Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Showing posts with label नई दिल्ली. Show all posts
Showing posts with label नई दिल्ली. Show all posts

Monday, 23 May 2022

02:47

तमिलनाडु के लोगों की संस्कृति और समृद्ध परंपरा के प्रति लगाव ने क्षेत्र की अनूठी जैव विविधता को संरक्षित किया है: केंद्रीय पर्यावरण मंत्री श्री भूपेंद्र यादव


नई दिल्ली :केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री भूपेंद्र यादव ने कहा है कि सुंदर राज्य तमिलनाडु के लोगों की संस्कृति और समृद्ध परंपरा के प्रति लगाव ने क्षेत्र की अनूठी जैव विविधता को संरक्षित किया है। मंत्री महोदय ने आज चेन्नई में अंतर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस के अवसर पर एक विशेष प्रदर्शनी के उद्घाटन के दौरान यह बात कही। केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री श्री अश्विनी कुमार चौबे और तमिलनाडु सरकार के पर्यावरण मंत्री, श्री शिवा वी. मेयनाथन के साथ श्री भूपेंद्र यादव ने एक विशेष स्मारक पोस्टल कवर और 'इंडिया नेचुरल' नामक पुस्तक का विमोचन किया और भारत जैव विविधता पुरस्कार-2021 भी प्रदान किए।

 

 

 

श्री भूपेंद्र यादव ने अपने भाषण में लोगों से जैव विविधता के संरक्षण और सुरक्षा के मुद्दों पर युवाओं को संवेदनशील बनाने की दिशा में काम करने का संकल्प लेने की अपील की। उन्होंने कहा, "जैव विविधता हमें ऐसी वस्तुएं और सेवाएं प्रदान करती है जो दुनिया की प्राकृतिक जीवन संरचना उपलब्ध कराती हैं और यह एक अच्छी वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए आवश्यक हैं। ऐसा अनुमान है कि विश्व की लगभग 40 प्रतिशत अर्थव्यवस्था जैविक उत्पादों या प्रक्रियाओं पर आधारित है। जैव विविधता के संरक्षण और संवर्धन का कोई भी प्रयास तभी सफल हो सकता है जब हम ग्लोबल वार्मिंग की चुनौती से निपटें। ग्लोबल वार्मिंग को तत्काल नियंत्रण में लाना होगा।”

02:44

डिजिटल इंडिया स्टार्टअप हब जल्द शुरू होगा

रामजी पांडेय

नई दिल्ली :भारत में सफल होने के लिए अब आपको किसी प्रसिद्ध उपनाम की आवश्यकता नहीं है। कठिन परिश्रम, साहस, नवाचार ही सफलता के निर्धारक हैं। ऐसा उस वक्त नहीं था जब मैंने अपनी उद्यमशीलता की यात्रा शुरू की थी। यह नया भारत है जिसे श्री नरेन्द्र मोदी जी बना रहे हैं। 2014 से पहले, उद्यमिता एक नियम या मानदंड के बजाय केवल एक अपवाद था। युवा भारतीयों के लिए सफल होने का इससे पहले अधिक उपयुक्त क्षण कभी नहीं रहा है। नरेन्द्र मोदी सरकार और गुजरात सरकार की सक्रिय नीतियों के लिए धन्यवाद।” ये बातें केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईटी और कौशल विकास एवं उद्यमिता राज्य मंत्री श्री राजीव चंद्रशेखर ने गुजरात विश्वविद्यालय में 'युवा भारत के लिए नया भारत: अवसरों की तकनीक' विषय पर बोलते हुए कही।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001DS57.jpg

 

केंद्रीय मंत्री ने युवा स्टार्टअप, उद्यमियों, छात्रों और विश्वविद्यालय के संकाय से खचाखच भरे सभागार में एक बेहतरीन प्रस्तुति दी। मंत्री ने इस बात पर प्रकाश डाला कि कैसे मोदी सरकार के 8 वर्षों ने भारत के बारे में पारंपरिक कथाओं को ध्वस्त किया है। श्री राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि, “पहले भारतीय लोकतंत्र भ्रष्टाचार और इसकी प्रणाली बड़ी खामियों से जुड़ी थी। 80 के दशक में एक प्रधानमंत्री थे जिन्होंने एक कुख्यात बयान दिया था कि दिल्ली से एक लाभार्थी को भेजे जाने वाले हर 100 पैसे में से केवल 15 पैसे ही उसके पास पहुंच पाते हैं। तथाकथित कमजोर और दोषपूर्ण प्रणाली की स्वीकार्यता ऐसी ही थी। लेकिन, 2015 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू किए गए डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के लिए धन्यवाद, जिसके तहत अब एक-एक रुपया सीधे देश के कोने-कोने में रहने वाले लाभार्थी के खातों में हस्तांतरित किया जाता है। हमने भारत में लोकतंत्र के कमजोर और दोषपूर्ण होने के आख्यान को अब बदल दिया है।”

स्टार्टअप्स के लिए सरकार की भावी नीतिगत पहलों के बारे में जिज्ञासु युवा स्टार्टअप्स के साथ बातचीत करते हुए केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने बताया कि, “स्टार्टअप परितंत्र को बढ़ावा देने और राष्ट्रीय स्तर पर स्टार्टअप पहलों को केंद्रीकृत रूप में समन्वयित करने के लिए जल्द ही एक संस्थागत ढांचा डिजिटल इंडिया स्टार्टअप हब स्थापित किया जाएगा। सरकार स्टार्टअप्स को सरकारी परितंत्र से जोड़ने का प्रयास कर रही है ताकि सरकार की खरीद आवश्यकताएं स्टार्टअप्स के अभिनव समाधानों से पूरी की जा सके।

केंद्रीय मंत्री ने उभरती प्रौद्योगिकियों में कौशल हासिल करने के लिए छात्रों और स्टार्टअप्स को प्रेरित करते हुए और भारत की बढ़ती डिजिटल अर्थव्यवस्था के लिए डिजिटल कौशल सीखने के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि, "नवाचार, नवाचार और नवाचार आगे बढ़ने का एक मात्र मंत्र है। नवाचार हमारे भविष्य को संचालित करने वाला है। हमारे स्टार्टअप और उद्यमी भारतीय अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर और डिजिटल अर्थव्यवस्था को 1 ट्रिलियन डॉलर की ओर ले जाएंगे।

02:42

पुरुषोत्तम रूपाला ने 16 से 20 मई 2022 तक ब्राजील का दौरा किया

रामजी पांडेय

नई दिल्ली:केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री श्री पुरुषोत्तम रूपाला ने ब्राजील के कृषि मंत्री के आमंत्रण पर 16 से 20 मई 2022 तक ब्राजील का दौरा किया। इस यात्रा के दौरान उन्होंने एक प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया, जिसमें पशुपालन और डेयरी क्षेत्र के विशेषज्ञ तथा निजी क्षेत्र के प्रतिनिधि भी शामिल थे।

श्री रूपाला ने ब्राजील के अपने समकक्ष कृषि, पशुधन एवं आपूर्ति मंत्री श्री मार्कोस मोंटेस कोर्डेइरो के साथ बहुत उपयोगी चर्चा की। दोनों मंत्रियों ने पारस्परिक रूप से लाभकारी संबंधों को और अधिक सुदृढ़ करने पर सहमति व्यक्त की।

श्री रूपाला ने ब्राजीलियाई एसोसिएशन ऑफ ज़ेबू ब्रीडर्स (एबीसीजेड), उबेरबा के मेयर, ब्राजीलियाई कृषि और पशुधन परिसंघ (सीएनए) और ब्राजीलियाई सहकारी संगठन (ओसीबी) के अध्यक्षों के साथ बैठकें कीं। उन्होंने अनुसंधान एवं विकास, आनुवंशिक सुधार और व्यापार तथा निवेश के माध्यम से डेयरी क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने के तौर-तरीकों पर चर्चा की।

