Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Showing posts with label भोपाल. Show all posts
Showing posts with label भोपाल. Show all posts

Friday, 27 November 2020

00:31

भोपाल से वैक्सीन ट्रायल की अच्छी खबर:deepak tiwari

भोपाल.आईसीएमआर के सहयोग से भारत बायोटेक पहली स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सीन के थर्ड फेज का ट्रायल कर रहा है। इसके लिए पूरे मध्य प्रदेश में भोपाल में दो संस्थानों को चुना गया है। गांधी मेडिकल कॉलेज और पीपुल्स मेडिकल यूनिवर्सिटी।
इसमें गांधी मेडिकल कॉलेज के प्रस्ताव को भारत बायोटेक ने पेंडिंग में डाला हुआ है, जबकि जीएमसी की एथिक्स कमेटी 6 दिन पहले ही सभी प्रकार की सहमति दे चुकी है। वहीं पीपुल्स मेडिकल यूनिवर्सिटी ड्रग ट्रायल के लिए तैयार है। यहां पर कोवैक्सीन के डोज पहुंच चुके हैं और अगर सब कुछ ठीक रहा तो शुक्रवार से वालंटियर्स को डोज दिया जाएगा। इसके लिए 100 वालंटियर चुने गए हैं। इसके पहले सभी प्रकार की सहमति ले ली गई हैं।
पीपुल्स मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. अनिल दीक्षित ने बताया कि हमारे यहां कोवैक्सीन के डोज पहुंच चुके हैं। आज भी भारत बॉयोटेक के एक प्रतिनिधि आए हुए हैं। हमारी उनसे तैयारियों को लेकर चर्चा हुई है। हम 27 नवंबर यानि शुक्रवार से ट्रायल शुरू करने की तैयारी में हैं।
इधर, गांधी मेडिकल कॉलेज ने ट्रायल के लिए सभी तरह की तैयारी कर ली है। संस्थान की एथिकल कमेटी पहले ही हरी झंडी दे चुकी है। वहीं वैक्सीन डोज के स्टोरेज की व्यवस्था भी कर ली गई है, लेकिन भारत बॉयोटेक ने अब तक हमारे संस्थान को ट्रायल के लिए अप्रूव नहीं किया है। गुरुवार को जीएमसी की डीन डॉ. अरुणा कुमार अपनी पूरी टीम के साथ दिन भर वैक्सीन के ट्रायल को आईसीएमआर और भारत बॉयोटेक के अधिकारियों से अप्रूव कराने की कोशिश में जुटे रहे।
डॉ. कुमार ने कहा कि हमें उन्होंने (भारत बॉयोटेक) आश्वस्त किया है कि जीएमसी में ट्रायल होगा, जल्द ही इसकी सूचना देंगे। हमने ये जानकारी हॉयर अथॉरिटीज को दी है। हमारी तरफ से कोवैक्सीन के ट्रायल के लिए हम तैयार हैं।
सरकार पीपुल्स के ट्रायल को अपना नहीं मान रही
पीपुल्स मेडिकल यूनिवर्सिटी में होने वाले ट्रायल को मध्य प्रदेश सरकार अपना नहीं मानती है। इस संबंध में जब मध्य प्रदेश चिकित्सा शिक्षा विभाग के कमिश्नर निशांत बरबड़े से पूछा कि जीएमसी में अब तक कोवैक्सीन के ट्रायल के डोज नहीं आए और पीपुल्स ड्रग ट्रायल कराने की तैयारी कर रहा है, वहां पर वैक्सीन आ चुकी है। इस पर बरबड़े ने कहा कि वह उनका कॉलेज नहीं है।
वैक्सीनेशन के बाद जांचेंगे असर
वैक्सीनेशन के बाद वॉलंटियर की इम्युनोजेनसिटी जांच की जाएगी। इस जांच में टीकाकरण के बाद संबंधित व्यक्ति के इम्यून सिस्टम में हुए बदलावों का एनालिसिस किया जाएगा। इसके अलावा प्रत्येक वॉलेंटियर का टीकाकरण के बाद एंटीबॉडी टेस्ट एक निश्चित समयांतराल के बाद किया जाएगा। ताकि संबंधित में वैक्सीनेशन के बाद एंटी बॉडी बनने के लेवल को जांचा जा सके।

Monday, 23 November 2020

19:58

केबीसी में पहुंची भोपाल की ओशीन:deepak tiwari

भोपाल.सोनी टीवी के चर्चित टीवी शो कौन बनेगा करोड़पति (केबीसी) में भोपाल की ओशीन जौहरी आज हॉट सीट पर दिखाई देंगी। उनके एपिसोड का टेलिकास्ट और 23 और 24 नवंबर को रात नौ बजे से होगा। सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के साथ हाॅट सीट पर दिखने को लेकर डीके कॉटेज निवासी ओशीन जौहरी काफी उत्साहित हैं। गौरतलब है कि लॉकडाउन के बाद गत अक्टूबर माह से शुरू हुए केबीसी के पहले एपिसोड में अन्ना नगर झुग्गी बस्ती निवासी इंजीनियरिंग छात्रा आरती जगताप को दिखाया गया था। उन्होंने करीब छह लाख रुपए की राशि जीती थी। अब भोपाल से दूसरी लड़की ओशीन जौहरी केबीसी की हॉट सीट तक पहुंची हैं।
डीबी डिजिटल से खास बातचीत में लॉ की स्टूडेंट रही और सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रही ओशीन ने कहा कि मेरे लिए हॉट सीट का सफर और अमिताभ बच्चन सर से मिलना सपने के सच होने जैसा रहा।
ओशीन ने कहा- ‘मैं बचपन से अमिताभ बच्चन सर की फैन रही हूं। उनकी सारी फिल्में देखती रही हूं। मेंने अपने कमरे में फोटो फ्रेम पर दो साल पहले उनके फोटो के साथ अपना फोटो लगाया है। यह बात जब मैंने बच्चन सर को शो में शूटिंग के दौरान बताई तो उन्होंने कहा कि अब मैं भी अपने घर में आपके साथ अपना फोटो लगाऊंगा। यह सुनते ही मुझे यकीन हो गया कि मैंने यह गेम जीत लिया है। यह मेरे लिए बहुत बड़ी बात थी। इस बात ने मेरा कॉन्फिडेंस लेवल भी बढ़ाया।
अमिताभ सर के काॅम्पलीमेंट्स अब भी गूंज रहे कानों में
ओशीन ने कहा कि सर के कॉम्पलीमेंट्स अब भी मेरे कानों में गूंज रहे हैं। बच्चन सर ने शो की शूटिंग के दौरान मुझसे कहा कि मैं स्ट्रांग कैरेक्टर की लड़की हूं। मुंबई में शूटिंग से पहले मैं थोड़ा नर्वस थी। मैंने शूटिंग से पहले 5 मिनट का समय मांगा। बहुत स्ट्रेसफुल सिचुएशन होता है। जब चारों तरफ कैमरे हों। अमिताभ सर ने मोटीवेट किया। उन्होंने मुझे कॉम्पलीमेंट्स भी दिए कि मैं बहुत अच्छे कैरेक्टर की लड़की हूं और मै बहुत अच्छी लग रही हूं।
ओशीन ने बताया कि 7 नवंबर को भोपाल मेरे घर पर केबीसी की टीम ने शूटिंग की। मुंबई में गत 11 और 12 नवंबर को शो की शूटिंग हुई है। बिग बी के साथ काम करने का मौका मुझे मिलेगा, मैंने कभी सोचा नहीं था, लेकिन इस शो के माध्यम से उन्हें करीब से देखने जानने का अवसर मिला है। बच्चन साहब से बहुत कुछ सीखा है। इस उम्र में भी वे बहुत सक्रिय और तेज दिमाग इंसान हैं।
केबीसी की तैयारी के लिए रामायण और महाभारत भी पढ़ी
मैं सिविल सर्विसेज के एग्जाम की तैयारी कर रही हूं। केबीसी में कोई लिमिट नहीं कि किस एरिया से सवाल पूछेंगे। हम लाइफ लॉन्ग जो एक्सपीरियंस करते हैं। वो सारी चीजें काम आती हैं। केबीसी में मैंने देखा कि किस तरह के सवाल आते हैं फिर मैंने उन एरिया की लिस्टिंग की। रामायण और महाभारत पढ़ी। इंडियन माइथोलॉजी को जाना। स्पोर्ट्स के बारे में पढ़ा। आईपीएल के बारे में जाना। क्रिकेट और क्रिकेटर्स को पढ़ा।
केबीसी में काम आई मां की सीख
जब मेरा पहले दिन का एपिसोड शूट हुआ। उसके बाद गुजरात की एक कंटेस्टेंट थी हेमलता। वो मेरा मोरल डाउन कर रही थी जिससे कि मेरा कॉन्फिडेंस लूज हो। तब मुझे मां की सीख याद आई। वो हमेशा मेरी फेवरेट प्लेयर साइना नेहवाल की कहानी सुनाती थी कि किस तरह ओलिंपिक में साइना नेहवाल की विरोधी कोर्ट से बाहर जाकर उनका कॉन्सेंट्रेशन लेवल डाउन कर रही थी। बाद में साइना ने कांसन्ट्रेट करते हुए उसे हराया।
ओशिन के बारे में
ओशीन ने बताया कि केबीसी मैं देखती जरूर थीं, लेकिन भाग लेने के लिए पहली बार प्रयास किया था। कार्मल कॉन्वेंट, भेल से स्कूलिंग और राष्ट्रीय विधि संस्थान विश्वविद्यालय (एनएलआईयू), भोपाल से ग्रेजुएशन पूरा करने वाली ओशीन वर्तमान में सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रही हैं। उनका इरादा प्रशासनिक अधिकारी बनने का है। ओशीन के पापा राकेश जौहरी न्यू इंडिया लाइफ एश्योरेंस में प्रशासनिक अधिकारी, जबकि मम्मी हाउस वाइफ हैं। ओशीन बचपन से ही विभिन्‍न प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेती रही हैं और 15 साल की उम्र में उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए राष्ट्रीय बाल पुरस्कार समेत राष्ट्रपति का प्रशास्ति पत्र भी उन्हें मिल चुका है। मैथ्स और केमेस्ट्री इंटरनेशनल ओलिंपियाड में गोल्ड मेडलिस्ट 25 वर्षीय ओशीन भरतनाट्यम नृत्यांगना भी हैं। उन्हें प्रयाग यूनिवर्सिटी से भरतनाट्यम में सीनियर डिप्लोमा भी किया है।

