृथ्वी का समस्त ऐश्वर्य प्राप्त हुआ ।भगवान शिवजी  ने नारद से कहा है : एकादशी का व्रत करने से मनुष्य के सात जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं, इसमे कोई संदेह नहीं है । एकादशी के दिन किये हुए व्रत, गौ-दान आदि का अनंत गुना पूण्य होता है ।*
           *~ हिन्दू पंचांग ~*

 *एकादशी के दिन करने योग्य*

🙏🏻 *एकादशी को दिया जला के विष्णु सहस्त्र नाम पढ़ें .......विष्णु सहस्त्र नाम नहीं हो तो १० माला गुरुमंत्र का जप कर लें l अगर घर में झगडे होते हों, तो झगड़े शांत हों जायें ऐसा संकल्प करके विष्णु सहस्त्र नाम पढ़ें तो घर के झगड़े भी शांत होंगे l*
           *~ हिन्दू पंचांग ~*

 *एकादशी के दिन ये सावधानी रहे*
🙏🏻 *महिने में १५-१५ दिन में  एकादशी आती है एकादशी का व्रत पाप और रोगों को स्वाहा कर देता है लेकिन वृद्ध, बालक और बीमार व्यक्ति एकादशी न रख सके तभी भी उनको चावल का तो त्याग करना चाहिए एकादशी के  दिन जो चावल खाता है... तो धार्मिक ग्रन्थ से एक- एक चावल एक- एक कीड़ा खाने का पाप लगता है...ऐसा डोंगरे जी महाराज के भागवत में डोंगरे जी महाराज ने कहा*
            *~ हिन्दू पंचाग ~*🙏

Monday, 7 October 2019

08:10

हिंदू पंचांग 7 अक्टूबर 2019 पंडित विष्णु जोशी के संग






🙏 *आज का हिन्दू पंचांग* ~
🙏पं. विष्णु जोशी
⛅ *दिनांक 07 अक्टूबर 2019*
⛅ *दिन - सोमवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2076 (गुजरात. 2075)*
⛅ *शक संवत -1941*
⛅ *अयन - दक्षिणायन*
⛅ *ऋतु - शरद*
⛅ *मास - अश्विन*
⛅ *पक्ष - शुक्ल*
⛅ *तिथि - नवमी दोपहर 12:38 तक तत्पश्चात दशमी*
⛅ *नक्षत्र - उत्तराषाढा शाम 05:26 तक तत्पश्चात श्रवण*
⛅ *योग - सुकर्मा रात्रि 12:00 तक तत्पश्चात धृति*
⛅ *राहुकाल - सुबह 07:52 से सुबह 09:19 तक*
⛅ *सूर्योदय - 06:32*
⛅ *सूर्यास्त - 18:20*
⛅ *दिशाशूल - पूर्व दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण - महानवमी, शारदीय नवरात्रि  समाप्त, सरस्वती बलिदान - विसर्जन, बुद्ध जयंती*
💥 *विशेष - नवमी को लौकी खाना गोमांस के समान त्याज्य है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
                *~ हिन्दू पंचांग ~*

 *बिना मुहूर्त के मुहूर्त  (दशहरा)*
➡ *08 अक्टूबर 2019 मंगलवार को विजयादशमी (दशहरा) है।*

👉🏻 *विजयादशमी का दिन बहुत महत्त्व का है और इस दिन सूर्यास्त के पूर्व से लेकर तारे निकलने तक का समय अर्थात् संध्या का समय बहुत उपयोगी है। रघु राजा ने इसी समय कुबेर पर चढ़ाई करने का संकेत कर दिया था कि ‘सोने की मुहरों की वृष्टि करो या तो फिर युद्ध करो।’ रामचन्द्रजी रावण के साथ युद्ध में इसी दिन विजयी हुए। ऐसे ही इस विजयादशमी के दिन अपने मन में जो रावण के विचार हैं काम, क्रोध, लोभ, मोह, भय, शोक, चिंता – इन अंदर के शत्रुओं को जीतना है और रोग, अशांति जैसे बाहर के शत्रुओं पर भी विजय पानी है। दशहरा यह खबर देता है।*