जनवरी 2020 में राष्ट्रपति श्री बोल्सोनारो की भारत यात्रा के दौरान, ब्राजील ने अपने इतिहास में पहली बार किसी देश के साथ 15 समझौता ज्ञापनों व सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर किए और पशुपालन एवं डेयरी, तेल तथा प्राकृतिक गैस, बायोएनर्जी, इथेनॉल, व्यापार व निवेश और कई अन्य क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने का निर्णय लिया गया।

राष्ट्रपति बोल्सोनारो की भारत यात्रा के दौरान राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (एनडीडीबी) और ब्राजीलियाई ज़ेबू ब्रीडर्स एसोसिएशन (एबीसीजेड) के बीच तकनीकी सहयोग की एक संयुक्त घोषणा पर हस्ताक्षर किए गए। केंद्रीय मंत्री ने उबेरबा में ज़ेबू संग्रहालय का दौरा किया और चार अत्याधुनिक मवेशी जीनोमिक्स तथा भ्रूण प्रयोगशालाओं ज़ेबुएम्ब्रियो, एबीएस सीमेन एंड एम्ब्रियोस सेंट्रल, जीनल एम्ब्रियोस सेंट्रल और अल्टा जेनेटिक्स सेमेन सेंट्रल का काम-काज देखा। श्री रूपाला ने उनके कार्यों की सराहना की और पशुपालन एवं इनसे संबद्ध क्षेत्रों की गतिविधियों में पारस्परिक रूप से लाभकारी भागीदारी के लिए सहयोग बढ़ाने में उनकी रुचि का स्वागत किया।

वर्ष 2016 में पशुपालन एवं डेयरी विभाग (डीएएचडी) और ब्राजील के कृषि अनुसंधान निगम (ईएमबीआरएपीए) के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए थे। इस सिलसिले में केंद्रीय मंत्री ने जुइज़ डी फोरा में एम्ब्रापा मवेशी डेयरी (एम्ब्रापा गाडो डी लेइट) अनुसंधान केंद्र का दौरा किया और समझौता ज्ञापन के तहत जल्द से जल्द एक कार्य योजना को अंतिम रूप देने तथा उसे लागू करने की आवश्यकता पर बल दिया। आईवीएफ प्रौद्योगिकी में विशेषज्ञता के लिए ब्राजील में भारतीय पेशेवरों का प्रशिक्षण और भारत में आईवीएफ भ्रूण उत्पादन शुरू करने के लिए ब्राजील की कंपनियों की पहचान करना इस कार्य योजना में अमल की जाने वाली प्रमुख गतिविधियों में शामिल है।

श्री रूपाला ने ब्राजील में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 के उपलक्ष्य में आयोजित समारोह में भाग लिया और बड़ी संख्या में ब्राजील के योग शिक्षकों के साथ बातचीत की। केंद्रीय मंत्री ने आयुर्वेद को बढ़ावा देने के लिए एक आयुर्वेद चित्रकथा पुस्तक "प्रोफेसर आयुष्मान" का शुभारंभ किया। इस पुस्तक का अनुवाद भारत के दूतावास द्वारा ब्राजील के आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ जोस रुगु के साथ साझेदारी में किया गया है। श्री रूपाला ने वहां सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के विभिन्न उच्च-स्तरीय गणमान्य व्यक्तियों के साथ भी चर्चा की।

भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्षों के संदर्भ में आयोजित गतिविधियों के हिस्से के रूप में भारतीय दूतावास भारत की अंतरिक्ष एजेंसी इसरो द्वारा हासिल की गई उपलब्धियों को प्रदर्शित करने के लिए 21 मई से 10 जून 2022 तक ब्राजील के तारामंडल में एक अंतरिक्ष प्रदर्शनी का आयोजन कर रहा है। केंद्रीय मंत्री ने 20 मई 2022 को इस अंतरिक्ष प्रदर्शनी का उद्घाटन किया।

केंद्रीय मंत्री ने साओ पाउलो, ब्रासीलिया तथा रियो डी जनेरियो में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमाओं पर पुष्पांजलि अर्पित की। उन्होंने इन स्थानों पर भारतीय प्रवासियों के साथ बातचीत भी की।

केंद्रीय मंत्री श्री रूपाला ने यूपीएल लिमिटेड के सुविधा केंद्रों का दौरा किया, जो एक भारतीय बहुराष्ट्रीय कंपनी है। यह वाणिज्यिक संस्था कृषि रसायनों का निर्माण एवं विपणन करती है और फसल सुरक्षा समाधान भी प्रदान करती है। केंद्रीय मंत्री की इस यात्रा के दौरान उनके साथ सेंट्रल फ्रोजन सीमेन प्रोडक्शन एंड ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट के निदेशक डॉ बी अरुण प्रसाद और प्रतिनिधिमंडल के अन्य सदस्यों के साथ-साथ पशु प्रजनन राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड के वरिष्ठ प्रबंधक डॉ नीलेश नई भी उपस्थित थे।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001PE3F.jpg


02:39

स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) मना रही है अपनी स्थापना के 50वें साल का उत्सव

रामजी पांडेय

नई दिल्ली:देश की सार्वजनिक क्षेत्र की स्टील उत्पादक कंपनी, स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल), इस साल यानि 2022 में अपनी स्थापना के पचासवें साल का उत्सव मना रही है। सेल की स्थापना 24 जनवरी, 1973 हुई थी।

सेल ने अपने पचास साल की इस महान विरासत को यादगार बनाने के लिए आज एक स्मारक लोगो जारी किया है, जिसके बाद देश भर में स्थित कंपनी के संयंत्रो और इकाईयों में पूरे साल अनेक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इस अवसर पर जारी किया गया स्मारक लोगो का डिजाइन, कंपनी के मूल लोगो को बरकरार रखने के साथ, कंपनी की पचास साल की इस यात्रा की भावनाओं को बड़ी खूबसूरती से संजोये हुए है। यह लोगो, सेल की अध्यक्ष श्रीमती सोमा मण्डल ने आज यहां कंपनी के निदेशकों की मौजूदगी में जारी किया।

 

यह उपलब्धि अनेक साल से देश के निर्माण में स्टेकहोल्डर्स की बेहतर भागीदारी और योगदान सुनिश्चित करने के लिए कंपनी के निरंतर प्रयासों और पहलों का प्रमाण है।

Friday, 20 May 2022

05:41

1971 में भारतीयों ने बांग्लादेशियों के लिए अपनी सीमाएं और अपने मन के द्वार खोल दिए: डॉ महमूद


नई दिल्ली केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री श्री अनुराग ठाकुर तथा बांग्लादेश के सूचना और प्रसारण मंत्री डॉ. हसन महमूद ने आज संयुक्त रूप से भारत-बांग्लादेश सह-निर्माण में बनी व श्री श्याम बेनेगल द्वारा निर्देशित फीचर फिल्म 'बंगबंधु', मुजीब- द मेकिंग ऑफ ए नेशन’ पर 90-सेकंड का एक आकर्षक ट्रेलर जारी किया।

इस अवसर पर दर्शकों को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री श्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि भारत और बांग्लादेश के सह-निर्माण की फिल्म होने के साथ ही यह प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की एक पहल भी है। मंत्री श्री ठाकुर ने कहा, "फिल्म बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान जी की जन्मशती पर एक उपहार के समान है।“ फिल्म-निर्माण से जुड़ी कठिनाइयों के बारे में श्री ठाकुर ने कहा कि जब दुनिया कोविड महामारी के दौरान चुनौतीपूर्ण समय का मुकाबला कर रही थी, तब फिल्म पर काम चल रहा था। श्री ठाकुर ने फिल्म को अच्छे पड़ोसी संबंधों का एक उदाहरण बताया, विशेषकर ऐसे समय में जब दुनिया विभिन्न पड़ोसी देशों के बीच जारी संघर्ष को देख रही है। फिल्म के जरिए दोनों देश एक दूसरे के काम के सन्दर्भ में पूरक सिद्ध हुए हैं। मंत्री महोदय ने इस पहल के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना को धन्यवाद दिया।