Sunday, 22 November 2020

07:55

बदलते मौसम में घुली ठंडक:deepak tiwari

भोपाल में दो साल बाद नवंबर में अब तक की सबसे सर्द रात; न्यूनतम तापमान 10.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचा
भोपाल.राजधानी में दो साल बाद नवंबर माह में शनिवार-रविवार की रात अब तक की सबसे सर्द रही। यहां तापमान डेढ़ डिग्री सेल्सियस गिरकर 10.5 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। वर्ष 2018 में नवंबर में सबसे सर्द रात 11.4 डिग्री सेल्सियस की थी। जबकि वर्ष 2017 में नवंबर में रात को न्यूनतम तापमान 9.6 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। अभी उत्तर भारत से आने वाली बर्फबारी के कारण ठंडक बढ़ गई है। मौसम वैज्ञानिक पीके साहा के अनुसार एक दो दिन में न्यूनतम तापमान और नीचे जा सकता है। यह वर्ष 2017 के रिकॉर्ड को भी तोड़ सकता है।
लगातार आते रहेंगे पश्चिमी विक्षोभ
साहा ने बताया कि इस बार ठंड ज्यादा पड़ेगी। पश्चिमी विक्षोभ के लगातार आने के कारण ठंडी रहेगी। अभी दक्षिणी अरब सागर में सुस्पष्ट निम्न दाब क्षेत्र अभी भी सक्रिय है, जबकि चक्रवातीय परिसंचरण अब उड़ीसा में समुद्र तल से 0.9 किमी की ऊँचाई पर सक्रिय है। अद्यतन पश्चिमी विक्षोभ मध्य क्षोभ मंडल की पछुआ पवनों के बीच एक ट्रफ समुद्र तल से 3.1 किमी की ऊंचाई पर धुरी बनाते हुए सक्रिय है,साथ ही दक्षिणी बंगाल की खाड़ी/ हिंद महासागर में एक निम्न दाब क्षेत्र सक्रिय हो चुका है। इससे मौसम में परिवर्तन हो रहा है। दिन में भी इसके कारण ठंडक बढ़ेगी। शनिवार को दिन का अधिकतम तापमान सामान्य से 4 डिग्री सेल्सियस कम 25 डिग्री सेल्सियस तक रहा।
भोपाल में तापमान में 4 दिन में 9 डिग्री तक गिरावट
भोपाल में रात का तापमान चार दिन में 9 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया, जबकि दिन के तापमान में इस दौरान 6 डिग्री से डिग्री तक कम हो गया।

Saturday, 21 November 2020

16:09

भोपाल को मिलीं दो जोड़ी ट्रेन :deepak tiwari

भोपाल.भोपाल से चेन्नई, नई दिल्ली, कन्याकुमारी और हजरत निजामुद्दीन जाने वाले यात्रियों को लिए खुशखबरी है। रेलवे ने दोनों तरफ के लिए दो जोड़ी ट्रेन चल रही हैं। इन स्पेशल ट्रेन का स्टाप पश्चिम मध्य रेल भोपाल मंडल के भोपाल और इटारसी स्टेशन पर दिया गया है। यह 24 नवंबर से शुरू होकर अगले आदेश तक चलाई जाएंगी। यह ट्रेन पूरी तरह से आरक्षित हैं। टिकट कंफर्म होने पर ही यात्रा करने मिलेगी।
1.गाड़ी संख्या : 02621
ट्रेन : एमजीआर चेन्नई सेंट्रल-नई दिल्ली सुपरफास्ट (प्रतिदिन)
दिन : 24 नवंबर से
प्रारंभिक स्टेशन : एमजीआर चेन्नई सेंट्रल स्टेशन से रात 10.30 बजे से
भोपाल मंडल में हाल्ट : अगले दिन शाम 6.30 बजे इटारसी और रात 8.10 बजे भोपाल में
2.गाड़ी संख्या : 02622
ट्रेन : नई दिल्ली-एमजीआर चेन्नई सेंट्रल सुपरफास्ट (प्रतिदिन)
दिन : 26 नवंबर से
प्रारंभिक स्टेशन : नई दिल्ली स्टेशन रात 9.05 बजे से
भोपाल मंडल में हाल्ट : अगले दिन सुबह 6.50 बजे भोपाल और सुबह 8.35 बजे इटारसी में
इन स्टेशनों पर रुकेगी : विजयवाड़ा, वारंगल, बल्लारशाह, नागपुर, इटारसी, भोपाल, झांसी, ग्वालियर एवं आगरा कैंट स्टेशनों पर रुकेगी।
3.गाड़ी संख्या : 06011
ट्रेन : कन्याकुमारी-हजरत निजामुद्दीन (सप्ताह में दो दिन) स्पेशल एक्सप्रेस
दिन : 25 नवंबर से प्रति बुधवार एवं शुक्रवार को
प्रारंभिक स्टेशन : कन्याकुमारी स्टेशन से शाम 7.05 बजे से
भोपाल मंडल में हाल्ट : तीसरे दिन सुबह 6.35 बजे इटारसी और सुबह 8.15 बजे भोपाल में
4.गाड़ी संख्या : 06012
ट्रेन : हज़रत निजामुद्दीन-कन्याकुमारी (सप्ताह में दो दिन) स्पेशल एक्सप्रेस
दिन : 28 नवंबर से प्रति शनिवार एवं सोमवार को
प्रारंभिक स्टेशन : हजरत निजामुद्दीन स्टेशन से सुबह 5.20 बजे से
भोपाल मंडल में हाल्ट : दोपहर 3.55 बजे भोपाल और शाम 5.55 बजे इटारसी में
इन स्टेशनों पर रुकेगी : नागरकोइल, तिरुनेलवेली, सातुर, विरुधुनगर, मदुरई , डिंगल, तिरुचिरापल्ली, वृधाचल्लम, विलुपुरम, चेंगलपट्टू, ताम्बरम, चेन्नई एग्मोर, विजयवाड़ा, बल्लारशाह, नागपुर, बैतूल, इटारसी, भोपाल, झांसी एवं आगरा कैंट स्टेशनों पर रुकेगी।

Friday, 20 November 2020

03:20

सैर पर निकलीं शेरनियां:deepak tiwari

भोपाल.भोपाल में सैर-सपाटा से गुरुवार को 15 महिला बाइक राइडर्स मध्य प्रदेश की सैर पर निकलीं, जो 1500 किलोमीटर का सफर तय करेंगी। इस दौरान यह बाइक रैली जंगलों, मैदानों और पर्वतों से होकर गुजरेगी।
मध्य प्रदेश पर्यटन विभाग की तरफ प्रदेश में पहली महिला बाइकिंग ट्रेल (टाइग्रेस ऑन द ट्रेल) का आयोजन किया गया। प्रदेश की पर्यटन मंत्री ऊषा ठाकुर ने भोपाल सैर सपाटा से महिला बाइक राइडर्स की इस रैली को हरी झंडी दिखाई। महिला बाइकर्स रैली का समापन 25 नवंबर को किया जाएगा।
एमपी से 9 महिला बाइक राइडर्स शामिल
रैली में मध्य प्रदेश की 9 महिला बाइक राइडर्स शामिल हैं, जबकि दो महाराष्ट्र, दो उड़ीसा, और एक-एक कर्नाटक और पश्चिम बंगाल की बाइक राइडर्स शामिल हैं। ग्रुप को बाइक राइडर मीनाक्षी राव लीड कर रही हैं।
कान्हा, बांधवगढ़ में घूमेगी रैली
मीनाक्षी राव के नेतृत्व में महिला बाइक राइडर्स का यह दल भोपाल से पचमढ़ी, पेंच, कान्हा, बांधवगढ़, पन्ना और खजुराहो से होते हुए वापस भोपाल लौटेंगी। इस दौरान ये 15 बाइक राइडर्स प्रदेश लोगों को जागरुक भी करेगी।
शेर देखने की चाहत
मुंबई से आई एडविना डिसूजा ने बताया कि वह इस राइड पर जाने के लिए उत्सुक हैं। वे मध्य प्रदेश के जंगलों और जंगली जानवरों को देखने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि एक बार बाइक राइडिंग करते हुए उन्हें हाईवे पर खूंखार जानवर दिख गया था। एमपी में बाइक राइडिंग के दौरान लग रहा है, ऐसा फिर होगा।
भारत में महिला सशक्तिकरण की दिशा में बदलाव
रैली में इटली से आई सिल्वाना भी हिस्सा ले रही हैं। सिल्वाना 2015 में भारत दौरे पर आई थीं। उसके बाद उनकी ये दूसरी भारत यात्रा है। सिल्वाना के मुताबिक भारत में महिला सशक्तिकरण के दिशा में बहुत अंतर आया है।
बाइकर्स राइडिंग के साथ खूबसूरत पर्यटन स्थलों से भी हाेंगे रूबरू
पर्यटन विभाग के प्रमुख सचिव शिव शेखर शुक्ला ने कहा कि यात्रा मार्ग इस तरह से तैयार किया गया है, जिससे प्रतिभागी रास्‍ते में आने वाले पर्यटन स्‍थलों की खूबसूरत वादियों का पूर्ण रूप से आनंद ले सकें। ये राइडर्स राज्‍य के मनोरम दृश्यों का आनंद लेते हुए यात्रा के रोमांच का अनुभव कर सकें और पर्यटकों को मध्‍यप्रदेश के आकर्षक गंतव्‍यों का परिचय कराते हुए इन पर्यटन स्‍थलों के सुगम व सुरक्षित होने की जानकारी पर्यटकों को प्रदान कर सकें।
महिला बाइकर्स का हुआ स्वागत
साहसिक और सुरक्षित पर्यटन का संदेश देने निकली महिला बाइकर्स का मिसरोद पर महिलाओं के ग्रुप ने आरती उतारकर, तिलकर लगाकर स्वागत किया।

