Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Thursday, 30 September 2021

16:46

राजकीय महाविद्यालय में हुआ ओरियंटेशन कार्यक्रम का आयोजन


बदायूं- राजकीय महाविद्यालय, आवास विकास, बदायूं में  महाविद्यालय की आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ (आइक्यूएसी) के तत्वावधान में सत्र 2021-22 में बीएससी प्रथम वर्ष में प्रवेश लेने वाले नव प्रवेशित छात्र छात्राओं हेतु एक ओरियंटेशन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ अंशु सत्यार्थी द्वारा किया गया। उन्होंने छात्र छात्राओं को आशीर्वचन प्रदान करते हुए एक शिक्षित, सजग नागरिक के रूप में सामाजिक सरोकारों के प्रति अपनी भूमिका का निर्वहन करते हुए राष्ट्र निर्माण में योगदान प्रदान करने हेतु प्रेरित किया। 
          कार्यक्रम का संचालन करते हुए डॉली, आइक्यूएसी कोऑर्डिनेटर ने नव प्रवेशित छात्र छात्राओं को इस कार्यक्रम के उद्देश्य, साहित्यिक- सांस्कृतिक- विभागीय परिषदों के अन्तर्गत आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रमों, कैरियर काउंसलिंग, एंटी रैगिंग तथा उ.प्र.शासन की  छात्रवृत्ति योजना के संबंध में अवगत | उन्होंने यह भी बताया कि आइक्यूएसी द्वारा बीकॉम प्रथम वर्ष के नवीन छात्र छात्राओं हेतु ओरियंटेशन कार्यक्रम 01.10.2021 को आयोजित किया जाएगा। डॉ श्रद्धा गुप्ता, नैक कोऑर्डिनेटर ने वर्तमान सत्र में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 लागू होने के पश्चात उच्च शिक्षा के क्षेत्र में आए परिवर्तनों से नवीन छात्र छात्राओं को अवगत कराते हुए एनसीसी की चयन प्रक्रिया तथा महत्व के विषय में जानकारी प्रदान की।
         डॉ अनिल कुमार असि. प्रो. इतिहास ने महाविद्यालय पत्रिका,क्रीड़ा प्रतियोगिताओं, अनुशासन एवं एससी एसटी प्रकोष्ठ के विषय में जानकारी प्रदान की। डॉ राकेश कुमार जायसवाल, असि. प्रो. राजनीति विज्ञान द्वारा छात्र छात्राओं को शिक्षक- अभिभावक संघ तथा भूतपूर्व छात्र संघ के विषय में जानकारी प्रदान करते हुए एनएसएस की चयन प्रक्रिया उसके महत्व को रेखांकित किया गया। साथ ही महिला प्रकोष्ठ,पुस्तकालय व वाचनालय तथा छात्र-छात्रा शिकायत निवारण हेतु महाविद्यालय द्वारा गठित प्रकोष्ठ के विषय में विस्तार से अवगत कराया गया। 
            डॉक्टर नीरज कुमार, असि. प्रो. गणित द्वारा छात्र छात्राओं को महाविद्यालय में स्थित राजश्री टंडन ओपन यूनिवर्सिटी, उत्तर प्रदेश तथा इंदिरा गाँधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी ( IGNOU) के अध्ययन केन्द्रों  के विषय में जानकारी प्रदान करते हुए रोवर्स- रेंजर्स के चयन की प्रक्रिया की जानकारी प्रदान की गई| इस अवसर पर विज्ञान संकाय के प्राध्यापकों डॉ सारिका शर्मा, डॉ मिथिलेश कुमार, डॉ सरिता, डॉ सचिन ने छात्र -छात्राओं  को मार्गदर्शन प्रदान किया। कार्यक्रम के अंत में आईक्यूएसी प्रभारी डॉ डॉली द्वारा सभी का आभार प्रकट किया गया और राष्ट्रगान के पश्चात आज के कार्यक्रम का गरिमा पूर्ण तरीके से समापन हो गया।
05:48

हम जिंदा रहे या न रहें लेकिन किसान आंदोलन जिंदा रहना चाहिए TNI

एटा:अखिल भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले एटा कचहरी स्थित धरना स्थल पर अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन जारी रहा उक्त धरना स्थल पर क्रमिक अनशन के तीसरे दिन प्रातः 10:00 बजे से 24 घंटे के लिए युवा राष्ट्रीय महासचिव जुगेन्द्र सिंह, संरक्षक बाबूराम वर्मा, तहसील उपाध्यक्ष रहे।

उक्त बैठक में सर्वप्रथम राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिल संघर्षी का कई दिन से स्वास्थ्य खराब होने की बजह से कल जिला अस्पताल में जांच कराई गई उसमें प्लेटलेट्स 72 हजार रह गई हैं जिस पर राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिल संघर्षी ने कहा कि हम अपने निजी संशाधनों से इलाज करा रहे हैं लेकिन सही बात यह है कि वर्तमान समय में अभी गम्भीर बीमारी का दौर चल रहा है किसी के जीवन का कोई पता नहीं कब कौन चला जाए हम जब तक जिंदा हैं पूरी ताकत के साथ लडाई लड़ेंगे 04 अक्टूबर को कासगंज मैं प्रस्तावित किसानों पंचायत में शामिल हूँगा और चौधरी महेन्द्र सिंह टिकैत की जयंती पर 06 अक्टूबर से आमरण अनशन करूंगा और अलीगढ़, आगरा, कानपुर, मेरठ बरेली मण्डल के सभी पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं सहित सभी किसान नोजवानों से अनुरोध है कि अगर आंदोलन के दौरान मृत्यु हो जाती है तो यह लड़ाई जिले के जिम्मेदार अधिकारियों के जेल जाने तक सड़कों पर आंदोलन जारी रहेना चाहिए भले ही तीन दिन तक हमारी लाश को धरना स्थल पर ही रखकर रहना पड़े लेकिन जो योगी जी खुली छूट की बजह से किसान, नोजवान और मजदूर भाइयों की लूट करने वाले लोगों को जेल भिजवाने तक आंदोलन जारी रहना चाहिए और महत्वपूर्ण बात यह है कि कुछ लोग संगठन में भी गलती से जुड़ गए हैं जो केवल तोड़ फोड़ के अतिरिक्त कुछ नहीं जानते हैं और पुराने सच्चे, अच्छे कार्यकर्ताओं की कद्र अपने आप को बड़ा पदाधिकारी होने की बजह से नहीं जानते हैं उनसे संगठन को बचाकर अच्छे लोगों को आगे लाकर संगठन हमेशा जिंदा रहना चाहिए। बताते चलें कि किसान आंदोलन का श्रमिक विकास संगठन के नेता रामजी पांडे ने समर्थन किया है
 

इस अवसर पर प्रमुख रूप से :- राष्ट्रीय महासचिव सुरेंद्र शास्त्री, राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल सोलंकी, प्रदेश अध्यक्ष रामकिशन यादव, प्रदेश महासचिव रघुवीर सिंह, दिनेशपाल सिंह, अशोक कुमार, मोनू प्रधान, दयाशंकर, युवराज राजपूत, राजाराम उर्फ राजा भाई, रमेश हलवाई, रामअवतार प्रभु, शकुंतला देवी, अनुपमा पांडे सहित आदि लोग उपस्थित रहे।
05:34

वनवासी समाज के हित में संवेदनशील होने की जरूरत है: हर्ष चौहान


प्रविष्टि तिथि: 30 SEP 2021 

नई दिल्ली:राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग केवल शिकायत का एक मंच नहीं है बल्कि जनजातीय समाज तक जानकारी पहुंचाने का भी एक माध्यम है। आयोग का उद्देश्य जनजातीय समाज के साथ संवाद को बढ़ाना, उनके लिए बनने वाली योजनाओं को उन तक सही माध्यम से पहुंचाना और उनको आने वाली समस्याओं के समाधान के लिए एक सार्थक मंच प्रदान करना भी है। वनवासी समाज के लोगों के लिए देश में संवेदनशील लोगों की जरूरत है। ये बातें राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री हर्ष चौहान ने आयोग द्वारा आयोजित तीन दिवसीय सेमिनार में कहीं। आयोग की तरफ से दिल्ली के विज्ञान भवन में '' जनजाति ग्रामों में वित्तीय समावेशन व अजीविका का अभिशरण " शीर्षक से एक तीन दिवसीय सेमिनार का आयोजन किया गया। 28 सितंबर से शुरू हुई इस सेमिनार में विभिन्‍न सत्रों में देशभर से आए वक्ताओं ने अपनी बातें रखीं। विभिन्‍न मंत्रालयों ने अपने-अपने मंत्रालयों के माध्यम से जनजातीय समाज के लिए किए जा रहे रहे कार्यों के बारे में अवगत कराया। आयोग के अध्यक्ष श्री हर्ष चौहान ने अपने वक्तव्य में और भी कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा “जनजाति के मूल अर्थ को समझे जाना बेहद आवश्यक है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001KL8M.jpg

      

अंग्रेज़ों द्वारा थमाई गई जनजाति की अवधारणाओं की वजह से इसके मूल भाव से हम कहीं न कहीं भटक गए हैं। जनजाति समुदाय के कुछ प्रमुख मुद्दे हैं जैसे, भूमि बेदखलीकरण, पुनर्वास, शिक्षा, स्वास्थ्य, वित्तीय समावेशन, वनाधिकार इत्यादि। इन सभी मुद्दों पर नीतिगत और जमीनी स्तर पर नए दृष्टिकोण से विचार किए जाने की जरूरत है। समाज में यह आम धारणा रही है कि जनजातीय समुदाय ज़िम्मेदारी है लेकिन यहां समाज यह भूल जाता है कि जनजाति समुदाय हमारी संपत्ति है। इसलिए जनजातियों की संविधान द्वार प्राप्त अधिकारों की रक्षा करना और विभिन्‍न सरकारी एजेंसियों के साथ मिलकर इनकी भागीदारी सुनिश्चित करना आयोग का महत्वपूर्ण प्रयास है। नीतिगत और जमीनी स्तर पर गुणवत्तापूर्ण कार्य के साथ-साथ इनकी निरंतर निगरानी किए जाना भी बेहद जरूरी है। यहां एक महत्वपूर्ण बात यह भी है कि जनजातीय समाज के लिए बनने वाले योजनाएं उनको साथ लेकर ही बनाई जानी चाहिए ''

         

कार्यक्रम में भारत सरकार के श्रम एवं वन और पर्यावरण मंत्री श्री भूपेंद्र यादव और केंद्रीय इस्पात और ग्रामीण विकास राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते भी मुख्य आतिथि के रूप में मौजूद रहे। इस अवसर पर भूपेंद्र यादव ने कहा कि जनजाति समुदाय के प्रति सरकार और आमजन को सजग रहने की जरूरत है। जनजातियों को एक समुदाय के रूप में समझने की आवश्यकता है। जनजाति समुदाय आदिकाल से ही पर्यावरण संरक्षण और परिस्थितिकी संतुलन बनाए रखने में सबसे आगे रहे हैं। इस भूमिका को ध्यान रखते हुए हाल ही में पर्यावरण मंत्रालय ने जनजातीय कार्य मंत्रालय के साथ मिलकर वन संसाधनों के प्रबंधन में जनजातीय समुदायों को और अधिक अधिकार देने का निर्णय लिया है। इन समुदायों के आजीविका और वित्तीय समावेशन के लिए हमें मूलभूत बातों पर तत्काल विचार कर बुनियादी सुविधाओं को विकसित करना होगा। इसके लिए


      

05:30

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के लिए हिंदी और अंग्रेजी सहित 13 क्षेत्रीय भाषाओं में लिपिकीय भर्ती परीक्षाओं का आयोजन

प्रविष्टि तिथि: 30 SEP 2021

नई दिल्ली:भारत सरकार के वित्त मंत्रालय ने सिफारिश की है कि 12 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के लिए लिपिकीय भर्तियों और अब से विज्ञापित रिक्तियों के संदर्भ में, प्रारंभिक और मुख्य दोनों परीक्षाएं, हिंदी और अंग्रेजी सहित 13 क्षेत्रीय भाषाओं में आयोजित की जाएंगी।

यह निर्णय सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में क्षेत्रीय भाषाओं में लिपिक संवर्ग के लिए परीक्षा आयोजित करने के मामले पर विचार करने के लिए भारत सरकार के वित्त मंत्रालय द्वारा गठित एक समिति की सिफारिश पर आधारित है। आईबीपीएस द्वारा शुरू की गई परीक्षा आयोजित करने की मौजूदा प्रक्रिया को समिति की सिफारिशें उपलब्ध कराए जाने तक रोक कर रखा गया था।

समिति ने स्थानीय युवाओं को रोजगार के अवसरों के लिए एक समान अवसर प्रदान करने और स्थानीय/क्षेत्रीय भाषाओं के माध्यम से ग्राहकों के साथ अधिकाधिक जुड़ने के उद्देश्य से काम किया।

क्षेत्रीय भाषाओं में लिपिकीय परीक्षा आयोजित करने का यह निर्णय आगामी एसबीआई रिक्तियों पर भी लागू होगा, जो पहले से विज्ञापित रिक्तियों के लिए चल रही भर्ती प्रक्रिया के पूरा होने के बाद होगा।

05:26

दालों के भंडार का डिजिटलीकरण जोरों पर tap news india

प्रविष्टि तिथि: 30 SEP 2021

नई दिल्ली:उपभोक्ता मामले विभाग के आधिकारिक पोर्टल पर 20 सितंबर, 2021 तक कम से कम 11,635 भंडार धारकों ने 3097694.42 मीट्रिक टन दालों के भंडार की घोषणा करते हुए पंजीकरण कराया है।

उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय का उपभोक्ता मामले विभाग 22 आवश्यक खाद्य वस्तुओं के खुदरा और थोक मूल्यों की निगरानी कर रहा है। यह विभाग द्वारा विभिन्न प्रभावी नीतिगत उपायों के माध्यम से प्राप्त किया जा रहा है जैसे कालाबाजारी पर अंकुश लगाना, निर्यात को प्रतिबंधित करके उपलब्धता बढ़ाना और आयात को प्रोत्साहित करना, बफर स्टॉक बनाना एवं असामान्य मूल्य वृद्धि को कम करने के लिए समय पर भंडार जारी किया जाना सुनिश्चित करना।

इस सिलसिले में खुले बाजार में उपलब्ध दालों के आंकड़ों का दोहन करना जरूरी था। इसलिए, माननीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रीश्री पीयूष गोयल की मंजूरी के साथविभाग ने स्टॉकिस्ट, मिल मालिकों, आयातकों और डीलरों जैसे विभिन्न भंडार धारकों को किसी भी दी गयी तारीख पर अपने पास मौजूदभंडारकी जानकारी देने की खातिर प्रोत्साहित करने के लिए एक पोर्टल तैयार किया है।

 

व्यापारियों, मिल मालिकों, आयातकों, और सरकारी एवं निजी स्वामित्व वाले गोदामों के माध्यम से भंडार की घोषणा की मदद से एक डेटा बैंक बनाया जाएगा। इससे सरकार को यह समझने में मदद मिलेगी कि वे कौन से राज्य हैं जो कटाई-पिसाई-पेराई (मिलिंग) आदि उद्देश्यों के लिए उत्पादन और भंडारण करते हैं। भंडार संबंधी इस घोषणा और उस के रियल-टाइम सत्यापन के माध्यम से जमाखोरी और कृत्रिम कमी पैदा करने की अवांछनीय प्रथाओं पर रोक लगाने में भी मदद मिलेगी।

