Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Saturday, 29 February 2020

17:44

रेलकर्मी की बहन की शादी में दिया बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश




सवाई माधोपुर@रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा । जिले के गंगापुर सिटी उपखंड मुख्यालय पर स्थित रेलवे के उत्सव मैरिज गार्डन में  वेस्ट सेंट्रल रेलवे मजदूर संघ के पदाधिकारी  एवं रेलकर्मी प्रदीप तिवारी की बहन हीना तिवारी की शादी मथुरा निवासी सॉफ्टवेयर इंजीनियर दीपक शर्मा के साथ धूमधाम से संपन्न हुई ।शादी में रेलवे पुलिस प्रशासन के अधिकारियों के अलावा जनप्रतिनिधियों, समाजसेवियों, मीडिया जगत से पत्रकारों ने शिरकत करते हुए वर-वधू को सुखमय दांपत्य जीवन का आशीर्वाद दिया इस दौरान लोगों को स्वच्छता के साथ बेटा बेटी में भेदभाव नहीं करते हुए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश दिया गया यह अनोखी शादी यादगार बन गई प्रदीप तिवारी ने बताया कि उनके परिवार ने बेटा बेटी में फर्क नहीं समझा और समान रूप से उच्च शिक्षा दिलवाई यही वजह है कि उनकी बहन हीना ने एमफिल पीएचडी कर रखी है लोगों को अपनी बेटियों को घर का चूल्हा चौका के बजाय  उच्च शिक्षा दिलवानी चाहिए इस अनोखी शादी में मजदूर संघ कोटा के मंडल सचिव अब्दुल खालिक, वरिष्ठ मंडल उपाध्यक्ष डीके शर्मा, स्टेशन अधीक्षक सी एल मीणा,  सीटीआई बाबूलाल मीणा, मजदूर संघ के पदाधिकारी गण  सैकड़ों रेल कर्मियों सहित उत्तर प्रदेश सरकार के भूतपूर्व विधायक मुन्ना शर्मा, उत्तर प्रदेश प्रशासन के डीवाईएसपी अनिल शर्मा, उत्तर प्रदेश के विधायक दबंग नेता की पहचान रखने वाले राजा भैया के प्रतिनिधि सचिन तिवारी आदि लोगों ने हिना तिवारी दीपक शर्मा को सुखमय दांपत्य जीवन का आशीर्वाद दिया
17:37

सूचना के अधिकार को शस्त्र बनाकर भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़े सूचना कार्यकर्त्ता।




बदायूँ भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के तत्वावधान में जनपद बदायूं को देश का प्रथम भ्रष्टाचार मुक्त जनपद बनाने हेतु जनोपयोगी कानूनों सूचना का अधिकार, जनहित गारंटी कानून,नियम 24  को प्रभावी बनाने तथा चिकित्सा व सहकारिता एवं ग्राम विकास से जुड़े विभागों में व्याप्त भ्रष्टाचार के विरुद्ध रणनीति बनाने हेतु दातागंज तहसील के सूचना कार्यकर्त्ताओं की एक बैठक तहसील मुख्यालय पर कैप्टन राम सिंह यादव की अध्यक्षता में आयोजित की गई।

बैठक की शुरुआत राष्ट्र राग के कीर्तन के साथ हुई तदन्तर सह जिला समन्वयक एम एच कादरी द्वारा ध्येय गीत प्रस्तुत किया गया। दातागंज तहसील अन्तर्गत तहसील व ब्लाक समरेर, दातागंज,म्याऊ और उसावां की इकाईयों का गठन किया गया।

इस अवसर पर विचार व्यक्त करते हुए भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड़ एडवोकेट ने कहा कि जनपद बदायूं में भ्रष्टाचार चरम पर है, सरकारी कार्यालयों में बिना रिश्वत के कोई कार्य नहीं होते हैं,आम नागरिकों को रिश्वत देने को विवश किया जाता है। परिणामस्वरूप सरकारी अधिकारियों व कर्मचारियों की चल व अचल परिसम्पतियो में भारी वृद्धि हो रही है। वर्ष 2020 में ग्राम विकास से जुड़े विभागों में व्याप्त भ्रष्टाचार के विरुद्ध सन्घर्ष किया जायेगा। प्रधानमंत्री स्मार्ट विलेज बनाने की योजना पर कार्य कर रहे हैं किन्तु ग्राम विकास के लिए जिम्मेदार तन्त्र को निष्प्रभावी कर दिया गया है ताकि घोटाले किए जा सकें। ग्राम पंचायतों में कार्यालय नहीं है, कार्मिक नहीं है, आवश्यक अभिलेख नहीं है, विकास कार्यों का विवरण सार्वजनिक नहीं किया जाता है, जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ अपात्रों को प्रदान किया जा रहा है। जनसुनवाई पोर्टल बाबुओं के हवाले हैं, जन शिकायतों को गंभीरता से नहीं लिया जाता है,मिथ्या आख्या दे दी जाती है। वर्ष 2020 में शिक्षा और स्वास्थ्य विभाग को निजी हाथों से मुक्त कराने हेतु देशव्यापी आंदोलन छेड़ा जाएगा।

अभियान के मन्डल समन्वयक शमसुल हसन ने कहा कि  सूचना के अधिकार को हतोत्साहित किया जा रहा है। सूचना अधिकार अधिनियम 2005 की धारा चार का भी पालन नहीं किया गया है। जनहित गारंटी कानून निष्प्रभावी है। रोजगार परक योजना मनरेगा द्वारा कागजों में रोजगार दिया जा रहा है। मनरेगा शिकायत निवारण तंत्र भी विफल है। कार्यकर्ता सूचना के अधिकार का प्रयोग करके इन विभागों में भ्रष्टाचार को सार्वजनिक करेंगे।साथ ही भ्रष्ट तत्वों के विरूद्ध अभियोग पंजीकृत कराये जायेंगे।


कार्यक्रम में प्रमुख रूप से अभियान के मार्गदर्शक धनपाल सिंह, जिला समन्वयक रामगोपाल,सह जिला समन्वयक एम एच कादरी, मुनीश कुमार सिंह, अरविंद कुमार, रमेश पाल, सुभाष सिंह, महेश चंद्र, अमीरुद्दीन, राजीव कुमार, ज्ञानेंद्र सिंह,जोगराज,अमर सिंह,गोपाली सिंह, रीतेश चौहान, वीरपाल आदि सूचना कार्यकर्ता प्रमुख रूप से  उपस्थित रहे।

बैठक का संचालन अभियान के तहसील समन्वयक असद अहमद ने किया ।अन्त में सह तहसील समन्वयक नारद सिंह ने सभी का आभार व्यकत किया।
09:06

जानिए, हस्तरेखा का सिद्धांत-के सी शर्मा



जानिए, हस्तरेखा का सिद्धांत-के सी शर्मा

हस्तरेखा का मुख्य सिद्धांत यह है की फलादेश करते समय व्यक्ति के लिंग, देश, काल और जाती/धर्म का ध्यान रखना आवश्यक है, क्यों की व्यक्ति के जीवन पर इनका विशेष प्रभाव होता है ! अब मान लीजिये आप किसी महिला का हाथ देखते है और उस महिला के हाथ में तलाक का योग स्पष्ट है, लेकिन वह महिला एक ऐसे समाज से है जहा पर तलाक का अर्थ सिर्फ मृत्यु है तो अब ऐसे में आपका फलादेश सर्वथा गलत साबित होना ही है ! आप को यहाँ पर तलाक का ना कह कर सिर्फ इतना कह कर अपनी बात ख़त्म कर देनी चाहिए की आपका वैवाहिक जीवन संतोषजनक नहीं होना चाहिए !

हम सभी का भाग्य एक दूसरे से अलग होता है लेकिन हाथ में रेखाए सीमित होती है इसलिए एक ही योग के कई अर्थ होते है !

हथेली में पाए जाने वाली खडी रेखा हमेशा अच्छी होती है व आड़ी रेखा हमेशा बुरी होती है ! यदि खडी रेखा किसी भी मुख्य रेखा के साथ या किसी भी पर्वत पर पाई जाती है तो वो उसका प्रभाव बड़ा देती है इसके ठीक विपरीत यदि आड़ी रेखा किसी मुख्य रेखा को काट देती है या किसी पर्वत पर पाई जाती है तो उसका प्रभाव कम कर देती है !

यदि हाथ की तीनो मुख्य रेखा दोषमुक्त/स्पष्ट हो तो व्यक्ति को जीवन में जरूर सफलता प्राप्त होती है लेकिन अगर ये तीनो मुख्य रेखाये दोषयुक्त, कटी-फटी द्वीपयुक्त हो तो व्यक्ति को सफलता के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ता है !

हाथ कौन सा देखे?

हमारे मस्तिस्क में ये सवाल सबसे पहले आता है की हमको व्यक्ति का कौन सा हाथ देखकर फलादेश करना चाहिए, सीधा या उल्टा हाथ?

कुछ विद्वानों का मत है की स्त्रियो और बच्चो का उल्टा हाथ और पुरषों का सीधा हाथ देखना चाहिए !कुछ विद्वानों का मत है की कामकाज करने वाली महिलायों का भी सीधा हाथ ही देखना चाहिए व उन पुरुषो का बाया हाथ देखना चाहिए जो आत्मनिर्भर नहीं होते !कुछ विद्वानों का मत है की जिस हाथ से व्यक्ति काम करता है या व्यक्ति जिस हाथ को ज्यादा उपयोग में लाता है उस हाथ को देख कर ही फलादेश करना चाहिए !

इस विषय पर विद्वानों का मत अलग-अलग है ! हस्तरेखा शास्त्री को दोनों ही हाथो की रेखाओ को बराबर का महत्व देना चाहिए ! व्यक्ति के जीवन में आये उतार चढाव का फलादेश कर के पता करे की आपकी बात किस हाथ से सटीक मिल रही है, उसी हाथ को प्राथमिकता दे ! एक अच्छे हस्तरेखा शास्त्री को चाहिए की वो दोनों ही हाथो का निरिक्षण करने के पश्चात ही फलादेश करे !

गुरु मुद्रिका

प्राय: गुरु मुद्रिका सभी व्यक्तियों के हाथो में होती है लेकिन अधिकत्तर टूटी हुई व कटी हुई होती है ! गुरु मुद्रिका बहुत ही कम व्यक्तियों के हाथो में स्पष्ट और दोषमुक्त होती है !
गुरु पर्वत को अर्धचन्द्राकार घेरती हुई रेखा को गुरु मुद्रिका कहते है ! गुरु मुद्रिका के होने की वजह से व्यक्ति को अध्यात्म व ज्योतिष जैसे विषय में रुचि होती है !
दोहरी गुरु मुद्रिका के होने पर व्यक्ति के अन्दर विशेष गुण आ जाते है व्यक्ति सामने वाले की मन की बात पड़ लेता है ! ऐसे व्यक्तियों की अंतर्दृष्टि बहुत तेज़ होती है !
गुरु मुद्रिका वाले व्यक्तियों का वैवाहिक जीवन अच्छा नहीं होता है !
यदि गुरु मुद्रिका को आड़ी रेखा काट दे तो व्यक्ति को मानसिक तनाव रहता है !

स्वास्तिक चिन्ह

यदि व्यक्ति के हाथ स्वास्तिक का चिन्ह है तो वह निर्धन परिवार में जन्म लेने के पश्चात भी बहुत प्रगति करता है !

स्वास्तिक चिन्ह होने पर व्यक्ति को भूमि से लाभ होता है !

दमा व श्वास रोग

यदि हृदय रेखा और मस्तक रेखा आपस में बहुत नजदीक आ जाय अर्थात चतुष्कोण (हृदय रेखा और मस्तक रेखा का मध्य भाग) बहुत सकरा हो जाय तो व्यक्ति को दमा व श्वास रोग होने की सम्भावना होती है !

यदि जीवन व मस्तक रेखा के प्रारंभ में एक बड़ा द्वीप हो तो व्यक्ति को श्वास रोग होने की सम्भावना रहती है !

यदि स्वास्थ्य रेखा पर द्वीप हो व उस द्वीप को मस्तक रेखा काट रही हो तो व्यक्ति को श्वास का रोग होता है !

यदि चतुष्कोण में वर्ग हो तो व्यक्ति को दमा होता है !

धनाड्य व दरिद्र योग

यदि हाथ में अच्छी भाग्यरेखा व साथ ही अच्छी सुर्य रेखा भी हो तो व्यक्ति निसंदेह अपने जीवन में सुख-सिमृधि का आनंद लेता है व इसके विपरित्त यदि हाथ में भाग्यरेखा व सुर्य रेखा का आभाव हो तो व्यक्ति को जीवन में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है !

धनाड्य व्यक्ति के हाथ में भाग्य रेखा का उदय चन्द्र/केतु पर्वत से होता है और वह शनि पर्वत पर निर्दोष समाप्त होती है ! भाग्य रेखा दोषमुक्त होनी चाहिये ना की कटी-फटी होनी चाहिए अर्थात उसको कोई भी अवरोध रेखा नहीं काटती हो ! भाग्य रेखा के साथ ही अच्छी निर्दोष सूर्य रेखा भी होनी चाहिए ! यदि हाथ में ऐसी भाग्य रेखा और सूर्य रेखा है तो निसंदेह व्यक्ति विलासिता का जीवन व्यतीत करने वाला होगा !

जो व्यक्ति जन्मकाल से अमीर होता है उसके अंगुष्ठ के प्रथम व दिव्तीय पर्व के मध्य आँख (द्वीप) बनी हुई होती है !

दरिद्र व्यक्ति के हाथ में भाग्य रेखा व सूर्य रेखा का प्राय: अभाव ही होता है ! दरिद्र व्यक्ति के हाथ में रेखाओ का जाल बना होता है ! जिस व्यक्ति के हाथ में रेखाओ का जाल बना हुआ होता है उस व्यक्ति को जीवन में बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है ! भाग्य रेखा व सूर्य रेखा प्रभावहीन हो जाती है ! रेखाओ के मकडजाल बन जाने के कारण जीवन में पग-पग पर बाधाये आती रहती है !

अर्थात, भाग्य रेखा व सूर्य रेखा जितनी निर्दोष व स्पष्ट होगी व्यक्ति को उतनी सफलता मिलेगी और भाग्यरेखा व सूर्य रेखा जितनी दोषयुक्त होगी व्यक्ति को उतनी ही कठिनाइया उठानी पड़ेगी !

चिकित्सक व समाजसेवक योग

यदि भाग्य रेखा चन्द्र पर्वत से प्रारंभ होती है व बुध पर्वत पर खडी रेखाए हो जो हृदय रेखा की तरफ जाय तो व्यक्ति समाजसेवक, डॉक्टर व नर्स इत्यादि कार्य करने वाला होता है !

मित्र व शत्रु रेखाए

प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में मित्र व शत्रु होते है ! आइये, हस्तरेखा से जानते है की आपके शत्रु अधिक है या मित्र !

हमारी उंगलियों पर पर्व बने हुए होते है यदि आप ध्यानपूर्वक इन पर्वो के मध्य में देखेंगे तो पायेंगे की कई खड़ी व आड़ी रेखाए बनी हुई होती है ! खड़ी रेखाए मित्रो का प्रतीक है व आड़ी रेखाए दुश्मनों का प्रतीक है ! अर्थात यदि आपकी उंगलियों के पर्वो के मध्य अधिक आड़ी रेखाए है तो आपके हितेषी कम ही होंगे व बुरा चाहने वाले अधिक होंगे ! इसके विपरीत यदि खड़ी रेखाए अधिक है व आड़ी रेखाए कम है तो आपके हितेषी अधिक होंगे ! यदि उंगलियों के पर्वो पर खड़ी और आड़ी रेखाओ का आभाव है तो व्यक्ति का जीवन बाहरी दुनिया से कटा हुआ होता है अर्थात न दुश्मन और न ही दोस्त !

यदि उच्च मंगल से कोई आड़ी रेखा आकर आपकी भाग्य रेखा को काट देती है तो समझ लीजिए की आपको जीवन में निश्चित ही किसी से धोखा मिलेगा या आपका दुश्मन आपको नुक्सान पहूचायेगा ही ! ऐसे दुश्मन प्राय "आस्तीन के साँप" की तरह होते है जो वक्त मिलने पर धोखा दे देते है !

यदि भाग्य रेखा और सूर्य रेखा को शुक्र पर्वत से आती हुई आड़ी रेखा काट देती है तो इसका अर्थ ये की परिवार वालो का विरोध या परिवार वालो की वजह से ही धनहानि व मानहानि का सामना करना पद सकता है है ! यदि रेखा शुक्र पर्वत से निकल कर भाग्य रेखा से मिल रही है तो व्यक्ति को परिवार वालो की मदद मिलती है !

हस्तरेखा और कारावास /सन्यास

यदि जीवन रेखा के अंत (निम्न शुक्र पर्वत) में जीवन रेखा से जुड़ा हुआ वर्ग या क्रोस है तो व्यक्ति को कारावास की सजा होती है या फिर व्यक्ति सन्यास ले लेता है !

हस्तरेखा में कारावास के और भी योग बताये गए है !

हस्तरेखा में मांगलिक दोष

जिस प्रकार कुंडली में यदि मंगल ग्रह प्रथम, चतुर्थ , सप्तम, अष्ठम व बाहरवे भाव में हो तो व्यक्ति मांगलिक होता है उसी प्रकार हस्तरेखा में भी मांगलिक योग बताये गए है !

यदि विवाह रेखा की दूरी हृदय रेखा से बहुत दूर हो या कनिष्का ऊँगली (छोटी ऊँगली) के बिलकुल समीप हो तो व्यक्ति मांगलिक होता है !

यदि विवाह रेखा से कोई शाखा निकल कर नीचे की ओर जाय तो व्यक्ति मांगलिक होता है !

यदि निम्न मंगल से कोई रेखा निकल कर बुध पर्वत तक जाय या विवाह रेखा को काट दे तो व्यक्ति मांगलिक होता है !