Saturday, 7 November 2020

11:52

दीपावली के लिए भोपाल से रीवा तक दो जोड़ी चलेंगी स्पेशल ट्रेन deepak tiwari

भोपाल.पश्चिम मध्य रेल भोपाल मंडल के हबीबगंज रेलवे स्टेशन से रीवा के लिए दो जोड़ी विशेष गाड़ियां चलाई जाएंगी। यह विशेष रूप से दीपावली के लिए पूजा स्पेशल ट्रेनें हैं। यह 10 नवंबर से चलाई जाएंगी। इसमें हबीबगंज से रीवा के अलावा पटना के लिए भी ट्रेन चलेगी।
1. गाड़ी संख्या : 02139
ट्रेन : हबीबगंज-रीवा सुपरफास्ट
दिन : 10 नवंबर एवं 17 नवंबर
प्रारंभिक स्टेशन : हबीबगंज स्टेशन से 07.30 बजे
2. गाड़ी संख्या : 02140
ट्रेन : रीवा-हबीबगंज सुपरफास्ट
दिन : 10 नवंबर एवं 17 नवंबर
प्रारंभिक स्टेशन : रीवा से शाम 7 बजे
स्टॉप : यह भोपाल, विदिशा, बीना, सागर, दमोह, कटनी, मैहर एवं सतना स्टेशनों पर रुकेगी।
कोच : इसमें सेकंड एसी का 1, थर्ड एसी के 4, स्लीपर क्लास के 11, जनरल क्लास के 4 और एसएलआर/डी के 2 सहित कुल 22 डिब्बे रहेंगे।
3. गाड़ी संख्या : 02173
ट्रेन : हबीबगंज-रीवा एक्सप्रेस (दो ट्रिप)
दिन : 10 नवंबर एवं 17 नवंबर को (बुधवार एवं रविवार)
प्रारंभिक स्टेशन : हबीबगंज स्टेशन से सुबह 8.35 बजे
4. गाड़ी संख्या : 02174
ट्रेन : हबीबगंज-रीवा एक्सप्रेस (दो ट्रिप)
दिन : 11 नवंबर एवं 15 नवंबर को (बुधवार एवं रविवार)
प्रारंभिक स्टेशन : रीवा से सुबह 10.25 बजे
स्टॉप : यह भोपाल, विदिशा, बीना, सागर, दमोह, कटनी, मैहर एवं सतना स्टेशनों पर रुकेगी।
5. गाड़ी संख्या : 02145
ट्रेन : हबीबगंज-पटना सुपरफास्ट
दिन : 11, 13, 15, 17, 19, 21, एवं 23 नवंबर को
प्रारंभिक स्टेशन : हबीबगंज स्टेशन से शाम 4.25 बजे
6. गाड़ी संख्या : 02146
ट्रेन : पटना-हबीबगंज सुपरफास्ट
दिन : 12, 14, 16, 18, 20, 22 एवं 24 नवंबर
प्रारंभिक स्टेशन : पटना स्टेशन से दोपहर 12.30 बजे
स्टाॅप : होशंगाबाद, इटारसी, पिपरिया, जबलपुर, कटनी, सतना, मानिकपुर, प्रयागराज छिवकी, मिर्जापुर, पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन, बक्सर एवं आरा स्टेशनों पर रुकेगी।
कोच : इसमें सेकंड एसी का 1, थर्ड एसी के 4, स्लीपर क्लास के 11, जनरल के 4 और एसएलआर/डी के 2 सहित कुल 22 डिब्बे रहेंगे।

Monday, 2 November 2020

01:53

कोविड नियम नहीं मानने वाले यात्रियों को भुगतनी पड़ेगी 5 साल तक की सजा tap news india

भोपाल.deepak tiwari रेलवे अब उन यात्रियों को पांच साल तक की सजा दिलवाएगा, जो रेलवे स्टेशनों व ट्रेनों में कोविड-19 संक्रमण के नियमों का पालन नहीं करेंगे। यानी यदि कोई यात्री ट्रेन या स्टेशन पर मास्क नहीं पहनता, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करता, कोविड-19 संक्रमित होने या सैंपल देने के बाद रिपोर्ट नहीं आने के पहले ट्रेन में यात्रा करता पाया जाए तो उसे इस तरह की सजा देने का प्रावधान होगा,
साथ ही यदि कोई यात्री स्टेशन, ट्रेन के अंदर थूकता पाया जाता है और कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए जारी निर्देशों का पालन नहीं करता मिलता तो उसके खिलाफ भी रेलवे एक्ट-1989 की धारा-153 के तहत जुर्माने या सजा का प्रावधान होगा।
जनहानि व संपत्ति के केस होते हैं दर्ज
रेलवे एक्ट-1989 के तहत आने वाली धारा-153 में ऐसी सजा दी जा सकेगी। इस धारा में जनहानि व रेलवे संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले दर्ज होते हैं। अब कोविड गाइडलाइन का पालन न करने वाले यात्री पर इसी धारा के तहत यह संभव हो सकेगा।

Monday, 19 October 2020

18:05

शोले के बीरू बने भोपाल के दामाद जाने क्यों deepak

भोपाल.भोपाल के बैरागढ़ चीचली में रिटायर्ड फौजी की बेटी से लव मैरिज करने वाला लड़का ससुर को डराने के लिए दोमंजिला बिल्डिंग की छत की मुंडेर पर चढ़ गया। वह कूदने की धमकी देने लगा। इसी दौरान वह छत से लटक गया। उसे बचाने के लिए पुलिस और परिवार के 6 से ज्यादा लोग हाथ-पैर पकड़कर उसे खींचते रहे। इसका वीडियो बनाकर उसे कूदने के लिए भी कहा गया। यह ड्रामा करीब 1 घंटे तक चलता रहा। इस दौरान पुलिस भी वहां मौजूद रही, लेकिन वह किसी की सुनने को तैयार नहीं था। दोनों पक्षों ने एक दूसरे से जमकर गाली-गलौज भी की।
जानकारी के अनुसार, बैरागढ़ चीचली में रहने वाले एक रिटायर्ड फौजी ने अगस्त में अपनी बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। करीब तीन-चार दिन बाद उनकी 26 साल की बेटी एक युवक के साथ बैरागढ़ थाने पहुंची। उसने पुलिस को लिखकर दिया कि वह बालिग है और अपनी मर्जी की मालिक है। वह इसी लड़के के साथ रहना चाहती है। परिजन को पुलिस से इसकी सूचना मिली, जिसके बाद पिता ने बेटी से नाता तोड़ लिया।
एक ही मोहल्ले में रहते हैं
दोनों परिवार एक ही मोहल्ले में रहते हैं। रिटायर्ड फौजी के दोस्त राजेश ने आरोप लगाया कि इसके बाद उनका दामाद महेंद्र उन्हें परेशान करने लगा। वह उनकी संपत्ति में हिस्सा चाहता है। ऐसे में आरोपी का आए-दिन परेशान करना, हंगामा करना और गाली-गलौज करना काम बन गया। इसी से परेशान होकर दो दिन पहले बैरागढ़ थाने में उसके खिलाफ एफआईआर भी कराई थी। पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। रविवार सुबह वह फिर हंगामा करने लगा। जब हम सब लोग उसके यहां पहुंचे तो वह डराने के लिए छत पर चढ़ गया और वहां से कूदने का नाटक करने लगा। इस दौरान उसकी घर की महिलाएं पुलिस और मुझ पर आरोप लगाते रहे।
लोग कह रहे थे- चल कूद जा...
इधर, महेंद्र छत पर चढ़कर कूदने की धमकी दे रहा था, दूसरी तरफ नीचे खड़े कुछ लोग उसका वीडियो बना रहे थे। इसमें से एक व्यक्ति उससे गाली-गलौज करते हुए कूद जाने के लिए कहता रहा। लोगों का कहना था- तू तो डरपोक है। कूद नहीं सकता। बस, नाटक करता रहता है। उन्होंने महेंद्र के परिजन पर भी उसके खिलाफ झूठे केस दर्ज कराने के आरोप लगाए।
पुलिस दोनों पक्षों को समझाती रहे
घटना की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंची। हालांकि पुलिस से ज्यादा लोगों की संख्या थी। ऐसे में पुलिसकर्मी दोनों पक्षों को समझाने-बुझाने में लगे रहे, लेकिन कोई उनकी सुनने को तैयार नहीं था। दोनों ही पक्ष एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाते रहे। बाद में मौके पर पहुंची एसडीओपी बैरागढ़ ने दोनों पक्षों को समझाइश दी और समझौता कर मामले को रफा-दफा कराया।
यह भी आरोप
राजेश ने बताया कि उनका रिटायर्ड फौजियों की मदद के लिए ग्रुप है। इलाके में रिटायर्ड फौजी बड़ी संख्या में रहते हैं। यहीं पर रहने वाले बेरोजगार आवारा लड़के लड़कियों को प्रेम जाल में फंसाकर उनसे शादी कर लेते हैं। उसके बाद वे रिटायर्ड फौजी पर उनकी संपत्ति देने का दबाव बनाने लगते हैं।

