Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Showing posts with label भोपाल. Show all posts
Showing posts with label भोपाल. Show all posts

Friday, 25 September 2020

08:21

भोपाल में कोरोना का दर्द:मां का शव लेकर बेटी भटकती रही deepak tiwari

भोपाल.भोपाल के जयप्रकाश अस्पताल (जेपी 1250) में कोरोना संक्रमित एक महिला की मौत के बाद उनकी बेटी ने अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही के गंभीर आरोप लगाए हैं। उसका कहना है कि अपने चाचा के साथ वह मां का शव लेकर भटकती रही। पहले तो इलाज में देरी की गई। ऑक्सीजन सप्लाई सही से नहीं हुई। वह अस्पताल-अस्पताल कलेक्टर और मंत्री के दरवाजे तक खटखटा आई, लेकिन मदद नहीं मिली। मौत के बाद भी उसकी मां को सुकून नहीं मिला और उन्हें यूं ही छोड़ दिया गया। परिजनों ने ही रात में शव को मोर्चरी में रखा। अस्पताल प्रबंधन ने कोई जवाब नहीं दिया।
कोलार निवासी प्रियंका ने बताया कि 43 साल की मां संतोष भोपाल कोऑपरेटिव सेंट्रल बैंक कोटरा सुल्तानाबाद ब्रांच में कार्यरत थीं। पिता की 8 साल पहले मौत के बाद मां को अनुकंपा नियुक्ति मिली थी। वह 14 सितंबर को कोरोना पॉजिटिव हुई थीं। दो प्राइवेट अस्पतालों में उनसे 50-50 हजार महज 18 घंटे के अंदर ले लिए गए, लेकिन इलाज अच्छे से नहीं किया गया। मजबूर होकर मैं अपनी मां को एंबुलेंस में बिठाकर करीब 13 घंटे तक शहर में इधर से उधर घूमती रही, लेकिन कहीं भी उनकी मां को भर्ती नहीं किया गया।
उन्होंने कलेक्टर से गुहार लगाई, तब जाकर जेपी अस्पताल में मां को भर्ती किया गया, लेकिन भर्ती करने के अलावा उनका किसी तरह का इलाज नहीं किया गया। मैं दिन भर अस्पताल के बाहर रहती थी। जरूरत पड़ने पर आईसीयू में जाकर मां की मदद करती थी। खाना-पीना भी उनकी तरफ से ही दिया जाता था। प्रियंका ने आरोप लगाया कि गुरुवार रात मां की मौत हो गई उसके बाद डॉक्टरों ने कहा कि अब तुम शव को ले जाओ। उन्होंने ना तो मां को पीपीई किट पहनाई और ना ही वार्डबॉय तक दिया। रात को वह अपने चाचा के साथ मां को आईसीयू बेड पर लेकर स्ट्रेचर तक लाए।
खुद ही परिजन बेड के साथ ही संतोष के शव को मोर्चरी में रखा।
स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग से भी मिली
प्रियंका ने बताया कि इलाज में लापरवाही को देखते हुए वह मंत्री विश्वास सारंग से भी मिलने गई थी। उन्होंने आश्वासन दिया था कि वह दिखाते हैं, लेकिन उसके बाद भी कुछ नहीं हुआ। मां को काफी तकलीफ होती रही थी। शाम 4:00 बजे मां से मिली थीं। उस दौरान वे ठीक लग रही थीं। उन्होंने बताया कि बीच-बीच में ऑक्सीजन नहीं मिलती है। प्रियंका ने आरोप लगाया कि अस्पताल प्रबंधन उनसे ही ऑक्सीजन के सिलेंडर भी यहां से वहां रखवाया गया।
मदद नहीं मिलने के कारण परिजनों को बेड को ही बाहर ले जाना पड़ा।
मदद नहीं मिलने के कारण परिजनों को बेड को ही बाहर ले जाना पड़ा।
अस्पताल प्रबंधन का जवाब नहीं आया
इस संबंध में जेपी के सिविल सर्जन आरके तिवारी से संपर्क किया, लेकिन उन्होंने न तो फोन रिसीव किया और नह एमएमएस का जवाब दिया।
भोपाल में आज 297 कोरोना केस
शुक्रवार को राजधानी में 297 कोरोना के नए मरीज मिले। इसके बाद भोपाल में कोरोना केस की संख्या 17486 केस हो गए हैं। अब तक 389 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। चार इमली से 2, इब्राहिमगंज से एक, जहांगीराबाद में 1, बैरागढ़ थाने से 1, ईएमई सेंटर से 8, 25वीं बटालियन से 7 मरीज संक्रमित मिले।

Thursday, 24 September 2020

16:45

भोपाल में लॉकडाउन पर कलेक्टर ने कहा अभी लॉकडाउन पर कोई विचार नहीं अफवाहों पर न दे ध्यान

tap news india deepak tiwari 
भोपाल.भोपाल में लगातार बढ़ रहे कोरोना केस के कारण लोगों में एक बार फिर लॉकडाउन को लेकर अफवाहों का दौर चलने लगा है। ऐसे में गुरुवार सुबह भोपाल कलेक्टर ने एक बयान जारी कर साफ कर दिया कि किसी तरह का कोई लॉकडाउन नहीं लगाया जा रहा है। आम लोग अफवाहों पर ध्यान न दें। रेस्टोरेंट और मेडिकल स्टोर को छोड़कर बाकी दुकानें 8 बजे के बाद बंद हो जाएंगी। प्रशासन ने सारे नियम और गाइडलाइन तय कर दी है।उन्हीं के अनुसार हमें चलना है। प्रशासन का ध्यान अभी सोशल डिस्टेंसिंग और उसके पालन कराने को लेकर है।कलेक्टर का कहना था कि लोग घर से निकलते समय मास्क का उपयोग करें। किसी से भी बात करते या मिलते समय निश्चित दूरी जरूर रखें। इसके अलावा सुबह घर से निकलने से लेकर रात तक घर पहुंचने तक और स्कूल के लिए भी गाइडलाइन तय है।
इसके अनुसार चलना है...
आम गाइडलाइन
सभी लोगों को घर के बाहर मास्क लगाना अनिवार्य है। साथ में सैनिटाइजर की व्यवस्था भी वह अपने साथ लेकर चलें।
किसी से भी मिलते या बात करते समय एक निश्चित दूरी बनाकर रखें।
भीड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। बिना किसी कारण के घूमने-फिरने से बचें।
रात 10:30 बजे के बाद सिर्फ जरूरत पड़ने पर और मेडिकल संबंधी समस्या होने पर ही घर से निकल सकते हैं।
बिना किसी कारण घर से निकलने वालों पर शासन द्वारा कार्रवाई की जाएगी।
आम लोगों के लिए घर के बाहर मास्क लगाना अनिवार्य है।
कारोबार के लिए गाइडलाइन
भोपाल में अभी सिर्फ सिनेमा हॉल, स्विमिंग पूल, एंटरटेनमेंट पार्क और थिएटर बंद रखे गए हैं।
धार्मिक स्थालों पर 5 से ज्यादा लोग जमा नहीं हो सकते।
खाने-पीने और मेडिकल सेवाओं को छोड़कर सब-कुछ रात 8 बजे बंद होगा।
रेस्टोरेंट में भी खाने-पीने से मतलब उनके पास बैठने की पर्याप्त व्यवस्था रहनी चाहिए।
व्यापारियों को दुकान के सामने 1 गज की दूरी पर रस्सी बांधना जरूरी।
इससे ग्राहक और व्यापारी का सीधा संपर्क ना रह सके।
दुकान पर अतिरिक्त मास्क रखना अनिवार्य है और साथ ही सैनिटाइजर की व्यवस्था भी करना व्यापारी की जिम्मेदारी है।
कोई भी व्यापारी सामान को दुकान के बाहर डिस्प्ले नहीं कर सकता है।
दुकान पर ना तो भीड़ लगाई जा सकती है और ना ही बिना मास्क किसी को सामान दिया जाएगा।
नियम तोड़ने पर अर्थ दंड लगाने के साथ ही सजा और आपराधिक मामला भी दर्ज किया जाएगा।
सार्वजनिक और धार्मिक कार्यक्रम
सभी तरह के सार्वजनिक कार्यक्रम जैसे धार्मिक, सामाजिक और निजी के लिए दिशानिर्देश जारी किए गए हैं।
इन कार्यक्रमों में लोगों की संख्या से लेकर जगह तक तय है।
किसी भी सामाजिक, धार्मिक व निजी कार्यक्रम को आयोजित करने के लिए अनुमति लेना आवश्यक है।
इसमें 100 से अधिक लोग शामिल नहीं हो सकते हैं। साथ ही लोगों की संख्या के अनुसार ही जगह होनी जरूरी है।
सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना आयोजक की जिम्मेदारी है।
धार्मिक कार्यक्रमों के आयोजन में प्रतिमाओं की ऊंचाई 6 फीट से ज्यादा नहीं हो सकती है।
पंडाल आदि भी 10 बाई 10 की जगह में ही लग सकते हैं।
सार्वजनिक तौर पर इन में किसी तरह का कोई कार्यक्रम नहीं होगा। लाउडस्पीकर नहीं बजाए जा सकते हैं।
सभी तरह के चल समारोह पर भी रोक है।
धार्मिक स्थलों में एक बार में 5 व्यक्ति ही हो सकते हैं। सैनिटाइजर और मास्क की व्यवस्था भी करना अनिनवार्य।
सोमवार से स्कूलों में शिक्षा विभाग द्वारा जारी निर्देश के बाद स्कूल आने दिया जा रहा है।
सोमवार से स्कूलों में शिक्षा विभाग द्वारा जारी निर्देश के बाद स्कूल आने दिया जा रहा है।
स्कूलों-कॉलेज के लिए गाइडलाइन
स्कूल खोले गए हैं, लेकिन सिर्फ डाउट क्लियर करने के लिए ही छात्र आ सकते हैं।
स्कूल में शिक्षक और कर्मचारियों की संख्या भी 50% तय की गई है।
ऑनलाइन क्लास के दौरान अगर किसी छात्र को कोई डाउट होता है तो वह संबंधित टीचर से इसकी जानकारी देकर स्कूल आने का समय तय करेगा।
स्कूल प्रिंसिपल और टीचर मिलकर एक निर्धारित समय पर छात्र को पालक की अनुमति से आने का समय देंगे।
स्कूल में छात्र का पहले शरीर का तापमान की जांच की जाएगी।
उसके कपड़ों से लेकर जूते और कॉपी किताब तक को सैनिटाइज करने की प्रक्रिया होगी।
उसे क्लास में निर्धारित स्थान पर बैठाया जाएगा। सोशल डिस्टेंसिंग के कारण एक सीट छोड़कर छात्रों को बैठने की व्यवस्था की जाएगी
क्लास में ना तो छात्र तेज बोल सकते हैं और ना ही चिल्ला सकते हैं।
मास्क लगाए रहना जरूरी है।
खुद की व्यवस्था करके छात्र को स्कूल पहुंचना होगा।
स्कूल परिसर में केवल छात्र को ही प्रवेश की अनुमति रहेगी।
कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान बंद रहेंगे
कॉलेज सिर्फ एडमिशन प्रक्रिया के लिए खोले गए हैं। इसमें अभी क्लास नहीं लगाई जा रही हैं। इसी तरह कोचिंग और अन्य शैक्षणिक संस्थान पूरी तरह बंद हैं।
नोट : यह निर्देश आगामी आदेश तक प्रभावी रहेंगे। अगर इनमें किसी तरह का कोई बदलाव किया जाता है, तो शासन द्वारा पहले इसकी जानकारी दी जाएगी। उसके बाद ही अगले निर्देशों का लागू किया जाएगा।