मांगलिक योग होने पर विवाह देर से होता है या फिर वैवाहिक जीवन संतोषजनक नहीं होता है !

त्रिशूल चिन्ह

यदि हाथ में किसी भी रेखा पर त्रिशूल पाया जाता है तो वह उस रेखा के गुणों को दुगना कर देता है ! यदि त्रिशूल सूर्य रेखा पर पाया जाता है तो व्यक्ति को अपार सफलता मिलती है ! परन्तु यदि त्रिशूल की शाखा दोषयुक्त है तो त्रिशूल के प्रभाव में कमी आ जाती है !

विवाह आयु की गणना का तरीका

कनिष्का (छोटी ऊँगली) के तीसरे पर्व की जड़ में एक बिंदु लगा दे व दूसरा बिंदु हृदय रेखा पर सामने लगा दे अब इन दोनों बिन्दुओ को एक सीधी रेखा से खीचकर मिला दे ! अब आप इस दूरी को 60 वर्ष का मान लीजिये ! अब यदि इस दूरी के ठीक मध्य में एक बिंदु लगा दे तो वो 30 वर्ष की आयु होगी ! अब यदि मध्य बिंदु और हृदय रेखा की दूरी के ठीक मध्य एक और बिंदु लगा दिया जाय तो वो 15 वर्ष की आयु होगी ! इसी प्रकार यदि मध्य बिंदु और कनिष्का ऊँगली के जड़ के बिंदु की दूरी के ठीक मध्य में एक बिंदु लगा दिया जाय तो वो 45 वर्ष की आयु होगी ! इसी प्रकार आप बिंदु लगा कर एक-एक वर्ष का अनुमान निकाल सकते है !

अब आप बहुत आसानी से अनुमान लगा सकते है की व्यक्ति का विवाह किस आयु में होना चाहिए ! यदि विवाह रेखा मध्य बिंदु से नीचे है तो आप बता सकते है की विवाह 30 वर्ष की आयु से पहले होना चाहिए उसी प्रकार यदि विवाह रेखा मध्य बिंदु के ऊपर है तो आप बता सकते है की विवाह 30 वर्ष के पश्चात ही होगा !

यहाँ पर इस बात का ध्यान रखना होगा की विवाह रेखा वो ही मानी जायगी जो स्पष्ट और लम्बी हो ! आपको इसके लिए काफी हाथो का परीक्षण करना होगा क्योकि जैसा मैं पहले बता चुका हूँ की "हस्तरेखा का मुख्य सिद्धांत यह है की फलादेश करते समय व्यक्ति के लिंग, देश, काल और जाती/धर्म का ध्यान रखना आवश्यक है, क्यों की व्यक्ति के जीवन पर इनका विशेष प्रभाव होता है" ! आप खुद जानते है की विवाह को लेकर प्रत्येक देश, जाती, धर्म व समाज में विभिन्नता पाई जाती है !

हाथ में विवाह के अन्य योग भी होते है !

07:04

सृष्टि महिला समिति ने नौनिहालों को दिये खिलौने



नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) के निगाही क्षेत्र की सृष्टि महिला समिति ने शुक्रवार को बच्चों में  खिलौनों का वितरण किया। खटखरी ग्राम के आंगनवाड़ी क्रमांक 1 में आयोजित इस कार्यक्रम में  कुल 25 नौनिहालों में  खिलौने का वितरण किया गया।
इस अवसर पर सृष्टि महिला समिति के सदस्याओं  ने मौजूद महिलाओं को स्वच्छता के बारे में बताया और बीमारियों से बचने के लिए साफ-सफाई पर ध्यान देने के लिए प्रेरित किया ।  इसके साथ ही उन्होंने उपस्थित महिलाओं से अपने बच्चों को प्रतिदिन आगनवाड़ी केंद्र पर भेजने हेतु अनुरोध भी किया।

इस अवसर पर सृष्टि महिला समिति  सदस्याएं श्रीमती मीना वर्मा,श्रीमती माधवी मिश्रा एवं श्रीमती कविता मोहन उपस्थित रहीं एवं कार्यक्रम को सफल बनाने में सहयोग प्रदान किया।

कार्यक्रम के अंत में ग्राम आगनवाड़ी केंद्र की कार्यकर्ता एवं सहायिका के द्वारा महिला समिति की सभी सदस्यों का आभार जताया गया एवं भविष्य में भी इस प्रकार के सहयोग की कामना की गयी।
07:01

सुरभि महिला समिति ने सेटेलाइट विद्यालय कचनी में वितरित की परीक्षा लेखन सामग्री



नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) के अमलोरी क्षेत्र की सुरभि महिला समिति ने कचनी ग्राम के सेटेलाइट विद्यालय में आगामी परीक्षाओं के मद्देनजर स्कूली बच्चों को लेखन सामग्री बोर्ड, पेंसिल, रबर, कटर, बाक्स आदि का वितरण स्कूल के 35 छात्र-छात्राओं को किया गया ।  जिसमें मुख्य रूप से कक्षा 3 से कक्षा 5 तक के विद्यार्थी शामिल रहे।

सुरभि महिला समिति की अध्यक्षा श्रीमती आभा द्विवेदी ने बच्चों को मन लगा कर पढ़ने एवं जीवन मे सफल व सरल इंसान बनने की सलाह दी साथ ही साथ समझाया की किताबों के ज्ञान के साथ-साथ आस-पास के सामाजिक एवं व्यवहार ज्ञान की भी जरूरत है व असफलताओं से निराश होकर हिम्मत नहीं हारने की भी प्रेरणा दी।

कार्यक्रम में सुरभि महिला समिति की सदस्याएं भी मौजूद रहीं
06:56

समग्र शिक्षा अभियान किशनगढ़ के तत्वाधान में समावेशी शिक्षा कार्यक्रम आयोजित




किशनगढ़। मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कार्यालय समग्र शिक्षा अभियान किशनगढ़ के तत्वाधान में समावेशी शिक्षा कार्यक्रम अंतर्गत ब्लॉक स्तरीय अभिभावक परामर्श दात्री कार्यक्रम( पेरेंट्स काउंसलिंग)  हाउसिंग बोर्ड स्थित ब्लॉक संदर्भ कक्ष( सीआरसी भवन) पर शुक्रवार को विधिवत आयोजित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता संदर्भ कक्ष नियंत्रण अधिकारी एवं प्रधानाध्यापिका राजकीय माध्यमिक विद्यालय फरासिया रुचिका अग्रावत ने की। अतिथि द्वारा मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलन माल्यार्पण कर कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत की गई। संदर्भ व्यक्ति एवं कार्यक्रम प्रभारी चंद्रशेखर शर्मा ने बताया कि ब्लॉक अंतर्गत राजकीय एवं गैर राजकीय विद्यालयों में अध्ययनरत( कक्षा 1 से कक्षा 12 तक) विशेष आवश्यकता वाले बालक बालिकाओं ( दिव्यांग छात्र छात्रा) एवं उनके अभिभावकों ने  पेरेंट्स काउंसलिंग कार्यक्रम में  भाग लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानाध्यापिका रुचिका अग्रावत ने कहा कि दिव्यांगता कोई अभिशाप नहीं है, नहीं कोई पूर्व जन्मों का कर्म फल है। यह तो मात्र  जन्म से पूर्व जन्म के समय एवं जन्म के पश्चात बीमारी या दुर्घटना सहित विभिन्न कारणों से उत्पन्न क्षति या अक्षमता है, जिसका समय रहते उपचार व समाधान संभव है। दिव्यांग शिक्षक संजय घीया ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि नि:शक्त बालक बालिकाओं को हर क्षेत्र में समान अवसर प्रदान किए जाने चाहिए ताकि वह जीवन में आगे बढ़ सके और किसी पर आश्रित ना हो। संदर्भ व्यक्ति ( सीडब्ल्यूएसएन) एवं दक्ष प्रशिक्षक जगदीश प्रसाद शर्मा एवं चंद्रशेखर शर्मा द्वारा दिव्यांग बच्चों के माता-पिता एवं अभिभावकों को परामर्श दात्री कार्यक्रम में विभिन्न सरकारी सुविधा व सहायता सहित दिव्यांग जन से जुड़े  विभिन्न कानून/एक्ट आदि की विस्तृत जानकारी प्रदान की गई। इस मौके पर अजमेर जिला मुख्यालय से आए फिजियोथेरेपिस्ट एवं स्पीच थैरेपिस्ट महेंद्र कुमार खींची द्वारा तकरीबन 44 बच्चों को फिजियो एवं स्पीच थैरेपिस्ट की सेवाएं प्रदान की गई। काउंसलिंग को संबोधित करते हुए चंद्रशेखर शर्मा ने मूल रूप से अभिभावकों को यह बात समझाई की दिव्यांग बच्चों को सहानुभूति की नहीं सहयोग की आवश्यकता  है। उन्होंने कहा कि दिव्यांग बालक बालिकाओं के साथ प्रत्येक माता-पिता व अभिभावकों को अपने दूसरे सामान्य बच्चों की तरह ही लालन -पालन एवं सामाजिक व्यवहार दर्शाना चाहिए। संदर्भ व्यक्ति जगदीश प्रसाद शर्मा ने हाउसिंग बोर्ड स्थित संदर्भ कक्ष का अवलोकन करवाते हुए दिव्यांग बच्चों के परिजनों को संदर्भ कक्ष में स्थापित अंग- उपकरणों से होने वाले लाभ के विषय में अवगत कराया। इस अवसर पर विशेष शिक्षक नाथूलाल योगी खंडाच ने भी सफल दिव्यांग बच्चों एवं व्यक्तियों से जुड़े विभिन्न प्रसंगों पर प्रकाश डाला। ब्लॉक स्तरीय सीडब्ल्यूएसएन पैरंट्स काउंसलिंग में आमंत्रित 100 संभागीयों (50 दिव्यांग छात्र- छात्राएं व 50 अभिभावक) की अपेक्षा कुल 101 ( 49 अभिभावक एवं 51 दिव्यांग छात्र- छात्रा) संभागी कार्यक्रम में शामिल हुए। इस मौके पर सभी उपस्थित संभागीयों को एक समय के भोजन के साथ-साथ वास स्थान से संदर्भ कक्ष तक की यात्रा करने पर वास्तविक किराया राशि का भुगतान भी किया गया।

Friday, 28 February 2020

18:39

राम जानकी मंदिर करुआ पारा मूर्ति चोरी प्रकरण का शीघ्र करें खुलासा _ राजकुमार दास जी महाराज



गोंडा पवन कुमार द्विवेदी
  गोंडा जनपद के इटियाथोक थाना अंतर्गत ग्राम पंचायत करवा पारा में 17 दिन पूर्व मुक्ति चोरी प्रकरण में अपनी पुलिस के हाथ खाली है । इस प्रकरण के संबंध में जानकारी लेने पहुंचे  श्री राम वल्लभा कुंज जानकी महल के पीठाधीश्वर पूजनीय राजकुमार दास जी महाराज घटनास्थल का जायजा लिया मंदिर के पुजारी व उपस्थित ग्रामीणों से इस घटना के बारे में पूरी जानकारी ली वही इस संबंध में थाना प्रभारी बी एन सिंह से भी जानकारी प्राप्त की और जल्द खुलासा करने को कहा उन्होंने कहा कि हमारे उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री माननीय योगी आदित्यनाथ जी महाराज पहले पीठाधीश्वर हैं उसके बाद मुख्यमंत्री हैं इसलिए मठ मंदिरों से भगवान के विग्रह मूर्तियों का चोरी होना चिंता का विषय है और जल्द खुलासा ना होने पर माननीय मुख्यमंत्री जी के संज्ञान में यह प्रकरण लाया जाएगा। उनके साथ में दिनेश शुक्ला पूर्व प्रधान इटियाथोक बबलू प्रधान भंवरी पुर सहज राम तिवारी प्रधान हरैया झूमर मनोज द्विवेदी छोटे पांडे सरस शुक्ला मुन्ना तिवारी परसिया मनोज शुक्ला माधव राज तिवारी सत्यदेव मिश्रा अमृतलाल मिश्रा दादू महाराज आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।
17:33

जाने,भूमि भवन संबंधित मुहूर्त शास्त्र - के सी शर्मा*





*जाने,भूमि भवन संबंधित  मुहूर्त शास्त्र - के सी शर्मा*


*भूमि क्रय-विक्रय करने का मुहूर्त*
घर बनाने हेतु , प्रॉपर्टी कार्य हेतु , जमीन क्रय-विक्रय कार्य हेतु या कृषि कार्य हेतु क्रय-विक्रय हेतु
अश्विनी मृगशिरा पुनर्वसु पुष्य हस्त चित्रा स्वाति रेवती नक्षत्र शुभ होती है।

*गृह निर्माण हेतु नींव खोदने का मुहूर्त*

जब सूर्य सिंह राशि में हो ,कन्या में या तुला में हो तो
   अग्निकोण [ दक्षिण पूर्व ] से नीव खोदना आरम्भ करना चाहिए।

जब सूर्य वृश्चिक धनु या मकर राशि से ऊपर हो
तो ईशानकोण [ उत्तर-पूर्व ] से नींव को खोदना चाहिए।

जब सूर्य कुम्भ मीन व मेष में हो तो
नींव वायव्यकोण [ उत्तर-पश्चिम ] से खोदना चाहिए।

जब सूर्य वृषभ मिथुन और कर्क में हो तो
नीव नैश्रृयकोण [ दक्षिण-पश्चिम ] से शुरू करे।

जब सूर्य 5/6/7 राशि में हो तो राहु मुख उत्तर पीठ पश्चिम और पूँछ नैश्रत्यकोण में होता है।

ऐसी दशा में अग्निकोण [ दक्षिण-पूर्व ] से खोदना शुरू करे।

इसीप्रकार
सूर्य की स्थिति को देखते हुए
राहु मुख को छोड़ कर
उपयुक्त दिशा से ही नींव खोदना चाहिए।

*विशेष जानकारी*

*जब भूमि सो रही हो तो नीव नही खोदना चाहिए।*

जब सूर्य नयी राशि में प्रवेश करता है [ संक्रांति ] उससे 5,7,9,10, 21 और 24वें दिन भूमि शयन की स्थिति में होती है अथवा जब किसी दिन चन्द्रमा का नक्षत्र सूर्य के नक्षत्र से 5,7,9,12,19,26वां हो तो भूमि उस दिन भी सोती है।

*गृह निर्माण हेतु नींव खोदने का मुहूर्त*

नींव खुदाई हेतु अधोमुखी नक्षत्र
मूला अश्लेषा विशाखा कृतिका पूर्वाफाल्गुनी पूर्वाषाढ़ा पूर्वभाद्रपद भरणी और मघा शुभ है।
शनि या मंगल के नक्षत्र नही लेने चाहिए।

*नीव खोदने की तिथि*

इस कार्य हेतु मंगलवार के अलावा सभी शुभ दिन होता है।
17:28

राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय डेहरा जोहड़ी, गुहाला में धूमधाम मनाया गया वार्षिकोत्सव




राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय डेहरा जोहड़ी, गुहाला में धूमधाम मनाया गया वार्षिकोत्सव समारोह में पहुंचे पंचायत समिति उम्मीदवार प्रकाश चन्द सैनी ने बताया कि सरपंच श्रीमती पतासी देवी की अध्यक्षता एवं मुख्य विशिष्ट अतिथि कालूराम सैनी उमराव सैनी छगन लाल सैनी एवं  पंचायत समिति  उम्मीदवार  प्रकाश चंद सैनी  रहे
विद्यालय के नन्हे मुन्हे कलाकारों द्वारा प्रस्तुति देकर बहुत  सुंदर कार्यक्रम का आयोजन किया गया।साथ ही विद्यालय में भामाशाह सम्मान कार्यक्रम भी रखा गया। विद्यालय के प्रधानाध्यापक महोदय ने भी सभी  का अभिवादन करते हुए कहा किआप सभी के सहयोग आशीर्वाद और स्नेह से राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय डेहरा जोहड़ी का वार्षिक उत्सव व भामाशाह सम्मान  समारोह का आयोजन किया गया l
*जिसमें सम्मानित होने का अवसर प्राप्त हुआ
      आज तक   के समस्त भामाशाहो का सम्मान  , मेधावी विद्यार्थियों का पारितोषिक वितरण किया गया l
    समस्त भामाशाहो को दिल की गहराइयों से धन्यवाद आभार ,भगवान आप की दौलत को दिन दूनी रात चौगुनी करें जिससे आप  यूं ही सामाजिक सेवा में योगदान दे सकें आपके द्वारा दीया गया हर सहयोग विद्यालय परिवार के लिए अमूल्य है l
                   समय-समय पर विद्यालय परिवार को आपके मार्गदर्शन सहयोग एवं आशीर्वाद की जरूरत रहेगी ।अंत में सभी  का धन्यवाद ...  समस्त स्कूल स्टाफ़ भी ऐसी तरह ही और कड़ी मेहनत करवाने का अनुरोध किया।
और इस आयोजन के उपलक्ष में भामाशाह ओं के द्वारा कुल नगद राशि ₹36400 प्राप्त हुए एवं विद्यालय  प्रबंधक श्री कमलेश कुमार बोरख द्वारा कक्षा 10वीं कक्षा 12 के छात्र छात्राओं को 90% से अधिक अंक प्राप्त करने पर 5100 व 11,000 की नगद पुरस्कार घोषणा की तथा डॉक्टर गंगाराम सैनी नए विद्यालय मैं 500 पौधे लगवाने की घोषणा की तथा युवा शक्ति सेवा सहयोग समिति द्वारा सभी बोर्ड कक्षाएं में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को 551 रुपए की नगद पुरस्कार भेंट करने की घोषणा की विद्यालय के विद्यार्थियों एवं सभी गुरुजन तथा ग्रामीण श्री राम सरपंच प्रतिनिधि शीशपाल सैनी रोहिताश सैनी कालूराम सैनी कैलाश सैनी यादराम सैनी महिंद्र मुकेश मनोहर कैलाश बजरंग देवी सिंह आदि मौजूद रहे
13:40

