Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Sunday, 17 October 2021

21:12

भारत में कोविड-19 टीकाकरण का कुल कवरेज 97.65 करोड़ के पार पहुंचा

रामजी पांडे

नई दिल्ली:पिछले 24 घंटों के दौरान टीके की 41,20,772 खुराकें लगाने के साथ आज सात बजे सुबह तक की अस्थायी रिपोर्ट के अनुसार देश का कोविड-19 टीकाकरण कवरेज 97.65 करोड़ (97,65,89,540) के पार पहुंच गया है। इस उपलब्धि को 96,46,485 सत्रों के जरिये प्राप्त किया गया।
 

आज प्रातः सात बजे तक प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार पूरा ब्योरा इस प्रकार हैः

 

स्वास्थ्य कर्मी

पहली खुराक

1,03,75,835

दूसरी खुराक

90,75,869

अग्रिम पंक्ति के कर्मी

पहली खुराक

1,83,61,737

दूसरी खुराक

1,55,14,198

18-44 वर्ष आयु वर्ग

पहली खुराक

39,26,91,878

दूसरी खुराक

11,02,63,827

45-59 वर्ष आयु वर्ग

पहली खुराक

16,76,26,429

दूसरी खुराक

8,58,84,392

60 वर्ष से अधिक

पहली खुराक

10,56,78,041

दूसरी खुराक

6,11,17,334

योग

97,65,89,540

 

पिछले 24 घंटों में 19,788 मरीजों के स्वस्थ होने से स्वस्थ होने वाले मरीजों की कुल संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की गई है (महामारी के शुरू होने से लेकर अब तक), जो इस समय 3,34,19,749 है।

परिणामस्वरूप भारत में कोविड से स्वस्थ होने की वर्तमान दर इस समय 98.10 प्रतिशत है, जो मार्च 2020 के बाद से उच्चतम दर है।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image00215VZ.jpg

पिछले लगातार 112 दिनों से 50 हजार से कम दैनिक मामले आ रहे हैं। यह केंद्र और राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के संयुक्त एवं सतत प्रयासों का ही परिणाम है।
 

पिछले 24 घंटों में कुल 14,146 दैनिक नये मामले दर्ज किये गये। जो बीते 229 दिनों में मरीजों की न्यूनतम संख्या है। 

सक्रिय मामलों की संख्या फिलहाल 2 लाख से नीचे आ चुकी है और इस समय यह 1,95,846 है, जो 220 में दिनों में सबसे कम आंकड़ा है। सक्रिय मामले देश के कुल पॉजिटिव मामलों का इस समय 0.57 प्रतिशत हैं।

देश में कोविड जांच क्षमता को लगातार बढ़ाया जा रहा है, इसके तहत पिछले 24 घंटों के दौरान कुल 11,00,123 जांच की गईं। भारत ने अब तक 59.09 करोड़ से अधिक (59,09,35,381) नमूनों की कोविड जांच की है।

एक तरफ देशभर में जांच क्षमता बढ़ाई गई, तो दूसरी तरफ साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर इस समय 1.42 प्रतिशत है, जो पिछले 114 दिनों में 3 प्रतिशत से नीचे कायम है। दैनिक पॉजिटिविटी दर 1.29 प्रतिशत है। वह भी पिछले 48 दिनों से तीन प्रतिशत से नीचे और 131 दिनों से लगातार पांच प्रतिशत से कम पर बनी हुई है।

21:09

प्रमुख बंदरगाहों के इतिहास में पहली बार श्यामा प्रसाद मुखर्जी बंदरगाह पर एलपीजी का जहाज-से-जहाज प्रचालन शुरू किया गया

रामजी पांडे

नई दिल्ली:नदी चैनल में सीमित प्रारूप के कारण श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी पोर्ट कोलकाता (पूर्व में कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट) के हल्दिया डॉक कॉम्प्लेक्स (एचडीसी) या कोलकाता डॉक सिस्टम (केडीएस) में उद्यम करने से पहले पड़ोसी बंदरगाहों पर कार्गो की आंशिक ऑफलोडिंग की आवश्यकता होती है। दो पोर्ट डिस्चार्ज के परिणामस्वरूप, पोतों को निष्‍फल माल भाड़ा (डेड फ्रेट) और अतिरिक्त स्टीमिंग समय लगता है। अंतर्निहित चैनल बाधाओं को दूर करने के लिए, एसएमपी कोलकाता ने सागर, सैंडहेड्स और एक्स प्वाइंट पर स्थित डीप ड्राफ्टेड एंकरेज में केप साइज या बेबी केप पोतों को लाने तथा फ्लोटिंग क्रेन या शिप क्रेन की तैनाती के माध्‍यम से पूरी तरह से लदे ड्राई बल्‍क पोतों के संचालन में सक्षम बनाने के लिए आयातकों के लिए अवसरों को खोलने का प्रयत्‍न किया है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001FDFH.jpg

रणनीतिक रूप से लाभप्रद इस स्थान के कारण, एचडीसी ने एलपीजी, आयातित पीओएल उत्पादों और अन्य तरल कार्गो के लिहाज से व्यापार से मांग में वृद्धि का अनुभव किया है।

एचडीसी पर एलपीजी आयात की मात्रा में क्रमिक वृद्धि का विवरण नीचे प्रस्‍तुत किया गया है:

एचडीसी पर एलपीजी आयात की मात्रा (एमटी में):

वित्तीय वर्ष 2016-17: 20,22,520

वित्तीय वर्ष 2017-18 : 24,90,374

वित्त वर्ष 2018-19: 34,61,547

वित्त वर्ष 2019-20: 40,16,894

वित्त वर्ष 2020-21: 48,48,193

बीपीसीएल, आईओसीएल, एचपीसीएल जैसी तेल विनिर्माण कंपनियों के वरिष्ठ प्रबंधन तथा एलपीजी और अन्य तरल उत्पादों के अग्रणी निजी आयातकों के साथ कई विचार-विमर्शों ने उन आंतरिक लाभों की ओर इंगित किया, जिनका उपयोग एसएमपी, कोलकाता के डीप ड्राफ्टेड एंकरेज पॉइंट्स पर एलपीजी/तरल कार्गो के जहाज-से-जहाज हस्‍तांतरण (एसटीएस) की सुविधा के विस्तार के माध्यम से किया जा सकता है। एकल बंदरगाह संचालन न केवल हल्दिया में प्रारूप प्रतिबंध से उबरने में सक्षम बनाएगा जिससे विफल माल भाड़ा (डेड फ्रेट) निष्‍प्रभावी होगा, बल्कि अधिक कार्गो की गतिशीलता में भी मदद करेगा, जिससे इकाई लागत कम हो जाएगी।

कोलकाता स्थित एचडीसी, एसएमपी ने पूरी तरह से लदे पोतों के संचालन के लिए अपनी सीमा के भीतर एलपीजी के एसटीएस ऑपरेशन के अन्‍वेषण के लिए एक अग्रणी पहल की और सीमा शुल्क अधिकारियों से इस तरह के संचालन की अनुमति देने का अनुरोध किया। सीमा शुल्क विभाग के साथ इस मामले को आगे बढ़ाया गया और उन्होंने उदारतापूर्वक इस आग्रह पर विचार किया तथा 26.04.2021 को ऐसे एसटीएस ऑपरेशन की अनुमति देने के लिए आवश्यक मंजूरी प्रदान कर दी। इसके अतिरिक्‍त, सामान्य रूप से लाइटरेज प्रचालन को बढ़ावा देने के लिए, एसएमपी, कोलकाता ने पोत और कार्गो संबंधित शुल्कों के संदर्भ में पर्याप्त छूट प्रदान की और पोर्ट द्वारा विशेष रूप से सैंडहेड्स पर एसटीएस ऑपरेशन के लिए टग किराया शुल्क के लिए एक अतिरिक्त रियायत दी गई।

इस अग्रणी पहल के परिणामस्वरूप, भारतीय तट में एलपीजी का अब तक का पहला एसटीएस प्रचालन 15 अक्‍तूबर, 2021 को बीपीसीएल द्वारा किया गया। बीपीसीएल ने सेवा प्रदाता मैसर्स फेंडरकेयर मरीन को अपतटीय एसटीएस स्थान पर सेवाएं प्रदान करने के लिए नियुक्त किया।

तरल कार्गो के एसटीएस प्रचालन के क्षेत्र में एक विख्‍यात कंपनी मैसर्स फेंडरकेयर मरीन ओमेगा लॉजिस्टिक्स सहायता प्रदान कर रही है। एसटीएस साइट पर पोत की बर्थिंग के लिए टग और बड़े आकार के योकोहामा फेंडरों की टोइंग/प्लेसिंग करने की सुविधा एसएमपी कोलकाता द्वारा प्रदान की जा रही है।

21:06

ई-श्रम पर पंजीकरण से असंगठित श्रमिकों को सरकारी योजनाओं का लाभ सरलता से मिल सकेगा : श्री भूपेन्द्र यादव