👉🏻 *अपनी सीमा के पार जाकर औरंगजेब के दाँत खट्टे करने के लिए शिवाजी ने दशहरे का दिन चुना था – बिना मुहूर्त के मुहूर्त ! (विजयादशमी का पूरा दिन स्वयंसिद्ध मुहूर्त है अर्थात इस दिन कोई भी शुभ कर्म करने के लिए पंचांग-शुद्धि या शुभ मुहूर्त देखने की आवश्यकता नहीं रहती।) इसलिए दशहरे के दिन कोई भी वीरतापूर्ण काम करने वाला सफल होता है।*

👉🏻 *वरतंतु ऋषि का शिष्य कौत्स विद्याध्ययन समाप्त करके जब घर जाने लगा तो उसने अपने गुरुदेव से गुरूदक्षिणा के लिए निवेदन किया। तब गुरुदेव ने कहाः वत्स ! तुम्हारी सेवा ही मेरी गुरुदक्षिणा है। तुम्हारा कल्याण हो।’*

👉🏻 *परंतु कौत्स के बार-बार गुरुदक्षिणा के लिए आग्रह करते रहने पर ऋषि ने क्रुद्ध होकर कहाः ‘तुम गुरूदक्षिणा देना ही चाहते हो तो चौदह करोड़ स्वर्णमुद्राएँ लाकर दो।”*

👉🏻 *अब गुरुजी ने आज्ञा की है। इतनी स्वर्णमुद्राएँ और तो कोई देगा नहीं, रघु राजा के पास गये। रघु राजा ने इसी दिन को चुना और कुबेर को कहाः “या तो स्वर्णमुद्राओं की बरसात करो या तो युद्ध के लिए तैयार हो जाओ।” कुबेर ने शमी वृक्ष पर स्वर्णमुद्राओं की वृष्टि की। रघु राजा ने वह धन ऋषिकुमार को दिया लेकिन ऋषिकुमार ने अपने पास नहीं रखा, ऋषि को दिया।*

👉🏻 *विजयादशमी के दिन शमी वृक्ष का पूजन किया जाता है और उसके पत्ते देकर एक-दूसरे को यह याद दिलाना होता है कि सुख बाँटने की चीज है और दुःख पैरों तले कुचलने की चीज है। धन-सम्पदा अकेले भोगने के लिए नहीं है। तेन त्यक्तेन भुंजीथा….। जो अकेले भोग करता है, धन-सम्पदा उसको ले डूबती है।*

👉🏻 *भोगवादी, दुनिया में विदेशी ‘अपने लिए – अपने लिए….’ करते हैं तो ‘व्हील चेयर’ पर और ‘हार्ट अटैक’ आदि कई बीमारियों से मरते हैं। अमेरिका में 58 प्रतिशत को सप्ताह में कभी-कभी अनिद्रा सताती है और 35 प्रतिशत को हर रोज अनिद्रा सताती है। भारत में अनिद्रा का प्रमाण 10 प्रतिशत भी नहीं है क्योंकि यहाँ सत्संग है और त्याग, परोपकार से जीने की कला है। यह भारत की महान संस्कृति का फल हमें मिल रहा है।*

👉🏻 *तो दशहरे की
 संध्या को भगवान को प्रीतिपूर्वक भजे और प्रार्थना करें  कि ‘हे भगवान ! जो चीज सबसे श्रेष्ठ है उसी में हमारी रूचि करना।’ संकल्प करना कि’आज प्रतिज्ञा करते हैं कि हम ॐकार का जप करेंगे।’*
👉🏻 *‘ॐ’ का जप करने से देवदर्शन, लौकिक कामनाओं की पूर्ति, आध्यात्मिक चेतना में वृद्धि, साधक की ऊर्जा एवं क्षमता में वृद्धि और जीवन में दिव्यता तथा परमात्मा की प्राप्ति होती है।*
            