अजमेर सांसद के मुख्य आतिथ्य में हुआ वार्षिक उत्सव समारोह का आयोजन



 राजकीय  उच्च प्राथमिक विद्यालय रामपुरा ( बुहारू) में गुरुवार को  भामाशाह सम्मान समारोह, सखा संगम व वार्षिकोत्सव कार्यक्रम बड़ी धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ आयोजित किया गया। ब्लॉक स्तरीय भामाशाह सम्मान समारोह के मुख्य अतिथि अजमेर लोकसभा सांसद भागीरथ चौधरी थे,  कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी राजेंद्र कुमार शर्मा ने की। जबकि पूर्व विधायक नाथूराम सिनोदिया,  केंद्रीय सहकारी बैंक अजमेर अध्यक्ष चेतन चौधरी, पंचायत समिति किशनगढ़ प्रधान हनुमान भादू, भाजपा युवा नेता विकास चौधरी, सरपंच संघ अध्यक्ष हरिराम बाना, पंचायत समिति सदस्य विश्राम चौधरी, बुहारू सरपंच रामनारायण जाट , हरमाड़ा सरपंच प्रतिनिधि भागचंद चोट्या एवं बुहारू पीईईओ सहित तकरीबन एक दर्जन भामाशाह व समाजसेवी मंचासीन विशिष्ट अतिथि थे। संस्था प्रधान आनंदी लाल शर्मा ने बताया कि मंचस्थ अतिथियों द्वारा मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलन व माल्यार्पण कर कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत की गई। वार्षिकोत्सव एवं भामाशाह सम्मान समारोह में स्थानीय विद्यालय में आर्थिक एवं भौतिक रूप से सहयोग देने वाले तकरीबन दो दर्जन भामाशाह को कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सांसद भागीरथ चौधरी एवं कार्यक्रम के अध्यक्ष सीबीईओ राजेंद्र कुमार शर्मा द्वारा प्रमाण पत्र एवं प्रतीक चिन्ह भैंटकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम को संबोधित  करते हुए सांसद भागीरथ चौधरी ने कहा की अंगूठा( निरक्षरता ) और घुंघट(महिला विकास)  से केवल शिक्षा ही निजात दिला सकती है। जमाना बदल चुका है इसलिए ग्रामीण लोग भी अपने आप में बदलाव स्वीकार करें। बालक- बालिकाओं को अच्छी शिक्षा प्रदान करने के लिए विद्यालयों में भेजें। सांसद चौधरी ने " बालिका बचाओ  व बालिका पढ़ाओ " के नारे को भी बुलंद करते हुए बालिका शिक्षा पर जोर दिया।मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी राजेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ संस्कारों का होना भी जीवन में अत्यंत आवश्यक है।  शर्मा ने कहा कि बिना शिक्षा के व्यक्ति का सर्वांगीण विकास असंभव है,इसलिए समुदाय के लोगों को शिक्षा के प्रति जागरूक रहकर लड़के - लड़कियों में भेदभाव किए बिना उन्हें शिक्षा प्राप्ति के सुअवसर प्रदान करने चाहिए। कार्यक्रम को युवा भाजपा नेता विकास चौधरी,केंद्रीय सहकारी बैंक अजमेर के अध्यक्ष चेतन चौधरी, पंचायत समिति सदस्य विश्राम चौधरी आदि ने भी संबोधित किया और शिक्षा की उपयोगिता पर प्रकाश डाला। बुहारू ग्राम पंचायत सरपंच राम नारायण जाट ने भी विद्यालय  एवं गांव के संपूर्ण विकास में हर तरह के सहयोग एवं मदद का भरोसा दिलाया। इस अवसर पर विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए गए। जिसमें  स्थानीय विद्यालय के प्रतिभावान विद्यार्थियों ने एक से बढ़कर एक रंगारंग प्रस्तुतियां दी । कार्यक्रम में शामिल सभी अतिथियों एवं विद्यार्थियों तथा संपूर्ण ग्राम वासियों के लिए भोजन व्यवस्था का विद्यालय में ही प्रबंधन किया गया था। सांसद भागीरथ चौधरी ने रामपुरा उच्च प्राथमिक विद्यालय हेतु सांसद कोटे से एक कक्षा- कक्ष निर्माण की मंच से  महत्वपूर्ण घोषणा की । पूर्व विधायक नाथूराम सिनोदिया ने भी राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय रामपुरा को अगले शिक्षा सत्र में राज्य सरकार द्वारा माध्यमिक विद्यालय में क्रमोन्नत करवाये जाने की भी घोषणा की  गई ।  सीबीईओ राजेंद्र कुमार शर्मा द्वारा कार्यक्रम में उपस्थित सभी अतिथियों ,भामाशाहों एवं पूर्व विद्यार्थियों का आभार व्यक्त किया गया । प्रधानाध्यापक आनंदी लाल शर्मा द्वारा कार्यक्रम समापन की घोषणा की गई। मंच संचालन अध्यापक संजय डबरिया ने किया  । भामाशाह एवं वार्षिक उत्सव कार्यक्रम की सफलता  में रामपुरा गांव के समस्त युवा जनों तथा समस्त ग्रामीण द्वारा महत्वपूर्ण भूमिका प्रदान की गई। इस अवसर पर संदर्भ व्यक्ति ओम प्रकाश शर्मा, चंद्र शेखर शर्मा,   प्रधानाचार्य तिलोनिया हरी नारायण चौधरी, प्रधानाध्यापक कांकनीयावास भगवान सहाय मीणा, प्रधानाध्यापिका नयागांव अनीता लांबा, बुहारू बालिका प्रधानाध्यापक राहुल देव चारण, स्थानीय विद्यालय परिवार के सदस्य मनीष महला राजकुमार चौधरी, प्रेमचंद मौर्य,  नीलम कर्थला, स्नेहल पारीक, मनोहर देवी, तथा बुहारू पीईईओ अंतर्गत संचालित समस्त राजकीय विद्यालयों के  , दर्जनों शिक्षक-शिक्षिकाएं  व सैकड़ों बालक बालिकाएं भी कार्यक्रम में उपस्थित थे। वार्षिक उत्सव समारोह में ग्रामीण जनों ने भी बड़ी भारी संख्या में भाग लिया।
07:24

दैनिक राशिफल पण्डित विश्णु जोशी के साथ



 *आज का हिन्दू पंचांग पंडित विष्णु जोशी7905156547* ~ 🌞
⛅ *दिनांक 28 फरवरी 2020*
⛅ *दिन - शुक्रवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2076*
⛅ *शक संवत - 1941*
⛅ *अयन - उत्तरायण*
⛅ *ऋतु - वसंत*
⛅ *मास - फाल्गुन*
⛅ *पक्ष - शुक्ल*
⛅ *तिथि - पंचमी पूर्ण रात्रि तक*
⛅ *नक्षत्र - अश्विनी 29 फरवरी प्रातः 04:03 तक तत्पश्चात भरणी*
⛅ *योग - शुक्ल सुबह 11:20 तक तत्पश्चात ब्रह्म*
⛅ *राहुकाल - सुबह 11:13 से दोपहर 12:40 तक*
⛅ *सूर्योदय - 07:01*
⛅ *सूर्यास्त - 18:41*
⛅ *दिशाशूल - पश्चिम दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण - पंचमी वृद्धि तिथि, राष्ट्रीय विज्ञान दिवस*
 💥 *विशेष - षष्ठी को नीम की पत्ती, फल या दातुन मुँह में डालने से नीच योनियों की प्राप्ति होती है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
               🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *घर में सुख-शांति के लिए* 🌷
🏡 *घर के मुख्य दरवाजा की जो दहलिज होती है | उस दहलिज को रोज सुबह-शाम साफ़ पानी से धो दिया जाय तो उस घर में अंदर आने वाले व बाहर जाने वाले को सुख-शांति और सफलता की प्राप्ति होती है |*
               🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~*
🌷 *गर्मी या सिरदर्द हो तो* 🌷
🌞 *गर्मी है तो एक लीटर पानी उबालो, उबालकर आधा लीटर हो जाये तो उसे  पीने  से गर्मी का प्रभाव शांत हो जायेगा | फिर भी आँखे जलती हैं और गर्मी है तो एक कटोरी में पानी लो मुह में कुल्ला घुमाओ और दोनो आँख  पानी में  डुबो दीजिए आँखो के द्वारा गर्मी खिंच जायेगी, सिरदर्द की बहुत सारी बीमारियाँ इसी से भी भाग जाती है |*
          🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *धन, समृद्धि, सुख और शांति के लिए* 🌷
🙏🏻 *हिंदू धर्म में कुछ चीजें ऐसी मानी गई हैं जिन्हें घर में जरूर रखना चाहिए। कहा जाता है जहां भी ये मंगल प्रतीक रखें जाते हैं। उस घर में हमेशा बरकत बनी रहती है।  साथ ही धन, समृद्धि और सुख की गंगा बहने लगती है। यही कारण है कि इन चीजों को पूजा की जगह रखने का अधिक महत्व  है आइए जानते हैं कौन सी हैं वो चीजें...*
👉 *इन 5 चीजों को घर में रखने से होगी धन, समृद्धि,सुख और शांति*
1⃣ *कलश*
*कलश सुख और समृद्धि का प्रतीक होता है  पूजन के स्थान पर रोली,  कुम -कुम से अष्टदल कमल की आकृति बनाकर उस पर यह मंगल कलश रखा जाता है । इससे घर में समृद्धि रहती है ।*
2⃣ *स्वस्तिक*
*स्वस्तिक को शक्ति, सौभाग्य, समृद्धि और मंगल का प्रतीक माना जाता है ।हर काम में इसको बनाया जाता है ।इसलिए घर के पूजन स्थल पर धातु का बना स्वस्तिक जरूर रखना चाहिए ।*
3⃣ *शंख*
*शंख समुद्र  मंथन के समय प्राप्त चौदह अनमोल रत्नों में से एक है । लक्ष्मी साथ उत्पन्न होने के कारण यह उनको प्रिय है ।इसलिए घर के पूजन स्थल पर इसे जरूर रखना चाहिए ।*
4 👉*दीपक और धूपदान*
*पारंपरिक दीपक मिट्टी का ही होता है ।धूप देने का पात्र भी मिट्टी का होता है ।इस पर उपला रखकर गुड़ और घी की धूप भी दी जाती है । ऐसा करने से घर में हमेशा समृद्धि रहती है ।*
5👉 *घंटी*
*जिन स्थानों पर घंटी बजने की आवाज नियमित आती है वहां का वातावरण हमेशा शुद्ध और पवित्र बना रहता है ।इससे नकारात्मक शक्ति हटती है और समृद्धि के दरवाजे खुलते हैं ।*

💐🙏🏻

*मेष - पॉजिटिव - आर्थिक मामलों में आप एक अच्छी स्थिति का आनंद ले सकते हैं। गुरू की कृपा दृष्टि आप पर बनी रहेगी, जिसके कारण आपके प्रयासों को सफलता मिलेगी। धर्म के प्रति रूचि बहुत बढ़ी रहेगी अतः धर्म और समाज से सम्बंधित कार्य सम्पादित होंगे।*
*नेगेटिव - जीवनसाथी के आपके माता-पिता के साथ संबंध ठीक नहीं हैं तो दोनों पक्षों के साथ बात करके सामंजस्य बिठाने की कोशिश करें। आप अपने शांत और समझदारी पूर्ण व्यवहार से हर काम परेशानी को दूर कर सकते हैं। अपने अधीनस्थ कर्मचारियों से सतर्क रहें।*
*लव -आप अपने प्रियतम से एक पल के लिए भी दूर रहना पसंद नहीं करेंगे और अधिक से अधिक समय उनके साथ बिताएंगे। साथ में घूमने करने के अनेक मौके आएँगे और रोमांटिक पल बिताएंगे साथ में लंच डिनर होगा एक दूसरे को तोहफे देंगे।*
*व्यवसाय - व्यवसाय एवं उन्नति के लिए काफी फायदेमंद साबित होगी। हालांकि, आपकी आमदनी में थोड़ी-सी गिरावट देखने को मिल सकती है।*
*स्वास्थ्य - केतु की उपस्थिति से, गुदा रोग, तथा चोट अथवा दुर्घटना आदि की संभावनाएं अधिक इसलिए सचेत और सावधान रहे तथा वाहन भी सावधानी पूर्वक चलाएँ।*
*भाग्यशाली रंग: गोल्डन, भाग्यशाली अंक: दो*

*वृषभ - पॉजिटिव - पिता और राज्य पक्ष से लाभ का प्रबल योग है, खोई हुई प्रतिष्ठा और पद पुनः प्राप्त होगा। लिए हुए निर्णय सही होंगे। जमीन-जायदाद के मामलों में सफलता मिलेगी। नए वाहन तथा घर की इच्छा भी पूरी होगी। पराक्रम में खूब वृद्धि होगी। घर में कोई शुभ कार्य होगा।*
*नेगेटिव - केतु की स्थिति से बुद्धि, दांपत्य जीवन, कार्य व्यापार, साझेदार, आय सबकुछ प्रभावित रहेगा। तर्कशक्ति नकारात्मक स्तर तक जा सकती है। गर्भवती महिलाओं को विशेष ख्याल रखने की आवश्यकता है। कई बार अकेलेपन का एहसास होगा।*
*लव - कोई मूवी देखेंगे। आज से अनेक बातें होंगी जो आपके प्यार को बढ़ाएंगे। आपका प्रिया भी आपके इस रोमांटिक अंदाज़ से खुश हो जाएगा और वह भी आप पर जी भर कर प्यार लुटायेगा।*
*व्यवसाय - जो जातक मीडिया, मनोरंजन, ओटोमोबाइल के क्षेत्र में हैं, उनको जोरदार सफलता मिलने की संभावना है।*
*स्वास्थ्य - आपको अपने स्वास्थ्य पर अधिक ध्यान देना होगा, क्योंकि रोग स्थान में सूर्य शनि युति में होंगे।*
*भाग्यशाली रंग: हरा, भाग्यशाली अंक: छ*


*मिथुन - पॉजिटिव - करियर एवं शिक्षा के लिए यह समय काफी अनुकूल नजर आ रहा है क्योंकि गुरु आपके प्रयासों को समर्थन प्रदान करेगा। हालांकि उनके लिए कठिन समय है, जो जातक मास्टर डिग्री या उच्चस्तरीय शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं। आपका पूरा प्रयास परिजनों को बहुत सारी सुविधाएं उपलब्ध करने में रहेगा।*
*नेगेटिव - कोई बड़ा निवेश करने के लिए यह समय अनुकूल नहीं है। आपको नौकरी या अन्य कारणों के चलते मानसिक तनाव रह सकता है। उच्च अधिकारी या पिता के साथ वैचारिक मतभेद होने की संभावना है। इस कारण आपको मानसिक तनाव रह सकता है। केवल गुरु का थोड़ा सहयोग रहेगा और वो भी सिर्फ आय के मामले में।*
*लव - प्यार में मान कर चलिए कि आप की पांच अंगुलियाँ घी में होंगी। तो यह तो हुई प्यार की बात लेकिन यदि आप शादीशुदा हैं तो दांपत्य जीवन में तनाव बढ़ाने का कार्य कर सकता है।*
*व्यवसाय - व्यापार में और वाहन चलाते समय अत्यंत सावधानी बरतें। आर्थिक जोखिम उठाने के लिए या कार्य क्षेत्र में नए प्रयोग ना करें।*
*स्वास्थ्य - आपको हड्डी या पसली से संबंधी रोग होने की संभावना बहुत अधिक है।*
*भाग्यशाली रंग: गुलाबी, भाग्यशाली अंक: चार*

*कर्क - पॉजिटिव - पद - प्रतिष्ठा, मान - सम्मान, पदोन्नति, नए कारोबार, शत्रुओं पर सफलता अर्थात लगभग हर जगह कामयाबी कदम चूमेगी। अविवाहित जातक जो विवाह करने के लिए उत्सुक हैं, उनके लिए यह समय काफी अनुकूल है। उनको अपने प्रयास जारी रखने चाहिए।*
*नेगेटिव - परिवार के कुछ सदस्यों का बर्ताव विशेष कर छोटे भाई का बर्ताव आपको अच्छा नहीं लगेगा। इसके पीछे शनि की तीसरे भाव में दृष्टि का प्रभाव रहेगा। कुछ परेशानियां रहने के बावजूद यह समय पारिवारिक मामलों के लिए अच्छा कहा जाएगा।*
*लव - अपने जीवन साथी के *स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें और यदि आपको उनका व्यवहार रूखा भी लग रहा है तो इसे अन्यथा ना लें थोड़ा समय बीत जाने दें।*
*व्यवसाय - आर्थिक तथा व्यवसाय के मोर्चे पर स्थितियां सामान्य रहने की संभावना है। इस समय* *व्यवासाय विस्तार के लिए आपको नए उत्पाद बाजार में उतारने चाहिए एवं नए कार्यालय खोलने चाहिए।*
*स्वास्थ्य - स्वास्थ्य के मामले में आपको किसी भी प्रकार की बड़ी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।*
*भाग्यशाली रंग: हरा, भाग्यशाली अंक: नौ*

*सिंह - पॉजिटिव - सोच बहुत ही सकारात्मक रहेगी, लिए गए निर्णय सही साबित होंगे। शत्रु टिक नहीं पाएंगे। विदेशों से लाभ या विदेश यात्रा का प्रबल योग है। धार्मिक यात्रा या आपके माध्यम से कोई धार्मिक कार्य पूर्ण होगा। जमीन - जायदाद के मामलों में सफलता मिलेगी*
*निगेटिव - अगर आप छात्र हैं तो आपको मेहनत करने के लिए तैयार रहना चाहिए, क्योंकि शनि आपके अभ्यास स्थान में हैं। भाई-बहनों का सहयोग तो मिलेगा परन्तु विवाद भी संभव है, विशेषकर बड़े भाई से। संतान और गर्भवती महिलाओं के लिए समय थोड़ा प्रतिकूल रहेगा।*
*लव - आपके जीवन साथी से आपके संबंध काफी बेहतर होंगे लेकिन आपके ससुराल पक्ष और आपके परिवार के बीच में कुछ कहासुनी हो सकती है। ऐसे में आपको स्थिति को संभालना आवश्यक होगा।*
*व्यवसाय - यदि कारोबार विस्तार गति पकड़ने लगे तो आपको दुःसाहस एवं किसी को धन उधार लेने से बचना चाहिए, अन्यथा आप लाभ से वंचित रह सकते हैं।*
*स्वास्थ्य - आपको स्वास्थ्य के मोर्चे पर किसी भी बड़ी दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा।*
*भाग्यशाली रंग: केसरी, भाग्यशाली अंक: पांच*