Sunday, 4 October 2020

18:24

सरकार ने 15 दिन में बदला अपना फैसला जाने क्या TAP NEWS

भोपाल.deepak tiwari कोरोना काल में प्रदेश में 17 अक्टूबर से शुरू हो रहा नवरात्र उत्सव अब धूमधाम से मनाया जा सकेगा। राज्य सरकार ने शनिवार को 15 दिन पहले दिया अपना वह आदेश वापस ले लिया है, जिसके तहत 6 फीट से कम ऊंची दुर्गा प्रतिमाएं रखने और छोटे पंडाल लगाने की अनुमति दी गई थी।
नए आदेश में सरकार ने कहा है कि अब छह फीट से भी ऊंची प्रतिमाएं रख सकेंगे। पंडाल भी 30 गुणा 45 फीट तक होंगे। पहले यह सिर्फ 10 गुणा 10 आकार में रखने के निर्देश थे। इसके अलावा, रामलीला और रावण दहन का आयोजन भी किया जा सकेगा। हालांकि गरबा आयोजन और चल समारोहों पर पूर्व में जारी रोक बरकरार रहेगी। सरकार ने यह फैसला तमाम हिंदू संगठनों और दुर्गा उत्सव समितियों की नाराजगी के चलते लिया है।
भोपाल में 6 फीट तक की प्रतिमाओं के करीब 800 ऑर्डर, वो भी अभी अधूरे
नवरात्र 17 अक्टूबर से शुरू हो रहे हैं। सरकार ने 14 दिन पहले 6 फीट से बड़ी दुर्गा प्रतिमाएं बनाने का ऑर्डर देकर असमंजस की स्थिति बना दी है। भोपाल में मूर्तिकारों के सबसे बड़े संगठन प्रजापति मूर्तिकार माटीकला कल्याण संघ के अध्यक्ष मोहनलाल प्रजापति बताते हैं कि शहर में करीब 40 से 50 कारखानों में दुर्गा प्रतिमाएं बन रही हैं।
18 सितंबर को जब 6 फीट तक की प्रतिमाएं बनाने का आदेश आया, तब तक 8 से 10 फीट तक ऊंची 150 से 200 प्रतिमाएं बन रही थीं। आदेश आते ही इन्हें अधूरा ही छोड़ दिया गया। हर साल शहर में 1200 से ज्यादा प्रतिमाएं स्थापित होती हैं, लेकिन इस बार सिर्फ 700 से 800 ऑर्डर ही मिल सके।
वो भी अधूरे पड़े हैं। अभी 17 अक्टूबर के पहले इन्हें पूरा करना ही चुनौतीपूर्ण है, क्योंकि इस बार लॉकडाउन के चलते बंगाल से मूर्तिकार नहीं आ सके। इनमें वो मजदूर भी शामिल रहते हैं, जो पांच से छह माह यहीं रहकर मूर्तिकारों का सहयोग करते हैं। यदि अब 8 से 10 फीट ऊंची प्रतिमाओं के ऑर्डर आते हैं तो उन्हें तय समय में पूरा कर पाना बहुत मुश्किल होगा।
जहां सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था नहीं, वहां झांकियां भी नहीं : मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रतिमा विसर्जन के लिए भी अधिकतम 10 लोग जा सकेंगे। रामलीला व रावण दहन आयोजनों में सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का उपयोग अनिवार्य होगा। जहां सोशल डिस्टेंसिंग के उल्लंघन की संभावना बनेगी, वहां झांकियां नहीं लगा सकेंगे। उन्होंने लोगों से अपील की है कि झांकियां खुली-खुली बनाएं। गुफा, सुरंग या पूरी तरह बंद झांकियां न बनाएं।

Tuesday, 29 September 2020

15:45

निर्दयी लोग 2 दिन की बच्ची की हत्या झाड़ियों में शव मिलने का मामला:deepak tiwari

भोपाल.भोपाल के अयोध्या नगर थाना क्षेत्र में 2 दिन की बच्ची की हत्या की गई थी। उसका शव पुलिस को अयोध्या नगर के जी-सेक्टर में झाड़ियों में मिला था। बाहरी कोई चोट नहीं थी, ऐसे में पुलिस ने पोस्टमॉर्टम कराया। पीएम रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि बच्ची को किसी भारी या कठोर चीज से मारा गया है, इससे उसकी मौत हो गई है। पुलिस ने फिलहाल अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी।
टीआई अयोध्या नगर रेनू मुराव के अनुसार, सोमवार को एक नवजात बच्ची का शव जी-सेक्टर अयोध्या नगर में झाड़ियों में मिला था। इसकी सूचना गौरव कुकरेकर नाम के एक व्यक्ति ने दी थी। शव को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया था। नवजात बच्ची के शव पर किसी तरह के चोट के निशान नजर नहीं आ रहे थे। पीएम रिपोर्ट में आज खुलासा हुआ कि उसके शरीर पर किसी भारी या कठोर चीज से मारा गया था, जिससे उसकी मौत हुई। पीएम रिपोर्ट के आधार पर सुबह अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया गया। आरोपियों की तलाश की जा रही है।
फेंकने की जगह अच्छे से रखा गया था शव
सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई थी। पुलिस को मासूम का शव झाड़ियों में बड़े अच्छे से रखा मिला था। किसी ने आराम से लाकर वहां पर जैसे रख दिया हो। टीआई मुराव ने बताया कि इस मामले में आसपास के अस्पतालों से बीते 1 हफ्ते के अंदर जन्मे बच्चों की जानकारी जुटा रहे हैं। उसी आधार पर बच्ची का पता चल सकेगा।
भोपाल में तीसरी बेटी की हत्या
भोपाल में बेटियों की हत्या का यह तीसरा मामला है। इससे पहले खजूरी सड़क इलाके में एक महीने की बेटी को उसकी ही मां ने हत्या कर दी थी। उसने जिंदा बेटी को पानी से भरी टंकी में डुबा कर उसका ढक्कन बंद कर दिया था। दूसरे मामले में रायसेन की रहने वाली युवती ने प्रेमी को पाने के लिए अपनी एक साल की बेटी को भोपाल के बड़े तालाब में जिंदा फेंक दिया था। अब यह तीसरा मामला आया है। इसमें भी शिकार महज 2 दिन की मासूम बनी है। पुलिस को इस मामले में भी परिजनों के ही शामिल होने की आशंका है।
08:25