Sunday, 6 October 2019

10:29

6 अक्टूबर 2019 का दैनिक हिन्दू पंचांग-पंडित विश्णु जोशी के साथ






🙏~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~
 🙏पं. विष्णु जोशी
⛅ *दिनांक 06 अक्टूबर 2019*
⛅ *दिन - रविवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2076 (गुजरात. 2075)*
⛅ *शक संवत -1941*
⛅ *अयन - दक्षिणायन*
⛅ *ऋतु - शरद*
⛅ *मास - अश्विन*
⛅ *पक्ष - शुक्ल*
⛅ *तिथि - अष्टमी सुबह 10:54 तक तत्पश्चात नवमी*
⛅ *नक्षत्र - पूर्वाषाढा दोपहर 03:05 तक तत्पश्चात उत्तराषाढा*
⛅ *योग - अतिगण्ड रात्रि 11:29 तक तत्पश्चात सुकर्मा*
⛅ *राहुकाल - शाम 04:38 से शाम 06:06 तक*
⛅ *सूर्योदय - 06:32*
⛅ *सूर्यास्त - 18:21*
⛅ *दिशाशूल - पश्चिम दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण - महाष्टमी, दुर्गाष्टमी, सरस्वती पूजन - बलिदान*

 *विशेष - अष्टमी को नारियल का फल खाने से बुद्धि का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*

*अष्टमी तिथि और रविवार के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)*

*रविवार के दिन मसूर की दाल, अदरक और लाल रंग का साग नहीं खाना चाहिए।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, श्रीकृष्ण खंडः 75.90)*

*रविवार के दिन काँसे के पात्र में भोजन नहीं करना चाहिए।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, श्रीकृष्ण खंडः 75)*

*स्कंद पुराण के अनुसार रविवार के दिन बिल्ववृक्ष का पूजन करना चाहिए। इससे ब्रह्महत्या आदि महापाप भी नष्ट हो जाते हैं।*
               * हिन्दूपंचांग ~*

🌷 *अंतिम दिन करें मां सिद्धिदात्री की उपासना*
🙏🏻 *नवरात्रि के अंतिम दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। मां सिद्धिदात्री भक्तों को हर प्रकार की सिद्धि प्रदान करती हैं।*
🙏🏻 *अंतिम दिन भक्तों को पूजा के समय अपना सारा ध्यान निर्वाण चक्र जो कि हमारे कपाल के मध्य स्थित होता है, वहां लगाना चाहिए। ऐसा करने पर देवी की कृपा से इस चक्र से संबंधित शक्तियां स्वत: ही भक्त को प्राप्त हो जाती हैं। सिद्धिदात्री के आशीर्वाद के बाद श्रद्धालु के लिए कोई कार्य असंभव नहीं रह जाता और उसे सभी सुख-समृद्धि प्राप्त हो जाते हैं।*
➡ *उपाय- नवमी तिथि के दिन माता को विभिन्न प्रकार के अनाजों का भोग लगाएं व यथाशक्ति गरीबों में दान करें। इससे लोक-परलोक में आनंद व वैभव मिलता है।*
             🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *दशहरे के दिन* 🌷
➡ *08 अक्टूबर 2019 मंगलवार को दशहरा, विजयादशमी (पूरा दिन शुभ मुहूर्त), संकल्प, शुभारम्भ, नूतन कार्य, सीमोल्लंघन के लिए विजय मुहूर्त (दोपहर 2:25 से 3:12 तक), गुरु-पूजन, अस्त्र-शस्त्र-शमी वृक्ष-आयुध-वाहन पूजन*
🙏🏻  *दशहरा के दिन शाम को जब सूर्यास्त होने का समय और आकाश में तारे उदय होने का समय हो वो सर्व सिद्धिदायी विजय काल कहलाता है |*
👉🏻 *उस समय घूमने-फिरने मत जाना | दशहरा मैदान मत खोजना ... रावण जलता हो देखकर क्या मिलेगा ? धूल उड़ती होगी, मिटटी उड़ती होगी रावण को जलाया उसका धुआं वातावरण में होगा .... गंदा वो श्वास में लेना .... धूल, मिटटी श्वास में लेना पागलपन है |*
*ये दशहरे के दिन शाम को घर पे ही स्नान आदि करके, दिन के कपडे बदल के शाम को धुले हुए कपडे पहनकर ज्योत जलाकर बैठ जाये | थोडा*
🌷 *" राम रामाय नम: ।  "*
🙏🏻 *मंत्र जपते, विजयादशमी है ना तो रामजी का नाम और फिर मन-ही-मन  गुरुदेव को प्रणाम करके गुरुदेव सर्व सिद्धिदायी विजयकाल चल रहा है की हम विजय के लिए ये मंत्र जपते है -*
🌷 *"ॐ अपराजितायै नमः "*
➡ *ये मंत्र १ - २ माला जप करना और इस काल में श्री हनुमानजी का सुमिरन करते हुए इस मंत्र की एक माला जप करें :-*
🌷 *"पवन तनय बल पवन समाना, बुद्धि विवेक विज्ञान निधाना ।*
*कवन सो काज कठिन जग माहि, जो नहीं होत तात तुम पाहि ॥"*
🙏🏻 *पवन तनय समाना की भी १ माला कर ले उस विजय काल में, फिर गुरुमंत्र की माला कर ले । फिर देखो अगले साल की दशहरा तक गृहस्थ में जीनेवाले को बहुत-बहुत अच्छे परिणाम देखने को मिल सकते है |*
             ~ हिन्दू पंचांग ~*