Wednesday, 23 September 2020

11:51

भोपाल में बारिश का दौर जारी पांच बार खोलने पड़े डेम के गेट :tap news india deepak

भोपाल.मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में 20 घंटे से रुक-रुक कर बारिश हो रही है। इससे भदभदा डैम और कलियासोत डैम के गेट खोलने पड़े। राजधानी में अब तक 29.4 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई है। बारिश का दौर मंगलवार शाम 7 बजे के बाद से शुरू हुआ था जो बुधवार सुबह से ही जारी है। कभी बारिश रुक जाती है और कभी चालू हो जाती है। आज दिन दो बार पानी गिर चुका है।
चूंकि कलियासोत और भदभदा डैम के कैचमेंट एरिया में ठीक-ठाक पानी गिरा है, जिससे भदभदा का एक गेट और कलियासोत डैम का एक और आधा गेट खोला गया है। हालांकि पानी बढ़ा तो देर शाम तक कलियासोत के दो गेट खोले जा सकते हैं।
कलियासोत डैम के डेढ़ गेट खोले गए हैं, जिससे पानी कम किया जा रहा है। डैम के गेट खोलने से पहले कोलार के निचले इलाके में मुनादी कराई गई है, जिससे लोग सावधान हो जाएं।
सितंबर में पांचवीं बार खुले कलियासोत और भदभदा के गेट
कोलार फायर स्टेशन प्रभारी पंकज खरे ने बताया कि सितंबर में बारिश की वजह से बुधवार को पांचवीं बार कलियासोत और भदभदा डैम के पांचवीं बार गेट खोलने पड़े हैं। सबसे पहले एक सितंबर, फिर दो सितंबर, 11 और 14 सितंबर के बाद आज यानि 23 सितंबर को दोनों डैम के गेट खोले गए हैं।
दोपहर 3 बजे दोनों डैम के गेट खोले गए। उसके पहले कोलार क्षेत्र के निचले इलाकों में बसी कॉलोनियों में मुनादी करके इसकी सूचना दी गई। डैम का गेट खुलने वाला है, लोगों को मछली मारने और डैम के इलाके में जाने से रोका गया है। अपने घरों में ही रहने की हिदायत दी गई है।
मौसम विभाग ने शहडोल संभाग के जिलों समेत बालाघाट, विदिशा और रायसेन में मूसलाधार पानी गिरने का ऑरेंज अलर्ट किया है। सागर, होशंगाबाद संभाग के जिलों के साथ ही रीवा सतना, सीहोर, राजगढ़, अलीराजपुर, झाबुआ, धार, देवास और अशोकनगर जिलों में भारी वर्षा का यलो अलर्ट की चेतावनी जारी की है। गरज-चमक के साथ छीटे पड़ने की संभावना रीवा, शहडोल, जबलपुर, सागर, इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद, भोपाल, ग्वालियर, चंबल संभाग के जिलों में है।
भदभदा डैम खुलने के बाद हजारों गैलन पानी निकाला जा रहा है ताकि वाटर लेवल को कम किया जा सके।

Thursday, 17 September 2020

02:47

राजधानी में कोरोना ने पकड़ी रफ्तार:deepak tiwari

भोपाल.राजधानी भोपाल में कोरोना का कहर थम नहीं रहा है। यहां पर हर रोज कोरोना के 200-250 नए केस मिल रहे हैं। बुधवार को भी यहां पर 245 नए कोरोना मरीज मिले। ऐसे में सरकार कोविड नियंत्रण के लिए स्पेशल ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू करने जा रही है। इसमें इंटर्न, मेडिकल स्टूडेंट, प्राइवेट प्रैक्टिशनर्स, आयुष डॉक्टर और नर्सिंग स्टूडेंट को शामिल किया जाएगा। इसमें कोरोना की रोकथाम और मरीजों के मन से भय को कैसे दूर किया जाए। इसकी ट्रेनिंग दी जाएगी, साथ ही जागरुकता के लिए नए-नए तरीके अपनाने पर भी जोर दिया जाएगा।
चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि शहर के 24 प्राइवेट अस्पतालों में कोविड का निशुल्क इलाज किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जरूरत को देखते हुए अन्य निजी अस्पतालों को भी कोविड सेंटर बनाएंगे। अस्पतालों में आईसीएमआर की गाइडलाइन के अनुरूप उपचार उपलब्ध कराने के दिशा-निर्देश दिए गए हैं। ऑक्सीजन सप्लाई की स्थिति पर नजर रखी जा रही है। नये अस्पतालों को शामिल करते समय विशेष रूप से देख रहे हैं कि वहां पर ऑक्सीजन की निर्बाध सप्लाई हो रही है या नहीं।
हमीदिया में कोविड के लिए 50 बेड और बढ़ेंगे
आयुष्मान योजना के तहत इम्पैनल्ड 61 अस्पतालों की टोटल क्षमता 5894 में से 1184 बेड कोविड के लिए डेडिकेटेड किए जाएंगे। हर अस्पताल के साथ जिला प्रशासन के प्रतिनिधि कोऑर्डिनेट करेंगे। हमीदिया अस्पताल में जल्द ही कोविड मरीजों के लिए 50 बेड और बढ़ाए जाएंगे। साथ ही टीबी अस्पताल में 10 बेड का आईसीयू भी शुरू होगा, इससे इसकी क्षमता और बढ़ जाएगी।
जूनियर डॉक्टरों के लिए इलाज के लिए जीवन रक्षक दवाइयां दी जाएंगी
जीएमसी के जूनियर डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ की मांग को सरकार ने मान ली है। मंत्री सारंग ने कहा कि जूनियर डॉक्टर्स के संक्रमित होने पर उनके कोविड उपचार के लिए रि-इन्वेस्टमेंट मोड पर जीवन-रक्षक दवाइयां उपलब्ध कराई जाएंगी। उन्होंने गांधी मेडिकल कॉलेज में सुव्यवस्थित कैंटीन और रिक्रिएशन सेंटर बनाने के निर्देश दिए।
5 सरकारी और 10 प्राइवेट अस्पतालों में हो रहा है इलाज
राजधानी में कोरोना का इलाज पांच सरकारी और 10 प्राइवेट अस्पतालों में किया जा रहा है। इसमें एम्स, जीएमसी, जे.पी. हॉस्पिटल, कस्तूरबा हॉस्पिटल और मिलिट्री हॉस्पिटल हैं। वहीं अधिग्रहित किए गए अस्पतालों में चिरायु, जेके अस्पताल सहित पीपुल्स, बंसल, आरकेडीएफ, भोपाल केयर हॉस्पिटल, केयर मल्टी स्पेशियलिटी, निर्मल प्रेम मूर्ति हॉस्पिटल, करोंद मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल और एबीएम हॉस्पिटल में इलाज किया जा रहा है।
अब 24 अस्पतालों में कोरोना मरीजों का मुफ्त इलाज होगा
आयुष्मान योजना के तहत रजिस्टर्ड जिले के 24 अस्पतालों में 20 प्रतिशत बेड कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए आरक्षित करा दिए हैं। यहां मरीजों को नि:शुल्क इलाज मिलेगा। इलाज की राशि सरकार देगी। वर्तमान में 12 से अधिक अस्पताल आयुष्मान योजना के तहत रजिस्टर्ड लोगों के इलाज कर रहे हैं। यहां अभी तक 61 मरीज भर्ती हैं और कोरोना का इलाज करा रहे हैं।
दरअसल, प्रदेश सरकार के निर्णय के बाद भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। गुरुवार से 6 व 19 सितंबर से 6 अन्य अस्पतालों में आयुष्मान कार्ड वाले लोगों को कोरोना का इलाज मिलना शुरू हो जाएगा। सभी 24 अस्पतालों में 300 से अधिक ऑक्सीजन बेड उपलब्ध होंगे।
इन अस्पतालों में मिलेगा इलाज
कोलार क्षेत्र में - अक्षय हॉस्पिटल, नोबेल, नर्मदा ट्रामा सेंटर, आरकेडीएफ हॉस्पिटल, पुष्पांजलि, सिद्धांता अस्पताल और सहारा हॉस्पिटल।
हुजूर क्षेत्र में - रुद्राक्ष मल्टी सिटी हॉस्पिटल और लीलावती हाॅस्पिटल।
गोविंदपुरा क्षेत्र में- केयर मल्टी और अनंतश्री हॉस्पिटल।
बैरागढ़ क्षेत्र में - एबीएम, ग्रीन सिटी, एलबीएस, राजदीप, सेंट्रल हॉस्पिटल, गुरु आशीष हॉस्पिटल, जवाहरलाल कैंसर हॉस्पिटल, माहेश्वरी, सर्वोत्तम, सिल्वर लाइन हॉस्पिटल।
टीटी नगर क्षेत्र में- पीपुल्स हॉस्पिटल।
एमपी नगर में - सहारा हॉस्पिटल और पालीवाल हॉस्पिटल।
(आयुष्मान कार्डधारकों के लिए यहां पर 20% बेड आरक्षित)

Wednesday, 9 September 2020

01:55

सिंधिया के महल से एसडीओपी को 100 बीघा जमीन जुतवाने का फोन एक कांग्रेसी गिरफ्तार

  deepak tiwari 
 September 8, 2020
भोपाल। भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के ग्वालियर स्थित जयविलास पैलेस महल के नाम से एक कांग्रेसी द्वारा शिवपुरी जिले के कोलारस एसडीओपी को 100 बीघा जमीन जुतवाने का फोन करने मामला सामने आया है। इस मामले में शिवपुरी पुलिस ने कांग्रेस के सेवादल के पूर्व जिलाध्यक्ष धनंजय शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है। धनंजय ने जय विलास पैलेस ग्वालियर के नाम से कोलारस एसडीओपी अमरनाथ वर्मा को फोन लगा दिया। पुलिस षडय़ंत्र को भांप गई।
नंबर ट्रेस कराकर आरोपी धनंजय शर्मा के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया और रविवार की देर शाम आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया। शनिवार  दोपहर 2 बजे अज्ञात व्यक्ति ने एसडीओपी अमरनाथ वर्मा के व्यक्तिगत मोबाइल नंबर पर फोन किया। ट्रू-कॉलर पर ‘सिंधिया ऑफिस ग्वालियर’ लिखा आ रहा था। व्यक्ति ने कहा कि मैं जय विलास पैलेस (ग्वालियर में सिंधिया का महल) से बोल रहा हूं। महाराज साहब नाराज हैैं, जमीन के मामले में तुरंत मदद करें। हमारे सेवादल के पूर्व जिलाध्यक्ष धनंजय शर्मा ने महाराज साहब (ज्योतिरादित्य सिंधिया) को फोन लगाया था। उन्हें तेंदुआ थाना क्षेत्र में परेशान किया जा रहा है। तेंदुआ थाना क्षेत्र में जमीनी विवाद है। महाराज ने हमको फोन लगाया था। इसलिए आप धनंजय शर्मा से बात करो और जो भी मामला है, उसे निपटाओ। फोन पर बातचीत करने पर एसडीओपी को संदेह हुआ। एसडीओपी वर्मा ने एसपी राजेश सिंह चंदेल को मामले की सूचना दी। इसके बाद जांच में मामला खुल गया।
01:19