भोपाल में डीजी पुरुषोत्तम ने मर्यादा तोड़ी deepak tiwari

भोपाल में डीजी पुरुषोत्तम ने मर्यादा तोड़ी:deepak tiwari पत्नी को पीटने वाले डीजी रैंक के अफसर को पद से हटाया, वीडियो वायरल होने पर कहा- पत्नी 12 साल से शक कर रही थी भोपालएक घंटा पहले पुलिस अफसर पुरुषोत्तम शर्मा के बेटे ने दो वीडियो जारी किए। पहला वीडियो 7.13 मिनट का और दूसरा 4.47 मिनट का है।अफसर पुरुषोत्तम शर्मा महिला मित्र के घर गए थे, वहां पत्नी भी पहुंच गईं, फिर घर लौटकर दोनों में विवाद हुआमारपीट के वीडियो शर्मा के बेटे ने सोशल मीडिया पर वायरल किए, गृहमंत्री, डीजीपी, सीएस को भेजे
खबर पढ़ने से पहले इसमें लगा हुआ वीडियो देखिए। हैरान रह जाएंगे। इसमें जो व्यक्ति एक महिला को बुरी तरह पीट रहा है, वे मध्य प्रदेश पुलिस में डीजी रैंक के अधिकारी हैं। नाम है पुरुषोत्तम शर्मा और वे अपनी पत्नी प्रिया शर्मा को ही पीट रहे हैं। वो भी अपने ही घर में काम करने वाले पुलिस कर्मचारियों के सामने। रहते हैं भोपाल में। वीडियो भी भोपाल का ही है। उनके घर का।
वीडियो हर कहीं मौजूद है। पुरुषोत्तम के पुत्र पार्थ गौतम ने यह वीडियो फुटेज मप्र के गृह मंत्री, राज्य के डीजीपी, मुख्य सचिव और बाकी बड़े अफसरों को भेजा है। पार्थ खुद भी आईआरएस यानी इंडियन रेवेन्यू सर्विस में हैं। उन्होंने पिता के खिलाफ सख्त कार्रवाई मांग की है।
घटना के बाद पुरुषोत्तम को पद से हटा दिया गया है। उनका लोक अभियोजन संचालनालय से डीजी गृह विभाग मंत्रालय में ट्रांसफर कर दिया गया। वहीं, मामला राज्य महिला आयोग पहुंच गया है। अध्यक्ष शोभा ओझा ने कहा कि हम डीजी को नोटिस जारी करेंगे।
अफसर ने कहा- मेरा जीना मुश्किल कर दिया है
पुरुषोत्तम ने मारपीट पर सफाई दी। उन्होंने कहा, 'वह 12 साल से शक कर रही है। मामला भी दर्ज कराया था। घर के एक-एक कोने में सीसीटीवी कैमरा लगवाए थे। मैंने मारपीट नहीं की। मैंने अपना बचाव किया है। वह चाहे तो शिकायत करने के लिए स्वतंत्र है। यह उसके अपने मौलिक अधिकार हैं। वह मेरी निजी जिंदगी में दखल देती है। मेरा जीना मुश्किल कर दिया है। उसने मुझ पर कमरे में आकर हमला किया था। इसलिए मैंने अपना बचाव किया है। बस धक्का-मुक्की हुई है।'
गृहमंत्री ने कहा- शिकायत होने पर कार्रवाई करेंगे
गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि इस बारे में मैंने न्यूजपेपर में पढ़ा है और वीडियो देखा है। अभी कोई शिकायत नहीं आई है। अगर कोई शिकायत आती है, तो कार्रवाई करेंगे।
पत्नी को पीटने वाले डीजी की सफाई:पुरुषोत्तम शर्मा ने कहा- जिस बेटे ने मेरी शिकायत की उससे पूछिए कि जिस बाप ने उसे आईआरएस बनाया क्या वह इतना नालायक है, क्या पापा राक्षस हैं?
भोपाल4 घंटे पहले
मध्यप्रदेश के स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा अपनी महिला मित्र से मिलने उसके घर पहुंचे थे, तो उनकी पत्नी भी उनके पीछे-पीछे पहुंच गई थीं।
पुरुषोत्तम शर्मा की शिकायत उनके बेटे ने वीडियो क्लिप के साथ सरकार और विभाग के अधिकारियों के साथ की है
डीजी शर्मा का बेटा पार्थ गौतम शर्मा आईआरएस अफसर हैं और वर्तमान में कलकत्ता में रेवेन्यू विभाग में पोस्टेड हैं

Sunday, 27 September 2020

10:22

deepak tiwari भोपाल में दुर्गा उत्सव की गाइडलाइन का विरोध उग्र हुआ पुलिस ने बल प्रयोग कर किया शांत

भोपाल.भोपाल के रोशनपुरा चौराहे पर रविवार दोपहर दुर्गा प्रतिमाओं की गाइड लाइन का विरोध करने पहुंचे जय भवानी संगठन के कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठियां भांजी। प्रदर्शन के दौरान नारेबाजी करते हुए कार्यकर्ता उग्र हो गए थे। वे पुलिस से ही उलझ गए। ऐसे में पुलिस ने बल प्रयोग करते हुए एक दर्जन से ज्यादा कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी ले लिया।
भोपाल के रोशनपुरा चौराहा पर प्रदर्शन के दौरान कार्यकर्ताओं को पुलिस समझाइश देते हुए।
मार्केट के अंदर तक पीछा किया
प्रदर्शन को देखते हुए रोशनपुरा चौराहे पर बड़ी संख्या में पुलिसबल तैनात किया गया था। पहले तो सिर्फ नारेबाजी की जा रही थी, लेकिन उसके बाद प्रदर्शनकारी तत्काल गाइडलाइन को रद्द करने की मांग करने लगे। पुलिस के समझाइश देने पर भी वे नहीं माने। पुलिस के बल प्रयोग करते ही भीड़ तितर-बितर हो गई। लोग पुलिस से बचने के लिए सड़क पर भागते नजर आए। कुछ लोग तो कई फीट ऊंची रैलिंग पर चढ़कर मार्केट की तरफ भाग निकले। पुलिस ने कार्यकर्ताओं का पीछा न्यू मार्केट के अंदर तक किया। दोपहर तक कार्रवाई जारी थी
पुलिस से बचने के लिए कार्यकर्ता कई फीट रेलिंग कूदकर भागे।
पुलिस के बल प्रयोग से बचने के लिए कुछ कार्यकर्ता न्यू-मार्केट में घुस गए थे। पुलिस ने उनका वहां तक पीछा किया।
पुलिस के बल प्रयोग से बचने के लिए कुछ कार्यकर्ता न्यू-मार्केट में घुस गए थे। पुलिस ने उनका वहां तक पीछा किया।
कांग्रेस ने भी किया प्रदर्शन
दुर्गा महोत्सव के लिए गाइडलाइन निर्धारित करने का कांग्रेस ने भी विरोध जताया है। इसको लेकर रविवार दोपहर पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने एक रैली निकाली। उन्होंने माता मंदिर चौराहे से लेकर न्यू मार्केट तक पैदल मार्च किया। इस दौरान उन्होंने मंदिर में एक ज्ञापन भी चढ़ाया। हालांकि यह प्रदर्शन शांतिपूर्वक रहा।
समझाइश के बाद भी पुलिस की बात नहीं मानने पर पुलिस ने बल प्रयोग किया।
समझाइश के बाद भी पुलिस की बात नहीं मानने पर पुलिस ने बल प्रयोग किया।
यह गाइड लाइन तय है
प्रतिमाएं अधिकतम 6 फीट ऊंची हो सकती हैं।
पंडाल का साइज भी 10 बाई 10 फीट अधिकतम होगा।
सामाजिक/सांस्कृतिक एवं अन्य कार्यक्रमों के आयोजन में 100 से कम व्यक्ति ही रह सकेंगे हैं।
कार्यक्रम की पूर्व से अनुमति लेनी जरूरी।
किसी भी तरह के जुलूस निकालने की अनुमति नहीं होगी।
गरबा भी नहीं होगा। लाउडस्पीकर के लिए भी गाइडलाइन का पालन करना अनिवार्य है।
मूर्ति विसर्जन के लिए 10 से अधिक व्यक्तियों के समूह को अनुमति प्रदान नहीं की जाएगी।
आयोजकों को अलग से जिला प्रशासन से लिखित अनुमति पहले से लेनी आवश्यक है।
झांकियों, पंडालों और विसर्जन के आयोजनों में श्रद्धालु फेस कवर, सोशल डिस्टेंसिंग एवं सैनिटाइजर का प्रयोग करेंगे।
शासन के द्वारा समय-समय पर जारी निर्देशों का भी पालन करना होगा।
जिला प्रशासन द्वारा तय विसर्जन स्थलों पर ही विसर्जन करना होगा।
विसर्जन स्थल पर कम भीड़ होना चाहिए।

Saturday, 26 September 2020

18:18

कारोबारी बोले- राजनेता तो कर रहे हैं सभाएं फिर हम दुकान क्यों नही खोल सकते :tap news india deepak tiwari

इंदौर.47 व्यापारिक संगठनों द्वारा शनिवार, रविवार को घोषित किए गए स्वैच्छिक लॉकडाउन को लेकर अब कारोबारी ही अपने संगठनों के खिलाफ होने लगे हैं। इसके चलते बाजार बंद को लेकर असमंजस की स्थिति बन गई है। कारोबारियों ने एसोसिएशनों के खिलाफ सोशल मीडिया पर संदेश चलाने शुरू कर दिए हैं।
उनका कहना है कि जब केंद्र, मप्र शासन और जिला प्रशासन से बंद का कोई नोटिफिकेशन नहीं है तो फिर हम क्यों अपनी दुकान बंद करें? एक ओर तो राजनेता लगातार बिना मास्क के मंच पर बैठ रहे हैं और हजारों की संख्या में लोगों को बुलाकर सभाएं कर रहे हैं, दावतें दे रहे हैं, केवल बाजार वालों से कहा जा रहा है कि वह बंद करें। कारोबारियों का यह भी कहना है कि एसोसिएशन अपने स्तर पर ही कलेक्टर से बात करने पहुंच गई और स्वैच्छिक लॉकडाउन का फैसला ले लिया, इस संबंध में उन्होंने कारोबारियों के साथ कोई बैठक नहीं की, वैसे भी अब त्योहारी सीजन आ गया है।
लॉकडाउन के चलते बाजार बंद रहने से कई कारोबारी कर्ज में उतर गए हैं, इसलिए हम बाजार बंद नहीं करेंगे। वहीं अहिल्या चैंबर के अध्यक्ष रमेश खंडेलवाल का इस बारे में कहना है कि हम कारोबारियों से लगातार अपील कर रहे हैं। प्रशासन से मांग कर रहे हैं कि वह इस संबंध में कोई औपचारिक आदेश जारी कर दे। उधर, मालवा चैंबर द्वारा भी व्यापारियों से स्वैच्छिक लॉकडाउन के लिए अपील की जा रही है।
18:15

रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के लिए लगाई गई ये खास सुविधा जाने क्या TNI