Saturday, 5 October 2019

08:48

आज का हिंदू पंचांग -आठवें दिन इस तरह से करें माता महागौरी की आराधना मिलेगा लाभ- पण्डित विश्णु जोशी







आज का हिन्दू पंचांग
पं. विष्णु जोशी का राम राम जी
दिनांक 05 अक्टूबर 2019
दिन - शनिवार
विक्रम संवत - 2076 (गुजरात. 2075)
शक संवत -1941
अयन - दक्षिणायन
ऋतु - शरद
मास - अश्विन
पक्ष - शुक्ल
तिथि - सप्तमी सुबह 09:51 तक तत्पश्चात अष्टमी
नक्षत्र - मूल दोपहर 01:20 तक तत्पश्चात पूर्वाषाढा
योग - शोभन रात्रि 11:26 तक तत्पश्चात अतिगण्ड
राहुकाल - सुबह 09:19 से सुबह 10:47 तक
सूर्योदय - 06:31
सूर्यास्त - 18:22
दिशाशूल - पूर्व दिशा में
व्रत पर्व विवरण -  सरस्वती आवाहन - पूजन
विशेष - सप्तमी को ताड़ का फल खाने से रोग बढ़ता है तथा  शरीर का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
               🌞 हिन्दू पंचांग 🌞

आठवे दिन करें माता महागौरी की आराधना
नवरात्रि के आठवे दिन  मां महागौरी की पूजा की जाती है। आदिशक्ति श्री दुर्गा का अष्टम रूप श्री महागौरी है मां महागौरी का रंग अत्यंत गौर है इसलिए इन्हें महागौरी के नाम से जाना जाता है।
नवरात्रि का आठवां दिन हमारे शरीर का सोम चक्र जागृत करने का दिन है। सोम चक्र उर्धव ललाट में स्थित होता है। आठवें दिन साधना करते हुए अपना ध्यान इसी चक्र पर लगाना चाहिए। श्री महागौरी की आराधना से सोम चक्र जागृत हो जाता है और इस चक्र से संबंधित सभी शक्तियां श्रद्धालु को प्राप्त हो जाती हैं मां महागौरी के प्रसन्न होने पर भक्तों को सभी सुख स्वत: ही प्राप्त हो जाते हैं। साथ ही इनकी भक्ति से हमें मन की शांति भी मिलती है।



उपाय- अष्टमी तिथि के दिन माता दुर्गा को नारियल का भोग लगाएं तथा नारियल का दान भी करें। इससे सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है।
             हिन्दू पंचांग

दुर्गाष्टमी
प्राचीन काल में दक्ष के यज्ञ का विध्वंश करने वाली महाभयानक भगवती भद्रकाली करोङों योगिनियों सहित अष्टमी तिथि को ही प्रकट हुई थीं।
नारदपुराण पूर्वार्ध अध्याय 117