रामजी पांडे

नई दिल्ली:दो महीने से भी कम समय में 4 करोड़ (40 मिलियन से अधिक) से अधिक श्रमिकों ने ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण कराया है। श्रम एवं रोजगार मंत्री श्री भूपेंद्र यादव ने एक ट्वीट संदेश में यह जानकारी साझा करते हुए कहा कि पंजीकरण कराने से असंगठित कामगारों को सरकारी योजनाओं का लाभ सरलता से मिल सकेगा।

निर्माण, परिधान निर्माण, मछली पकड़ने, गिग और प्लेटफॉर्म वर्क, स्ट्रीट वेंडिंग, घरेलू कार्य, कृषि और संबद्ध कार्यों, परिवहन क्षेत्र जैसे विविध व्यवसायों से जुड़े श्रमिकों ने पोर्टल पर पंजीकरण कराया है। इनमें से कुछ क्षेत्रों में प्रवासी श्रमिकों की एक बहुत बड़ी संख्‍या भी जुड़ी हुई है। प्रवासी श्रमिकों सहित सभी असंगठित श्रमिक अब ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण के माध्यम से विभिन्न सामाजिक सुरक्षा और रोजगार आधारित योजनाओं का लाभ ले सकते हैं।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001B484.png


नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, पोर्टल पर 4.09 करोड़ श्रमिकों ने पंजीकरण कराया है। इनमें से लगभग 50.02 प्रतिशत लाभार्थी महिलाएं हैं और 49.98 प्रतिशत पुरुष हैं। यह उत्साहजनक है कि पुरुषों और महिलाओं का समान अनुपात इस अभियान का हिस्सा रहा है। लिंग के आधार पर पंजीकरण में साप्ताहिक सुधार होता रहा है, पुरुष और महिला श्रमिकों ने तुलनात्मक अनुपात में पंजीकरण किया है, जैसा कि नीचे दिए गए ग्राफ द्वारा दर्शाया गया है।


नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश राज्य सबसे अधिक पंजीकरण के साथ इस पहल में सबसे आगे हैं, जैसा कि नीचे दिए गए ग्राफ में दर्शाया गया है। हालाँकि, इस संख्या को सावधानी के साथ परिप्रेक्ष्य में रखा जाना चाहिए। जैसा कि समझा जा सकता है, छोटे राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में पंजीकृत कर्मचारियों की संख्या कम है। साथ ही, इस अभियान को मेघालय, मणिपुर, गोवा और चंडीगढ़ जैसे राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में गति प्राप्त करने की आवश्यकता है।


भारत में रोजगार सृजन में इन दो क्षेत्रों की विशाल मात्रा को देखते हुए, पंजीकृत श्रमिकों की सबसे बड़ी संख्या कृषि और निर्माण से है। इसके अतिरिक्‍त, घरेलू और गृह कार्य से जुड़े श्रमिकों, परिधान क्षेत्र के श्रमिकों, ऑटोमोबाइल और परिवहन क्षेत्र के श्रमिकों, इलेक्ट्रॉनिक्स और हार्ड वेयर श्रमिकों, पूंजीगत वस्‍तु श्रमिकों, शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, खुदरा, पर्यटन और आतिथ्य, खाद्य उद्योग तथा अन्‍य कई जैसे विविध और विभिन्न व्यवसायों के श्रमिकों ने इस पोर्टल पर पंजीकरण कराया है।

इन पंजीकृत श्रमिकों में से लगभग 65.68 प्रतिशत 16-40 वर्ष के आयु वर्ग के हैं और 34.32 प्रतिशत 40 वर्ष और उससे अधिक आयु वर्ग के हैं। इन श्रमिकों की सामाजिक संरचना में इन श्रेणियों से क्रमशः लगभग 43 प्रतिशत और 27 प्रतिशत के साथ अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) और सामान्य जातियां शामिल हैं तथा अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के 23 प्रतिशत और 7 प्रतिशत श्रमिक शामिल हैं।


पंजीकरण के एक बड़े अनुपात को सीएससी द्वारा सुगम बनाया गया है, जैसा कि ऊपर दिए गए ग्राफ में दर्शाया गया है। दिलचस्प बात यह है कि केरल और गोवा जैसे कुछ राज्यों में और पूर्वोत्तर भारत, मेघालय और मणिपुर में बड़ी संख्या में लोगों ने पोर्टल पर स्व-पंजीकरण कराया है। दादरा और नगर हवेली, अंडमान और निकोबार और लद्दाख जैसे अधिकांश केंद्र शासित प्रदेशों के साथ भी ऐसी ही स्थिति है।

21:03

कारीगरों और पारंपरिक कलाओं को मजबूत करने के लिए वाराणसी में खादी प्रदर्शनी और खादी कारीगर सम्मेलन का उद्घाटन

रामजी पांडे

नई दिल्ली केंद्रीय एमएसएमई राज्य मंत्री श्री भानु प्रताप सिंह वर्मा ने आज वाराणसी में 20 भारतीय राज्यों के उत्कृष्ट हस्तशिल्प उत्पादों को प्रदर्शित करने वाली एक अत्याधुनिक खादी प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। इसके अलावा केवीआईसी ने एक "खादी कारीगर सम्मेलन" भी आयोजित किया, जिसमें 2000 से अधिक खादी कारीगरों ने हिस्सा लिया। इनमें अधिकांश कारीगर आस-पास के 12 जिलों जैसे प्रयागराज, जौनपुर, गाजीपुर और सोनभद्र आदि की महिलाएं थीं।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001J6G4.jpg

उत्तर प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, पंजाब, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, लेह-लद्दाख, राजस्थान, उत्तराखंड, बिहार, पश्चिम बंगाल और अन्य राज्यों के खादी संस्थानों के कुल 105 स्टाल लगाए गए हैं। कई खादी संस्थानों, पीएमईजीपी इकाइयों और विभिन्न राज्यों के कई स्फूर्ति समूहों ने भी अपने स्टॉल लगाए हैं।

जम्मू और कश्मीर के प्रीमियम हाई एल्टीट्यूड शहद सहित उत्कृष्ट खादी उत्पादों की एक श्रृंखला, कश्मीरी व राजस्थानी ऊनी शॉल की एक विस्तृत विविध किस्म, पश्चिम बंगाल से मलमल का कपड़ा, पश्चिम बंगाल व बिहार से रेशमी कपड़े की एक किस्म, पंजाब से कोटि शॉल, कानपुर से चमड़े के उत्पाद, राजस्थान व उत्तर प्रदेश से मिट्टी के बर्तन, मिर्जापुर और प्रयागराज के व्यापक रूप से प्रशंसित हाथ से बुने हुए कालीन इस प्रदर्शनी के सबसे बड़े आकर्षण हैं। कोविड -19 लॉकडाउन के बाद से वाराणसी में केवीआईसी की यह दूसरी ऐसी प्रदर्शनी है।

21:00

पर्यावरण की रक्षा के लिए जन आंदोलन की जरूरत उपराष्ट्रपति

रामजी पांडे

नई दिल्ली:उपराष्ट्रपति, श्री एम. वेंकैया नायडू ने पर्यावरण की रक्षा के लिए आज एक जन आंदोलन का आह्वान किया और लोगों से विभिन्न संरक्षण कार्यों में स्वेच्छा से भाग लेने का आग्रह किया।

विशेष रूप से, श्री नायडु ने युवाओं का आह्वान किया कि वे पर्यावरण संबंधी आंदोलनों का अग्रसक्रिय होकर नेतृत्व करें और दूसरों को दीर्घकालिक कार्य प्रणाली को अपनाने के लिए प्रेरित करें। उप राष्‍ट्रपति ने कहा, उन्हें लोगों के बीच यह बात पहुंचानी चाहिए कि "अगर हम प्रकृति की देखभाल करते हैं, तो प्रकृति बदले में मानव जाति की देखभाल करेगी"।

श्री नायडू स्वर्गीय श्री पल्ला वेंकन्ना की जीवन कहानी पर आधारित पुस्तक 'नर्सरी राज्यनिकी राराजू' के विमोचन के अवसर पर संबोधित कर रहे थे। पल्‍ला वेंकन्‍ना को आंध्र प्रदेश के कदियाम गांव को पौध नर्सरी के लोकप्रिय केन्द्र में बदलने का श्रेय दिया जाता है।

उपराष्ट्रपति ने 'हरित भारत' की दिशा में अथक प्रयासों के लिए श्री वेंकन्ना की सराहना की। उन्होंने कहा कि श्री वेंकन्ना, जिन्होंने देश भर से 3000 से अधिक किस्‍मों के पौधे एकत्र किए, उनका मानना ​​था कि 'अगर हर घर हरा हो सकता है, तो देश हरा हो जाएगा'। श्री नायडू ने टिप्पणी की, श्री पल्ला वेंकन्ना का जीवन वृत्‍त भावी पीढ़ियों के लिए प्रेरणा का स्रोत बना रहेगा।