*कन्या - पॉजिटिव - बृहस्पति के प्रभाव के कारण न केवल पारिवारिक जीवन सुखद रहेगा, बल्कि घर परिवार में किसी शुभ कृत्य का आयोजन हो सकता है। आपने थोड़ी विनम्रता और थोड़ी समझदारी से काम लिया तो पारिवारिक जीवन सुखद रहेगा। दांपत्य जीवन आपका अच्छा रहने वाला है।*
*नेगेटिव - उतावलेपन और अहंकार से दूर रहें। केतु और शनि कई मामलों में परेशानियाँ पैदा करेंगे। आपको अपने भाइयों और मित्रों से अच्छे सम्बंध बनाने होंगे। यदि आपके थोड़ा सा विनम्र होने से संबंध बेहतर होते हैं तो विनम्र बनें। संतान के साथ भी कुछ मनमुटाव हो सकता है।*
*लव - इस दौरान आपका जीवन साथी काफी आध्यात्मिक हो जाएगा और उनका पूजा पाठ में खूब मन लगेगा। धीरे-धीरे आपकी नज़दीकियां बढ़ेंगे और आपका दांपत्य जीवन अच्छा हो जाएगा।*
*व्यवसाय - विदेशी कारोबार से जुड़े लोंगो को अच्छा लाभ का योग है। पिता और उच्च अधिकारीयों का सहयोग मिलेगा। कुछ गुप्त शत्रु नुकसान पहुंचा सकते हैं अतः सतर्क रहें।*
*स्वास्थ्य - समय रहते आप सभी उपचार करेंगे और अपने स्वास्थ्य के प्रति सतर्क रहेंगे तो इन बीमारियों से बचा जा सकता है।*
*भाग्यशाली रंग: लाल*
 *भाग्यशाली अंक: छ*

*तुला - पॉजिटिव - धार्मिक यात्रा के योग बने हुए हैं। यदि आप चाहें तो अपने परिजनों को भी साथ ले जा सकते हैं। घर परिवार में शुभ कृत्य का आयोजन होगा। वैवाहिक जीवन के लिए आने वाला समय काफी शुभ है। गणेश जी कहते हैं कि जिन विवाहित जातकों की रिश्ते संबंधी बात आगे न बढ़ती हो, उनको चिंतित होने की जरूरत नहीं।*
*नेगेटिव - राहु अचानक और अकल्पनीय धन दे सकता है परन्तु उसका अंत अच्छा नहीं होगा। अनावश्यक वाद-विवाद से दुरी बनायें रखें। वाणी बहुत ही दूषित हो सकती है अतः क्रोध में कुछ भी बोलने से पहले अत्यंत सोच-विचार लें। वाहन चलाते समय और यात्रा के दौरान अत्यंत सावधानी बरतें।*
*लव - आपका दायित्व है कि जीवन में अपने प्रेमी के महत्व को समझें और यदि उनके मन में कोई बात खटक रही है तो समय रहते उनसे खुल कर बात करें ताकि उनके मन पर कोई बोझ ना रहे और वह मन से खुश रहे, क्योंकि यदि वह मन से खुश रहेंगे तभी वह आपको खुश रख पाएंगे।*
*व्यवसाय - व्यापार क्षेत्र में बहुत करीबी लोगो से बहुत ही सतर्क रहें अन्यथा बड़ा धोखा मिल सकता है। लम्बी दूरी की यात्रायें और बड़ा निवेश - दोनों से ही बचें।*
*स्वास्थ्य - गंभिर बिमारी से बचने के लिए आप छोटी से छोटी* *स्वास्थ्य समस्या को भी नज़रअंदाज़ ना करें और समय रहते डॉक्टर से परामर्श करें और दवाई खाएं।*
*भाग्यशाली रंग: बादामी, भाग्यशाली अंक: दो*

*वृश्चिक - पॉजिटिव - परिवार में कोई मांगलिक कार्य होने के भी योग बनेंगे। परिवार के विरोध दूर होंगे और परिवार के लोगों का व्यवहार आपके प्रति बहुत अच्छा हो जाएगा। मित्रों और हितैषियों से मदद मिलेगी। आर्थिक लाभ प्राप्ति के लिए भी आपको अच्छा अवसर प्राप्त हो सकता है।*
*नेगेटिव - सावधान रहने की विशेष जरूरत है, क्योंकि इस समय सूर्य कमजोर पड़ेगा। उच्च स्तरीय शिक्षा प्राप्त करने के इच्छुक जातकों के लिए चिंता का कारण बनेगा। पारिवारिक मामलों के लिए यह समय कम अनुकूल है। शनि आपको घरेलू जीवन में कुछ चिंताएं दे सकता है।*
*लव - यदि आप चाहें तो जीवनसाथी को को खुश रखने के लिए कुछ ऐसा करें कि आपके दांपत्य जीवन में ख़ुशियाँ लौट आएं। चाहे उनकी मनपसंद कोई डिश बनाएं या फिर उनकी पसंद की ड्रेस पहनें।*
*_व्यवसाय - गणेशजी आपको थोड़ी विशेष सावधानी बरतने की सलाह देते हैं। यदि आप मनचाही सफलता प्राप्त करने की सोच रहे हैं, तो आपको अधिक मेहनत करने की जरूरत होगी।_*
*स्वास्थ्य - मानसिक तनाव रहने की संभावना है। इसके अलावा, मौसमी बीमारियां आपको परेशान कर सकती हैं।*
*भाग्यशाली रंग: सिल्वर, भाग्यशाली अंक: चार*


*धनु - पॉजिटिव - बाहर की यात्रा इत्यादि का योग बन रहा है, इसलिए यदि विदेश जाने का मन बना रहे हैं या किसी तरह के कामकाज को लेकर यात्रा इत्यादि पर जाना चाहते हैं तो उसके लिए आप प्रयास कर सकते हैं। इस समय में प्रयत्न करने से अचानक धन लाभ प्राप्त होने के अवसर प्राप्त हो सकते हैं।*
*नेगेटिव - करियर एवं शिक्षा के मामले में जातकों को कड़ी मेहनत करने की जरूरत रहेगी। वैवाहिक जीवन से संबंधित मामलों में गणेशजी आपको थोड़ी सी विशेष सावधानी बरतने की सलाह देते हैं। आपको अधिक मेहनत करने की जरूरत रहेगी, यदि आप मनचाही सफलता प्राप्त करने की सोच रहे हैं।*
*लव -कभी-कभी कोई गिफ्ट देना भी प्यार को बढ़ाता है। आप चाहे तो साथ में खाना खा सकते हैं या फिर उन्हें कहीं बाहर खाना खिलाने ले जाएं। यह ऐसे छोटे-छोटे मौके होते हैं उनसे अपनी खुशी दे सकते हैं और उनके मन में छुपी हुई बातों को भी बाहर निकाल सकते हैं।*
*व्यवसाय - नौकरी परिवर्तन की संभावना है। इस समय आप आर्थिक उन्नति की उम्मीद कर सकते हैं। जो जातक व्यवसाय से जुड़े हुए हैं, उनको मिश्रित परिणाम मिलने की उम्मीद है। हालांकि, बहुत बड़ा फेरबदल होने की संभावना नहीं है।*
*स्वास्थ्य - शनि की अष्टम भाव में स्थिति किसी गंभीर बीमारी की शुरुआत का कारण बन सकती है।*
*भाग्यशाली रंग: हरा, भाग्यशाली अंक: दो*

*मकर - पॉजिटिव - परिवार में सुख और शान्ति बनी रहेगी। इन सबके पीछे आपका भी बड़ा श्रेय रहेगा। क्योंकि आप भी बहुत से ऐसे कामों को अंजाम देने वाले हैं जो पारिवारिक जीवन के लिए हितकर हों। घर परिवार में शुभ कृत्य का आयोजन होगा। आप परिवारजनों के साथ आप किसी धार्मिक स्थल की यात्रा कर सकते हैं।*
*नेगेटिव - गणेश जी आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों पर ध्यान देने के लिए आग्रह कर रहे हैं, जैसे कि धन, परिवार एवं चल-अचल संपत्ति। गणेश जी आपको आर्थिक मामलों में सतर्क रहने की सलाह देते हैं। आपको धन मिलने में देरी हो सकती है या धन की आमद धीमी रह सकती है।*
*लव - आपके रिश्ते में किसी प्रकार का कोई बोझ ना रहे और खुलकर एक दूसरे के प्रति प्यार का एहसास कर सकेंगे। यदि आप ऐसा करते हैं तो आप पाएंगे कि आपका जीवनसाथी से बेहतर पहले कभी नहीं रहा जितना अब है। आप को भी इससे अधिक और क्या चाहिए।*
*व्यवसाय - यदि आप हिस्सेदारी में कारोबार करते हैं, तो परेशानी का सामना करने के लिए तैयार रहें।*
*स्वास्थ्य - आपकी सेहत के लिहाज से अधिक अनुकूल नहीं कही जा सकती। लिहाजा आपको अपनी सेहत का ध्यान रखना चाहिए।*
*भाग्यशाली रंग: गुलाबी, भाग्यशाली अंक: एक*

*कुंभ - पॉजिटिव - माता-पिता का आशीर्वाद प्राप्त होने की संभावना हैं इसलिए संतान पक्ष से संतुष्टि अच्छी मिलेगी। संतान से सुख सहयोग इत्यादि प्राप्त होने की संभावना बन रही है। भूमि वाहन इत्यादि का योग अच्छा बन रहा है। राजनीतिक लाभ प्राप्त होने के योग भी अच्छे बन रहे हैं।*
*नेगेटिव - परिवार के किसी सदस्य को लेकर मन में चिंता रह सकती है। आपको चाहिए कि छोटी छोटी बातों पर झगड़ें और विवाद करने से बचें। अपनी नौकरी में बदलाव देखने को मिलेंगे। हालांकि, इससे इस चुनौतीपूर्ण समय से बचने के लिए विशेष सावध रहिए।*
*लव - आपके ससुराल पक्ष में किसी की तबियत बिगड़ जाने से आपको अचानक उनके पास जाना पड़ सकता है। आपको अपने ऊपर संयम रखना चाहिए और धैर्य का परिचय देते हुए समय को शांति पूर्वक गुजार देना चाहिए।*
*व्यवसाय - आर्थिक तौर पर किसी प्रकार का फायदा हो, ऐसा कहना मुश्किल है। शनि के प्रभाव के कारण व्यवसाय में प्रगति की चाल धीमी होने की संभावना है।*
*स्वास्थ्य - स्वास्थ्य और कमजोर हो सकता है, इसलिए समय रहते स्वयं के स्वास्थ्य के प्रति सतर्क हो जाएं और नियमित दिनचर्या का पालन करें।*
*भाग्यशाली रंग: गोल्डन, भाग्यशाली अंक: पांच*


*मीन - पॉजिटिव - यदि आप राजनीति में रुचि रखते हैं तो आप उसके लिए प्रयास कर सकते हैं। माता-पिता से संबंध अच्छे होंगे तथा उनका सहयोग भी प्राप्त होने की संभावना बन रही है। सामाजिक मान सम्मान प्राप्त होने की संभावना बन रही है। इसलिए समाज में अच्छी पकड़ बनाए रखने का प्रयत्न करें*
*नेगेटिव - विषम परिस्थितियों में भी साहस बनाये रखना होगा। किसी करीबी से धोखा मिल सकता है अतः आँख बंद करके किसी विश्वास ना करें। उत्तेजना और क्रोध में कोई भी निर्णय ना लें। आर्थिक मामलों के लिए यह समय काफी दुविधाजनक है क्योंकि आर्थिक मामलों से संबंधित घर के अंदर से केतु गुजर रहा है, जो आपके रास्ते में अड़चन पैदा करेगाज*
*लव - किसी काम में व्यस्तता के चलते आप अपने प्रियतम को इतना समय नहीं दे पाएंगे, जितना वह आपसे उम्मीद करेंगे और जितना आप भी जाएंगे।*
*व्यवसाय - कामकाज से संबंधित आर्थिक लाभ प्राप्ति का योग अच्छा बन रहा है। आपके कार्य* *व्यवसाय से संबंधित अच्छी सफलता का भी योग बन रहा है। इसलिए आप अपने अच्छी दिशा देने का प्रयत्न करेंl*
*स्वास्थ्य - आपको फोड़े, फुंसी, रक्त संबंधी अनियमितताएँ परेशान कर सकती हैं।*
*भाग्यशाली रंग: सफेद, भाग्यशाली अंक: दो*

*जिनका आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं*

*दिनांक 28 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 1 होगा। 2 और 8 आपस में मिलकर 10  होते हैं। इस तरह आपका मूलांक 1 होगा। आप राजसी प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं। आपको अपने ऊपर किसी का शासन पसंद नहीं है। आप साहसी और जिज्ञासु हैं। आपका मूलांक सूर्य ग्रह के द्वारा संचालित होता है। आप अत्यंत महत्वाकांक्षी हैं। आपकी मानसिक शक्ति प्रबल है। आपको समझ पाना बेहद मुश्किल है। आप आशावादी होने के कारण हर स्थिति का सामना करने में सक्षम होते हैं। आप सौन्दर्यप्रेमी हैं। आपमें सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाला आपका आत्मविश्वास है। इसकी वजह से आप सहज ही महफिलों में छा जाते हैं।*

*शुभ दिनांक : 1, 10, 19, 28*

*शुभ अंक : 1, 10, 19, 28, 37, 46, 55, 64, 73, 82*
*शुभ वर्ष : 2022, 2026, 2044, 2053, 2062*

*ईष्टदेव : सूर्य उपासना तथा मां गायत्री*

*शुभ रंग : लाल, केसरिया, क्रीम,*

*कैसा रहेगा यह वर्ष*
*यह वर्ष आपके लिए अत्यंत सुखद रहेगा। अधूरे कार्यों में सफलता मिलेगी। स्वास्थ्य की दृष्टि से यह वर्ष उत्तम रहेगा। पारिवारिक मामलों में महत्वपूर्ण कार्य होंगे। अविवाहितों के लिए सुखद स्थिति बन रही है। विवाह के योग बनेंगे। नौकरीपेशा के लिए समय उत्तम हैं। पदोन्नति के योग हैं। बेरोजगारों के लिए भी खुशखबर है इस वर्ष आपकी मनोकामना पूरी होगी*
06:12

मोरवा पुलिस ने 2 वर्षों से लापता नाबालिका को इलाहाबाद से ढूंढ निकाला



वर्ष 2018 में मोरवा थाना क्षेत्र के गोरबी चौकी से गायब नाबालिका को पुलिस ने अंततः ढूंढ निकाला। मोरवा निरीक्षक *नागेंद्र प्रताप सिंह* की अगुवाई में गोरबी चौकी प्रभारी *संदीप नामदेव* के अथक प्रयासों से यह कार्रवाई संभव हो सकी है। गौरतलब है कि बीते 22 फरवरी को नवागत *पुलिस अधीक्षक श्री टी के विद्यार्थी* द्वारा सिंगरौली शहर से पूर्व में गुम हुए नाबालिक बालक व बालिका को गंभीरता से लेते हुए उनके तुरंत के दस्तायबी के निर्देश दिए गए थे। जिसे गंभीरता से लेते हुए उनके निर्देश के पालन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक *श्री प्रदीप शिंदे* के मार्गदर्शन व एसडीओपी मोरवा *श्री नीरज नामदेव* एवं निरीक्षक *नागेंद्र प्रताप सिंह* के द्वारा गोरबी प्रभारी *संदीप नामदेव* के नेतृत्व में गुम इंसान के दस्तायबी हेतु टीम गठित की गई, जिसके तहत वर्ष 2018 में गुम नबालिका को *खीरी इलाहाबाद* से ढूंढ निकाला गया। बीते दिन मजिस्ट्रेट के सामने नाबालिका का बयान कराकर उसे उसके परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया।

*क्या था पूरा मामला*
जानकारी अनुसार *11 नवंबर 2018* को गोरबी निवासी एक फरियादी परिजनों द्वारा चौकी में अपनी 16 वर्षीय पुत्री के गुम होने की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी, जिसपर मामले में संज्ञान लेते हुए थाना मोरवा में *363 भादवि का अपराध पंजीबद्ध* कर विवेचना में लिया गया था। गायब नाबालिका की दस्तायबी हेतु पुलिस टीम ने कई बार प्रदेश के विभिन्न जिलों के साथ *राजधानी दिल्ली, इलाहाबाद व गुजरात* के कई इलाकों में नाबालिगों की तलाश की गई परंतु हर बार उन्हें नाकामी हाथ लगी। इस पर भी  पुलिस ने आस नहीं छोड़ी और लगातार प्रयास का यह नतीजा रहा की अथक प्रयासों के बाद मुखबिर की सूचना पर नाबालिका को  *इलाहाबाद के खीरी* से ढूंढकर उनके परिजनों को सौंप दिया गया। *2 वर्षों बाद नाबालिका पुत्री को देखकर परिजनों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा* और वह पुलिस की सराहना करते दिखे।