आश्विने शुक्लपक्षे तु प्रोक्ता विप्र महाष्टमी ।। ११७-७६ ।।
तत्र दुर्गाचनं प्रोक्तं सव्रैरप्युपचारकैः ।।
उपवासं चैकभक्तं महाष्टम्यां विधाय तु ।। ११७-७७ ।।
सर्वतो विभवं प्राप्य मोदते देववच्चिरम् ।।
आश्विन मास के शुक्लपक्ष में जो अष्टमी आती है, उसे महाष्टमी कहा गया है। उसमें सभी उपचारों से दुर्गा के पूजन का विधान है। जो महाष्टमी को उपवास अथवा एकभुक्त व्रत करता है, वह सब ओर से वैभव पाकर देवता की भाँति चिरकाल तक आनंदमग्न रहता है।

भविष्यपुराण, उत्तरपर्व, अध्याय – २६
देव, दानव, राक्षस, गन्धर्व, नाग, यक्ष, किन्नर, नर आदि सभी अष्टमी तथा नवमी को उनकी पूजा-अर्चना करते हैं | कन्या के सूर्य में आश्विन मास के शुक्ल पक्ष में अष्टमी को यदि #मूल नक्षत्र हो तो उसका नाम महानवमी है | यह महानवमी तिथि तीनों लोकों में अत्यंत दुर्लभ है | आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी और नवमी को जगन्माता भगवती श्रीअम्बिका का पूजन करने से सभी शत्रुओं पर विजय प्राप्त हो जाती है | यह तिथि पुण्य, पवित्रता, धर्म और सुख को देनेवाली है | इस दिन मुंडमालिनी चामुंडा का पूजन अवश्य करना चाहिये |


देवीभागवतपुराण पञ्चम स्कन्ध
अष्टम्याञ्च चतुर्दश्यां नवम्याञ्च विशेषतः ।
कर्तव्यं पूजनं देव्या ब्राह्मणानाञ्च भोजनम् ॥
निर्धनो धनमाप्नोति रोगी रोगात्प्रमुच्यते ।
अपुत्रो लभते पुत्राञ्छुभांश्च वशवर्तिनः ॥
राज्यभ्रष्टो नृपो राज्यं प्राप्नोति सार्वभौमिकम् ।


शत्रुभिः पीडितो हन्ति रिपुं मायाप्रसादतः ॥
विद्यार्थी पूजनं यस्तु करोति नियतेन्द्रियः ।
अनवद्यां शुभा विद्यां विन्दते नात्र संशयः ॥
अष्टमी, नवमी एवं चतुर्दशी को विशेष रूप से देवीपूजन करना चाहिए और इस अवसर पर ब्राह्मण भोजन भी कराना चाहिए। ऐसा करने से निर्धन को धन की प्राप्ति होती है, रोगी रोगमुक्त हो जाता है, पुत्रहीन व्यक्ति सुंदर और आज्ञाकारी पुत्रों को प्राप्त करता है और राज्यच्युत राज को सार्वभौम राज्य प्राप्त करता है। देवी महामाया की कृपा से शत्रुओं से पीड़ित मनुष्य अपने शत्रुओं का नाश कर देता है। जो विद्यार्थी इंद्रियों को वश में करके इस पूजन को करता है, वह शीघ्र ही पुण्यमयी उत्तम विद्या प्राप्त कर लेता है इसमें संदेह नहीं है।


नवरात्रि अष्टमी को महागौरी की पूजा  सर्वविदित है साथ ही
अग्निपुराण के अध्याय 268 में आश्विन् शुक्ल अष्टमी को भद्रकाली की पूजा का विधान वर्णित है।


स्कन्दपुराण माहेश्वरखण्ड कुमारिकाखण्ड में आश्विन् शुक्ल अष्टमी को वत्सेश्वरी देवी की पूजा का विधान बताया है।
गरुड़पुराण अष्टमी तिथिमें दुर्गा और नवमी तिथिमें मातृका तथा दिशाएँ पूजित होनेपर अर्थ प्रदान करती है ।


विशेष ~ यदि कोई व्यक्ति किसी कारणवश नवरात्रि पर्यन्त प्रतिदिन पूजा करने में असमर्थ रहे तो उनको अष्टमी तिथि को विशेष रूप से अवश्य पूजा करनी चाहिए।