पोर्टल - https://fcainfoweb.nic.in/psp - को भी कोई भी नागरिक एक्सेस कर सकता है। ओटीपी के माध्यम से ईमेल और मोबाइल के सत्यापन के बाद हितधारक पोर्टल में पंजीकरण कर सकते हैं और यूजर आईडी एवं पासवर्ड बना सकते हैं। यूजर आईडी और पासवर्ड बनाने के बाद, वे अपने विवरण एवं भौगोलिक जानकारी जोड़कर अपने प्रोफाइल में जानकारी साझा करते हैं और किसी भी तारीख को अपने भंडार में मौजूद अलग-अलग दालों की जानकारी देते हैं। जब भी भंडार में कोई वृद्धि या घटाव होता है, तो डेटा को अपडेट करना हितधारकों की जिम्मेदारी है।

डेटा की गोपनीयता बनाए रखी जाती है। राज्य और केंद्र सरकार के अलावा किसी भी भंडार धारक द्वारा घोषित डेटा उन्हें दिखाई देगा। डेटा उन्हें किसी भी तारीख को भंडारों की आवाजाही और उनके साथ भंडार की मात्रा जानने में मदद करता है। राज्य सरकारें अपने स्वयं के राज्यों से संबंधित विभिन्न हितधारकों द्वारा किए गए पंजीकरण और घोषित भंडार की निगरानी कर सकती हैं। यह उनके राज्य में उपलब्ध विभिन्न दालों के भंडार की मात्रा का डेटा देता है। यह किसी विशेष दाल की उपलब्धता में किसी भी अपेक्षित कमी के बारे में भी जानकारी देता है ताकि राज्य सरकार स्थिति के आधार पर आयात के माध्यम से या केंद्रीय बफर के माध्यम से सुचारू उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए सक्रिय रूप से काम कर सके।

उपभोक्ता मामले विभाग राष्ट्रीय स्तर पर स्थिति पर नजर रखता है। यह देश भर में किसी विशेष दाल की उपलब्धता में किसी भी अपेक्षित कमी के बारे में भी जानकारी देता है ताकि सरकार तत्काल आयात या निर्यात को प्रतिबंधित करने या स्थिति के आधार पर केंद्रीय बफर में भंडार जारी करने के माध्यम से सुचारू उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए सक्रिय रूप से काम कर सके। पोर्टल से प्राप्त आंकड़ों के आधार पर सरकार द्वारा उठाए जाने वाले विभिन्न उपायों से उपभोक्ताओं के लिए सस्ती कीमतों पर दालों की सुगम उपलब्धता सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी।

05:23

उपराष्ट्रपति राजस्थान के चार दिनों के दौरे के बाद वापस लौटे tap news

नई दिल्ली:उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू अपने चार दिवसीय राजस्थान के दौरे के बाद आज नई दिल्ली लौट आए। श्री नायडू ने राजस्थान के विभिन्न सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और सीमांत स्थानों का दौरा किया। उन्होंने कृषि वैज्ञानिकों के साथ भी बातचीत की और उन्हें शुष्क भूमि पर खेती के लिए विकसित नई किस्मों के बारे में जानकारी दी गई।

श्री नायडू ने अपनी यात्रा की शुरुआत जैसलमेर के प्रसिद्ध तनोट माता मंदिर में जाकर की, जहां उन्होंने अपनी पत्नी श्रीमती उषा नायडू के साथ पूजा-अर्चना की। इस मौके पर उन्होंने तनोट के विजय स्तंभ पर माल्यार्पण कर शहीदों को श्रद्धांजलि भी दी।

जैसलमेर में सीमा के पास प्रसिद्ध लौंगेवाला युद्ध स्थल का दौरा करते हुए, श्री नायडू ने 1971 के भारत-पाक युद्ध के दौरान एक निर्णायक लड़ाई में भारतीय सैनिकों द्वारा प्रदर्शित अनुकरणीय साहस और दृढ़ संकल्प की प्रशंसा की।

दूसरे दिन, उपराष्ट्रपति ने 'जैसलमेर युद्ध संग्रहालय' का दौरा किया और भारतीय सेना के बैटल एक्स डिवीजन (12 रैपिड) के सैनिकों के साथ बातचीत की। उन्होंने कठोर जलवायु परिस्थितियों में राष्ट्र की रक्षा और सीमाओं की रक्षा करने में उनके सर्वोच्च प्रयासों की सराहना की। उन्होंने सुरक्षा बलों से पारंपरिक युद्ध में अपना प्रभुत्व बनाए रखते हुए सूचना और साइबर युद्ध जैसे संघर्ष के नए और उभरते क्षेत्रों में अपना वर्चस्व स्थापित करने का आग्रह किया।

श्री नायडू ने बाद में 191 बीएन मुख्यालय में एक सैनिक सम्मेलन को संबोधित किया और क्षेत्र में तैनात सीमा सुरक्षा बल के जवानों के साथ बातचीत की। उन्होंने देश की सीमाओं की रक्षा करने तथा सीमा पर दुश्मन के ड्रोन से उभरते खतरों का मुकाबला करने के उपाय के लिए बीएसएफ सैनिकों की प्रशंसा की और बल को नवीनतम तकनीकों के साथ खुद को अपडेट करने के लिए कहा। उपराष्ट्रपति ने हमारे सुरक्षा बलों में महिलाओं के प्रतिनिधित्व में वृद्धि पर संतोष व्यक्त किया।

जैसलमेर में अपने दो दिवसीय प्रवास के बाद, उपराष्ट्रपति जोधपुर पहुंचे और विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर ऐतिहासिक मेहरानगढ़ किले का दौरा किया और इसकी भव्‍य सुंदरता से प्रभावित हुए। बाद में एक फेसबुक पोस्ट में, श्री नायडू ने किले को राजस्थान की भव्यता का एक चमकता हुआ प्रतीक बताया। उन्होंने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विरासत स्थलों के आसपास बुनियादी ढांचे और अन्य सुविधाओं में सुधार करने का भी आह्वान किया।

तीसरे दिन, उपराष्ट्रपति ने आईआईटी जोधपुर के परिसर का दौरा किया, जहां उन्होंने जोधपुर सिटी नॉलेज एंड इनोवेशन क्लस्टर का उद्घाटन किया और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ऑफ थिंग्स (एआईओटी) सिस्टम के लिए फैब लैब की आधारशिला रखी। छात्रों को संबोधित करते हुए, श्री नायडू ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) जैसी क्रांतिकारी तकनीकों की क्षमता का दोहन करने का आह्वान किया और उन्हें कृषि, स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में समस्याओं के व्यावहारिक समाधान खोजने की सलाह दी।

अंतिम दिन, श्री नायडू ने सीमा सुरक्षा बल के जोधपुर फ्रंटियर मुख्यालय का दौरा किया और बीएसएफ के कार्मिकों के साथ बातचीत की। उन्होंने विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि बीएसएफ शांति के दुश्मनों के नापाक मंसूबों को नाकाम करना जारी रखेगा।

इसी दिन बाद में, उपराष्ट्रपति ने जोधपुर में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (भाकृअनुप) -केंद्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान (काजरी) का दौरा किया और वैज्ञानिकों तथा कर्मचारियों के साथ बातचीत की। संस्थान में वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए उपराष्ट्रपति ने किसानों को अधिक से अधिक पहुंच प्रदान करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा, "प्रौद्योगिकियां प्रयोगशालाओं तक सीमित नहीं रहनी चाहिए और वैज्ञानिक जानकारी किसानों को हस्तांतरित की जानी चाहिए।"

जयपुर से नई दिल्ली के लिए प्रस्थान के समय, श्री नायडू और उनकी पत्नी श्रीमती उषा नायडू को राजस्थान के राज्यपाल श्री कलराज मिश्र, राजस्थान सरकार के मंत्री डॉ बुलाकी दास कल्ला, राज्यसभा के सदस्य श्री राजेंद्र गहलोत और अन्य ने विदाई दी।

Wednesday, 29 September 2021

13:30

एटा में आज बीसवें दिन भी अनिश्चितकालीन क्रमिक अनशन जारी रहा

 अखिल भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले एटा कचहरी स्थित धरना स्थल पर अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन जारी रहा उक्त धरना स्थल पर क्रमिक अनशन के दूसरे दिन प्रातः 10:00 बजे से 24 घंटे के लिए प्रदेश अध्यक्ष श्री राम किशन यादव, जिला प्रचार मंत्री प्रेम सिंह नेताजी दतौली वाले, जिला सचिव राजाराम और राजू भैया रहे उक्त बैठक में तय किया गया के भ्रष्ट अधिकारी / कर्मचारियों के खिलाफ पत्रकार साथी संजीव गुप्ता के द्वारा वीडियो वायरल करने की वजह से उप जिलाधिकारी सदर ने अपने अधीनस्थ कर्मचारियों के द्वारा झूठा मुकदमा दर्ज कराया गया है इसे तत्काल खत्म कराया जाए अगर शासन-प्रशासन इस कार्रवाई को तुरंत करने में लापरवाही करेगा तो अखिल भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता पत्रकार साथियों के सहयोग में जेल भरो आंदोलन करने से पीछे नहीं हटेंगे और हर हाल में जेल भरो आंदोलन किया जाएगा पूर्व प्रस्तावित आमरण अनशन को भी उपरोक्त जेल भरो आंदोलन में भी जारी रखा जाएगा।
 

इस अवसर पर प्रमुख रूप से :- राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिल संघर्षी, राष्ट्रीय महासचिव सुरेंद्र शास्त्री, युवा राष्ट्रीय महासचिव जोगेंद्र सिंह, राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल सोलंकी, मंडल अध्यक्ष थान सिंह लोधी, संरक्षक बाबूराम वर्मा, विशानपाल सिंह चौहान, जसवंत सिंह यादव, हाकिम सिंह नेताजी, अभिषेक यादव, युवराज राजपूत, राकेश कुमार, रमेश हलवाई, रामअवतार प्रभु, अनुपमा पांडे, राम श्री सहित आदि लोग उपस्थित रहे
13:25

सड़क सुरक्षा कार्यशाला में एनएसएस स्वयंसेवी हुए प्रशिक्षित


बदायूं - उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चलाए जा रहे सड़क सुरक्षा सप्ताह के अंतर्गत राष्ट्रीय सेवा योजना के द्वारा उत्तर प्रदेश राज्य परिवहन आयुक्त कार्यालय लखनऊ के सड़क सुरक्षा जनजागरूकता के वर्चुअल कार्यशाला का राजकीय महाविद्यालय बदायूं में लाइव प्रसारण कर स्वयंसेवियों को प्रशिक्षित किया गया। वर्चुअल कार्यशाला से जुड़कर एनएसएस स्वयंसेवियों के साथ अन्य छात्र छात्राओं ने भी सड़क सुरक्षा से संबंधित नई तकनीकी का अध्ययन किया। वेबेक्स प्लेटफॉर्म पर आयोजित ऑनलाइन कार्यशाला में दोपहिया और चारपहिया वाहनों के चलाने के नूतन तौर तरीकों से परिचित कराया गया।दुर्घटना की स्थिति में तात्कालिक प्राथमिक उपचार के साथ टोलफ्री हेल्पलाइन नंबर से अवगत कराया गया।कार्यशाला में परिवहन नियमो के उल्लंघन करने पर दिए जाने वाले दण्ड और एक्ट की भी चर्चा की गई। कार्यक्रम अधिकारी डॉ राकेश कुमार जायसवाल,इग्नू समन्वयक डॉ संजीव राठौर और डॉ सचिन राघव ने कार्यशाला में बताए गए सड़क सुरक्षा की नई तकनीकी का विश्लेषण कर छात्र छात्राओं से आह्वान किया कि वे आम जनता को इसके लिए जागरूक करें। जिला सहायक परिवहन अधिकारी सोहेल अहमद ने कार्यशाला में उपस्थित सभी शिक्षकों और छात्रों को धन्यवाद ज्ञापित किया।
 इस अवसर पर डॉ नीरज कुमार,डॉ मिथिलेश, डॉ दिलीप बर्मा,डॉ संजय कुमार,डॉ राजधारी यादव,डॉ ज्योति विश्नोई,राजेश कुमार सिंह,मेहरून्निसा, राखी,एकता सक्सेना,अंशुल कुमार, दीक्षा सक्सेना,अपसार गाजी,अमन सक्सैना,एकता सक्सेना,सान्या गुप्ता, गीतांजलि,अर्जुन सिंह,शीतल गौतम, संजना चौहान, वर्षा आदि उपस्थित थे।
06:31

उपराष्ट्रपति श्री एम वेंकैया नायडू ‘वयोश्रेष्ठ सम्मान’ पुरस्कार प्रदान करेंगे TNI


नई दिल्ली:सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय 1 अक्टूबर,  2021 को प्रातः 11:55 से 1 बजकर 5 मिनट तक प्लेनरी हॉल, विज्ञान भवन, नई दिल्ली में अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस के अवसर पर वरिष्ठ नागरिकों के सम्मान में ‘वयो नमन’ कार्यक्रम का आयोजन करेगा। मंत्रालय वृद्धजनों के लिए हर वर्ष 1 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस मनाता है।

उपराष्ट्रपति श्री एम वेंकैया नायडू कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होंगे और ‘वयोश्रेष्ठ सम्मान’ पुरस्कार प्रदान करेंगे। श्री नायडू इस अवसर पर एल्डरली लाइन 14567 को राष्ट्र को समर्पित करेंगे और सीनियर एबल सिटिजन रिएम्प्लॉयमेंट इन डिग्निटी (एसएसीआरईडी) और सीनियर केयर एजिंग ग्रोथ इंजन (सीएजीई) पोर्टल्स का शुभारंभ करेंगे।

केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री डॉ. वीरेंद्र कुमार, सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री श्रीमती प्रतिमा भौमिक, श्री रामदास अठावले, श्री ए नारायणस्वामी और श्री आर. सुब्रह्मण्यम और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता सचिव भी इस कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे।

06:26

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने नीमच-रतलाम रेल लाइन के दोहरीकरण की मंजूरी दी

नई दिल्ली प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय़ समिति ने नीमच-रतलाम रेल लाइन के दोहरीकरण की मंजूरी दी है। इस परियोजना की कुल अनुमानित लागत 1,095.88 करोड़ रुपये और बढ़ी हुई/कार्य समापन लागत 1,184.67 करोड़ रुपये होगी। इस लाइन के दोहरीकरण की कुल लंबाई 132.92 किमी है। यह परियोजना चार साल में पूरी होगी।

नीमच-रतलाम खंड की लाइन क्षमता उपयोग रख-रखाव ब्लॉकों के साथ 145.6 प्रतिशत तक है। इस परियोजना मार्ग खंड पर बिना रख-रखाव ब्लॉक के भी अधिकतम क्षमता से भी कहीं अधिक माल ढुलाई यातायात हो गया है। सीमेंट कंपनियों के कैप्टिव पॉवर प्‍लांट के लिए मुख्‍य आवक माल यातायात के रूप में कोयले की ढुलाई की जाती है। नीमच-चित्तौड़गढ़ क्षेत्र में सीमेंट ग्रेड, चूना पत्थर के विशाल भंडारों की उपलब्धता होने से नए सीमेंट उद्योगों की स्थापना के कारण इस खंड पर यातायात में और बढ़ोतरी होगी।

नीमच-रतलाम खंड के दोहरीकरण से इस खंड की क्षमता में बढ़ोतरी होगी। इस प्रकार सिस्टम में अधिक माल और यात्री ट्रेन शामिल की जा सकेंगी। सीमेंट उद्योगों की निकटता के कारण पहले वर्ष से 5.67 मिलियन टन प्रति वर्ष की अतिरिक्त माल ढुलाई की उम्मीद है, जो 11वें वर्ष में बढ़कर 9.45 मिलियन टन प्रति वर्ष हो जाएगी। इससे आसान कनेक्टिवटी उपलब्ध होने के साथ-साथ इस क्षेत्र के सामाजिक-आर्थिक विकास को भी बढ़ावा मिलेगा। इस परियोजना से इस क्षेत्र में पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा, क्योंकि ऊंचागढ़ के किले सहित कई ऐतिहासिक स्थल इस परियोजना क्षेत्र में स्थित हैं।