श्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि इस साल भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ मनायी जा रही है तथा इसके साथ ही भारत मार्चे डू फिल्म में ‘कंट्री ऑफ ऑनर’ देश भी है। ऐसे में ट्रेलर रिलीज करने तथा भारत और बांग्लादेश की दोस्ती को प्रदर्शित करने का इससे बेहतर अवसर नहीं हो सकता। उन्होंने समारोह में भाग लेने के लिए पूरे बांग्लादेश प्रतिनिधिमंडल को धन्यवाद दिया।

डॉ. हसन महमूद ने अपने संबोधन में कहा कि यह फिल्म बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान के संघर्ष, पीड़ा और राष्ट्र के निर्माण पर आधारित है। दोनों देशों के बीच के संबंधों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि दो प्रधानमंत्रियों शेख हसीना और श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में बांग्लादेश व भारत के संबंधों ने नई ऊंचाइयों को छुआ है। डॉ. महमूद ने कहा, "यह फिल्म दोनों देशों के बीच संबंधों की मजबूती और गहराई को दर्शाती है।" मंत्री महोदय ने 1971 में बांग्लादेश के स्वतंत्रता संग्राम का समर्थन करने के लिए भारत के लोगों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश के लोग हमेशा भारतीय सैनिकों के बलिदान को याद रखेंगे।

फिल्म के बारे में अपनी राय रखते हुए, डॉ. महमूद ने कहा कि यह फिल्म एक राष्ट्र को आजाद कराने में शेख मुजीब के संघर्ष, दर्द और पीड़ा पर आधारित है। उन्होंने कहा “दुनिया के लोग जानेंगे कि कैसे फांसी के फंदे के सामने होने पर भी वे अटूट बने रहे और उन्होंने कैसे एक निहत्थे राष्ट्र को एक सशस्त्र राष्ट्र में परिवर्तित किया एवं मुक्ति संग्राम का नेतृत्व किया। ऐसे महान लोगों के पूरे जीवन को 3 घंटे में कैप्चर करना आसान नहीं है, लेकिन फिल्म का निर्माण करने वाली टीम ने बहुत अच्छा काम किया है।"

एक रिकॉर्डेड संदेश में अपना संदेश देते हुए, श्री श्याम बेनेगल ने कहा कि, "ट्रेलर जारी किया जा चुका है और मुझे उम्मीद है कि दर्शक इसे पसंद करेंगे। इस फिल्म के लिए काम करना एक अद्भुत यात्रा थी क्योंकि मुझे दोनों देशों के कलाकारों और तकनीशियनों के साथ काम करने का अवसर मिला और भारत व बांग्लादेश के मंत्रालयों को भी पूरी तरह से समर्थन देने के लिए धन्यवाद।”

इस अवसर पर, भारत के सूचना और प्रसारण सचिव श्री अपूर्व चंद्र,  फ्रांस में भारत के राजदूत श्री जावेद अशरफ, फ्रांस में बांग्लादेश के राजदूत श्री खोंडकर मोहम्मद तलहा और इस फिल्म के कलाकार भी उपस्थित थे।

WhatsApp Image 2022-05-19 at 10.40.18 PM.jpeg


05:39

मशीनों बुआई मशीनों और वर्टिकल फार्मिंग जैसे समाधानों से किसानों को आय बढ़ाने में मदद मिलेगी : डॉक्टर जितेन्द्र सिंह


नई दिल्ली केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार), केन्द्रीय पृथ्वी विज्ञान राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार), प्रधानमंत्री कार्यालय और कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन मंत्रालय में राज्यमंत्री डॉक्टर जितेन्द्र सिंह ने कहा कि कृषि तकनीकी से जुड़े स्टार्टअप्स भारत की अर्थव्यवस्था के भविष्य के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं।

मैसूरू में कृषि तकनीकी और खाद्य तकनीकी विषय पर आयोजित सम्मेलन सह-प्रदर्शनी को संबोधित करते हुए डॉक्टर जितेन्द्र सिंह ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा भारतीय कृषि के समक्ष उत्पन्न- आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन, पुराने पड़ चुके उपकरणों के इस्तेमाल, अनुचित संरचना और किसानों की विभिन्न बाजारों का आकलन करने में अक्षमता- जैसी कठिनाइयों को दूर करने के लिए नीतिगत माहौल प्रदान किए जाने की वजह से पिछले कुछ वर्षों में भारत में कृषि तकनीकी स्टार्टअप्स की एक नई लहर आई है। मंत्री जी ने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि युवा उद्यमी अब आईटी सेक्टर और बहुराष्ट्रीय कंपनियों की अपनी नौकरियां छोड़कर अपने खुद के स्टार्टअप स्थापित कर रहे हैं। इन युवा उद्यमियों ने अब इस तथ्य को महसूस करना शुरू कर दिया है कि कृषि में निवेश करना बहुत सुरक्षित और लाभकारी व्यापारों में से एक है।

 

 

डॉक्टर जितेन्द्र सिंह ने कहा, कृषि तकनीकी से जुड़े स्टार्टअप समूची कृषि मूल्य श्रृंखला के समक्ष उत्पन्न विभिन्न चुनौतियों से निपटने के लिए अभिनव विचार और किफायती समाधान सुझा रहे हैं। इन स्टार्टअप्स में इतनी सामर्थ्य है कि वे भारतीय कृषि क्षेत्र के परिदृश्य को बदल सकते हैं और अंततः किसानों की आय में वृद्धि कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह स्टार्टअप्स और नवोदित उद्यमी किसानों, कृषि सामग्री के डीलरों, थोक विक्रेताओं, फुटकर विक्रताओं और उपभोक्ताओं को एक-दूसरे से जोड़कर उनके लिए सशक्त बाजार संपर्क और समय पर गुणवत्तापूर्ण उत्पाद प्रदान करने वाली बीच की कड़ियां बन गए हैं।

डॉक्टर जितेन्द्र सिंह ने कहा, ‘भारत की खाद्य तकनीकी, कृषि तकनीकी और कृषि अर्थव्यवस्था परिदृश्य को परिवर्तित करने’ की थीम पर आधारित ‘टेक भारत’ का तीसरा संस्करण एक बहुत ही सामयिक कार्यक्रम है, क्योंकि कृषि, भारतीय अर्थव्यवस्था के महत्वपूर्ण स्तंभों में से एक स्तंभ है, यहां की 54 प्रतिशत आबादी कृषि पर सीधे निर्भर है और देश के सकल घरेलू उत्पाद में इसका हिस्सा करीब 19 (21) प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि हालांकि भारत में कृषि की पिछले कुछ वर्षों में सतत प्रगति हुई है लेकिन इस क्षेत्र में युवा, ताजा और अभिनव विचारों को प्रोत्साहित करने के लिए कुछ ज्यादा नहीं किया गया।

डॉक्टर जितेन्द्र सिंह ने कृषि क्षेत्र में आधुनिक नवीन प्रौद्योगिकी के उपयोग की वकालत की और बताया कि इस्राइल, चीन और अमरीका जैसे देशों ने अपने यहां नई प्रौद्योगिकी की मदद से खेती करने के तरीकों में बड़ा परिवर्तन किया है। उन्होंने कहा कि इन देशों ने दिखा दिया है कि प्रौद्योगिकी का वर्गीकरण जैसे हाइब्रिड बीज, सटीक खेती (प्रेसीशन फार्मिंग), डाटा के बड़े पैमाने पर विश्लेषण (बिग डाटा एनालिटिक्स), कृत्रिम बुद्धिमत्ता (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस), जीओ टैगिंग और सेटेलाइट मॉनेटरिंग, मोबाइल ऐप और कृषि प्रबंधन सॉफ्टवेयर को खेती की पूरी प्रक्रिया में विभिन्न स्तरों पर लागू कर उपज और कृषि से होने वाली आय को बढ़ाया जा सकता है।

05:37

राज्यों केंद्र शासित प्रदेशों से कोविड19 वैक्सीन की बर्बादी रोकने का आग्रह किया फर्स्ट एक्सपायरी फर्स्ट आउट" सिद्धांत का पालन करें


