Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Tuesday, 31 March 2020

16:20

एन सी एल की दर्जनों परियोजनाओं में कार्यरत आउटसोर्सिंग की अनोखी पहल कोयला श्रमिक सभा(एच एम एस) ने की कार्यवाही की मांग



*पढ़े,के सी शर्मा की एक विशेष रिपोर्ट,*

*सिंगरौली/सोनभद्र*

 कोल इंडिया की सहायक कंपनी एन सी एल में कार्यरत दर्जनों आउटसोर्सिंग कम्पनियों के अधिकारियों को यह नहीं पता है कि नॉवेल कोरोना वायरस कैसे फैलता है,नॉवेल कोरोनावायरस फैलने के विषय में बताया गया है कि संक्रमित व्यक्ति छींकने खासने थूकने आदि के बाद हाथ से अमुख अंगों को साफ करने तथा उस हाथ से किसी भी जगह को छूने से वह वायरस वहीं पर चिपक जाता है और दूसरा व्यक्ति जब उस स्थान को छूता है 8 घंटे के अंदर तो उस व्यक्ति में आसानी से पहुंच जाता है, ए वायरस किसी भी स्थान पर 8 घंटे जीवित रह सकता है और उस स्थान को स्वस्थ व्यक्ति के छूने पर उसके हाथ आदि के द्वारा उसके शरीर तक पहुंचता है और वह स्वस्थ व्यक्ति संक्रमित हो जाता है।
अब कंपनीया अपनी पीठ थपथपबाने  के लिए भले ही एक सीट में एक ही व्यक्ति को बैठा रही हो लेकिन यदि कोई भी व्यक्ति संक्रमित है तो उस बैठने वाली सीट, ड्राइवर के स्टेरिंग, हैंडब्रेक आदि को जब तीनों पाली में अलग-अलग डंपर ड्राइवर चलाएंगे तो एक ड्राइवर से दूसरे ड्राइवर में आसानी से जा सकता है , शिप्ट बस में भी इसी तरह से नियम लागू होता है 8 घंटे का फासला शिप्ट आने जाने में कहां मिलता है।
 इसी तरह से मेस में भीड़ होती है, इसी तरह से पानी का नल खोलने में उसको सब छूते हैं हर जगह से वायरस फैलने का पूरा खतरा बढ़ जाता है और कंपनी में किसी भी एक ड्राइवर को हुआ तो सारे कंपनी में हड़कंप मच जायेगी और इसके जिम्मेदार कंपनी और एन सी एल प्रबंधन खुद होंगे।
कोई ड्राइवर शक्तिनगर से आता है कोई खड़िया से कोई बैढ़न से कोई सिगरौली से कोई नवानगर से अब ऐसे में संक्रमण से कैसे बचा जा सकता है।
 अब इन कंपनीयो को इस वायरस की हकीकत जानकारी नहीं है ऊपर  से बोलती है कि गंदगी फैलाने से कुरौना होता है पेशाब खुले स्थान पर करने से कोरोना होता है।
आज कल कंपनीया अलाउंस भी करवा रही है कि काम करते रहना बार-बार हाथ धोते रहना इससे में वह काम करें और बार बार हाथ कहां से धो सकता है उसको कहां पानी वहां उपलब्ध रहता है।

कंपनी की इस हरकत को देखकर एक कहानी याद आती है।
एक भले आदमी थे जो मार्मिक थे तो उनको लगा कि बहेलिया चिड़ियों को मारकर खा जाता है इसलिए उन्होंने एक तोता को पकड़े और उसको सिखाएं कि शिकारी जंगल में आता है दाने का लोभ दिखाता है, जाल फैलाता है, जाल में नहीं फंसना चाहिए और ऐसा सिखा करके उसे झुंड में छोड़ दिया गया।
अब सारे तोते उसकी आवाज को सुनकर उसी तरह से आवाज निकालने लगे एक दिन शिकारी सुना तो उसे बड़ा अचरज हुआ कि अब तो हमें शिकार नहीं मिलेगा परंतु फिर भी उसने कोशिश करके दाना डाला और जाल फैलाया।
सारे तोते इसी तरह से रटते हुए - शिकारी आता है , दाने का लोभ दिखाता है , जाल फैलाता है , जाल में नहीं फंसना चाहिए बोलते हुए और दाना चुगने के लिए उसी जाल में बैठते हैं और फंस जाते हैं।
 बहेलिया शिकारी आता है और समेट के सारे तोते को लेकर चला जाता है।

इसी तरह एन सी एल की परियोजनाओं में कार्यरत्त आउटसोर्सिंग कम्पनियों की सोच है जिससे 10 हजार से अधिक मजदूरों की जिंदगी खतरे में पड़ी हुई है।

*"कोयला श्रमिक सभा" सम्बद्ध "हिन्द मजदूर सभा" के महामंत्री एवं संरक्षक अशोक कुमार पांडेय/के सी शर्मा ने "कोल इंडिया" एवं "एन सी एल" के उच्चाधिकारियों का इस ओर ध्यान आकृष्ट  कराते हुए शीघ्र आवश्यक कार्यवाही किये जाने की मांग की है।*
16:15

महिलाओं के लिए रोल मॉडल बनी कृतिका चौधरी



 माधोपुर@रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा। कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप से बचाव के लिए पूरे देश में ही नहीं हमारे राज्य राजस्थान में भी अनेकानेक लोगों के द्वारा आम लोगों की विशेषकर जरूरतमंद व्यक्तियों की तकलीफें दूर करने के लिए कई तरह के जतन किए जा रहे हैं। जहां कोरोना फाइटर्स के रूप शिक्षाकर्मी, हेल्थ वर्कर, पालिका कर्मी, मीडिया कर्मी, एवं शिक्षक समाज के साथ-साथ स्थानीय प्रशासन व पुलिस इस काम में महत्ती सहयोग प्रदान कर रही है, वहीं समुदाय से जुड़े बुद्धिजीवी वर्ग के लोग, समाजसेवी, छोटे- बड़े भामाशाह, नव युवा, जनप्रतिनिधि (सांसद विधायक से लेकर सरपंच वार्ड पंच तक सभी) विभिन्न पार्टियों के कार्यकर्ता तक लगे हाथ विपरीत परिस्थितियों में जनता की सेवा करने का कोई भी मौका नहीं गंवा रहे हैं। जिसके चलते कम से कम इस आपदा की स्थिति में गरीब, असहाय एवं जरूरतमंद लोगों को तैयार भोजन से लेकर के ड्राई खाद्य सामग्री,राशन एवं अन्य जरूरती सामान के लिए दर- बदर की ठोकरें खाने के लिए मजबूर नहीं होना पड़ रहा है।जहां जिला कलेक्टर पुलिस अधीक्षक या अन्य प्रशासनिक व राजस्व अधिकारी अपने-अपने तरीकों से लोगों को मदद पहुंचा कर राहत प्रदान कर रहे हैं, वहीं कुछ शख्सियतें  ऐसे भी है, जो समाज के महिला वर्ग को इस आपदा की स्थिति में सामाजिक सरोकारों के लिए प्रेरणास्पद की भूमिका में है। हां हम बात कर रहे हैं, सवाई माधोपुर पुलिस अधीक्षक  सुधीर चौधरी की धर्मपत्नी  श्रीमती कीर्तिका (हीना) चौधरी की जिनके द्वारा  व्यापक रूप से ना सही कम से कम आंशिक रूप से तो मदद की जा रही है। महत्वपूर्ण पहलू यह है, कि इतने बड़े अधिकारी की पत्नी होने के बावजूद भी
लॉक डाउन के दौरान जरूरतमंद व असहाय लोगों को अपने हाथों से भोजन बनाकर खिलाने का धर्म बखूबी निभा रही है। सवाई माधोपुर पुलिस अधीक्षक सुधीर चौधरी की अर्धांगिनी एवं राजस्थान के कृषि मंत्री   लालचंद कटारिया की   सुपुत्री श्रीमती कृतिका चौधरी ( हिना ) सामाजिक सरोकार के कार्य से जुड़कर कोरोनावायरस के प्रकोप से उत्पन्न विपदा में खुद तो अपना कीर्ति समय दे  रही हैं, वहीं अपने संग- संग अन्य प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों की पत्नियों को भी इस पुनीत कार्य में हाथ बंटवा रही है। इन महिलाओं के द्वारा कई प्रकार से जरूरतमंदों के लिए कुछ न कुछ सहायता व सहयोग नित्य प्रतिदिन अवश्य प्रदान किया जा रहा है। इस कार्य में स्वयं सुधीर चौधरी भी कंधे से कंधा मिलाकर अपनी धर्मपत्नी हिना का साथ दे रहे हैं। जो दूसराें के लिए किसी प्रेरणा स्रोत से कम नहीं हैं

16:12

कोरोना से बचाव हेतु बडोलास सरपंच ने की तैयारीयां



माधोपुर@ रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा। जिला मुख्यालय के निकटवर्ती गांव बाड़ोलास के नव-निर्वाचित सरपंच वीरेंद्र सिंह गुर्जर  द्वारा कोरोनावायरस की रोकथाम हेतु ग्राम पंचायत क्षेत्र में विभिन्न कार्यों के जरिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है  । गांव  में विगत 3 दिवस से  आम-रास्ते की साफ-सफाई हो या फिर सेनेटाइजर का छिड़काव या फिर मास्क वितरण कार्य बड़ी तत्परता से किए जा रहे है।
गांव के लोगो की टीम तैयार की जा कर वैश्विक महामारी कोरोना के बारे में घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है तथा लोगो को सामाजिक दूरी बनाने के बारे में भी विस्तारपूर्वक जानकारियां दी जा रही  है। ताकि लोग आपस में खड़े रहने की स्थिति में 1 मीटर का फासला अवश्य रखें। यहां गांव का सरपँच बनने से गांव के युवाओं में खासा जोश है,साथ ही सरपंच वीरेंद्र सिंह भी एक्शन मोड़ में जनता के हितों के कार्यो को अंजाम दे रहे है।
इस दौरान भूतपूर्व सरपँच कजोड़ मल, अजीत,विजय,माधोसिंह,रामू, शिशुपाल, मक्खन लाल,बलराम,सोहनलाल इत्यादि लोग भी मौजूद थे।

16:09

गंगापुर के भाजपा कार्यकर्ताओं ने लोगों के साथ - साथ गोवंश की सेवा का भी संभाला जिम्मा



 माधोपुर/गंगापुर सिटी@रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा।गंगापुर सिटी उपखंड मुख्यालय पर मंगलवार को लॉक डाउन के चलते उत्पन्न परेशानियों को ध्यान में रखते हुए  गंगापुर सिटी के भाजपा कार्यकर्ताओं  द्वारा जीपीएस स्कूल के समीप भाजपा रसोई एवं गौवंश के लिए हरा चारा वितरण  की शुरुआत की गई।
लोकडाउन तक भाजपा के सेवकों के द्वारा जरूरतमंद लोगों को भोजन एवं गौवंश के लिए हरा चारे की व्यवस्था की जाएगी।
30 मार्च को नंगेबाबा गौशाला के पास, करौली रोड़ पर सिंगी बस्ती में एवं कोलीपाड़ा में भोजन वितरण किया गया।
गौवंश के लिए भी हरा चारा एकत्रित कर  सालोदा मोड़, सैनिक नगर, कचहरी रोड, हॉस्पिटल रोड, मालगोदाम रोड़, हायर सैकण्डरी रोड़ एवं कोलीपाड़ा में गोवंश को खिलाकर सेवा की गई।
भाजपा रसोई की शुरुआत के समय गोपाल भाई स्लेट, कौशल बोहरा, धनसिंह मावई, निर्मल अमरगढिया, पूजा शर्मा आदि उपस्थि थे
07:45

करोना वायरस महामारी से बचाव के लिए उपाय जारी



राजस्थान करोना वायरस महामारी से बचाव के लिए
ग्राम पंचायत डेहरा जोहड़ी क्षेत्र में सेनेटराइज सरपंच पतासी देवी के प्रतिनिधि श्री राम सैनी एवं शीशपाल सैनी के नेतृत्व में किया जा रहा है  सेनीटाइज ग्राम पंचायत के गांव गांव  तथा  ढाणियों में किया जा रहा है और साथी  ग्राम पंचायत में कोई  भूखा ना सोए इस संकल्प में सरपंच प्रतिनिधि शीशपाल सैनी रात दिन काम कर रहे हैं एवं साथ ही कोरोनावायरस से जुड़ी जानकारी एवं इससे संबंधित लक्षणों के बारे में भी जनता को बता रहे हैं प्रकाश चंद सैनी ने बताया कि शीशपाल सैनी व श्री राम सैनी जनता के साथ जनता के बीच लगातार जनता को जागरूक कर रहे हैं तथा जनता से बार-बार अपील भी कर रहे हैं की आप सभी से निवेदन है कि घर से बाहर कम से कम निकले सभी साथी इस महामारी से लड़ने में सहयोग बनाए रखें सेनीटाइज करने में ग्राम पंचायत के युवा वर्ग पूरा सहयोग कर रहा है तथा प्रकाश सैनी महेंद्र बहादुर मुकेश विक्रम विकास अनिल आदि युवाओं द्वारा सहयोग मिल रहा है समय-समय पर ग्राम पंचायत के लोगों को जागरूक किया जा रहा है
घर रहे सुरक्षित रहे
07:27

रिलायंस के कोल माइंस में हुआ बड़ा हादशा




  DINESH PANDEY (journalist)
     
सिंगरौली:-- रिलायंस के सासन पॉवर लिमिटेड कोल ब्लॉक अमलोरी एण्ड मुहेर के सीएचपी कन्वेयर बेल्ट में फंसने से काम के दौरान मजदूर ऑपरेटर की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।घटना सोमवार की सुबह लगभग 5:बजे की है।बताते है कि सीएचपी TH-2 के  कन्वेयर बेल्ट रोलर में फसने से  मजदूर की मौत हो गई,रोलर में फसे हुये शव को काफी मशक्कत से निकाला गया। घटना के बाद पावर प्लांट में काम करने वाले सैकड़ों मजदूर व परिजन मुआवजा की मांग को ले कर अड़े रहे स्थानीय प्रसाशन के समझाईस व कड़ी मशक्कत के बाद स्थिति नियंत्रण में आई।

*इस तरह घटी घटना*

-बताया जाता है कि रिलायंस कोल ब्लॉक अमलोरी के सीएचपी में वार्षिक रख रखाव का काम करने वाली कंपनी स्टार वेंडम में कोतवाली क्षेत्र के कचनी गाँव निवासी मुकेश कुशवाहा पिता सीताराम कुशवाहा सीएचपी TH02 नंबर बंकर के कोयला के कन्वेयर बेल्ट में ऑपरेटर का काम कर रहा था। काम के दौरान सोमवार सुबह लगभग 5:बजे बेल्ट में फंसे किसी धातु को निकाल रहा था। इसी दरम्यान कन्वेयर बेल्ट चालू हो गया जिसमें कार्य में लगा आपरेटर मुकेश बेल्ट के साथ घिसटता हुआ बेल्ट के नीचे जाकर रोलर में फंस गया,जिसकी कार्यस्थल पर ही दर्दनाक मौत हो गई।