भोपाल को मिली छह विशेष ट्रेन :deepak tiwari

भोपाल.भोपाल को 12 सितंबर से 6 और विशेष ट्रेन की सुविधा मिल जाएगी। पश्चिम मध्य रेलवे के मुताबिक, इनमें एक ट्रेन एमजीआर चैन्नई सेंट्रल से न्यू दिल्ली के बीच (प्रतिदिन) चलेगी। यह ट्रेन भोपाल, हबीबगंज और संत हिरदाराम नगर स्टेशन पर ठहरेगी। भोपाल स्टेशन पर इसका स्टॉप 10 मिनट का रहेगा। इसके साथ ही गोरखपुर से यशवंतपुर के बीच (सप्ताह में दो दिन) और जयपुर से मैसूर के बीच (सप्ताह में दो दिन) विशेष ट्रेन चलेंगी।
1. ट्रेन संख्या - 02615
ट्रेन का नाम - एमजीआर चैन्नई सेंट्रल-न्यू दिल्ली
इनके बीच चलेगी - चैन्नई सेंट्रल से न्यू दिल्ली
शुरू होगी - 12 सितंबर
कहां से - एमजीआर चैन्नई सेंट्रल से शाम 7.15 बजे
2. ट्रेन संख्या - 02616
ट्रेन का नाम - न्यू दिल्ली-एमजीआर चैन्नई सेंट्रल
इनके बीच चलेगी - न्यू दिल्ली से चैन्नई सेंट्रल
शुरू होगी - 14 सितंबर
कहां से - न्यू दिल्ली से शाम 6.40 बजे
इन स्टेशन से होकर चलेगी : एमजीआर चैन्नई सेंट्रल, इटारसी जंक्शन, होशंगाबाद, हबीबगंज, भोपाल, विदिशा, गंजबासौदा, बीना जंक्शन, न्यू दिल्ली
कोच : इस गाड़ी में फर्स्ट एसी का 1, सेकंड एसी के 3, थर्ड एसी के 2, स्लीपर क्लास के 13 और सामान्य श्रेणी के 2 कोच रहेंगे।
3. ट्रेन संख्या - 02591
ट्रेन का नाम - गोरखपुर-यशवंतपुर-गोरखपुर स्पेशल ट्रेन
इनके बीच चलेगी - गोरखपुर से यशवंतपुर (सोमवार,शनिवार)
शुरू होगी - 12 सितंबर से
कहां से - गोरखपुर स्टेशन से सुबह 6.35 बजे
4. ट्रेन संख्या - 02592
ट्रेन का नाम - यशवंतपुर-गोरखपुर-यशवंतपुर स्पेशल ट्रेन
इनके बीच चलेगी - यशवंतपुर से गोरखपुर (सोमवार,गुरुवार)
शुरू होगी - 14 सितंबर से
कहां से - यशवंतपुर स्टेशन से शाम 5.20 बजे
इन स्टेशन से होकर चलेगी : गोरखपुर, भोपाल, इटारसी जंक्शन और यशवंतपुर
कोच : इस गाड़ी में सेकंड एसी का 1, थर्ड एसी के 4, स्लीपर क्लास के 11, सामान्य श्रेणी के 4 कोच रहेंगे।
5. ट्रेन संख्या - 02975
ट्रेन का नाम - मैसूर-जयपुर-मैसूर स्पेशल ट्रेन
इनके बीच चलेगी - मैसूर से जयपुर (शनिवार,गुरुवार)
शुरू होगी - 12 सितंबर सुबह 10.40 बजे
कहां से - मैसूर स्टेशन से
6. ट्रेन संख्या - 02976
ट्रेन का नाम - जयपुर-मैसूर-जयपुर स्पेशल ट्रेन
इनके बीच चलेगी - जयपुर से मैसूर (सोमवार,बुधवार)
शुरू होगी - 14 सितंबर शाम 7.35 बजे
कहां से - जयपुर स्टेशन से
इन स्टेशन से होकर चलेगी : जयपुर, संत हिरदाराम नगर, भोपाल, हबीबगंज, होशंगाबाद, इटारसी जंक्शन और मैसूर जंक्शन
कोच : इस गाड़ी में सेकंड एसी का 1, थर्ड एसी के 4, स्लीपर क्लास के 11, सामान्य श्रेणी के 4 कोच रहेंगे।

Sunday, 30 August 2020

08:40

भोपाल की पॉश कॉलोनी इंडस एम्पायर में रात में 8 फीट तक पानी घुसा deepak tiwari

भोपाल.राजधानी भोपाल में बीते 24 घंटे में 112 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश हो चुकी है। देर रात करीब 1 बजे के बाद बारिश थम गई, लेकिन जलभराव के कारण हालात बद से बदतर हो गए। शाहपुरा थाने से कुछ दूरी पर बनी रहवासी कॉलोनी इंडस एंपायर में शनिवार को 8 फीट तक पानी भर गया। इससे करीब 60 परिवार फंस गए। उनके लिए रात आफत भरी रही। सुबह 11.30 बजे कोलार एसडीएम राजेश गुप्ता और उनकी टीम मौके पर पहुंची। रहवासियों को आश्वस्त किया और वहां से चले गए।
रविवार की सुबह जब पानी कम हुआ तो घरों में कीचड़ भरा था। घरों के सोफे, बेड, फ्रिज, कूलर और यहां तक की ड्रेसिंग टेबल तक में पानी भर गया था। डॉ. संजय दीवान और उनका पूरा परिवार सुबह से घर की सफाई में जुटा। उन्होंने बताया कि मैं दोपहर बाद 2 बजे घर आया तो हमारी काॅलोनी में रास्ते से आना संभव नहीं था तो मैं पीछे की काॅलोनी से आया था। साढ़े 9 बजे तक इंतजार करते रहे कि पानी उतर जाएगा, लेकिन जब पानी नहीं कम हुआ तो हमने प्रशासन को फोन किया और यहां पर बोट आईं और हम किसी तरह से छतों से कूदकर बोट में बैठे और रात में दोस्त के यहां शरण ली। अब लौटे हैं तो घर का बुरा हाल है।
कालोनी निवासी डॉ. संजय दीवान। इनके घर में पानी उतरने के बाद सामान कीचड़ में सना है। परिवार अब घर को व्यवस्थित करने में लगा है।
कालोनी निवासी डॉ. संजय दीवान। इनके घर में पानी उतरने के बाद सामान कीचड़ में सना है। परिवार अब घर को व्यवस्थित करने में लगा है।
ये लगातार दूसरा हफ्ता है, जब हमारे घर में पानी 7-8 फीट तक भर गया। पिछले शनिवार और रविवार को भी ऐसा ही हाल हुआ था, एक हफ्ते तक हम घर ठीक करते रहे और अब फिर से पूरे घर में पानी और कीचड़ हो गया है। पत्नी-बच्चे सब परेशान हैं।
घर में आठ फीट पानी भर गया, रात को भागना पड़ा
दीपेश मोहता के घर में 7-8 फीट पानी भर गया था। हमारे पड़ोस की एक कालोनी है, जिसका नाम द एड्रेस है। उन्होंने अपनी कॉलोनी का बेस ऊंचा कर लिया है और पानी के निकासी के लिए पाइप भी ऊंचा लगाया है। जिससे हमारी कालोनी में पानी भर गया। 25-26 घरों में पानी ही पानी था। एसडीआरएफ की टीम आई और उनके साथ बोट में बैठकर जाना पड़ा। जान बच गई, यही काफी है। घर का सामान पानी तैर रहा था। अब सफाई करेंगे घर की।
कॉलोनी के लोगों को सामान शिफ्ट करने का मौका भी नहीं मिला
परिवार और बच्चों के साथ वह पूरे समय घर का सामान बचाने और उसे दूसरी जगह शिफ्ट करने में जुटे रहे। बारिश रुकने के बाद रविवार को पानी कम हुआ, तो घर की हालत देख सभी ने माथा पकड़ लिया। सड़कों से लेकर घर के अंदर तक कीचड़ ही कीचड़ हो गया। सामान को पलंग और बेड पर रखा गया। जो बचा सकते थे, उसे पहली मंजिल पर शिफ्ट किया गया, जबकि अन्य सामान पानी में बह गया।
कीचड़ और पानी में सना सामान मिला है
डॉ. अतुल अग्रवाल ने बताया कि छह महीने में हमारी पड़ोस में एक कालोनी डेवलप हो रही है। उन्होंने अपना बेस इतना ऊंचा कर लिया है कि हमारी कालोनी का ग्राउंड फ्लोर में पानी भर गया, जिससे रेस्क्यू टीम ने बोट में जंप कराके यहां फंसे लोगों को बाहर निकाला गया। यहां पर बुजुर्ग रहते हैं, बच्चे रहते हैं। गली में पानी भरा, इसके बाद घरों में पानी भर गया। अब सुबह हुई तो यहां पर घरों में सामान कीचड़ और पानी सना हुआ है।
रातभर पानी निकालते रहे
रहवासियों ने बताया कि इंडस एंपायर में करीब 60 परिवार रहते हैं। बारिश के कारण यहां पर पूरी कॉलोनी के अंदर पानी भर गया। सड़के तो लबालब थी हीं, घरों में भी पानी घुस गया था। पानी बढ़ने पर छोटे-मोटे और पानी में खराब होने वाले सामान को किसी तरह पहली मंजिल पर शिफ्ट किया। कुर्सी-टेबल को पलंग के ऊपर रखा, जबकि भारी सामान को यूं ही छोड़ना पड़ा।
देखते ही देखते पानी पहली मंजिल की 4 सीढ़ी के ऊपर पहुंचने लगा, तो पूरे परिवार के साथ पहली मंजिल पर ही रात बिताई। रातभर पानी घटने का इंतजार करते रहे। सुबह जब पानी घटा, तो पूरे घर में कीचड़ ही कीचड़ था। यह हालत अकेले यहीं के नहीं कोलार के दामखेड़ा में तो पूरे गांव को ही सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है।
कोलार इलाके में दीवार गिरी; एक की मौत, दो घायल, राहत और बचाव कार्य शुरू
बारिश के कारण भोपाल के कोलार इलाके में रविवार शाम एक दीवार गिर गई। इसके मलबे में दबने से एक व्यक्ति कह मौत हो गई, जबकि दो घायल बताए जाते हैं। घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया है। पुलिस ने मलबे को हटाने के लिए जेसीबी मशीन लगाई है। मृतक की उम्र करीब 45 साल बताई जाती है। बारिश के कारण कोलोर का दामखेड़ा सबसे ज्यादा प्रभावित इलाका है।
कोलार थाना प्रभारी सुधीर अरजरिया ने बताया कि मलबे को हटाया जा रहा है। अभी किसी के दबे होने की सूचना नहीं है, लेकिन हम तलाश कर रहे हैं। पूर्व मंत्री पीसी शर्मा मौके पर पहुंच गए थे।

