Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Showing posts with label उझानी. Show all posts
Showing posts with label उझानी. Show all posts

Sunday, 5 July 2020

10:04

मेरे राम सेवा आश्रम में 1 कुंडीय यज्ञ का हुआ आयोजन

                                                                 उझानी:  मेरे राम सेवा आश्रम में 1 कुंडीय यज्ञ हुआ। आत्मीय परिजनों ने लोक कल्याणार्थ गायत्री मंत्र की विशेष आहुतियां यज्ञ भगवान को समर्पित की। यज्ञाचार्य  संत रवि महाराज ने वेद मंत्रोच्चारण कर यज्ञ संपन्न कराया। उन्होंने कहा कि अपने संकल्पों को पूरा करने और जीवन का सार्थक बनाने के लिए गुरु के आदेशों को माने। गुरु ही जीवन को उत्कृष्ट और महान बनाता है। इस मौके पर अशोक सक्सेना, महावीर राघव, विष्णु गुप्ता, सत्येंद्र चौहान, मोहित प्रभाकर, गौरव माहेश्वरी, कालीचरण, राहुल सागर, देवेश गुलाटी, राहुल अग्रवाल आदि मौजूद रहे।

Thursday, 23 January 2020

19:05

बदायूँ के उजानी में अखिल भारतीय गायत्री परिवार ने मनाया सुभाष चंद्र बोस की 124वीं जयंती



उझानी: अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्त्वावधान में मुहल्ला श्रीनारायणगंज स्थित प्रखर बाल संस्कारशाला के कैंप कार्यालय पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 124वीं जयंती पर शिक्षक शिक्षिकाओं ने सुभाष चंद्र बोस के चित्र पर पुष्पार्चना किया। मेधावी बच्चों को सम्मानित किया गया।
गायत्री परिवार के संजीव कुमार शर्मा ने कहा कि नेताजी देश की स्वाधीनता के सजग सिपाही थे। अंग्रेजों से लोहा लेने के लिए आजाद हिन्द फौज बनाई। मातृभूमि की रक्षा के लिए देश के युवाओं में नई ऊर्जा भरी। नेताजी ने जयहिन्द और तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा का नारा देकर युवाओं में अभूूतपूर्व उत्साह जगाया और नई ऊर्जा का संचार किया।
मृत्युंजय शर्मा ने कहा कि युवा राष्ट्र की महाशक्ति हैं। बुलंदी का मार्ग प्रशस्त करने के लिए युवा देशसेवा के समर्पित रहें।
मेधावी बच्चों को युग ऋषि वेदमूर्ति तपोनिष्ठ पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य का सद्साहित्य देकर सम्मानित किया। इस मौके पर नितिन, सूरज, केशव, सौम्या, दीप्ति, हेमंत, भूमि, राधिका आदि मौजूद रहीं।

इधर श्रीओम प्रकाश शर्मा इंटर काॅलेज अब्दुल्लागंज में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 124वीं जयंती पर शिक्षक-शिक्षकाओं ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के चित्र पर पुष्पार्चन किया। बच्चों ने देशभक्तों, क्रांतिकारियों और महापुरूषों का शानदार अभिनय किए।
प्रधानाचार्य आरपी सिंह ने कहा कि देश पर आने वाले संकट और चुनौतियों में नेताजी का महान व्यक्तित्व युवाओं का पथ प्रदर्शक बना और उन्हें दिशाबोध कराया।
शिक्षक अजब सिंह यादव ने कहा कि नेता जी नेे युग शिल्पी, कुशल योद्धा, विचारक और लेखक के रूप में राष्ट्र का मार्गदर्शन किया।
शिक्षिका पूजा साहू, नीलोफर और निधि शर्मा के नेतृत्व में बच्चों ने देशभक्ति गीत, लोकगीत, भजनों की शानदार प्रस्तुति दी। सर्वश्रेष्ठ स्थान पाने वाले बच्चों को शिक्षक मनोज कुमार, रवीश शर्मा, सुरेश पाल सिंह और शिक्षिका सुमन सक्सेना ने सम्मानित किया।
इस मौके पर दीपिका यादव, स्नेहा सिंह, विदुषी, पूर्णिमा सक्सेना, शिवानी पाल, रेनू शर्मा, रवीश शर्मा, रामस्नेही, रश्मि यादव, अश्मि उपाध्याय, नेम प्रकाश, सीमा गुप्ता, विपिन मिश्रा, कुशलकांत आदि मौजूद रहे।

Wednesday, 15 January 2020

17:06

प्रभु श्रीराम ने समाज को संगठित कर, मर्यादित जीवन की विचारधारा के सूत्र में बांधा: रवि