वार्ता के बाद उठाया मृतक का गया शव

मृतक मजबूर के आश्रित को मुआवजा तथा आश्रित के  नियोजन को लेकर कोल माइंस में काफी देर तक पुलिस प्रशासन, कंपनी व परिजनों के बीच सकारात्मक वार्ता चली वार्ता होने के बाद सीएचपी से शव को उठाया गया।वार्ता के दौरान अपर पुलिस अधीक्षक प्रदीप सेंडे, कोतवाली टीआई अरुण पाण्डेय, विध्यनगर टीआई राघनेन्द्र दुवेदी,बरगवां टीआई मनीष त्रिपाठी, लंघाडोल थाना के टीआई यू.पी.सिंह आरआई आशीष तिवारी व कंपनी प्रबंधन  मौजूद रहे इस बीच तय हुआ कि मृतक के आश्रित को उसके योग्यतानुसार संविदा कंपनी में रोजगार दिलाया जायेगा तथा उन्होंने यह स्पष्ट किया कि उसके रोजगार की निरंतरता लगातार बनी रहेगी।कंपनी की ओर से आश्रित को 50 हजार रुपए नगद व दो 2 लाख 75 हजार,1लाख 75 हजार का दो चेक प्रदान किया गया।यानी कंपनी के तरफ से टोटल पांच लाख रुपये परिजनों को बतौर मुआवजा दिया गया।

कोल ब्लॉक में सेफ्टी के नियमों का नही होता अनुपालन

रिलायंस के सासन पॉवर लिमिटेड कोल ब्लॉक अमलोरी के खदान में कार्य कर रही संविदा कंपनियों में सेफ्टी नियमों का अनुपालन नही होता है।माइंस का सेफ्टी बिभाग मूकदर्शक बना हुआ है।रिलायंस कोल माइंस में सीएचपी के वार्षिक रखरखाव साफसफाई का काम करने वाली कंपनी स्टार वेंडम सहित अन्य कंपनियों के कामों में प्रावधान के तहत एक इंजीनियर का कार्यस्थल पर होना जरूरी होता है और उसी के सुपरविजन में कंपनियों को काम करना होता है परंतु यहाँ ऐसा नही होता, अगर उक्त संविदा कंपनी के साइट पर कोई इंजीनियर मौजूद होकर अपने सुपरविजन में काम करवाता तो शायद मजदूर मुकेश कुशवाहा की मौत नही होती।
07:10

भूप्रेमी परिवार संगठन द्वारा जन सहयोग से जरूरतमंदों की मदद


सवाई माधोपुर@रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा। सवाई माधोपुर जिला मुख्यालय पर कोरोनावायरस के कारण राज्य में लागू लॉक डाउन के चलते सामाजिक सरोकारों के तहत
भूप्रेमी परिवार संगठन सवाई माधोपुर द्वारा जनसहयोग प्राप्त कर" मदद अभियान "  संचालित किया जा रहा है। पिछले 1 सप्ताह से मदद अभियान के जरिए तकरीबन 150 से 200 जरूरतमंद लोगों को रोजाना आदर्श राशन किट उपलब्ध कराये जा रहे है ।
इसी प्रकार 800 से 1000 खाने के पैकेट वितरित करवाएं जा रहें है ।
खाने के पैकेट बस स्टैंड, सामान्य अस्पताल, चलते राहगीर, कच्ची झोपड़ी व बस्तियों और कॉलोनियों में जरूरतमंदों तक पहुंचाया जा रहे है ।

इसी तरह कच्ची राशन सामग्री के लिए भी स्थानीय लोगों के माध्यम से सूची तैयार करके पहुंचाने के प्रबंध किए जा रहे हैं ।

सोमवार कोसुबह बंबोरी कच्ची बस्ती,अस्पताल,आदर्श स्कूल के पास,बजरिया,शहर आदि जगहों पर ये व्यवस्था की गई ।

आज 150 से भी अधिक जरूरतमंद लोगों की राशन सामग्री के लिए भामाशाह रमेश पहाड़िया ने सहयोग किया । जिससे सीमेंट फैक्ट्री खेरदा क्षेत्र की कॉलोनियों में विशिष्ट जरूरतमंद की सूची बनाकर वितरित किया गया । इस मौके पर रमेश पहाड़िया,आयकर कमिश्नर अजितेश मीणा, भूप्रेमी राजेश पहड़िया, रामपाल बालोत तथा कमलेश फौजी आदि मौजूद थे ।
वही खाने की व्यवस्था में भूप्रेमी पंकज, अनिल,भूप्रेमी यशवंत ,भुप्रेमी हरिकेश जीनापुर,अशोक महाराजा, मनोज सिंघल सहित विभिन्न लोग मौजूद रहे ।

खाने के पैकेट बनवाने की सेवा में प्रेमराज हिंदवाड़,विकेश बाबा और जेपी शर्मा वही राशन किट की व्यवस्था में कमिश्नर अजितेश मीणा एवं राजेश पहाड़िया का विशिष्ट योगदान है। वही ऑफिस की समस्त गतिविधियों को संभालने के लिए भूप्रेमी यशवंत,कलीम एवं अशोक महाराजा का योगदान है ।

आज विशेष सहयोग मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव यूनियन के सुनील शर्मा,मुकेश गुप्ता,उमेश राणा आदि का योगदान रहा ।

भू प्रेमी परिवार के सदस्यों द्वारा लोगों को घरों में रहने निरंतर साबुन से हाथ धोने मास्क लगाने के लिए जागरूक किया जा रहा है । भूप्रेमी परिवार संगठन द्वारा लोगों से लगातार अपील की जा रही है कि जिला मुख्यालय पर कोई भी आदमी भूखा ना सोए आप अपनी हैसियत के अनुसार उसकी सहायता करें । अगर आप उसकी सहायता नहीं कर सकते हैं तो आप भूप्रेमी परिवार संगठन को 9772898898 नम्बर पर सूचित करें । ताकि जरूरतमंदों की मदद की जा सके । भू प्रेमी परिवार द्वारा कोरोना महामारी से बचने के लिए सरकार की एडवाइजरी की पालना करने के लिए लोगों से अपील की गई 
06:57

जाने आज का इतिहास के सी शर्मा की कलम से




*31 मार्च की महत्त्वपूर्ण घटनाएं*

भारत में 1774 में डाक सेवा का पहला कार्यालय खुला।
मुंबई में 1867 में प्रार्थना समाज की स्थापना हुई।
अमेरिका में 1870 में पहली बार किसी अश्वेत नागरिक ने वोट दिया।
फ्रांस में एफिल टावर को 1889 में आधिकारिक रुप से खोला गया।
अमेरिका ने 1917 में डेनिश वेस्ट इंडीज खरीदा और उसका नाम वर्जिन आइलैंड रखा।
रॉयल ऑस्‍ट्रेलिया एयरफोर्स की 1921 में स्‍थापना हुई।
बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा को 1959 में तिब्बत से निर्वासन के बाद भारत में शरण दी गई।
बंबई में 1964 में इलेक्ट्रिक ट्राम आखिरी बार चली।
सोवियत रूस ने 1966 में पहला चंद्रयान लूना10 लांच किया।
माल्टा ने 1979 में ब्रिटेन से स्वतंत्रता की घोषणा की।
कोलंबिया के शहर पोपायन में 1983 में आए विनाशकारी भूंकप में 500 लोगों की मौत हुई।
वासलेव क्लार्क को 1997 में नया नाटो सैनिक कमांडर नियुक्त किया गया।
संयुक्त राष्ट्र संघ ने 2005 में उत्तर कोरिया को अनाज की आपूर्ति रोकी।
विश्व तैराकी चैम्पियनशिप में माइकल फ़ेल्प्स ने 2007 में छह स्वर्ण हासिल किये।
जनगणना के आंकड़ों के मुताबिक 2011 में भारत की आबादी बढ़ कर 121 करोड़ (1 अरब 21 करोड़) हो गई है। दस साल पहले हुई गणना के मुकाबले यह 17.64 फ़ीसदी ज़्यादा है।

*31 मार्च को जन्मे व्यक्ति*
1504 में सिक्खों के दूसरे गुरु गुरु अंगद देव का जन्म हुआ।
1865 में भारत की प्रथम महिला डॉक्टर आनंदी गोपाल जोशी का जन्म हुआ।
1860 में हिन्दी के उत्कृष्ट लेखकों में से एक रमा शंकर व्यास का जन्म हुआ।
1922 में अमेरिकी अभिनेता और गायक रिचर्ड काइली का जन्म हुआ।
1934 में अंग्रेज़ी और मलयालम की प्रसिद्ध लेखिका कमला दास का जन्म हुआ।
1938 में भारत की प्रसिद्ध महिला राजनीतिज्ञ तथा दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का जन्म हुआ।
1945 में प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ, पहली महिला लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार का जन्म हुआ।
1987 में भारतीय ग्रैंडमास्टर शतरंज कोनेरू हंपी का जन्म हुआ।

*31 मार्च को हुए निधन*
महान भौतिकशास्त्री आइजैक न्यूटन का 1727 में निधन।
1930 में प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी एवं लेखक श्यामजी कृष्ण वर्मा का निधन हुआ।
1931 में भारत के विशिष्ठ निबंधकारों में से एक पूर्णसिंह का निधन हुआ।
1972 में भारतीय अभिनेत्री मीना कुमारी का निधन हुआ।
2002 में भारतीय महिला कार्यकर्ता मोतुरु उदयन, का निधन हुआ।
2009 में अर्जेंटीना के राष्ट्रपति रॉल अलफोन्सिन का निधन हुआ।

Monday, 30 March 2020

08:18

30 मार्च दैनिक राशिफल



🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞पंडित विष्णु जोशी 7905156547
⛅ *दिनांक 30 मार्च 2020*
⛅ *दिन - सोमवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2077 (गुजरात - 2076)*
⛅ *शक संवत - 1942*
⛅ *अयन - उत्तरायण*
⛅ *ऋतु - वसंत*
⛅ *मास - चैत्र*
⛅ *पक्ष - शुक्ल*
⛅ *तिथि - षष्ठी 31 मार्च प्रातः 03:14 तक तत्पश्चात सप्तमी*
⛅ *नक्षत्र - रोहिणी शाम 05:18 तक तत्पश्चात मॄगशिरा*
⛅ *योग - आयुष्मान् शाम 06:19 तक तत्पश्चात सौभाग्य*
⛅ *राहुकाल - सुबह 07:56 से सुबह 09:28 तक*
⛅ *सूर्योदय - 06:34*
⛅ *सूर्यास्त - 18:51*
⛅ *दिशाशूल - पूर्व दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण - स्कंद-अशोक-सूर्य षष्ठी*
 💥 *विशेष - षष्ठी को नीम की पत्ती, फल या दातुन मुँह में डालने से नीच योनियों की प्राप्ति होती है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
               🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *बहुत समस्या रहती हो तो* 🌷
🙏🏻 *जिनको कोई तकलीफ रहती है, कर्जा है, काम धंधा नहीं चलता, नौकरी नहीं मिलती तो*
➡ *सोमवार का दिन हो ना सुबह बेलपत्र, पानी और दूध | पहले दूध और पानी शिवलिंग पर चढ़ा दो फिर बेलपत्र रख दो |*
*त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रियायुधं | त्रिजन्म पापसंहारम् एकबिल्वं शिवार्पणं ||*
➡ *पाँच बत्ती वाला दीपक जलाकर रख दो और बैठकर थोडा अपना गुरुमंत्र जपो | तो जप भी हो जायेगा, जप का जप, पूजा की पूजा, काम का काम |*
➡ *मंगलवार को २ मिनट लगेंगे अगर गन्ने का रस मिल जाय थोडा सा या घर पर निकाल सकते है | वो थोडा रस शिवलिंग पर चढ़ा दिया |*
*मृत्‍युंजय महादेव त्राहिमाम् शरणागतमं | जन्म मृत्यु जराव्याधि पीड़ितं कर्मबंधनेहि  ||*
➡ *बुधवार को थोडा जप कर लिया जल आदि चढ़ा दिया, नारियल रख दिया अगर हो तो नहीं तो कोई जरुरत नहीं है | जिनको ज्यादा तकलीफे है उनके लिए है और जिनको न हो तो हरि ॐ तत् सत् बाकी सब गपसप |*
🙏🏻 *
          🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *चैत्र नवरात्रि* 🌷
🙏🏻 *भय का नाश करती हैं मां कात्यायनी*
*नवरात्रि के षष्ठी तिथि पर आदिशक्ति दुर्गा के कात्यायनी स्वरूप की पूजा करने का विधान है। महर्षि कात्यायनी की तपस्या से प्रसन्न होकर आदिशक्ति ने उनके यहां पुत्री के रूप में जन्म लिया था। इसलिए वे कात्यायनी कहलाती हैं। नवरात्रि के छठे दिन इनकी पूजा और आराधना होती है। माता कात्यायनी की उपासना से आज्ञा चक्र जाग्रृति की सिद्धियां साधक को स्वयंमेव प्राप्त हो जाती हैं। वह इस लोक में स्थित रहकर भी अलौलिक तेज और प्रभाव से युक्त हो जाता है तथा उसके रोग, शोक, संताप, भय आदि सर्वथा विनष्ट हो जाते हैं।*
          🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *चैत्र नवरात्रि* 🌷
🙏🏻 *नवरात्र की षष्ठी तिथि यानी छठे दिन माता दुर्गा को शहद का भोग लगाएं ।इससे धन लाभ होने के योग बनने हैं ।*

📖 *
          🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞
🙏🏻🌷💐🌸🌼🌹🍀🌺💐🙏🏻मेष

आज का दिन कुछ विलक्षण प्रतीत हो रहा है। नई ऊर्जा और उत्साह के साथ सप्ताह का आरंभ करेंगे। कोई अनूठा विचार भविष्य में बड़े लाभ का सूत्रपात करेगा। लेकिन स्वास्थ्य के मामले में सजग रहना होगा। शरीर में थकान महसूस करेंगे, योग और ध्यान करना फायदेमंद रहेगा। जीवनसाथी से प्रेम और सहयोग बना रहेगा।

वृषभ:

आज का दिन कुछ खास होने का अहसास देता है। कार्यक्षेत्र से मिली कोई अच्छी खबर मन को हर्षित करेगी। स्वग्रही शुक्र इस राशि को आनंद और जोश प्रदान करेगा। जीवनसाथी के साथ रोमांटिक पल गुजरेंगे। छोटी-छोटी बातों में आनंद मनाएंगे। लाभ की योजना बनेगी। खान-पान में तेल मसाले का प्रयोग कम करें।

मिथुन:

आज का दिन उत्साह वृद्धि करने वाला है। आज गुरु के स्थान परिवर्तन से मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि में वृद्धि होगी। लेकिन स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा, गले में खराश व खांसी हो सकती। कहीं ये वो तो नहीं का डरावना अहसास कराएगी। चिंता छोड़कर परिवार के साथ मिलजुलकर समय बिताइए।
कर्क:
राशि स्वामी चंद्र शुक्र के साथ उत्तम योग बना रहा है। आज आपके आनंद में वृद्धि होगी। मंगल और शनि की कर्क पर सीधी दृष्टि किसी तनाव का सबब बनेगी। गर्दन या पीठ में कष्ट संभव है। घर से काम कर रहे हैं तो लगातार बैठे ना रहें। किसी बात को लेकर जीवनसाथी से विवाद हो सकता है।

सिंह:
तनाव के हालात में आज का दिन आत्मविश्वास में इजाफा करेगा। कोई अच्छी खबर किसी दुआ की तरह आएगी और हंसी ओढ़ कर होठों पर बैठ जाएगी। बुध की सीधी दृष्टि बुद्धि आज खूब चलेगी। फोन पर बातचीत से ही कारोबार में लाभ प्राप्त कर सकेंगे। कुछ देर का मौन व्रत सुख देगा। बच्चों के साथ हंसी-खुशी के पल बिताएं।

कन्या:
सूर्य की सीधी दृष्टि जहां आज इरादों को दम देगी वहीं स्वास्थ्य को नर्म और दिमाग को गर्म करेगी। आपके लिए बेहतर होगा कि उतावलेपन से बचें और शांत चित्त से काम करें। मीठी वाणी से रिश्तों को मधुर बनाएं। जीवनसाथी से विवादों में ना उलझें। सकारात्मक विचारों से सब बेहतर होगा। बच्चों की सेहत का ध्यान रखें।