*पुलिस ने कैसे ढूंढना नाबालिका को*
जानकारी अनुसार बीते 2 वर्षों में नाबालिका द्वारा अलग-अलग शहरों से अपने परिवार को संपर्क किया जा रहा था। सायबर सेल की मदद के आधार पर पुलिस विभिन्न जगहों पर नाबालिका को ढूंढ रही थी। पुलिस सूत्रों की माने तो नाबालिका द्वारा दिल्ली के मशहूर *दिल्ली कैटरर* के यहां काम कर रही थी, जिसके आधार पर पुलिस ने कैटरिंग सर्विस से संपर्क साधा और उनके जानकारी अनुसार इलाहाबाद में हो रही एक शादी समारोह में शरीक होने गई नाबालिका को खीरी इलाहाबाद से ढूंढ निकाला।

*बीते वर्ष में 9 युवतियों को किया दस्तयाब*
बीते 1 वर्ष में बरगवां व मोरवा थाने की कमान संभालते हुए *निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह एवं उपनिरीक्षक संदीप नामदेव* द्वारा 9 गुमशुदा युवतियों को ढूंढ लिया गया। इनमें से 5 नाबालिका ऐसी हैं जो झूठे प्रेम जाल एवं अपहरणकर्ताओं के चंगुल में फंसकर अपनी अस्मत भी गंवा चुकी थी। जानकारी अनुसार इनमें से कई ने तो अपने परिजनों से मिलने की उम्मीद भी छोड़ दी थी परंतु यह सिंगरौली पुलिस की सक्रियता का नतीजा रहा कि उन्होंने मध्यप्रदेश के इंदौर, जबलपुर के अलावा राजस्थान, उत्तर प्रदेश समेत अन्य जगहों से ढूंढकर इन्हें अपने परिवार से मिला दिया।

*इस कार्यवाही में इनकी रही भूमिका*
इस कार्यवाही में वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह व उपनिरीक्षक संदीप नामदेव व इनकी टीम के सउनि सुरेश सिंह, प्रआर. अरुण सिंह, आर प्रदीप, विष्णु मआर ज्योति की सराहनीय भूमिका रही है।
06:05

समरसता व सौहार्द को बरकरार रखना सभी का दायित्व





सिंगरौली-
        सिंगरौली पुलिस टीम व तमाम विभाग के साथ सिंगरौली के  लोग बहुत अच्छे हैं। जिले में भरपूर समरसता है, जो दूसरे स्थानो पर बहुत कम देखने को मिलता है। सिंगरौली की समरसता व सौहार्द को बरकरार रखना सभी का दायित्व है। जिले में अच्छी यादें मिली हैं जिन्हें संजोय कर जा रहा हूँ।

       उक्ताशय के उद्गार सिंगरौली जिले से मंडला जिले के लिए  स्थानांतरित पुलिस अधीक्षक अभिजीत रंजन के है ,जिसे उन्होंने एनटीपीसी परियोजना के सूर्या भवन में आयोजित अपने विदाई समारोह में व्यक्त किया। अपने तकरीबन 30 मिनट के उद्बोधन में एसपी श्री रंजन ने कहा कि सिंगरौली के ए एसपी प्रदीप शेंडे व  टी आई मनीष त्रिपाठी, अरुण पांडेय सहित सभी टी आई व चौकी प्रभारियों का  समर्पण व सराहनीय  सहयोग रहा। सिंगरौली की पूरी पुलिस टीम एक बेहतरीन टीम है।  एसपी श्री रंजन ने आगे कहा कि पद की गरिमा अपने स्थान पर है, लेकिन परिस्थितियों के अनुसार एक व्यक्ति काम करता है ना कि पद। सिंगरौली की टीम ने पद के बजाय एक व्यक्ति के रूप में काम किया है। इस दौरान सिंगरौली  कलेक्टर के व्ही एस चौधरी व न्यायधीशों से मिले सहयोग की भी  तारीफ की।

*टीम के साथ रखें इमोशनल अटैचमेंट*

स्थानांतरित एसपी श्री रंजन ने जाते -जाते सिंगरौली पुलिस टीम के ए एसपी व सभी टी आई को सुझाव देते हुए कहा कि अपनी टीम के साथ हमेशा इमोशनल अटैचमेंट रखें साथ ही विभाग के आखिरी कर्मचारी तक को उसके काम का पहचान मिले इसका ध्यान अवश्य रखें। इसके अलावा एसपी श्री रंजन ने सुझाव में कहा कि पुलिस का काम स्ट्रेस का है ऐसे में  भले ही रिमोट एरिया में रहे ,पर प्रसन्नचित रह कर काम करें। अपना पेशेंस ना खोएं  और उल्टा सीधा निर्णय लेने से बचे।

*डी एम ,ए एस पी, आयुक्त, डीएफओ, सीईओ व टी आई ने उद्बोधन से व्यक्त की भावनाएं*

सिंगरौली ए एसपी प्रदीप शेंडे ने अपने स्वागत उद्बोधन में जहाँ एसपी अभिजीत रंजन के 8 माह के सफलतम कार्यकाल का विवरण दिया। कलेक्टर सिंगरौली ने भी एसपी श्री रंजन के बेहतर  ला एण्ड आर्डर की तारीफ की और उनके कार्यकाल में सिंगरौली पुलिस टीम को 99% सफल बताया। सिंगरौली पालिक निगम के आयुक्त शिवेंद्र सिंह कहावत के माध्यम से स्थानन्तरण को बेहतर बताया तो  वहीं डीएफओ विजय सिंह व सीईओ जिला पंचायत ऋतुराज ने इसे सरकारी नौकरी का एक प्रसाशनिक प्रक्रिया बता साथ के अनुभवों को शेयर किया। टी आई मनीष त्रिपाठी व अरुण पांडेय ने भी उपलब्धियों को गिनाया और कहा कि एसपी श्री रंजन चेहरा देख अधीनस्थ कर्मचारियों का दुख दर्द समझ जाते थे। सभी ने उद्बोधन के माध्यम से उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।
विदाई समारोह में एनटीपीसी विन्ध्यनगर के सीआईएसएफ कमांडेंट, एसडीओपी नीरज नामदेव, जेपी पॉवर के रजनीश गौर, फैमिली जिला न्यायालय के न्यायधीश ऋतुराज बसंत सहित सभी थानों के टी आई ,चौकी प्रभारी व मीडिया साथी मौजूद रहे।
05:57

उर्वरक के लिए किसानों को नहीं भटकना पड़ेगा: अमित द्विवेदी



सिंगरौली 27 फरवरी। म.प्र.कांग्रेस कमेटी के प्रदेश सचिव अमित द्विवेदी ने प्रदेश सरकार के साथ-साथ जिला प्रशासन के सार्थक प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि कमलनाथ सरकार के बदौलत जिले के अन्नदाताओं को एक बड़ी सौगात मिली है। अन्नदाताओं को अब उर्वरक के लिए दर-दर नहीं भटकना पड़ेगा और उन्हें 40 से 50 रूपये अन्य वर्षों की तुलना में अब कम दाम पर उर्वरक समितियों के माध्यम से मुहैया कराया जायेगा। उन्होंने आगे कहा कि बरगवां रेलवे स्टेशन पर फर्टिलाईजर के लिए पहली रैक पहुंची। जहां 3 हजार 59 हजार मैट्रिक टन समितियों में पहुंचाने का काम जिला प्रशासन के द्वारा युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। श्री द्विवेदी ने प्रदेश सरकार के मुखिया कमलनाथ के कामकाज का बखान करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री बातों में कम काम पर ज्यादा भरोसा करते हैं। उन्होंने बरगवां में फर्टिलाईजर की पहली रैक भिजवाकर यह साबित कर दिया कि किसानों के लिए संवेदनशील हैं। श्री द्विवेदी ने इसका श्रेय मुख्यमंत्री के साथ-साथ प्रदेश के कृषि मंत्री सचिन यादव, सिंगरौली जिले के प्रभारी मंत्री प्रदीप जायसवाल व पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल के अलावा कलेक्टर केव्हीएस चौधरी को दिया है। 

Thursday, 27 February 2020

06:48

सामाजिक एवं विकास कार्यो के लिए श्री गौतम को सांसद अजय प्रताप सिंह ने किया सम्मानित


सिंगरौली-पत्रकार कार्यकर्ता संघ मध्यप्रदेश के प्रांतीय अधिवेशन में मुख्य
अतिथि के रुप में बैढ़न(सिंगरौली)  में शिरकत करने आए सांसद राज्यसभा व महामंत्री म.प्र.भाजपा अजय
प्रताप सिंह ने क्षेत्रीय रेल परामर्श दात्री समिति रेलवे बोर्ड के सदस्य एवं
उच्च शिक्षा एवं विकास समिति के अध्यक्ष एस.के.गौतम को समाज सेवा एवं विकास
कार्यो में इनके योगदान के लिए शाल,स्मृति चिन्ह एवं प्रशस्ति पत्र देकर
सम्मानित किया। अपने सम्मान पर श्री गौतम ने पत्रकार संघ का आभार प्रकट करते
हुए कहा कि आपने सासंद द्वारा सम्मानित कराकर मुझे गौरवान्वित किया है। इसके
लिए मै आपका तथा सांसद जी  का तहेदिल से आभार प्रकट करता हूं।  उन्होने पत्रकार
बन्धुओ से अनुरोध किया कि सांसद द्वारा दिए उदबोधन के क्रम में महिला
पत्रकारो की पत्रकारिता में भूमिका बढ़ाये। श्री गौतम ने सिंगरौली जिले में
कृषि विज्ञान केन्द्र तथा जवाहर नवोदय विद्यालय खुलवाने तथा माड़ा की गुफाओं
को इको टूरिज्म के रुप में विकसित करवाने के अलावा रेलवे की विकास परक योजनाओं
रेल लाइनों का दोहरीकरण,विद्युतीकरण में विशेष भूमिका निभाई है। तथा सिंगरौली
जिले में मेडिकल व माईनिंग कॉलेज खोले जाने हेतु निरंतर प्रयास कर रहे हैं।
...
[2/26, 9:27 PM] के सी शर्मा: श्री एस0 के0 गौतम को सम्मानित करते सांसद अजय प्रताप सिंह। साथ में विधायक सुभाष वर्मा।
06:38

ब्लॉक स्तरीय भामाशाह सम्मान एवं वार्षिकोत्सव कार्यक्रम आयोजित


  •  राजकीय  उच्च प्राथमिक विद्यालय फलौदा ( तिलोनिया) में बुधवार को ब्लॉक स्तरीय भामाशाह सम्मान  समारोह व वार्षिकोत्सव कार्यक्रम बड़ी धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ आयोजित किया गया । पूर्व छात्र मिलन (सखा संगम )कार्यक्रम भी समारोह का ही एक हिस्सा था। ब्लॉक स्तरीय भामाशाह सम्मान समारोह के मुख्य अतिथि उपखंड अधिकारी देवेंद्र कुमार यादव (आईएएस) थे,  कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी राजेंद्र कुमार शर्मा ने की। जबकि तिलोनिया ग्राम पंचायत सरपंच नंदलाल भादू ,अतिरिक्त मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी ( प्रथम) मोहनलाल ढाका, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के वरिष्ठ प्रबंधक पंकज अग्रवाल,  समाज सेवी गिरधर अमरवानी, एस डब्ल्यू आर सी के भगवत नंदन सेवदा , समाजसेवी बालकिशन मूंदड़ा, सहित तकरीबन दो दर्जन भामाशाह व समाजसेवी मंचासीन विशिष्ट अतिथि थे। संस्था प्रधान जगमाल गुर्जर ने बताया कि मंचस्थ अतिथियों द्वारा मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलन व माल्यार्पण कर कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत की गई। ब्लाक स्तरीय सम्मान समारोह में स्थानीय विद्यालय सहित आसपास के अन्य विद्यालयों में आर्थिक एवं भौतिक रूप से सहयोग देने वाले तकरीबन 10 अति विशिष्ट भामाशाहों एवं 23 विशिष्ट भामाशाहों का सम्मान किया गया। मुख्य अतिथि एसडीएम यादव एवं कार्यक्रम के अध्यक्ष सीबीईओ शर्मा द्वारा समस्त भामाशाहों, पूर्व विद्यार्थियों को डिजिटल प्रमाण पत्र एवं प्रतीक चिन्ह देखकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम को संबोधित  करते हुए एसडीएम देवेंद्र कुमार यादव ने कहा की हमारी भारतीय संस्कृति में सदा से ही दान का विशेष महत्व रहा है। दान लेना या देना हमारे यहां कोई नई बात नहीं है। क्योंकि दान लेने व देने का प्रचलन हमारे यहां प्राचीन काल से ही चला आ रहा है। महाराणा प्रताप व भामाशाह के कार्यकाल का  उदाहरण देते हुए उपखंड अधिकारी ने बताया कि भामाशाह के पास सब कुछ था लेकिन उनके पास उसे देने की बलवती इच्छा भी थी। इसलिए उन्होंने मातृभूमि और धर्म के रक्षार्थ अपनी संपूर्ण धन- दौलत महाराणा प्रताप को भेंट कर दी। इसलिए दान के साथ साथ देने की इच्छा भी प्रबल होना जरूरी है। उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में दिया गया दान किसी महादान से कम नहीं हैं। क्योंकि वह हमारी नई पीढ़ी के भविष्य को संवारने के साथ-साथ उसकी दशा व दिशा तय करेगा । उन्होंने स्वयं का उदाहरण देते हुए बताया कि वे भी बचपन में किसी दूसरे व्यक्ति के द्वारा दान में दी गई किताबों के माध्यम से पढ़े लिखे और आगे बढ़े हैं। मेरी मां दूसरे के द्वारा दी गई किताबों से मुझे पढ़ाया करती थी। मेरे पढ़ने के बाद फिर हम भी उन किताबों को दूसरों को दान स्वरूप भैंट कर दिया करते थे।  । सीबीईओ शर्मा ने कहा कि बिना शिक्षा के व्यक्ति का सर्वांगीण विकास असंभव है,इसलिए समुदाय के लोगों को शिक्षा के प्रति जागरूक रहकर लड़के - लड़कियों में भेदभाव किए बिना उन्हें शिक्षा प्राप्ति के सुअवसर प्रदान किये जाने चाहिए। अतिरिक्त मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी मोहनलाल ढाका ने भी ग्रामीण जनों से विद्यालय विकास में पूर्ण सहयोग देने एवं विद्यालय में नामांकन बढ़ोतरी हेतु लोगों को बखूबी प्रेरित किया। तिलोनिया ग्राम पंचायत सरपंच नंद लाल भादू ने भी गांव एवं विद्यालय के  विकास में हर संभव सहयोग एवं मदद का भरोसा दिलाया। इस अवसर पर विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए गए। जिसमें  स्थानीय एवं अन्य विद्यालय के प्रतिभावान विद्यार्थियों ने एक से बढ़कर एक रंगारंग प्रस्तुतियां दी । कार्यक्रम में शामिल सभी अतिथियों एवं विद्यार्थियों तथा अन्य लोगों हेतु भोजन व्यवस्था भी स्थानीय भामाशाहों द्वारा सम्मिलित रूप से की गई।  तिलोनिया सेंटर द्वारा विद्यालय में सौलर ऊर्जा प्लांट लगाने और नवरंग इलेक्ट्रॉनिक्स किशनगढ़ द्वारा फलौदा विद्यालय को कंप्यूटर भैंट करने की  महत्वपूर्ण घोषणा भी की गई। समारोह के समापन पर प्रधानाध्यापक जगमाल गुर्जर द्वारा कार्यक्रम में उपस्थित सभी अतिथियों ,भामाशाहों एवं पूर्व विद्यार्थियों का आभार व्यक्त किया गया । मंच संचालन की जिम्मेदारी व्याख्याता अशोक शर्मा एवं अध्यापक संजय डबरिया द्वारा संयुक्त रूप से निभाई गई । इस अवसर पर संदर्भ व्यक्ति ओम प्रकाश शर्मा, चंद्र शेखर शर्मा, तथा तिलोनिया पीईईओ अंतर्गत संचालित समस्त राजकीय विद्यालयों के संस्था प्रधान , दर्जनों शिक्षक-शिक्षिकाएं तथा सैकड़ों बालक बालिकाएं भी उपस्थित थे। वार्षिक उत्सव समारोह में ग्रामीण जनों ने भी बड़ी भारी संख्या में भाग लिया।

Wednesday, 26 February 2020

08:54

आज का हिन्दू पंचांग पंडित विष्णु जोशी के साथ



 *आज का हिन्दू पंचांग पंडित विष्णु जोशी 7905156547* ~ 👁

🙏
⛅ *दिनांक 26 फरवरी 2020*
⛅ *दिन - बुधवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2076*
⛅ *शक संवत - 1941*
⛅ *अयन - उत्तरायण*
⛅ *ऋतु - वसंत*
⛅ *मास - फाल्गुन*
⛅ *पक्ष - शुक्ल*
⛅ *तिथि - तृतीया 27 फरवरी प्रातः 04:11 तक तत्पश्चात चतुर्थी*
⛅ *नक्षत्र - उत्तर भाद्रपद रात्रि 10:08 तक तत्पश्चात रेवती*
⛅ *योग - साध्य सुबह 09:35 तक तत्पश्चात शुभ*
⛅ *राहुकाल - दोपहर 12:40 से दोपहर 02:06 तक*
⛅ *सूर्योदय - 07:03*
⛅ *सूर्यास्त - 18:40*
⛅ *दिशाशूल - उत्तर दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण -
 💥 *विशेष - तृतीया को परवल खाना शत्रुओं की वृद्धि करने वाला है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
       
🌷 *विघ्न- बाधाओं से मुक्ति हेतु* 🌷
🙏🏻 *‘श्री’ माने सौंदर्य, ‘श्री’ माने लक्ष्मी, ‘श्री’ माने ऐश्वर्य, ‘श्री’ माने सफलता | ईश्वर के रास्ते चलने पर किसीके जीवन में विघ्न-बाधाएँ हों तो ‘श्री ॐ स्वाहा |’ इस मंत्र की एक माला रोज करने से विघ्न-बाधाएँ नष्ट होती हैं |*
              🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~*