भोपाल.भोपाल स्टेशन पर यात्रियों की सुविधा के लिए नए तरह के पंखे लगाए गए हैं। कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना जरूरी है। यह आम पंखों से तीन गुना बड़े 12 फीट व्यास वाले विशाल पंखे हैं। इनकी खासियत है कि इनसे हवा ज्यादा तो आती ही है, साथ ही आवाज बहुत कम होती है। ऐसे में दूर से भी अनाउंसमेंट आसानी से सुना जा सकेगा। अभी भोपाल स्टेशन पर इस तरह के दो पंखे लगाए गए हैं। इससे बिजली की खपत भी कम होगी।
शुरुआत में दो पंखे लगाए गए
भोपाल स्टेशन पर प्लेटफार्म- 6 की तरफ की नई बिल्डिंग में यात्रियों की सुविधाओं के लिए बुकिंग खिड़की के सामने हाल में यह लगाए गए हैं। इन पंखों की विशेषता यह होती है कि इनसे ज्यादा ठंडक होती है। इससे वातावरण की तुलना में 10 से 11 डिग्री के बीच तापमान में कमी आ जाती है। भोपाल डिविजन में यह पंखे पहली बार लगाए गए हैं। हालांकि लखनऊ और मुंबई में इस तरह के पंखों का उपयोग किया जा रहा है।
इस कारण इनका उपयोग किया गया
सोशल डिस्टेंसिंग के कारण यात्रियों को दूरी पर बैठना अनिवार्य
ज्यादा संख्या में आम पंखों से शोर ज्यादा होता है
बिजली की खपत को देखते हुए इनका उपयोग कारगर
आम पंखों की तुलना में इनका खर्च भी कम
गति कम होने से आवाज कम आती है, लेकिन हवा ज्यादा देते हैं
18:11

भोपाल में कोरोना मरीजों के लिए प्राइवेट डॉक्टर की सुविधा देने की योजना खटाई में tni

tap news india deepak tiwari 
भोपाल.भोपाल में होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए डॉक्टरों द्वारा परामर्श दिए जाने की सुविधा को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। इस योजना से जुड़े डॉक्टरों का कहना है कि जो कहा गया, वह आदेश में नहीं आया। ऐसे में तो किसी का इलाज करना चुनौती हो जाएगा। इलाके भी स्पष्ट नहीं है। ऐसे में आदेश को दोबारा से सभी से बात करके स्पष्ट रूप से निकालना होगा। मुख्य सवाल है कि कौन क्या और कैसे करेगा? हालांकि कलेक्टर द्वारा दूसरे आदेश में साफ किया गया था कि डॉक्टरों को घर विजिट नहीं करना है।
एक दिन में दो मरीज देखने की बात कही थी
डॉक्टर जीडी तिवारी ने बताया कि ऑर्डर स्पष्ट नहीं है। मैंने सिर्फ दो मरीजों को घर जाकर देखने की अनुमति दी थी, लेकिन ऑर्डर में ऐसा कुछ नहीं लिखा। मरीज का घर खोजने से लेकर सुरक्षा के पूरा इंतजाम करके ही जाया जा सकता है। ऐसे में घर जाकर दो से ज्यादा मरीज देख पाना मुश्किल होगा। इसके अलावा हमने एक विजिट के 5 हजार रुपए फीस की बात कही थी, लेकिन ऑर्डर 750 रुपए का निकाला। फीस की तो कोई समस्या नहीं है, क्योंकि हमारी पहली प्राथमिकता मरीज को इलाज देना है, लेकिन डॉक्टरों की सहमति से ही ऑर्डर होना चाहिए। डॉक्टर बंसत श्रीवास्तव ने कहा कि घर पर विजिट करने की बात ही नहीं हुई है। सवाल यह उठता है कि यह सिस्टम कैसे काम करेगा।
सुविधा से ज्यादा परेशानी हुई
इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा जारी नंबरों के कारण भी लोग परेशान होते रहे। कुछ नंबर नेटवर्क कवरेज एरिया के बाहर थे, तो एक नंबर तो गलत तक जारी कर दिया। इसके कारण लोग परेशान होते रहे। कॉल लगने के बाद भी डॉक्टरों का कहना था कि घर जाकर देखने की सुविधा नहीं है।
यह सुविधा शुरू की
कलेक्टर भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना पेशेंट के लिए निजी डॉक्टर उपलब्ध कराने की योजना शनिवार से शुरू की है। इसमें मेडिकल एसोसिएशन द्वारा डॉक्टरों के नंबर जारी किए गए हैं। होम आइसोलेशन वाले संक्रमित मरीज इन डॉक्टर को कॉल कर सकते हैं। परामर्श लेने के लिए मरीज को 750 रुपए फीस देना होगा। लोग चाहते तो यहां से भी मदद ले सकते हैं।
इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा जारी नंबर
डॉक्टर का नाम मोबाइल नंबर
डॉ. सुदीप पाठक 9893837104
डॉ. गोपाल बटनी 9827055612
डॉ. हसमुख जैन 9425013786
डॉ. जी.डी. तिवारी 9425013786
डॉ. अतुल गुप्ता 9425674287
डॉ. मोहित सिक्का 9426178141
डॉ. राजीव मदन 9425302577
डॉ. बसंत श्रीवास्तव 9425018008
डॉ. नरेन्द्र चावलानी इनका नंबर गलत दिया

Friday, 25 September 2020

08:21

भोपाल में कोरोना का दर्द:मां का शव लेकर बेटी भटकती रही deepak tiwari

भोपाल.भोपाल के जयप्रकाश अस्पताल (जेपी 1250) में कोरोना संक्रमित एक महिला की मौत के बाद उनकी बेटी ने अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही के गंभीर आरोप लगाए हैं। उसका कहना है कि अपने चाचा के साथ वह मां का शव लेकर भटकती रही। पहले तो इलाज में देरी की गई। ऑक्सीजन सप्लाई सही से नहीं हुई। वह अस्पताल-अस्पताल कलेक्टर और मंत्री के दरवाजे तक खटखटा आई, लेकिन मदद नहीं मिली। मौत के बाद भी उसकी मां को सुकून नहीं मिला और उन्हें यूं ही छोड़ दिया गया। परिजनों ने ही रात में शव को मोर्चरी में रखा। अस्पताल प्रबंधन ने कोई जवाब नहीं दिया।
कोलार निवासी प्रियंका ने बताया कि 43 साल की मां संतोष भोपाल कोऑपरेटिव सेंट्रल बैंक कोटरा सुल्तानाबाद ब्रांच में कार्यरत थीं। पिता की 8 साल पहले मौत के बाद मां को अनुकंपा नियुक्ति मिली थी। वह 14 सितंबर को कोरोना पॉजिटिव हुई थीं। दो प्राइवेट अस्पतालों में उनसे 50-50 हजार महज 18 घंटे के अंदर ले लिए गए, लेकिन इलाज अच्छे से नहीं किया गया। मजबूर होकर मैं अपनी मां को एंबुलेंस में बिठाकर करीब 13 घंटे तक शहर में इधर से उधर घूमती रही, लेकिन कहीं भी उनकी मां को भर्ती नहीं किया गया।
उन्होंने कलेक्टर से गुहार लगाई, तब जाकर जेपी अस्पताल में मां को भर्ती किया गया, लेकिन भर्ती करने के अलावा उनका किसी तरह का इलाज नहीं किया गया। मैं दिन भर अस्पताल के बाहर रहती थी। जरूरत पड़ने पर आईसीयू में जाकर मां की मदद करती थी। खाना-पीना भी उनकी तरफ से ही दिया जाता था। प्रियंका ने आरोप लगाया कि गुरुवार रात मां की मौत हो गई उसके बाद डॉक्टरों ने कहा कि अब तुम शव को ले जाओ। उन्होंने ना तो मां को पीपीई किट पहनाई और ना ही वार्डबॉय तक दिया। रात को वह अपने चाचा के साथ मां को आईसीयू बेड पर लेकर स्ट्रेचर तक लाए।
खुद ही परिजन बेड के साथ ही संतोष के शव को मोर्चरी में रखा।
स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग से भी मिली
प्रियंका ने बताया कि इलाज में लापरवाही को देखते हुए वह मंत्री विश्वास सारंग से भी मिलने गई थी। उन्होंने आश्वासन दिया था कि वह दिखाते हैं, लेकिन उसके बाद भी कुछ नहीं हुआ। मां को काफी तकलीफ होती रही थी। शाम 4:00 बजे मां से मिली थीं। उस दौरान वे ठीक लग रही थीं। उन्होंने बताया कि बीच-बीच में ऑक्सीजन नहीं मिलती है। प्रियंका ने आरोप लगाया कि अस्पताल प्रबंधन उनसे ही ऑक्सीजन के सिलेंडर भी यहां से वहां रखवाया गया।
मदद नहीं मिलने के कारण परिजनों को बेड को ही बाहर ले जाना पड़ा।
मदद नहीं मिलने के कारण परिजनों को बेड को ही बाहर ले जाना पड़ा।
अस्पताल प्रबंधन का जवाब नहीं आया
इस संबंध में जेपी के सिविल सर्जन आरके तिवारी से संपर्क किया, लेकिन उन्होंने न तो फोन रिसीव किया और नह एमएमएस का जवाब दिया।
भोपाल में आज 297 कोरोना केस
शुक्रवार को राजधानी में 297 कोरोना के नए मरीज मिले। इसके बाद भोपाल में कोरोना केस की संख्या 17486 केस हो गए हैं। अब तक 389 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। चार इमली से 2, इब्राहिमगंज से एक, जहांगीराबाद में 1, बैरागढ़ थाने से 1, ईएमई सेंटर से 8, 25वीं बटालियन से 7 मरीज संक्रमित मिले।