तेजी से शहरीकरण और वनों की कटाई के प्रभावों का जिक्र करते हुए, श्री नायडू ने कहा कि हाल के दिनों में दुनिया के विभिन्न हिस्सों में अचानक बाढ़ और भूस्खलन जैसी मौसम की अत्‍यन्‍त कठोर घटनाएं बार-बार होने में वृद्धि हो रही है। उन्होंने कहा, "ये स्पष्ट संकेत हैं कि जलवायु परिवर्तन वास्तविक है और यह अब हमेशा की तरह व्यवसाय नहीं हो सकता है"।

श्री नायडु ने कहा कि ऐसी मौसमी घटनाओं को कम करने के लिए आगे बढ़ते हुए यह जरूरी है कि हम प्रकृति के साथ तालमेल बैठाकर रखें। हमें अपनी विकासात्मक जरूरतों को पर्यावरण संरक्षण के साथ संतुलित करना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हर कोई दीर्घकालिक जीवन के महत्व को समझे। श्री नायडू ने कहा, "सार्थक विकास तभी संभव है जब पर्यावरण के मूल्‍य को ध्यान में रखा जाए " ।

इस अवसर पर, उन्होंने 'हरिता हरम' के अंतर्गत एक आंदोलन के रूप में वृक्षारोपण करने के लिए तेलंगाना सरकार की सराहना की। उन्होंने सुझाव दिया कि सभी राज्य सरकारों को स्कूल से ही बच्चों में पर्यावरण संरक्षण और वृक्षारोपण के बारे में जागरूकता पैदा करने की पहल करनी चाहिए।

इस अवसर पर तेलंगाना के गृह मंत्री, श्री मोहम्मद महमूद अली, पूर्व सांसद, श्री उंडावल्ली अरुण कुमार, प्रमुख मनोवैज्ञानिक, डॉ. बी.वी. पट्टाभिराम, एमेस्को बुक्स के सीईओ, श्री विजयकुमार, पत्रकार श्री के. रामचन्द्रमूर्ति, रैथू नेस्तम के संस्थापक, श्री यदलपल्ली वेंकटेश्वर राव, पुस्तक के लेखक श्री वल्लीश्वर, स्वर्गीय श्री पल्ला वेंकन्ना के परिवार के सदस्य और अन्य उपस्थित थे।

20:53

सरस्वती विद्या मंदिर "सबका साथ, सबका विकास और सबका प्रयास" का एक वास्तविक उदाहरण है - श्री रूपाला


नई दिल्ली:केंद्रीय कैबिनेट मंत्री श्री पुरशोत्तम रूपाला ने सुरेंद्रनगर के चोटिला के निकट नवा गांव में श्री सरस्वती विद्या मंदिर के नवनिर्मित भवन का लोकार्पण किया। यह भवन 11 करोड़ रुपये से अधिक दान की गई राशि से बना है। इंडियन फैमिली एसोसिएशन कनाडा और उर्मिसरोज चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा सुरेंद्रनगर के चोटिला के निकट वाडी वसाहट में श्री सरस्वती विद्या मंदिर नाम से स्कूल बनवाया है। इस नवनिर्मित भवन के उद्घाटन समारोह में कैबिनेट मंत्री श्री पुरशोत्तम रूपाला, श्री माधव प्रियदासजी स्वामी, श्री रमेशभाई ओझा, सांसद श्री रामभाई मोकरिया और सौराष्ट्र विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. नितिन पेठानी शामिल हुए।

इस मौक पर श्री पुरशोत्तम रूपाला ने प्रशंसा करते हुए कहा कि यह स्कूल इस बात का जीवंत उदाहरण है कि किस प्रकार जीवन बदलने वाले अनुभवों के माध्यम से कोई इंसान या समूह अपनी सार्थक मदद से समाज को नया आयाम और नई दिशा दे सकता है। श्री पुरशोत्तम रूपाला ने कहा कि अति पिछड़े वाडी समुदाय के छात्रों को स्कूल सौंपने पर मुझे हार्दिक प्रसन्नता हो रही है। आगे उन्होंने कहा कि यह पहल गुजरात में एक उदाहरण स्थापित करेगी क्योंकि इसका उद्देश्य गांव और शहर के बीच की खाई को दूर करना है।

मंत्री ने इस बात पर भी जोर दिया कि वादी वसाहट में सरस्वती विद्या मंदिर "सबका साथ, सबका विकास और सबका प्रयास" का एक वास्तविक उदाहरण है। पूज्य माधव प्रियस्वामी ने उर्मीसरोज चैरिटेबल ट्रस्ट के संस्थापक श्री जगदीश त्रिवेदी की काफी प्रशंसा की और इसे अभूतपूर्व कदम बताया। साथ ही उन्होंने विश्वास जताया कि भविष्य में ऐसे जनकल्याण के काम और भी होते रहेंगे।

स्कूल के उद्घाटन के पीछे की कहानी दिलचस्प है क्योंकि यह एक ऐसे व्यक्ति द्वारा पूर्णत: परोपकार का कार्य है जिसने दबे-कुचले तबके के कल्याण के लिए अपनी कमाई खर्च करने का संकल्प लिया। उर्मीसरोज चैरिटेबल ट्रस्ट की स्थापना इसके संस्थापक श्री जगदीश त्रिवेदी ने वर्ष 2016 में की थी। उनका मानना है कि "मानवता की सेवा ही ईश्वर की सेवा है"। उन्होंने समाज की सेवा के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया और सेवानिवृत्ति के बाद 11 करोड़ रुपए दान करने की सार्वजनिक रूप से प्रतिबद्धता व्यक्त की, जिसका जीता जागता प्रमाण यह स्कूल है। श्री जगदीश त्रिवेदी का कहना है कि समाज को स्कूल सौंपना केंद्रीय मंत्री श्री पुरशोत्तम रूपाला द्वारा प्रेरित है, जिन्होंने यह सुनिश्चित करने में प्रेरक भूमिका निभाई कि अति पिछड़े वाडी समुदाय के बच्चों को शिक्षा के लिए बुनियादी ढांचा मिल सके।

Friday, 15 October 2021

21:05

noidaरावण का पुतला जलाकर दिया अच्छाई की जीत का संदेश


 
विक्रम पांडे
नोएडा में विभिन्न रामलीला कमेटियों ने रावण के पुतले का दहन कर बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश दिया गया। रावण के साथ मेघनाद व कुंभकरण के पुतले का भी दहन किया गया। रामलीला कमेटियों की ओर से शाम 6 से रात के 9 बजे तक पुतला दहन कार्यक्रम आयोजित किया गया था। यही वजह रही कि शाम होने के साथ ही जैसे ही रावण व सहित अन्य पुतले में आग लगाई गई, आसपास का इलाका आतिशबाजी से से गूंजता रहा। नोएडा में मुख्ये समारोह सेक्टसर 21 स्थित रामलीला ग्रांउड में सनातन धर्म रामलीला कमेटी व्दाारा आयोजित किया गया समारोह में नोएडा विधायक पंकज सिंह पूर्व केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा, विमला बाथम, सहित अमित चौधरी मौजूद थे। सेक्टर 62 स्थित श्री रामलीला मैदान में 70 फीट लंबा रावण 65 फीट मेघनाद और 65 फीट कुंभकरण का पुतले लगाए गए थे।
 
धूं-धू कर जलते रावण के साथ मेघनाद व कुंभकरण के पुतले को देखने इक्कनठा हुए लोगो जय श्री राम जयकारे लगाये। रामलीला में विश्व के लिए निरोगी काया का आशीर्वाद मांगा गया। अपनी खुशी का इजहार किया। इस अवसर मुख्यग अतिथि केंदिय मंत्री डॉ महेश शर्मा ने लोगो को सम्बो धित करते हुए कहा की विजयदशमी का यह पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। रावण को उसके गलत कृत्य की सजा भगवान श्रीराम ने दी एवं उसका वध कर दिया। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम के आदर्शों पर चलकर ही समाज व देश का भला हो सकता है। इस अवसर बोलते हुए विशिष्ठ अतिथि विधायक पंकज सिंह ने कहा कि दशहरा केवल त्यौेहार नही है यह भारतीय सभ्यबता का प्रगटीकरण है जो हर साल आने के साथ हमें यह याद दिलाता है कि हम अपने अन्द र के दानव को खत्मय करे। विधायक पंकज सिंह ने कहा कि रामलीला केवल मनोरंजन का माध्यम नहीं है। इससे समाज को एक नई दिशा मिलती है। यहां पर आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को भगवान श्रीराम का अनुसरण करना चाहिए।
 
नोएडा स्टेडियम में रावण, कुंभकरण और मेघनाद के पुतलों का दहन के साथ असत्य पर सत्य की विजय की पताखा फहराई गई। सेक्टर-62 में रावण कुनबे के साथ कोरोना का पुतला भी जलाया गया। इस दौरान रावण के पुतला दहन को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। लोग बच्चों को भी साथ लेकर आए थे। बच्चों में रावण के जलते हुए पुतले को देखने की काफी उत्सुकता थी। वे बहुत खुश नजर आ रहे थे।
05:07