Thursday, 27 August 2020

18:09

मध्यप्रदेश के जेलों में बंदियों के लिए बुरी खबर:deepak tiwari

मध्यप्रदेश की जेलों में बंद बंदियों को अपनों से मिलने के लिए अभी और इंतजार करना पड़ेगा। शनिवार को जेल मुख्यालय ने नया आदेश जारी करते हुए बंदियों से परिजनों की मुलाकात पर 31 अक्टूबर तक रोक लगा दी है। इससे पहले इसे 4 बार बढ़ाया जा चुका है। पहले यह प्रतिबंध 31 अगस्त तक था। हालांकि इस दौरान कैदियों को वीडियो कॉल की सुविधा मिलेगी।
चार बार रोक की अवधि बढ़ाई जा चुकी
प्रदेश में कोरोना संक्रमण के चलते 23 मार्च से लॉकडाउन शुरू किया गया था। इसके तहत जेल में बंदियों से मुलाकात पर भी 31 मई तक रोक लगा दी गई थी। वहीं, प्रदेश में बढ़ते कोरोना मामलों को देखते हुए मुलाकात पर रोक की अवधि एक माह और बढ़ाकर यह 30 जून तक कर दी थी। इसके बाद शासन के आदेश पर अब इसे 31 जुलाई और फिर 31 अगस्त कर दिया था।
18:05

भोपाल में नदी तालाबों में विसर्जन नहीं होंगे गणेश चलेगा मेरे गणेश मेरे घर अभियान deepak tiwari

भोपाल.भोपाल में कोरोना को देखते हुए इस बार सार्वजनिक रूप से नदी और तालाबों में गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन नहीं किया जा सकेगा। अब 29 अगस्त को डोल ग्यारस पर किसी तरह का कोई जूलुस और कार्यक्रम भी नहीं होंगे। लोगों को अपने घर में ही प्रतिमाओं का विसर्जन करना होगा। जिला क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में इसका निर्णय लिया गया। इसके बाद अब जिला प्रशासन ‘मेरे गणेश मेरे घर’ अभियान चलाएगा।
जिला क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक विधानसभा के प्रोटोम स्पीकर रामेश्वर शर्मा की अध्यक्षता में उनके कक्ष में हुई। आने वाले समय में सभी धर्मों के त्यौहारों के आयोजन सार्वजनिक स्थलों पर नहीं होंगे। चौराहों और सड़क पर किसी प्रकार का किसी को कोई मेला, जुलूस, जलसा का आयोजन नहीं करने दिया जाएगा। गणेश विसर्जन भी घाटों पर नहीं होगा। सभी को अपने घरों में ही गणेश प्रतिमा का विसर्जन करना होगा। नगर निगम द्वारा जगह-जगह पर स्टॉल लगाकर मूर्तियों को विसर्जन के लिए एकत्रित किया जाएगा।
कलेक्टर लवानिया ने बैठक में कहा कि मेरे गणेश- मेरे घर अभियान को जन-जन तक पहुंचाने के लिए व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए। डोल ग्यारस, अनंत चौदस सहित अन्य त्यौहार पर भी किसी प्रकार के आयोजन नहीं किए जाएंगे।
यह गाइडलाइन है
घरों में ही प्रतिमाओं की स्थापना होगी। विसर्जन भी घरों में ही करना होगा।
सार्वजनिक रूप से न तो पंडाल ही लगेंगे और न ही कोई कार्यक्रम ही होंगे।
सभी तरह के धार्मिक जुलूस और रैली निकालने पर भी रोक।
डीजे आदि के बजाने की अनुमति भी नहीं है।
इन आयोजनों पर पड़ेगा असर
कलेक्टर ने बताया कि लोग अपने घरों में पूजा, उपासना करें। कोविड 19 की रोकथाम और बचाव के लिए यह आवश्यक है। 29 अगस्त को डोल ग्यारस एवं कत्ल की रात, 30 अगस्त मोहर्रम, 1 सितंबर तक पयूर्षण पर्व, 1 सितंबर से 20 दिन चतुर्दशी, श्राद्ध पक्ष और 17 सितंबर को पितृ मोक्ष अमावस्या के त्यौहार हैं। इन पर सार्वजनिक रूप से कोई कार्यक्रम नहीं हो पाएंगे।

Tuesday, 25 August 2020

07:59

भोपाल में 10000 पार हुए कोरोना पॉजिटिव,deepak tiwari

भोपाल में 10000 पार हुए कोरोना पॉजिटिव,deepak tiwari पूर्व डीजीपी पुरी सहित 129 नए मरीज, एअर इंडिया के एयरपोर्ट इंचार्ज मैनेजर की पत्नी की मौत
भोपाल.पूर्व डीजीपी एवं मध्यप्रदेश प्राइवेट यूनिवर्सिटी रेगुलेटरी कमीशन के मेंबर ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन स्वराज पुरी सहित 129 नए कोविड पॉजिटिव मरीज सोमवार को मिले हैं। इससे राजधानी में कोविड पॉजिटिव मरीजों की संख्या 9939 से बढ़कर 10068 हो गई है, वहीं राजाभोज एयरपोर्ट पर एअर इंडिया के इंचार्ज एयरपोर्ट मैनेजर श्याम टेकाम की पत्नी नीरा टेकाम की कोविड से मौत हो गई। वे कोविड डेडिकेटिड चिरायु अस्पताल में भर्ती थीं। इससे भोपाल में कोरोना से मरने वालों की संख्या 274 हो गई है।
स्वास्थ्य संचालनालय के अफसरों ने बताया कि सोमवार को भोपाल में कोरोना के 129 नए मरीज मिले हैं। नए पॉजिटिव मरीजों में मंत्री गोपाल भार्गव के स्टाफ का एक कर्मचारी शामिल है। उन्होंने मंत्री भार्गव की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जांच के लिए सुआब का नमूना रविवार को दिया था। इसके अलावा पूर्व डीजीपी एवं मध्यप्रदेश प्राइवेट यूनिवर्सिटी रेगुलेटरी कमीशन के मेंबर ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन स्वराज पुरी की जांच रिपाेर्ट भी पॉजिटिव आई है। स्वास्थ्य विभाग ने उनके सैंपल काे जांच के लिए बंसल हॉस्पिटल भेजा था।
एयर इंडिया के भोपाल एयरपोर्ट मैनेजर की पत्नी की कोविड से मौत
एयर इंडिया के भोपाल एयरपोर्ट मैनेजर श्याम टेकाम की पत्नी नीरा टेकाम की सोमवार को भैंसाखेड़ी स्थित चिरायु मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में मौत हो गई। उन्हें 11 अगस्त को जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्हें यहां भर्ती कराया गया था। वह परिवार सहित टीटी नगर क्षेत्र के झरनेश्वर कांप्लेक्स में रहती थीं। उल्लेखनीय है श्याम टेकाम की जांच रिपोर्ट 9 अगस्त को कोविड पॉजिटिव आई थी। इसके बाद उनकी पत्नी का कोविड टेस्ट हुआ था।
पत्नी की देखभाल के लिए खुद की अस्पताल से छुट्‌टी रुकवाई
नीरा टेकाम के भतीजे करन ने बताया कि श्याम टेकाम उनके मौसा है। 18 अगस्त को अस्पताल से उनकी छुट्‌टी हो रही थी। लेकिन, मौसी (नीरा) टेकाम की अस्पताल में देखभाल करने के लिए अस्पताल से अपनी छुट्‌टी रुकवा ली थी। बकौल करन, मौसी की कोरोना से मौत के बाद चिरायु अस्पताल के डॉक्टर्स ने सोमवार सुबह 8 बजे उनकी छुट्‌टी कर दी।
ऐशबाग में 7 और तुलसी नगर व लवकुश नगर में मिले कोरोना के 4 - 4 मरीज
सोमवार को ऐशबाग क्षेत्र में एक ही परिवार में कोरोना के 7 मरीज मिले हैं। इन मरीजों में 1 पुरुष और 6 महिलाएं हैं, जिनकी उम्र 18 साल से लेकर 75 साल के बीच है। वहीं तुलसी नगर और भेल क्षेत्र के लवकुश नगर में कोरोना के 4 - 4 मरीज मिले हैं। इन मरीजों को शहर के अलग - अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

Thursday, 20 August 2020

18:14

भोपाल में 143 नए केस मिले:deepak tiwari

भोपाल.भोपाल में गुरुवार को 143 नए कोरोना संक्रमित मिले। इसके साथ राजधानी में संक्रमितों की संख्या 9 हजार पार कर गई। अब यहां पर संक्रमितों का आंकड़ा 9202 हो गया। मैनिट हॉस्टल में आज फिर से 5 पॉजिटिव मिले। यहां पर दो दिन में 13 संक्रमित मिल चुके हैं, वहीं जबलपुर उत्तर मध्य से कांग्रेस विधायक विनय सक्सेना भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके पहले जबलपुर से पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया भी संक्रमित मिले थे, जिन्हें इलाज के लिए मेदांता ले जाया गया था।
भोपाल में संक्रमितों की रफ्तार में कोई कमी नहीं आ रही है। गुरुवार को 143 नए संक्रमितों के साथ अब आंकड़ा 9202 पहुंच गया है। राजधानी में 24 घंटे में 4 संक्रमितों की मौत हुई है। अब तक यहां कोरोना संक्रमण से 263 ने जान गंवाई है। कोरोना संक्रमित लोग अब सरकारी दफ्तरों में मिल रहे हैं। मैनिट हॉस्टल में दो दिन में 13 संक्रमित मिल चुके हैं। वहीं, बिजली कंपनी के कॉल सेंटर में फैले संक्रमण के बाद उसे अस्थाई रूप से बंद कर दिया गया है। आज सीआरपीएफ कंपोजिट अस्पताल से 3 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। एसएसबी सेंटर से तीन की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अहीरपुरा बरखेड़ी से 4 पॉजिटिव आए हैं।
भोपाल के जिन इलाकों में कोरोना मरीज मिलते हैं, वहां पर जांच शुरू हो जाती है।
भोपाल के जिन इलाकों में कोरोना मरीज मिलते हैं, वहां पर जांच शुरू हो जाती है।
बिजली कंपनी का कॉल सेंटर बंद, शिकायतें संभागवार दर्ज हो रही हैं
बिजली कंपनी में 14 कर्मचारियों के कोरोना पॉजीटिव आने के बाद कॉल सेंटर को अस्थाई तौर पर बंद किया गया है। उपभोक्ताओं की बिजली सप्लाई संबंधी शिकायतें दर्ज कराने के लिए वैकल्पिक इंतजाम किया गया है। अब शहर के अलग- अलग इलाकों के लिए संभागवार शिकायतें दर्ज कराई जा सकेंगी। एक हफ्ते तक यह अस्थाई व्यवस्था रहेगी।
कांग्रेस विधायक पॉजिटिव मिले, उन्होंने कहा- संपर्क में आए लोग टेस्ट करा लें
जबलपुर उत्तर मध्य विधानसभा से कांग्रेस विधायक विनय सक्सेना कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके पहले जबलपुर में कांग्रेस के ही विधायक और पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया भी कोरोना पॉजिटिव हुए थे। बताया जा रहा था कि विनय सक्सेना को उपचुनाव की जिम्मेदारी मिली हुई है, जिस वजह से वह रोज दौरे कर रहे थे और कार्यकर्ताओं से भी मिल रहे थे। विधायक विनय सक्सेना ने कहा कि मेरे संपर्क में जो लोग आए हैं वह टेस्ट जरूर करा लें।