नई दिल्ली केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कोविड19 टीकाकरण की काफी धीमी गति को लेकर चिंता व्यक्त की है, और सभी पात्र लोगों को टीका लगाकर पूर्ण टीकाकरण कवरेज की गति में तेजी लाने का आग्रह किया है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव श्री राजेश भूषण ने इस बारे में आज एक वीडियो कॉन्फ्रेंस (वीसी) के माध्यम से राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य सचिवों और एनएचएम एमडी के साथ कोविड टीकाकरण की स्थिति की समीक्षा करने के बाद सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को सूचित किया है। 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image00279B3.png

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image003AA6E.png

 

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने देश भर में कोविड19 टीकाकरण की हाल की गति में तेजी लाने के लिए एक गहन 'मिशन मोड' की तत्काल आवश्यकता पर प्रकाश डालते हुए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को जून-जुलाई के दौरान दो महीने तक चलने वाले "हर घर दस्तक" अभियान 2.0 की विस्तृत योजना बनाने की सलाह दी है जिसमें जिला, प्रखंड और ग्राम स्तर पर टीकाकरण की की विस्तृत योजना हो। 'हर घर दस्तक' अभियान 2.0 का उद्देश्य अलग-अलग अभियानों के जरिए घर-घर जाकर पात्र लोगों को पहले, दूसरे और एहतियाती खुराक देकर उनका पूर्ण टीकाकरण करना है जिसमें वृद्धाश्रमों, स्कूलों / कॉलेजों के लिए केंद्रित अभियान शामिल हैं। इसमें स्कूल के बाहर के बच्चे (12-18 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए केंद्रित कवरेज), जेलों, ईंट भट्ठों, आदि में काम करने वालों का भी टीकाकरण शामिल है। इसमें 60 वर्ष या इससे अधिक की आयु के लोगों के लिए एहतियाती खुराक देना शामिल है, जो इसके अभाव में बीमारी की चपेट में जल्द आ सकते हैं। इसके साथ ही 12-14 वर्ष के समूह में टीकाकरण कवरेज की उल्लेखनीय धीमी गति को भी इंगित किया गया। राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों से सभी पात्र लाभार्थियों की देय सूचियों के आधार पर सूक्ष्म योजनाओं के साथ प्रभावी निगरानी करने का आग्रह किया गया। उनसे निजी अस्पतालों के साथ नियमित रूप से 18-59 वर्ष आयु वर्ग के लिए एहतियाती खुराक दिलाए जाने की समीक्षा करने का भी आग्रह किया गया।

03:15

23 मई को नई दिल्ली लोकसभा के पटेल नगर में होगी रोजगार संसद


नई दिल्ली : देश भर में फैली बेरोजगारी के खिलाफ संयुक्त रोजगार आंदोलन समिति (SRAS) 23 मई को नई दिल्ली लोकसभा के पटेल नगर के लाल मंदिर में एक "रोजगार संसद" का आयोजन करने जा रही है जिसमे SRAS द्वारा ज्यादा से ज्यादा लोगों के पहुंचने का आव्हान किया गया है। मिली जानकारी के अनुसार पिछले दिनों
23 और 24 मार्च 2022 को नई दिल्ली के शाह ऑडिटोरियम में एक राष्ट्रीय रोजगार सम्मेलन आयोजित किया गया था जिसमें बनी संयुक्त रोजगार आयोजन समिति (SRAS) ने यह निर्णय लिया था  कि 7 मई से 27 जून तक तक दिल्ली के अलग अलग जिलों में रोजगार संसद का आयोजन किया जाएगा और 1 जुलाई से 31 जुलाई तक  पूरी दिल्ली के सभी लोकसभा में रोजगार यात्रा निकलेगी ।इसके अलावा 16 अगस्त से दिल्ली में  बेरोजगारी के खिलाफ राष्ट्रीय रोजगार आन्दोलन सुरु किया जाएगा।  राष्ट्रीय रोजगार सम्मलेन में आये  संगठनो को जब यह महसूस हुआ कि बेरोजगारी के समाधान के लिए राष्ट्रीय रोजगार नीति बनाना वक्त की मांग है। तो सभी संगठनों ने एक बैनर तले आंदोलन करने का निर्णय लिया  और इसी कड़ी में
देश की बात फाउंडेशन के आह्वाहन पर संयुक्त रोजगार आंदोलन समिति (SRAS) के बैनर तले 23 मई सोमवार, शाम 4 बजे, लाल मंदिर, भाई जोगा सिंह स्कूल के पास, पूर्वी पटेल नगर में एक" रोजगार संसद" का आयोजन किया जा रहा है। जिसमे दिल्ली के प्रमुख छात्र संगठन, युवा संगठन, महिला संगठन, शिक्षक संगठन, ट्रेड यूनियन, किसान यूनियन, NGO's आदि संगठनों के सदस्य भाग लेंगे।  
बताते चले कि आज देश बेरोजगारी के भयावह संकट से जूझ रहा है । बड़ी- बड़ी डिग्रियां लेकर भी युवा आज काम के लिए दर -दर भटक रहे हैं। रोजगार का नया सृजन करना तो दूर देशभर में लाखों खाली पड़ी सरकारी वेकैंसी पर भी भर्ती नहीं की जा रही है, इसके उलट भर्ती की जगह युवाओंको लाठियां मिल रही है अभी हाल ही मे पुरे देश ने देखा की किस तरह रेलवे RRB-NTPC की भर्ती को लेकर छात्रों के उपर बर्बर दमन किया गया I जहाँ भर्ती हो भी रही है, ठेकेदारी व्यवस्था के तहत हो रही है, जहाँ मिनिमम वेज इतना कम है की जिससे काम करने के बावजूद भी लोगो को सम्मानपूर्वक जीवन जीना मुश्किल हो रहा है, प्राइवेट सेक्टर मे भी रोजगार के नए अवसर पैदा होने की जगह छटनी की तलवार लोगों के सर मंडरा रही है I वहीं हम देख रहे है की देश के किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) के लिए कानून बनवाने के लिए संघर्ष करने को मजबूर हैं I जहाँ तक देश की आधी आबादी महिलाओं का प्रश्न है उनकी आर्थिक मजबूती के लिए सरकार के पास कोई कार्ययोजना नही है I 
बेरोजगारी की समस्या के समाधान के लिए भारत में आजादी के बाद जिस तरह की नीतियां बनाने की जरूरत थी, हमारी अब तक की सरकारों ने वैसी नीतियां नही बनाई। यही वजय है कि आजादी के सात दशक से ज्यादा वक्त गुजर जाने के बाद भी हमारे देश में राष्ट्रीय रोजगार नीति नहीं बन पाई है I पहले से ही बेरोजगारी की मार झेल रही हमारी अर्थव्यवस्था को कोरोना ने औरअधिक चिंताजनक स्तिथि मे पहुचां दिया I 

Thursday, 19 May 2022

05:53

विश्व मधुमक्खी दिवस का राष्ट्रीय कार्यक्रम 20 मई को गुजरात में


नई दिल्ली :केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय 20 मई को विश्व मधुमक्खी दिवस पर वृहद राष्ट्रीय कार्यक्रम का आयोजन टेंट सिटी-II, एकता नगर, नर्मदा, गुजरात में कर रहा है। इसका शुभारंभ केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर करेंगे। इस अवसर पर श्री तोमर 5 राज्यों में 7 जगह स्थापित की गई हनी टेस्टिंग लैब एंड प्रोसेसिंग यूनिट का उद्घाटन भी करेंगे। इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य मधुमक्खीपालन को बढ़ावा देते हुए देश के छोटे किसानों को अधिकाधिक लाभ पहुंचाना है, जिनकी प्रगति के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में केंद्र सरकार प्रतिबद्ध है।