🌷 *किसी की मृत्यु के वक्त* 🌷
🙏🏻 *कहीं भी मृत्यु हो गई तो उसका तुम भला करना | तुलसी की सुखी लकड़ीयाँ अपने घर में रख लो | कही भी अपने अड़ोस- पड़ोस में किसी की मृत्यु हुई तो उसके होठों पर, आँखों पर, शरीर पर, छाती पर तुलसी की सुखी लकड़ीयाँ थोड़ी रख लो और तुलसी की लकड़ी से उसका अग्निदान शुरू करो |*
🙏🏻 *उसका कितना भी पाप होगा, दुर्गति से रक्षा होगी, नरकों से रक्षा होगी अथवा तुलसी की लकड़ीयाँ न हो तो तुलसी की माला उसके गले में डाल दो, शव के.. मुर्दे के.. तो भी उसको राहत मिलेगी कर्मबंधन से |*
🙏🏻 *तुलसी के पत्ते उसके मुहँ में डाल दो | तुलसी का पानी जरा छिटक दो | हरी ॐ ॐ ॐ.. का कीर्तन कराओ | फिर हास्य न कराओ | हरी ॐ ॐ.. शांति ॐ.. तुम आत्मा हो | तुम चैतन्य हो | तुम शरीर नहीं हो | शरीर बदलता है | आत्मा ज्यों का त्यों | ॐ ॐ.. कुटुम्बियों को मंगलमय जीवन मृत्यु पुस्तक पढावो और कुटुंबी उसके लिए बोले क्योंकि मृतक व्यक्ति सवा दो घंटे के बाद मूर्छा से जगता है, जैसे आप मुर्दे को देखते हो, ऐसे ही वो अपने मुर्दे शरीर को देखता है | तो सूचना दो | तुम शरीर नहीं हो.... तुम अमर आत्मा हो | मरनेवाले तुम नही हो|*
🙏🏻 *पिताजी,भाई,पड़ोसी जो भी हो मृत व्यक्ति का नाम ले के ये तो शरीर का नाम है आप अनाम है | शरीर साकार है, आप निराकार है | शरीर जड़ था तुम्हारे बिना भगू भाई ! मानो भगू भाई मर गए | ॐ ॐ.. आपने मृतक व्यक्ति की बड़ी भारी सेवा कर दी | उसके विचारों में आत्मज्ञान भरने का महापुण्य किया है |जो आत्मज्ञान देता है, वो तो  ईश्वर रूप हो जाता है | आपका आत्मा तो ईश्वर रूप है ही है | कोई भी मर जाए, चाहे दुश्मन मर जाए, वैर मत रखो | उसकी सदगति हो, उसका भला हो |*
🙏🏻🌷🌻🌹🍀🌺🌸🍁💐🙏🏻
*फसा हुआ धन वापिस लेने के लिए*
*1: अपना गुरु और शुक्र मजबूत करें*

*2:पितृ दोष दूर करें*

*3:ऐसा माना जाता है कि पीली कौड़ी माँ लक्ष्मी जी का प्रतिनिधित्व करती है। इसलिए पाँच पीली कौड़ी पूजा के स्थान पर रख दें। इससे आपका फंसा हुआ धन वापस आने लगेगा।*

*मंगल एवं बुधवार को क़र्ज़ का लेनदेन न करें। शास्त्रों में ऐसा कहा जाता है कि मंगलवार को कभी क़र्ज़ नहीं लेना चाहिए। इस दिन क़र्ज़ लेने वाला व्यक्ति हमेशा क़र्ज़ के बोझ तले दबा रहता है। वहीं बुधवार के दिन कभी उधार नहीं देना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इस दिन दी गई उधारी के वापस आने के योग कम होते हैं।*
*11 लौंग, 11 साबुत नमक की डली को नीले कपड़े में बांध दें और उस व्यक्ति का ध्यान करते हुए रात्रि 10 बजे के आस-पास किसी चौराहे पर जाकर चुपचाप इसे रख कर आ जाए। ऐसा करने से दिया हुआ धन वापिस मिलने लगेगा। यह फंसा हुआ धन प्राप्ति का सरल उपाय है।*

  *मेष*
*पॉजिटिव - पारिवारिक सहयोग प्राप्त होने की संभावना अच्छी पाई जाती है। पारिवारिक सहयोग से घर गाड़ी इत्यादि प्राप्त होने की संभावना पाई जाती है। कामकाज के क्षेत्रों में भी पारिवारिक सहयोग प्राप्त हो सकता है। घर परिवार में मधुर संबंध बनाए रखने का प्रयास सफल हो सकता है।*
*नेगेटिव - बेवजह यात्राएं करना भी ठीक नहीं होगा। जोखिम उठाने वाली प्रवृतियों पर भी अंकुश लगाने की आवश्यकता है। जो लोग विदेश या दूर जाकर पढाई करना चाह रहे हैं उनको उनकी मेहनत के अनुरूप परिणाम नहीं मिल पाएंगे।*
*लव - आपका जीवनसाथी आपको मन ही मन बहुत पसंद करेगा और आपको खुश करने के तरीके ढूंढेगा चाहे वह आपकी पसंद का भोजन बनाना हो या आपके साथ कहीं घूमने जाना या आपकी पसंद की ड्रेस पहनना।*
*व्यवसाय - यदि आपका पैसा कहीं रुका हुआ है तो थोडे से प्रयास से उसकी प्राप्ति हो सकती है। कुल मिलाकर यह समय आर्थिक मामलों के लिए अनुकूल रहेगा। आपके काम धंधे में बेहतरी आने के कारण आर्थिक स्थिति में भी बेहतरी आने की उम्मीद है।*
*स्वास्थ्य - पैरों में दर्द कि शिकायत रह सकती है।*
*भाग्यशाली रंग: केसरी, भाग्यशाली अंक: तीन*

      *वृष*
*पॉजिटिव - माता-पिता भाई-बंधु सबके साथ विचारधारा एक दूसरे के अच्छे हो सकते हैं। तथा किसी भी काम काज में एक दूसरे के प्रति सहयोग की भावना होने से घर में खुशी का माहौल हो सकता है। वैवाहिक मांगलिक कार्य इस माह में होने की संभावना पाई जाती है।*
*नेगेटिव - कडी मेनत करने वालों को उत्तम परिणामों की प्राप्ति होगी लेकिन अध्ययन में लापरवाही करने वालों को रुकावट का सामना करना पड सकता है। वर्तमान की कुछ बहुत अच्छी लगने वाली बातें आने वाले कल में बड़े दुःख का कारण बन सकती हैं। आर्थिक मामलों में जोखिम ना उठायें।*
*लव - आपके अंतरंग संबंधों में वृद्धि करेगी लेकिन ध्यान रखें यदि आपका प्रियतम किसी बात में आप का विरोध करता है तो उनकी बात को महत्व दें तभी इस रिश्ते में बराबरी का दर्जा एक दूसरे को आप दे पाएंगे और आपका रिश्ता अच्छे से चलेगा।*
*व्यवसाय - कहीं से अचानक कोई बडा लाभ भी हो सकता है। लेकिन ऐसा भी हो सकता है कि इस वर्ष आप कोई बैंक बैलेंस न बना पाएं। इसके पीछे कारण यह हो सकते है कि आप कोई सम्पत्ति खरीद सकते हैं या कहीं पूंजी निवेश कर सकते हैं।*
*स्वास्थ्य - नियमित रूप से व्यायाम करके आप खुद को चुस्त-दुरुस्त बनाए रख सकते हैं और साथ ही साथ खान-पान पर भी ध्यान बनाए रखें।*
*भाग्यशाली रंग: हरा, भाग्यशाली अंक: छ*

*मिथुन*
*पॉजिटिव - घर परिवार में आपसी सामंजस्य अच्छा रहेगा। किसी भी कार्य को करने का प्रयास सफल हो सकता है। आपसी सामंजस्य से घर का विकास अच्छा हो सकता है। तथा समय के अनुसार अच्छी भाग्य उन्नति हो सकती है। घरेलू कार्यों में सबकी सहभागिता हो सकती है।*
*नेगेटिव - भाग्य पक्ष कमजोर रहने के कारण समस्याओं को सुलझाने में थोड़ा अधिक प्रयास करना होगा। बहुत अधिक खर्च या अचानक अधिक धन हानि का योग बना हुआ है। सोच और निर्णय लेने में तीव्रता रहेगी अर्थात निर्णय लेने में शीघ्रता करेंगे जिसका परिणाम उल्टा हो सकता है।*
*लव - स्थिति और बिगड़ सकती है। किसी भी विवाद को बढ़ने से पहले ही रोक लेना बेहतर रहेगा अन्यथा आपका प्रेम संबंध टूट भी सकता है।*
*व्यवसाय - आपकी आमदनी में निरंतरता बनी रहेगी। आमदनी के किसी नए श्रोत के मिलने की भी उम्मीद है। किसी व्यापार या व्यवसाय को शुरु करने में खर्चे हो सकते हैं।*
*स्वास्थ्य - ग्रह योग स्वास्थ्य को लेकर अच्छा संकेत नहीं देता इस वजह से आपका स्वास्थ्य कुछ कमजोर होने की संभावना है।*
*भाग्यशाली रंग: काला, भाग्यशाली अंक: दो*

*कर्क*
*पॉजिटिव - आपको माता तथा भौतिक संसाधनों का सुख और सहयोग मिलता रहेगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी. मित्र और भाई सहयोग करेंगे। कन्या संतान का सुख मिलेगा। घर परिवार के कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। सफलता के लिए जादू टोने जैसे क्षेत्रों में विश्वास कर सकते हैं।*
*नेगेटिव - परिवार की किसी स्त्री से आपके मतभेद हो सकते हैं अथवा संबंध बिगड सकते हैं। परिवार के कुछ लोगो का बर्ताव आपके साथ प्रतिकूल भी रह सकता है। यहां तक कि मित्र और रिश्तेदार अपनी कही बातों से मुकर सकते हैं। अत: परिवार से जुडे हर मामले में बहुत सावधानी बरतने की जरूरत है।*
*लव - आपको चाहिए कि अपनी शादीशुदा जीवन को नई संजीवनी देने के लिए अपने जीवनसाथी को किसी रोमांटिक स्थल पर घुमाने के लिए लेकर जाएं जिससे आपके रिश्ते में नजदीकियां बढ़ीं और आप आनंद का अनुभव कर सकें।*
*व्यवसाय - धन को लेकर निरंतरता नहीं बन पाएगी। फ़िर भी बीच-बीच में अचानक धन लाभ होने की संभावना जरूर बन रही है। लेकिन जोखिम उठाने के लिये समय ठीक नहीं है।*
*स्वास्थ्य - आपको अपने *स्वास्थ्य पर पुरजोर ध्यान देना होगा क्योंकि जरा सी लापरवाही भी आपको किसी गंभीर बीमारी का शिकार बना सकती है।*
*भाग्यशाली रंग: पीला, भाग्यशाली अंक: पांच*

*सिंह*
*पॉजिटिव - घर में उत्सव सा माहौल हो सकता है। घर परिवार के साथ एक दूसरे के साथ खुशी-खुशी रह सकते हैं। आपसी सामंजस्य अच्छा होने से घर के कार्यों के साथ साथ बाहर के कामकाज में भी एक दूसरे का सहयोग अच्छा हो सकता है। माता-पिता का आशीर्वाद तथा माता पिता का सहयोग प्राप्त होने की संभावना पाई जाती है।*
*नेगेटिव - आर्थिक मामलों में सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। किसी गंभीर विषय पर जल्दबाजी ना करें। भाग्य पक्ष कमजोर है, गणेश जी की सलाह है कि भाग्य भरोसे कोई काम ना करें। किसी भी कार्य में सफलता थोड़े संघर्ष के बाद मिलेगी, इस बात को समझें और अधिक प्रयास करें।*
*लव - समय अपेक्षाकृत अनुकूल रहने की संभावना होगी और उस दौरान आपकी दांपत्य जीवन में पड़ी हुई धूल छंटने लगेगी और रिश्ते धीरे-धीरे सामान्य होने लगेंगे।*
*व्यवसाय - इस समय पूंजी निवेश करने से मन चाहा परिणाम प्राप्त नहीं होगा। अत: शीघ्र पैसा बनाने के तरीकों पर अच्छी तरह सोच विचार कर अमल करें। यदि किसी को पैसे उधार दे रखे हैं तो उसे प्राप्त करने में कुछ कठिनाइयां आ सकती हैं।*
*स्वास्थ्य - आपको पैरों में दर्द, ऐड़ी में दर्द संबंधित परेशानियां होने की संभावना अधिक है।*
*भाग्यशाली रंग: लाल, भाग्यशाली अंक: नौ*

*कन्या*
*पॉजिटिव - आपको आत्मबल का सहयोग मिलेगा। शिक्षा प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। परिश्रम, पराक्रम, साहस, दुस्साहस का प्रभाव रहेगा.. भाई बहन सहयोग करेंगे... माता तथा भौतिक संसाधनों का सहयोग मिलेगा। घात, अपघात, आकस्मिक धन लाभ संभव हैं।*
*नेगेटिव - यदि शिक्षा के संदर्भ में कोई लुभावना प्रस्ताव मिल रहा है तो यह धोखा भी हो सकता है अत: इनसे सावधान रहें। किसी उल्टे-सीधे पाठ्यक्रम में प्रवेश न लें। आप मानवीय तो हैं लेकिन थोड़े से आवेगी भी हो सकते हैं। किसी सदस्य की बीमारी की वजह से आप चिंतित रह सकते हैं अथवा किसी परिजन से नाराजगी सम्भव है।*
*लव - दांपत्य जीवन में परेशानियां आ सकती हैं। यह वह समय है कि जब आप दोनों को मिलजुलकर अपनी सभी बातों पर ठंडे दिमाग से विचार करना होगा और महत्वपूर्ण बातों को कुछ समय के लिए भविष्य के लिए छोड़ देना होगा।*
*व्यवसाय - स्थितियां बेहतर होंगी और भाग दौड़ रंग लाएगी। व्यापार के विस्तृत होने की संभावना है। अगर नौकरी पेशा हैं तो आपकी पदोन्नति सम्भव है, नौकरी की हालतों में सुधार होगा।*
*स्वास्थ्य - आपको अनिद्रा, नेत्र विकार, शयन सुख में कमी और आमाशय संबंधित परेशानियां होने की संभावना है।*
*भाग्यशाली रंग: आसमानी, भाग्यशाली अंक: एक*
*तुला*
*पॉजिटिव - आप स्वाभिमान और उदारता से काम लेंगे तथा तनाव से दूर रहने का प्रयास करेंगे। मित्रों का सहयोग मिलेगा। दूर के संबंधों का लाभ मिलेगा। सार्वजनिक कार्यों से यात्रा संभव है। यात्रा में धनलाभ के साथ सम्मान भी मिलेगा। धार्मिक गतिविधियों में भागीदारी संभव है।*
*नेगेटिव - शिक्षा प्राप्ति के प्रयासों में अधिक प्रयासों के बाद कुछ सफलता मिलेगी। माता और भौतिक संसाधनों के सुख में असंतोष रहेगा। किसी स्वजन के बीमार या कर्जदार होने के चलते आपको कुछ खर्चे करने पड़ सकते हैं। खर्चे कमाई से अधिक रह सकते हैं। आपको किसी भी तरह की लापरवाही बरतना ठीक नहीं रहेगा।*
*लव - छोटी-छोटी बातों पर बात का बतंगड़ बन सकता है और बात बढ़ सकती है। आप और आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य भी इस दौरान पीड़ित रहने की संभावना होगी।*
*व्यवसाय - नौकरीपेशा लोगों के लिए समय शूभ रहेगा, उनकी अधिक मेहनत और लगन के चलते उनकी पदोन्नति सम्भव है। आप नए उद्यम शुरू करेंगे। आमदनी में इजाफा स्पष्टरूप से प्रतिक्षित है। मित्रों और हितैषियों से खूब मदद मिलेगी।*
*स्वास्थ्य - आपको विशेष रूप से आरोग्य के हरेक पहलु पर ध्यान देना चाहिए ताकि कोई भी आपको अपनी चपेट पर ना ले पाए और आप स्वस्थ बने रहें।*
*भाग्यशाली रंग: नीला, भाग्यशाली अंक: चार*

*वृश्चिक*
*पॉजिटिव - घर, परिवार या जन्मस्थान पर स्थितियां सौहार्दपूर्ण बनी रहेंगी। जीवनसाथी का सहयोग या प्रभाव बना रहेगा जिससे सभी कार्यों में सहजता या सरलता बनी रहेगी। धन संपत्ति के कार्यों में ससुराल एवं जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। साहस और पराक्रम का प्रभाव रहेगा।*
*नेगेटिव - यात्रायें बहुत फलदायी नहीं होंगी, अतः बहुत अनिवार्य ना हो तो यात्रा ना करें। सचेत कर रहा है कि शेयर बाज़ार में सावधानी से निवेश करें। शत्रुओं को बहुत ही प्रभावशाली ढंग से दबाने में सक्षम होंगे, लेकिन अपने से उच्च अधिकारीयों से तनाव - विवाद भी हो सकता है। सलाह है कि थोड़ी सतर्कता बरतें ।*
*लव - शनि और सूर्य की स्थिति विरोधाभास की स्थिति उत्पन्न करेगी और इससे आपके दांपत्य जीवन में क्लेश की संभावना रहेगी और आप एक दूसरे को समझ पाने में असमर्थ रहेंगे।*
*व्यवसाय - आर्थिक मामलों के लिए यह समय अच्छा प्रतीत हो रहा है। कुछ प्रतिस्पर्धी अडचने पैदा करने की कोशिश कर सकते हैं लेकिन आप उन पर नियंत्रण पा लेंगे। आप अपने लक्ष्य से भ्रमित नहीं होंगे और अपने काम को पूरा करके ही रहेंगे।*
*स्वास्थ्य - सूर्य का गोचर राशि में होने पर कुछ अनुकूलता मिलेगी।*
*भाग्यशाली रंग: सिल्वर, भाग्यशाली अंक: सात*