Monday, 10 August 2020

23:52

राजधानी में आज 117 संक्रमित मिले:deepak tiwari

भोपाल.राजधानी में सोमवार को 117 संक्रमित मिले। इसमें भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर (बीएमएचआरसी) के एक डॉक्टर की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, वहीं जीएमसी में फिर से एक कर्मचारी पॉजिटिव मिला है। राजधानी में 24 घंटे में 3 मौतें हुई हैं, वहीं भोपाल में अब तक कोरोना से 225 संक्रमितों की मौत हो गई है, जबकि संक्रमितों की संख्या 7902 पर पहुंच गई है। 5419 मरीज ठीक हो चुके हैं, वहीं एक्टिव मरीजों की संख्या अब भी 2 हजार से ज्यादा 2048 है।
भोपाल में 4 अगस्त तक चले 10 दिन के टोटल लॉकडाउन का असर दिख रहा है। संक्रमितों की संख्या लगातार दूसरे दिन भी राहत रही। 117 केस मिले हैं, रविवार को 101 केस मिले थे। इसके पहले लॉकडाउन के दौरान भोपाल में 246 संक्रमित तक मिल चुके हैं।
राजधानी में सार्वजनिक कार्यक्रमों पर रोक
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अब कोरोना गांवों तक पहुंचने लगा है। इसे रोकने का इंतजाम करना जरूरी हो गया है। गृह विभाग के निर्देश के बाद भोपाल में सभी तरह के सार्वजनिक कार्यक्रमों पर रोक लगा दी गई है। इसमें जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी की झांकियां, ताजिया का जुलूस और अन्य कार्यक्रम पर रोक लगा दिया है। दो दिन के अंदर सार्वजनिक और धार्मिक कार्यक्रमों को लेकर नई गाइड लाइन तैयार करना है।
बागसेवनिया में एक ही परिवार के 8 सदस्यों की रिपोर्ट पॉजिटिव
अनलॉक के दौरान राजधानी में कोरोना की रफ्तार अन्य दिनों के मुकाबले काफी कमी आई है। सोमवार को भोपाल में कोरोना के 117 नए मरीज मिले। ईएमई सेंटर में 5 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसमें बागसेवनिया से एक परिवार के 8 सदस्यों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। पंचशील नगर से 5, जहांगीराबाद क्षेत्र से तीन, बीएमएचआरसी से एक डॉक्टर की रिपोर्ट और जीएमसी से 1 मरीज संक्रमित निकला है।

Sunday, 9 August 2020

17:26

भोपाल में कोरोना की रफ्तार कम हुई:deepak tiwari

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना की रफ्तार कुछ कम हुई है। शनिवार को 152 नए मरीज आने के बाद रविवार को 101 मरीज मिले हैं। 1 जुलाई से अब तक एक दिन में यह सबसे कम संख्या है। इस दौरान इससे पहले सबसे कम 108 नस केस वाला दिन 4 अगस्त का था। हालांकि आंकड़ा अब भी 100 के पार ही है।
भोपाल के हमीदिया अस्पताल में नया कोविड-19 वार्ड तैयार किया गया है।
2099 टेस्ट में से 1988 निगेटिव आए
राजधानी में अगस्त में पहली बार सबसे कम नए केस सामने आए हैं। शनिवार को 2099 संदिग्धों के सैंपल लिए गए। इसमें से 1988 की रिपोर्ट निगेटिव आई, जबकि 101 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। तीन मरीजों की रिपोर्ट दोबारा जबकि 7 दूसरे जिलों के संक्रमितों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। रैपिड एंटीजन किट से 1695 टेस्ट किए गए। इनमें से 63 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव रही।
रविवार को टोटल लॉकडाउन है
कलेक्टर के आदेश के बाद रविवार को टोटल लॉकडाउन है। रात को 10 से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू होने के साथ ही दिन में भी सुबह 5 बजे से रात 10 बजे तक टोटल लॉकडाउन रखा गया है। इधर, शहर में सीआरपीएफ अस्पताल से 4, एम्स का एक पीजी छात्र, अरेरा कॉलोनी से एक, इकबाल मंजिल बरखेड़ी से 4, अभरा इंक्लेव कोलार से 3, स्प्रिंग वैली कटारा हिल्स से 1, एसबीआई कॉलोनी से 1, जैन नगर लालघाटी से 4 और पंचशील नगर से 3 लोग संक्रमित निकले हैं। 
भोपाल में 9 दिन में नए केस
दिन        मरीज
9 अगस्त 101
8 अगस्त 152
7 अगस्त 150
6 अगस्त 142
5 अगस्त 162
4 अगस्त 108
3 अगस्त 142
2 अगस्त 168
1 अगस्त 166

Saturday, 1 August 2020

23:17

कोरोना केस में भोपाल ने इंदौर को पीछे छोड़ा deepak tiwari

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल कोरोना संक्रमित एक्टिव केस के मामले में राज्य में पहले नंबर पर आ गया है। अब यहां पर 2508 मरीजों का अस्पताल में चल चल रहा है, जबकि इंदौर में यह संख्या 2060 है। ऐसे में अब तक प्रदेश में पहले नंबर पर चल रहे इंदौर को भोपाल ने पीछे छोड़ दिया है। यह स्थिति बीते करीब 15 दिन से भोपाल में 100 या उससे अधिक संक्रमितों के लगातार मिलने के कारण बनी है। यह जानकारी एजेंसी और स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार है।
संक्रमित कम एक्टिव केस ज्यादा हुए
इंदौर से भोपाल की तुलना की जाए, तो अभी इंदौर में संक्रमितों की संख्या ज्यादा है, लेकिन एक्टिव केस के मामले में भोपाल उससे कहीं आगे निकल गया है। राजधानी में शनिवार सुबह 168 नए केस मिलने के बाद संक्रमितों की संख्या 6647 हो गई है। इनमें से 2508 कोरोना संक्रमित मरीजों का उपचार विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। जबकि इंदौर में 120 नए मामले आने के बाद पॉजिटिव केस 7448 हो गए हैं। इनमें से 2060 का इलाज चल रहा है।
इंदौर से आधी हुई भोपाल में मौतें
कोरोना संक्रमण के कारण मरने वालों की बात की जाए, तो इस मामले में इंदौर अभी भी भोपाल से कहीं आगे हैं। इंदौर में अब तक 312 लोगों की कोरोना संक्रमण के कारण मौत की पुष्टि हो चुकी है, जबकि भोपाल में 176 पॉजिटिव अपनी जान गवां चुके हैं। प्रदेश में कुल 867 लोगों की मौत हो चुकी है। दोनों शहरों के आंकड़े मिला लिए जाएं तो शेष 50 जिलों में मौतों की संख्या आधे से भी काफी कम है।

Wednesday, 15 April 2020

07:33

फेसबुक ऑनलाइन से रोज सिखाते है योग – महेश



भोपाल। लॉक डाउन में जहां लोग अपनी अपनी जीवन शैली और आर्थिक परेशानियों का सामना कर रहे है वहीं समाज का एक वर्ग ऐसा भी है जो सोशल मीडिया के माध्यम से कुछ नया सभी लोगो को दे  रहे है। ऐसे ही है भोपाल शहर के योगाचार्य महेश अग्रवाल जो lockdown के समय अपने घर की छत से सुबह 6 से 7 एवं शाम को 6 से 7 बजे नियमित रूप से ऑनलाइन फेसबुक के माध्यम द्वारा योग साधको एवं सभी आमजन जिनको योग करना पसंद है जो स्वस्थ्य जीवन की कामना रखते हैं उन को योग करवाया जा रहा है ! ताकि लोग स्वस्थ रहते हुए बिना डर के जीवन जी सके।

योगाचार्य महेश बताते है कि वो विगत 10 वर्ष से स्वर्ण जयंती पार्क मे लोगो को योग की शिक्षा के माध्यम से स्वस्थ जीवन जीने की कला सीखा रहे है

Friday, 13 December 2019

16:03

मुख्यमंत्री का आदेश जनप्रतिनिधियों का सम्मान करें अधिकारी


*पंकज पाराशर छतरपुर*
भोपाल।  मध्य प्रदेश में अब सांसद विधायकों को अधिकारियों की उपेक्षा का शिकार नहीं होना पड़ेगा। राज्य सरकार ने सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को फरमान जारी किया है कि जब भी कोई विधायक या सांसद मिलने आये तो खड़े होकर उनका स्वागत करें। यह भी निर्देश दिए गए हैं कि माननीयों के साथ अपने व्यवहार में अधिकारियों को शिष्टाचार बरतना चाहिए। सभी विभागों के प्रमुखों को कहा गया है कि वे अधीनस्थ अधिकारियों को ध्यान में लाकर इसका कड़ाई से पालन करवाएं। सामान्य प्रशासन विभाग ने  सभी विभागों को पत्र भेजा है l पत्र में लिखा है है कि सरकार के निर्देशों का संबंधित विभाग कड़ाई से पालन कर रहे है जिसकी वजह से सांसद विधायकों को अपने कर्तव्य के निर्वहन में असुविधा का सामना करना पड़ रहा है जिससे सरकार की छवि पर असर पड़ रहा है l जीएडी ने सभी विभागोें के अधिकारियों को कहा है कि जब भी संसद सदस्य या  विधायक उनसे मिलने आएं तब वो अपनी सीट से उठकर उनका स्वागत करें। यह भी निर्देश दिए गए हैं कि अधिकारियों को विधायकों और सांसदों के साथ बर्ताव में शिष्टाचार बरतना चाहिए l प्रदेश में सांसद विधायक अक्सर अधिकारियों पर उन्हें सम्मान नहीं देने और उनकी सुनवाई नहीं करने का आरोप लगाते रहे हैं l खासकर कांग्रेस नेताओं की अफसरों से पटरी नहीं बैठ रही है, जिसकी शिकायतें सीएम तक भी पहुँच रही है l आखिरकार अब फरमान जारी कर कहा गया है कि माननीयों के सम्मान में कोई कमी नहीं आनी चाहिए l हालांकि कुछ अफसरों का कहना है कि सांसद-विधायकों के आने पर अपनी सीट से उठकर उनका स्वागत भी करते हैं। इसलिए ऐसे स्थिति नहीं बनती l