तुला:
आज का दिन मिलाजुला रहेगा। कोई अच्छी खबर सुनने को मिलेगी। राशि स्वामी शुक्र अपनी ही राशि में चन्द्रमा के साथ बैठ कर मुस्कुराएगा जो सुख का अहसास कराएगा। जीवनसाथी से प्रेम और सहयोग मिलेगा। तुला पर शनि की दृष्टि किसी जुगाड़ से लाभ का संकेत दे रही है।

वृश्चिक:

आज का दिन आपके लिए उम्मीद की किरणों को जगा रहा है। घर में लॉक डाउन होकर आपका हौसला भी आज बुलंद रहेगा। चंद्रमा की शुभ दृष्टि जहां मानसिक सुख का सूत्रपात कर रही है। वहीं शुक्र के शुभ प्रभाव से विपरीत परिस्थितियों में भी देह को आराम मिलेगा। शाम का समय आपके लिए काफी रोमांटिक हो रहा है।
धनु:
आज का दिन बीते कई दिनों से घर में बैठकर बोर हो रहे लोगों में उत्साह और आत्मविश्वास को बढ़ाएगा। राहु की नजरों के प्रभाव से आप रोजमर्रा के काम से हटकर कुछ नया करेंगे। परिवार में आपसी तालमेल बढ़ेगा, रुचिकर खान-पान का आयोजन हो सकता है। संचार माध्यम से अपनों से संपर्क होगा।

मकर:
आज गुरु आपकी राशि में आकर आपको मुस्कुराहट देने वाले हैं। आज आपकी हिम्मत हवा का रुख़ मोड़ देगी। कई दिनों की बेचैनी आज दम तोड़ देगी। कोई विशिष्ट विचार बल देगा। किसी मित्र का सहयोग रीढ़ की हड्डी सा संबल देगा। किसी अपने की मदद से आपकी परेशानी दूर हो सकती है।

कुंभ:
आज का दिन होठों पर खुशी लेकर आ रहा है। कोई सद्विचार आपके हौसले को बुलंद कर रहा है। आध्यात्मिक विचारों से कई गुत्थियां सुलझेंगी। घर में धर्म-कर्म का आयोजन कर सकते हैं। विनम्रता सुख का संचार करेगी। पैरों और पीठ का दर्द कष्ट दे सकता है।

मीन:
अनूठे विचारों के मन में आने से आज आप कुछ नया और बेहतर काम करके दिन को अपने पक्ष में कर पाएंगे। अनावश्यक चिंतन के त्याग से हर्ष होगा। अनावश्यक वाद-विवाद से तनाव बढ़ेगा। योग व प्राणायाम से लाभ मिलेगा। अच्छी नींद का सुख मिलेगा। भविष्य में होने वाले लाभ के संकेतों से आपको आनंद मिलेगा।

जिनका आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं

अंक ज्योतिष के अनुसार आपका मूलांक तीन आता है। यह बृहस्पति का प्रतिनिधि अंक है। ऐसे व्यक्ति निष्कपट, दयालु एवं उच्च तार्किक क्षमता वाले होते हैं। अनुशासनप्रिय होने के कारण कभी-कभी आप तानाशाह भी बन जाते हैं। आप दार्शनिक स्वभाव के होने के बावजूद एक विशेष प्रकार की स्फूर्ति रखते हैं।

आपकी शिक्षा के क्षेत्र में पकड़ मजबूत होगी। आप एक सामाजिक प्राणी हैं। आप सदैव परिपूर्णता या कहें कि परफेक्शन की तलाश में रहते हैं यही वजह है कि अकसर अव्यवस्थाओं के कारण तनाव में रहते हैं।


शुभ दिनांक : 3, 12, 21, 30

शुभ अंक : 1, 3, 6, 7, 9,


शुभ वर्ष :   2028, 2030, 2031, 2034, 2043, 2049, 2052, 

ईष्टदेव : देवी सरस्वती, देवगुरु बृहस्पति, भगवान विष्णु

शुभ रंग : पीला, सुनहरा और गुलाबी

कैसा रहेगा यह वर्ष
आपके लिए यह वर्ष सुखद है। किसी विशेष परीक्षा में सफलता मिल सकती है। नौकरीपेशा के लिए प्रतिभा के बल पर उत्तम सफलता का है। नवीन व्यापार की योजना भी बन सकती है। दांपत्य जीवन में सुखद स्थिति रहेगी।

घर या परिवार में शुभ कार्य होंगे। महत्वपूर्ण कार्य से यात्रा के योग भी है। मित्र वर्ग का सहयोग सुखद रहेगा। शत्रु वर्ग प्रभावहीन होंगे।
07:19

सिंगरौली कोरोना वायरस के चलते, देश को प्रधान मंत्री के लॉक डाउन के आदेश का मजाक बना रही एनसीएल की आउटसोर्सिंग कंपनियां।



पढ़े,के सी शर्मा की एक खास रिपोर्ट


सिंगरौली/सोमभद्र जिले की एनसीएल मे आउटसोर्सिंग का कार्य कर रही कंपनियां क्यो नही कर रही प्रशासन के आदेश का पालन और जिला प्रशासन एवं प्रवंधन मौन क्यो?
आखिरकार जिम्मेदार जिला प्रशासन इन कंपनियों पर इतना मेहरवान क्यों है?,

जैसा कि महा प्रचंड रूप धारण किये कोरोना वायरस की गंभीरता को देखते हुए देश के प्रधानमंत्री देश को संबोधित करते हुए सम्पूर्ण देश में लॉक डाउन का आवाह्न किया है। जिसमे मात्र मेडिकल सुविधायें, गैस एजेंसी, डीजल पेट्रोल पंप, किराने की दुकान,सब्जी, फल की दुकान, दूध की सुविधा, ओ भी सीमित समय 12 बजे से 04 बजे तक के लिए इसके अलावा सारे प्रोडक्सन बैन किया है,कोई भी अपने घरों से बाहर नही निकलने का आदेश जारी किया है इसके बावजूद  जिला प्रशासन के नियमों की धज्जियाँ आउटसोर्सिंग की कंपनियां उड़ा रही है।
जिला प्रशासन के द्वारा कहाँ गया है कि सीमित कर्मचारियों मे खदान चलाये लेकिन इनके द्वारा प्रशासन के नियमों को तार- तार करते हुए पुरे कर्मचारियों को बुलाकर कार्य कराया जा रहा है लॉक डाउन के पूर्व जितने कर्मचारी कार्य कर रहे थे आज भी उतने ही कर्मचारियों से कार्य करवाया जा रहा है।
अगर प्रशासन को इनकी करतूत देखनी हो तो शिफ्टिंग समय एवं मेंटिनेंस समय देख सकते है कि कितना नियमो का पालन हो रहा है।
इन कंपनियों के द्वारा अपने फायदे के लिए लोगो की जान से ऐसा खिलवाड़ किया जा रहा है जैसे मानो कोरोना वायरस जैसी महामारी का कोई डर ही न हो।आखिर आउटसोर्सिंग कंपनियां क्यो मौत का सौदागर बनने की सोच रही है?
प्रशासन की छूट का कही न कही नाजायज फायदा उठा रही है ?
  आखिरकार भोले-भाले मजदूरों का जीवन इतना सस्ता कैसे होगया, कौन बतायेगा ?

जहां देश के हर कोनों में अगर कोई गरीब घर से बाहर निकलता है तो उसे पुलिस प्रशासन द्वारा मार कर घर के अंदर भेज दिया जाता रहा है | वही आउटसोर्सिंग कंपनियों में  मजदूरों को शिप्ट बस के सहारे  कम्पनी के अंदर जाने से क्यों नही रोका जाता है जिसमे कई मजदूर एक साथ जाते है?
 यह एक महत्वपूर्ण सवाल विचारणीय है?
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कंपनी प्रबंधन द्वारा कहा गया है कि अगर कोई मजदूर कार्य पर नही आएगा तो उसका पैसा तो मिलेगा तो है ही नही उसको काम से भी निकाल दिया जायेगा।
ऐसे मे कैसे होगा लॉक डाउन का पालन या प्रधानमंत्री मंत्री के लॉक डाउन को आउटसोर्सिंग की कंपनियां खत्म करने मे लगी नही लगती  है?
इन कंपनियों के द्वारा कुछ सीमित  मजदूरों को मास्क बाटकर और मजदूरों को बिना मास्क बाटे ही कार्य करवाया जा रहा है।साथ ही ए भी कहा गया है कि अगर किसी से कंपनी के बारे मे शिकायत की तो काम से निकाल देंगे और फिर कभी नही रखेंगे,तो क्या यह धमकी नही है क्या?

यदिआउटसोर्सिंग कंपनियों की तानाशाही से अगर क्षेत्र में कोरोना वायरस किसी को हुआ तो उसका जिम्मेदार कौन, होगा यह एक गम्भीर सवाल जिम्मेदारों के समक्ष खड़ा है₹
07:06

भाजपाइयों द्वारा जरूरतमंदों को बांटी गई खाद्य सामग्री



माधोपुर@रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा। वैश्विक महामारी कोरोना का कहर दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है। इस स्थिति में पूरे देश में ही नहीं बल्कि राज्य भर में प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री की अपील पर आम जनता लॉक डाउन का पालन कर रही है। जिसके चलते अधिकांश लोग घरों में कैद है। रोजगार के अभाव में दिहाड़ी मजदूरों, गरीब, असहाय एवं जरूरतमंद लोगों के सामने खान-पान से लेकर के अन्य जरूरती सामानों का अभाव बना हुआ है। ऐसे जरूरतमंद लोगों के लिए प्रशासन सहित कई सामाजिक संस्थाएं, एनजीओ दो समय का भोजन व अन्य जरूरत का सामान जुटाने में लगे हुए हैं। इसी के चलते भाजपा शहर मंडल सवाई माधोपुर के शक्ति केंद्र हाऊसिंग बोर्ड में भाजपाइयों द्वारा जरूरतमंदों को 5 -5 आटे के पैकेट वितरित किए। इस मौके पर भाजपा जिलाध्यक्ष भरतलाल मथुरिया, मण्डल अध्यक्ष श्री चरण महावर, बजरिया मण्डल अध्यक्ष अनिल  शर्मा, राजेंद्र  चन्देल, चन्दन सिंह नरूका, ओम सुवालका, रोहित गुप्ता आदि मौजूद थे। इस दौरान शक्ति केंद्र संयोजक जयसिंह जी राजावत व दिपक जी पार्षद न भी अपनी उपस्थिति दी।

Sunday, 29 March 2020

19:19

पीकेएच ग्रुप प्रबंधक डॉ लवकुश ने 41 मुसहर परिवारों में खाद्य सामग्री वितरित की




दुद्धी।पीकेएच ग्रुप ( प्रसाद कुंवर हॉस्पिटल) के प्रबंधक डॉ लवकुश प्रजापति  अपने स्वास्थ्यकर्मी सहयोगियों के साथ आज शाम4 बजे मुसहर बस्ती पहुँचे। जहाँ पर अपनी बस्ती में गाड़ियों आता देख खाद्य सामग्री मिलने की आस में मुसहर जाति के लोगों के चेहरे पर खुशी झलकने लगी। सर्वप्रथम डॉ लवकुश प्रजापति ने अपने स्वास्थ्यकर्मियों से खाली मैदान में   चूना गिरवाकर कई गोले बनवाएं वहां मुसहर लोगों के प्रत्येक परिवार से एक व्यक्ति को सोशल डिस्टेन्स मेंटेन करवाते हुए उन्हें खड़ा कराया तत्पश्चात प्रत्येक परिवार को 6 किलो चावल व दो किलो आलू अपने हाथों ,पुलिसकर्मियों के हाथों व अपने स्वास्थ्यकर्मियों के हाथों बांटा।इस दौरान कुल 42 पैकेट खाद्य सामग्री मुसहरों में बांटी गई।साथ ही उनके ईष्टमित्र  भाजपा नेता क्रय-विक्रय अध्यक्ष रामेश्वर राय ने प्रत्येक परिवार को एक नहाने का लाइफबॉय साबुन ,एक कपड़ा धोने का सेल्जर साबुन वितरित किया और नियमित नहाने और स्वच्छ कपड़े पहने की नसीहत दी।श्री रॉय ने सुझाया कि खाने से पहले अच्छे से साबुन से हाथ धोए।
 डॉ लवकुश ने कहा कि मुसहर जाति के लोग मांग कर खाने वाली जाति है।इस समय लॉक डाउन के समय तो उन्हें कुछ मिल नहीं रहा इसलिए इन्हें इस समय मदद की काफी जरूरत है ।इस दौरान विशेष बात यह दिखी की सभी लोगों ने सोशल डिस्टेंस का ख्याल रखा साथ ही सामग्री बांटने से पहले मास्क सिर पर कैप व हाथों को ओटी सेनेटाइजर से हाथों को सेनेटाइज कर खाद्य सामग्री का वितरण किया।साथ ही अन्य लोगों के लिए भी मिशाल पेश की।
  इस मौके पर  इंस्पेक्टर सीपी पांडेय ,एसएसआई वंशनरायण यादव , एसआई लालबहादुर बिंद के साथ स्वास्थ्य कर्मी मौजूद रहें।
18:28

लॉकडाउन के दौरान "एनसीएल परिवार" ने असहाय एवं ग़रीबों की मदद के लिए बढ़ाया हाथ



सिंगरौली लॉकडाउन के दौरान "एनसीएल परिवार" ने  असहाय एवं ग़रीबों की मदद के लिए बढ़ाया हाथ
 आज ज़ब  राष्ट्र कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ निर्णायक जंग लड़ रहा है, इस विषम एवं चुनौती पूर्ण समय में कोल इंडिया की अनुषंगी कम्पनी एनसीएल  ‘मानवीय संवेदना के साथ राष्ट्र की ऊर्जा संरक्षा को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से अनवरत प्रयत्नशील है l

लॉकडाउन के दौरान एनसीएल परिवार असहाय एवं ग़रीबों की मदद के लिए लगातार प्रयास  कर रहा  है l साथ ही एनसीएल ज़िला प्रशासन को भी इस मुहिम में हर सम्भव सहयोग कर रही है l
*एनसीएल ब्लाक -बी की मुहिम* :
 ब्लॉक बी क्षेत्र में सामाजिक निगमित दायित्व के अंतर्गत दिन शनिवार  को सेमुआर  पंचायत के अंतर्गत महदेइया रेलवे स्टेशन के पास रह रहे दिहाड़ी मजदूर परिवारों को 10 किलो गेहूं, 5 किलो चावल व दो किलो दाल का वितरण किया गया |इस दौरान करीब 60 परिवारों की सहायता की गयी |

*एनसीएल अमलोरी की मुहिम* :
अमलोरी क्षेत्र द्वारा  सामाजिक निगमित दायित्व  के  अंतर्गत आस-पास के क्षेत्र में वार्ड 25 मे 150 नग, वार्ड 26 मे 120 नग, वार्ड 28 मे 150 नग एवं एनसीएल पुनर्वास क्षेत्र ग्राम नन्दगाँव मे 100 नग मास्क वितरित किये  गए  । साथ ही साथ एनसीएल अमलोरी परियोजना के द्वारा सीएसआर के अंतर्गत "कौशल विकास उन्नयन योजना" के तहत प्रशिक्षित 200 ग्रामीण महिलाओं द्वारा निर्मित 1000 नग (एक हजार नग) मास्क  रु. 15.00 प्रति मास्क के दर से क्षेत्रीय ग्रामीणों में वितरित करने  के उद्देश्य से क्रय किया गया है जिनको  आस पास के क्षेत्र में बाँटा   जा रहा है |


*एनसीएल बीना की मुहिम* :