*धनु*
*पॉजिटिव - आपको दूर के संबंधों से लाभ होगा। कार्यों के कारण सम्मान बना रहेगा तथा सम्मान में वृद्धि होगी। विरोधी सक्रिय हो सकते हैं, लेकिन विरोधियों के सारे प्रयास विफल जाएंगे। माता की कृपा तथा भौतिक संसाधनों का सुख और सहयोग सहज बना रहेगा।*
*नेगेटिव - पारिवारिक जीवन को लेकर मन कुछ अप्रसन्न रह सकता है अथवा किसी परिजन की बीमारी की वजह से चिंता रह सकती है। जीवनसाथी से बहुत अधिक मतभेद हो सकता है अतः प्रयास करें कि तनाव की वजह आप ना बने। यात्रायें कष्टकारी होंगी अतः जबतक अति अनिवार्य ना हो यात्रा ना करें।*
*लव - आपका प्रियतम आपको हर तरह से स्पेशल फील करवाएगा। प्यार की मीठी मीठी बातों में समय कैसे निकल जाएगा आपको पता भी नहीं चलेगा। यदि आप शादीशुदा हैं तो दांपत्य जीवन में काफी चुनौतीपूर्ण रहने वाला है।*
*व्यवसाय - व्यापार में बदलाव या नौकरी की पदोन्नति की संभावना है। आप सम्मान और प्रतिष्ठा प्राप्त करेंगे। इस अवधि में आपका अपने प्रति विश्वास आपको लगातार विजय दिलायेगा।*
*स्वास्थ्य - स्वास्थ्य कमजोर बना रहेगा क्योंकि सप्तमेश का आपकी राशि में आना भी अधिक अनुकूल संकेत नहीं है।*
*भाग्यशाली रंग: बादामी, भाग्यशाली अंक: एक*
*मकर*
*पॉजिटिव - तर्क, बौद्धिक क्षमता या वक्तव्य का प्रभाव पड़ेगा। बौद्धिक क्षमता या बौद्धिक स्तर के कारण पहचान और प्रतिष्ठा के साथ जन्म स्थान पर आदरणीय स्थान मिलेगा। भाग्य का सहयोग भी सहयोग करेगा। साहस और परिश्रम के साथ भाई बहनों से सामंजस्य में कमी के बाद भी सहयोग बना रहेगा।*
*नेगेटिव - कोशिश करें कि आपके भीतर अहंकार युक्त भावनाएं न पनपने पाएं। गुरूजनों और माता पिता से संबंधों को और बेहतर बनाने की कोशिश करें। भाई-बहनों से थोड़ा मनमुटाव हो सकता है विशेष कर बड़े भाई से। धन की समस्या हावी रहेगी, भाग्य भी उलझा हुआ रहेगा।*
*लव - यदि आप अपने प्रियतम के प्रति समर्पित हैं और इस रिलेशन को गंभीरता से ले रहे हैं तो आपके जीवन में अब तक के सबसे बढ़िया दिनों में से एक रहने वाला है।*
*व्यवसाय - व्यापार-व्यवसाय में लाभ प्राप्त कर सकेंगे। आपकी आमदनी के श्रोतों में बढोत्तरी होगी आप बचत करने में भी कामयाब रहेंगे। कहीं से अचानक और बहुत अधिक मात्रा में धन का आगमन हो सकता है।*
*स्वास्थ्य - आज का दिन आपको स्वास्थ्य के प्रति सजग रहने के लिए चेतावनी दे रहा है।*
*भाग्यशाली रंग: केसरी, भाग्यशाली अंक: चार*
*
*कुंभ*
*पॉजिटिव - कार्यों में विलंब होगा, लेकिन कार्यों को जिम्मेदारी से निभाने का प्रयास करेंगे। बौद्धिक क्षमता का लाभ मिलेगा। भोग विलास के प्रति रूचि बनी रहेगी। आय में प्रगति होगी। श्रेष्ठ मित्रों का सहयोग मिलेगा। विद्यार्थियों के लिए उपयोगी समय है।*
*नेगेटिव - भौतिक संसाधनों के सहयोग का अभाव रहेगा। अपनी विषयवस्तु पर ध्यान केन्द्रित करने में आप कुछ कठिनाई का अनुभव कर सकते हैं। बेहतर होगा कि चिंताओं से दूरी बनाए रखें। विशेष कर वाहन चलाते समय, आग और बिजली के उपकरणों से बहुत सावधानी बरतने की जरुरत रहेगी, क्योंकि दुर्घटना का योग बन रहा है।*
*लव - एक चेतावनी है, यदि आप अपने प्यार में अच्छे नहीं हैं और अपने प्रियतम को धोखा दे रहे हैं तो उन्हें आप की सच्चाई पता चल सकती है जिससे आपका रिश्ता समाप्त हो सकता है।*
*व्यवसाय - यदि आपके पास कोई पुराना कर्ज है तो आप उससे छुटकारा पा सकते हैं। यात्राओं से जुडी नौकरी करने वालों के लिए भी धनार्जन करने का समय है।*
*स्वास्थ्य - आपका शरीर एक मंदिर है इसकी सुरक्षा करें और अपने आप को* *स्वस्थ बनाए रखने का पूरा प्रयास करें।*
*भाग्यशाली रंग: गुलाबी, भाग्यशाली अंक: छ*

*मीन*
*पॉजिटिव - बौद्धिक क्षमता का व्यक्तित्व, कार्य व्यवहार एवं आचरण पर असर मिलेगा। समय में परिवर्तन का अनुभव होगा। शिक्षा प्राप्ति से संबंधित कार्यों में प्रगति होगी। कुल मिलाकर भाग्य के सहयोग के साथ अच्छा समय व्यतीत होगा। विपरीत समय में जीवन साथी का सहयोग मिलेगा।*
*नेगेटिव - यात्रा के कारण आपको अपने परिवार से दूर रहना पड़ सकता है। घर परिवार को लेकर आपको कुछ खर्चे भी करने पड़ सकते हैं। हालांकि आपके ऐसा करने से आपको यश और धन की प्राप्ति भी होगी। यानी कि कुछ परेशानियां रहने के बावजूद यह वर्ष पारिवारिक मामलों के लिए अच्छा रहेगा।*
*लव - आप जिन से प्रेम करते हैं वह आपके प्यार के कसीदे पड़ेंगे और आप एक दूसरे के साथ अच्छा समय बिताएंगे।*
*व्यवसाय - कार्य- व्यवसाय के लिए यह समय अच्छा रहेगा। कुछ व्यवसायिक और अनुभवी व्यक्तियों से मिलकर आप अपनी कार्यशैली को और अधिक सुधार पाएंगे।*
*स्वास्थ्य - अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना आप के लिए पहली प्राथमिकता होनी चाहिए।*
*भाग्यशाली रंग: गोल्डन, भाग्यशाली अंक: चार*

*जिनका आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं*

*दिनांक 26 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 8 होगा। यह ग्रह सूर्यपुत्र शनि से संचालित होता है। इस दिन जन्मे व्यक्ति धीर गंभीर, परोपकारी, कर्मठ होते हैं। आपकी वाणी कठोर तथा स्वर उग्र है। आप भौतिकतावादी है। आप अद्भु त शक्तियों के मालिक हैं। आप अपने जीवन में जो कुछ भी करते हैं उसका एक मतलब होता है। आपके मन की थाह पाना मुश्किल है। आपको सफलता अत्यंत संघर्ष के बाद हासिल होती है। कई बार आपके कार्यों का श्रेय दूसरे ले जाते हैं।*

*शुभ दिनांक : 8, 17, 26*

*शुभ अंक : 8, 17, 26, 35, 44*

*शुभ वर्ष :2022, 2024, 2042*

*ईष्टदेव : हनुमानजी, शनि देवता* 

*शुभ रंग : काला, गहरा नीला, जामुनी* 

*कैसा रहेगा यह वर्ष*
*सभी कार्यों में सफलता मिलेगी। जो अभी तक बाधित रहे है वे भी सफल होंगे। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति उत्तम रहेगी। नौकरीपेशा व्यक्ति प्रगति पाएंगे। बेरोजगार प्रयास करें, तो रोजगार पाने में सफल होंगे। शत्रु वर्ग प्रभावहीन होंगे, स्वास्थ्य की दृष्टि से समय अनुकूल ही रहेगा। राजनैतिक व्यक्ति भी समय का सदुपयोग कर लाभान्वित होंगे।*
🌹🍀🌹🍀🌷🙏🙏🍀🌷🌹🍀🍀🌷🌹
08:18

जाने कैसे होती है ब्रज की होली के सी शर्मा की कलम से



के सी शर्मा
मथुरा। ब्रज में इस बार होली पर देश की लोक कला देखने को मिलेगी। बरसाना की लठामार होली हो या फिर मुखराई का चरकुला नृत्य महोत्सव, बुंदेलखंड का राई नृत्य, हरियाणा का बीन और बांदा का पाई डंडा देखने को मिलेगा। इस दौरान मुख्यमंत्री योगीनाथ एक बार फिर ब्रज की होली का हिस्सा बनेंगे।

ब्रज की होली की धूम दुनिया भर में देखने को मिलती है। आयोजन को और खास बनाने के लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। इसके लिए ब्रज तीर्थ विकास परिषद ने योजना बना ली है। इसके तहत इस बार ब्रज में होली के दौरान देश की लोककला यहां लोगों को देखने को मिले। हरियाणा से बीन और नगाड़े की गूंज होली पर सुनाई देगी। इसके अलावा बांदा का पाई डंडा, बुंदेलखंड का राई नृत्य और स्थानीय लोक कलाकार लावनी गाते हुए नजर आएंगे। विभिन्न राज्य और क्षेत्रों की लोक कला का प्रदर्शन सिर्फ बरसाना में नहीं होगा, बल्कि होली के ब्रज में होने वाले सभी आयोजनों में इनकी मौजूदगी मिलेगी।

*होली पर जगमगाएंगे ब्रज के सभी मंदिर*
मथुरा। होली के 40 दिवसीय आयोजन को पर्यटन की दृष्टि से आकर्षण बनाने की योजना पर ब्रज तीर्थ विकास परिषद ने काम करना शुरू कर दिया है। सोमवार को ब्रज तीर्थ विकास परिषद के उपाध्यक्ष शैलजा कांत मिश्र ने प्राधिकरण सभागार में रंगोत्सव (होली) के संदर्भ में बैठक की। इसमें उन्होंने सभी विभाग से संबंधित कार्य योजनाओं को यथाशीघ्र पूर्ण करने की तैयारियों में जुट जुटने के निर्देश दिए हैं। साथ ही मंदिरों की सजावट, साफ-सफाई करवाने के निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि पर्यटन विभाग राधा बिहारी इंटर कॉलेज बरसाना में सांस्कृति कार्यक्रमों का आयोजन की तैयारी करे। वहीं, तीर्थ विकास परिषद ब्रज के मंदिरों की आकर्षण सजावट करें। लोक निर्माण विभाग बरसाना पहुंचने के सभी रास्तों को ठीक कराए। गोवर्धन ड्रेन की सफाई कार्य, लाडली जी के मंदिर की फूलों से सजावट, सांस्कृति विभाग मंचीय कार्यक्रम्र शोभा यात्रा्र बच्चों की प्रतियोगिता आदि कार्यक्रम आयोजित करें। बैठक में विप्रा उपाध्यक्ष नगेंद्र प्रताप,
एसएसपी शलभ माथुर, एडीएम वित्त ब्रजेश कुमार, पुलिस अधीक्षक ट्रैफिक डॉ ब्रजेश सिंह, एसडीएम गोवर्धन राहुल यादव, महावन हनुमान प्रसाद, पर्यटन अधिकारी डीके शर्मा आदि मौजूद रहे।

*ये हैं ब्रज में होली के प्रमुख आयोजन*

03 मार्च को अष्टमी के दिन बरसाना में लड्डू होली

04 को बरसाना में लठामार होली का आयोजन

05 को दशमी के दिन नंदगांव में लठामार होली

05 को ही गांव रावल में लठामार एवं रंग होली

06 को श्रीकृष्ण जन्मभूमि एवं श्रीबॉके बिहारी मंदिर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं होली

07 को गोकुल में छड़ीमार होली

09 को गांव फालैन में जलती हुई होली से पण्डा का निकलना

09 मार्च को द्वारिकाधीश मंदिर से होली का डोला नगर भ्रमण

10 को द्वारिकाधीश मंदिर में टेसू फूल, अबीर गुलाल की होली

10 को ही संपूर्ण मथुरा जनपद क्षेत्र में अबीर, गुलाल की होली

11 को दाऊजी का हुरंगा, गांव मुखराई में चरकुला नृत्य
[2/26, 7:49 AM] के सी शर्मा: *जाने,ब्रजभूमि फाग महोत्सव*
*आमंत्रण सूची2020*

03 मार्च: लड्डू होली बरसाना
04 मार्च: बरसाना लट्ठमार होली
05 मार्च: नन्दगाँव लट्ठमार होली
06 मार्च: जन्मभूमि वृंदावन होली
09 मार्च: श्रीजी का दिव्य श्रृंगार दर्शन
09 मार्च: होलिका दहन फालैन में धधकती आग से निकलेगा पंडा
10 मार्च: पहली बार राजसी शान से गर्भगृह से सफेद संगमरमर की छतरी में पधारेंगी महारानी
10 मार्च: श्रीजी डोले को छतरी पर लाने के लिए राया की मशहूर खुदाबख्स शहनाई की प्रस्तुति
10 मार्च: छतरी दर्शन में महारानी पर दो घण्टे तक होगी अनवरत पुष्प वर्षा
10 मार्च: गोस्वामियों द्वारा समाज गायन
10 मार्च: दमकती पोशाक में देंगी दर्शन
10 मार्च: श्रीजी की संध्या आरती नहीं, होगा महाआरता (वर्ष में केवल 3 बार ही होता है महाआरता)
11 मार्च: नन्दगाँव जाव और दाऊजी में हुरंगा
11 मार्च: मुखराई में चरकुला नृत्य
12 मार्च: गिडोह तथा बठैन में हुरंगा
08:12

रामकृष्ण परमहंस की जयंती पर विशेष-के सी शर्मा*




रामकृष्ण परमहंस की जयंती पर विशेष-के सी शर्मा*

वे स्वामी विवेकानंद के गुरु थे। हिन्दी पंचांग के अनुसार रामकृष्ण परमहंस का जन्म फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि पर हुआ था। इस साल ये तिथि 25 फरवरी को है। अंग्रेजी कैलेंडर के हिसाब से परमहंसजी का जन्म 18 फरवरी 1836 को बंगाल के कामारपुर में हुआ था। उनकी मृत्यु 16 अगस्त 1886 को कोलकाता में हुई थी। उनकी जयंती के अवसर पर जानिए 3 ऐसे प्रेरक प्रसंग, जो सुखी और सफल जीवन के सूत्र बताते हैं...
पहला प्रसंग - सभी लोग भक्ति क्यों नहीं कर पाते हैं?
एक दिन रामकृष्ण परमहंस के एक शिष्य ने पूछा कि इंसान के मन में सांसारिक चीजों को पाने की और इच्छाओं को लेकर व्याकुलता रहती है। व्यक्ति इन इच्छाओं को पूरा करने के लिए लगातार कोशिश करता है। ऐसी व्याकुलता भगवान को पाने की, भक्ति करने की क्यों नहीं होती है?
परमहंसजी ने जवाब दिया कि व्यक्ति अज्ञानता की वजह से भक्ति नहीं कर पाता है। अधिकतर लोग सांसारिक वस्तुओं को पाने के भ्रम में उलझे रहते हैं, मोह-माया में फंसे होने की वजह से व्यक्ति भगवान की ओर ध्यान नहीं दे पाता है। इसके बाद शिष्य ने फिर पूछा कि ये भ्रम और काम वासनाओं को कैसे दूर किया जा सकता है?
परमहंसजी ने जवाब दिया कि सांसारिक वस्तुएं भोग हैं और जब तक भोग का अंत नहीं होगा, तब तक व्यक्ति भगवान की ओर मन नहीं लगा पाएगा। उन्होंने उदाहरण देते हुए समझाया कि कोई बच्चा खिलौने से खेलने में व्यस्त रहता है और अपनी मां को याद नहीं करता है। जब उसका मन खिलौने से भर जाता है या उसका खेल खत्म हो जाता है, तब उसे मां की याद आती है। यही स्थिति हमारे साथ भी है।
जब तक हमारा मन सांसारिक वस्तुओं और कामनाओं के खिलौनों में उलझा रहेगा, तब तक हमें भी अपनी मां यानी परमात्मा का ध्यान नहीं आएगा। भगवान को पाने के लिए, भक्ति के लिए हमें भोग-विलास से दूरी बनानी पड़ेगी, तभी हम भगवान की ओर ध्यान दे पाएंगे।
दूसरा प्रसंग - जो लोग नियमों को तोड़ते हैं, उन्हें दंड जरूर मिलता है
एक दिन रामकृष्ण परमहंस अपने शिष्यों के साथ बैठे थे। वे धर्म और अध्यात्म से जुड़ी बातें कर रहे थे। तभी एक शिष्य ने कहा कि ये सृष्टि इतनी बड़ी है। यहां इतनी विविधता है, फिर भी संपूर्ण सृष्टि पूरे नियंत्रण के साथ चल रही है, ऐसा कैसे हो रहा है?
परमहंसजी ने जवाब दिया कि इस सृष्टि की रचना परमात्मा ने की है और उनका पूरा नियंत्रण है इस पर। ईश्वर के नियमों में जरा भी ढील नहीं है, उनका कानून बहुत सख्त है। जो जैसा करेगा, उसे वैसा ही फल मिलेगा।
जंगल में अंसख्य जानवर हैं, सभी को अपना अस्तित्व बनाए रखने के लिए संघर्ष करना पड़ता है और सभी अच्छी तरह करते भी हैं। ये शक्ति भगवान ने ही दी है। आकाश में असंख्य ग्रह-नक्षत्र हैं, सभी अपनी धूरी पर अपने नियमों के साथ टिके हुए हैं। एक भी ग्रह सृष्टि के नियमों से अलग नहीं जाता है। हमारे में समाज में असंख्य लोग हैं, सभी की सोच अलग है, लेकिन एक-दूसरे से प्रेम और मैत्री भाव के साथ रहते हैं। जो लोग सृष्टि के नियमों को तोड़ता है, प्रकृति उन्हें दंड जरूर देती है।
ये पूरी सृष्टि परम पिता परमेश्वर का परिवार है, सभी पर भगवान का नियंत्रण है। यहां सभी को अपने नियमों का पालन सख्ती से करना ही पड़ता है। इसीलिए हमें गलत कामों से बचना चाहिए, वरना प्रकृति के नियम बहुत कठोर हैं।
तीसरा प्रसंग - भक्ति में किसी एक रास्ते पर आगे बढ़ते रहना चाहिए
एक चर्चित प्रसंग के अनुसार एक बार रामकृष्ण परमहंस अपने शिष्य से बात कर रहे थे। तब उन्होंने कहा कि ईश्वर एक ही है, उस तक पहुंचने के मार्ग अलग-अलग हैं। इसीलिए हमें सभी धर्मों का सम्मान करना चाहिए, क्योंकि सभी धर्मों का लक्ष्य एक ही है ईश्वर तक पहुंचना। भक्ति के तरीके-तरीके अलग-अलग हो सकते हैं।
ये बात सुनकर शिष्य ने कहा कि हम ये कैसे मान सकते हैं कि सभी रास्ते एक ही लक्ष्य तक पहुंच रहे हैं? परमहंसजी ने कहा कि सभी रास्ते सत्य हैं। किसी भी एक रास्ते पर दृढ़ता से आगे बढ़ते रहने से एक दिन हम ईश्वर को प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने शिष्य को समझाते हुए कहा कि किसी अनजाने घर की छत पर पहुंचना कठिन है। छत पर पहुंचने के कई रास्ते हो सकते हैं, जैसे सीढ़ियों से, रस्सी से या किसी बांस के सहारे हम ऊपर पहुंच सकते हैं। हमें इनमें से किसी एक रास्ते को चुनना होगा। जब एक बार किसी तरह छत पर पहुंच जाते हैं तो सारी स्थितियां स्पष्ट नजर आती हैं। नीचे से ऊपर देखने पर जो रास्ते भ्रमित कर रहे थे, वे ऊपर से नीचे देखने पर एकदम साफ-साफ दिखाई देते हैं।
हमें भक्ति करते समय किसी एक रास्ते पर दृढ़तापूर्वक आगे बढ़ते रहना चाहिए। अलग-अलग रास्तों को देखकर भटकना नहीं चाहिए। तभी ईश्वर की प्राप्ति हो सकती है।
08:09