उझानी: नगर के समीमवर्ती गांव तेहरा स्थित शिव मंदिर प्रांगण में मेरे राम कथा समिति की ओर से चल रही सेवा और संस्कारों को समर्पित नौ दिवसीय श्रीराम कथा के पांचवें दिन श्रीराम का राज्याभिषेक, राम-दशरथ संवाद, राम-कौसल्या संवाद, केकई के वचन, श्रीराम का वनवास आदि प्रसंगों का श्रवण कराया गया। श्रद्धालुओं ने भगवान श्रीराम का पूजन कर भव्य आरती की।
कथावाचक महाराज रवि समदर्शी ने कहा प्रभु श्रीराम के राज्याभिषेक की तैयारी में अयाध्योध्या नगरी आनंदमय थी। माता केकई ने राजा दशरथ से मांगे वचनों से श्रीराम को लोककल्याण के कत्र्तव्यों का बोध कराया। भगवान श्रीराम ने चैदह वर्ष का वनवास सहर्ष स्वीकार कर वन गए। प्रभु श्रीराम ने राक्षसों का वध कर समाज को संगठित कर धर्म के मार्ग पर चलाया। मर्यादित जीवन की विचारधारा के सूत्र में बांधा। जंगलों, पहाड़ों और गुफाओं में रहकर सुव्यवस्थित जीवन जीने की कलाओं को सिखाया। मारीच, खर, दूषण और रावण का वध कर बुराईयों का अंत किया। अत्याचारों, मुश्किलों चुनौतियों का सामना करने का अदम्य साहस भी भरा। उन्होंने कहा कि बहुमूल्य जीवन के लिए माता पिता की आज्ञा मानें। गुरुजनों से श्रेष्ठ संस्कार अर्जित कर सभ्य समाज का निर्माण करें।
इस मौके पर रामफल सिंह, जयसिंह, ओमकार सिंह, राय सिंह, अनार सिंह, बलवीर, रामदत्त, श्याम बहादुर, रामखेत, रामवीर, शिवनारायण, सुरेश, जबर सिंह, शिशुपाल, राजेश्वर, ओमप्रकाश शर्मा, सुधीर कुमार, पुष्पेंद्र यादव, रीना, गजेंद्र पंत, हरीओम पोषाकी सिंह, रामरहीस, दुर्गपाल सिंह, डाॅ. अशोक प्रजापति, विचित्र सक्सेना, राहुल, वेदपाल सिंह आदि मौजूद रहे।


 गोविंद राणा बदायूं

Friday, 20 December 2019

03:57

किशनगढ़ में ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कार्यालय समग्र शिक्षा अभियान के तहत गैर आवासीय आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविर संपन्न



किशनगढ़।मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कार्यालय समग्र शिक्षा अभियान किशनगढ़ के तत्वावधान में 10 दिवसीय गैर आवासीय आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविर  सुरसुरा स्थित जाट विश्राम स्थली में आयोजित किया जा रहा है। गुरुवार को शिविर का मुख्य ब्लाक शिक्षा अधिकारी राजेंद्र कुमार शर्मा  द्वारा अवलोकन किया गया। प्रशिक्षण के षष्ठम दिवस दक्ष प्रशिक्षकों द्वारा संभागीयों को आत्मरक्षा के विविध गुर सिखाए गए। कार्यक्रम प्रभारी एवं संदर्भ व्यक्ति प्रेमचंद शर्मा ने बताया कि 10 दिवसीय गैर आवासीय आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविर में कुल 143 संभागी भाग ले रहे हैं। जिनमें मुख्य रूप से महिला पीटीआई के साथ-साथ पुरुष पीटीआई के अतिरिक्त अन्य शिक्षक शिक्षिकाएं भी शामिल है।आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविर में गुरुवार को प्रमुख रूप से पतंजलि योगपीठ से प्रशिक्षित योगाचार्य कानाराम जाट( वरिष्ठ अध्यापक राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय त्योद ) ने समस्त संभागीय को योगासन- प्राणायाम का प्रशिक्षण प्रदान किया। दक्ष - प्रशिक्षकों द्वारा गुरुवार को संभागीयों को सेल्फ डिफेंस के अंतर्गत ब्लॉक विषय के तहत लोअर, इनकट,आउटर, लोअर एक्स, अपर एक्स , तथा हेड मूवमेंट्स के तहत लेफ्ट ,मिडिल पंच, कट, पीकॉक, एल्बो, टाइगर आदि का भी अभ्यास करवाया गया ।जबकि सह प्रभारी श्योजी राम जाट ने उपस्थित संभागीयों को आत्मरक्षा प्रशिक्षण के उद्देश्यों एवं लाभ के बारे में जानकारी दी । शिविर में पूर्व दिवस के प्रशिक्षण  का अभ्यास सहित  व्यायाम और योगा भी सिखाए गए। गौरतलब है कि आत्मरक्षा प्रशिक्षण इस बार मुख्य रूप से मुख्यमंत्री बजट घोषणा में शामिल किया गया है। राज्य के समस्त प्राथमिक, उच्च प्राथमिक, माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालय की कक्षा 6 से 12 की बालिकाओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाने हेतु आत्मरक्षा के गुर सिखाने हेतु प्रशिक्षणों का आयोजन राज्य भर में किया जा रहा है। आत्मरक्षा प्रशिक्षण  का मुख्य उद्देश्य  बालिकाओं में आत्मविश्वास पैदा करना है। ताकि वह आने वाले खतरों से स्वयं की और अपने परिवार की  रक्षा कर सकें। प्रशिक्षण में दक्ष प्रशिक्षक के रूप में भावना कंवर, अर्चना मीणा, करुणा मीणा, मीनाक्षी वर्मा एवं अंजू बलौदा द्वारा 143 संभागीयों को सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग दी जा रही हैं। जिसका मूल उद्देश्य आगे चलकर स्वयं के स्कूलों में बालिकाओं को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण प्रदान करना है। इस अवसर पर कार्यक्रम सहयोगी , ईश्वरलाल मालाकार,सिया राम चौधरी, सुरेश कुमार वैष्णव तथा आलोक शर्मा आदि भी उपस्थित थे।