एन सी एल बिना की टीम के द्वारा समीपवर्ती गांव बरवानी के प्रधान को 300 मास्क सौंपे गए |
बीना प्रबंधन जिला  प्रशासन को भी इस मुहिम में हर सम्भव सहयोग कर रहा है ,  इसी कड़ी में बीना क्षेत्र ने सोनभद्र ज़िला प्रशासन द्वारा स्थापित पब्लिक पुलिस अन्नपूर्णा बैंक को 500 पैकेट खाद्य सामग्री सौंपी ।
16:31

गरीबों की मदद के लिए आगे आये उप पुलिस अधीक्षक पुलिस की पहल से जरुरतमन्द को मिला खाद्यान्न सामग्री



ओबरा(सोनभद्र)।  वैश्विक आपदा कोरोना वायरस के कारण देश के अन्दर लॉकडाउन का सामना कर रहे 130 करोड़ नागरिकों के हितों के लिए भारत सरकार समेत तमाम सामाजिक संगठन पुरी ताकत से आर्थिक स्थिति को बनाये रखने की दारोमदार सम्भाले हुए है।
ऐसा ही एक बाकैया नगर ओबरा में भी देखने को मिला स्थानीय पुलिस क्षेत्राधिकारी भाष्कर वर्मा ने सुभाष तिराहे पर गरीबों की मदद के लिए पहल की, श्री वर्मा ने निरीह गरीब तपके के परिवारजनों के भरण पोषण के लिए खादय सामग्री  वितरित कर पुलिस आपकी मित्र स्लोगन को चरितार्थ कर दिखाया। जिसे देख नगर के व्यापारीयों व समाजसेवी संगठनों ने भी प्रंशसा की और पुरे नगर में भारी पैमाने पर मुस्तैद पुलिसकर्मीयों के सहयोग की बात कही। ओबरा थाना प्रभारी शैलेश राय ने गरीबों की आर्थिक मदद के साथ साथ स्वच्छता को बरकार रखने की अपील नगरवासीयों से किया गया। सामग्री वितरण में मुख्यतः आटा 5 किलो, चावल 5 किलो, आलू 3 किलो, दाल 1 किलो, नमक एक पैकेट, तेल आधा किलो, हल्दी व मसाला प्रदान किया गया।
इस दौरान चौकी ईंचार्ज राम अवतार सिंह, शैलेन्द्र, जोहरा बेगम, अनिल सहित दर्जनों पुलिसकर्मी मौजुद रहे।
16:26

दुसान में फंसे हुए मजदूरों को पुलिस पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक के द्वारा भोजन मुहैया कराई गई



ओबरा/सोनभद्र। ओ बरा पुलिस पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक के द्वारा  दुसान में फंसे हुए कुछ बाहरी मजदूरों को राशन की व्यवस्था करवाई गई। जिसमें दुसान कंपनी के मैनेजर लाल बाबू के द्वारा यह बताया गया हमारे यहां कुछ मजदूर बाहर से आकर फंसे हुए हैं उनके पास राशन खत्म हो गई है और न ही उनके पास पैसे है और न ही भोजन की व्यवस्था नहीं हो पा रही है। इसकी जानकारी मिलने पर उनको पुलिस पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक के तहत राशन मुहैया कराने की व्यवस्था की गई है।
जिसमें प्रमुख रूप से ओबरा सीओ भास्कर वर्मा ओबरा थाना प्रभारी शैलेश राय ,चौकी इंचार्ज कृष्ण मुरारी सिंह पुलिस बल के साथ तेनाथ रहे।
16:21

करणी सेना की अपील स्वयं के जीवन के लिए प्रशासन की करें मद्त



बदायूं--   करणी सेना के जिला अध्यक्ष गोविंद सिंह राणा ने इस समय चल रही विश्वव्यापी महामारी से निजात पाने के लिए सभी जनपद व देशवासियों से आग्रह किया है कि हम सभी को इस संकट की घड़ी में शासन प्रशासन का सहयोग करना चाहिए क्योंकि उपाय ही इसका बचाव है हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने जनता कर्फ्यू का जो आव्हान किया था वह हम सभी के जीवन सुरक्षा से संबंधित है क्योंकि जो महामारी चल रही है  उसका इलाज सिर्फ संयम ही है विश्व में ऐसे देश तबाही की कगार पर हैं आज जो संसाधनों से परिपूर्ण थे परंतु वहां भौतिकवादी व्यवस्थाओं में व्यस्त होकर जनजीवन इस महामारी से नष्ट हुए हैं हमारा भारत देश वैदिक और सांस्कृतिक आध्यात्मिक सोच रखते हुए देश को बचाने और स्वयं को सुरक्षित रखने के लिए समाज के सभीको सभी लोगों को जनता कर्फ्यू का पालन करना चाहिए अगर दस बीस दिन हम लोग अपने घरों में रहे तो जीवन सभी का सुरक्षित रहेगा घर परिवार में बच्चे बुजुर्ग स्त्री पुरुष सभी अपने जीवन को समझ कर इस देश की सोचें थोड़े दिन दूरियां बना कर रहे सैनिटाइजर साबुन आदि से सफाई रखें स्वच्छता जीवन का मंत्र है किसी व्यक्ति को कोई परेशानी नहीं होगी हमारे देश का प्रशासन और शासन 24 घंटे आम जनमानस की सेवा में तत्पर है जिला प्रशासन बदायूं जनता की सेवा में पूर्ण रूप से समर्पित है खाने पीने की जरूरी वस्तुएं समाजसेवी संगठनों द्वारा गरीब बंधुओं को वितरित की जा रही हैं वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब असहाय तबका के लोग कुछ संकट में स्थिति में हैं वहां के धनाढ्य स्वयंसेवी जनप्रतिनिधियों से अपील है कि ऐसे लोगों का सहयोग करें वैसे शासन से कई योजनाओं का आगाज हो चुका है परंतु उसमें उन तक पहुंचने में थोड़ा समय लगेगा ऐसी स्थिति में हम सभी को सहयोग करना चाहिए उत्तर प्रदेश के मुखिया महाराज योगी आदित्यनाथ जी रात दिन एक कर की शासन प्रशासन जनता का सहयोग कर रहे हैं तो हम सभी को इस संकट की स्थिति मैं थोड़ा संयम बरतना चाहिए घर रहे स्वच्छ रहें स्वस्थ रहें जीवन है तो फिर मुलाकात होगी जान है तो जहान है कुछ दिन की दूरी सही वे वजह रोड पर ना आए पुलिस प्रशासन का सहयोग करें
09:35

कोरोना से लड़ाई में बाबा रामदेव मंदिर मलारना चौड़ ने जरूरतमंदों की मदद के लिए बढ़ाए हाथ



 सवाई माधोपुर@ रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा।मलारना डूंगर उपखंड क्षेत्र के मलारना चौड़ कस्बा स्थित बाबा रामदेव मंदिर सियारामधाम आश्रम के सौजन्य से कोरोना वायरस संक्रमण के कारण देशव्यापी लोक डाउन के चलते जरूरतमंद लोगों को राहत पहुंचाने के उद्देश्य से शनिवार को सेवा कार्य किया गया।इस दौरान आर्थिक मदद स्वरूप जरूरतमंदों को खाद्य व राशन सामग्री तक वितरित की गई।  ज्ञातव्य है, कि लॉक डाउन के कारण इस समय दिहाड़ी मजदूर व गाड़िया लौहार जैसे दैनिक मजदूरी कर अपना और अपने परिवार का पेट पाने वाले लोगों के समक्ष रोजगार को लेकर संकट की स्थिति बनी हुई है। रोजगार के अभाव में उत्पन्न आर्थिक तंगी की वजह से जीवन यापन करने में इन व्यक्तियों को हर पल परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इन लोगों को 2 जून की रोटी के लिए मशक्कत करते देख बाबा रामदेव मंदिर सियाराम धाम मलारना चौड़ के महंत श्री गिर्राज दास जी महाराज ने आश्रम की ओर से पहल करते हुए एक भामाशाह के रूप में उनकी मदद करने का बीड़ा उठाया है । शनिवार को सेवा कार्य के तहत आश्रम के संत गिर्राज दास महाराज ने इनके डेरों पर पहुंचकर  खाद्य व राशन सामग्री सहित अन्य आवश्यक वस्तुएं वितरित कर इन परिवारों को तत्काल राहत प्रदान की। इस दौरान उन्होंने कहा कि ऐसे जितने भी लोग हैं जिन्हें 2 जून की रोटी भी नसीब नहीं हो रही है , उन लोगों की मंदिर प्रशासन द्वारा अवश्य ही मदद की जाएगी । जरूरतमंदों के  लिए आश्रम के द्वार 24 घंटे खुले हुए हैं। आश्रम इस विपदा की स्थिति में जरूरतमंद ,गरीब व असहाय लोगों की सहायता के लिए हर संभव मदद को तैयार है।
02:04

कोरोना संबंधित दवाओं के अधिग्रहण के लिए सीएमएचओ को सौंपी जिम्मेदारी


सवाई माधोपुर@रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा। राजस्थान सरकार चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी अधिसूचना के द्वारा,  विश्व स्वास्थ्य संगठन तथा सयुक्त राष्ट्र द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण को पेंडेमिक घोषित करने तथा इस संदर्भ में उत्पन्न स्थिति के परिप्रेक्ष्य मे राजस्थान एपिडेमिक डिजीजेज एक्ट, 1957 की धारा (2) मे प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम हेतु राजस्थान सरकार, प्रदेश में निजी क्षेत्र (समस्त सी एण्ड एफ डिस्ट्रीब्यूटर्स, स्टॉकिस्ट, थोक विक्रेता एवं रिटेल विक्रेता) मे उपलब्ध निम्न दवाओं (घटक युक्त दवाओं) को व्यापक लोक हित में तुरंत प्रभाव से  अधिगृहित किया है। जिला कलेक्टर डॉ. सिंह ने आदेश में बताया कि दवा:-
1. रिटोनेविर $ लोपिनेविर केपसूल/टेबलेट(50 एमजी $ 200 एमजी) एंड 33.3एमजी$133.3 एमजी)
2. ओसेल्टामिविर 75 एमजी केपसूल, ड्राइ सीरप (12 एमजी/एमएल)
3. हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन 200/400 एमजी टेबलेट।
अधिसूचना के परिप्रेक्ष्य में जिला कलेक्टर डॉ. एस.पी. सिंह ने सवाई माधोपुर राजस्व क्षेत्र सवाई माधोपुर जिले में संचालित थोक एवं रिटेलर विक्रेताओं के पास उपलब्ध उक्त दवाईयो के स्टॉक को अधिगृहित की गई है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सवाई माधोपुर को निर्देशित किया है कि इस आदेश की पालना में जिले में उपलब्ध स्टॉक की उपलब्धता एवं अधिगृहित की कार्यवाही संपादित करावें।

Saturday, 28 March 2020

22:12

पुलिस के जवानों ने गरीब परिवारों को राशन बांट कर पहुंचाई राहत



कानपुर देश मेकोरोना नाम के इस घातक वायरस के संपर्क से अपने देश की जनता को बचाये रखने के लिये सरकार द्वारा कई जिलो को लाकडाउन कर दिया गया है। जिसके बाद से लोगो का काम, धंदा, मेहनत-मजदूरी सब बंद हो गया है। जिस कारण से लगभग 40% से 50% देश की गरीब जनता व प्राइवेट नौकरी करने वाले मिडिल क्लास लोगो के पास अपना पेट भरने के लिये राशन व राशन खरीदने का पैसा नही बचा है जिससे लोग अपना व अपने परिवार का पेट नही भर पा रहे है और वह भूख से बहुत दुखी व परेशान है_

_जिसके चलते आज कई जगहो पर कच्ची बस्ती के लोगो ने एक जगह एकत्र होकर अपनी बात मीडिया व पुलिस को बताई_

_जिसको देखते हुऐ आज दिनाँक 28/03/19 को गोविन्दनगर थाना अन्तर्गत आने वाली रतनलाल नगर चौकी पुलिस व दादा नगर फैक्ट्री एरिया चौकी पुलिस ने अपने छेत्र मे आने वाली सभी कच्ची बस्ती के गरीब व भूखो को बुलावाकर उन्हे लंच पैकेट दिये व उनके घर जा-जाकर के राशन का समान जैसे तेल,आलू, आटा आदि चीजे बांटी जिससे लोगो को थोड़ी राहत मिल सकी।_

_साथ ही साथ पुलिस ने हाईवे मे कोसो दूर चल कर पैदल अपने घर जा रहे लोगो को को भी लंच पैकेट देकर उन्हे खाना खिलाया_
                        आनन्द बाबा
20:53

किराए के साथ बिजली का बिल भी माफ करें सरकार -आप नोएडा



नोएडा वैश्विक कोरोना महामारी से देश में आई आपदा से नोएडा एवं दिल्ली एनसीआर सभी लोंगों की आय का बन्द हो गई है इससे सबसे ज्यादा वह लोग प्रभावित हो रहे है जिनका अपना घर नही ऐसे लाखों की लोंगों ध्यान रखते हुये 23 मार्च को दिल्ली के मुख्य मंत्री अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली के मकान मालिकों से अपील की थी कि आप अपने किरायेदारों का ध्यान रखे। किरायेदारों से अगले एक दो महीने का किराया आगे की किस्तों में लें इसी अपील को सोशल मीडिया के माध्यम से आम आदमी पार्टी गौत्तमबुद्ध नगर के जिलाध्यक्ष भूपेन्द्र जादौन ने नोएडा ,गौत्तमबुद्ध नगर के किरायेदारों के लिये अपील करते हुये कहा था कि मकान मालिक चाहे तो एक दो महीने किराया माफ़ कर दे या फिर आने वाले महीनों में किस्तों में ले किसी किरायेदार को किराये के लिये विवश नही किया जाये।
यह जानकारी देते हुए जिला प्रवक्ता संजीव निगम ने बताया कि इस आपदा से हम सब को मिल कर लड़ना है गौत्तमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी द्वारा आज किरायेदारों के सहूलियत के लिये नोटिस जारी किया गया जिसमें कोई भी मकान मालिक किराये के लिये जबरजस्ती नही करेगा आम आदमी पार्टी इसका स्वागत करती है ।और जिलाधिकारी महोदय से माँग करती है जिले में सभी प्रकार घरेलू और व्यवसायिक आदि के बिजली के 3 महीने के बिलो को माफ किया जाए।

रामजी पांडे

17:12

खून में दौड़ रहा है जीवन बचाने का जज्बा-ब्लड डोनर दिलीप दुबे


सोनभद्र। राबर्ट्सगंज थाना क्षेत्र के रहने वाले जगरनाथ पाल ने बताया कि उनके चाचा का लड़का गोरखपुर मेडिकल कालेज में ब्लड के लिए जिन्दगी मौत से जूझ रहे है। जी हां इसे सच साबित कर रहे है रक्तदाता समूह से जुड़े लोग, देवरिया के रहने वाले दिनेश पाल जिनका 12 वर्षीय बेटा सनी पाल गोरखपुर बीआरडी  मेडिकल कॉलेज में भर्ती है जिसको आपरेशन के लिए दो  यूनिट खून की जरूरत थी एक यूनिट दिनेश पाल द्वारा दिया गया दूसरा यूनिट कोरोना की बचाव के लिए लगाए गए कर्फ्यू व लॉक डाउन की वजह से रक्त की व्यवस्था नही हो पा रही थी।
दिनेश पाल द्वारा इसकी सूचना ब्लड ग्रुप से जुड़े होने के कारण अपने परिचित रॉबर्ट्सगंज सोनभद्र के वरिष्ठ पत्रकार व अधिवक्ता विवेक कुमार पाण्डेय को दी विवेक कुमार पाण्डेय ने हिंडालको रेणुकूट के प्रयास रक्तदाता समूह एक मुहीम जिंदगी बचाने की संस्थापक सचिव ब्लड डोनर दिलीप दुबे से बात कर मदद मांगी। दिलीप दुबे ने तुरन्त गोरखपुर के रक्तदाता साथी व असिस्टेंट प्रोफेसर अमर सिंह से सम्पर्क कर अवगत कराया। अमर सिंह ने पहले मेडिकल कॉलेज के आस पास के साथियो से सम्पर्क किया लेकिन लॉक डाउन व कर्फ्यू के चलते कोई तैयार नही हुआ फिर उन्होंने  बातचीत के दौरान बताया कि आज 6 दिन बाद रक्तदान के चलते घर से बाहर निकला और तरंग सिनेमा से  12 किलो मीटर के दूरी तय कर मेडिकल कॉलेज पहुच कर इंसानियत और मानवता को जिंदा रखते हुए एक अपरिचित के लिए रक्तदान कर जीवन बचाने का कार्य किया इसीलिए रक्तदानियों को कहा जाता है देकर अपना रक्त बनाते है खून के रिश्ते तभी तो लोग कहते है आ गए फरिश्ते प्रयास सचिव ने बताया कि इस केस में उरई के साथी राजीव गोयल का भी सहयोग सराहनीय रहा तथा सेवा का मौका देने के लिए सोनभद्र वरिष्ठ पत्रकार विवेक कुमार पाण्डेय को धन्यवाद प्रयास सचिव ने आमजनों से एक आग्रह भी कि बड़े दौर गुजरे हैं जिंदगी के, यह दौर भी गुजर जायेगा, थाम लो अपने पांव को घरों में कोरोना भी थम जाएगा।
17:08