06:23

कामयाबी को आदत बनाने वाली लड़की tap news


नई दिल्ली:टोक्यो ओलंपिक-2020 में भारतीय स्टार शटलर पीवी सिंधु ने इतिहास रच दिया। वह न केवल बैडमिंटन इतिहास में भारत के लिए दो मेडल जीतने वाली पहली शटलर बनीं, बल्कि इंडिविजुअल गेम में ऐसा करने वाली पहली महिला एथलीट भी बन गई हैं। इससे पहले उन्होंने रियो ओलिंपिक में सिल्वर मेडल अपने नाम किया था। टोक्यो ओलंपिक में सेमीफाइनल में हार के बावजूद अपनी प्रतिभा की चमक को बनाए रखते हुए उन्होंने कांस्य पदक जीत लिया।

पीवी सिंधु विश्व चैंपियन शिप से लेकर ओलंपिक तक लगातार भारत को गर्व करने के अवसर प्रदान कर रही हैं। उन्होंने कामयाबी को अपनी आदत बना लिया है और अभी उनका सफर जारी है। सोचिये कि वह बैडमिंटन रैकेट कितना कीमती होगा जिससे पीवी सिंधु ने इतिहास बनाया। बिल्कुल सही सोचा आपने वाकई वह रैकेट बेशकीमती है लेकिन राष्ट्र के हित मे एक बड़े उद्देश्य के लिये अब पीवी सिंधु का वह ऐतिहासिक रैकेट को कोई भी अपना बना सकता है।

पीवी सिंधु ने ओलंपिक में विजय पताका फहराने के बाद  भारत लौट कर प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी को अपना रैकेट उपहार स्वरूप भएट कर दिया। अब जबकी प्रधानमंत्री को मिले उपहारों का ई-ऑक्शन शुरू हो चुका है। सिंधु का बैडमिंटन भी उन वस्तुओं की सूची में शामिल है जिनका ऑक्शन किया जा रहा है। यह ई-आक्शन  17 सितम्बर से 7 अक्टूबर तक चलेगा। सिंधु की उपलब्धि की निशानी को आप हासिल कर गौरवान्वित हो सकते हैं।  बस www.pmmementos.gov.in पर लॉग ऑन कर ई-ऑक्शन में हिस्सा लें। इस ऑक्शन में पीवी सिंधु के रैकेट का बेस प्राइज 80 लाख रखा गया है।

इससे पहले भी प्रधानमंत्री को मिलने वाले उपहारों की नीलामी होती रही है। आखिरी बार साल 2019 में ऐसा ऑक्शन हुआ था। पिछली बार नीलामी में सरकार ने 15 करोड़ 13 लाख रुपये हासिल किए थे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में वह पूरी राशि गंगा को स्वच्छ और निर्मल बनाने हेतु 'नमामि गंगे कोष' में जमा की गयी थी। इस बार भी ऑक्शन से मिलने वाली राशि 'नमामि गंगे कोष' को प्रदान की जाएगी।

06:20

नयी रोशनी के रखवाले tap news india


नई दिल्ली:41 साल से हाकी में ओलंपिक मेडेल के अकाल को खत्म करके उन्होंने दम लिया। यह थी भारतीय हाकी की पुरूष टीम जिसने टोक्यो ओलंपिक 2020 में ऐतिहासिक विजय हासिल कर भारत को उसके हाकी के पुराने गौरव की चमक से रोशन कर दिया। टोक्यो ओलिंपक मे जीता गया वह ब्रांज मेडल महज एक पदक नहीं था बल्कि करोड़ों देश वासियों की आशा और सपने का पूरा होना है।  

 

एक समय था जब भारत विश्व में हाकी का सिरमौर था। धीरे धीरे एस्टोटर्फ के आगमन और खेल के नियमों में अभुतपूर्व बदलाव के चलते भातीय हाकी समय के साथ ताल मेल बिठाने मे नाकाम होने लगी और विश्वस्तरीय प्रतियोगिताओं में वह बुरी तरह पिछड़ गयी। लेकिन धूल से उठ कर फिर शिखर की ओर का सफर शुरू हुआ और आखिरकार मनप्रीत सिंह की कैप्टनशिप में हाकी ओलंपिक में भारत के नाम एक और मेडल दर्ज हो गया।  

 

06:18

प्रधानमंत्री राजस्थान में चार नए मेडिकल कॉलेजों की आधारशिला रखेंगे

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी 30 सितम्‍बर, 2021 को सुबह 11 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सिपेट (सीआईपीईटी): पेट्रोरसायन प्रौद्योगिकी संस्थान, जयपुर का उद्घाटन करेंगे और राजस्थान के बांसवाड़ा, सिरोही, हनुमानगढ़ और दौसा जिलों में चार नए मेडिकल कॉलेजों की आधारशिला भी रखेंगे।

इन मेडिकल कॉलेजों को ‘‘जिला / रेफरल अस्पतालों से जुड़े नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना’’ के लिए केन्‍द्र-प्रायोजित योजना के तहत स्वीकृत किया गया है। चिकित्सा महाविद्यालयों की स्थापना में पिछड़े एवं वांछित जिलों को प्राथमिकता दी जाती है। योजना के तीन चरणों के तहत, देश भर में 157 नए मेडिकल कॉलेजों को मंजूरी दी गई है।

सिपेट के बारे में

राजस्थान सरकार के साथ, भारत सरकार ने सिपेट : पेट्रोरसायन प्रौद्योगिकी संस्‍थान, जयपुर की स्थापना की है। यह आत्मनिर्भर है और पेट्रोरसायन तथा संबद्ध उद्योगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए समर्पित है। यह युवाओं को कुशल तकनीकी पेशेवर बनने के लिए शिक्षा प्रदान करेगा।

इस अवसर पर केन्‍द्रीय मंत्री श्री मनसुख मंडाविया और राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत भी मौजूद रहेंगे।

Tuesday, 28 September 2021

17:13

समाजसेवा के लिए मिला प्रमाणपत्र

नोएडा रामजी पांडे/महिला उन्नति संस्था द्वारा 28 सितंबर 2021 को मंगलम इंस्टिट्यूट ग्रेटर नोएडा में अपने तृतीय स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में दीदी की रसोई की संचालिका व समाजसेवीका रितु सिन्हा व सामाजिक कार्यकर्ता गंगेश्वर दत्त शर्मा व अन्य टीम सदस्यों को समाज सेवा एवं गरीब लोगों की मदद करने के कार्य की प्रशंसा करते हुए कार्यक्रम में मुख्य अतिथि अपर पुलिस आयुक्त गौतम बुध नगर एवं जिला प्रोबेशन अधिकारी गौतम बुध नगर श्री अतुल कुमार सोनी एवं अन्य विशिष्ट अतिथियों व संस्था के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने महिला उन्नति सम्मान (प्रस्तुति पत्र) देकर सम्मानित किया।
 सम्मान दिए जाने के लिए दीदी की रसोई टीम की ओर से दीदी की रसोई के वरिष्ठ पदाधिकारी व सामाजिक कार्यकर्ता गंगेश्वर दत्त शर्मा ने महिला उन्नति संस्था के सभी पदाधिकारी का आभार व्यक्त किया।
09:18

noidaहिमांशु अग्रवाल बने आम आदमी पार्टी व्यापार प्रकोष्ठ गौतम बुध नगर के सचिव एवं जिला प्रवक्ता

रामजी पांडे/आज दिनांक 28 September 2021 को नयागांव सेक्टर 86 नोएडा में शहीद-ए-आजम भगत सिंह जी जयंती के मौके पर आम आदमी पार्टी की गौतम बुध नगर व्यापार प्रकोष्ठ के जिला प्रभारी श्री जतिन शर्मा और प्रदेश उपाध्यक्ष श्री कुलदीप कुमार ने हिमांशु अग्रवाल को जिला सचिव एवं प्रवक्ता मनोनीत किया। प्रदेश उपाध्यक्ष श्री कुलदीप कुमार जी ने बताया कि हिमांशु अग्रवाल की कार्यशैली को देखते हुए शीर्ष नेतृत्व के निर्देश पर उन्हें व्यापार प्रकोष्ठ में जिला प्रवक्ता की जिम्मेदारी दी गई है। हिमांशु अग्रवाल ने पार्टी के सभी शीर्ष पदाधिकारी आभार जताते हुए पार्टी को मजबूत करने का प्रण लिया । कार्यक्रम का आयोजन नोएडा विधानसभा 61 से श्री जतन भाटी जी ने किया । कार्यक्रम की शुरुआत शहीद-ए-आजम भगत सिंह जी को माल्यार्पण करके की गई जिसमें जिले और प्रदेश के पदाधिकारियों ने फूलों से श्रद्धांजलि दी। इसी अवसर पर आम आदमी पार्टी के यूथ विंग के 8 वर्ष पूरे होने पर यूथ विंग के साथियों ने एक दूसरे को बधाई दी और संगठन को मजबूती देने का प्रण लिया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से आयोजक श्री जतन भाटी, प्रदेश उपाध्यक्ष व्यापार प्रकोष्ठ श्री कुलदीप कुमार, प्रदेश उपाध्यक्ष ओबीसी प्रकोष्ठ श्री गुड्डू यादव जी, प्रदेश उपाध्यक्ष यूथ विंग श्री प्रमोद भाटी जी, मेरठ मंडल उपाध्यक्ष व्यापार प्रकोष्ठ श्री अमित यादव जी, प्रदेश सचिव व्यापार प्रकोष्ठ श्री जतिन शर्मा जी, प्रदेश सचिव यूथ विंग जोहेब खान, प्रदेश सचिव यूथ विंग अजय भैया, जिला उपाध्यक्ष श्री परशुराम जी, सोशल मीडिया प्रभारी व्यापार प्रकोष्ठ श्री दिग्विजय सिंह, सामाजिक कार्यकर्ता श्री राजेश उपाध्याय जी, सामाजिक कार्यकर्ता श्री सिंह राज जी, जिला कार्यकारिणी सदस्य व्यापार प्रकोष्ठ श्री दिलीप कुमार, व अन्य कार्यकर्ता शामिल रहे।
07:01

भगतसिंह के सपनों का भारत बनाना SVS का लक्ष्य

शहीदे आजम भगतसिंह के जन्मदिवस पर उस महान क्रांतिकारी की पुण्य आत्मा को  नमन करते हुए श्रमिक नेता  रामजी पांडे ने कहा कि हमे अपने देश भारत को शहीद भगत सिंह के सपनों का भारत बनाना है और इसके लिए हमे जो भी कुर्बानियां देने की जरूरत आन पड़ेगी हम देने के लिए तैयार है ।उन्होंने कहा कि आज देश मे जिस तरह के हालात हैं उसमें भगत सिंह के विचारों की धरातल पर प्रासंगिकता और भी बढ़ गई है। खासतौर पर भगत सिंह और उनके क्रांतिकारी साथियों के साम्राज्यवाद विरोधी- साम्प्रदायिकता विरोधी विचार आज जन जन तक पहुँचाने की जरूरत आन पड़ी है।इसके लिए SVS लगातार प्रयासरत है और हमारा यह प्रयास आखिरी दम तक जारी रहेगा ।उन्होंने कहा कि आज देश का किसान  आंदोलन नए कंपनी राज के खिलाफ नई आज़ादी की लड़ाई की इबारत लिख रहा है। जिसमे श्रमिक विकास संगठन निरन्तर अपना योगदान देता रहेगा। रामजी पांडे ने कहा कि भगत सिंह और उनके क्रांतिकारी साथियों ने पुराने कम्पनी राज के खिलाफ लड़कर शहादत दी और देश को आज़ादी दिलाने का काम किया। आज भगत सिंह के वैचारिक वारिस किसान और श्रमिक देश भर में केंद्र सरकार द्वारा लाये जा रहे नए कम्पनी राज के खिलाफ लगातार लड़ रहे हैं।

05:07

ब्राह्मण महापंचायत में विप्र एकजुटता पर दिया गया जोर


राष्ट्रीय परशुराम सेना के नेतृत्व में शहर के तुलसी सदन हादीहाल में ब्राह्मण महापंचायत का आयोजन किया गया । जिलाध्यक्ष अनिल पांडेय स्वतंत्र की अगुवाई में  राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रदीप शुक्ला का सीताराम धाम पर जोरदार स्वागत किया गया हजारों की संख्या में विप्र समाज के लोगो ने  भगवान परशुराम के जयकारे के साथ अध्यक्ष जी की अगवानी कर उनके काफिले में शामिल हुए और कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे । कार्यक्रम का शुभारंभ भगवान परशुराम के चित्र  पर माल्यार्पण व दीप जलाकर आचार्य जनों द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार व शंखनाद के बीच अतिथियों द्वारा किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित ब्राह्मण हित चिंतक पूर्व मंत्री मनोज पाण्डेय व जगद्गुरु रवीश्वरा चार्य जी का माल्यार्पण कर अंगवस्त्र व परशुराम भगवान का चित्र भेंट कर जोरदार स्वागत किया गया । उपस्थित लोगो को संबोधित करते हुए सभागार मे भारी संख्या मे  विप्र जनों की संख्या को देखकर उन्होंने जय श्री परशुराम जी के जयकारे के साथ अपने उद्भोधन की शुरुवात की । उन्होंने कहा कि ब्राह्मण समाज ने हमेशा सामाजिक न्याय की लड़ाई को मजबूती के साथ लड़ा है वर्तमान के राजनीतिक परिदृश्य को देखते हुए ब्राह्मण समाज को एकजुट होकर अपनी दशा और दिशा तय करनी पड़ेगी । ब्राह्मण समाज हमेशा से सरकार को बनाने में अग्रणी भूमिका में रहा है लेकिन सभी सरकारों में ब्राह्मण समाज उपेक्षित रहा है इसके जिम्मेदार हम स्वयं है हम सब को एकजुट होकर अपने एजेंडे को तय करना होगा । उन्होंने राष्ट्रीय परशुराम सेना को सफल कार्यक्रम के लिए बधाई दी । राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रदीप शुक्ला ने कहा कि हमारा संगठन ब्राह्मण समाज के हित के लिए हमेशा संघर्ष रत रहा है समाज के लोगो के साथ अन्याय होने पर हमने पूरी ताकत के साथ पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने का कार्य किया है ब्राह्मण समाज के  उत्थान के लिए हम सब को मिलकर राजनीतिक भागीदारी को मजबूत करना होगा । प्रदेश अध्यक्ष अभिषेक तिवारी ने ब्राह्मण समाज की एकजुटता पर जोर दिया । मंडल अध्यक्ष संजय शुक्ला ने कहा कि ब्राह्मण समाज को अपने संस्कृति और संस्कारो की रक्षा के लिए एकजुट होना होगा ब्राह्मण समाज में मनीषी ऋषियों ने अपने त्याग बलिदान से धर्म की रक्षा की है ।और आज भी ब्राह्मण समाज के लोग सबके कल्याण की कामना करते हैं कार्यक्रम की अध्यक्षता अनिल त्रिपाठी ने किया । उपस्थित विद्वान संत शिरोमणि भार्गवा नंद जी महराज अरुण त्रिपाठी सोहगौरा महराज बाल व्यास मानस किंकरीक  प्रभाकर जी महराज ने अपने उद्बोधन में ब्राह्मण हित और उनके कल्याण की बात रखी और एकजुटता पर जोर दिया । प्रख्यात गायक विनय त्रिपाठी मधुकर ने अपने भजनों के माध्यम से भगवान श्री परशुराम का गुणगान कर उपस्थित लोगो को मंत्रमुग्ध कर दिया । आयोजन समिति के विशाल नाथ तिवारी काशी नारायण मिश्रा देवब्रत मिश्रा इंद्रदेव  तिवारी अभिषेक मिश्र ने भी अपने विचार रखे । कार्यक्रम में ब्राह्मण समाज के हित मे कार्य करने वाले लोगो को सम्मानित किया गया । नारी शक्ति के रूप में सामाजिक क्षेत्र में वंदना उपाध्याय एवम खेल के क्षेत्र में पावनी पांडेय का सम्मान किया गया ।  कार्यक्रम का संचालन जिलाध्यक्ष अनिल पांडेय स्वतंत्र ने किया । कार्यक्रम में मंडल उपाध्यक्ष राजीव मिश्रा  पंकज मणि त्रिपाठी अनूप त्रिपाठी अरुण उपाध्याय रंजन शुक्ला अभिषेक मिश्रा मनीष दुबे रामानुज मिश्रा चिंता मणि शुक्ला शैलेंद्र पांडेय रमेश मिश्रा सहित भारी संख्या में ब्राह्मण समाज के लोग उपस्थित रहे ।