Thursday, 24 September 2020

16:45

भोपाल में लॉकडाउन पर कलेक्टर ने कहा अभी लॉकडाउन पर कोई विचार नहीं अफवाहों पर न दे ध्यान

tap news india deepak tiwari 
भोपाल.भोपाल में लगातार बढ़ रहे कोरोना केस के कारण लोगों में एक बार फिर लॉकडाउन को लेकर अफवाहों का दौर चलने लगा है। ऐसे में गुरुवार सुबह भोपाल कलेक्टर ने एक बयान जारी कर साफ कर दिया कि किसी तरह का कोई लॉकडाउन नहीं लगाया जा रहा है। आम लोग अफवाहों पर ध्यान न दें। रेस्टोरेंट और मेडिकल स्टोर को छोड़कर बाकी दुकानें 8 बजे के बाद बंद हो जाएंगी। प्रशासन ने सारे नियम और गाइडलाइन तय कर दी है।उन्हीं के अनुसार हमें चलना है। प्रशासन का ध्यान अभी सोशल डिस्टेंसिंग और उसके पालन कराने को लेकर है।कलेक्टर का कहना था कि लोग घर से निकलते समय मास्क का उपयोग करें। किसी से भी बात करते या मिलते समय निश्चित दूरी जरूर रखें। इसके अलावा सुबह घर से निकलने से लेकर रात तक घर पहुंचने तक और स्कूल के लिए भी गाइडलाइन तय है।
इसके अनुसार चलना है...
आम गाइडलाइन
सभी लोगों को घर के बाहर मास्क लगाना अनिवार्य है। साथ में सैनिटाइजर की व्यवस्था भी वह अपने साथ लेकर चलें।
किसी से भी मिलते या बात करते समय एक निश्चित दूरी बनाकर रखें।
भीड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। बिना किसी कारण के घूमने-फिरने से बचें।
रात 10:30 बजे के बाद सिर्फ जरूरत पड़ने पर और मेडिकल संबंधी समस्या होने पर ही घर से निकल सकते हैं।
बिना किसी कारण घर से निकलने वालों पर शासन द्वारा कार्रवाई की जाएगी।
आम लोगों के लिए घर के बाहर मास्क लगाना अनिवार्य है।
कारोबार के लिए गाइडलाइन
भोपाल में अभी सिर्फ सिनेमा हॉल, स्विमिंग पूल, एंटरटेनमेंट पार्क और थिएटर बंद रखे गए हैं।
धार्मिक स्थालों पर 5 से ज्यादा लोग जमा नहीं हो सकते।
खाने-पीने और मेडिकल सेवाओं को छोड़कर सब-कुछ रात 8 बजे बंद होगा।
रेस्टोरेंट में भी खाने-पीने से मतलब उनके पास बैठने की पर्याप्त व्यवस्था रहनी चाहिए।
व्यापारियों को दुकान के सामने 1 गज की दूरी पर रस्सी बांधना जरूरी।
इससे ग्राहक और व्यापारी का सीधा संपर्क ना रह सके।
दुकान पर अतिरिक्त मास्क रखना अनिवार्य है और साथ ही सैनिटाइजर की व्यवस्था भी करना व्यापारी की जिम्मेदारी है।
कोई भी व्यापारी सामान को दुकान के बाहर डिस्प्ले नहीं कर सकता है।
दुकान पर ना तो भीड़ लगाई जा सकती है और ना ही बिना मास्क किसी को सामान दिया जाएगा।
नियम तोड़ने पर अर्थ दंड लगाने के साथ ही सजा और आपराधिक मामला भी दर्ज किया जाएगा।
सार्वजनिक और धार्मिक कार्यक्रम
सभी तरह के सार्वजनिक कार्यक्रम जैसे धार्मिक, सामाजिक और निजी के लिए दिशानिर्देश जारी किए गए हैं।
इन कार्यक्रमों में लोगों की संख्या से लेकर जगह तक तय है।
किसी भी सामाजिक, धार्मिक व निजी कार्यक्रम को आयोजित करने के लिए अनुमति लेना आवश्यक है।
इसमें 100 से अधिक लोग शामिल नहीं हो सकते हैं। साथ ही लोगों की संख्या के अनुसार ही जगह होनी जरूरी है।
सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना आयोजक की जिम्मेदारी है।
धार्मिक कार्यक्रमों के आयोजन में प्रतिमाओं की ऊंचाई 6 फीट से ज्यादा नहीं हो सकती है।
पंडाल आदि भी 10 बाई 10 की जगह में ही लग सकते हैं।
सार्वजनिक तौर पर इन में किसी तरह का कोई कार्यक्रम नहीं होगा। लाउडस्पीकर नहीं बजाए जा सकते हैं।
सभी तरह के चल समारोह पर भी रोक है।
धार्मिक स्थलों में एक बार में 5 व्यक्ति ही हो सकते हैं। सैनिटाइजर और मास्क की व्यवस्था भी करना अनिनवार्य।
सोमवार से स्कूलों में शिक्षा विभाग द्वारा जारी निर्देश के बाद स्कूल आने दिया जा रहा है।
सोमवार से स्कूलों में शिक्षा विभाग द्वारा जारी निर्देश के बाद स्कूल आने दिया जा रहा है।
स्कूलों-कॉलेज के लिए गाइडलाइन
स्कूल खोले गए हैं, लेकिन सिर्फ डाउट क्लियर करने के लिए ही छात्र आ सकते हैं।
स्कूल में शिक्षक और कर्मचारियों की संख्या भी 50% तय की गई है।
ऑनलाइन क्लास के दौरान अगर किसी छात्र को कोई डाउट होता है तो वह संबंधित टीचर से इसकी जानकारी देकर स्कूल आने का समय तय करेगा।
स्कूल प्रिंसिपल और टीचर मिलकर एक निर्धारित समय पर छात्र को पालक की अनुमति से आने का समय देंगे।
स्कूल में छात्र का पहले शरीर का तापमान की जांच की जाएगी।
उसके कपड़ों से लेकर जूते और कॉपी किताब तक को सैनिटाइज करने की प्रक्रिया होगी।
उसे क्लास में निर्धारित स्थान पर बैठाया जाएगा। सोशल डिस्टेंसिंग के कारण एक सीट छोड़कर छात्रों को बैठने की व्यवस्था की जाएगी
क्लास में ना तो छात्र तेज बोल सकते हैं और ना ही चिल्ला सकते हैं।
मास्क लगाए रहना जरूरी है।
खुद की व्यवस्था करके छात्र को स्कूल पहुंचना होगा।
स्कूल परिसर में केवल छात्र को ही प्रवेश की अनुमति रहेगी।
कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान बंद रहेंगे
कॉलेज सिर्फ एडमिशन प्रक्रिया के लिए खोले गए हैं। इसमें अभी क्लास नहीं लगाई जा रही हैं। इसी तरह कोचिंग और अन्य शैक्षणिक संस्थान पूरी तरह बंद हैं।
नोट : यह निर्देश आगामी आदेश तक प्रभावी रहेंगे। अगर इनमें किसी तरह का कोई बदलाव किया जाता है, तो शासन द्वारा पहले इसकी जानकारी दी जाएगी। उसके बाद ही अगले निर्देशों का लागू किया जाएगा।

Wednesday, 23 September 2020

11:51

भोपाल में बारिश का दौर जारी पांच बार खोलने पड़े डेम के गेट :tap news india deepak

भोपाल.मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में 20 घंटे से रुक-रुक कर बारिश हो रही है। इससे भदभदा डैम और कलियासोत डैम के गेट खोलने पड़े। राजधानी में अब तक 29.4 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई है। बारिश का दौर मंगलवार शाम 7 बजे के बाद से शुरू हुआ था जो बुधवार सुबह से ही जारी है। कभी बारिश रुक जाती है और कभी चालू हो जाती है। आज दिन दो बार पानी गिर चुका है।
चूंकि कलियासोत और भदभदा डैम के कैचमेंट एरिया में ठीक-ठाक पानी गिरा है, जिससे भदभदा का एक गेट और कलियासोत डैम का एक और आधा गेट खोला गया है। हालांकि पानी बढ़ा तो देर शाम तक कलियासोत के दो गेट खोले जा सकते हैं।
कलियासोत डैम के डेढ़ गेट खोले गए हैं, जिससे पानी कम किया जा रहा है। डैम के गेट खोलने से पहले कोलार के निचले इलाके में मुनादी कराई गई है, जिससे लोग सावधान हो जाएं।
सितंबर में पांचवीं बार खुले कलियासोत और भदभदा के गेट
कोलार फायर स्टेशन प्रभारी पंकज खरे ने बताया कि सितंबर में बारिश की वजह से बुधवार को पांचवीं बार कलियासोत और भदभदा डैम के पांचवीं बार गेट खोलने पड़े हैं। सबसे पहले एक सितंबर, फिर दो सितंबर, 11 और 14 सितंबर के बाद आज यानि 23 सितंबर को दोनों डैम के गेट खोले गए हैं।
दोपहर 3 बजे दोनों डैम के गेट खोले गए। उसके पहले कोलार क्षेत्र के निचले इलाकों में बसी कॉलोनियों में मुनादी करके इसकी सूचना दी गई। डैम का गेट खुलने वाला है, लोगों को मछली मारने और डैम के इलाके में जाने से रोका गया है। अपने घरों में ही रहने की हिदायत दी गई है।
मौसम विभाग ने शहडोल संभाग के जिलों समेत बालाघाट, विदिशा और रायसेन में मूसलाधार पानी गिरने का ऑरेंज अलर्ट किया है। सागर, होशंगाबाद संभाग के जिलों के साथ ही रीवा सतना, सीहोर, राजगढ़, अलीराजपुर, झाबुआ, धार, देवास और अशोकनगर जिलों में भारी वर्षा का यलो अलर्ट की चेतावनी जारी की है। गरज-चमक के साथ छीटे पड़ने की संभावना रीवा, शहडोल, जबलपुर, सागर, इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद, भोपाल, ग्वालियर, चंबल संभाग के जिलों में है।
भदभदा डैम खुलने के बाद हजारों गैलन पानी निकाला जा रहा है ताकि वाटर लेवल को कम किया जा सके।