भारत रत्न डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम जी की जयंती पर सपा नेता वारिस अली ने पुण्य आत्मा को किया नमन

आज दिनांक 15 अक्टूबर 2021 को भारत माँ के लाडले सपूत, जनप्रिय पूर्व राष्ट्रपति, सुयोग्य वैज्ञानिक,मिसाइल मैन "भारत रत्न" डॉ० एपीजे अब्दुल कलाम जी की जयंती पर समाजवादी पार्टी नगर अध्यक्ष व जिला पंचायत सदस्य वारिस अली अंसारी के आवास पर बच्चो के साथ मनाई गयी । जिस में वारिस अली अंसारी ने डॉ ए० पी० जे० अब्दुल कलाम साहब के जीवन पर प्रकाश डाला जिसमे उन्होंने कहा कि अब्दुल बेहद सादगी से जीवन जीने वाले व्यक्ति थे। अनुशासन और दैनिक रूप से पढ़ना इनकी दिनचर्या में था। अपने गुरु से उन्होंने सीखा था कि यदि आप किसी भी चीज को पाना चाहते है तो अपनी तीव्र इच्छा रखनी होगी। कलाम शानो-शौकत के बिल्कुल भी हिमायती नहीं थे।  
कलाम बच्चों से बहुत प्रेम करते थे और उन्हें सदा विज्ञान का जीवन में महत्व बताते थे। अब्दुल कलाम को पीपुल्स प्रेसीडेंट भी कहते है। इस अवसर पर बच्चों को चाकलेट , टॉफी बाँटी गई, इस मौके पर नगर समाजवादी पार्टी मीडिया प्रभारी आमिर हसन इदरीसी ,आसिफ अली अंसारी, जलीस अंसारी ,अनस खान और दर्जनों बच्चे उपस्थित रहे।

Thursday, 14 October 2021

06:16

कॉग्रेस छोड़कर आये हैप्पी अवाना AAP मे बने नोएडा महानगर उपाध्यक्ष


 आम आदमी पार्टी गौतमबुद्ध नगर में पार्टी के साथ जुड़कर काम करने वालो की रफ्तार काफी तेज हो हो गयी है और ऐसा सिर्फ दिल्ली सरकार में अरविंद केजरीवाल की नीतियों से प्रभावित होकर लोग आ रहे है और दूसरा आम आदमी पार्टी ने जिले में सबसे पहले तीनो विधानसभाओ में साफ-सुथरी छवि वाले प्रभारी/प्रत्याशी घोषित कर दिए है।

         कॉग्रेस पार्टी नोएडा में किसान प्रकोष्ठ में उपाध्यक्ष रहे गेझा निवासी हैप्पी अवाना को जिलाध्यक्ष भूपेंद्र जादौन ने आम आदमी पार्टी नोएडा महानगर में उपाध्यक्ष मनोनीत किया है कॉग्रेस पार्टी से ही कंचन लोहिया आप में शामिल हुए।जिन्हें जल्द ही पार्टी में जिम्मेदारी दी जाएगी।नोएडा प्रत्याशी पंकन अवाना ने कहा कि अब उत्तर प्रदेश के लोगो के लिए भी दिल्ली मॉडल पहली पसंद बन चुका है।

   जिला महासचिव व पार्टी प्रवक्ता संजीव निगम ने बताया कि इस अवसर पर प्रदेश सचिव अशोक कमांडो,नोएडा विधानसभा अध्यक्ष नितिन त्यागी, प्रकोष्ठों के जिलाध्यक्षों में अल्पसंख्यक से दिलदार अंसारी, चिकित्सा से डा बी पी सिंह  व्यापार से मुन्ना गुप्ता, एस सी/एस टी से सुनील कुमार और पूर्वांचल से शंकर चौधरी आदि मौजूद रहे।

04:12

noidaमाता रानी के भंडारे में पहुंचे कांग्रेस महानगर अध्यक्ष शहाबुद्दीन

आज सेक्टर 53 स्थित गांव गिझोड नोएडा में उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रदेश सचिव आदरणीय श्री मुकेश यादव जी के यहां पर माता रानी के भंडारे मैं शामिल होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ इस मौके पर मुख्य रूप से महानगर कांग्रेस कमेटी नोएडा अध्यक्ष शहाबुद्दीन, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी राष्ट्रीय विचार संयोजक तरुण भारद्वाज, युवा कांग्रेस जिला अध्यक्ष पुरुषोत्तम नागर, प्रदेश महासचिव अल्पसंख्यक विभाग लियाकत चौधरी, प्रदेश सदस्य सत्येंद्र शर्मा, महासचिव यतेंद्र शर्मा,महासचिव रिजवान चौधरी, सचिव इंद्रजीत तिवारी, व्यापार प्रकोष्ठ जिला महासचिव साकिर सैफी, नॉर्थ ब्लॉक अध्यक्ष जावेद खान, वेस्ट ब्लॉक अध्यक्ष जितेंद्र शर्मा, सोशल आउटरीच प्रदेश महासचिव विक्रम चौधरी, सोशल आउटरीच महानगर नोएडा अध्यक्ष जीशान चौधरी, हरिशंकर, अरूण प्रधान, सतीश पांचाल, जगपाल चौहान व तमाम कांग्रेस जन साथी मौजूद रहे
02:28

वित्त मंत्री निर्मला श्रीमती सीतारमण ने वाशिंगटन डीसी में हुई जी-20 के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंकों के गवर्नरों एफएमसीबीजी की चौथी बैठक में भाग लिया


नई दिल्ली:केंद्रीय वित्त और कॉरपोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने 13 अक्टूबर को वाशिंगटन डीसी में हुई आईएमएफ-विश्व बैंक की सालाना बैठकों से इतर इटली की अध्यक्षता में जी-20 के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंकों के गवर्नरों (एफएमसीबीजी) की चौथी बैठक में भाग लिया।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001PGD9.jpg

     यह इटली की अध्यक्षता में जी20 के अंतर्गत अंतिम एफएमसीबीजी बैठक थी और इसमें वैश्विक आर्थिक सुधार, कमजोर देशों को महामारी समर्थन, वैश्विक स्वास्थ्य, जलवायु उपाय, अंतर्राष्ट्रीय कराधान और वित्तीय क्षेत्र से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श किया गया व समझौते हुए।

महामारी से स्थायी रूप से उबरने के लिए, जी20 के वित्त मंत्री और केंद्रीय बैंक के गवर्नर सहयोग उपायों को समय से पहले वापस लेने से बचने, साथ ही वित्तीय स्थायित्व और दीर्घकालिक राजकोषीय स्थिरता को बनाए रखने व गिरावट के जोखिमों व नकारात्मकता प्रभाव बढ़ने से रोकने पर सहमत हो गए।

श्रीमती सीतारमण ने कहा कि संकट से सुधार की राह पर आने के लिए, सभी को टीकों की समान उपलब्धता सुनिश्चित करना एक बड़ी चुनौती है। वित्त मंत्री ने सुझाव दिया कि समर्थन जारी रखना, लचीलापन बढ़ाना, उत्पादकता में सुधार और संरचनागत सुधार हमारे नीतिगत लक्ष्यों में शामिल होने चाहिए।

वित्त मंत्री ने ऋण राहत उपायों और नए एसडीआर आवंटन के माध्यम से महामारी पर प्रतिक्रिया और कमजोर देशों का समर्थन करने में जी20 की भूमिका की सराहना की। श्रीमती सीतारमण ने लक्षित देशों तक लाभ पहुंचाने पर ध्यान केंद्रित करते हुए प्रयास करने का सुझाव दिया।


वित्त मंत्री, जी20 मंत्रियों और गवर्नरों के साथ जलवायु परिवर्तन से मुकाबला करने के प्रयासों को मजबूती देने की जरूरत पर सहमत हुईं। श्रीमती सीतारमण ने जोर देकर कहा कि विभिन्न देशों की अलग-अलग नीतियों और शुरुआती बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए, सफल परिणामों के लिए विचार-विमर्श को आगे ले जाने के लिए संयुक्त राष्ट्र के जलवायु परिवर्तन पर फ्रेमवर्क कन्वेंशन और पेरिस समझौते के सिद्धांतों पर आधारित जलवायु न्याय की केंद्रीयता खासी अहम होगी।

अर्थव्यवस्था के डिजिटलीकरण से पैदा चुनौतियों के समाधान के लिए, जी20 एफएमसीबीजी ने 8 अक्टूबर, 2021 को बेस इरोजन एंड प्रॉफिट शिफ्टिंग (बीईपीएस) पर ओईसीडी/जी20 इनक्लूसिव फ्रेमवर्क द्वारा जारी दो सिद्धांतों वाले समाधान और विस्तृत कार्यान्वयन योजना में उल्लिखित समझौते को समर्थन दे दिया है।