Monday, 27 September 2021

06:32

प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय स्तर पर आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का शुभारंभ किया


नई दिल्ली:एक ऐतिहासिक पहल के रूप में, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का शुभारंभ किया। इस अवसर पर केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री मनसुख मांडविया और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार भी उपस्थित थीं।          

इस ऐतिहासिक अवसर पर देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत करने का पिछले सात साल से जारी अभियान, आज एक नए चरण में प्रवेश कर रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा, "आज हम एक मिशन शुरू कर रहे हैं, जिसमें भारत की स्वास्थ्य सुविधाओं में क्रांतिकारी बदलाव लाने की क्षमता है।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि आरोग्य सेतु ऐप से कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने में बहुत मदद मिली है। उन्होंने को-विन की सराहना करते हुए कहा कि सबको वैक्सीन-मुफ्त वैक्सीन अभियान के तहत भारत में आज तक वैक्सीन की लगभग 90 करोड़ रिकॉर्ड डोज दिए जाने में को-विन की बहुत बड़ी भूमिका है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी के उपयोग के विषय पर आगे बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में टेली-मेडिसिन का भी अभूतपूर्व विस्तार हुआ है। उन्होंने कहा कि अब तक ई-संजीवनी के जरिये दूर बैठकर लगभग 125 करोड़ परामर्श लिये गये हैं। यह सुविधा हर रोज देश के दूर-सुदूर क्षेत्रों में रहने वाले हजारों देशवासियों को घर बैठे ही शहरों के बड़े अस्पतालों के डॉक्टरों से जोड़ रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन, अब पूरे देश के अस्पतालों के डिजिटल हेल्थ समाधानों को एक-दूसरे से जोड़ेगा। इस मिशन से न केवल अस्पतालों की प्रक्रियाएं सरल होंगी, बल्कि इससे जीवन की सुगमता भी बढ़ेगी। इसके तहत अब देशवासियों को एक डिजिटल हेल्थ आईडी मिलेगी और हर नागरिक का स्वास्थ्य रिकॉर्ड डिजिटल रूप से सुरक्षित रखा जायेगा।

प्रधानमंत्री ने बताया कि भारत एक ऐसे स्वास्थ्य मॉडल पर काम कर रहा है, जो समग्र भी है और समावेशी भी है। यह ऐसा मॉडल है, जिसमें बीमारियों को रोकने पर जोर दिया जायेगा यानी वह रोकथाम वाली स्वास्थ्य सुविधा हो। इसके अलावा बीमारी की स्थिति में इलाज सुलभ हो, सस्ता हो और सबकी पहुंच में हो। उन्होंने स्वास्थ्य शिक्षा के क्षेत्र में अभूतपूर्व सुधार की भी चर्चा की और कहा कि पिछले सात-आठ वर्षों की तुलना में आज डॉक्टरों और पैरा-मेडिकल की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। उन्होंने कहा कि देश में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानों तथा अन्य आधुनिक स्वास्थ्य संस्थानों का एक बड़ा नेटवर्क स्थापित किया जा रहा है। इसके अलावा हर तीन लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों में मेडिकल कॉलेज बनाने पर काम चल रहा है। उन्होंने गांवों में स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत करने का उल्लेख करते हुए बताया कि गावों में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के नेटवर्क तथा आरोग्य केंद्रों को दुरुस्त किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि 80 हजार से अधिक ऐसे केंद्रों को चालू किया जा चुका है। 

06:29

साक्ष्य आधारित नीति निर्माण और सांख्यिकी आधारित क्रियान्वयन पर सरकार का मुख्य फोकस है: भूपेंद्र यादव


नई दिल्ली:श्रम एवं रोजगार मंत्री श्री भूपेंद्र यादव ने आज श्रम ब्यूरो द्वारा तैयार अखिल भारतीय तिमाही प्रतिष्ठान आधारित रोजगार सर्वेक्षण (एक्यूईईएस) के तिमाही रोजगार सर्वेक्षण (क्यूईएस) की  अप्रैल से जून 2021 तक की पहली तिमाही की रिपोर्ट जारी की।

श्रम ब्यूरो द्वारा जारी इस अखिल भारतीय त्रैमासिक स्थापना आधारित रोजगार सर्वेक्षण (एक्यूईईएस) को नौ चयनित क्षेत्रों के संगठित और असंगठित दोनों क्षेत्रों में रोजगार और प्रतिष्ठानों के संबंधित चर के बारे में लगातार (तिमाही) अद्यतन सूचना प्रदान करने के लिए शुरू किया गया है। ये क्षेत्र गैर-कृषि प्रतिष्ठानों में कुल रोजगार के अधिकांश भाग के लिए जिम्मेदार हैं। ये नौ चयनित क्षेत्र विनिर्माण, निर्माण, व्यापार, परिवहन, शिक्षा, स्वास्थ्य, आवास और रेस्तरां, सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी)/बीपीओ (बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग) और वित्तीय सेवाएं हैं।

इस कार्यक्रम में श्रम और रोजगार (एल एंड ई ) राज्य मंत्री श्री रामेश्वर तेली,  श्रम और रोजगार सचिव श्री सुनील बर्थवाल, प्रधान श्रम एवं रोजगार सलाहकार श्री डी.पी. एस. नेगी और महानिदेशक, श्रम ब्यूरो श्री आई. एस. नेगी तथा  अखिल भारतीय सर्वेक्षण पर विशेषज्ञ समूह के अध्यक्ष प्रो. एस.पी. मुखर्जी भी उपस्थित थे।

परिणामों की घोषणा करते हुए श्री यादव ने कहा कि छठे आर्थिक जनगणना सर्वेक्षण (2013- 14) उल्लिखित इन नौ चयनित क्षेत्रों में अनुमानित कुल 2 करोड़ 37 लाख रोजगारों की तुलना  में इस तिमाही रोजगार सर्वेक्षण (क्यूईएस) के पहले दौर से नौ चयनित क्षेत्रों में अनुमानित कुल रोजगार 3 करोड़ 8 लाख है और यह 29 प्रतिशत की वृद्धि दर को दर्शाता है।

06:27

वित्तीय स्वतंत्रता, महिला सशक्तिकरण के लिए बहुत महत्वपूर्ण है: एनसीडब्ल्यू अध्यक्ष


नई दिल्ली ग्रामीण महिलाओं को सशक्त करने और उन्हें आर्थिक रूप से स्वतंत्र बनाने के एक प्रयास के तहत, राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) ने डेयरी फार्मिंग में महिलाओं के लिए एक देशव्यापी प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण कार्यक्रम शुरू किया है। आयोग डेयरी फार्मिंग और संबद्ध गतिविधियों से जुड़ी महिलाओं की पहचान और प्रशिक्षण के लिए पूरे भारत में कृषि विश्वविद्यालयों के साथ सहयोग कर रहा है। इन गतिविधियों में मूल्यवर्धन, गुणवत्ता वृद्धि, पैकेजिंग और डेयरी उत्पादों का विपणन अन्य शामिल हैं।

परियोजना के तहत पहला कार्यक्रम हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के सहयोग से राज्य के हिसार जिले में स्थित लाला लाजपत राय पशु चिकित्सा और पशु विज्ञान विश्वविद्यालय में आयोजित किया गया। यह कार्यक्रम महिला स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) के लिए 'मूल्य वर्धित डेयरी उत्पाद' के विषय पर आयोजित किया गया था। परियोजना का शुभारंभ करते हुए, एनसीडब्ल्यू की अध्यक्ष श्रीमती रेखा शर्मा ने कहा कि वित्तीय स्वतंत्रता महिला सशक्तिकरण के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण भारत की महिलाएं डेयरी फार्मिंग के हर हिस्से में शामिल हैं, फिर भी वे वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त करने में असमर्थ हैं। एनसीडब्ल्यू का लक्ष्य अपनी परियोजना के माध्यम से महिलाओं को डेयरी उत्पादों की गुणवत्ता बढ़ाने, उनके मूल्यवर्धन, पैकेजिंग और शेल्फ लाइफ को बढ़ाने तथा उनके उत्पादों के विपणन से जुड़ा प्रशिक्षण देकर सशक्त करना और वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त करने में उनकी मदद करना है।


https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002RPBI.png

राष्ट्रीय महिला आयोग महिलाओं की उनकी पूरी क्षमता हासिल करने और एक स्थायी अर्थव्यवस्था के निर्माण में योगदान देने में मदद करने के लिए काम कर रहा है। आयोग हमेशा महिलाओं की समानता के लिए खड़ा रहा है क्योंकि यह दृढ़ता से मानता है कि अर्थव्यवस्था सफल नहीं हो सकती अगर हम अपनी आधी आबादी को उसका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने से रोकेंगे।

एनसीडब्ल्यू का उद्देश्य डेयरी फार्मिंग क्षेत्र में विस्तार संबंधी गतिविधियों को प्रभावी ढंग से संचालित करने के लिए वैज्ञानिक प्रशिक्षण और व्यावहारिक विचारों की एक श्रृंखला के माध्यम से महिला किसानों और स्वयं सहायता समूहों की मदद करना है। आयोग महिलाओं को उनके व्यवसाय को बढ़ाने और उन्हें उद्यमिता के लिए प्रोत्साहित करने की खातिर प्रशिक्षण प्रदान करेगा। एनसीडब्ल्यू ऐसे प्रशिक्षकों का भी चयन करेगा जो महिला उद्यमियों, महिलाओं द्वारा संचालित दूध सहकारी समितियों, महिला स्वयं सहायता समूहों आदि को प्रशिक्षित करेंगे। एनसीडब्ल्यू का उद्देश्य डेयरी क्षेत्र में एक स्थायी और अनुकरणीय जिला स्तरीय मॉडल बनाना है जिसे आगे देश के डेयरी फार्मिंग क्षेत्रों में अपनाया जा सके। परियोजना का उद्देश्य डेयरी उत्पादों के निर्माण एवं विपणन के लिहाज से गांवों में उपलब्ध अपार क्षमता का दोहन करना और इस प्रक्रिया के साथ-साथमहिलाओं को सशक्त बनाना है ताकि वे वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त कर सकें।

06:23

लेफ्टिनेंट जनरल गुरबीरपाल सिंह ने एनसीसी के महानिदेशक का पदभार संभाला


लेफ्टिनेंट जनरल गुरबीरपाल सिंह ने दिनांक 27 सितंबर, 2021 को राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) के 34वें महानिदेशक के रूप में पदभार ग्रहण किया। लेफ्टिनेंट जनरल सिंह को 1987 में पैराशूट रेजिमेंट में कमीशन प्रदान किया गया था। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, खडकवासला, भारतीय सैन्य अकादमी, देहरादून और एनसीसी के पूर्व छात्र होने के साथ-साथ उन्होंने वेलिंगटन में डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज, महू में हायर कमांड कोर्स और नई दिल्ली में नेशनल डिफेंस कॉलेज कोर्स में भाग लिया।

लेफ्टिनेंट जनरल सिंह नगालैंड और सियाचिन ग्लेशियर में आतंकवाद विरोधी वातावरण में कंपनी कमांडर रह चुके हैं। उन्होंने कश्मीर में वैली सेक्टर के गहन आतंकवाद विरोधी माहौल में और लेबनान में संयुक्त राष्ट्र अंतरिम बल में एक स्पेशल फोर्सेज़ बटालियन की कमान संभाली है। उन्होंने नियंत्रण रेखा पर माउंटेन ब्रिगेड और इन्फैंट्री डिवीजन की कमान संभाली है।

जनरल ऑफिसर सेक्टर मुख्यालय राष्ट्रीय राइफल्स में जनरल स्टाफ ऑफिसर (ऑपरेशन्स) के पद पर भी रहे हैं। उनका सैन्य अभियान निदेशालय और मुख्यालय एकीकृत रक्षा स्टाफ दोनों में रहे हैं। इसके अलावा वह कमांडो स्कूल और भारतीय सैन्य प्रशिक्षण टीम में प्रशिक्षक रहे हैं।

06:03

noidaअखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के विचार विभाग की 15 सदस्य कमेटी का गठन किया गया

नोएडा:अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के विचार विभाग के राष्ट्रीय संयोजक तरुण भारद्वाज जी के निवास पर सिविक सोशल आउटरीच कांग्रेस महानगर कमेटी अध्यक्ष जीशान चौधरी के नेतृत्व में 15 सदस्य कमेटी का गठन किया गया उपाध्यक्ष में विवेक कुमार, वीरेंद्र गर्ग,महासचिव के लिए कनिका,मनोज त्यागी,सुभाष सोनी,एसके जिंदल,मोहम्मद सचिव लिए रीना यादव,दिलखुश यादव,रामा,विपिन मल्होत्रा,विवेक कुमार, आदित्य कुमार,अंजलि, अर्चना मिश्रा,विमल कुमार मीडिया प्रभारी विनय पवार महानगर अध्यक्ष सोशल आउट चौधरी ने कहा सोशल आउटरीच उत्तर प्रदेश के चेयरमैन विक्रम पांडे जी ने की संस्तुति पर महानगर कांग्रेस कमेटी का गठन किया गया आगामी 2022 का चुनाव नजदीक है सभी पदाधिकारियों से आशा है कि अपने वार्ड ब्लाक ग्राम सभा बूथ स्तर तक जाकर कांग्रेस पार्टी की जलकर जनकल्याणकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने का काम करेंगे और कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव उत्तर प्रदेश की प्रभारी श्रीमती प्रियंका गांधी जी के हाथों को मजबूत करने का काम सभी पदाधिकारी करेंगे इस मौके पर महानगर अध्यक्ष शहाबुद्दीन,महानगर कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ नेता महासचिव यतेंद्र शर्मा,अल्पसंख्यक प्रदेश के महासचिव लियाकत चौधरी,महासचिव रिजवान चौधरी,वेस्ट ब्लॉक के अध्यक्ष जितेंद्र शर्मा सहित कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित थे
05:56

कृषि कानून व लेबर कोड़ वापसी की मांग पर भारत बंद के समर्थन में ट्रेड यूनियन कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन कर दिया ज्ञापन- गंगेश्वर दत्त शर्मा