Image

लोगों को स्वस्थ रखने व इस संदर्भ में विभिन्न चुनौतियों का समाधान करने में मधुमक्खियों एवं अन्य परागणकों की महत्वपूर्ण भूमिका के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 20 मई को विश्व मधुमक्खी दिवस के रूप में घोषित किया है। इसे ध्यान में रखते हुए, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय देश के सभी मधुमक्खीपालकों को साथ लेकर इस महत्वपूर्ण दिन का उत्सव मना रहा है, जिससे जागरूकता बढ़ेगी। प्रमुख कार्यक्रम केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर के मुख्य आतिथ्य में होगा। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री श्री कैलाश चौधरी व सुश्री शोभा करंदलाजे विशेष अतिथि होंगे। गुजरात की कृषि मंत्री सुश्री मटेजा वोडेब, स्लोवेनिया गणराज्य की राजदूत सुश्री कोंडा रेड्डी चाववा, भारत के एफएओ प्रतिनिधि की गरिमामयी उपस्थिति इस कार्यक्रम में रहेगी। समारोह में मधुमक्खी पालक किसान, प्रसंस्करणकर्ता, उद्यमियों सहित शहद उत्पादन से जुड़े अन्य हितधारक शामिल होंगे।

Image

समारोह के दौरान मधुमक्खीपालन क्षेत्र में मधुमक्खी की विविध किस्में व उत्पाद प्रदर्शित करने के लिए मधुमक्खीपालकों, प्रसंस्करणकर्ताओं और मधुमक्खीपालन क्षेत्र के विभिन्न हितधारकों द्वारा अनेक स्टालों के साथ एक प्रदर्शनी लगाई जाएगी। मधुक्रांति पोर्टल में मधुमक्खीपालकों का आजीवन पंजीकरण अभियान चलाने के लिए मधुक्रांति पोर्टल की कार्यान्वयन एजेंसी इंडियन बैंक भी एक स्टॉल लगाएगी। मधुमक्खीपालकों के बीच मधुमक्खीपालन के वैज्ञानिक ज्ञान को उन्नत करने के लिए "उत्पादन प्रौद्योगिकी और वैज्ञानिक मधुमक्खी पालन के अनुसंधान तथा विकास- अनुभव साझेदारी व चुनौतियां" एवं "विपणन चुनौतियां और समाधान (घरेलू/वैश्विक)" पर परिचर्चा तथा तकनीकी सत्र भी आयोजित किए जाएंगे।

इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री श्री तोमर गुजरात से जम्मू-कश्मीर में पुलवामा, बांदीपोरा व जम्मू,  कर्नाटक के तुमकुर, उत्तर प्रदेश के सहारनपुर  तथा पुणे और उत्तराखंड में स्थापित हनी टेस्टिंग लैब एंड प्रोसेसिंग यूनिट का वर्चुअल उद्घाटन करेंगे।    

05:52

अगर संभावनाएं और शक्तियां हैं तो इन्हें प्लेटफार्म देने का काम केन्द्र की श्री नरेंद्र मोदी जी की सरकार ने किया है-अमित शाह



नई दिल्ली:केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने आज नई दिल्ली में दिल्ली विश्वविद्यालय द्वारा ‘स्वराज से नव-भारत तक भारत के विचारों का पुनरावलोकन’ विषय पर एक अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का उद्घाटन किया। तीन दिवसीय इस संगोष्ठी का आयोजन दिल्ली विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह के उपलक्ष्य में विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग ने किया है। उद्घाटन समारोह में केन्द्रीय शिक्षा और कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान और दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. योगेश सिंह समेत अनेक गणमान्य व्यक्ति शामिल हुए। अवसर पर अपने संबोधन में श्री अमित शाह ने कहा कि परिवर्तन के विचार, नीति और कल्पना का वाहक विश्वविद्यालय और विद्यार्थी ही हो सकते हैं और जब भी युग बदलता होता है तो उस परिवर्तन का वाहक हमेशा विश्वविद्यालय ही होता है। उन्होंने कहा कि किसी भी संस्था के लिए सौ साल के बाद भी अपनी प्रासंगिकता बनाए रखना अपने आप में बहुत बड़ी उपलब्धि होती है। आज देश में इतने सारे विश्विद्यालयों के बीच भी दिल्ली विश्वविद्यालय ने ना केवल अपनी प्रासंगिकता बनाए रखी है बल्कि अपने नेतृत्व के गुण को भी संजोकर रखा है। श्री शाह ने विश्वास व्यक्त किया कि देश में 2014 से परिवर्तन का जो युग शुरू हुआ है इसकी वाहक भी दिल्ली यूनिवर्सिटी बने। अंग्रेज़ों ने वर्ष 1922 में देश की राजधानी बदल कर दिल्ली यूनिवर्सिटी की स्थापना की और कई ऐतिहासिक प्रसंगों का दिल्ली विश्वविद्यालय साक्षी रहा है। 1975 में देश के लोकतंत्र को बचाने के आंदोलन में भी दिल्ली यूनिवर्सिटी का बहुत बड़ा योगदान रहा। देश के अनेक आंदोलनों का साक्षी और उन्हें परिणाम तक पहुंचाने का माध्यम दिल्ली विश्वविद्यालय रहा है।

श्री अमित शाह ने कहा कि इस संगोष्ठी का विषय ‘स्वराज से नव-भारत तक भारत के विचारों का पुनरावलोकन’ एक बहुत महत्वपूर्ण विषय है। इस महत्वपूर्ण विषय के समय दिल्ली यूनिवर्सिटी के सौ साल हो रहे हैं और देश की आज़ादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। इस अवसर पर देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने कहा है कि आज़ादी के अमृत काल की शुरूआत हो और 75 से 100 साल की अमृत काल की ये यात्रा हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। मोदी जी ने इन 25 सालों को संकल्प सिद्धि के 25 साल के रूप में वर्णित किया है।

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री ने कहा कि आज़ादी के बाद स्वराज शब्द की बहुत अलग तरीक़े से व्याख्या की गई और इसे सिर्फ़ शासन व्यवस्था तक सीमित कर दिया गया। हमारी स्वराज की कल्पना में स्व शब्द का बहुत महत्व है और स्वराज की व्याख्या करने वालों ने आज़ादी के बाद स्व शब्द को बहुत डाइल्यूट और शासन शब्द को बहुत बड़ा कर दिया। स्वराज की व्याख्या में स्वदेशी, स्वभाषा, स्वधर्म, हमारी संस्कृति और देश का विचार सर्वोच्च हो, ये अपने आप आते हैं। इन सारी व्याख्याओं को सीमित करके स्वराज की व्याख्या को शासन व्यवस्था तक सीमित करने का काम कुछ लोगों ने किया। स्वराज की संपूर्ण कल्पना ही न्यू इंडिया का विचार है। आज की संगोष्ठी की थीम का मतलब है स्वराज के संपूर्ण अर्थ को चरितार्थ करना और सच्चे मायनों में स्वराज के संपूर्ण अर्थ के तत्वाधान में राष्ट्र की उन्नति करना। एक समृद्ध, सशक्त, संस्कृत, शिक्षित, सुरक्षित और सामर्थ्यवान भारत की रचना का विचार तभी हो सकता है जब हम स्वराज के सारे अर्थ समाहित करते हुए उन्हें प्राप्त करने के उद्देश्य के साथ एक रास्ते पर चलें।


05:39

सीसीआई ने ओएफबी टेक प्राइवेट लिमिटेड द्वारा एसएमडब्ल्यू इस्पात प्राइवेट लिमिटेड में बहुसंख्यक हिस्सेदारी के अधिग्रहण को मंजूरी दी

नई दिल्ली :भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) ने ओएफबी टेक प्राइवेट लिमिटेड द्वारा एसएमडब्ल्यू इस्पात प्राइवेट लिमिटेड में बहुसंख्यक हिस्सेदारी के अधिग्रहण को मंजूरी दी।

प्रस्तावित संयोजन, ओएफबी टेक प्राइवेट लिमिटेड (ओएफबी टेक) द्वारा एसएमडब्ल्यू इस्पात प्राइवेट लिमिटेड (एसएमडब्ल्यू इस्पात) में बहुसंख्यक हिस्सेदारी के अधिग्रहण की परिकल्पना करता है।    