Sunday, 1 December 2019

08:14

संस्कारों के अभाव से होते हैं अपराध- मुरलीधर महाराज


भोपाल जीवन में अगर संस्कार नहीं हैं तो संस्कृति को पतन से कोई नहीं बचा सकता। आज हमारे जीवन में संस्कारों की निरंतर कमी हो रही है। फलस्वरूप अपराध और असामाजिक तत्वों का मानव समाज में जाल सा बिछता जा रहा है। यह बात जोधपुर राजस्थान से पधारे प्रख्यात संतश्री मुरलीधर महाराज ने भेल के जंबूरी मैदान में चल रही नौ दिवसीय श्रीराम कथा के चौथे दिन शनिवार को हजारों श्रोताओं को संबोधितकरते हुए कही। उन्होंने रामचरित मानस की चौपाइयों का विस्तार से संगीतमय वर्णन करते हुए कहा कि रावण ने माता सीता का हरण कर उन्हें अशोक वाटिका में रखा, किंतु कभी उन्हें स्पर्श नहीं किया। रावण की इस बुराई के कारण आज भी जगह-जगह उसके पुतले जलाए जाते हैं। इधर आज पैसे की प्रधानता हो रही है और संस्कार लुप्त होते जा रहे हैं, मानव समाज में घर-घर गली-गली रावण घूम रहे हैं। महाराजश्री ने कहा कि समाज में आज धन की नहीं, संस्कारों की प्रधानता होनी चाहिए। हमें अपनी संतानों को अच्छे संस्कार देने होंगे, ताकि सनातन संस्कृति की रक्षा करना संभव है। शनिवार को कथा में मुख्य रूप से मुंबई से डॉ. चंदा शर्मा, पंकज श्रीवास्तव, बीएस भदौरिया, हरीश वाथवी, रमेश रघुवंशी, हीरालाल गुर्जर सहित दो हजार से अधिक श्रद्धालु मौजूद थे।
शुभ संकल्प लेने होंगे :
रामकथा के दौरान महाराजश्री ने गंगा अवरण की कथा सुनाते हुए कहा कि रामजी से ऋ षि मुनि को पैर छुआने का पाप हुआ था, इसलिए विश्वामित्र ने उन्हें गंगा स्नान कराया। हम सबसे भी जीवन में जाने-अनजाने में पाप हो जाते हैं। इसलिए साल में एक बार गंगा स्नान जरूर करना चाहिए। महाराजश्री ने कहा कि हमें जीवन की उम्र बढ़ानी है तो शुभ संकल्प लेने होंगे। इन संकल्पों को पूरा करने के लिए हमारे जीवन की उम्र भी लंबी हो जाती है। मन भले ही संसार में हो, फिर भी हमें राम नाम का सुमिरन करते रहना चाहिए।
धनुष टूटते ही पंडाल में गूंजे जयकारे :
मानस पुराण पूजन से आरंभ हुई कथा में व्यासपीठ से भगवान राम द्वारा धुनष भंग के प्रसंग का संगीतमय वर्णन किया। महाराजश्री ने कहा कि धनुष अहंकार का प्रतीक है और सीता जी भक्ति का। कोई भी मनुष्य अहंकार को तोड़कर ही भक्ति पा सकता है। ‘भूप सहसदश एकहि बारा, लगे उठावन टरे न टारा।’ उन्होंने कहा कि धनुष को तोड़ने कई राजा एकसाथ मिलकर उठाने की कोशिश करते हैं, लेकिन धनुष हिलता भी नहीं है। अंत में मुनि विश्वामित्र की आज्ञा पाते ही भगवान राम ने सभी मुनिगणों को प्रणाम किया और क्षणमात्र में धनुष तोड़ दिया। यह प्रसंग सुन पंडाल में भगवान राम के जयकारे गूंजने लगे।
सियाजू की मिथिला नगरिया :
इस अवसर पर कथा में रामजी के जनकपुर जाने का प्रसंग सुनाया गया। 'सियाजू की मिथिला नगरिया" भजन की प्रस्तुति पर श्रोता झूम उठे। राजा जनक के मुनि विश्वामित्र के संवाद का बखान करते हुए संतश्री ने कहा कि कथा सुनने के साथ ही जीवन में कथा के चरित्र अपनाने से ही जीवन सफल होगा। इसी तरह  ‘दशरथ राजकुमार नजर तोहे लग जेहे’ सुनाए गए भजन पर श्रद्धालुओं ने जमकर नृत्य किया। महाराज ने पुष्प वाटिका में राम-सीता के मिलन का भी बहुत सुंदर चित्रण किया। उन्होंने कहा कि सीताजी को नारद जी द्वारा कही गई बात याद आई, जिससे रामजी का दर्शन कर भावविभोर हो गईं।
जहां नीति होगी वहां प्रीति नहीं :
महाराजश्री ने कहा कि जहां नीति होगी, वहां प्रीति नहीं और जहां प्रेम होगा, वहां नियम नहीं होते हैं। शरीर का आकर्षण वासना है। हम जिसे प्रेम करते हैं, उसी के लिए जीते हैं, तो ही सच्चा प्रेम है। पुरुष ज्ञानी होता है। वह भगवान के दर्शन तो कर सकता है, लेकिन परिचय नहीं। जबकि नारी भक्ति है जो दर्शन और परिचय दोनों ही कर सकती है। बालक सहज भक्त होता है। सहज भक्त जैसा कहता है परमात्मा वैसा ही करते हैं।

Wednesday, 20 November 2019

01:44

उमा भारती हुई ऋषिकेश अस्पताल में भर्ती


भोपाल। उत्तराखंड के ऋषिकेश में पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उमा भारती चोटिल हो गईं। जिसके बाद उन्हें आनन-फानन में अस्पताल में भर्ती कराया गया। फिलहाल उनका जौलीग्रांट स्थित हिमालयन हॉस्पिटल में  इलाज चल रहा है। दरअसल, इन दिनों उमा भारती गौमुख से गंगासागर तक गंगा की यात्रा कर रही हैं। यात्रा के दौरान ऋषिकेश में ब्रह्मपुरी आश्रम के पास पैर फिसलने के कारण उमा भारती चोटिल हो गईं, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। सिर में चोट के अलावा भारती के बाएं पैर में दो फ्रैक्चर आए हैं। शुरुआत में सिर्फ सूजन आई लेकिन उन्हें अस्पताल लाया गया, जहां उन्होंने ज्यादा दर्द की शिकायत की। चोट के बारे में  उन्होंने कहा कि उनके पैर पर प्लास्टर चढ़ा हुआ है और यह अगले एक महीने तक रहेगा। डॉक्टरों की टीम ने मुझे 24 घंटे अस्पताल में रुकने को कहा है।

Wednesday, 13 November 2019

11:33

बुंदेलखंड के कर्म योगी संतोष गंगेले ने लाखो बच्चों और भारतीय संस्कृत बचाने के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया


 भोपाल मध्य प्रदेश के समाज सुधारक ,भारतीय संस्कृति के रक्षक , समाज को जीवन समर्पित करने वाले बुंदेलखंड के छतरपुर जिला के एक ऐसे कर्मयोगी साहित्य पत्रकारिता और  समाज सेवा के प्रेरक श्री – संतोष कुमार गंगेले- जिनका जन्म 11 दिसम्बर सन् 1956 को मध्य प्रदेश के छोटे से ग्राम बीरपुरा में किसान – श्री प्यारे लाल गंगेले [संत /बाबा श्री हरिहर महाराज ]-माता – श्रीमती सुमित्रा देवी के घर हुआ। इस कर्मयोगी प्रतिभा के धनी सामाजिक नागरिक ने अपनी -जन्म स्थान – ग्राम बीरपुरा पो0 नौगाव (बुन्देलखण्ड) थाना नौगाव जिला छतरपुर मध्य प्रदेष पिन कोड -471201 है। में बिषम कठिनाइयों में अपनी – शिक्षा- बी.ए.तक बापू महाविद्यालय नौगाव जिला छतरपुर मध्य प्रदेश में ग्रहण की। इनका बिबाह – 1985 में सीमावर्ती महोबा जिले के ग्राम जगतपुर थाना जिला की श्रीमती प्रभा देवी एक गरीब व आर्थिक दृष्टि से कमजोर परिवार में में हुआ ,बिना दहेज़ शादी कर समाज को सन्देश दिया गया था। इनकी धर्म पत्नी ने चार संतान दो पुत्र कुलदीप , राजदीप दो पुत्रियाँ- मंदाकनी -अभिलाषा को जन्म देकर अल्प समय में बीमारी के चलते 20 अक्टूबर 1993 में मृत्यु हो गई। बच्चो के पालन पोषण में भारी दिक्कत होने पर 14 दिसम्बर 1993 में दूसरी शादी कर पत्नी रंजना देवी की एक संतान- रत्नदीप के पिता बने। इनके – भाई बहन – राजेन्द्र कुमार गंगेले-अधिबक्ता, सुरेश गंगेले सहित्यकार, लेखक, पत्रकार , कैलाश [मानसिक रोगी ] बहन – गीता , गृहणी है। इनके पिता जी-संघर्ष पूर्ण चुनोतियो के साथ सामान्य किसान जीवन के बाद संत हुये , संत होने के बाद , मेरी माँ के साथ भारत का भ्रमण किया । श्रीराम चरित मानस का बिषेष ज्ञान रखते थें, तथा भविष्य बक्ता रहे । संत हो जाने के बाद उन्होने समाज में भारतीय संस्कृति के माध्यम से समाज सेवा की, बाल्यमीक जी की तरह उनका जीवन रहा है । इस कर्मयोगी को गूगल google sarch में लाखों दर्शक देख चुकें है।  आप भी गूगल सर्च इंजन में संतोष गंगेले समाजसेवी लिखकर खोजे , पढ़े फिर इनके बारे में सहयोग करें।  मिडिया साथिओ का सहयोग भी नहीं भुलाया जा सकता है।
कर्मयोगी श्री संतोष गंगेले का बचपन- बहुत ही कठिन परिस्थितिओ से गुजरता हुआ रहा । क्यों कि पिता जी के संत हो जाने के बाद अपने छोटे भाईयों व बहन का पालन पोषण का कार्य उन्ही के कंधों पर था , इसलिए उन्होंने ईश्वर की कृपा से अपने जीवन को कर्मयोग के रूपमें स्वीकार करते हुये कठिन से कठिन कार्य करते हुये भाई बहनों का मुशिबतों से दूर रखा, उनका पालन पोषण किया तथा उनकी षिक्षा पर ध्यान देकर उन्हे सक्षम बनाया । परिवार की माली हालत ठीक न होने के कारण एक समय व्यापारियों के यहाँ कार्य किया एक समय अध्ययन स्वयं किया , सत्य को साथ रखा ईमानदारी को मित्र बनाया , सफलता साथ चली अपने मुकाम तक पहुचने में मुझे सत्य व ईमानदारी को मित्र बना कर अपने कुछ अपने साथियो की मदद से -परिवारिक समस्याओं को दूर करने केलिए भारत सरकार की आर्मी एमईएस में 1977 में चैकीदार बन कर परिवार का संचालन किया। उसके बाद मैने 1979 में दिल्ली जाकर एक साल तक मजदूरी का कार्य किया, दिल्ली से वापिस बीरपुरा आकर चाय पान की दुकान नौगांव में खोलकर हायर सेकेण्ड्री कीप्राइवेट परीक्षा उत्तीर्ण करते हुये बी0ए0 में प्रवेष लिया । मध्य प्रदेश हिंदी टाइपिंग बोर्ड परीक्षा उत्तीर्ण करने के साथ ही बी0ए0 फाइनल हो जाने के बाद एल.एल.वी. में 1985 प्रवेश लिया था.लेकिन आगे की शिक्षा नहीं हो सकी।
श्री संतोष गंगेले ने पहलीवार राजनैतिक – छात्र नेता के रूप में- हायरसेकेण्ड्री की परीक्षा के दौरान छात्र नेता के रूपमें पहली बार 1979 में छात्र संघ का सचिव बना , मंच का कलाकार बनने के शौक ने उनको रंगमंच पर भी अवसर मिला जिसमें वह सफल रहे । जिला , संभाग, एवं बुन्देलखण्ड स्तर के पत्रकार सम्मेलन कराने का भी अवसर मिला है । बापू महाविद्यालय नौगांव में आने सामाजिक कार्यो में सहभागिता का निर्वाहन किया ।
उन्होंने -पत्रकारिता में प्रवेश- सन् 1981 में छतरपुर से प्रकाशित दैनिक राष्ट्र-भ्रमण समाचार पत्र का पहली बार संवाददाता नियुक्त हुआ । उसके बाद मुझे पत्रकारिता में इतनी रूचि हुइ कि मैं छतरपुर के साथ साथ सतना, भोपाल, रीवा , ग्वालियर, सागर, झाॅसी , कानपुर ,दिल्ली आदि शहरो के राष्ट्रीय समाचार पत्रों में लिखने लगा । पत्रकारिता के क्षेत्र में ख्याती प्राप्त हो जाने के कारण समाज सेवा एवं राजनैतिक क्षेत्र में पहुॅच हुई । अनेक लेख,कवितायें , कहानी भी लिखने का शौक रहा । जीवन में उतार -चढ़ाव के साथ सामाजिक कार्यो में अपने जीवन को समाजहित में कार्य करते आ रहा है।
सन् 2004 से कम्प्यूटर का अनुभव लेकर, इंटरनेट पर अपनी पहचान बना सका हॅू । मेरी तस्वीरो एवं नेट पोर्टल के माध्यम से अनेक बेब साईटों पर लेखक का करते है । आप उनके बारे में गॅूगल में लिखे- santosh gangele –
उनके portal -www.ganeshshankarsamacharsewa.in देश के अनेक बेव पोर्टलों में लेखन का कार्य करते है । जिसमे -www.mpmirror.com www. Ajmernama.com. http://www.liveaaryaavart.com/, www.rainbonews.in-and other wew..में कार्य किया है।
श्री संतोष गंगेले ने अपने कर्म के व्दारा भाग्य बदलने का लगातार प्रयास जारी रखा, छतरपुर जिला कलेक्टर श्री होशियार सिंह जी ने रोजगार केलिए तहसील में प्राइवेट याचिका लेखक के रूपमें 1983 में नियुक्त किया । रोजगार के साधन जुट जाने के बाद उनके विकाश की गति बढ़ती गई । पत्रकारिता समाज सेवा लेखक के साथ साथ षिक्षा ग्रहण करते हुये सन् 1984 में बी0ए0 फाईनल किया ।इसी बर्ष दस्तावेज लेखक की अनुज्ञप्ति मिली। 21 फरबरी सन् 1985 में विवाह संस्कार हुआ । इस आयोजन में रिष्तेदारों के अतिरिक्त समाजसेवी, अधिकारी, नेता, पत्रकारों ने उनका साथ दिया ।
-सुख दुःख की यात्रा के बीच सन् 1993 में मेरी धर्म पत्नी का निधन हो गया । ईष्वरी कृपा से दो माह के अंदर ही दूसरा विवाह 14 दिसमबर 1993 को एक गरीव किसान परिवार में हुआ । उनकी दूसरी धर्म पत्नी ने बो इतिहास रचा जो आज तक लाखों में कोई एक भारतीय महिला ही रच सकती है , पहली पत्नी के चार बच्चों का पालन पोषण हो जाने के बाद उनकी इच्छा से एक पुत्र को जन्म देकर , नसबंदी करा दी । सभी बच्चों का पालन पोषण इस प्रकार किया कि कोई माँ अपने निजी पुत्रों की नही कर सकती थी । श्रीमती रंजना देवी अपने पास नातिन कुमारी आल्या दिक्षित को रख कर उसका पालन कर नारी के गौरव को स्थापित कर रही है। उनका भारतीय नारी गौरव से सम्मान भी हो चूका है यहीं उनके पुण्य प्रताप थें । यही ईष्वर भक्ति है ।
श्री संतोष गंगेले दहेज़ विरोधी रहे इसी कारण उन्होंने अपने पुत्र राजदीप गंगेले का बिबाह 17 फरबरी 2016 को ग्राम आलीपुरा जिला छतरपुर में एक सामान्य साधारण शिक्षित परिवार की कन्या से करते हुए समाज को बिना दहेज़ बिबाह करने संदेश दिया।
वह अपनी प्रगति को भगवान श्री कामता नाथ चित्रकूट व भगवान श्री राम राजा सरकार श्री ओरछा बालों की कृपा से मानकर ही सामाजिक कार्य करते है। वह मानते है की उनके ऊपर दुर्जनो की संगति प्राप्त नही हुई , किसी प्रकार की नषा की आदत नही हुई ।उनका व्यवहार सत्य पर निर्धारित है । वह सत्य वचनों पर अपने जीवन संचालित करते है इसलिए कुछ लोगों को सत्य हजम नही होने के कारण उनकी बुराईयाॅ करते है । उनके जीवन की सैकड़ों ऐसी घटनायें हैं जो आज की युवा पीढ़ी केलिए एक प्रोत्साहित व प्रेरणादायी और नजीर हो सकती है ।
श्री संतोष गंगेले ने अपने जीवन में नियम व संयम का पालन किया । किसी विशेष संकट या बीमारी में मुझे सूर्य उदय के बाद उठने का अवसर मिला अन्यथा आज तक विस्तर पर सूर्य उदय नही हुआ । प्रतिदिन अध्यात्मिकता का अध्ययन ईश्वर का नाम , समाज सेवा की लगन , गरीवों पीड़ित परेषानों की मदद ही मेरी मौत को दूर भगाते आ रही है । बर्ष 1986 में जिला जज श्री एम् एस कुरैशी जी के समक्ष पत्रकार शपथ ग्रहण कर समाज सेवा के क्षेत्र में कदम रखा। बर्ष 1990 में जिला पत्रकार सम्मेलन करने के बाद बर्ष 1995 में नगर पालिका नगर भवन नौगांव में बुन्देल खंड स्तरीय पत्रकार सम्मेलन हुआ जिसमे एक सौ से अधिक पत्रकारों ,समाज सेवीनागरिको ,अधिकारियो को सम्मानित किया गया. – सन् 2004 से कम्प्यूटर का हल्का ज्ञान अर्जित करते हुए उन्होंने इंटरनेट पर अपनी पहचान बनाने में कसर नहीं छोड़ी । सन् 2007 से नौगाॅव जनपद पंचायत क्षेत्र की प्राथमिक , माध्यमिक एवं हायर सेकेण्ड्री स्कूलों में जाकर बच्चों के बीच बाल सभाओं का आयोजन कराना, प्रतिभाओं को निखारने का कार्य करता हॅू तथा शिक्षकों का सम्मान, समाज सेवा करने बालों, ईमानदार कर्मचारियों का सम्मान, स्वतंत्रता संग्राम सेनानियेां पत्रकारो को सम्मान करना उनका पहला कर्तव्य है । जो पुलिस अधिकारियो / कर्मचारीओ ने उत्तम या समाज में अच्छा कार्य करते है उनका अनेकोवार सम्मान किया गया। -शहीद गणेष शंकर विद्यार्थी जी के जीवन से प्रभावित होकर गणेष ष्षंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब का गठन का संस्था का 2013 में पंजीयन कराया है । इस संस्था के माध्यम से मध्य प्रदेष के सम्पूर्ण जिला के पत्रकारों को एक मंच पर लाने एवं पत्रकारिता की गरिमा बनाये रखने, पत्रकारों की समस्याओं का हल कराने का मेरा लक्ष्य है। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में अप्रेल 2015 में के सम्मलेन प्रदेश के 13 संगठनों के साथ कर इतिहास बनाया।
प्रांतीय अध्यक्ष संतोष गंगेले जी ने प्रदेश भ्रमण पर निकल कर जगह -जगह संगठन के कमेटियां गठित ही। पहला गणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब मध्य प्रदेश का सम्मेलन सी फॉर होटल छतरपुर में 26 अक्टूबर 2013 को श्री आलोक चतुर्वेदी के सहयोग से हुआ जिसमे 21 सामाजिक नागरिको ,स्वतंत्रता संग्राम सेनानियो ,अधिकारियो , पत्रकारों को सम्मानित किया गया। दूसरा सम्मेलन 23 फरबरी 2014 जीरापुर राजगढ़ में हुआ। प्रांतीय सम्मलेन 26 अक्टूबर 2014 को गाँधी भवन भोपाल में आयोजित हुआ। तीसरा सम्मेलन 25 अक्टूबर 2015 को विदिशा में आयोजित किया गया। मध्य प्रदेश के मंत्री श्री रामपाल सिंह जी ने इस अवसर पर बेव साईट का शुभारंभ किया तथा प्रदेश के एक समाजसेवा के लिए सम्मानित किया। सागर ,विदिशा ,सिहोर ,इंदौर,उज्जैन ,देवास ,शाजापुर ,आगर -मालवा ,नलखेड़ा ,खिलचीपुर ,सिरोंज विदिशा गंजबासोदा ,हरदा , बंडा ,मुंगावली अशोकनगर , चंदेरी , टीकमगढ़ ,ग्वालियर ,मुरैना ,शिवपुरी ,गुना , राजगढ़ ब्यावरा ,पचोर , मंडीदीप भोपाल में 10 दिसम्बर 2015 को आयोजित किया गया। मध्य प्रदेश के पत्रकारों और आम जन की समस्याओ को लेकर प्रदेश सरकार को सैकड़ो पत्र लिख कर सरकार का ध्यान आकर्षित किया गया।
श्री संतोष गंगेले जी का -बुंदेलखंड पत्रकार गौरव सम्मान 1 जुलाई 2014 को आजाद भवन दिल्ली में सम्मानित किया गया. . 31 मई 2015 को चंद्र लेख होटल मथुरा में प्रदेश गौरव सम्मान से सम्मानित किया गया। 7 मार्च 2015 को विदिशा जिला कलेक्टर ने सर्किट हॉउस में समाज सेवा के लिए सम्मानित किया गया। 5 सितंबर 2015 को गंजबासोदा विदिशा में सम्मानित किया। 12 सितम्बर 2015 को इंदौर में सम्मानित किया गया। 13 दिसम्बर 2015 को मानस भवन जबलपुर में समाज गौरव सम्मान से सम्मानित किया गया। राजस्थान के बसवा जिला दौसा में राष्ट्रीय पत्रकार 9 जनवरी 2017 को पत्रकारिता और देश सेवा के लिए भारत सरकार के राज्य मंत्री श्री रामदास आठवले ने सम्मानित किया तथा समाजसेवा के लिए धन्यवाद पत्र भेजा।  30 मई 2018 को उत्तर प्रदेश पत्रकार संघ द्वारा महोबा में पत्रकारिता एवं समाज सेवा सम्मान सम्मानित किया गया साथ ही छतरपुर जिला के विभिन्न सामाजिक संगठनों ने अनेक स्थानों पर सम्मानित किया।
अनेको बार आकाशवाणी छतरपुर से बार्ता प्रसारित हो चुकी है।प्रदेश के अनेक जिला व तहसील स्तर पर सम्मान मिला। छतरपुर जिला स्वतंत्रता संग्राम सेनानी संघ अध्यक्ष श्री राम कृपाल चौरसिया जी व बुंदेलखंड बरिष्ठ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्री प्रताप सिंह [नन्हे राजा ] ने श्री संतोष गंगेले के सामाजिक कार्यो व जीवन की सराहना की है। -नगर पालिका परिषद् नौगांव सामाजिक कार्य करने और ईमानदारी से पत्रकारिता के लिए नागरिक अभिनंदन कर चुकी है। -17 फरबरी 2016 को सामाजिक समरसता सम्मान समारोह का आयोजन कर भारतीय संस्कृति की रक्षा के लिए पहल की जिसकी प्रशासन व जन प्रतिनिधियो ने सराहना की है। मध्य प्रदेश सरकार जन सम्पर्क विभाग से राज्य स्तरीय अधिमान्य पत्रकार नियुक्त किये जा चुके है। 
समाज सेवी संतोष गंगेले कर्मयोगी स्कूलों ,प्रशिक्षण केन्द्रो ,महाविद्यालयो के 5 लाख से अधिक विधार्थीओ से व्यक्तिगत मिल कर समाज और राष्ट्र सेवा का संकल्प दिला चुके है।  लगभग 20 बर्षो से शिक्षा ,स्वास्थ्य ,स्वच्छता ,समरसता ,समाज , भारतीय संस्कृति , नशा मुक्ति ,दहेज़ एक कलंक है. दुर्घटनाओं को रोकने के लिए जन जागरूकता अभियान निजी धन को खर्च कर राष्ट्र सेवा के लिए तन मन धन से समर्पित होकर समाज सेवा करते आ रहे है।  भारत निर्वाचन के लिए निजी तौर पर मतदाता जागरूकता अभियान प्रत्येक चुनाव में करते है।
समाजसेवी संतोष गंगेले कर्मयोगी बुंदेलखंड के विभिन्न जिला मध्य प्रदेश में मोटर साईकिल से  1 जुलाई 2016  को अपने गृह ग्राम वीरपुरा पंचयात धर्मपुरा शासकीय माध्यमिक शाला से बुंदेलखंड क्षेत्र का दौरा करने के निर्णय को स्थानीय नेताओ और प्रशासनिक अधिकारिओ को अवगत करने हुए शुरू किया। छतरपुर , टीकमगढ़ ,पन्ना महोबा ,हमीरपुर ,झाँसी ललितपुर के विभिन्न शिक्षण संस्थानों में निजी वाहन से चलकर विचार गोष्ठीओ के माध्यम से लाखों बच्चो को नैतिक शिक्षा ,भारतीय संस्कृति , पर जन जाग्रति अभियान निःस्वार्थ भावना के साथशुरू किया , शिक्षण संस्थाओ के प्रतिभावान बच्चो को सम्मानित करना , उनको साहित्य सामग्री देकर सम्मानित करना। बेटी बचाओ -बेटी पढ़ाओ अभियान ,स्वच्छ भारत अभियान ,को निजी धन से समाज सेवा ,ोा राष्ट्र प्रेम के साथ शरू किया। इस जन संपर्क को प्रिंट मिडिया और वेव साइटों पर कुछ स्थान भी मिला। बुंदेलखंड के लोक कवी ईश्वरी के जन्म ग्राम मेढ़की में उत्तर प्रदेश के राज्य मंत्री दर्जा श्री हरगोविंद कुशवाहा जी और मऊ रानीपुर विधायक श्री प्रागीलाल आर्य ने सम्मानित किया। 9 जनवरी 2018 को बसवा जिला दौसा राजस्थान में समाज सेवा के लिए राष्ट्रिय सम्मान मिला। भारत सरकार के राज्य मंत्री डॉ वीरेंद्र खटीक जी ने और राज्य मंत्री श्री रामदास आठवले जी ने श्री संतोष गंगेले अपने समाजसेवी के सम्मान किया. . ! श्री संतोष गंगेले को यह जूनून -भारतीय संस्कृति की रक्षा के साथ -साथ -शिक्षा ,स्वास्थ्य ,स्वच्छता ,समरसता ,समाज ,बेटी बचाओ -बेटी पढ़ाओ ,नाश मुक्ति अभियान ,योग -आध्यात्मिकता से जीवन जीने के मन्त्र स्कूल के बच्चो को देने बाल सभाओ के माध्यम से प्रोत्साहित किया जा रहा है। ग्रामीण व कस्बाई क्षेत्रो में गरीब व पीड़ित ,परेशान आमजन की आर्थिक और क़ानूनी मदद करते है। ग्रामीण क्षेत्रो में पीड़ित परेशानो की मदद करते है। अपने जीवन में पर्यावरण की सुरक्षा को लेकर उनके परिवार के स्वर्गवासी सभी सदस्यो के नाम से बृक्षारोपड किया गया है। उनके गृह निवास व कार्यालय में उन्होंने बृक्षारोपड किया है। सामाजिक समरसता के आने उदहारण उनके जीवन के मिल सकते है। हम यही कह सकते है की ऐसे सामाजिक समाजसेवी श्री संतोष गंगेले को गाँधीवादी विचारो से जोड़ कर उनको समाज सुधारक या बुंदेलखंड के कर्मयोगी कहा जावे तो अतिश्योक्ति न होगीं। लगातार समाज सेवा करने के लिए संत महात्माओं कथावाचक प्रवचन कर्ताओं से भी समाज सुधारने के लिए अनुरोध करने में पीछे नहीं है पूरे बुंदेलखंड में जन जागरण अभियान लगातार जारी है