 नोएडा, किसान विरोधी कृषि कानूनों के खिलाफ, एमएसपी की कानूनी गारंटी के लिए, श्रम कानूनों के खात्मे के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आहुत देशव्यापी भारत बंद के समर्थन में नोएडा संयुक्त ट्रेड यूनियंस मोर्चा द्वारा नोएडा हरौला लेबर चौक से जलूस निकालकर सेक्टर- 6, नोएडा पुलिस उपायुक्त कार्यालय के लिए तीनों काले कृषि कानून वापस लो, डीजल, पेट्रोल व रसोई गैस के दामों को आधा करो, श्रमिक विरोधी नए लेबर कोड़ वापस लो, बेलगाम महंगाई पर रोक लगाओ, न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी की गारंटी का कानून बनाओ, कमरतोड़ महंगाई, बेरोजगारी और मजदूरों की जीविका पर हमले बंद करो, सार्वजनिक क्षेत्र के निजीकरण की नीति वापस लो, बिजली बिल 2020 वापस लो आदि नारों के साथ चला। जुलूस में मोर्चा के सभी घटक संगठनों इंटक, एटक,एचएमएस, सीटू, यूटीयूसी, टीयूसीआई,के कार्यकर्ता शामिल हुए इंटक से डॉक्टर के. पी. ओझा, एटक से नईम अहमद, एचएमएस से आर.पी. सिंह चौहान, सीटू से गंगेश्वर दत्त शर्मा, राम सागर, भरत डेंजर, विनोद कुमार, पूनम देवी, टी.यू.सी.आई. से उदय चंद्र झा, यू.टी.यू.सी. से सुधीर त्यागी, सुभाष गुप्ता, एक्टू से अमर सिंह शामिल हुए। पुलिस ने जुलूस को तुलसी जर्दा के सामने सेक्टर- 2, में ही बैरिकेड लगाकर रोक दिया। पुलिस द्वारा रास्ते में रोके जाने पर वही जोरदार नारेबाजी शुरू कर दी गई उसके बाद वक्ताओं ने जुलूस में शामिल लोगों को संबोधित करते हुए तानाशाह मोदी सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि विरोधी कृषि कानूनों एवं मजदूर विरोधी चार श्रम कोड़ तथा देश के सरकारी व सार्वजनिक क्षेत्र के निजी करण करने व उसे ओने पौने दामों में बेचे जाने की सरकार के फैसलों की कड़ी निंदा की तथा किसान विरोधी कृषि कानूनों व मजदूर विरोधी चार श्रम कोड़ों को वापस लेने हेतु प्रदर्शन स्थल पर ही पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को प्रधानमंत्री भारत सरकार एवं मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार को संबोधित ज्ञापन सौंपा। वहीं दूसरी ओर आम आदमी पार्टी की मजदूर यूनियन श्रमिक विकास संगठन svs ने भारत बंद का समर्थन किया।

Sunday, 26 September 2021

05:11

समाजवादी पार्टी ने 139 विधानसभा गोला में बैठक का आयोजन

जनपद लखीमपुर खीरी के 139 विधानसभा गोला क्षेत्र के ब्लाक कुम्भी-गोला के अंतर्गत ग्राम पंचायत मूड़ा खालसा के मजरा ग्राम नरायनपुर में समाजवादी पार्टी के नगर अध्यक्ष व सपा नेता 139 विधानसभा गोला ने बैठक का आयोजन किया जिसमें समाजवादी पार्टी की नीतियों का बताया गया है और बैठक का संचालन समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता जनाब लियाकत हुसैन ने किया।समाजवादी पार्टी के नगर अध्यक्ष व सदस्य जिला पंचायत वारिस अली अंसारी ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा सरकार किसानों, नौजवानों , युवाओं को बेरोजगार करने का काम कर रही है। भाजपा सरकार ने खेती को एक घाटे पर चलने वाला व्यवसाय बना दिया है। जिसके कारण किसानों की पूंजी लगातार घट रही है और धान गेहूं जैसी फसलों का पूरा दाम नहीं मिल पा रहा है।
गन्ना किसानों की दशा तो बहुत ही खराब हो चुकी है, गन्ना भुगतान तो एक बहुत बड़ी समस्या बन चुका है।
भाजपा फूट डालो और शासन करो की नीति अब किसानों , मजदूरों , नौजवानों पर इस्तेमाल कर रही है जिसके कारण हम सब के भविष्य में खाद्दान्न संकट की भायानक स्थिति बन सकती है।
अब समय आ गया है कि देश में और प्रदेश में इन प्रतिक्रियावादी एवं संप्रदायिक तत्वों एवं पूंजी पतियों के कठपुतलों से मुक्ति दिलाई जा सकते हैं हम सभी लोगों को आने वाले चुनाव में समाजवादी पार्टी के पक्ष में वोट करना है और माननीय अखिलेश यादव जी को मुख्यमंत्री बनाना है।इस मौके पर लियाकत हुसैन, नैमिष वर्मा,इसराइल उर्फ मिथुन, नन्दकिशोर भार्गव,सरदार टीटूसिंह, दिलीप यादव,अंकित यादव,सर्वेश गौतम,मुन्ना अन्सारी,आसिफ अली अन्सारी,अंशू यादव ,रमाकांत यादव, धीर सिंह यादव ,पूर्व बीडीसी सिसुपाल यादव ,सत्रोहन सिंह, जितेंद्र यादव,धनेश्वर यादव, अमित यादव, रमेश एडवोकेट, डॉ सुरेंदर कुमार और सैकड़ो की संख्या में समाजवादी साथी उपस्थित रहे।
05:07

आईआईटी रुड़की एल्यूमिनी एसोसिएशन ने काव्योत्सव के जरिए मनाया आजादी का जश्न TNI

                    संवाददाता
  गाजियाबाद। आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर आईआईटी रुड़की एल्यूमिनी एसोसिएशन (नोएडा चैप्टर) एवं "कथा रंग" द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित अंतर्राष्ट्रीय कवि सम्मेलन में देश और दुनिया के कई रचनाकारों ने आयोजन को यादगार बना दिया। कार्यक्रम अध्यक्ष गोविंद गुलशन ने कहा कि यह आयोजन सीधी रेखाओं और टेढ़ी रेखाओं के बीच एक नए पुल जैसा है। उन्होंने सीधी रेखाएं खींचने वाले इंजीनियर की रचनाओं की भरपूर सराहना की। उन्होंने कहा कि तकनीक की उन्नति से निर्मित हथियारों और वायरस ने मानवता के खिलाफ जंग छेड़ रखी है। इस धरती को सिर्फ प्रेम से ही बचाया जा सकता है।
  गौतमबुद्ध विश्व विद्यालय सभागार में ऑफ लाइन और ऑन लाइन दोनों प्रारूपों में प्रस्तुत आयोजन को संबोधित करते हुए श्री गुलशन ने कहा "दिल है उसी के पास, हैं सांसे उसी के पास, देखा उसने तो रह गईं आंखें उसी के पास। बुझने से जिस चिराग ने इंकार कर दिया, चक्कर लगा रही हैं हवाएं उसी के पास।" एक और ग़ज़ल के शेरों में उन्होंने कहा "गिरफ़्तार तुम हुए जिसमें वह जाल था ही नहीं, वह हुस्न का था नजर का कमाल था ही नहीं। करीब जाकर समंदर के प्यासे लौट आए, हमारी प्यास का उसको ख्याल था ही नहीं।" कार्यक्रम के मुख्य अतिथि और मशहूर शायर सुरेंद्र सिंघल ने कहा "हमेशा सोचती रहती हैं फायदे-नुकसान, ये कैसा इश्क सा करती हैं लड़कियां जो हैं। तेरे लबों पे खिले हैं जो फूल नकली हैं, तो इनका क्या करूं मुझमें ये तितलियां जो हैं।" अपने गीत की पंक्तियों "उंगलियों के पोर खुरदुरे हुए, फूल काढ़ते हुए रूमाल पर। कितनी बार हाथ में सुई चुभी, एक फूल तब खिला रुमाल पर। रेशमी छुअन से भी डरा हुआ घाव हर क़दम पे यूं हरा हुआ, सिसकियों ने होंठ सी लिए मगर, दिल में था गुबार-सा भरा हुआ,
तुम नहीं मिले तो देर तक चला आंसुओं का सिलसिला रुमाल पर। कितनी बार हाथ में सुई चुभी, एक फूल तब खिला रुमाल पर" जमकर वाहवाही बटोरी।
  कार्यक्रम का सफल संचालन करने वाली दीपाली जैन 'ज़िया' ने फ़रमाया "सोच रही हूं क्यों अपने से लगते हो, साइड फेस से उसके जैसे दिखते हो, बालों को रंगने की उम्र में आ पहुंची, सच बतलाना, अब भी मुझपे मरते हो?" "हाईवे पर साइकिल" जैसी मार्मिक कविता के माध्यम से प्रख्यात व्यंग्यकार सुभाष चंदर ने श्रोताओं को झकझोर कर रख दिया। उन्होंने कहा "ऐसे ही हाईवे पर डरती, कांपती उतरती है साइकिल, और रोज रोती है, और रोज ही रात को फैसला लेकर सोती है साइकिल, कि बस... बहुत हुआ, कल से छुट्टी, कल से वह हाईवे पर नहीं जाएगी, पर यह कल नहीं आता, साइकिल अगले दिन फिर हाईवे पर आ जाती है, डरने, सहमने और कांपने। उसे जाना पड़ता है, क्योंकि वह जानती है कि अगर वह हाईवे पर नहीं जाएगी तो मुन्ना के स्कूल की फीस नहीं जाएगी, बीबी की पैबंद लगी धोती नहीं बदली जाएगी, बाबूजी की दवा नहीं आएगी, सच कहूं साइकिल को पैर नहीं जरूरतें चलाती हैं।"
  प्रख्यात शायर मासूम ग़ाज़ियाबादी ने अपने शेरों से महफिल लूट ली। उन्होंने फरमाया "ग़ज़ल में बेकसों का दर्द अक्सर बांध लेता हूं, ख़ुशी ग़म जो भी हो जाए मयस्सर बांध लेता हूं। मैं अपनी आदतों के बाज़ को क़ाबू में रखता हूं, वो उड़ना चाहता भी है तो मैं पर बांध लेता हूं। शराफ़त भूक के बदले में जब घुंगरू पहनती है, छलकता तो है आंखों का समंदर बांध लेता हूं।" अगली ग़ज़ल में उन्होंने कहा "वो खुश हैं जिनकी चाहने वालों में कट गई, मैं खुश हूं मेरी उम्र क़सालों में कट गई। मेले से हम बगैर खिलौने क्यूं आ गए, इक मां की रात चंद सवालों में कट गई। कार्यक्रम में आलोक यात्री, डॉ. राहुल जैन तथा सपना अहसास ने भी काव्यपाठ किया। कथा रंग के अध्यक्ष शिवराज सिंह ने अतिथियों को सम्मानित किया। इस अवसर पर आनंद प्रकाश, नारायण सिंह राव, विनोद कुमार सिंह, कुशल पाल सिंह, सुशील कुमार, राजेश कुमार सहित बड़ी संख्या में श्रोता और अतिथि उपस्थित थे।

01:33

काँग्रेस के राष्ट्रीय चैयरमेन इमरान प्रतापगढ़ी का फुलमालाओ से ज़ोरदार स्वागत किया गया

नॉएडा:आज दिनाँक.26.9.2021 को नोएड़ा महानगर काँग्रेस कमेटी अल्पसंख्यक विभाग के चैयरमेन जनाब गुड्डू खान के नेतृत्व में कांग्रेस पदाधिकारियों ने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी अल्पसंख्यक विभाग के राष्ट्रीय चैयरमेन मशहूर शायर इमरान प्रतापगढ़ी का मुरादाबाद जाते समय नोएड़ा के शशि चोक पर फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया,मुख्यरूप से उपस्थित महानगर काँग्रेस कमेटी नॉएडा के अध्यक्ष शहाबुदीन ने कहा है कि अब समय काँग्रेस का आने वाला है जनता भाजपा के राज में त्राहिमाम त्राहिमाम कर रही है युवाओं के प्रेणाश्रोत जनाब इमरान प्रतापगढ़ी हर कार्यकर्ता के साथ खड़े रहने वाले नेता है उनके स्वागत में सैकड़ों किस संख्या में लोग उपस्थित है,उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सद्स्य सतेन्द्र शर्मा ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी सबको साथ लेकर चलने वाली पार्टी है उत्तर प्रदेश में जनता ने मन बना लिया है भाजपा को सत्ता से बाहर करने का आदरनीय प्रियंका गाँधी के नेतृत्व में जनता के हितों के लिए काँग्रेस कार्यकर्ता सँघर्ष कर रहे है और करते रहंगे इमरान प्रतापगढ़ी सदैव समाज की आवाज को उठाते रहते है,अल्पसंख्यक प्रदेश महासचिव लियाक़त चौधरी ने कहा है कि अल्पसंख्यक समाज को काँग्रेस पार्टी ने बहुत मान सम्मान दिया है अब हमारा फर्ज बनता है हम तन मन धन से काँग्रेस पार्टी को मजबूत करें जिससे यूपी में प्रियंका गाँधी जी के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बने,राष्ट्रीय चैयरमेन श्री इमरान प्रतापगढ़ी ने सभी काँग्रेस कार्यकर्ताओ का ह्रदय से आभार व्यक्त करते हुये कहा है कि एक साथ मिलकर जनता के लिए कार्य करो भाजपा का समय जाने वाला है झूठ का पुलिन्दा ज्यादा दिन नही चलता है हम सबको मिलकर प्रियंका गाँधी के हाथों को मजबूत करना होगा,स्वागत करने वालो में महानगर अध्यक्ष शहाबुदीन, अल्पसंख्यक महासचिव लियाक़त चौधरी,यूपी सद्स्य सतेन्द्र शर्मा,काँग्रेस नेता यतेद्रं शर्मा,महासचिव रामकुमार शर्मा,सचिव उपदेश श्रीवास्तव,मोमिन खान,सदाम आलम,दिशांत चौधरी,आसिफ मसूरी,राजा,कलाम,नोशाद, दिलशाद,असरफ खान,इरफान सेफी,रिजवान चौधरी,नदीम भाटी,आरिफ,महासचिव आउटरीच विक्रम चौधरी सहित  सैकड़ों कि संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Saturday, 25 September 2021

03:44

महापंचायत में तय होगा ब्राह्मण समाज के युवाओ का राजनीतिक भविष्य


प्रतापगढ़ /राजनीति में ब्राह्मण समाज की स्थिति को मजबूत करने के लिए राष्ट्रीय परशुराम  सेना द्वारा 27 सितंबर को ब्राह्मण महापंचायत का आयोजन प्रतापगढ़ के तुलसीसदन हादीहाल में किया जाएगा, जिसमें ब्राह्मण समाज के लोग एक मंच पर अपने संख्या बल के माध्यम से ब्राह्मण समाज का राजनीतिक प्रतिनिधित्व मजबूत करेंगे। इस कार्यक्रम में जनपद के बाहर से भी ब्राह्मण हित चिंतक शामिल हो रहे हैं ।कार्यक्रम की व्यवस्था में पूरी ताकत के साथ लगे जिलाध्यक्ष पण्डित अनिल पांडेय स्वतंत्र ने बताया कि कोरोना गाइडलाइन का विशेष ध्यान रखते हुए कुर्सियां लगाई जा रही है आयोजन समिति के सदस्यों के साथ हमारे संगठन के वालंटियर भीड़ को व्यवस्थित करने के लिए तैयारी कर चुके हैं ।जिससे किसी को असुविधा न हो । ब्राह्मण महापंचायत में लोगो को आमंत्रित करने का कार्यक्रम जोरो पर चल रहा है ।ब्राह्मण समाज के हित मे कार्य करने वाले सामाजिक संगठनों को भी बुलाया जा रहा है जनपद का गौरव बढ़ाने वाले विभूतियों को मंच पर सम्मानित भी किया जाएगा । इस कार्यक्रम की जानकारी जिला मीडिया प्रभारी मनीष दुबे ने दी ।