Wednesday, 23 October 2019

15:54

उझानी के अब्दुल्लागंज ओम प्रकाश शर्मा इंटर कॉलेज में दीपोत्सव कार्यक्रम आयोजित

 श्री ओम प्रकाश शर्मा इंटर कालेज अब्दुल्लागंज में दीपोत्सव पर बच्चों और शिक्षकों ने सैकड़ों की संख्या में दीप प्रज्ज्वलित किए। दीपकों की झिलमिलाती रोशनी आकर्षण का केंद्र रही। दीप सजाओं में भारती और प्रिया ने सर्वश्रेष्ठ स्थान पाया।
मुख्य अतिथि प्रबंधक धर्मेंद्र कुमार शर्मा ने मुख्य दीप प्रज्ज्वलित किया। उन्होंने कहा कि ज्ञान के प्रकाश से ही व्यक्ति अपने जीवन को प्रकाशित कर सकता है।
प्रधानाचार्य राजेंद्र पाल सिंह ने कहा कि उत्कृष्ट और महान बनने के लिए श्रेष्ठ संस्कारों को आत्मसात करें। जीवन को बहुमूल्य बनाएं।
गायत्री परिवार के संजीव कुमार शर्मा ने कहा कि युवा अपना दृष्टिकोण बदलें। विचारक्रांति से प्रत्येक व्यक्ति में सद्चिंतन और सद्भाव जगाएं।
शिक्षिका पूजा साहू के नेतृत्व में दीप सजाओं प्रतियोगिता हुई। सीनियर में भारती कुमारी और जूनियर में प्रिया शर्मा सर्वश्रेष्ठ स्थान पर रहीं। तनिष्का द्वितीय, प्रियंका तृतीय और आदित्य सिंह चैहान, शिवम कुमार सिंह, सलौनी, वंश, नेहा को सांत्वना पुरस्कार से नवाजा गया। शिक्षिका सुमन सक्सेना, पूर्णिमा सक्सेना, विदुषी, सुरभि उपाध्याय, रेनू शर्मा, निधि शर्मा, नीलोफर निर्णायक रहीं।
इस मौके पर अजब सिंह यादव, कुशलकांत, सुरेश पाल सिंह, रवीश शर्मा, दुर्गेश राठौर, रश्मि यादव, नेम प्रकाश, संदीप कुमार, अश्मि उपाध्याय, शिवानी पाल, अमन कपूर, स्नेहा सिंह, सीमा गुप्ता आदि मौजूद रहीं।

Wednesday, 16 October 2019

17:14

उझानी में 108 कुंडीय गायत्री महायज्ञ में लोक मंगल की कामना हेतु आहुतियां देते श्रद्धालु