सवाई माधोपुर भाजपा शहर मंडल ने भामाशाह की मदद से बाटे भोजन के पैकेट



 माधोपुर@रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा। कोरोना महामारी की रोकथाम के मध्ये नजर जारी लॉक डाउन के चलते जरुरतमंदों की मदद के लिए शनिवार को भाजपा शहर मण्डल अध्यक्ष श्रीचरण महावर, नगरपरिषद उपसभापति कपिल जैन व वरिष्ठ भाजपा कार्यकर्ता राजेन्द्र जैन के निवेदन पर ट्रांसफार्मर के पास स्थित ब्रम्हापुरी मौहल्ला  निवासी प्रेम चंद जैन ( रिटा. अध्यापक ) व उनके परिवार जनों शनिवार से सुबह-शाम लगभग 50 पैकेट खाने की व्यवस्था की जिम्मेदारी ली तथा आज से ही  ब्रम्हापुरी मौहल्ला, कुम्हार मोहल्ला, खटिक मोहल्ले में भोजन के पैकेट बांटे गए ..। भामाशाह के रूप में प्रेमचंद जैन का भाजपा शहर मंडल परिवार की ओर से बहुत-बहुत आभार जताया गया ।तथा शहर मण्डल में निवासरत अन्य भामाशाहों से भी आगे बढ़कर सहयोग देने के लिए अपील की गई । और कहा गया कि इस देशव्यापी समस्या में जरुरतमंदों की मदद के लिए अधिक से अधिक लोग मुक्त से सहयोग प्रदान करने में मददगार बने और
देशभक्ति का परिचय देते हुए पुण्य कमाने का शुभ अवसर नहीं गवाएं
17:02

मलारना चौड़ कस्बे में मुख्य मार्ग पर जमा हुआ गंदा पानी व कीचड़, बीमारी उत्पन्न होने की की आशंका



सवाई माधोपुर@रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा। एक ओर ओर जहाँ पूरा देश कोरोना जेसी वायरस जनित महामारी का दंश झेल रहा है, वहीं गांव एवं कस्बों में गंदे पानी के भराव और कीचड़ की वजह से मौसमी बीमारियों के पनपने का  खतरा भी प्रतिपल मंडराने लगा है। ऐसी स्थिति में मौसम जनित मलेरिया ,डेंगू व चिकनगुनियां जैसी बीमारियों के फैलने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है, क्योंकि  सड़कों पर फैल रहा गंदा पानी एवं नालियों में भरी पड़ी कीचड़ युक्त गंदगी से मच्छरों अन्य कीटाणुओं के पनपने का लगातार खतरा बना हुआ है। मलारना चौड़ कस्बे के अंदर से गुजर रहे कोटा- लालसोट मेगा हाईवे सड़क मार्ग पर श्री मीन भगवान मंदिर के समीप स्थित नाले की स्थिति भयावह है। इस नाले का गंदा पानी  गधा खाळ की तरफ बहता है, नाले में नाई मोहल्ला , मुख्य सड़क व मीणा हथाई आदि कॉलोनियों का पानी आता है। शुक्रवार को हुई हल्की बारिश के चलते नियमित सफाई के अभाव में नाला अवरुद्ध होने के कारण उफान खा गया। ऐसे में नाले में भरी गंदगी पानी के दबाव में मुख्य सड़क मार्ग पर आ डटी । जिसके कारण सर्वत्र गंदगी का आलम व्याप्त हो गया। गंदे पानी के भराव के चलते राहगीरों को आवागमन तक में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।हालांकि इस विषय को लेकर ग्राम पंचायत प्रशासन ने कस्बे में  नियमित सफाई की बात कही है, लेकिन इस जगह उनके दावे फेल होते हुए दिखाई दे  रहे है। क्योंकि कोरोना वायरस के प्रभाव के चलते लोक डाउन की स्थिति में कोई भी सफाई कर्मी सफाई करने को तत्पर नहीं है। ऐसे में जरूरी है, की मौसमी बीमारियों के प्रकोप को फेंलने से रोकने हेतु प्रशासन द्वारा साफ-सफाई की कार्यवाही बतौर वैकल्पिक व्यवस्था अमल में लाई जानी चाहिए। ताकि गंदे पानी और कीचड़ भरी गंदगी से लोगों को निजात मिल सके,और आवागमन में सहूलियत के साथ-साथ स्वास्थ्य भी सुरक्षित बना रहे।
16:56

गरीब बेसहारा लोगों की मदद में जी-जान से जुटे हैं सीटू कार्यकर्ता- गंगेश्वर दत्त शर्मा



नोएडा, कोरोनावायरस की वजह से लॉक डाउन के चलते मजदूरों, गरीब लोगों के सामने भुखमरी के हालात बनते जा रहे हैं मजदूर संगठन सीटू गौतम बुध नगर कमेटी के कार्यकर्ता असहाय बेसहारा गरीब लोगों की मदद में जी जान से लगे हुए हैं आज भी सीटू जिलाध्यक्ष गंगेश्वर दत्त शर्मा के नेतृत्व में गेजा गांव के पास मजदूरों की बस्ती में 100 किलो आटा, 100 किलो चावल, 20 किलो चीनी, 20 किलो दाल, 48 लीटर सरसों का तेल, नमक, कोलगेट, सर्फ, साबुन आदि लगभग ₹20000 का जरूरत का सामान बाजार से खरीद कर गरीब मजदूरों को दिया जिसका उन्होंने आपस में वितरण कर लिया इसी तरह कुछ और जगह गरीब लोगों की मदद करने का प्रयास सीटू कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया सीटू जिलाध्यक्ष गंगेश्वर दत्त शर्मा ने बताया कि सरकार द्वारा आर्थिक मदद की घोषणा तो की जा रही है लेकिन जरूरतमंद लोगों तक अभी तक कोई मदद नहीं मिल पा रही है यही कारण है कि बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर पलायन करने को मजबूर है और लोग पैदल ही अपने घरों के लिए जा रहे हैं जिसके चलते कोरोनावायरस के से संक्रमण का खतरा और बढ़ रहा है अगर इस ओर विशेष ध्यान नहीं दिया गया तो स्थिति चिंताजनक हो सकती है, इसलिए सरकार द्वारा अविलंब में जनधन खातों में ₹5000 भेजा जाए, इसी तरह भवन निर्माण मजदूरों के खातों में जल्द से जल्द पैसा ट्रांसफर किया जाए और प्रशासन की मदद से राशन डीलरों द्वारा डोर टू डोर राशन देने की व्यवस्था कराई जाए क्योंकि लॉक डाउन में घर से निकलना भी सही नहीं है तथा जिनके पास राशन कार्ड नहीं है और स्थाई नौकरी नहीं है उन्हें भी मुफ्त राशन देने की व्यवस्था की जाए तथा असंगठित क्षेत्र के रेहड़ी पटरी फुटपाथ के दुकानदार, ऑटो, रिक्शा चालक, घरेलू कामगार आदि जिनके पास बैंक खाते नहीं है उन्हें भी ₹5000 नगद दिया जाए।
साथ ही उन्होंने लोगों से अपील किया कि कोरोनावायरस के लिए संक्रमण का नियंत्रण एवं उससे बचाव हेतु सरकार/ जिला प्रशासन द्वारा दिए जा रहे सुझाव सावधानियां हेतु दिशा निर्देशों और लॉक डाउन का पालन करें और अपने घरों में रहकर सुरक्षित रहें।

रामसागर
16:00

लॉक डाउन में कोई भी मकान मालिक नही मांगेगा किरायेदार से किराया जबरदस्ती करने पर होगी जेल-डीएम



नोएडा कोरोना वायरस को देखते हुए नोएडा के मजदूर घरों को छोड़कर पलायन करने को मजबूर उनकी सबसे बड़ी समस्या कामकाज बंद और मकान का किराया सबसे बड़ी परेशानी बनी हुई है जोकि वह घर छोड़ने पर मजबूर हो गए इस पर नोएडा वासियों को बड़ी राहत नोएडा प्रशासन डीएम बीएन सिंह के आदेश पर कोई भी मकान मालिक 1 महीने का किराया नहीं बसूलेगा अगर कोई भी मकान मालिक किराया वसूलता है या किरायेदार को परेशान करता है जिसके बाद मकानमालिक के खिलाफ कोई किरायेदार शिकायत करता है तो  तो उस मकान मालिक पर  कानूनी कार्यवाही की जाएगी
और भारी जुर्माने के साथ ही जेल की हवा भी खानी पड़ेगी
बताते चलें कि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए डीएम ने पहले ही कुछ फोन नम्बर जारी किए है जो नीचे दिए जा रहे है
*डेल्टा कंट्रोल*
*लॉकडाउन हेल्पलाइन नंबर*
*8851066433* 

*चार्ली कंट्रोल* 
*लॉकडाउन हेल्पलाइन नंबर* *8851066523* 

*जोन 1 - नोएडा जोन*
*लॉकडाउन हेल्पलाइन नंबर* *88510664 13* 

*जोन 2 - सेंट्रल नोएडा जोन*
*लॉकडाउन हेल्पलाइन नंबर*
*8851066 514* 

*जोन 3 - ग्रेटर नोएडा जोन*
*लॉकडाउन हेल्पलाइन नंबर*
*8851066 516* 

*डीएम निवास समन्वित कंट्रोल रूम*
*लॉकडाउन हेल्पलाइन नंबर* *8851066 735*

13:10

सांसद जौनपुरिया ने दोनों ही जिलों में अपने निजी फंड से जरूरतमंद लोगों को भोजन के पैकेट और खाद्य सामग्री का किया वितरण, नगद राशि देकर भी की राहत प्रदान की



माधोपुर/टोंक@ रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा। टोंक- सवाई माधोपुर लोकसभा सदस्य सुखबीर सिंह जौनापुरिया द्वारा शुक्रवार को भी कोरोनावायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए जारी लॉक डाउन की स्थिति में गरीब, असहाय व जरूरतमंद लोगों की हर संभव सेवा व मदद की गई। सांसद जौनपुरिया ने गुरुवार की तरह ही एक बार फिर जहां शुक्रवार को टोंक जिला मुख्यालय पर  जरूरतमंद लोगों को  भोजन के पैकिट और अन्य ज़रूरत की चीजों का वितरण किया, वहीं नगद पैसे बांटकर भी तत्काल प्रभाव से लोगों को राहत प्रदान करने की भरपूर कोशिश की । यही प्रक्रिया सांसद द्वारा सवाई माधोपुर जिला मुख्यालय पर भी दोहराई गई। टोंक से सवाई माधोपुर जाते समय सांसद जौनपुरिया द्वारा उनियारा के पास सड़क मार्ग से मध्यप्रदेश के लिए आवागमन के साधनों के अभाव में पैदल यात्रा कर रहे दर्जनभर से अधिक भूखे- प्यासे राहगीरों को भी खाने के लिए भोजन के पैकेट दिए गए और भरपेट भोजन कराया गया। सवाईमाधोपुर पहुंच कर सांसद जौनपुरिया द्वारा सर्वप्रथम सर्किट हाउस में ज़िला पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ वर्तमान हालातों को लेकर आवश्यक मीटिंग की गई,जिसमें दर्जनों भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। उसके बाद सवाईमाधोपुर के बजरिया व सीमेंट फैक्ट्री क्षेत्रों में गाड़िया लौहार व अन्य जरूरतमंदों को भोजन के पैकेट और अन्य खाद्य सामग्री उपलब्ध करवाई गई। सांसद ने सभी उपस्थित लोगों को कोरोनावायरस के प्रकोप से बचाव के उपाय भी सुझाए, और हर वक्त मास्क का उपयोग करते हुए घर में ही रहने की सलाह दी। सुखबीर सिंह जौनपुरिया द्वारा कोरोना वायरस से बचाव के हेतु मास्क,सेनिटाईजर्स,हैन्ड ग्लब्स,राशन किट व फ़ूड पैकेट आदि सामग्री की उपलब्धता के लिए सांसद कोटे से सवाई माधोपुर जिले के लिए 25 लाख रुपए की स्वीकृति दी गई । जिसमें सवाई माधोपुर व गंगापुर सिटी विधानसभाओं के लिए क्रमशः 7 लाख 50  हजार व 7 लाख 50 हजार रुपए तथा बामनवास व खंडार तहसील के लिए क्रमशः 5 -5 लाख रुपए शामिल है। सांसद द्वारा इस आशय का पत्र भी सवाई माधोपुर जिला कलेक्टर एसपी सिंह को सौंपा गया। इस दौरान सांसद जौनपुरिया के साथ भाजपा नेता वीरेंद्र भाया सहित की कार्यकर्ता मौजूद थे। इसी प्रकार शुक्रवार को ही सांसद जौनपुरिया द्वारा टोंक जिले की चारों विधानसभाओं के लिए  भी 5 -5 लाख रुपए की राशि मतलब कुल मिलाकर 20 लाख रुपए की राशि स्वीकृत की गई । जिसका स्वीकृति पत्र सांसद द्वारा जिला पुलिस अधीक्षक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी के समक्ष जिला कलेक्टर टोंक को सौंपा गया। इस तरह सांसद द्वारा  कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क,सेनिटाईजर्स,हैन्ड ग्लब्स,राशन किट,व फ़ूड पैकेट आदि सामग्री हेतु सांसद निधि से संपूर्ण टोंक-सवाईमाधोपुर लोकसभा क्षेत्र की आठों विधानसभाओं के लिए कुल 45 लाख रूपये की राशि खर्च करने का प्रावधान किया गया। यही नहीं इसके अतिरिक्त और  भी जरूरत पड़ने पर जौनपुरिया द्वारा हर संभव मदद व सहयोग का भरोसा जिला प्रशासनिक अधिकारी को दिलाया गया, ताकि क्षेत्रवासियों को किसी प्रकार की चिकित्सा व भोजन संबंधी परेशानी नहीं उठानी पड़े। और  जरूरतमंद व्यक्तियों के लिए  जो भोजन पैकेट्स, सूखी खाद्य सामग्री या नगद राशि लोगों को वितरित की गई , वह उनके निजी फंड का हिस्सा थी।

13:00

दुद्धी राशन, अनाज, दवाई की आवश्यक्ता पूर्ति के लिए युवा शक्ति फाउंडेशन ने कसी कमर