जी20 एफएमसीबीजी द्वारा जी20 कार्य योजना में वैश्विक अर्थव्यवस्था को एक मजबूत, टिकाऊ, संतुलित और समावेशी विकास की ओर ले जाने के लिए निर्धारित अग्रगामी एजेंडे को आगे बढ़ाने की अपनी प्रतिबद्धता की पुनः पुष्टि करने के साथ बैठक संपन्न हो गई।

नई दिल्ली:केंद्रीय वित्त और कॉरपोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने 13 अक्टूबर को वाशिंगटन डीसी में हुई आईएमएफ-विश्व बैंक की सालाना बैठकों से इतर इटली की अध्यक्षता में जी-20 के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंकों के गवर्नरों (एफएमसीबीजी) की चौथी बैठक में भाग लिया।


     यह इटली की अध्यक्षता में जी20 के अंतर्गत अंतिम एफएमसीबीजी बैठक थी और इसमें वैश्विक आर्थिक सुधार, कमजोर देशों को महामारी समर्थन, वैश्विक स्वास्थ्य, जलवायु उपाय, अंतर्राष्ट्रीय कराधान और वित्तीय क्षेत्र से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श किया गया व समझौते हुए।

महामारी से स्थायी रूप से उबरने के लिए, जी20 के वित्त मंत्री और केंद्रीय बैंक के गवर्नर सहयोग उपायों को समय से पहले वापस लेने से बचने, साथ ही वित्तीय स्थायित्व और दीर्घकालिक राजकोषीय स्थिरता को बनाए रखने व गिरावट के जोखिमों व नकारात्मकता प्रभाव बढ़ने से रोकने पर सहमत हो गए।

श्रीमती सीतारमण ने कहा कि संकट से सुधार की राह पर आने के लिए, सभी को टीकों की समान उपलब्धता सुनिश्चित करना एक बड़ी चुनौती है। वित्त मंत्री ने सुझाव दिया कि समर्थन जारी रखना, लचीलापन बढ़ाना, उत्पादकता में सुधार और संरचनागत सुधार हमारे नीतिगत लक्ष्यों में शामिल होने चाहिए।

वित्त मंत्री ने ऋण राहत उपायों और नए एसडीआर आवंटन के माध्यम से महामारी पर प्रतिक्रिया और कमजोर देशों का समर्थन करने में जी20 की भूमिका की सराहना की। श्रीमती सीतारमण ने लक्षित देशों तक लाभ पहुंचाने पर ध्यान केंद्रित करते हुए प्रयास करने का सुझाव दिया।


वित्त मंत्री, जी20 मंत्रियों और गवर्नरों के साथ जलवायु परिवर्तन से मुकाबला करने के प्रयासों को मजबूती देने की जरूरत पर सहमत हुईं। श्रीमती सीतारमण ने जोर देकर कहा कि विभिन्न देशों की अलग-अलग नीतियों और शुरुआती बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए, सफल परिणामों के लिए विचार-विमर्श को आगे ले जाने के लिए संयुक्त राष्ट्र के जलवायु परिवर्तन पर फ्रेमवर्क कन्वेंशन और पेरिस समझौते के सिद्धांतों पर आधारित जलवायु न्याय की केंद्रीयता खासी अहम होगी।

अर्थव्यवस्था के डिजिटलीकरण से पैदा चुनौतियों के समाधान के लिए, जी20 एफएमसीबीजी ने 8 अक्टूबर, 2021 को बेस इरोजन एंड प्रॉफिट शिफ्टिंग (बीईपीएस) पर ओईसीडी/जी20 इनक्लूसिव फ्रेमवर्क द्वारा जारी दो सिद्धांतों वाले समाधान और विस्तृत कार्यान्वयन योजना में उल्लिखित समझौते को समर्थन दे दिया है।

जी20 एफएमसीबीजी द्वारा जी20 कार्य योजना में वैश्विक अर्थव्यवस्था को एक मजबूत, टिकाऊ, संतुलित और समावेशी विकास की ओर ले जाने के लिए निर्धारित अग्रगामी एजेंडे को आगे बढ़ाने की अपनी प्रतिबद्धता की पुनः पुष्टि करने के साथ बैठक संपन्न हो गई।

02:25

कोविड-19 के बाद बायोटेक्नोलॉजी विभाग ने देश के पहले 'एक स्‍वास्‍थ्‍य वन हेल्थ' सहायता संघ की शुरूआत की

प्रविष्टि तिथि: 14 OCT 2021

नई दिल्ली:कोविड-19 ने संक्रामक रोगों के नियंत्रण में ‘एक स्‍वास्‍थ्‍य (वन हेल्‍थ)’ सिद्धांतों, खासतौर से पूरे विश्व में पशुजन्‍य रोगों की रोकथाम और उन्‍हें नियंत्रित करने के प्रयास की प्रासंगिकता दिखा दी। ऐसे संक्रामक कारकों का खतरा बढ़ रहा है जहां एक संक्रमित नस्‍ल दूसरी नस्‍ल को संक्रमित करने सक्षम है। ऐसा मुख्‍य रूप से इसलिए है क्‍योंकि बढ़ती यात्रा, भोजन की आदतों और सीमाओं के पार व्यापार के कारण नए संक्रामक कारक दुनिया भर में तेजी से फैल रहे हैं। इस तरह की बीमारियों का जानवरों, मानव, स्वास्थ्य प्रणालियों और अर्थव्यवस्थाओं पर विनाशकारी प्रभाव पड़ता है, जिसके लिए सामाजिक और आर्थिक सुधार की वर्षों आवश्यकता होती है। इसकी तत्‍काल आवश्यकता को महसूस करते हुए, जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी), विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार ने 'एक स्‍वास्‍थ्‍य' पर एक जबरदस्‍त सहायता संघ का समर्थन किया। जैव प्रौद्योगिकी विभाग, सरकार में सचिव डॉ. रेणु स्वरूप ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से डीबीटी की पहली 'वन हेल्थ' परियोजना का शुभारंभ किया। इस कार्यक्रम में देश के पूर्वोत्‍तर भाग सहित भारत में एक नस्‍ल के दूसरी नस्‍ल को संक्रामित करने वाले जीवाणु संबंधी, वायरल और परजीवी से होने वाले महत्वपूर्ण संक्रमणों की निगरानी करने की परिकल्पना की गई है। जरूरत पड़ने पर मौजूदा नैदानिक ​​परीक्षणों का उपयोग और अतिरिक्त पद्धतियों का विकास निगरानी और उभरती बीमारियों के प्रसार को समझने के लिए अनिवार्य है।

डॉ. रेणु स्वरूप ने कार्यक्रम के शुभारंभ के दौरान अपने संबोधन में टिप्पणी की कि डीबीटी-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एनीमल बायोटेक्नोलॉजी, हैदराबाद की अगुवाई में 27 संगठनों से युक्त यह सहायता संघ कोविड-19 के बाद भारत सरकार द्वारा शुरू किए गए सबसे बड़े स्वास्थ्य कार्यक्रमों में से एक है। वन हेल्थ सहायता संघ में एम्स, दिल्ली, एम्स जोधपुर, आईवीआरआई, बरेली, जीएडीवीएएसयू, लुधियाना, टीएएनयूवीएएस, चेन्नई, एमएएफएसयू, नागपुर, असम कृषि और पशु चिकित्सा विश्वविद्यालय और आईसीएआर, आईसीएमआर के अनेक केन्‍द्र और वन्य जीव एजेंसियां ​​​​शामिल हैं।

डीबीटी सचिव डॉ. रेणु स्वरूप ने इसके बाद वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से "एक स्वास्थ्य के महत्‍व" पर एक अंतर्राष्ट्रीय मिनी-संगोष्ठी का उद्घाटन किया। डॉ. स्वरूप ने अपने उद्घाटन भाषण में भविष्य की महामारियों से होने वाले नुकसान को कम करने के लिए मानव, जानवरों और वन्यजीवों के स्वास्थ्य को समझने के लिए एक समग्र दृष्टिकोण की आवश्यकता पर बल दिया। अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय वक्ताओं ने 'एक स्वास्थ्य' की अवधारणा को शुरू करने और उसे विकसित करने पर अपने विचार साझा किए, जहां सभी के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए मनुष्य, पशु, पौधों और पर्यावरण को एक दूसरे के लिए पूरक माना जाना चाहिए।

Tuesday, 12 October 2021

18:49

सरकार ने पीएफसी को महारत्न का दर्जा दिया



नई दिल्ली रामजी पांडे: भारत सरकार ने राज्य के स्वामित्व वाली पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन लिमिटेड (पीएफसी) को 'महारत्न' का दर्जा दिया, इस प्रकार पीएफसी को अधिक परिचालन और वित्तीय स्वायत्तता प्रदान की। वित्त मंत्रालय के तहत सार्वजनिक उद्यम विभाग की ओर से आज इस आशय का आदेश जारी किया गया। 1986 में स्थापित, पीएफसी आज सबसे बड़ी इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंस कंपनी है, जो विशेष रूप से विद्युत मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण के तहत विद्युत क्षेत्र को समर्पित है।