ओएफबी टेक, एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी है, जो अपने ऑनलाइन या ऑफलाइन चैनलों के माध्यम से व्यवसायों के बीच लेनदेन की सुविधा के लिए इस्पात, अलौह धातुओं, औद्योगिक रसायनों और पेट्रोलियम उप-उत्पाद, कृषि-वस्तुओं जैसे थोक कच्चे माल का थोक कारोबार करती है।

एसएमडब्ल्यू इस्पात, एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी है, जो टीएमटी स्टील बार और स्टील बिलेट जैसे उत्पादों के निर्माण का व्यवसाय करती है।

05:24

22 मई को लखनऊ और 23 मई को दिल्ली में होगा रोजगार संसद का आयोजन

नई दिल्ली :आज के दौर में देश बेरोजगारी के भयानक दौर से गुजर रहा है बड़ी-बड़ी डिग्रियां लेकर भी युवा नौकरी के लिए दर-दर ठोकरें खाने को मजबूर है सरकारी नौकरी की बात तो छोड़िए प्राइवेट सेक्टर में भी मिनिमम वेज इतना कम है कि दिन भर मेहनत करने के बावजूद भी लोगों को सम्मान पूर्वक जीवन जीना दुश्वार  होता जा रहा है ।लेकिन इन सबके बावजूद भी सरकार मूकदर्शक बनकर तमाशा देख रही हैं ।और अब तक बेरोजगारी के समाधान के लिए कोई ठोस कदम नही उठाया है। बताते चलें वैसे तो पिछले कई वर्षों से देशभर के अलग-अलग राज्यों में छात्र, युवा, मजदूर, किसान , व महिलाएं सहित देश भर के तमाम  संगठन अलग-अलग तरीके से सरकार तक अपनी बातें पहुंचाने का काम कर रहे है और लगातार केंद्र सरकार को जगा रहे है लेकिन इन सब के बावजूद भी  सरकार के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही है ।इसी को  लेकर सरकार से नाराज देशभर के तमाम संगठनों ने संगठित होकर संयुक्त रूप से इस लड़ाई को आगे बढ़ाने का बीड़ा उठाया है। और रोजगार संसद के माध्यम से देश भर के युवाओं को जगाकर आंदोलन को तेज करने का निर्णय लिया है ।
बताते चलें कि पिछले दिनों 23 ,24 मार्च को दिल्ली के सिविल लाइन स्थिति शाह स्टेडियम में देश की बात फाउंडेशन द्वारा दो दिवसीय रोजगार संसद का आयोजन किया गया था । जिसमे दिल्ली के कैबिनेट मंत्री गोपाल  राय समेत देश भर के 200 संगठनों के 700 प्रतिनिधियों ने भाग लिया था इसमें संयुक्त रूप से सभी संगठनों ने मिलकर संयुक्त रोजगार आंदोलन समिति बनाई  थी तथा आगामी 16 अगस्त से दिल्ली में बेरोजगारी के  खिलाफ रोजगार नीति को लागू करवाने के लिए आंदोलन शुरू करने का निर्णय लिया गया था इसके बाद से संयुक्त रोजगार आंदोलन समिति (SRAS) लगातार देश के अलग अलग राज्यों में रोज़गार संसद आयोजित कर लोगों से रोजगार नीति पर चर्चा कर रही है। इसी कड़ी में
 संयुक्त रोजगार आंदोलन समिति SRAS देश के अलग अलग राज्यों में लगातार रोजगार संसद का आयोजन कर लोगों को जगाने का काम कर रही है जिसके चलते  देश की बात फाउंडेशन 22 मई को लखनऊ और 23 मई को दिल्ली कि करोल बाग लोकसभा  के पटेल नगर स्थित लाल मंदिर में रोजगार संसद का आयोजन करेगी जिसमें SRAS से जुड़े सभी संगठनों के प्रतिनिधि शामिल होंगे।

Wednesday, 18 May 2022

04:14

कुशल, पेशेवर और एकीकृत प्रणाली का भारत में निर्माण किय़ा जाए: डॉ. भारती प्रवीण पवार

रामजी पांडे

नई दिल्ली केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार ने आज डॉक्टरों, नर्सों और पैरामेडिक्स के लिए नेशनल इमरजेंसी लाइफ सपोर्ट (एनईएलएस) पाठ्यक्रमों का शुभारंभ किया। प्रशिक्षण मॉड्यूल के अलावा,  इस कार्यक्रम में एनईएलएस पाठ्यक्रम को लागू करने के लिए सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में प्रशिक्षण बुनियादी ढांचे का विकास और अस्पतालों और एम्बुलेंस सेवाओं के आपातकालीन विभागों में काम करने वाले डॉक्टरों, नर्सों और पैरामेडिक्स को प्रशिक्षित करने के लिए प्रशिक्षकों का एक संवर्ग बनाना भी शामिल है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002FYS4.jpg

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image003R663.jpg

केंद्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि अब तक,  देश में स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों को विदेशी मॉड्यूल और सशुल्क पाठ्यक्रमों पर निर्भर रहना पड़ता था, जो महंगे होने के साथ-साथ हमारे जनसंख्या परिदृश्य की जरूरतों और प्राथमिकताओं पर विचार किए बिना एक सीमित आपात स्थिति के लिए थे। उन्होंने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री की 'मेक इन इंडिया' और 'आत्मनिर्भर भारत' नीति को साकार करते हुए,  डॉक्टरों, नर्सों और पैरामेडिक्स के प्रशिक्षण के लिए यह मानकीकृत पाठ्यक्रम भारतीय संदर्भ के अनुकूल देश में ही विकसित आपातकालीन जीवनरक्षक सेवाएं प्रदान करता है।

Monday, 16 May 2022

06:21

हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित रखना और उन्‍हें विकसित करना प्रत्येक नागरिक की नैतिक जिम्मेदारी :संस्‍कृति मंत्री


नई दिल्ली :केन्‍द्रीय पर्यटन, संस्कृति और उत्‍तर पूर्व क्षेत्र विकास मंत्री (डोनर) श्री जी. किशन रेड्डी ने आज बोरीवली के नजदीक संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान में स्थित कन्हेरी गुफाओं में पर्यटकों के लिए विभिन्न सुविधाओं का उद्घाटन किया।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/1TMS2.jpg

 

संस्‍कृति मंत्री ने कहा, "कन्हेरी गुफाएं हमारी प्राचीन विरासत का हिस्सा हैं क्योंकि वे हमारे उद्भव और अतीत का प्रमाण प्रदान करती हैं। बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर किए गए कार्यों का उद्घाटन करना सौभाग्य की बात है। बुद्ध का संदेश संघर्ष और जलवायु परिवर्तन जैसी चुनौतियों का समाधान करने के लिए आज भी महत्‍वपूर्ण है।”

06:18

प्रधानमंत्री 17 मई को ट्राई के रजत जयंती समारोह को संबोधित करेंगे

रामजी पांडे

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी 17 मई, 2022 को सुबह 11 बजे भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) के रजत जयंती समारोह को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करेंगे। इस अवसर पर प्रधानमंत्री एक डाक टिकट भी जारी करेंगे।

कार्यक्रम के दौरान, प्रधानमंत्री आईआईटी मद्रास के नेतृत्व में कुल आठ संस्थानों द्वारा बहु-संस्थान सहयोगी परियोजना के रूप में विकसित 5जी टेस्ट बेड का भी शुभारंभ करेंगे। परियोजना में भाग लेने वाले अन्य संस्थानों में आईआईटी दिल्ली, आईआईटी हैदराबाद, आईआईटी बॉम्बे, आईआईटी कानपुर, आईआईएस बैंगलोर, सोसाइटी फॉर एप्लाइड माइक्रोवेव इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग एंड रिसर्च (एसएएमईईआर) और सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन वायरलेस टेक्नोलॉजी (सीईडब्लूआईटी) शामिल हैं। इस परियोजना को 220 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से विकसित किया गया है। टेस्ट बेड भारतीय उद्योग और स्टार्टअप के लिए एक सहायक इकोसिस्टम को सक्षम बनाएगा, जो इन्हें 5जी और अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकियों में अपने उत्पादों, प्रोटोटाइप, समाधान और एल्गोरिदम को सत्यापित करने में मदद करेगा।