दुद्धी, सोनभद्र।

"अंधेरा मांगने आया था रोशनी मुझसे,
हम अपना घर न जलाते तो और क्या करते"
ये शैर नगर के चंद युवाओं की कार्यशैली पर इन दिनों बिल्कुल सटीक बैठ रहा है। नैसर्गिक और साहसी रूप से प्रतिभावान युवाओं से लबरेज युवा शक्ति फाउंडेशन दुद्धी ने भारत लॉक डाउन के दौरान नगर व आसपास के ग्रामीण अंचलों में राजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने का संकल्प लेकर अपनी जाबांजी पारी का आगाज़ किया है। शनिवार से बाकायदा फाउंडेशन के पदाधिकारियों ने अपना मोबाईल नंबर सार्वजनिक करते हुए जरूरतमंदों से खाने-पीने के समान के साथ-साथ दवा जैसी महत्वपूर्ण वस्तुओं को भी पहुंचाने के प्रति अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की। जोखिम भरे इस समय में युवा शक्ति द्वारा उठाये गए इस कदम की सर्वत्र सराहना की जा रही है।

फाउंडेशन के अध्यक्ष उत्कर्ष जायसवाल ने बताया कि वैश्विक महामारी (COVID-19) के समय में हम सबको एक दूसरे से दूर रहते हुए भी एक दूसरे का साथ देना है और कोरोना को हराना है।
सचिव रवि रंजन "छोटू भइय्या" ने बताया कि दुद्धी नगर के आस पास के क्षेत्रों में या आपके आस पड़ोस में कोई ऐसा जरूरतमंद दिखे जिसे किसी भी मूलभूत वस्तुओं जैसे ( राशन, अनाज, दवाई इत्यादि) की आवश्यक्ता हो तो तत्काल इन नम्बरों पर सम्पर्क कर सकते हैं, युवा शक्ति फाउंडेशन हर संभव सहायता करने का प्रयास करेगा।

दुद्धी क्षेत्र-
1- ऋषांत श्रीवास्तव- 9411035459
2- विवेक मोहन- 9935700369
3- उत्कर्ष जयसवाल- 9956368619
विंढमगंज क्षेत्र-
1- रवि रंजन- 9452636004
2- किसलय मयूर- 9936421542
फ़ोटो कैप्सन-खाद्य सामग्री पहुंचाकर लौटते पूर्व अध्यक्ष रिशान्त श्रीवास्तव
12:54

आल इंडिया यूनाइटेड वर्किंग जनर्लिस्ट यूनियन"(AIUWJU) के तरफ से अपील के सी शर्मा


आज से *कोरोना* वायरस *तीसरी स्टेज* में प्रवेश कर रहा है।
यहां से *8 दिन* सब से ज्यादा महत्वपूर्ण होंगे। इन दिनों में हम सबको विशेष ख्याल रखना होगा।

हम सब को सोशल डिस्टेन्सिंग के साथ अब *फिजिकल डिस्टेन्सिंग* की पालना करना होगा। एक दूसरे से उचित दूरी बनाए रखनी है। मास्क और सेनेटाइजर का मुकम्मल इस्तेमाल करना है।

किसी भी हाल में खुद को संक्रमण में नहीं फंसने देना है। बिल्कुल भी लापरवाही नहीं करनी है। अगर आगामी 4 दिन हमने खुद को सुरक्षित रख लिया तो आधी जंग जीत लेंगे।

हमको कोरोना को हराना है। ये जंग जीतना ही है। अपने लिए और अपने घरवालों के लिए। खुद को सुरक्षित रखना है। कोरोना से बचना है।

*सबसे कारगर उपाय*
1. एक दूसरे से कम से कम 4 से 6 फ़ीट की दूरी बनाएं।

2. मास्क और सेनेटाइजर का यूज़ करें।

3. बार बार हांथो को धोएं।

4. दिन भर में कम से कम 5 बार गर्म पानी पिएं।

5. घर पर सुबह शाम नामक वाले पानी से गरारे करें।

6. शरीर को गर्म रखें।

7. फ्रिज के पानी और ठंडी चीज़ों का सेवन भूल कर भी न करें।

8. खुद को सर्दी खांसी से बचाएं।

9. घर पर अदरख, काली मिर्च और लौंग का काढ़ा बनाएं, इसमे एक चम्मच शहद मिला कर चाय की तरह गरमा गरम ही पिएं।

10. घर पर बच्चों और बुजुर्गों का विशेष ख्याल रखें।

सबसे जरूरी है कि हमें घबराना नहीं है। मनोबल को बढ़ाए रखना है। कही सुनी बातों पर खुद का मूल्यांकन नहीं करना है।

*शुभेच्छा।*
09:11

जाने,दुर्गा सप्तशती पाठ और अनुष्ठान विधि-के सी शर्मा





दुर्गा सप्तशती के अध्याय पाठन से संकल्प अनुसार कामनापूर्ति

1- प्रथम अध्याय- हर प्रकार की चिंता मिटाने के लिए।
2- द्वितीय अध्याय- मुकदमा झगडा आदि में विजय पाने के लिए।
3- तृतीय अध्याय- शत्रु से छुटकारा पाने के लिये।
4- चतुर्थ अध्याय- भक्ति शक्ति तथा दर्शन के लिये।
5- पंचम अध्याय- भक्ति शक्ति तथा दर्शन के लिए।
6- षष्ठम अध्याय- डर, शक, बाधा ह टाने के लिये।
7- सप्तम अध्याय- हर कामना पूर्ण करने के लिये।
8- अष्टम अध्याय- मिलाप व वशीकरण के लिये।
9- नवम अध्याय- गुमशुदा की तलाश, हर प्रकार की कामना एवं पुत्र आदि के लिये।
10- दशम अध्याय- गुमशुदा की तलाश, हर प्रकार की कामना एवं पुत्र आदि के लिये।
11- एकादश अध्याय- व्यापार व सुख-संपत्ति की प्राप्ति के लिये।
12- द्वादश अध्याय- मान-सम्मान तथा लाभ प्राप्ति के लिये।
13- त्रयोदश अध्याय- भक्ति प्राप्ति के लिये।

दुर्गा सप्तशती का पाठ करने और सिद्ध करने की विभिन्न विधियाँ

*सामान्य_विधि*

नवार्ण मंत्र जप और सप्तशती न्यास के बाद तेरह अध्यायों का क्रमशः पाठ, प्राचीन काल में कीलक, कवच और अर्गला का पाठ भी सप्तशती के मूल मंत्रों के साथ ही किया जाता रहा है। आज इसमें अथर्वशीर्ष, कुंजिका मंत्र, वेदोक्त रात्रि देवी सूक्त आदि का पाठ भी समाहित है जिससे साधक एक घंटे में देवी पाठ करते हैं।

*वाकार_विधि*

यह विधि अत्यंत सरल मानी गयी है। इस विधि में प्रथम दिन एक पाठ प्रथम अध्याय, दूसरे दिन दो पाठ द्वितीय, तृतीय अध्याय, तीसरे दिन एक पाठ चतुर्थ अध्याय, चौथे दिन चार पाठ पंचम, षष्ठ, सप्तम व अष्टम अध्याय, पांचवें दिन दो अध्यायों का पाठ नवम, दशम अध्याय, छठे दिन ग्यारहवां अध्याय, सातवें दिन दो पाठ द्वादश एवं त्रयोदश अध्याय करके एक आवृति सप्तशती की होती है।

*संपुट_पाठ_विधि*


किसी विशेष प्रयोजन हेतु विशेष मंत्र से एक बार ऊपर तथा एक नीचे बांधना उदाहरण हेतु संपुट मंत्र मूलमंत्र-1, संपुट मंत्र फिर मूलमंत्र अंत में पुनः संपुट मंत्र आदि इस विधि में समय अधिक लगता है।

*सार्ध_नवचण्डी_विधि*

इस विधि में नौ ब्राह्मण साधारण विधि द्वारा पाठ करते हैं। एक ब्राह्मण सप्तशती का आधा पाठ करता है। (जिसका अर्थ है- एक से चार अध्याय का संपूर्ण पाठ, पांचवे अध्याय में ''देवा उचुः- नमो देव्ये महादेव्यै'' से आरंभ कर ऋषिरुवाच तक, एकादश अध्याय का नारायण स्तुति, बारहवां तथा तेरहवां अध्याय संपूर्ण) इस आधे पाठ को करने से ही संपूर्ण कार्य की पूर्णता मानी जाती है। एक अन्य ब्राह्मण द्वारा षडंग रुद्राष्टाध्यायी का पाठ किया जाता है। इस प्रकार कुल ग्यारह ब्राह्मणों द्वारा नवचण्डी विधि द्वारा सप्तशती का पाठ होता है। पाठ पश्चात् उत्तरांग करके अग्नि स्थापना कर पूर्णाहुति देते हुए हवन किया जाता है जिसमें नवग्रह समिधाओं से ग्रहयोग, सप्तशती के पूर्ण मंत्र, श्री सूक्त वाहन तथा शिवमंत्र 'सद्सूक्त का प्रयोग होता है जिसके बाद ब्राह्मण भोजन,' कुमारी का भोजन आदि किया जाता है। वाराही तंत्र में कहा गया है कि जो ''सार्धनवचण्डी'' प्रयोग को संपन्न करता है वह प्राणमुक्त होने तक भयमुक्त रहता है, राज्य, श्री व संपत्ति प्राप्त करता है।

*शतचण्डी_विधि*

मां की प्रसन्नता हेतु किसी भी दुर्गा मंदिर के समीप सुंदर मण्डप व हवन कुंड स्थापित करके (पश्चिम या मध्य भाग में) दस उत्तम ब्राह्मणों (योग्य) को बुलाकर उन सभी के द्वारा पृथक-पृथक मार्कण्डेय पुराणोक्त श्री दुर्गा सप्तशती का दस बार पाठ करवाएं। इसके अलावा प्रत्येक ब्राह्मण से एक-एक हजार नवार्ण मंत्र भी करवाने चाहिए। शक्ति संप्रदाय वाले शतचण्डी (108) पाठ विधि हेतु अष्टमी, नवमी, चतुर्दशी तथा पूर्णिमा का दिन शुभ मानते हैं। इस अनुष्ठान विधि में नौ कुमारियों का पूजन करना चाहिए जो दो से दस वर्ष तक की होनी चाहिए तथा इन कन्याओं को क्रमशः कुमारी, त्रिमूर्ति, कल्याणी, रोहिणी, कालिका, शाम्भवी, दुर्गा, चंडिका तथा मुद्रा नाम मंत्रों से पूजना चाहिए। इस कन्या पूजन में संपूर्ण मनोरथ सिद्धि हेतु ब्राह्मण कन्या, यश हेतु क्षत्रिय कन्या, धन के लिए वेश्य तथा पुत्र प्राप्ति हेतु शूद्र कन्या का पूजन करें। इन सभी कन्याओं का आवाहन प्रत्येक देवी का नाम लेकर यथा
''मैं मंत्राक्षरमयी लक्ष्मीरुपिणी, मातृरुपधारिणी तथा साक्षात् नव दुर्गा स्वरूपिणी कन्याओं का आवाहन करता हूं तथा प्रत्येक देवी को नमस्कार करता हूं।''
इस प्रकार से प्रार्थना करनी चाहिए। वेदी पर सर्वतोभद्र मण्डल बनाकर कलश स्थापना कर पूजन करें।
शतचण्डी विधि अनुष्ठान में यंत्रस्थ कलश, श्री गणेश, नवग्रह, मातृका, वास्तु, सप्तऋषी, सप्तचिरंजीव, 64 योगिनी 50 क्षेत्रपाल तथा अन्याय देवताओं का वैदिक पूजन होता है। जिसके पश्चात् चार दिनों तक पूजा सहित पाठ करना चाहिए। पांचवें दिन हवन होता है।

*इन सब विधियों (अनुष्ठानों) के अतिरिक्त*


प्रतिलोम विधि,
कृष्ण विधि,
चतुर्दशीविधि,
अष्टमी विधि,
सहस्त्रचण्डी विधि (१००८) पाठ, ददाति विधि,
प्रतिगृहणाति विधि

आदि अत्यंत गोपनीय विधियां भी हैं जिनसे साधक इच्छित वस्तुओं की प्राप्ति कर सकता है।

कुछ लोग दुर्गा सप्तशती के पाठ के बाद हवन खुद की मर्जी से कर लेते है और हवन सामग्री भी खुद की मर्जी से लेते है ये उनकी गलतियों को सुधारने के लिए है।

*दुर्गा सप्तशती के वैदिक आहुति की सामग्री।*


प्रथम अध्याय- एक पान देशी घी में भिगोकर 1 कमलगट्टा, 1 सुपारी, 2 लौंग, 2 छोटी इलायची, गुग्गुल, शहद यह सब चीजें सुरवा में रखकर खडे होकर आहुति देना।

द्वितीय अध्याय प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार, गुग्गुल विशेष

तृतीय अध्याय  प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार श्लोक सं. 38 शहद

चतुर्थ अध्याय प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार, श्लोक सं.1से11 मिश्री व खीर विशेष,
चतुर्थ अध्याय- के मंत्र संख्या 24 से 27 तक इन 4 मंत्रों की आहुति नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से देह नाश होता है। इस कारण इन चार मंत्रों के स्थान पर ओंम नमः चण्डिकायै स्वाहा’ बोलकर आहुति देना तथा मंत्रों का केवल पाठ करना चाहिए इनका पाठ करने से सब प्रकार का भय नष्ट हो जाता है।

पंचम अध्ययाय प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार, श्लोक सं. 9 मंत्र कपूर, पुष्प, व ऋतुफल ही है।

षष्टम अध्याय  प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार, श्लोक सं. 23 भोजपत्र।

सप्तम अध्याय प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार श्लोक सं. 10 दो जायफल श्लोक संख्या 19 में सफेद चन्दन श्लोक संख्या 27 में इन्द्र जौं।

अष्टम अध्याय प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार श्लोक संख्या 54 एवं 62 लाल चंदन।

नवम अध्याय प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार, श्लोक संख्या श्लोक संख्या 37 में 1 बेलफल 40 में गन्ना।

दशम अध्याय प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार, श्लोक संख्या 5 में समुन्द्र झाग 31 में कत्था।

एकादश अध्याय प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार, श्लोक संख्या 2 से 23 तक पुष्प व खीर श्लोक संख्या 29 में गिलोय 31 में भोज पत्र 39 में पीली सरसों 42 में माखन मिश्री 44 मेें अनार व अनार का फूल श्लोक संख्या 49 में पालक श्लोक संख्या 54 एवं 55 मेें फूल चावल और सामग्री।

द्वादश अध्याय  प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार, श्लोक संख्या 10 मेें नीबू काटकर रोली लगाकर और पेठा श्लोक संख्या 13 में काली मिर्च श्लोक संख्या 16 में बाल-खाल श्लोक संख्या 18 में कुशा श्लोक संख्या 19 में जायफल और कमल गट्टा श्लोक संख्या 20 में ऋीतु फल, फूल, चावल और चन्दन श्लोक संख्या 21 पर हलवा और पुरी श्लोक संख्या 40 पर कमल गट्टा, मखाने और बादाम श्लोक संख्या 41 पर इत्र, फूल और चावल।

त्रयोदश अध्याय  प्रथम अध्याय की सामग्री अनुसार, श्लोक संख्या 27 से 29 तक फल व फूल।

*मुख्य पाठ विधि*

यह विधि यहाँ संक्षिप्त रूपसे दी जाती है।
नवरात्र आदि विशेष अवसरों पर तथा
शतचण्डी आदि अनुष्ठानों में विस्तृत विधि का उपयोग किया जाता है।
उसमें यन्त्रस्थ कलश, गणेश, नवग्रह, मातृका, वास्तु, सप्तर्षि, सप्तचिरंजीव, 64 योगिनी, 50 क्षेत्रपाल तथा अन्यान्य देवताओं की वैदिक विधि से पूजा होती है।
अखण्ड दीप की व्यवस्था की जाती है।
देवीप्रतिमा की
अंगन्यास और अग्न्युत्तारण आदि विधि के साथ विधिवत् पूजा की जाती है।