केंद्रीय विद्युत और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री, श्री आर के सिंह ने पीएफसी को बधाई दी और टिप्पणी की कि महारत्न का दर्जा सरकार के विश्वास का प्रतिबिंब है। भारतीय विद्युत क्षेत्र के समग्र विकास में पीएफसी की रणनीतिक भूमिका पर भारत सरकार और इसके उत्कृष्ट प्रदर्शन का समर्थन। यह नई मान्यता पीएफसी को बिजली क्षेत्र के लिए प्रतिस्पर्धी वित्तपोषण की पेशकश करने में सक्षम बनाएगी, जो सस्ती और विश्वसनीय 'सभी के लिए 24x7' उपलब्ध कराने में एक लंबा रास्ता तय करेगी। महारत्न की स्थिति के साथ आने वाली बढ़ी हुई शक्तियां पीएफसी को राष्ट्रीय अवसंरचना पाइपलाइन के तहत वित्त पोषण के सरकार के एजेंडे को आगे बढ़ाने में मदद करेंगी, 2030 तक 40% हरित ऊर्जा की राष्ट्रीय प्रतिबद्धता और एक परिव्यय के साथ नई संशोधित वितरण क्षेत्र योजना की प्रभावी निगरानी और कार्यान्वयन। 3 लाख करोड़ रुपये से अधिक,

पीएफसी को 'महारत्न' का दर्जा देने से वित्तीय निर्णय लेने के दौरान पीएफसी बोर्ड को बढ़ी हुई शक्तियां प्राप्त होंगी। एक 'महारत्न' सीपीएसई का बोर्ड वित्तीय संयुक्त उद्यम और पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनियों के लिए इक्विटी निवेश कर सकता है और भारत और विदेशों में विलय और अधिग्रहण कर सकता है, जो संबंधित सीपीएसई के नेट वर्थ के 15% की सीमा तक सीमित है। एक परियोजना में 5,000 करोड़ रुपये। बोर्ड कर्मियों और मानव संसाधन प्रबंधन और प्रशिक्षण से संबंधित योजनाओं की संरचना और कार्यान्वयन भी कर सकता है। वे प्रौद्योगिकी संयुक्त उद्यम या दूसरों के बीच अन्य रणनीतिक गठबंधन में भी प्रवेश कर सकते हैं।

 श्री आर एस ढिल्लों, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, पीएफ़सी ने कहा कि पीएफसी ने पिछले 3 वर्षों के दौरान असाधारण वित्तीय प्रदर्शन के दम पर महारत्न का दर्जा प्राप्त किया है। कोविड के बावजूद, पीएफसी ने वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान विद्युत क्षेत्र को अब तक की सबसे अधिक वार्षिक स्वीकृतियां और संवितरण 1.66 लाख करोड़ रुपये और 88,300 करोड़ रुपये और वित्त वर्ष 20210-21 में 8,444 करोड़ रुपये का अब तक का सबसे अधिक लाभ देखा। . पावर सेक्टर में लिक्विडिटी संकट को टालने के लिए लिक्विडिटी इन्फ्यूजन स्कीम ('आत्मनिर्भर भारत योजना') के तहत DISCOMs को फंडिंग के बीच PFC ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। महारत्न की बढ़ी हुई शक्तियों के साथ, पीएफसी आगे चलकर अपने व्यवसाय के विकास को और तेज करने के लिए अपने कार्यों में विविधता लाएगा और बिजली क्षेत्र के समग्र विकास के लिए सरकार के उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए अपनी स्थिति का लाभ उठाएगा।

18:45

भारत डिजिटल परिवर्तन में तेजी लाने में दुनिया की सहायता करने के लिए प्रतिबद्ध TNI


रामजी पांडे

नई दिल्ली :संचार राज्य मंत्री श्री देवुसिंह चौहान ने वियतनाम सरकार द्वारा आयोजित अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ (आईटीयू) डिजिटल वर्ल्ड 2021 की 50वीं वर्षगांठ संस्करण के मंत्रिस्तरीय गोलमेज सत्र में भाग लिया। उपरोक्त सत्र में, वियतनाम के प्रधान मंत्री और अजरबैजान, कंबोडिया, कोस्टा रिका, लाओ पीडीआर, म्यांमार और वियतनाम के मंत्रियों ने भी भाग लिया। विचार-विमर्श का विषय था " लागत में कटौती: क्या वहनीय पहुंच डिजिटल परिवर्तन को तेज कर सकती है?"।

 

 

इस अवसर पर बोलते हुए, संचार राज्य मंत्री ने कहा कि भारत की दूरसंचार नीति प्रत्येक नागरिक के लिए अत्याधुनिक आईसीटी सुविधाओं की सामर्थ्य, पहुंच और उपलब्धता के उद्देश्यों से प्रेरित है। इसे ध्यान में रखते हुए, प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व में भारत ने सबसे सस्ती दूरसंचार सेवाओं को सुनिश्चित करने के लिए ऐतिहासिक दूरसंचार सुधारों की शुरुआत की है जो अगले स्तर पर डिजिटल परिवर्तन की ओर ले जाएगी। इन दूरसंचार सुधारों में मुख्य रूप से स्पेक्ट्रम अवधि में 20 से 30 वर्ष की वृद्धि, लाइसेंस के लिए बैंक गारंटी आवश्यकताओं का युक्तिकरण, भविष्य की स्पेक्ट्रम नीलामी में प्राप्त स्पेक्ट्रम के लिए कोई स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क (एसयूसी) नहीं और तरलता को संबोधित करने के अलावा स्वचालित मार्ग के माध्यम से 100 प्रतिशत विदेशी निवेश की अनुमति शामिल है। दूरसंचार सेवा प्रदाताओं (टीएसपी) के मुद्दे। यह सुधारात्मक प्रक्रिया भारतीय दूरसंचार क्षेत्र की वास्तविक क्षमता को देश के सबसे दूर के हिस्से में रहने वाले लोगों सहित सभी वर्गों के लाभ के लिए उजागर करेगी। भारत के प्रधान मंत्री की दृष्टि अन्य देशों को भी भारत द्वारा अपनाए गए मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करेगी।

उन्होंने आगे कहा कि भारत न केवल सामर्थ्य पर काम कर रहा है बल्कि दूरसंचार नीति के प्रमुख उद्देश्यों में से एक के रूप में सुगम्यता बना रहा है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के सभी छह लाख गांवों को ऑप्टिकल फाइबर के माध्यम से जोड़ने का आदेश दिया है। दूरसंचार विभाग ने प्रधानमंत्री के विजन को सही ढंग से लागू करने का काम शुरू किया है। 

आईटीयू के उप महासचिव ने देश में दूरसंचार क्रांति का समर्थन करने में भारत के प्रधान मंत्री की भूमिका की सराहना की। उन्होंने आगे कहा कि यदि परिवर्तनकारी पहल उच्चतम स्तर पर की जाती है, तो उनकी सफलता और संभावित वृद्धि की संभावना कई गुना बढ़ जाती है, जिसका भारत एक अच्छा उदाहरण है।

श्री देवुसिंह चौहान ने दोहराया कि भारत अन्य देशों के साथ अपनी सर्वोत्तम प्रथाओं और ज्ञान को साझा करके डिजिटल परिवर्तन को तेज करने के लिए सबसे अधिक लागत प्रभावी आईसीटी सेवाएं प्रदान करने में दुनिया की सहायता करने के लिए प्रतिबद्ध है।

18:43

लखीमपुर खीरी में शहीद हुए किसानों को पांच कैंडल जलाकर व मौन रखकर सीटू कार्यकर्ताओं ने दी श्रद्धांजलि - गंगेश्वर दत्त शर्मा

रामजी पांडे: नोएडा, संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा 12 अक्टूबर 2021 को लखीमपुर खीरी में शहीद हुए किसानों को अंतिम अरदास श्रद्धांजलि दिए जाने के आह्वान के तहत सीटू गौतम बुद्ध नगर के कार्यकर्ताओं ने किसान आंदोलन के साथ एकजुटता प्रकट करते हुए सीटू नेता गंगेश्वर दत शर्मा, राम सागर, भरत डेंजर के नेतृत्व में दर्जनों कार्यकर्ताओं ने सेक्टर- 8, नोएडा कार्यालय पर शहीद किसानों को 5 कैंडल जलाकर और 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी। 
उक्त अवसर पर बोलते हुए सीटू जिलाध्यक्ष गंगेश्वर दत्त शर्मा ने घटना के साजिशकर्ता भाजपा सांसद अजय मिश्रा को केंद्रीय मंत्री मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग किया और हत्या के लिए जिम्मेदार लोगों को गिरफ्तार कर सख्त से सख्त सजा दिलवाने की मांग रखी साथ ही उन्होंने सरकार से किसान विरोधी कृषि कानूनों को वापस लिए जाने का अनुरोध किया।
05:41

AAP किसान प्रकोष्ठ के नोएडा महानगर में कपिल यादव बने अध्यक्ष व हर्ष नंबरदार महासचिव