ट्राई की स्थापना 1997 में भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण अधिनियम, 1997 के अंतर्गत की गई थी।

00:07

प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत के अनुरुप भाषाई आत्मनिर्भरता की अपील


नई दिल्ली भारी उद्योग मंत्रालय की हिंदी सलाहकार समिति की बैठक आज गंगटोक में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने की।

श्री पांडे ने इस अवसर पर प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत की तर्ज पर भाषाई आत्मनिर्भरता की अपील करते हुए कहा कि सभी क्षेत्रीय भाषाओं का सम्मान करते हुए हिंदी को बढ़ाने की जरूरत है। मंत्री ने कहा कि वह अपने कार्यालय में फाइलों को हिंदी में ही स्वीकार कर रहे हैं।

श्री पांडे ने समिति की पहली बैठक के लिए सिक्किम के चयन को भी बहुत महत्वपूर्ण और प्रतीकात्मक बताया। उनके इस सुझाव का गर्मजोशी से स्वागत किया गया कि संसदीय राजभाषा समिति और हिंदी सलाहकार समिति के सदस्यों को आमंत्रित करने की परंपरा विशेष रूप से हिंदी पखवाड़े के दौरान शुरू की जानी चाहिए।

बैठक में राज्य सभा सांसद सुश्री सीमा द्विवेदी और लोकसभा सांसद (बुलंदशहर) श्री भोला सिंह भी उपस्थित थे। मंत्रालय की ओर से भारी उद्योग मंत्रालय में सचिव श्री अरुण गोयल, संयुक्त सचिव श्री विजय मित्तल, निदेशक श्री रजनीश सिंह और विकास डोगरा उपस्थित थे।

समिति के सदस्यों में प्रो. पूरन चंद टंडन (दिल्ली विश्वविद्यालय), प्रो. ओकेन लेगो (राजीव गांधी विश्वविद्यालय, अरुणाचल प्रदेश), डॉ. संतराम वैश्य (हिंदी के सेवानिवृत्त प्रोफेसर, गुरुकुल कांगडी विश्वविद्यालय) और डॉ. बंदना पांडे (गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय, नोएडा) जैसे हिंदी के विद्वान गैर-सरकारी सदस्य शामिल थे।

श्री भोला सिंह ने कुछ कंपनियों की प्रस्तुति में अंग्रेजी शब्दों के अत्यधिक प्रयोग का मुद्दा उठाया। प्रोफेसर टंडन ने केंद्र के पांच प्रमुख हिंदी संस्थानों में निदेशकों की रिक्तियों की ओर ध्यान आकर्षित किया। मंत्री ने कहा कि वह इस संबंध में गृह मंत्री को पत्र लिखेंगे।

हिंदी सलाहकार समिति हिंदी में सरकारी कामकाज को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार के प्रत्येक मंत्रालय में गठित समिति है। इस समिति की साल में कम से कम दो बैठकें आयोजित करने का प्रावधान है। गंगटोक में 15 मई को हुई बैठक मंत्रालय की पुनर्गठित समिति की पहली बैठक थी।

00:05

भारतीय नौसेना के दो अग्रिम मोर्चे के युद्धपोतों का लोकार्पण


नई दिल्ली :स्वदेशी युद्धपोत निर्माण के इतिहास में राष्ट्र 17 मई, 2022 को एक ऐतिहासिक घटना का साक्षी बनने जा रहा है, जब भारतीय नौसेना के दो अग्रिम मोर्चे के युद्धपोतों का लोकार्पण किया जायेगा। ये यद्धपोत हैं, सूरत, जो परियोजना 15बी का डिक्ट्रॉयर है और दूसरा है उदयगिरि, जो परियोजना 17ए का फ्रिगेट है। मुम्बई के मझगांव डॉक्स लिमिटेड (एमडीएल) में एक साथ दोनों का शुभारंभ किया जायेगा। दोनों कार्यक्रमों में रक्षामंत्री श्री राजनाथ सिंह मुख्य अतिथि होंगे।

परियोजना 15बी श्रेणी के पोत भारतीय नौसेना के अगली पीढ़ी के स्टेल्थ गाइडेड मिसाइल डिस्ट्रॉयर हैं, जिन्हें मझगांव डॉक्स लि. मुम्बई में बनाया जाता है। ‘सूरत’ परियोजना 15बी डिस्ट्रॉर श्रेणी का चौथा पोत है, जिसे पी15ए (कोलकाता श्रेणी) में कई परिवर्तन करके विकसित किया गया है। इसका नाम गुजरात की वाणिज्यिक राजधानी और मुम्बई के बाद पश्चिमी भारत के दूसरा सबसे बड़े व्यापारिक केंद्र सूरत के नाम पर रखा गया है। सूरत शहर का समृद्ध समुद्री और पोत निर्माण इतिहास रहा है। यहां 16वीं और 18वीं शताब्दी में जहाज बनाये जाते थे, जो लंबे समय तक कार्यशील रहते थे, यानी जिनकी आयु 100 से अधिक की होती थी। ‘सूरत’ का निर्माण ब्लॉक निर्माण पद्धित से हुआ है, जिसमें जहाज की पेंदी को दो विभिन्न भौगोलिक स्थानों पर निर्मित किया गया है। बाद में इसे एमडीएल, मुम्बई में जोड़ा गया। इस श्रेणी के पहले पोत को 2021 में कमीशन किया गया था। दूसरे और तीसरे पोत का शुभारंभ किया गया तथा वे साजो-सामान/परीक्षण के विभिन्न चरणों में हैं।

उदयगिरि’ का नाम आंध्रप्रदेश की पर्वत श्रृंखला के नाम पर रखा गया है। यह परियोजना 17ए का तीसरा फ्रिगेट है। इन्हें पी17 फ्रिगेट (शिवालिक श्रेणी) का अनुपालन करते हुये संशोधित स्टेल्थ विशेषताओं, उन्नत हथियारों, संवेदी उपकरणों और प्लेटफार्म प्रबंधन प्रणालियों से लैस किया गया है। ‘उदयगिरि’ दरअसल पुराने ‘उदयगिरि’ का अवतार है, जो लियेंडर क्लास एएसडब्लू फ्रिगेट था। इस पोत ने 18 फरवरी, 1976 से 24 अगस्त, 2007 तक के तीन दशकों के दौरान असंख्य चुनौतीपूर्ण गतिविधियों का सामना करते हुये राष्ट्र की शानदार सेवा की। पी17 कार्यक्रम के तहत कुल सात पोतों का निर्माण किया जा रहा है, जिनमें से चार पोत एमडीएल और तीन पोत जीआरएसई में बनाये जा रहे हैं। एकीकृत निर्माण, मेगा ब्लॉक आउटसोर्सिंग, परियोजना डाटा प्रबंधन/परियोजना जीवन-चक्र प्रबंधन (पीडीएम/पीएलएम) आदि जैसी नई अवधारणाओं तथा प्रौद्योगिकियों का इस्तेमाल किया जा रहा है। इन सबको स्वदेशी युद्धपोत डिजाइन तथा निर्माण में पहली बार अपनाया जा रहा है। याद रहे कि पी17ए परियोजना के पहले दो जहाजों को एमडीएल और जीआरएसई में क्रमशः 2019 और 2020 में शुरू किया गया था।

15बी और पी17ए, दोनों जहाजों को डायरेक्टोरेट ऑफ नैवल डिजाइन (डीएनडी) में घरेलू स्तर पर डिजाइन किया गया था। यह देश के सभी युद्धपोतों की डिजाइन तैयार करने की गतिविधियों की गंगोत्री बना। शिपयार्ड में निर्माण गतिविधियों के दौरान उपकरणों और प्रणालियों के लिये लगभग 75 प्रतिशत ऑर्डर स्वदेशी कंपनियों को मिले, जिनमें सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम शामिल थे। यह देश की ‘आत्मनिर्भर’ भावना का सच्चा प्रमाण है।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/FilephotoofINSUdaygiri7R8D.jpg