Tuesday, 5 November 2019

21:52

राज्य में राजनीतिक हलचल के बीच शिवराज सिंह पहुंचे दिल्ली



पंकज पाराशर छतरपुर भोपाल l झाबुआ उपचुनाव में हार के बाद पवई विधायक प्रहलाद लोधी की सदस्यता रद्द होने से भाजपा को दो बड़े झटके लगे हैं l इसको लेकर हाई कमान सक्रिय हो गया है l दिल्ली से निर्देश के बाद भाजपा विधानसभा की कार्रवाई के खिलाफ राज्यपाल के पास पहुंची l इससे पहले पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बंगले पर इस मामले पर रणनीति बनी और कानूनी पहलुओं पर चर्चा हुई l बीजेपी के दस विधायक प्रह्लाद सिंह लोधी की सदस्यता को लेकर राज्यपाल लालजी टंडन से मिलने पहुंचे। जिसमें वरिष्ठ नेता नरोत्तम मिश्रा और सीतासरण शर्मा, यशोधरा राजे सहित अन्य नेता शामिल रहे l बीजेपी विधायकों ने राज्यपाल के सामने सदस्यता खत्म करने के मामले को लेकर विरोध जताया l वहीं सियासी हलचल के बीच शिवराज सिंह चौहान दिल्ली पहुँच गए हैं l जहां उन्होंने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। भाजपा का कहना है कि विधानसभा अध्यक्ष ने नियम विरुद्ध प्रहलाद लोधी की सदस्यता को ख़त्म करने का आदेश दिया है l पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सीताशरण शर्मा ने कहा कि जो फैसला लिया गया है वह न्याय संगत नहीं है, विधानसभा अध्यक्ष को इसका अधिकार नहीं है, यह मामला राज्यपाल को जाना था l वहीं बीजेपी विधायकों की राज्यपाल से मुलाक़ात पर मंत्री डॉ गोविन्द सिंह ने हमला बोला है l उन्होंने कहा प्रहलाद लोधी की सदस्यता ख़त्म होने के बाद राज्यपाल के पास कोई अधिकार नहीं है l घबराहट में राज्यपाल के पास भाजपा विधायक पहुँच रहे हैं l जब प्रहलाद लोधी ने हाई कोर्ट में अपील की है तो राज्यपाल के पास जाने का क्या तुक है, वहीं उन्होंने यह भी कहा कि करप्शन मामले में कई बीजेपी विधायकों की विधायकी ख़त्म होने वाली है l इसलिए वे लोग घबराहट में भाग रहे हैं l बताया जा रहा है कि दिल्ली से बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह प्रदेश के सियासी घटनाक्रम से नाराज हैं, सदस्यता रद्द होने के मामले में बीजेपी अब तक सिर्फ बयानबाजी कर रही थी, आलाकमान के हस्तक्षेप के बाद भोपाल में हलचल बढ़ गई है। इसके बाद अब भाजपा प्रहलाद लोधी के लिए बचाव के रास्ते निकालने में जुट गई है l वहीं सीएम कमलनाथ के दो तीन सीट और आने वाले बयान के बाद भाजपा में हड़कंप मचा हुआ है l जिसको लेकर हाई कमान भी सक्रिय हो गया है l पूर्व सीएम शिवराज को दिल्ली तलब किया गया है, जहां उन्होंने अमित शाह से मुलाकात की है l मध्य प्रदेश के वर्तमान सियासी हालात पर दोनों के साथ चर्चा भी हुई है।