उझानी: अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के मार्गदर्शन में 108 कुंडीय गायत्री महायज्ञ एवं प्रज्ञा पुराण कथा का चैथे दिन यज्ञ की पूर्णाहुति के साथ यज्ञ का समापन हो गया। ग्रामीणों ने दक्षिणा में अपनी बुराई दी। मातृशक्ति और देवकन्याओं ने दीप प्रज्ज्वलित किए। पुंसवन, विद्यारंभ, यज्ञोपवीत और दीक्षा संस्कार हुए। ‘‘ गौ, गंगा, गायत्री, गीता यह भारत की शान पुनीता ‘‘ के जयघोष ग्रामीण नगरी गुंजायमान रही।
शांतिकुंज हरिद्वार से आए टोली नायक शशिकांत सिंह ने कहा कि गुरु के जीवन भर का संपूर्ण तप और शक्ति शिष्य के उत्कर्ष के लिए होती है, संमार्ग दिखाती है। मनुष्यता पाने के लिए श्रेष्ठ ज्ञान अर्जित कर संस्कारवान बनें, सुविचारों से आध्यात्मिक प्रखरता लाएं। श्रेष्ठ कार्यों से मनुष्य का जीवन बहुमूल्य बनता है। बच्चों को अच्छे संस्कार देकर उदात्त और महान बनाएं। मानव जीवन को उपयोगी और उत्कृष्ट बनाने वाले आध्यात्मिक उपचार का नाम ही संस्कार है। उन्होंने कहा प्रज्ञा पुराण का मूल उद्देश्य मानव में देवत्व और धरती पर स्वर्ग का अवतरण है। प्रज्ञा पुराण व्यक्ति के दूषित चिंतन और भ्रष्ट आचरण को सुधारने वाली औषधि है। इसके सेवन से अनाचार, अत्याचार, भ्रष्टाचार और व्यभिचार से मानव मात्र को मुक्ति मिलेगी और धरती पर सतयुग आगमन होगा।
सहायक टोली नायक बसंती लाल सोलंकी ने कहा गृहस्थ एक तपोवन है। चार आश्रमों से श्रेष्ठतम है। जिसमें ब्रह्मचर्य, गृहस्थ, वानप्रस्थ और संयास है। गृहस्थ आश्रम में विवाह बंधन सर्वोत्तम बंधन है। पति पत्नी दो शरीर एक आत्मा बनकर रहते हैं। प्रदर्शन, दहेज प्रथा, कन्या भ्रूण हत्या जैसे कलंक ने समाज को दूषित कर दिया है। अगर हम समय पर नहीं चेते तो हमारी संस्कृति और मानव जाति का अस्तित्व ही खतरे में पड़ जाएगा। जीवन जीने की कला और सामाजिक दायित्व के निर्वहन की विधि परिवार की प्रयोगशाला में ही सीखी जा सकती है। बच्चों को संस्कार, अतिथियों का सत्कार और वृद्धों की सेवा करने की मूल भावना परिवार से मिलती है।
शांतिकंुज के स्वेन कुमार, चिंताराम नाग और दिनेश पाल ने ‘‘ मनुज देवता बनें, बनें यह धरती स्वर्ग समान ‘‘ प्रज्ञागीत का श्रवण कराया। यज्ञ में पुंसवन, अन्न प्रासन, नामकरण, विद्यारंभ, दीक्षा और जन्मदिवस और विवाह दिवस संस्कार भी हुए।
नशा उन्मूलन, गौ संवर्धन, दहेज प्रथा, कन्या भ्रूण हत्या, मृतक भोज आदि के प्रति जागरूकता का संदेश दिया गया। युवाओं नेे पर्यावरण संरक्षण और कभी नशा न करने का संकल्प लिया। वहीं ग्रामीणों ने भी अपने बेटे-बेटियों की शादी में दहेज न लेने और देने का संकल्प लिया।
समाजसेवी प्रदीप गोयल ने देव पूजन, धीरेंद्र सोलंकी, भुवनेश शर्मा ने गुरू पूजन और डाॅ. वीपी शर्मा और प्रदीप गुप्ता ने मातृ पूजन किया। आर्येंद्र यादव और ध्रुव यादव ने सपत्नीक मां गायत्री की आरती की।
लोककल्याणार्थ ग्रामीणों और दूर दराज से आए साधु-संतों ने यज्ञ भगवान को गायत्री मंत्र और महामृत्युंजय मंत्र की विशेष आहुतियां समर्पित कीं। यज्ञभगवान की परिक्रमा की। जेपी सिंह ने नियमित योगाभ्यास कराया।
इस मौके पर बी ज्ञानेंद्र, रामभरोसे लाल माहेश्वरी, सुखपाल शर्मा, नरेंद्रपाल शर्मा, भगवान सिंह, वीरेंद्र, रघुनाथ सिंह, मनोज शर्मा, कपिल, उपदेश, चंद्रपाल, अजय, जयसिंह यादव, चैयरमैन दीपमाला गोयल, डीपी सिंह, सुरेंद्र पाल सिसौदिया, सुरेंद्रनाथ शर्मा, नत्थूलाल शर्मा, कालीचरन, सृष्टि, दीप्ति, बालक राम, नरेंद्र सिंह, शैलेश चैहान, धर्मेंद्र यादव, राहुल यादव विवेक, अनमोल आदि मौजूद रहे।