*नवदुर्गापूजा,*
ज्योति:पूजा,
वटुक-गणेशादि सहित कुमारीपूजा,
अभिषेक,
नान्दीश्राद्ध,
रक्षाबन्धन,
पुण्याहवाचन,
मंगलपाठ,
गुरुपूजा,
तीर्थावाहन,
मन्त्र - स्नान आदि,
आसनशुद्धि,
प्राणायाम,
भूतशुद्धि,
प्राणप्रतिष्ठा,
अन्तर्मातृकान्यास,
बहिर्मातृकान्यास,
सृष्टिन्यास,
स्थितिन्यास,
शक्तिकलान्यास,
शिवकलान्यास,
हृदयादिन्यास,
षोढान्यास,
विलोमन्यास,
तत्त्वन्यास,
अक्षरन्यास,
व्यापकन्यास,
ध्यान,
पीठपूजा,
विशेषाघ्घ्य,
क्षेत्रकीलन,
मन्त्रपूजा,
विविध मुकद्राविधि,
आवरणपूजा एवं प्रधानपूजा

आदि का शास्त्रीय पद्धति के अनुसार अनुष्ठान होता है।
इस प्रकार विस्तृत विधि से पूजा करने की इच्छा वाले भक्तों को अन्यान्य पूजा-पद्धतियों की सहायता से भगवती की आराधना करके पाठ आरम्भ करना चाहिये।

*पाठ विधि आरम्भ*


साधक स्नान करके पवित्र हो आसन-शुद्धि की क्रिया सम्पन्न करके शुद्ध आसन पर बैठे; साथ में शुद्ध जल, पूजन सामग्री और श्रीदुर्गासप्तशती की पुस्तक रखे।
पुस्तक को अपने सामने काष्ठ आदि के शुद्ध आसन पर विराजमान कर दे। ललाट में अपनी रुचि के अनुसार भस्म, चन्दन अथवा रोली लगा ले, शिखा बाँध ले; फिर पूर्वाभिमुख होकर तत्व-शुद्धि के लिये चार बार आचमन करे। उस समय अग्रांकित चार मन्त्रों को क्रमशः पढ़े-

ॐ ऐं आत्मतत्त्वं शोधयामि नमः स्वाहा॥

ॐ ह्रीं विद्यातत्त्वं शोधयामि नमः स्वाहा॥

ॐ क्लीं शिवतत्त्वं शोधयामि नमः स्वाहा।

ॐ ऐं हीं क्लीं सर्वतत्त्वं शोधयामि नमः
स्वाहा ॥

तत्पश्चात् प्राणायाम करके गणेश आदि देवताओं एवं गुरुजनों को प्रणाम करे; फिर
'पवित्रेस्थो वैष्णव्यौ०'
इत्यादि मन्त्र से कुशकी पवित्री धारण करके हाथ में लाल फूल, अक्षत और जल लेकर निम्नांकित रूप से

*संकल्प करे-*

ॐ विष्णुर्विष्णुर्विष्णुः । ॐ नमः परमात्मने, श्रीपुराणपुरुषोत्तमस्य श्रीविष्णोराज्ञया प्रवर्तमानस्याद्य श्रीब्रह्मणो द्वितीयपराद्द्धे श्रीश्वेतवाराहकल्पे वैवस्वत मन्वन्तरेऽष्टाविंशतितमे कलियुगे प्रथमचरणे जम्बूद्वीपे भारतवर्षे भरतखण्डे
आर्यावर्तान्तर्गतब्रह्मावर्तैकदेशे पुण्यप्रदेशे बौद्धावतारे वर्तमाने यथानामसंवत्सरे (संवत्सर का नाम) अमुकायने (अयन उत्तरायण/दक्षिणायन का नाम) महामाङ्गल्यप्रदे मासानाम् उत्तमे अमुकमासे  (मास) अमुकपक्षे (पक्ष का नाम) अमुकतिथौ (तिथि का नाम)
अमुकवासरान्वितायाम् (वार का नाम) अमुकनक्षत्रे (नक्षत्र का नाम) अमुकराशिस्थिते सूर्ये (सूर्य जिस राशि मे हो उसका उच्चारण)  अमुकामुकराशिस्थितेषु चन्द्र, भौम, बुध, गुरु, शुक्र, शनिषु (शेष सभी ग्रह उस समय जिस राशि पर हो उसका नाम लें) सत्सु शुभे योगे शुभकरणे एवं गुणविशेषणविशिष्टायां शुभ पुण्य तिथौ (तिथि का नाम लें) सकलशास्त्र श्रुतिस्मृति पुराणोक्त फलप्राप्तिकामः अमुकगोत्रोत्पन्न:
अमुकशर्मा (अपने गोत्र का उच्चारण करें) अहं ममात्मनः सपुत्रस्त्रीबान्धवस्य श्रीनवदुग्गानुग्रहतो ग्रहकृतराजकृतसर्व-
विधपीडानिवृत्तिपूर्वकं नैरुज्यदीर्घायुः पुष्टि धनधान्य समृद्धयर्थं श्रीनवदुर्गाप्रसादेन सर्वा-पन्निवृत्तिसर्वाभीष्ट फलावाप्तिधर्मार्थ काममोक्षचतुर्विध पुरुषार्थसिद्धिद्वारा श्रीमहाकाली-महालक्ष्मीमहासरस्वती देवताप्रीत्यर्थं शापोद्धारपुरस्सरं कवचार्गला कीलकपाठ-केदतनत्रोक्त रात्रिसूक्त पाठ देव्यथर्वशीर्ष पाठन्यास विधि सहित नवार्ण जप सप्तशतीन्यास-ध्यान सहित चरित्र सम्बन्धि विनियोगन्यास ध्यानपूर्वकं च 'मार्कण्डेय उवाच॥ सावर्णिः सूर्यतनयो यो मनुः कथ्यतेऽष्टमः ।' इत्याद्यारभ्य 'सावर्णिर्भविता मनुः' इत्यन्तं दुर्गा सप्तशती पाठं तदन्ते न्यासविधि सहित नवार्ण मन्त्र जपं वेद तन्त्रोक्त देवीसूक्त पाठं रहस्यत्रय पठनं शापोद्धारादिकं च करिष्ये।

इस प्रकार प्रतिज्ञा (संकल्प) करके देवी का ध्यान करते हुए पंचोपचार की
विधि से पुस्तक की पूजा करे,

*पुस्तक पूजाका मन्त्र*


ॐ नमो देव्यै महादेव्यै शिवायै सततं नमः ।
नमः प्रकृत्यै भद्रायै नियताः प्रणता: स्म ताम् ॥
(वाराहीतन्त्र तथा चिदम्बरसंहिता)

ध्यात्वा देवीं पञ्चपूजां कृत्वा योन्या प्रणम्यच।
आधारं स्थाप्य मूलेन स्थापयेत्तत्र पुस्तकम्॥

इसके बाद योनिमुद्रा का प्रदर्शन करके भगवती को प्रणाम करे, फिर मूल नवार्णमन्त्र से पीठ आदि में आधारशक्ति की स्थापना करके उसके ऊपर पुस्तक को विराजमान करे।
इसके बाद
शापोद्धार करना चाहिये।
इसके अनेक प्रकार हैं।

'ॐ ह्रीं क्लीं श्रीं क्रां क्रीं चण्डिकादेव्यै शापनाशानुग्रहं कुरु कुरु स्वाहा।

इस मन्त्रका आदि और अन्त में सात बार जप करे।
यह शापोद्धार मन्त्र कहलाता है।
इसके अनन्तर उत्कीलन मन्त्र का जप किया जाता है।
इसका जप आदि और अन्त में इक्कीस-इक्कीस बार होता है।

यह मन्त्र इस प्रकार है-

ॐ श्रीं क्लीं ह्रीं सप्तशति चण्डिके उत्कीलनं कुरु कुरु स्वाहा ।'

इसके जप के पश्चात् आदि और अन्त में सात-सात बार #मृतसंजीवनी विद्या का जप करना चाहिये,
जो इस प्रकार है-
'ॐ ह्रीं ह्रीं वं वं ऐं ऐं मृतसंजीवनि विद्ये मृतमुत्थापयोत्थापय क्रीं ह्रीं ह्रीं वं स्वाहा।'

मारीचकल्प के अनुसार सप्तशती शापविमोचन का मन्त्र यह है-

'ॐ श्रीं श्रीं क्लीं हूं ॐ ऐं क्षोभय मोहय उत्कीलय उत्कीलय उत्कीलय ठं ठं।'

इस मन्त्र का आरम्भ में ही एक सौ आठ बार जप करना चाहिये, पाठ के अन्त में नहीं।
अथवा
रुद्रयामल महातन्त्र के अन्तर्गत दुर्गाकल्प में कहे हुए चण्डिका शाप विमोचन मन्त्रों का आरम्भ में ही पाठ करना चाहिये। वे मन्त्र इस प्रकार हैं-

ॐ अस्य श्रीचण्डिकाया ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापविमोचनमन्त्रस्य वसिष्ठ- नारद संवाद सामवेदाधिपति ब्रह्माण ऋषयः सर्वैश्वर्यकारिणी श्रीदुर्गा देवता चरित्रत्रयं बीजं ह्रीं शक्तिः त्रिगुणात्म स्वरूप चण्डिका शापविमुक्तौ मम
संकल्पित कार्यसिद्ध्यर्थे जपे विनियोगः ।

ॐ (ह्रीं) रीं रेत:स्वरूपिण्यै मधुकैटभमर्दिनयै ब्रह्मवसिष्ठ विश्वामित्र शापाद् विमुक्ता भव ॥ १ ॥

ॐ श्रीं बुद्धिस्वरूपिण्यै महिषासुर सैन्यनाशिन्यै ब्रह्मवसिष्ठ विश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव ॥ २ ॥

ॐ रं रक्तस्वरूपिण्यै महिषासुरमर्दिन्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव ॥ ३ ॥

ॐ क्षुं क्षुधास्वरूपिण्यै
देववन्दितायै ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव ॥ ४ ॥

ॐ छां छायास्वरूपिण्यै दूतसंवादिन्यै ब्रह्मवसिष्ठ विश्वामित्र शापाद् विमुक्ता भव ॥५ ॥

ॐ शं शक्ति स्वरूपिण्यै धूम्रलोचन घातिन्यै ब्रह्मवसिष्ठ विश्वामित्र शापाद् विमुक्ता भव॥ ६ ॥

ॐ तृं तृषा स्वरूपिण्यै चण्ड मुण्ड वध कारिण्यै ब्रह्म वसिष्ठ विश्वामित्र शापाद्
विमुक्ता भव॥ ७ ॥

क्षां क्षान्तिस्वरूपिण्यै रक्तबीजवधकारिण्यै ब्रह्म वसिष्ठ विश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव ॥ ८ ॥

ॐ जां जाति स्वरूपिण्यै निशुम्भ वध कारिण्यै ब्रह्म वसिष्ठ विश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव ॥९ ॥

ॐ लं लज्जास्वरूपिण्यै शुम्भ वध कारिण्यै ब्रह्म वसिष्ठ विश्वामित्र शापाद् विमुक्ता भव ॥ १० ॥

ॐ शां शान्तिस्वरूपिण्यै देवस्तुत्यै ब्रह्म वसिष्ठ विश्वामित्र शापाद् विमुक्ता भव ॥ ११॥

ॐ श्रं श्रद्धा स्वरूपिण्यै सकल फल दात्र्यै ब्रह्म वसिष्ठ विश्वामित्र शापाद् विमुक्ता भव ॥ १२॥

ॐ कां कान्ति स्वरूपिण्यै राजवर प्रदायै ब्रह्म वसिष्ठ विश्वामित्र शापाद विमुक्ता भव ॥ १३ ॥

ॐ मां मातृस्वरूपिण्यै अनर्गल महिम सहितायै ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव ॥ १४॥

ॐ ह्रीं श्रीं दुं दुर्गायै सं सर्वैश्वर्य कारिण्यै ब्रह्म वसिष्ठ विश्वामित्र शापाद् विमुक्ता भव ॥ १५॥

ॐ ऐं ह्रीं क्लीं नमः शिवायै अभेद्य कवच स्वरूपिण्यै ब्रह्म वसिष्ठ विश्वामित्र शापाद् विमुक्ता भव॥ १६॥

ॐ क्रीं काल्यै कालि ह्रीं फट् स्वाहायै ऋग्वेद स्वरूपिण्यै ब्रह्म वसिष्ठ विश्वामित्र शापाद् विमुक्ता भव ॥ १७॥

ॐ ऐं ह्रीं क्लीं महाकाली-महालक्ष्मी महासरस्वती स्वरूपिण्यै त्रिगुणात्मिकायै दुर्गादेव्यै नमः ॥ १८ ॥

इत्येवं हि महामन्त्रान् पठित्वा परमेश्वर।
चण्डीपाठं दिवा रात्रौ कुर्यादेव न संशयः ॥ १९॥

एवं मन्त्रं न जानाति चण्डीपाठं करोति
यः। क्षीणं कुर्यान्न संशयः ॥ २० ॥

इस प्रकार शापोद्धार करने के अनन्तर अन्तर्मातृका-बहिर्मातृका आदि न्यास करे, फिर श्रीदेवी का ध्यान करके रहस्य में बताये अनुसार नौ कोष्ठों वाले यंत्र में अंगों यन्त्र में महालक्ष्मी आदिका पूजन करे, इसके बाद छ: अंगों सहित दुर्गा सप्तशती का पाठ आरम्भ किया जाता है।
कवच, अर्गला, कीलक और तीनों रहस्य- ही सप्तशती के छः अंग माने गये हैं। इनके क्रम में भी मतभेद है। चिदम्बर-संहिता में पहले अर्गला फिर कीलक तथा अन्त में कवच पढ़ने का विधान है। "

किंतु योगरत्नावली में पाठ का क्रम इससे भिन्न है ।
उसमें कवच को बीज, अर्गला को शक्ति तथा कीलक को कीलक संज्ञा दी गयी है।
जिस प्रकार सब मन्त्रों में पहले बीज का, फिर शक्ति का तथा अन्त में कीलक का उच्चारण होता है, उसी प्रकार यहाँ भी पहले कवचरूप बीज का, फिर अर्गलारूपा शक्ति का तथा अन्त में कीलकरूप कीलक का क्रमशः पाठ होना चाहिये।
यहाँ इसी क्रम का अनुसरण किया गया है।

'सप्तशती-सर्वस्व' के उपासना-क्रम में पहले शापोद्धार करके बाद में षडंगसहित पाठ करने का निर्णय किया गया है, अतः कवच आदि पाठ के पहले ही शापोद्धार कर लेना चाहिये।

कात्यायनी-तन्त्र में शापोद्धार तथा उत्कीलन का और ही प्रकार बतलाया गया है।

अन्त्याद्यार्कद्विरुद्रत्रिदिगळ्य्यङ्केष्विभर्तवः ।
अश्वोऽश्व इति सर्गाणां शापोद्धारे मनो: क्रमः ॥
' 'उत्कीलने चरित्राणां मध्याद्यन्तमिति
क्रमः।