  आम आदमी पार्टी ने एक तरफ जहां पहले ही जिले की तीनों विधानसभाओं में प्रभारी/प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं तो वहीं दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी से लोगो के जुड़ने का सिलसिला लगातार जारी है।अभी हाल ही में पार्टी से जुड़े  कपिल यादव जो कि होशियारपुर गांव नोएडा के रहने वाले हैं जिन्हें आम आदमी पार्टी ने किसान प्रकोष्ठ का नोएडा महानगर का अध्यक्ष मनोनीत किया है और हर्ष नंबरदार को नोएडा महानगर में ही  किसान प्रकोष्ठ का महासचिव मनोनीत किया है

    जिलाध्यक्ष भूपेंद्र जादौन ने नव-मनोनीत पदाधिकारियों को शुभकामनाएं दी और बताया कि जल्द ही बूथ स्तर तक के कार्यकर्ताओं का सम्मेलन आयोजित किया जाएगा।इस अवसर पर नोएडा विधानसभा अध्यक्ष नितिन प्रजापति भी उपस्थित रहे।जिला महासचिव व पार्टी प्रवक्ता संजीव निगम ने जानकारी देते हुए बताया कि गौतमबुद्ध नगर में जिले में तीनो विधानसभा के प्रत्याशी जन-सम्पर्क अभियान में जुटे हुए है।

Monday, 11 October 2021

07:16

महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन फाउंडेशन के कार्यक्रम में उमड़ा जनसैलाब

गुरुग्राम,गौरव गर्ग 10अक्टुबर । प्रोग्राम में महिला बाल सुरक्षा संगठन फाउंडेशन द्वारा 10वीं 12वीं उच्च शिक्षा के प्रतिभाशाली छात्र छात्राओं को जिन्होंने दसवीं और बारहवीं बोर्ड परीक्षा में 70% या इससे अधिक अंक प्राप्त करने वाले छात्र छात्राओं को किया गया सम्मानित । छात्र छात्राओं को महिला एंव बाल सुरक्षा संगठन फाउंडेशन के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष हरकेश सिंह बोहत, मान्यवर जगदीश नायर ,विधायक होडल, नवीन गोयल हरियाणा पर्यावरण एव वन संरक्षक, अमित वाल्मीकि प्रदेश संगठन मंत्री उत्तर प्रदेश, ईश्वर मित्तल प्रमुख गौ रक्षा सेवा दल प्रमुख, सरोज यादव प्रदेश उपाध्यक्ष महिला मोर्चा भाजपा, परविंदर कटारिया पूर्व डिप्टी मेयर गुरुग्राम द्वारा किया गया सम्मानित । इस कार्यक्रम की अध्यक्षता संगठन के प्रदेश अध्यक्ष हरकेश सिंह बोहत ने की एवं मंच संचालक चमनलाल सौदा जुगेश सारवान, मास्टर सुरेश, डॉक्टर दीपक एवं राजू भूजा ने की ।
इस कार्यक्रम में बच्चों ने भी रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए, बच्चों ने बेटियों की सुरक्षा एवं बचाव के लिए कुछ ऐसे नाटक प्रस्तुत किए जिसे देखकर कार्यक्रम में मौजुद क्षेत्रवासियों को आनंदित होते हुए भी देखा गया और कुछ नाटक बच्चों ने ऐसे भी प्रस्तुत किए जिसे देखकर वहां बैठे क्षेत्र वासियों की आंखें भी नम हो गई ।
इस कार्यक्रम में कई हजारों की संख्या में स्कुलों के बच्चे, महिलाएं एंव क्षेत्रवासी मौजूद रहे तथा कार्यक्रम में प्रशासन एवं छायाकार बंधुओं का भी काफी योगदान रहा । इस कार्यक्रम में मान्यवर जगदीश नायर विधायक होडल, नवीन गोयल पर्यावरण एवं वन संरक्षक हरियाणा , अमित वाल्मीकि उत्तर प्रदेश संगठन मंत्री, ईश्वर मित्तल प्रमुख गौ रक्षा सेवा दल, सरोज यादव प्रदेश उपाध्यक्ष महिला मोर्चा भाजपा हरियाणा, परमिंदर कटारिया पूर्व डिप्टी मेयर गुरुग्राम, कमल निंबल जिला प्रभारी चरखी दादरी भाजपा, विकास अरूवा प्रदेश सचिव, गगन गोयल, सुरेंद्र सिंह उज्जनीवाल जिला सचिव गुरुग्राम एस,सी मोर्चा भाजपा, बाली पंडित, ललित क्रांतिकारी अर्जुन मंडल युवा मोर्चा महामंत्री भाजपा, पारस बक्शी, प्रदीप सिकंदरपुर, राजेश वाल्मीकि, चंदन सिंह डीएसपी, टिंकू , उमेश मलिक, यशपाल,पहलवान गाजियाबाद पार्षद, संजीव चौधरी जिला मंत्री उत्तर प्रदेश, मोहित अग्रवाल एवं काफी संख्या में गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे ।

महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन की संस्थापक राजेश देवी प्रदेश,प्रदेश अध्यक्ष हरकेश बोहत, प्रदेश प्रभारी ताराचंद प्रजापत, प्रदेश प्रवक्ता अजय अटवाल, प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव भुजा, युवा प्रदेश अध्यक्ष अमित बोहत,गुरुग्राम जिला सचिव राहुल, मीडिया प्रभारी रतनलाल, संजय सौदा एवं महिला मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष पूनम, महासचिव सुनीता, सह सचिव सीमा, काउंसलर मेनका, कंचन, रजनी, पूजा, महेंद्र, सुंदर, विनोद, रामेश्वर, बलवीर, लक्ष्मण, नवल, किशोर, भूप सिंह, मुन्नीलाल, एवं अन्य संगठन के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता मौजूद रहे
05:36

NOIDA पंकज अवाना के सम्मान के स्वागत समाहरोह आयोजित

आम आदमी पार्टी ने उत्तर प्रदेश में सबसे पहले दो बार मे 170 प्रभारियों/प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है  गौतमबुद्ध नगर जिले की तीनों सीटो पर प्रत्याशियों की घोषणा हो चुकी है नोएडा विधानसभा में घोषित प्रत्याशी पंकज अवाना को नोएडा के अलग-अलग क्षेत्रो में लोग आमंत्रित कर स्वागत कर रहे है 

       आज सोमवार 11 अक्टूबर को सेक्टर 31 नोएडा में बाबूराम अम्बवता व आज़ाद सिंह अम्बवता के आवास पर और सोहरखा में नरेश शर्मा व प्रिंस शर्मा के आवास में  पंकज अवाना के सम्मान में स्वागत कार्यक्रम रखे गए ।यहाँ पर उपस्थित बुजर्गो ने पंकज अवाना को आशीर्वाद दिया और नौजवान साथियों ने पार्टी की सदस्यता लेकर पार्टी के साथ कार्य करने का प्रण किया जिलाध्यक्ष भूपेंद्र जादौन न पार्टी की टोपी भेंट कर साथियों को पार्टी में शामिल कराया।शामिल होने वालों वीरेंद्र अम्बावता,मुनेशअम्बावता
शशांक ,हर्ष शर्मा,दीपक अम्बावता,राजीव ,कृष्ण पंडित,विपिन, नितिन , रोहित आदि प्रमुख रहे।

 कार्यक्रम में मौजूद जिलाध्यक्ष भूपेंद्र जादौन ने उपस्थित लोगों को दिल्ली सरकार के कार्यो का उल्लेख करते हुए आम आदमी पार्टी की नीतियों से अवगत कराया।जिला महासचिव व पार्टी प्रवक्ता संजीव निगम ने कार्यक्रम का संचालन किया और बताया कि इस कार्यक्रम में संगठन से जिला सचिव हर्षित श्रीवास्तव, नोएडा विधानसभा अध्यक्ष नितिन प्रजापति , पूर्वांचल प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष शंकर चौधरी, जिला कार्यकारिणी सदस्यों में वीरेन चौधरी, जयकिशन जायसवाल,रंजीत कुमार इत्यादि मौजूद रहे।