 

Sunday, 15 May 2022

04:59

सीटू कार्यकर्ताओं की हुई बैठक, बढ़ते श्रमिक उत्पीड़न के खिलाफ अभियान चलाकर होगा आंदोलन- गंगेश्वर दत्त शर्मा


 ग्रेटर नोएडा, श्रमिकों की बढ़ती परेशानियों को लेकर सीटू कार्यकर्ताओं की बैठक सूरजपुर पार्क ग्रेटर नोएडा में हुई। बैठक की जानकारी देते हुए सीटू जिलाध्यक्ष गंगेश्वर दत्त शर्मा ने बताया कि बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी घटते वेतन व बुलडोजर और उद्योगपतियों के लिए मुनाफे दूसरी और श्रमिक शोषण की खुली छूट आदि मुद्दों पर सीटू कार्यकर्ता मई माह में जनसंपर्क अभियान चलाकर बड़े आंदोलन की तरफ जाएंगे।
 बैठक को संबोधित करते हुए सीटू दिल्ली एनसीआर राज्य महासचिव अनुराग सक्सेना ने कहा कि मालिकों और सरकार ने कोरोना के पीछे छुप कर मजदूरों की पीठ में छटनी, तालाबंदी, वेतन कटौती और बेरोजगारी का जो वार करना शुरू किया वह हर दिन गहरा होता जा रहा है, करोड़ों करोड़ लोग बेरोजगार हो गए हैं इसी कोरोना के दौर में पुराने श्रम कानूनों को खत्म करके मजदूरों को गुलामी की तरफ धकेलने के लिए चार लेबर कोड बनाए गए हैं । उन्होंने श्रमिकों की बढ़ती तकलीफो व परेशानियों को रेखांकित करते हुए एकजुट होकर मजदूरों को लड़ने के लिए प्रेरित किया।
 बैठक में सीटू सेंटर से कामरेड सुजीत, सीटू जिला का नेता मुकेश कुमार राघव, मोहम्मद फिरोज, रामस्वारथ, ममता, निशा, महेश सुखलाल, अमीचंद आदि ने हिस्सा लिया।


04:51

महाविद्यालय में आयोजित की गई विचार गोष्ठी और पोस्टर प्रतियोगिता


बदायूं- मिशन शक्ति एवं आजादी अमृत महोत्सव के अवसर पर गिन्दो देवी महिला महाविद्यालय बदायूं की ओर से राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वाधान में आयोजित कार्यक्रम प्राचार्या डॉ.वंदना शर्मा के निर्देशन में हुआ।  को महाराणा प्रताप जयंती मनाई गई ।मिशन शक्ति के अंतर्गत घरेलू हिंसा तथा बदलते परिवेश में परिवार की भूमिका एवं दायित्व पर विचार गोष्ठी एवं चर्चा की गई । पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जो नारी सशक्तिकरण एवं शहीदों एवं स्वतंत्रता सेनानियों पर आधारित रहा। प्राचार्या जी ने संबोधित करते हुए कहा कि सशक्तिकरण का राष्ट्रीय उद्देश्य महिलाओं की प्रगति और उनमें आत्मविश्वास का संचार करना हैं। महिला सशक्तिकरण देश के विकास के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि वे रचनाकार होती हैं।उन्होंने बताया कि आजादी का अमृत महोत्सव का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाना अथवा भारतीय संस्कृति एवं इतिहास को जानना और उससे जुड़ना है। योग दिवस के पूर्व आयोजित होने वाले  कार्यक्रमों में शारीरिक शिक्षा विभाग की विशेषज्ञ डॉक्टर श्रद्धा श्री यादव द्वारा व्याख्यान दिया गया ।उन्होंने योग के महत्व को समझाते हुए कहा कि वर्तमान समय की जीवन चर्या में योग एक ऊर्जा का कार्य करता है और साथ ही हमारे शरीर को स्वस्थ रखता है, जिसका संबंध हमारी आत्मा से है। कार्यक्रम का संचालन राष्ट्रीय सेवा योजना कार्यक्रम अधिकारी डॉ.इति अधिकारी एवं डॉ.अनीता सिंह द्वारा किया गया। इस अवसर पर महाविद्यालय परिवार की अन्य शिक्षिकाएं भी उपस्थित रहीं।

Saturday, 14 May 2022

05:46

विद्वत प्रकाशन का व्यावहारिक प्रशिक्षण” पर राष्ट्रीय कार्यशाला का दूसरा दिन

रामजी पांडे

नई दिल्ली :सीएसआईआर-राष्ट्रीय विज्ञान संचार एवं नीति अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर-निस्पर), नई दिल्ली का अनुसंधान पत्रिका प्रभाग, “हैंड्स-ऑन स्कॉलरली पब्लीकेशंस” (विद्वत प्रकाशन का व्यावहारिक प्रशिक्षण) पर एक सप्ताह तक चलने वाली राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन कर रहा है। यह कार्यशाला 12 मई से 18 मई, 2022 तक चलेगी और इसे एक्सीलेरेट विज्ञान कार्यशाला योजना के तहत केंद्र सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) से सम्बद्ध विज्ञान और इंजीनियरी अनुसंधान बोर्ड प्रायोजित कर रहा है। रक्षा वैज्ञानिक सूचना एवं प्रलेखन केंद्र (डेसीडॉक), नई दिल्ली के निदेशक डॉ. केएन राव ने 12 मई, 2022 को इसका उद्घाटन किया था। उद्घाटन के बाद रिसर्च जर्नल्स (बायोलॉजिकल साइंस) के मुख्य वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष श्री आरएस जयासोमू ने अनुसंधान संचार पर पहले सत्र का संचालन किया। इस सत्र में दो व्याख्यान हुयेः (1) स्कॉलरली कम्यूनिकेशनः बेसिक्स ऑफ राइटिंग रिसर्च पेपर्स; और (2) सेलेक्टिंग ए जर्नल टू पब्लिश यूअर रिसर्च वर्क। इसके बाद अनुसंधान पांडुलिपियों के आरंभिक संपादन का व्यावहारिक प्रशिक्षण दिया गया। इसके अलावा यूजीसी-केयर द्वारा प्रदत्त मान्यता सूची के आधार पर मान्य पत्रिकाओं की पहचान करने का भी प्रशिक्षण दिया गया।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001TFO7.jpg https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002IGX8.jpg

“हैंड्स-ऑन स्कॉलरली पब्लीकेशंस” पर कार्यशाला के दूसरे दिन, यानी, 13 मई, 2022 को वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. एनके प्रसन्ना ने सबका गर्मजोशी से स्वागत किया। इसके बाद “एथिक्स इन रीसर्च एंड पब्लीकेशंस” पर बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के प्रतिष्ठित प्रोफेसर तथा एसईआरबी के विशिष्ट फैलो प्रो. एससी लाखोटिया ने व्याख्यान दिया। वे इस विषय में महारथ रखते हैं। उन्होंने “अनुसंधान” की परिभाषा देते हुये कहा कि यह मुख्य रूप से सत्य की खोज है। अनुसंधानकर्ता जिस नतीजे पर पहुंचता है, उसे अन्य लोगों के साथ साझा करता है, ताकि ज्ञान का सामान्य आधार तैयार हो सके। इससे समाज को मदद मिलती है और सबका कल्याण होता है। प्रो. लाखोटिया ने स्पष्ट किया कि नैतिक संचार दरअसल दूसरों के मूल्यों, निजता, गोपनीयता और विचारों को बेहतर तरीके से समझने का नाम है। उन्होंने कहा कि ईमानदारी और सत्यनिष्ठा, नैतिक संचार के दो बुनियादी तत्‍व हैं। नैतिक संचार सुनिश्चित करता है कि लोगों को सही सूचना मिले। यह सूचना लोगों तक समय पर पहुंचे और अनुसंधान पत्र-पत्रिकाओं तथा अन्य विद्वत ग्रंथों के लिये मंच का काम करे।