Friday, 24 September 2021

17:56

नोएडा विधानसभा के लिए कांग्रेस पार्टी कार्यालय में तीन आवेदन आए -शहाबुदीन

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निदेशानुसार नोएडा विधानसभा 61 के लिए महानगर पार्टी कार्यालय तीन आवेदन आए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी राष्ट्रीय विचार विभाग संयोजक तरुण भारद्वाज , पूर्व महानगर अध्यक्ष व प्रदेश सचिव मुकेश यादव, उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी अल्पसंख्यक विभाग प्रदेश महासचिव लियाकत चौधरी ने सेक्टर 10 स्थित महानगर कांग्रेस कमेटी कार्यालय पर महानगर अध्यक्ष शाहबुद्दीन को नोएडा विधानसभा 2022 के लिए आवेदन पत्र भरकर 11000 शुल्क के साथ जमा करा दिया इन सभी लोगों ने कहा कि प्रियंका गांधी जी के नेतृत्व में दिनांक 29 सितंबर 2021 को मेरठ में ऐतिहासिक रैली होगी जिसमें नोएडा से हजारों की तादाद में कार्यकर्ता जाएंगे कांग्रेस पार्टी नोएडा विधानसभा में जनहित मुद्दों को कांग्रेस पार्टी उठाती रही है, पार्टी मौका देगी तो पूरी मज़बूती के साथ नोएडा विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे  इस मौके पर महानगर अध्यक्ष शाहबुद्दीन, महासचिव यतेंद्र शर्मा, महासचिव विक्रम चौधरी, महासचिव इंद्रजीत तिवारी, पीसीसी सदस्य सत्येंद्र शर्मा, प्रेम शाह, प्रवेज, सुभाष सोनी ,कनिका , वीरेंद्र गर्ग, मनोज त्यागी, विपिन मल्होत्रा, एसके जिंदल, विवेक कुमार, विवेक मिश्रा ,आदित्य, विमल, अंजली ,अशोक जैन,दिलखुश यादव, रमा यादवसहित साथी मौजूद रहे।
17:52

माकपा दिल्ली एनसीआर राज्य कमेटी का त्रिवार्षिक सम्मेलन विशाल जनसभा के साथ हुआ शुरू- गंगेश्वर दत शर्मा

 दिल्ली, कमरतोड़ महंगाई, बेरोजगारी एवं सांप्रदायिकता के खिलाफ भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी दिल्ली एनसीआर राज्य कमेटी का त्रिवार्षिक सोलहवां राज्य सम्मेलन अंबेडकर भवन रानी झांसी रोड नई दिल्ली पर आज से शुरू हुआ सम्मेलन की शुरुआत विशाल जनसभा के साथ हुई।
 जनसभा को सीपीआईएम के राष्ट्रीय महासचिव कामरेड सीताराम येचुरी व पोलित ब्यूरो सदस्य कामरेड वृंदा करात, दिल्ली एनसीआर राज्य सचिव कामरेड के एम तिवारी ने संबोधित किया।
 जनसभा में माकपा नेता गंगेश्वर दत्त शर्मा के नेतृत्व में नोएडा से सैकड़ों पार्टी कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया।
सम्मेलन 26 सितंबर 2021 की शाम तक चलेगा जिसमें पार्टी के 3 साल के कामकाज की समीक्षा और आगामी 3 वर्षों के लिए भविष्य की योजना पर विचार मिर्च कर रणनीति तय की जाएगी। सम्मेलन में बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी, मेहनतकश मजदूरों आम जनता के विभिन्न मुद्दों पर कई संघर्षों के प्रस्ताव पारित किए जाएंगे तथा नई राज्य कमेटी का चुनाव भी किया जाएगा।
04:29

चिकित्सा उपकरणों को समर्थन प्रदान करने के एक प्रमुख पहल के रूप में "मेडिकल डिवाइस पार्कों


नई दिल्ली:भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक साहसिक कदम के रूप में, भारत सरकार ने आने वाले वर्षों में अपनी क्षमता तक पहुंचने के लिए चिकित्सा उपकरण उद्योग को समर्थन प्रदान करने के लिए एक महत्वपूर्ण पहल की है, उद्योग की पहचान विविधीकरण और रोजगार सृजन के लिए एक उभरते हुए क्षेत्र के रूप में की गई है।इस क्षेत्र में उचित अवसंरचना का निर्माण करने हेतु निवेश के उच्च स्तर तक पहुंचने की आवश्यकता को समझते हुए, फार्मास्यूटिकल्स विभाग ने निम्नलिखित उद्देश्यों के साथ "मेडिकल डिवाइस पार्कों को बढ़ावा देने" के लिए योजना को अधिसूचित किया है :

  • प्रतिस्पर्धाओं में हुई बढ़ोत्तरीसे निपटने के लिए, वैश्वित स्तर वाली सामान्य बुनियादी सुविधाओं के निर्माण के माध्यम से मानक परीक्षण और बुनियादी सुविधाओं तक आसान पहुंच के कारण, चिकित्सा उपकरणों के उत्पादन की लागत में उल्लेखनीय कमी आएगी, जिससे घरेलू बाजार में चिकित्सा उपकरणों की बेहतर उपलब्धता और सामर्थ्य प्राप्त होगा।
  • उपयुक्त संसाधनों और बड़े पैमाने की अर्थव्यवस्थाओं से उत्पन्न होने वाले लाभों को प्राप्त करना।

इस योजना के अंतर्गत विकसित किए जाने वाले मेडिकल डिवाइस पार्क एक ही स्थान पर सामान्य बुनियादी सुविधाएं प्रदान करेंगे, जिससे देश में चिकित्सा उपकरणों का विनिर्माण करने के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण होगा और विनिर्माणलागत में भी बहुतकमी आएगी।इस योजना का कुल वित्तीय परिव्यय 400 करोड़ रुपये है और इस योजना की अवधि वित्त वर्ष 2020-2021 से लेकर वित्त वर्ष 2024-2025 तक है। चयनित किए गए मेडिकल डिवाइस पार्क को सामान्य बुनियादी सुविधाओं की परियोजना लागत का 70 प्रतिशत वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। पूर्वोत्तर राज्यों और पहाड़ी राज्यों के मामले में वित्तीय सहायता परियोजना लागत का 90 प्रतिशत होगी। योजना के अंतर्गत एक मेडिकल डिवाइस पार्क को अधिकतम 100 करोड़ रुपये तक की वित्तिय सहायता प्रदान की जाएगी।

इस योजना के अंतर्गतकुल मिलाकर 16 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों से प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों का चयन चुनौती पद्धति पर आधारित है, जो योजना के मूल्यांकन मानदंडों में प्रतिबिंबित होता है। राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के लिए रैंकिंग पद्धति योजना दिशा-निर्देशों में निर्धारित मापदंडों जैसे उपयोगिता शुल्क, राज्य नीति प्रोत्साहन, पार्क का कुल क्षेत्रफल, भूमि का पट्टा दर, पार्क की कनेक्टिविटी, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग, तकनीकी जनशक्ति की उपलब्धता आदि पर आधारित है।इस योजना के अंतर्गत मूल्यांकन के आधार पर, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के प्रस्तावों को "सैद्धांतिक" मंजूरी प्रदान की गई है।उक्त राज्यों की राजकोषीय क्षमता, पारिस्थितिकी तंत्र आकर्षण और औद्योगिक उपस्थिति के संदर्भ में किए गए गुणात्मक मूल्यांकन के आधार पर भी इन राज्यों के चयनको मान्यता प्रदान की गई है।

यह योजना को-ऑपरेटिव फेडरलिज्म (सहकारी संघवाद) की भावना को दर्शाती है, जहां पर केंद्र सरकार और राज्य सरकारें इस क्षेत्र के प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए मध्यस्थ डिवाइस पार्क विकसित करने में साझेदारी करेंगी।

04:24

सिक्किम में एनएचपीसी के 510 मेगावाट उत्पादन क्षमता वाले तीस्ता-V पावर स्टेशन को


नई दिल्ली:हिमालयी राज्य सिक्किम में स्थित एनएचपीसी के 510 मेगावाट उत्पादन क्षमता वाले तीस्ता-V (पांच) पावर स्टेशन को  अंतर्राष्ट्रीय हाइड्रोपावर एसोसिएशन (आईएचए) द्वारा प्रतिष्ठित ब्लू प्लेनेट पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। आईएचए लंदन स्थित और 120 देशों में कार्यरत गैर-लाभकारी सदस्यता संघ है। तीस्ता-V पावर स्टेशन का निर्माण, स्वामित्व और संचालन एनएचपीसी द्वारा किया जा रहा है। तीस्ता-V पावर स्टेशन के लिए इस पुरस्कार की घोषणा कल वर्ल्ड हाइड्रोपावर कांग्रेस-2021 के दौरान की गई। आईएचए के हाइड्रोपावर सस्टेनेबिलिटी असेसमेंट प्रोटोकॉल (एचएसएपी) के ऑपरेशन स्टेज टूल का उपयोग करके 2019 में आईएचए के मान्यता प्राप्त प्रमुख मूल्यांकनकर्ताओं की एक टीम द्वारा किए गए स्थिरता मूल्यांकन के आधार पर तीस्ता-V पावर स्टेशन को यह पुरस्कार प्रदान किया गया है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/photo7P7T.jpg

आईएचए सदस्यता में प्रमुख रूप से हाइड्रोपावर नियंत्रक और संचालक, डेवलपर्स, डिजाइनर, आपूर्तिकर्ता तथा सलाहकार शामिल होते हैं। आईएचए ब्लू प्लैनेट पुरस्कार उन हाइड्रोपावर परियोजनाओं को प्रदान किया जाता है, जो सतत विकास की दिशा में उत्कृष्टता को प्रदर्शित करती हैं। हाइड्रोपावर सस्टेनेबिलिटी असेसमेंट प्रोटोकॉल (एचएसएपी) ऐसी ही परियोजनाओं की स्थिरता को मापने के लिए अग्रणी अंतर्राष्ट्रीय उपकरण है। यह पर्यावरणीय, सामाजिक, तकनीकी एवं शासकीय मानदंडों की एक विस्तृत श्रृंखला के समक्ष जल विद्युत परियोजना के प्रदर्शन को बेंचमार्क करने का एक तरीका उपलब्ध कराता है। मूल्यांकन वस्तुनिष्ठ साक्ष्य पर आधारित होते हैं और परिणाम एक मानकीकृत रिपोर्ट में प्रस्तुत किए जाते हैं।

04:22

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री महामहिम श्री सुगा योशीहिदे के बीच बैठक

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने क्वाड लीडर्स समिट के मौके पर 23 सितंबर 2021 को वाशिंगटन डीसी में जापान के प्रधानमंत्री महामहिम श्री सुगा योशीहिदे से मुलाकात की।

दोनों प्रधानमंत्रियों ने अपनी पहली व्यक्तिगत मुलाकात पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने सितंबर 2020, जब श्री सुगा ने जापान के प्रधानमंत्री के रूप में पदभार संभाला था,के बाद से अपनी तीन टेलीफोन वार्ताओं को गर्मजोशी से याद किया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने प्रधानमंत्री और मुख्य कैबिनेट सचिव, दोनों, के तौर पर पिछले कुछ वर्षों में भारत और जापान के बीच विशेष रणनीतिक और वैश्विक साझेदारी के मामले में महत्वपूर्ण प्रगति को संभव बनाने की दिशा में प्रधानमंत्री सुगा की व्यक्तिगत प्रतिबद्धता और नेतृत्व के लिए उनका धन्यवाद किया। उन्होंने वैश्विक महामारी के बीच टोक्यो ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों की सफलतापूर्वक मेजबानी करने के लिए प्रधानमंत्री सुगा को बधाई दी।

दोनों प्रधानमंत्रियों ने दोनों देशों के बीच बहुआयामी संबंधों की समीक्षा की और अफगानिस्तान सहित हाल के वैश्विक और क्षेत्रीय घटनाक्रमों पर विचारों का आदान-प्रदान किया। उन्होंने एक स्वतंत्र, खुले और समावेशी हिंद-प्रशांत क्षेत्र के प्रति अपनी वचनबद्धता को दोहराया। वे रक्षा उपकरणों और प्रौद्योगिकियों के क्षेत्र में द्विपक्षीय सुरक्षा और रक्षा सहयोग बढ़ाने पर सहमत हुए।

दोनों प्रधानमंत्रियों ने दोनों देशों के बीच बढ़ती आर्थिक भागीदारी का स्वागत किया। उन्होंने भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के बीच इस साल की शुरुआत में लचीला, विविध और भरोसेमंद आपूर्ति श्रृंखला को संभव बनाने के उद्देश्य से एक सहयोगी तंत्र के रूप में आपूर्ति श्रृंखला संबंधी लचीली पहल (एससीआरआई) के शुभारंभ का स्वागत किया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने विनिर्माण, सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यम (एमएसएमई) और कौशल विकास के क्षेत्र में द्विपक्षीय भागीदारी विकसित करने की जरूरत पर प्रकाश डाला। प्रधानमंत्री श्री सुगा ने प्रधानमंत्री श्री मोदी को सूचित किया कि निर्दिष्ट कुशल श्रमिक (एसएसडब्ल्यू) समझौते, जिस पर इस साल की शुरुआत में हस्ताक्षर किए गए थे, को लागू करने के उद्देश्य से जापानी पक्ष 2022 की शुरुआत से भारत में कौशल और भाषा संबंधी जांच परीक्षाओं का आयोजन करेगा।

04:19

बिशेश्वर टुडू ने जनजातीय कार्य मंत्रालय द्वारा आयोजित दो दिवसीय 'राष्ट्रीय जनजातीय अनुसंधान सम्मेलन' का उद्घाटन किया


नई दिल्ली:जनजातीय मामलों के राज्य मंत्री श्री बिशेश्वर टुडू ने राष्ट्रीय जनजातीय अनुसंधान संस्थान, (एनटीआरआई), भारतीय लोक प्रशासन संस्थान (आईआईपीए), नई दिल्ली, केआईएसएस, (डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटी), ओडिशा और एससीएससीआरटीआई, ओडिशा के सहयोग से 23-24 सितंबर 2021 तक आयोजित दो दिवसीय वर्चुअल “राष्ट्रीय जनजातीय प्रतिभा पूल सम्मेलन” का उद्घाटन किया।

इस कार्यशाला के दौरान, उन्होंने ओडिशा, झारखंड, छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल के विभिन्न विश्वविद्यालयों के 250 से अधिक जनजातीय शोधार्थियों के साथ बातचीत की। शोधार्थियों ने अपने शोधपत्र भी प्रस्तुत किए। शोधार्थियों और उनके मार्गदर्शकों का मंत्रालय के अधिकारियों के साथ एक संवादात्मक सत्र का भी आयोजन किया।

जनजातीय प्रतिभा पूल पहल (एमओटीए) का उद्देश्य शिक्षण, सहायता और योगदान तथा मान्‍यता का माहौल उपलब्‍ध कराकर जनजातीय शोधार्थियों का विकास करना है, ताकि उन्हें केन्द्र और राज्य स्तर पर एमओटीए द्वारा किए गए विभिन्न अनुसंधान और मूल्यांकन गतिविधियों में भाग लेने में सक्षम बनाया जा सके।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0014O5M.png

इस अवसर पर श्री बिशेश्वर टुडू ने कहा कि आदिवासी समुदाय के पास न केवल अनुसंधान के क्षेत्र में क्षमता और कई प्रतिभाएं हैं, बल्कि वे खेल, कला और शिल्प में भी निपुण हैं। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि शोधार्थियों में प्रेरणा और प्रोत्साहन की आवश्यकता के साथ-साथ जागरूकता की भी आवश्‍यकता है। उन्होंने कहा कि जनजातीय प्रतिभा पूल सम्मेलन विभिन्न अनुसंधान संस्थानों द्वारा उचित मार्गदर्शन के साथ जनजातीय प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करेगा। इस प्रकार के कार्यक्रमों को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए और ये लंबी अवधि के होने चाहिए। उन्होंने कहा कि मंत्रालय, राज्य सरकार, गैर-सरकारी संगठनों, विश्वविद्यालयों को मानव विकास में महत्वपूर्ण सुधार अर्जित करने के लिए "आजादी का अमृत महोत्सव" पर मिलकर काम करना है, जिसमें शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका है।