05:28

ओमकार भाटी बने गौतम बुध नगर से व्यापार प्रकोष्ठ के जेवर अध्यक्ष


रामजी पांडे
दिनांक 11 अक्टूबर 2021 को आम आदमी पार्टी व्यापार प्रकोष्ठ ने गौतम बुध नगर की जेवर विधानसभा में आम आदमी पार्टी का कार्यालय उदघाटन किया। जिसके साथ ही व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष कुलदीप कुमार और गौतम बुध नगर के जिला प्रभारी जतिन शर्मा ने ओमकार भाटी को जेवर विधानसभा से अध्यक्ष व्यापार प्रकोष्ठ मनोनीत किया । प्रदेश उपाध्यक्ष कुलदीप कुमार ने बताया कि ओमकार भाटी की कार्यशैली और पार्टी के प्रति मेहनत को देखते हुए  व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष श्री मनीष वर्मा जी की स्वीकृति और निर्देश पर ओमकार भाटी को जेवर अध्यक्ष व्यापार प्रकोष्ठ घोषित किया गया । ओमकार भाटी ने व्यापार प्रकोष्ठ के पदाधिकारियों का धन्यवाद देते हुए कहा कि वे जेवर विधानसभा में जल्द ही एक मजबूत संगठन पार्टी के लिए बना कर देंगे । प्रदेश उपाध्यक्ष कुलदीप कुमार ने कहा की आगामी चुनाव के चलते हमें केजरीवाल मॉडल को गांव देहात की हर गली तक पहुंचाना है । जिला प्रभारी जतिन शर्मा ने कहा पार्टी की लोकप्रियता तेजी से बढ़ रही है और हमें इसे जन-जन तक पहुंचाना है ।
इस कार्यक्रम में प्रदेश उपाध्यक्ष व्यापार प्रकोष्ठ कुलदीप कुमार, प्रदेश सचिव व्यापार प्रकोष्ठ जतिन शर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष ओबीसी प्रकोष्ठ गुड्डू यादव, प्रदेश सचिव युवा मोर्चा तरुण तंवर, प्रदेश सचिव युवा मोर्चा अजय जी, जिला सचिव व्यापार प्रकोष्ठ तरवीन नागर, नोएडा विधानसभा अध्यक्ष एससी एसटी प्रकोष्ठ महेश पहलवान, जिला सचिव महिला प्रकोष्ठ लक्ष्मी देवी, सामाजिक कार्यकर्ता राजेश उपाध्याय, सामाजिक कार्यकर्ता धर्मवीर यादव, सामाजिक कार्यकर्ता एडवोकेट यतेंद्र नागर व दर्जनों कार्यकर्ता शामिल रहे

05:24

भारत-चीन के वरिष्ठ कमांडरों की 13वीं बैठक आयोजित

प्रविष्टि तिथि: 11 OCT 2021 

नई दिल्ली:भारत-चीन कोर कमांडर स्तर की 13वीं बैठक 10 अक्टूबर, 2021 को चुशुल-मोल्दो बॉर्डर मीटिंग पॉइंट पर आयोजित की गई। बैठक के दौरान दोनों पक्षों के बीच हुई चर्चा पूर्वी लद्दाख में एलएसी के साथ शेष मुद्दों के समाधान पर केंद्रित थी।  भारतीय पक्ष ने बताया कि एलएसी पर बनी स्थिति चीनी पक्ष द्वारा यथास्थिति को बदलने तथा द्विपक्षीय समझौतों के उल्लंघन के एकतरफा प्रयासों के कारण पैदा हुई थी।  इसलिए यह आवश्यक था कि चीनी पक्ष शेष क्षेत्रों में समुचित कदम उठाए ताकि पश्चिमी क्षेत्र में एलएसी पर शांति बहाल हो सके।  यह दोनों विदेश मंत्रियों द्वारा दुशांबे में अपनी हालिया बैठक में पेश मार्गदर्शन के अनुरूप भी होगा, जहां वे इस बात पर सहमत हुए थे कि दोनों पक्षों को शेष मुद्दों को जल्द से जल्द हल करना चाहिए।  भारतीय पक्ष ने इस बात पर जोर दिया कि शेष क्षेत्रों के ऐसे समाधान से द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति की भूमिका निर्मित होगी ।  बैठक के दौरान भारतीय पक्ष ने शेष क्षेत्रों को हल करने के लिए रचनात्मक सुझाव दिए लेकिन चीनी पक्ष सहमत नहीं हुआ और साथ ही कोई दूरंदेशी प्रस्ताव भी नहीं दे सका।  इस प्रकार बैठक में शेष क्षेत्रों का समाधान नहीं हुआ।

दोनों पक्ष संवाद बनाए रखने और जमीनी स्तर पर स्थायित्व बनाए रखने पर सहमत हुए हैं।  हमें उम्मीद है कि चीनी पक्ष द्विपक्षीय संबंधों के समग्र परिप्रेक्ष्य को ध्यान में रखेगा और द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन करते हुए शेष मुद्दों के शीघ्र समाधान की दिशा में काम करेगा।

05:17

पूर्वोत्तर क्षेत्रों में अधिक आवागमन वाले रेलवे नेटवर्क के विद्युतीकरण पर दिया जाएगा अधिक जोर

प्रविष्टि तिथि: 11 OCT 2021 

नई दिल्ली:भारतीय रेल ने 2023-24 तक अपने संपूर्ण ब्रॉड गेज नेटवर्क के विद्युतीकरण की एक महत्वाकांक्षी योजना शुरू की है, जिसके परिणामस्वरूप न केवल बेहतर ईंधन ऊर्जा के इस्‍तेमाल से थ्रूपुट में वृद्धि होगी, ईंधन व्यय में कमी आएगी, बल्कि कीमती विदेशी मुद्रा की भी बचत होगी।

इसी कड़ी में, पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) ने कटिहार से गुवाहाटी तक अधिक आवागमन वाले नेटवर्क (एचडीएन) के कुल 649 रूट किलोमीटर (आरकेएम)/1294 टन किलोमीटर (टीकेएम) के विद्युतीकरण कार्य को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है। इस बड़ी उपलब्धि से अब देश के सभी प्रमुख शहर निर्बाध इलेक्ट्रिक ट्रैक्शन पर गुवाहाटी से जुड़ जायेंगे। हरित परिवहन द्वारा राजधानी से जोड़ने के लिए यह पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे का एक अन्‍य प्रयास है।

रेलवे सुरक्षा आयोग (सीआरएस) एनएफ सर्कल द्वारा 7 अक्टूबर से 9 अक्टूबर, 2021 तक उत्‍तरी सीमांत रेलवे पर 107 आरकेएम/273 टीकेएम के एचडीएन के अंतिम चरण का सफलतापूर्वक निरीक्षण किया गया था। इसके अलावा, तीव्र गति वाली यात्री रेलगाडि़यों और भारी मालगाड़ियों का परिचालन भी किया जा सकेगा।

एचएसडी ऑयल पर खर्च किए गए विदेशी मुद्रा भंडार को बचाने और पूर्वोत्‍तर क्षेत्र में हरित परिवहन कायम करने के अलावा, गुवाहाटी तक रेलवे विद्युतीकरण से एचएसडी ऑयल पर प्रतिवर्ष लगभग 300 करोड़ रुपये के व्‍यय के स्‍थान पर विदेशी मुद्रा की बचत होगी। एचएसडी तेल की खपत प्रतिमाह लगभग 3,400 केएल कम हो जाएगी। निर्बाध ट्रेन संचालन के कारण, न्यू जलपाईगुड़ी, न्यू कूचबिहार में ट्रैक्‍शन परिवर्तन अब समाप्त हो जाएगा, जिससे ट्रेनों की गति में वृद्धि होगी। गुवाहाटी से कटिहार/मालदा टाउन के बीच चलने का समय 2 घंटे तक कम होने की संभावना है, क्योंकि बेहतर त्वरण/मंदी के कारण ट्रेनें अब अधिक गति से चल सकती हैं। लाइन क्षमता में 10-15 प्रतिशत तक की वृद्धि से उत्‍तरी सीमांत रेलवे के कई खंडों पर सेचुरेशन के स्तर में कमी आएगी, जिससे अधिक कोचिंग ट्रेनें चल सकेंगी।

विद्युतीकरण से भारी मालगाड़ियों को तेज गति से चलाया जा सकता है। उत्‍तर सीमांत रेलवे में बड़ी संख्या में श्रेणीबद्ध खंड, वक्र, पुलों के साथ दुर्गम भू-भाग है। इलेक्ट्रिक ट्रैक्शन मल्टी डीजल इंजनों की आवश्यकता को समाप्त कर देगा, क्योंकि उच्च एचपी इलेक्ट्रिक इंजन ग्रेडिएंट सेक्शन में उच्च गति बनाए रख सकते हैं। मणिपुर, मिजोरम, मेघालय, नगालैंड और सिक्किम जैसे पूर्वोत्तर राज्यों के लिए अब अतिरिक्त राजधानी एक्सप्रेस रेलगाडियां चलाई जा सकती हैं।

इस खंड के विद्युतीकरण से परिचालन क्षमता में सुधार होगा और पावर कारों के लिए ईंधन की काफी बचत होगी (विद्युतीकृत मार्ग पर ही लगभग 10 करोड़ रुपये)। केवाईक्यू/जीएचवाई से शुरू होने वाली/समाप्त होने वाली मौजूदा रेलगाडि़यों के 15 जोड़े एक पावर कार को हटाकर एक अतिरिक्त यात्री कोच के साथ चल सकते हैं, इस प्रकार यात्री थ्रूपुट में सुधार होगा। विद्युतीकरण से बेहतर रखरखाव होगा, क्योंकि तीव्र रेलगाडियों के कारण रखरखाव ब्लॉकों के लिए अधिक समय मिलेगा।