Thursday, 17 September 2020

02:47

राजधानी में कोरोना ने पकड़ी रफ्तार:deepak tiwari

भोपाल.राजधानी भोपाल में कोरोना का कहर थम नहीं रहा है। यहां पर हर रोज कोरोना के 200-250 नए केस मिल रहे हैं। बुधवार को भी यहां पर 245 नए कोरोना मरीज मिले। ऐसे में सरकार कोविड नियंत्रण के लिए स्पेशल ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू करने जा रही है। इसमें इंटर्न, मेडिकल स्टूडेंट, प्राइवेट प्रैक्टिशनर्स, आयुष डॉक्टर और नर्सिंग स्टूडेंट को शामिल किया जाएगा। इसमें कोरोना की रोकथाम और मरीजों के मन से भय को कैसे दूर किया जाए। इसकी ट्रेनिंग दी जाएगी, साथ ही जागरुकता के लिए नए-नए तरीके अपनाने पर भी जोर दिया जाएगा।
चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि शहर के 24 प्राइवेट अस्पतालों में कोविड का निशुल्क इलाज किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जरूरत को देखते हुए अन्य निजी अस्पतालों को भी कोविड सेंटर बनाएंगे। अस्पतालों में आईसीएमआर की गाइडलाइन के अनुरूप उपचार उपलब्ध कराने के दिशा-निर्देश दिए गए हैं। ऑक्सीजन सप्लाई की स्थिति पर नजर रखी जा रही है। नये अस्पतालों को शामिल करते समय विशेष रूप से देख रहे हैं कि वहां पर ऑक्सीजन की निर्बाध सप्लाई हो रही है या नहीं।
हमीदिया में कोविड के लिए 50 बेड और बढ़ेंगे
आयुष्मान योजना के तहत इम्पैनल्ड 61 अस्पतालों की टोटल क्षमता 5894 में से 1184 बेड कोविड के लिए डेडिकेटेड किए जाएंगे। हर अस्पताल के साथ जिला प्रशासन के प्रतिनिधि कोऑर्डिनेट करेंगे। हमीदिया अस्पताल में जल्द ही कोविड मरीजों के लिए 50 बेड और बढ़ाए जाएंगे। साथ ही टीबी अस्पताल में 10 बेड का आईसीयू भी शुरू होगा, इससे इसकी क्षमता और बढ़ जाएगी।
जूनियर डॉक्टरों के लिए इलाज के लिए जीवन रक्षक दवाइयां दी जाएंगी
जीएमसी के जूनियर डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ की मांग को सरकार ने मान ली है। मंत्री सारंग ने कहा कि जूनियर डॉक्टर्स के संक्रमित होने पर उनके कोविड उपचार के लिए रि-इन्वेस्टमेंट मोड पर जीवन-रक्षक दवाइयां उपलब्ध कराई जाएंगी। उन्होंने गांधी मेडिकल कॉलेज में सुव्यवस्थित कैंटीन और रिक्रिएशन सेंटर बनाने के निर्देश दिए।
5 सरकारी और 10 प्राइवेट अस्पतालों में हो रहा है इलाज
राजधानी में कोरोना का इलाज पांच सरकारी और 10 प्राइवेट अस्पतालों में किया जा रहा है। इसमें एम्स, जीएमसी, जे.पी. हॉस्पिटल, कस्तूरबा हॉस्पिटल और मिलिट्री हॉस्पिटल हैं। वहीं अधिग्रहित किए गए अस्पतालों में चिरायु, जेके अस्पताल सहित पीपुल्स, बंसल, आरकेडीएफ, भोपाल केयर हॉस्पिटल, केयर मल्टी स्पेशियलिटी, निर्मल प्रेम मूर्ति हॉस्पिटल, करोंद मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल और एबीएम हॉस्पिटल में इलाज किया जा रहा है।
अब 24 अस्पतालों में कोरोना मरीजों का मुफ्त इलाज होगा
आयुष्मान योजना के तहत रजिस्टर्ड जिले के 24 अस्पतालों में 20 प्रतिशत बेड कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए आरक्षित करा दिए हैं। यहां मरीजों को नि:शुल्क इलाज मिलेगा। इलाज की राशि सरकार देगी। वर्तमान में 12 से अधिक अस्पताल आयुष्मान योजना के तहत रजिस्टर्ड लोगों के इलाज कर रहे हैं। यहां अभी तक 61 मरीज भर्ती हैं और कोरोना का इलाज करा रहे हैं।
दरअसल, प्रदेश सरकार के निर्णय के बाद भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। गुरुवार से 6 व 19 सितंबर से 6 अन्य अस्पतालों में आयुष्मान कार्ड वाले लोगों को कोरोना का इलाज मिलना शुरू हो जाएगा। सभी 24 अस्पतालों में 300 से अधिक ऑक्सीजन बेड उपलब्ध होंगे।
इन अस्पतालों में मिलेगा इलाज
कोलार क्षेत्र में - अक्षय हॉस्पिटल, नोबेल, नर्मदा ट्रामा सेंटर, आरकेडीएफ हॉस्पिटल, पुष्पांजलि, सिद्धांता अस्पताल और सहारा हॉस्पिटल।
हुजूर क्षेत्र में - रुद्राक्ष मल्टी सिटी हॉस्पिटल और लीलावती हाॅस्पिटल।
गोविंदपुरा क्षेत्र में- केयर मल्टी और अनंतश्री हॉस्पिटल।
बैरागढ़ क्षेत्र में - एबीएम, ग्रीन सिटी, एलबीएस, राजदीप, सेंट्रल हॉस्पिटल, गुरु आशीष हॉस्पिटल, जवाहरलाल कैंसर हॉस्पिटल, माहेश्वरी, सर्वोत्तम, सिल्वर लाइन हॉस्पिटल।
टीटी नगर क्षेत्र में- पीपुल्स हॉस्पिटल।
एमपी नगर में - सहारा हॉस्पिटल और पालीवाल हॉस्पिटल।
(आयुष्मान कार्डधारकों के लिए यहां पर 20% बेड आरक्षित)

Wednesday, 9 September 2020

01:55

सिंधिया के महल से एसडीओपी को 100 बीघा जमीन जुतवाने का फोन एक कांग्रेसी गिरफ्तार

  deepak tiwari 
 September 8, 2020
भोपाल। भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के ग्वालियर स्थित जयविलास पैलेस महल के नाम से एक कांग्रेसी द्वारा शिवपुरी जिले के कोलारस एसडीओपी को 100 बीघा जमीन जुतवाने का फोन करने मामला सामने आया है। इस मामले में शिवपुरी पुलिस ने कांग्रेस के सेवादल के पूर्व जिलाध्यक्ष धनंजय शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है। धनंजय ने जय विलास पैलेस ग्वालियर के नाम से कोलारस एसडीओपी अमरनाथ वर्मा को फोन लगा दिया। पुलिस षडय़ंत्र को भांप गई।
नंबर ट्रेस कराकर आरोपी धनंजय शर्मा के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया और रविवार की देर शाम आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया। शनिवार  दोपहर 2 बजे अज्ञात व्यक्ति ने एसडीओपी अमरनाथ वर्मा के व्यक्तिगत मोबाइल नंबर पर फोन किया। ट्रू-कॉलर पर ‘सिंधिया ऑफिस ग्वालियर’ लिखा आ रहा था। व्यक्ति ने कहा कि मैं जय विलास पैलेस (ग्वालियर में सिंधिया का महल) से बोल रहा हूं। महाराज साहब नाराज हैैं, जमीन के मामले में तुरंत मदद करें। हमारे सेवादल के पूर्व जिलाध्यक्ष धनंजय शर्मा ने महाराज साहब (ज्योतिरादित्य सिंधिया) को फोन लगाया था। उन्हें तेंदुआ थाना क्षेत्र में परेशान किया जा रहा है। तेंदुआ थाना क्षेत्र में जमीनी विवाद है। महाराज ने हमको फोन लगाया था। इसलिए आप धनंजय शर्मा से बात करो और जो भी मामला है, उसे निपटाओ। फोन पर बातचीत करने पर एसडीओपी को संदेह हुआ। एसडीओपी वर्मा ने एसपी राजेश सिंह चंदेल को मामले की सूचना दी। इसके बाद जांच में मामला खुल गया।