जनजातीय कार्य मंत्रालय के सचिव श्री अनिल कुमार झा ने कहा कि मंत्रालय देश में जनजातीय विकास के लिए केंद्रीय भूमिका निभाता है। “राष्ट्रीय जनजातीय प्रतिभा पूल सम्‍मेलन मंत्रालय की एक महत्वपूर्ण पहल है जिसका उद्देश्य जनजातीय शोधार्थियों के लिए राष्ट्रीय मंच उपलब्‍ध कराना है। उन्होंने कहा कि जनजातीय प्रतिभाओं को एक मंच पर सामूहिक रूप से प्रदर्शित किए जाने की जरूरत है। जनजातीय विद्वान केंद्र और राज्य दोनों स्तरों, सार्वजनिक व निजी क्षेत्र में नीति निर्माण और समुदाय के विकास के लिए भी योगदान कर सकते हैं। इस तरह के सम्‍मेलन/कार्यशालाएं इन जनजातीय शोधार्थियों को अपने शोध कार्य के साथ सक्रिय होने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। उन्होंने सभी भागीदारों कों उनके इस प्रयास के लिए बधाई देते हुए यह सुझाव दिया कि ज्ञान वृद्धि के लिए सहयोग एक बुनियादी कुंजी है और विद्वानों की नेटवर्किंग इस तरह के शोध विषय में काम करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।  

04:15

विस्फोटकों का तेजी से पता लगाने के लिए कम लागत वाला इलेक्ट्रॉनिक पॉलीमर आधारित सेंसर विकसित किया गया


नई दिल्ली:भारतीय वैज्ञानिकों ने पहली बार उच्च-ऊर्जा विस्फोटकों में प्रयुक्त नाइट्रो-एरोमैटिक रसायनों का तेजी से पता लगाने के लिए तापीय रूप से स्थिर (थर्मली स्टेबल) और कम लागत लागत वाला  इलेक्ट्रॉनिक पॉलीमर-आधारित सेंसर विकसित किया है। विस्फोटकों को नष्ट किए बिना उनका पता लगाना सुरक्षा के लिए आवश्यक है  और ऐसे मामलों में आपराधिक जांच, बारूदी सुरंग वाले क्षेत्र में ही उपचार (माइनफील्ड रिमेडिएशन), सैन्य अनुप्रयोगों, गोला-बारूद उपचार स्थल, सुरक्षा अनुप्रयोगों  और रासायनिक सेंसर महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

हालांकि विस्फोटक पॉली-नाइट्रोएरोमैटिक यौगिकों का विश्लेषण आमतौर पर परिष्कृत उपकरणों में प्रयुक्त  तकनीकों द्वारा किया जा सकता है लेकिन अपराध विज्ञान प्रयोगशालाओं या  कब्जे से मुक्त कराए गए  सैन्य स्थलों में त्वरित निर्णय लेने अथवा  उग्रवादियों  के पास विद्यमान  विस्फोटकों का पता लगाने के लिए अक्सर सरल, कम लागत वाली और ऐसी चयनात्मक क्षेत्र तकनीकों की आवश्यकता होती है जिनकी प्रकृति गैर – विनाशकारी हो। नाइट्रोएरोमैटिक रसायनों (एनएसी) की गैर-विनाशकारी पहचान करना  एक कठिन कार्य  है। जबकि पहले के अध्ययन ज्यादातर फोटो-ल्यूमिनसेंट गुणधर्म  पर आधारित होते हैं,  फिर भी अब तक इन गुणों  की  प्रविधि के आधार का पता नहीं लगाया गया है। गुणों  के आधार पर पता लगाने से विस्फोटकों को ढूँढ़ निकालने में सक्षम सरल कहीं भी ले जाए जा सकने योग्य ऐसा उपकरण  बनाने में सहायता मिलती है  जिसमे  एक एलईडी की मदद से परिणाम देखे जा सकते हैं।

इस तरह की कमियों को दूर करने के लिए, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार के एक स्वायत्त संस्थान, विज्ञान और प्रौद्योगिकी उच्च  अध्ययन संस्थान (इंस्टीटयूट ऑफ़ एडवांस्ड, स्टडी इन साइंस एंड टेक्नॉलोजी),  गुवाहाटी के डॉ नीलोत्पल सेन सरमा के नेतृत्व में वैज्ञानिकों की एक टीम ने परत दर परत विकसित की है (एलबीएल) पॉलीमर डिटेक्टर विकसित किया है जिसमें दो कार्बनिक पॉलिमर होते हैं – पहला, पॉली-2-विनाइल पाइरीडीन जिसमें एक्रिलोनिट्राइल (पी2वीपी –सीओ- एएन) होता है और दूसरा, हेक्सेन (पीसीएचएमएएसएच)  के साथ कोलेस्ट्रॉल मेथाक्राइलेट का को-पॉलीसल्फोन होता है जो  कुछ सेकंड के भीतर एनएसी वाष्प की बहुत कम सांद्रता की उपस्थिति में अवरोध (किसी  एसी सर्किट में प्रतिरोध) आने से  पर भारी परिवर्तन से गुजरता है। यहां पिक्रिक एसिड (पीए) को मॉडल एनएसी के रूप में चुना गया था, और पीए की दृश्य पहचान के लिए एक सरल और लागत प्रभावी इलेक्ट्रॉनिक प्रोटोटाइप विकसित किया गया था। इस टीम  ने  इलेक्ट्रोनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी विभाग (डीईआईटीवाई) , भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित इस नई प्रौद्योगिकी के लिए एक पेटेंट के लिए भी  आवेदन किया  है।

डॉ नीलोत्पल सेन सरमा ने कहा, "पॉलीमर गैस सेंसर से युक्त  इस प्रकार निर्मित एक इलेक्ट्रॉनिक सेंसिंग उपकरण (डिवाइस) विस्फोटक का तुरंत पता लगा सकती  है।"

इस सेंसर उपकरण (डिवाइस) में तीन परतें शामिल हैं - 1- हेक्सेन (पीसीएचएमएएसएच)  के साथ कोलेस्ट्रॉल मेथाक्राइलेट का को-पॉलीसल्फोन ,  और पी2वीपी –सीओ- एएन  युक्त स्टेनलेस स्टील की दो जालियों  वाली बाहरी परतों के बीच में पीसीएचएमएएसएच को रखकर  करके एक्रिलोनिट्राइल के साथ पॉली-2-विनाइल पाइरीडीन का कोपॉलीमर। इस प्रणाली  की संवेदनशीलता विश्लेषक अर्थात  पिक्रिक एसिड की वाष्प  की उपस्थिति में समय (सेकंड) के साथ आए अवरोध की  प्रतिक्रिया में परिवर्तन की निगरानी के द्वारा निर्धारित की जाती है।

त्रि-स्तरीय बहुलक मैट्रिक्स (ट्राई-लेयर पॉलीमर मैट्रिक्स) नाइट्रोएरोमैटिक रसायनों के लिए बहुत कुशल एवं प्रभावी  आणविक सेंसर पाया गया। यह  सेंसर उपकरण डिवाइस)  प्रकृति में काफी सरल और प्रतिवर्ती (रिवर्सिबल) है  और इसकी प्रतिक्रिया अन्य सामान्य रसायनों और आर्द्रता की उपस्थिति में अलग-अलग संचालनीय (ऑपरेटिंग) तापमान के साथ नहीं बदलती है।

इस उपकरण (डिवाइस)  को कमरे के सामान्य  तापमान पर संचालित किया जा सकता है, इसमें कम प्रतिक्रिया समय होता है और अन्य रसायनों से नगण्य हस्तक्षेप होता है। इसका निर्माण बहुत ही सरल है और नमी से नगण्य रूप से प्रभावित होता है तथा  इसमें  उपयोग किए जाने वाले कोलेस्ट्रॉल-आधारित पॉलिमर प्रकृति में स्वतः ही विनष्ट हो जाते हैं ।  

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001S9CQ.jpg

पेटेंट विवरण:

भारतीय पेटेंट संख्या 3436085,  आवेदन संख्या 3613/DEL/2014 दिनांक 09/12/2014 27- 04-2020 को प्रदान किया गया

Thursday, 23 September 2021

03:11

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने जम्मू में निर्यात प्रोत्साहन केंद्र 'जम्मू हाट' का किया उद्घाटन


नई दिल्ली:केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विज्ञान और प्रौद्योगिकी, राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) पृथ्वी विज्ञान, एमओएस पीएमओ, लोक शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्य मंत्री, डॉ. जितेंद्र सिंह ने आज प्रदर्शनी मैदान, जम्मू में निर्यात प्रोत्साहन केंद्र 'जम्मू हाट' का उद्घाटन किया। उद्यमियों, खरीदारों, विक्रेताओं और निर्यातकों के लिए एक मंच 'वाणिज्य सप्ताह' के अवसर पर आज 'जम्मू हाट' का उद्घाटन किया गया।

उद्घाटन के दौरान प्रर्दशनी में भाग ले रहे प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि जब भारत आजादी के 75 साल 'आजादी का अमृत महोत्सव' मना रहा है, तो अगले 25 साल देश के विकास और प्रगति के लिए महत्वपूर्ण होने जा रहे हैं। प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के दृष्टिकोण को दोहराते हुए, डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि 2047 तक जब भारत अपनी स्वतंत्रता के 100 साल पर 'विश्व गुरु' के रूप में उभरेगा, यह पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण से मिलकर एक पूर्ण भारत होगा, जिसमें से जम्मू और कश्मीर भी एक हिस्सा है और इस प्रकार जम्मू के लोगों को मजबूत रहना चाहिए और उस महत्वपूर्ण ऐतिहासिक क्षण के लिए खुद को तैयार करना चाहिए।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001KHE5.jpg

डॉ. जितेंद्र सिंह ने आगे कहा कि 26 मई, 2014 को प्रधान मंत्री के रूप में शपथ लेने के तुरंत बाद, प्रधान मंत्री द्वारा दिया गया एक मंत्र था "न्यूनतम सरकार-अधिकतम शासन" और यह सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि पिछली सरकारों के दौर में विकास के मामले में छूटे हुए राज्य, केंद्र शासित प्रदेश आदि का ध्यान रखा जाएगा और उन्हें देश के अन्य राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के समान बनाने के लिए हर कदम उठाया जाएगा।

मंत्री ने कहा कि इसका सबसे अच्छा उदाहरण केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया गया 'मिशन नॉर्थईस्ट' है, जिसका 'पूर्वोत्तर विकास मॉडल' पूरे देश में एक उदाहरण बन गया है। इस सरकार द्वारा पूर्वोत्तर को भीतरी इलाकों को अब देश के केंदीय इलाके के रूप में बदल दिया गया है।

केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में चल रहे जनसंपर्क कार्यक्रम पर डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि पीएम श्री नरेन्द्र मोदी के दूसरे कार्यकाल की शपथ लेने के बाद, 'मिशन जम्मू-कश्मीर' पर जोर दिया गया, जिनमें से एक महत्वपूर्ण कदम केंद्रीय मंत्रियों को जनसंपर्क कार्यक्रम में व्यापक रूप से शामिल करना था जो इन दिनों बड़े पैमाने पर उठाया गया है।

03:07

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री की जम्मू-कश्मीर की दो दिवसीय यात्रा संपन्न tni


नई दिल्ली:केंद्र सरकार के जम्मू-कश्मीर संपर्क अभियान की पहल के तहत, बडगाम की अपनी यात्रा के अंतिम दिन केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्‍मृति जुबिन ईरानी ने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में जमीनी स्तर पर लोगों की शिकायतों का पता लगाने के उद्देश्य से केंद्र सरकार की तरफ से संपर्क अभियान शुरू किया गया है। उन्होंने आश्वासन दिया कि इसमें सामने आने वाली मांगों और शिकायतों को त्वरित समाधान के लिए केंद्र के साथ-साथ केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर की स्थानीय निकायों के साथ साझा किया जाएगा।

केंद्रीय मंत्री ने जम्मू-कश्मीर खेल परिषद द्वारा नई शैली में निर्मित स्पोर्ट्स स्टेडियम मगम का उद्घाटन किया। स्टेडियम में मंत्री ने एक फुटबॉल मैच देखा और स्थानीय क्लबों के खिलाड़ियों के साथ बातचीत भी की।

 

श्रीमती ईरानी ने मालपोरा मगम में बागवानी विभाग के उच्च घनत्व वाले बाग और फल व सब्जी संरक्षण इकाई का भी दौरा किया। इस अवसर पर किसानों के साथ बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि कश्मीर में विश्व में उच्च गुणवत्ता वाले सेब का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक बनने की बहुत बड़ी क्षमता है। उन्होंने आगे कहा, “वैश्विक स्तर पर पहचान बनाने के लिए फल उत्पादन में विविधता लाने की आवश्यकता है। कश्मीर सौभाग्यशाली है कि उसके पास उच्च उपज वाले बागवानी उत्पादों की खेती करने के लिए अनुकूल जलवायु और उपजाऊ जमीन है।”

 

मंत्री ने संबंधित बागवानी अधिकारियों को उच्च घनत्व वाले वृक्षारोपण से अधिक से अधिक प्रगतिशील किसानों को जोड़ने के लिए क्षेत्र में जागरूकता शिविर लगाने के निर्देश दिये। उन्होंने आश्वासन दिया कि सरकार उच्च घनत्व वाले वृक्षारोपण को अपनाने के इच्छुक किसानों और कृषि उत्पादक संगठनों (एफपीओ) को सभी आवश्यक मदद, तकनीकी मार्गदर्शन और बैंकों के माध्यम से आर्थिक सहायता दिलाने पर ध्यान देगी।

अपनी यात्रा की शुरुआत में, मंत्री ने सरकारी डिग्री कॉलेज मगम में एक एनीमिया शिविर का उद्घाटन किया और कनिहामा शिल्प ग्राम का भी दौरा किया। मंत्री ने एनआरएलएम से जुड़े स्थानीय कारीगरों और स्वयं सहायता समूहों के साथ भी बातचीत की।

इस अवसर पर अपने संबोधन में श्रीमती ईरानी ने कहा, “मैं इन अत्यधिक कुशल कारीगरों के कौशल, समर्पण और धैर्य को देखकर उत्साहित थी, जब वे अपनी उच्च लागत वाली कनी शॉल और अन्य उत्पादों को बुन रहे थे।” अपनी चर्चा के दौरान, उन्होंने संबंधित कारीगरों और अन्य उत्पादकों को आश्वासन दिया कि सरकार इन उत्पादों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लाने की इच्छुक है ताकि दुनिया भर के बाजारों में इनकी उपलब्धता हो।

केंद्रीय मंत्री श्रीमती स्‍मृति जुबिन ईरानी ने श्रीनगर में केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के डीजीपी श्री दिलबाग सिंह और अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से भी मुलाकात की।

मगम की अपनी यात्रा के दौरान मंत्री ने जाने-माने सांस्कृतिक कलाकारों की ओर से प्रस्तुत किए गए सांस्कृतिक कार्यक्रमों को देखा, जिसे समाज कल्याण विभाग और जिला सूचना केंद्र बडगाम ने आयोजित किया था।

03:05

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 80.67 करोड़ से अधिक टीके प्रदान किये गए

नई दिल्ली:केंद्र सरकार देशभर में कोविड-19 टीकाकरण का दायरा विस्तृत करने और लोगों को टीके लगाने की गति को तेज करने के लिये प्रतिबद्ध है। कोविड-19 के टीके को सभी के लिए उपलब्ध कराने के लिए नया चरण 21 जून 2021 से शुरू किया गया था। टीकाकरण अभियान की रफ्तार को अधिक से अधिक टीके की उपलब्धता के जरिये बढ़ाया गया है। इसके तहत राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को टीके की उपलब्धता के बारे में पूर्व सूचना प्रदान की जाती है, ताकि वे बेहतर योजना के साथ टीके लगाने का बंदोबस्त कर सकें और टीके की आपूर्ति श्रृंखला को दुरुस्त किया जा सके।

देशव्यापी टीकाकरण अभियान के हिस्से के रूप में केंद्र सरकार राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को नि:शुल्क कोविड टीके प्रदान करके उन्हें पूर्ण सहयोग दे रही है। टीके की सर्व-उपलब्धता के नये चरण में, केंद्र सरकार टीका निर्माताओं से 75 प्रतिशत टीके खरीदकर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को नि:शुल्क प्रदान करेगी।