उपखंड अधिकारी को ज्ञापन सौंप, कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन की दी चेतावनी।




सवाई माधोपुर@रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा। गंगापुर सिटी उपखंड मुख्यालय पर  नसियां कॉलोनी स्थित श्री आदिनाथ दिगम्बर जैन (नसियां) मंदिर की जमीन पर अतिक्रमण को लेकर जैन समाज में प्रशासन के खिलाफ गहरा रोष व्याप्त है। मामले को लेकर समाज के प्रतिनिधि मण्डल ने मंगलवार को अतिरिक्त जिला कलक्टर से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा  और जमीन को अतिक्रमण मुक्त कर समाज के सुपुर्द करने की मांग की।
जैन समाज के अध्यक्ष सुभाष पांड्या के नेतृत्व में समाज के लोगों ने अतिरिक्त जिला कलक्टर नवरत्न कोली को लिखित ज्ञापन सौंपा। महामंत्री नरेन्द्र गंगवाल ने बताया कि जैन नसियां आदिनाथ मंदिर के हक के खसरा नम्बर 382 पर थानाधिकारी गंगापुर सिटी के रिसीवर नियुक्त होने के पश्चात भी भू माफियाओं के हौसले बुलंद है और आए दिन कच्चे-पक्के निर्माण कर जैन समाज के मंदिर की जमीन पर के द्वारा अतिक्रमण की कार्रवाई को अंजाम दिया जा रहा है। जबकि विगत वर्ष 29 मई 2018 को प्रशासन ने एक आदेश जारी कर गंगापुर सिटी पुलिस को जमीन को अतिक्रमण मुक्त कराने, सीमा ज्ञान कराने व पत्थरगढ़ी कराने के निर्देश दिए थे ,इसके बावजूद भी पुलिस ने अतिक्रमण हटाने की किसी भी कार्रवाई  को समय रहते हुए अंजाम नहीं दिया। उधर राजस्व विभाग के पटरवारीव व गिरदावर द्वारा भी अतिक्रमित जमीन पर पत्थरगढ़ी नहीं कराई गई।
ज्ञापन में बताया गया है कि  अतिक्रमणकारी निरंतर समाज की जमीन पर अतिक्रमण कर रहे हैं, और तो और भू माफियाओं ने एक प्लॉट पर दीवार तक बना दी है। जबकि दूसरी जगह भी पट्टियां गाढ़कर अतिक्रमण की कार्रवाई को अंजाम दिया गया  है। अध्यक्ष ने बताया कि समय रहते अतिक्रमण नहीं हटाया गया तो जैन समाज आंदोलन के लिए मजबूर होगा। इस मौके पर डॉ. एमपी जैन, अरहिंत बोहरा, अरविंद गोधा, सुभाष सौगानी, लोकेश, मुकेश, सतीश जैन, विजेंद्र, अशोक, मनीष पांड्या आदि कई लोग मौजूद थे। एडीएम ने समाज के लोगों को उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है।
08:06

गांव के विकास में उपसरपंच-पंचो की महत्वपूर्ण भूमिका- गुर्जर



  सवाई माधोपुर@रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा। गंगापुर सिटी खंड मुख्यालय पर
बाईपास स्थित पूर्व विधायक निवास पर नवनिर्वाचित उपसरपंच एवं वार्ड पंचो ने पूर्व विधायक मानसिंह गुर्जर से मुलाकात की।पूर्व विधायक ने सभी का गर्मजोशी से माल्यार्पण एवं साफा पहनाकर स्वागत किया।
ग्राम पंचायत बड़ौली एवं खेड़ला के उपसरपंच एवं वार्ड पंच सुबह 9 बजे पूर्व विधायक निवास पहुंचे।
पूर्व विधायक मानसिंह गुर्जर ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि गांवो के विकास में आपकी महती भूमिका हैं।चुनाव जीतने के बाद सभी को साथ लेकर चलना आपका कर्तव्य है।गांव के विकास कार्यो में कोई भेदभाव नहीं बर्तना चाहिए।
पूर्व विधायक ने सभी को बधाई एवं शुभकामनाए देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।
उपसरपंच संतराम मीना ने कहा कि निष्पक्ष रूप से पंचायत में विकास कार्य करवाये जाएगें। जहा जहा जिस चीज की कमी होंगी उसे पूर्ण करवाने का प्रयास किया जाएगा।उन्होंने कहा कि ग्रामीण बेहिचक उन्हें अपनी समस्याएं बताएं,समस्याओ को अपने स्तर पर अथवा उच्चाधिकारियों से वार्ता कर समाधान करने का प्रयास किया जाएगा।
कमलेश मीना ने कहा कि सबको साथ लेकर चलना ही मेरी प्राथमिकता रहेंगी।मैं मेरी पंचायत के अंदर सभी लोगो की समस्याओं को दूर करने का प्रयास करूंगा।उन्होंने कहा कि मेरे कार्यकाल के दौरान बिजली,पानी,सड़क और चिकित्सा जैसी मूलभूत समस्याओ को दूर करने का पूरा पूरा प्रयास किया जाएगा।इसके साथ ही विकास के नये आयाम स्थापित किए जाएंगे।
इस दौरान पूर्व विधायक मानसिंह गुर्जर,संतराम मीना,फूलराम मीना,कमलेश मीना,मोहरसिंह मीना,गीता,रामचरण,सीताराम,पुकराज, बाबू हरिजन,मंडल अध्यक्ष पुखराज सलेमपुर,मिथलेश व्यास,पूर्व सरपंच मेघराज सैनी,रामकेश छंगा, मनोज कुनकटा,भवानी मानपुर सहित अन्य लोग मौजूद रहे।
06:31

भाजपा सरकार के राज में बंद हुए 978 स्कूल में फिर पढ़ाई करते हुए नजर आएंगे विद्यार्थी..



 सवाई माधोपुर@रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा (विशेष संवाददाता)  प्रदेश में पिछली भाजपा सरकार की ओर से शिक्षा के अधिकार अधिनियम (आरटीई) के विरूद्ध बंद किए गए 978 विद्यालयों को फिर से खोले जाने के शिक्षा विभाग ने आदेश जारी कर दिए है। शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने बताया कि पिछली सरकार की ओर से एकीकरण के नाम पर बंद किए गए विद्यालयों को जनहित में फिर से शुरू करने का वादा किया गया था। इस संबंध में जिला कलक्टर और उप खण्ड अधिकारी स्तर पर समिति गठित कर प्रस्ताव मांगे गए है। साथ ही 495 प्रारंभिक और 483 माध्यमिक विद्यालयों को फिर से खोले जाने के आदेश जारी किए गए है। डोटासरा ने बताया कि राज्य सरकार ने 483 ऐसे विद्यालय जिनको पूर्व सरकार ने आरटीई नियमों के विरूद्ध माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों में एकीकृत किया था। ऐसे विद्यालयों के साथ ही 495 ऐसे विद्यालय जिन्हें प्रारम्भिक विद्यालयों में मर्ज किया गया था, उन्हें फिर से प्रारंभ किये जाने के आदेश जारी किए है।
19 हजार 754 भवन पड़े हैं खाली बताया जा रहा है कि वर्तमान में 19 हजार 754 विद्यालय भवन खाली पड़े हैं। गत सरकार की ओर से 22 हजार 200 प्राथमिक विद्यालय बंद एवं समन्वित किए गए थे। इन विद्यालयों में शिक्षा के अधिकार नियम के तहत 15 से अधिक विद्यार्थी होने पर अथवा एक किलोमीटर से अधिक दूरी होने के मापदण्ड पूरे करने पर इन्हें नए सत्र में पुनः खोला जाएगा। उन्होंने कहा कि फिर भी यदि इनके अतिरिक्त नए प्राथमिक विद्यालय खोलने के लिए भवनों की मांग हुई तो सरकार की ओर से आवश्यकतानुसार बजट उपलब्ध करवाया जाएगा। साथ ही यदि समन्वित किया गया स्कूल भवन किसी अन्य प्रयोजन के लिए आवंटित किया गया है तो उसको मुक्त करवाकर विद्यालय उसी भवन में संचालित किया जाएगा।

06:20

शिक्षा से ही समाज में बदलाव संभव-पदमा सक्सेना



समग्र शिक्षा अभियान कार्यालय किशनगढ़ के तत्वाधान में ब्लॉक स्तरीय दो दिवसीय सत्रांत संस्था प्रधान( माध्यमिक शिक्षा) वाक् पीठ संगोष्ठी का मंगलवार को अजमेर रोड़ स्थित आर.के. पाटनी गर्ल्स कॉलेज में विधिवत समापन हुआ।  आर.के. पाटनी गर्ल्स कॉलेज के सभा भवन में आयोजित राजकीय माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों के संस्था प्रधानों की दो दिवसीय वाक् पीठ संगोष्ठी के समापन कार्यक्रम की मुख्य अतिथि संयुक्त निदेशक व मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी पद्मा सक्सेना थी, अध्यक्षता मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी राजेंद्र कुमार शर्मा ने की। जबकि सहायक निदेशक  अजय कुमार गुप्ता व अति. मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी (प्रथम) मोहनलाल ढाका विशिष्ट अतिथि थे। वाक पीठ संगोष्ठी के समापन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीडीईओ पद्मा सक्सेना ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में सबसे अच्छा पद अगर कोई है, तो वह प्रधानाचार्य का है। उन्होंने यह भी कहा कि  संस्था प्रधान शिक्षण में किए जा रहे नावाचारों का कुशलता से प्रयोग करते हुए विद्यालयों के शैक्षिक, भौतिक व गुणात्मक उन्नयन की दिशा में बेहतरीन कार्य करें। उन्होंने यह भी कहा कि हर एक कार्य को प्लानिंग से करें  और इसके लिए एक अच्छी सी टीम भी तैयार करें ताकि किसी भी कार्य की सफलता में संशय उत्पन्न ना हो।  मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी राजेंद्र कुमार शर्मा  ने अपने उद्बोधन में कहा कि संस्था प्रधानों की वाकपीठ संगोष्ठी शैक्षिक- प्रशासनिक अनुभव के आदान- प्रदान उपरांत ज्वलंत शैक्षिक मुद्दों के सार्थक एवं सकारात्मक प्रबंधन हेतु संस्था प्रधानों को तैयार करने का एक सुदृढ़ माध्यम एवं  प्रभावशाली मंच है।  सहायक निदेशक अजय कुमार गुप्ता ने भी अपने सारगर्भित उद्बोधन में कहा कि शिक्षा से ही समाज में बदलाव संभव है। इस अवसर पर बोलते हुए एसीबीईओ मोहनलाल ढाका ने भी अपने विचार व्यक्त किए और कहा की नवाचारों पर मंथन,  परीक्षा परिणाम उन्नयन व शैक्षिक सुधारों पर चर्चा होना अत्यंत आवश्यक है। एसीबीईओ ढाका ने वार्ताकार के रूप में शाला सम्बलन, पर्यवेक्षण व केशबुक रिकॉर्ड संधारण जैसे विभिन्न विषयों पर पर संगोष्ठी में खासा प्रकाश डाला। इसी प्रकार  कार्यक्रम के प्रथम सत्र में  वार्ताकार नीलम चौधरी( प्रधानाचार्य टीकावड़ा) द्वारा "नानी वाली कथा हुई पुरानी, बेटी युग की मिलकर आओ लिखें नई कहानी... से अपनी वार्ता  की शुरूआत की। चौधरी ने विशेषकर बालिका शिक्षा को लेकर सरकार की सकारात्मक मंशा( बालिकाशिक्षा के क्षेत्र में सरकारी योगदान  से) से उपस्थित संभागीयों को अवगत कराया। वार्ताकार सुदेश कुमार पाराशर द्वारा प्रवेशोत्सव कार्यक्रम के साथ-साथ विद्यार्थियों के नामांकन एवं ठहराव ,बाल सभा की उपयोगिता वह समुदाय की भागीदारी पर प्रभावशाली चर्चा की गई। संदर्भ व्यक्ति चन्द्रशेखर शर्मा ने बताया कि कुल मिला कर दो दिवसीय संस्था प्रधानों की वाक पीठ संगोष्ठी में द्वितीय व अंतिम दिवस समग्र शिक्षा अभियान, एकीकृत शाला दर्पण, एस आई क्यू ई, भामाशाह सम्मान, सीएसआर, ज्ञान संपर्क पोर्टल, बोर्ड परीक्षा प्रबंधन, शाला सिद्धि कार्यक्रम, अनुपयोगी सामग्री निस्तारण, आरटीआई एवं छात्रवृत्ति, प्रवेश उत्सव, बाल सभा से लेकर प्रोत्साहन आदि विषयों पर महत्वपूर्ण चर्चा- परीचर्चा कर संगोष्ठी के उद्देश्यों को अमलीजामा पहनाया गया। कार्यक्रम को ब्लॉक स्तरीय वाक पीठ संगोष्ठी के संयोजक वह सिलोरा प्रधानाचार्य दिनेश चंद्र पारीक, किशनगढ़ प्रधानाचार्य पवन कुमार कुमावत एवं आर.के पाटनी गर्ल्स कॉलेज के उपाचार्य शैलेंद्र पाटनी आदि ने भी संबोधित किया। नवां प्रधानाचार्य कानाराम गुर्जर द्वारा मंच संचालन की जिम्मेदारी बखूबी निभाई गई।इस अवसर पर संदर्भ व्यक्ति अशोक यादव, ओम प्रकाश शर्मा, चंद्रशेखर शर्मा, पवन कुमार शर्मा व्यवस्था प्रभारी शा. शिक्षक विशाल शर्मा आदि भी उपस्थित थे।  किशनगढ़ ब्लाॉकन्तर्गत संचालित समस्त सरकारी विद्यालयों के संस्था प्रधानों में शामिल पीईईओ, प्रधानाचार्य व प्रधानाध्यापक ( माध्यमिक शिक्षा) सहित तकरीबन 65 संभागीयों ने दो दिवसीय कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दी।कार्यक्रम के समापन अवसर पर मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी राजेंद्र कुमार शर्मा द्वारा सभी उच्चाधिकारियों, अतिथियों व उपस्थित संभागीयों का आभार व्यक्त किया गया।                संस्था प्रधान ( माध्यमिक शिक्षा) वाक पीठ संगोष्ठी की ब्लॉक स्तरीय कार्यकारिणी का नव गठन........     आर.के. पाटनी गर्ल्स कॉलेज में आयोजित राजकीय माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों के संस्था प्रधानों की दो दिवसीय सत्रांत वाक पीठ संगोष्ठी में ब्लॉक स्तरीय कार्यकारिणी का भी नव गठन किया गया जिसमें अध्यक्ष  दिनेश चंद्र पारीक( प्रधानाचार्य, सिलोरा) , उपाध्यक्ष विमला अग्रवाल (प्रधानाचार्य, रुपनगढ़), व सचिव कानाराम चौधरी (प्रधानाचार्य नवां) तथा कोषाध्यक्ष बंसी लाल यादव (प्रधानाध्यापक, चूदंड़ी) आदि का सर्वसम्मति से मनोनयन किया गया और आगे की जिम्मेदारी जिम्मेदारी सौंपी गई