टीके की खुराकें

(23 सितंबर, 2021 तक)

अब तक हुई आपूर्ति

80,67,26,335

भेजे जाने के लिए तैयार टीके

64,00,000

शेष टीके

4,29,03,090

 

केंद्र सरकार द्वारा अब तक निःशुल्क और अन्य माध्यमों से टीके की 80.67 करोड़ से अधिक (80,67,26,335) खुराकें राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को उपलब्ध कराई गई हैं। इसके साथ ही 64 लाख (64,00,000) से अधिक टीके भेजे जाने के लिए तैयार हैं। अभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास कोविड-19 टीके की 4.29 करोड़ से अधिक (4,29,03,090अतिरिक्त और बिना इस्तेमाल हुई खुराकें उपलब्‍ध है, जिन्हें लगाया जाना है।

03:01

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री मनसुख मंडाविया ने कोविड होने के बाद की स्थिति का सीक्वल मॉड्यूल जारी किया

 Delhi

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री मनसुख मंडाविया ने केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्री डॉ. भारती प्रवीण पवार की उपस्थिति में कोविड के बाद की स्थिति (सीक्वल) का मॉड्यूल जारी किया। ये मॉड्यूल कोविड के दीर्घकालीन प्रभावों से निपटने में देश भर में चिकित्सकों, नर्सों, पैरामैडिक्स तथा सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की क्षमता के निर्माण में सहायता करेंगे।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने दिशानिर्देशों को जारी करने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि इन्हें चिकित्सकों और स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड के दीर्घकालीन प्रभावों के मुद्वे से निपटने के लिए दिशानिर्देश उपलब्ध कराने के लिए तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि कोविड के सक्रिय तथा व्यापक उपचार के लिए यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि उपचार का न्यूनतम दुष्प्रभाव तथा कोई नकारात्मक प्रभाव न पड़े।

उन्होंने यह भी कहा कि ‘ हमने म्युकोर्मिकोसिस के मामलों जैसे स्टरायड की उच्च खुराकों को लेने के कारण रोगियों में कोविड होने के बाद के दुष्परिणामों को देखा है। ऐसी दवाओं को लेना महत्वपूर्ण जिनके कम या नगण्य दुष्प्रभाव हों। अगर हम समय से पहले सावधान हो जाएं तो कोविड होने के बाद भविष्य के दुष्परिणामों से निपटने में यह उपयोगी साबित होगा। कोविड होने के बाद से जुड़ी धारणाएं जो हमारे समाज में व्याप्त हैं, वे ये हैं कि कोविड के परिणामस्वरूप डर, मानसिक स्वास्थ्य के मुद्वे सामने आते हैं, और हमें इन्हीं धारणाओं से निपटने की आवश्यकता है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि कोविड के बाद के इन मुद्वों को समझा जाए तथा उनका समाधान किया जाए। कोविड के बाद के सीक्वल मॉड्यूल तैयार करने के लिए इन कोविड-पश्चात जटिलताओं के प्रबंधन के लिए देश भर में संसाधन व्यक्तियों द्वारा प्रयास किए गए हैं। स्वास्थ्य देखभाल प्रोफेसनलों के विभिन्न क्षेत्रों को ध्यान में रखते हुए इन अति विशिष्ट मॉड्यूल को तैयार किया गया है। ‘

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image003586B.jpg

इस अवसर पर डॉ. भारती प्रवीण पवार ने मानसिक स्वास्थ्य मुद्वों से निपटने और प्रत्येक व्यक्ति तक यह सुविधा पहुंचाने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा, ‘ इस महामारी ने हमारी स्वास्थ्य एवं स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली के सामने अभूतपूर्व चुनौती प्रस्तुत कर दी है। इतनी बड़ी आबादी वाले देश के लिए मानसिक स्वास्थ्य देखभाल एक बड़ी चुनौती है। हमें मानसिक स्वास्थ्य की इस चुनौती से निपटने के लिए अपनी क्षमता का निर्माण करने की आवश्यकता है। अगर अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं को उचित ज्ञान और प्रशिक्षण प्राप्त हो जाए तो वे कोविड होने के बाद की चुनौतियों के विरुद्ध इस लड़ाई में मूल्यवान संसाधन बन सकते हैं। जब हम कोविड होने के बाद के दुष्परिणामों से लड़ने के लिए खुद को लैस करने का प्रयास कर रहे हैं तो यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि इन सुविधाओं का लाभ समाज के प्रत्येक व्यक्ति तक पहुंचे। मानसिक स्वास्थ्य और अन्य मु़द्वों के लिए प्रशिक्षण मॉड्यूल राज्य स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा व्यक्त आवश्यकताओं के आधार पर तैयार किया गया है। ‘ उन्होंने यह भी कहा कि हमें यह सुनिश्चित करने के लिए एक साथ मिल कर काम करना चाहिए कि कोविड-19 अंतिम मानवीय महामारी साबित हो।

इस अवसर पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय में सचिव श्री राजेश भूषण, डीजीएचएस डॉ. सुनील कुमार तथा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

02:58

खनिज उत्पादन सूचकांक ने इस वर्ष जून माह के दौरान 23.1 प्रतिशत की वृद्धि दर्शायी

जून2021मेंखनन और उत्खनन क्षेत्र के खनिज उत्पादन का सूचकांक (आधार: 2011-12 = 100) 105.5 पर, जून, 2020 के स्तर की तुलना में 23.1प्रतिशतअधिक था। अप्रैल-जून, 2020-21 की अवधि के लिए संचयी वृद्धि पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 27.4 प्रतिशत बढ़ी है।

जून2021 में महत्वपूर्ण खनिजों का उत्पादन स्तर था: -कोयला 510 लाख टन, लिग्नाइट 34 लाख टन, प्राकृतिक गैस (प्रयुक्त) 2714 मिलियन घन मीटर, पेट्रोलियम (कच्चा) 25 लाख टन, बॉक्साइट 1739 हजार टन, क्रोमाइट 322 हजार टन , मैंगनीज अयस्क 208 हजार टन, जस्ता (सांद्र) 118 हजार टन, फॉस्फोराइट 110 हजार टन, चूना पत्थर 330 लाख टन, लौह अयस्क 224 लाख टन, सीसा (सांद्र) 29 हजार टन, तांबा (सांद्र) 10 हजार टन, सोना 41 किलोग्राम और हीरा 10 कैरेट।

जून, 2020 की तुलना में जून2021के दौरान उत्पादन में सकारात्मक वृद्धि दिखाने वाले महत्वपूर्ण खनिजों मेंशामिल हैं: क्रोमाइट (130.3प्रतिशत), मैग्नेसाइट (121.4प्रतिशत),लौह अयस्क (82.8प्रतिशत), तांबा (सांद्र) (27.8प्रतिशत), प्राकृतिक गैस (यू) (20.6प्रतिशत), लिग्नाइट (13.2प्रतिशत))और नकारात्मक वृद्धि दिखाने वाले अन्य महत्वपूर्ण खनिजों का उत्पादन है: पेट्रोलियम (कच्चा) (-1.8 प्रतिशत), जस्ता (सांद्र) (-3.4प्रतिशत), सीसा (सांद्र) (-9.6प्रतिशत), फॉस्फोराइट (-32.6प्रतिशत), सोना (-70.7प्रतिशत) और हीरा (-99.4प्रतिशत)।

Wednesday, 22 September 2021

05:29

कांग्रेस के व्यापार प्रकोष्ठ गौतम बुध नगर ज़िला अध्यक्ष अभिषेक जैन ने नेतृत्व में तैयारी बैठक आयोजित tni

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निदेशानुसार नोएडा विधानसभा 61 के लिए कांग्रेस के व्यापार  प्रकोष्ठ गौतम बुध नगर ज़िला अध्यक्ष अभिषेक जैन ने सेक्टर 10 स्थित महानगर कांग्रेस कमेटी कार्यालय पर महानगर अध्यक्ष शाहबुद्दीन को नोएडा विधानसभा 2022 के लिए आवेदन पत्र भरकर 11000 शुल्क के साथ जमा करा दिया।जिला कांग्रेस कमेटी व्यापार प्रकोष्ठ ज़िला अध्यक्ष अभिषेक जैन ने कहा की प्रियंका गांधी जी के नेतृत्व में दिनांक 29 सितंबर 2021 को मेरठ में ऐतिहासिक रैली होगी जिसमें नोएडा से हजारों की तादाद में कार्यकर्ता जाएंगे कांग्रेस पार्टी नोएडा विधानसभा में जनहित मुद्दों को कांग्रेस पार्टी उठाती रही है, पार्टी मौका देगी तो पूरी मज़बूती के साथ नोएडा विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे।इस मौके पर महानगर अध्यक्ष शाहबुद्दीन, महानगर महासचिव जितेंद्र अम्बावत,कांग्रेसी नेता हीबर नाथनीयल,  ब्लॉक अध्यक्ष जावेद खान,सेक्टर अध्यक्ष आसिफ मंसूरी,कमरुद्दीन, परवेज़,अशरफ,वीरो देवी,विशाल  जैन,राहुल वर्मा,मनोज कोहली,विनीत कपूर, राकेश कौशिक, मनोज मिश्रा, दुष्यंत, अमित जैन,गौरव जैन,अंकुर जैन एव तमाम साथी मौजूद रहे।

Tuesday, 21 September 2021

16:50

LMP :पांच दिवसीय भागवत कथा के आयोजन में पहुंचे वारिस अली अंसारी

उत्तर प्रदेश: लखीमपुर खीरी के 139 गोला विधानसभा क्षेत्र के ग्राम पंचायत परसपुर में पांच दिवसीय भागवत कथा का आयोजन किया गया। जिस के समापन अवसर पर समाजवादी पार्टी के नगर अध्यक्ष व जिला पंचायत सदस्य श्री वारिस अली अंसारी पहुंचकर कथा में सम्मिलित हुए और भगवान ठाकुर जी का आशीर्वाद प्राप्त किया। कमेटी को आवश्यक सहयोग प्रदान किया इस अवसर पर कमेटी के राममूर्ति,  मुंशीलाल ,रामनिवास ,धीरेश कुमार, रामगोपाल ,सत्येंद्र, राजीव, रहीस ,उमेश ,बीपी यादव ,अशोक कुमार, राजेश यादव ,नईम खान,मुन्ना अन्सारी, नैमिष वर्मा,दिलीप यादव और सैकड़ों की संख्या में लोग उपस्थित रहे ।
16:39

घरेलू हिंसा से पीड़ित संतोष से ईएसआई अस्पताल में जाकर मिला जनवादी महिला समिति का प्रतिनिधि मंडल


 नोएडा, अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति नोएडा कमेटी का प्रतिनिधिमंडल आज घरेलू हिंसा से पीड़ित संतोष से ईएसआई अस्पताल में जाकर मिला और पीड़िता का हालचाल पूछा पीड़ित संतोष ने बताया कि वह ईएसआई अस्पताल सेक्टर- 24, नोएडा में कार्यरत है तथा उसका पति धनंजय कुमार भी यहीं पर कार्यरत है उसने बताया कि उसका पति आए दिन बिना किसी कारण के मेरे और बच्चों के साथ मारपीट करता रहता है और उसे प्रताड़ित करता है कल भी संतोष के साथ बुरी तरह मारपीट की गई जिसकी शिकायत थाना सैक्टर- 24 नोएडा में दर्ज कराई गई है । 
प्रतिनिधिमंडल ने उक्त मामले को लेकर ईएसआई अस्पताल सेक्टर 24 नोएडा के डायरेक्टर से भी मुलाकात किया और उनसे आग्रह किया कि वे स्वयं इस मामले में हस्तक्षेप करें और पीड़िता की तबीयत ठीक होने पर वह जो कह उसके अनुसार आगे की कार्रवाई की जाए। जनवादी महिला समिति की जिला अध्यक्ष चंदा बेगम, वरिष्ठ कार्यकर्ता सुमन चौहान, सीटू जिलाध्यक्ष गंगेश्वर दत्त शर्मा ने कहा कि वे पीड़िता की हर संभव मदद संगठन की ओर से की जाएगी और उक्त मामले पर पुलिस अधिकारियों से कार्रवाई के संबंध में बातचीत करेंगे ।
16:37

परिवर्तन का संकल्प कांग्रेस ही विकल्प को लेकर मेरठ में 29 सितंबर को आयोजित होगी कांगेस की रैली

उत्तर प्रदेश कांग्रेस की प्रभारी महासचिव प्रियंका गांधी की परिवर्तन का संकल्प, कांग्रेस ही विकल्प को लेकर मेरठ में 29 सितंबर को आयोजित होने वाली महारैली को लेकर महानगर कांग्रेस कमेटी नोयडा की एक बैठक आज सी एस राणा कॉम्प्लेक्स सैक्टर 22 में आयोजित की गई। आज की बैठक में उत्तरप्रदेश कांग्रेस के सह प्रभारी व कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव धीरज गुज्जर व उत्तरप्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव विदित चौधरी ने शिरकत की। धीरज गुज्जर ने संभावित 14 प्रत्याशियों के साथ साथ सभी पदाधिकारियों को रैली को सफल बनाने के लिए जिम्मेदारियां दी गयी, मंच का संचालन उपाध्यक्ष पंडित प्रमोद शर्मा ने किया, श्री धीरज गुज्जर जी ने कार्यक्रताओं व पदाधिकारियों से आवाहन किया कि अब वक्त आ गया है इस भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने का। सभी कार्यकर्ता जी जान से आगामी प्रियंका गाँधी की रैली को सफल बनाने का कार्य करें। जनता अब योगी व मोदी की भाजपा सरकार से तंग आ चुकी है हमें सिर्फ जनता तक इनकी विफलता को पहुंचना है। सभी कार्यकर्ता संगठित हो कर कार्य करें*
*आज की बैठक में उपस्थित पदाधिकारियों में शहर अध्यक्ष शाहबुद्दीन, प्रदेश सचिव मुकेश यादव, राजेन्द्र अवाना, यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष ओमवीर यादव, एआईसीसी दिनेश अवाना,पंडित प्रमोद शर्मा पीसीसी, वरिष्ठ नेता अनिल यादव, जगदीश शर्मा, फिरे सिंह नागर, राजकुमार भारती, रामकुमार तंवर,ललित अवाना,अम्बावत, सतेंद्र शर्मा, लियाकत चौधरी, उदयवीर यादव, चरण सिंह यादव, रिजवान चौधरी,गौतम अवाना,  राजकुमार मोनू, विक्रम चौधरी, वीरो देवी, एस एस राणा, रामकुमार शर्मा, राजन बिष्ठ, जावेद खान, सोविन्द्र अवाना, अभिषेक जैन, संजय तनेजा, हरेंद्र शर्मा,रामकुमार शर्मा, मधुराज, पूजा पाल, सोवेंद्र यादव, अमित यादव, आर के प्रथम, अमरिंदर कौर, एन सी वरुण, हेबर नाथेनल, राजकुमार भारती, यतेंद शर्मा, हसमत राणा, योगेंद्र भाटी, रणबीर भाटी, जितेन्द्र शर्मा, परवेज,इन्द्रजीत तिवारी,दयाशंकर पांडेय,विक्रम चौधरी,ब्लाक अध्यक्ष नीरज अवाना,पवन शर्मा प्रवक्ता,शंकर कृष्णन, डाँ० सीमा,जीशान चौधारी,रोहित बैनिवाल,नरेन्द्र भाटी,रामचन्द्र गुप्ता,असरफ,आशिफ मंसूरी,अली राजा,कंचन तिवारी,ज्योंतिपाल,पूजा गुप्ता,आरिफ सैफी,सहित सैंकड़ो कार्यकर्ता उपस्थित रहे