अर्थात् सप्तशती के अध्यायों का तेरह- एक, बारह-दो, ग्यारह-तीन, दस-चार, नौ-पाँच तथा आठ-छ:के क्रम से पाठ करके अन्त में सातवें अध्याय को दो बार पढ़े।
यह शापोद्धार है और पहले मध्यम चरित्रका, फिर प्रथम चरित्र का, तत्पश्चात् उत्तर चरित्र का पाठ करना उत्कीलन है।
कुछ लोगों के मत में कीलक में बताये अनुसार 'ददाति प्रतिगृहणाति' के नियम से कृष्ण पक्ष की अष्टमी या चतुर्दशी तिथि में देवी को सर्वस्व-समर्पण करके उन्हीं का होकर उनके प्रसाद रूप से प्रत्येक वस्तु को उपयोग में लाना ही शापोद्धार और उत्कीलन है।
कोई कहते हैं- छ: अंगों सहित पाठ करना ही शापोद्धार है।
अंगों का त्याग ही शाप है। कुछ विद्वानों की राय में शापोद्धार कर्म अनिवार्य नहीं है, क्योंकि रहस्याध्याय में यह स्पष्टरूप से कहा है कि जिसे एक ही दिन में पूरे पाठ का अवसर न मिले, वह एक दिन केवल मध्यम चरित्र का और दूसरे दिन शेष दो चरित्रों का पाठ करे।
इसके सिवा, जो प्रतिदिन नियमपूर्वक पाठ करते हैं, उनके लिये एक दिन में एक पाठ न हो सकने पर एक, दो, एक, चार, दो, एक और दो अध्यायों के क्रम से सात दिनों में पाठ पूरा करने का आदेश दिया गया है।
ऐसी दशा में प्रतिदिन शापोद्धार और कीलक कैसे सम्भव है।
अस्तु, जो हो, हमने यहाँ जिज्ञासुओंके लाभार्थ शापोद्धार और उत्कीलन दोनों के विधान दे दिये हैं ।

साधक गण समयाभाव होने पर अपनी सुविधानुसार ही पाठ करें पूजा पाठ तप और जपादि में भाव की महत्ता सर्वोपरि मानी गयी है इसलिये केवल भाव शुद्ध रखें।
00:37

जरूरतमंद लोगों को भोजन के पैकेट और खाद्य सामग्री का किया वितरण, नगद राशि देकर भी की राहत प्रदान की



 माधोपुर/टोंक@ रिपोर्ट चंद्रशेखर शर्मा। टोंक- सवाई माधोपुर लोकसभा सदस्य सुखबीर सिंह जौनापुरिया द्वारा शुक्रवार को भी कोरोनावायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए जारी लॉक डाउन की स्थिति में गरीब, असहाय व जरूरतमंद लोगों की हर संभव सेवा व मदद की गई। सांसद जौनपुरिया ने गुरुवार की तरह ही एक बार फिर जहां शुक्रवार को टोंक जिला मुख्यालय पर  जरूरतमंद लोगों को  भोजन के पैकिट और अन्य ज़रूरत की चीजों का वितरण किया, वहीं नगद पैसे बांटकर भी तत्काल प्रभाव से लोगों को राहत प्रदान करने की भरपूर कोशिश की । यही प्रक्रिया सांसद द्वारा सवाई माधोपुर जिला मुख्यालय पर भी दोहराई गई। टोंक से सवाई माधोपुर जाते समय सांसद जौनपुरिया द्वारा उनियारा के पास सड़क मार्ग से मध्यप्रदेश के लिए आवागमन के साधनों के अभाव में पैदल यात्रा कर रहे दर्जनभर से अधिक भूखे- प्यासे राहगीरों को भी खाने के लिए भोजन के पैकेट दिए गए और भरपेट भोजन कराया गया। सवाईमाधोपुर पहुंच कर सांसद जौनपुरिया द्वारा सर्वप्रथम सर्किट हाउस में ज़िला पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ वर्तमान हालातों को लेकर आवश्यक मीटिंग की गई,जिसमें दर्जनों भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। उसके बाद सवाईमाधोपुर के बजरिया व सीमेंट फैक्ट्री क्षेत्रों में गाड़िया लौहार व अन्य जरूरतमंदों को भोजन के पैकेट और अन्य खाद्य सामग्री उपलब्ध करवाई गई। सांसद ने सभी उपस्थित लोगों को कोरोनावायरस के प्रकोप से बचाव के उपाय भी सुझाए, और हर वक्त मास्क का उपयोग करते हुए घर में ही रहने की सलाह दी। सुखबीर सिंह जौनपुरिया द्वारा कोरोना वायरस से बचाव के हेतु मास्क,सेनिटाईजर्स,हैन्ड ग्लब्स,राशन किट व फ़ूड पैकेट आदि सामग्री की उपलब्धता के लिए सांसद कोटे से सवाई माधोपुर जिले के लिए 25 लाख रुपए की स्वीकृति दी गई । जिसमें सवाई माधोपुर व गंगापुर सिटी विधानसभाओं के लिए क्रमशः 7 लाख 50  हजार व 7 लाख 50 हजार रुपए तथा बामनवास व खंडार तहसील के लिए क्रमशः 5 -5 लाख रुपए शामिल है। सांसद द्वारा इस आशय का पत्र भी सवाई माधोपुर जिला कलेक्टर एसपी सिंह को सौंपा गया। इस दौरान सांसद जौनपुरिया के साथ भाजपा नेता वीरेंद्र भाया सहित की कार्यकर्ता मौजूद थे। इसी प्रकार शुक्रवार को ही सांसद जौनपुरिया द्वारा टोंक जिले की चारों विधानसभाओं के लिए  भी 5 -5 लाख रुपए की राशि मतलब कुल मिलाकर 20 लाख रुपए की राशि स्वीकृत की गई । जिसका स्वीकृति पत्र सांसद द्वारा जिला पुलिस अधीक्षक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी के समक्ष जिला कलेक्टर टोंक को सौंपा गया। इस तरह सांसद द्वारा  कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क,सेनिटाईजर्स,हैन्ड ग्लब्स,राशन किट,व फ़ूड पैकेट आदि सामग्री हेतु सांसद निधि से संपूर्ण टोंक-सवाईमाधोपुर लोकसभा क्षेत्र की आठों विधानसभाओं के लिए कुल 45 लाख रूपये की राशि खर्च करने का प्रावधान किया गया। यही नहीं इसके अतिरिक्त और  भी जरूरत पड़ने पर जौनपुरिया द्वारा हर संभव मदद व सहयोग का भरोसा जिला प्रशासनिक अधिकारी को दिलाया गया, ताकि क्षेत्रवासियों को किसी प्रकार की चिकित्सा व भोजन संबंधी परेशानी नहीं उठानी पड़े। और  जरूरतमंद व्यक्तियों के लिए  जो भोजन पैकेट्स, सूखी खाद्य सामग्री या नगद राशि लोगों को वितरित की गई , वह उनके निजी फंड का हिस्सा थी

Friday, 27 March 2020

13:26

कोरोना को लेकर बिल्सी स्पेक्टर धर्मेंद्र कुमार की अपील सभी करें सहयोग



बदायूं बिल्सी-- संपूर्ण भारत और विश्व जिस महामारी कोरोना से परेशान है लॉक डाउन करके देश के प्रधानमंत्री ने जिस महामारी से निजात पाने की कोशिश की है उसका और इस महामारी से निजात भी मिल रही है बिल्सी कोतवाली धर्मेंद्र कुमार ने क्षेत्रवासियों से अपील की है कि वह अपने घरों में सुरक्षित रहें और सभी देशवासी शासन प्रशासन का सहयोग करें क्षेत्र की जनता के लिए दिन रात एक कर के पुलिस प्रशासन लगा हुआ है सेवा में  अनावश्यक कार्य से बाहर ना निकले  क्योंकि जब तक आप लोग घर में हैं तब तक आप सुरक्षित हैं जनता कर्फ्यू का पालन करते हुए क्षेत्र की जनता शासन प्रशासन का सहयोग करें सभी जरूरी वस्तुओं का ध्यान रखते हुए सभी के पास पहुंचाने का कार्य किया जाएगा किराना मेडिसन से संबंधित प्रतिष्ठान खुले हैं उन पर भीड़ भाड़ ना करके दूरी बना कर सामान लिया जा सकता है लिया जा सकता है

 वही रिसौली चौकी इंचार्ज सुखबीर सिंह क्षेत्र की जनता को सुरक्षा और व्यवस्था का आश्वासन देते हुए अपने घरों में सुरक्षित रहने की अपील करते हुए क्षेत्र का लगातार दौरा कर रहे हैं उनके साथ उपेंद्र कुमार ललितेश सहित पुलिस स्टाफ रिसौली सहयोग कर रहा है

ब्यूरो रिपोर्ट गोविंद सिंह राणा बदायूं
08:34

27 मार्च सिन्ध में संघ कार्य के प्रणेता राजपाल पुरी जी की पुण्यतिथि पर विशेष-के सी शर्मा



27 मार्च
सिन्ध में संघ कार्य के प्रणेता राजपाल पुरी जी की पुण्यतिथि पर विशेष-के सी शर्मा

श्री राजपाल पुरी का जन्म 18 अगस्त, 1919 को स्यालकोट (वर्तमान पाकिस्तान) में एक वकील श्री बिशम्भर नाथ एवं श्रीमती बिन्द्रा देवी के घर में हुआ था। उनका घर हकीकत राय की समाधि के सामने था। पढ़ाई में वे सदा प्रथम श्रेणी तथा छात्रवृत्ति पाते रहे। 1929 में उनके पिताजी का निधन हो गया।

1937 में उत्तर पंजाब के प्रांत प्रचारक श्री के.डी.जोशी के सम्पर्क में आकर वे स्वयंसेवक बने। 1938 तथा 39 में उन्होंने नागपुर से प्रथम व द्वितीय वर्ष संघ शिक्षा वर्ग का प्रशिक्षण लिया। 1939 में पंजाब वि.वि. से बी.ए. करते ही उन्हें दिल्ली में रक्षा विभाग में नौकरी मिल गयी; पर एक महीने बाद त्यागपत्र देकर वे संघ कार्य के लिए हैदराबाद पहुंच गये। वहां हिन्दू महासभा के नेता श्री धर्मदास बेलाराम ने उनके रहने का प्रबंध किया। घर की जिम्मेदारी होने से वे वहां एक विद्यालय में पढ़ाने लगे; पर छोटे भाई संतोष की नौकरी लगते ही पढ़ाना छोड़कर वे पूरी तरह संघ के काम में लग गये।

नागपुर में हुए 1940 के संघ शिक्षा वर्ग में सिन्ध से छह स्वयंसेवक गये। राजपाल जी ने भी तभी अपना तृतीय वर्ष का प्रशिक्षण पूरा किया। 1945 में वे सिन्ध के प्रांत प्रचारक बने। उन्हें सब ‘श्रीजी’ कहकर बुलाते थे। सिन्ध में हिन्दू केवल 13 लाख थे। विभाजन की तलवार सिर पर लटकी थी। मुसलमानों के अत्याचार बढ़ रहे थे। कई गांव और कस्बों में हिन्दू केवल दो-तीन प्रतिशत ही थे; पर शाखाओं के कारण हिन्दुओं में भारी जागृति आयी।

राजपाल जी के प्रयास से बैरिस्टर खानचंद गोपालदास कराची के तथा बैरिस्टर होतचंद गोपालदास अडवानी हैदराबाद के संघचालक बने। एक बार श्री अडवानी एक बम कांड में पकड़े गये। सरसंघचालक श्री गुरुजी तथा राजपाल जी के प्रयास से वे रिहा हुए। 1942 में संघ कार्यालय, हैदराबाद पर छापा मारकर पुलिस ने राजपाल जी तथा दो अन्य को पकड़ लिया। ऐसे में बैरिस्टर अडवानी ने मार्शल लॉ प्रशासक से मिलकर उन्हें रिहा कराया।

मार्च 1947 में राजपाल जी ने पूरे प्रान्त में हिन्दू जनगणना की। इससे 1947 में हिन्दुओं की रक्षा में बड़ा लाभ हुआ। उन्होंने ‘पंजाब सहायता समिति’ बनाकर पांच लाख रु. एकत्र किये तथा शस्त्रों के संग्रह, निर्माण व प्रशिक्षण का प्रबन्ध किया। विभाजन के बाद जोधपुर को केन्द्र बनाकर उन्होंने सिन्ध से आये हिन्दुओं के पुनर्वास का काम किया। 1948 के प्रतिबंध काल में संघ का संविधान बनाने में उन्होंने दीनदयाल जी तथा एकनाथ जी का साथ दिया। प्रतिबंध समाप्ति के बाद वे गुजरात और फिर महाराष्ट्र के प्रांत प्रचारक बनाये गये।

1952 में छोटे भाई की असामयिक मृत्यु से वृद्ध मां की जिम्मेदारी फिर उन पर आ गयी। अतः 1954 में उन्होंने विवाह कर लिया। इससे पूर्व 1953 में उन्होंने ‘मुंबई हाइकोर्ट बार काउंसिल’ की परीक्षा दी। वहां भी प्रथम श्रेणी तथा प्रथम स्थान पाने पर उन्हें ‘सर चिमनलाल सीतलवाड़ पदक’ मिला। वकालत के साथ वे विद्यार्थी परिषद, भारतीय मजदूर संघ, विश्व हिन्दू परिषद, विवेकानंद शिला स्मारक, फ्रेंडस ऑफ इंडिया सोसायटी आदि में सक्रिय रहे।

वे उद्योग कानूनों के विशेषज्ञ थे। उन्होंने विश्व मजदूर संघ (आई.एल.ओ) के जेनेवा अधिवेशन में भी भाग लिया था।आपातकाल में उनके वारंट थे; पर वे विदेश चले गये और वहीं जनजागरण करते रहे। मार्च 1977 में वे लौटे; पर कुछ ही दिन बाद 27 मार्च, 1977 को हुए भीषण हृदयाघात से उनका निधन हो गया।

राजपाल जी हिन्दी, अंग्रेजी, पंजाबी, सिन्धी, मराठी, गुजराती आदि कई भाषाएं जानते थे। सिन्ध में उनके आठ वर्ष के कार्यकाल में बलूचिस्थान तक शाखाओं का विस्तार हुआ। लगभग 75 युवक प्रचारक भी बने। पांच अगस्त, 1947 को कराची में सरसंघचालक श्री गुरुजी की सभा में दस हजार गणवेशधारी स्वयंसेवक तथा एक लाख हिन्दू आये। सिन्ध आज भारत में नहीं है; पर वहां से सुरक्षित भारत आये सभी हिन्दू राजपाल जी को श्रद्धापूर्वक याद करते हैं।

Thursday, 26 March 2020

20:14

कोरोना वायरस से बचाव को मानदेय से 893225 लाख देंगे शिक्षामित्र


-शिक्षामित्रों ने बीएसए के माध्यम से डीएम को सौंपेंगे पत्र

बदायंू: उ0प्र0 प्राथमिक शिक्षामित्र संघ ने दुनियां भर में आई कोरोना वायरस की भीषण महामारी से बचाव के लिए जिले भर के 2769 शिक्षामित्र शिक्षक-शिक्षिकाओं ने एक दिन के मानदेय से 893225 लाख रुपया मुख्यमंत्री राहत कोष में देने का निर्णय लिया है।
शिक्षामित्र संघ के जिलाध्यक्ष अमित शर्मा ने कहा कि कोरोना वायरस की महामारी से निपटने के लिए शिक्षामित्र संघ देश व प्रदेश सरकार के साथ खड़ा है। उन्होंने उ.प्र. प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के आह्वान पर जिले के सर्वशिक्षा अभियान के 2516 और बेसिक शिक्षा परिषद के अंतर्गत 253 शिक्षामित्र शिक्षक-शिक्षिकाओं ने कोरोना वायरस जैसी विषम परिस्थितियों में 893225 (आठ लाख तिरानवे हजार दो पच्चीस रुपया) की धनराशि मुख्यमंत्री राहत कोष में देने का निर्णय लिया है।
संघ के मीडिया प्रभारी श्यामनिवास ने बताया कि बीएसए के माध्यम से डीएम को पत्र भेजकर उनके मार्च महा के मानदेय से एक दिन का मानदेय काट लेने के लिए पत्र भेजकर अवगत कराया है।
इस मौके पर अनिल कुमार, जहीर इस्लाम, राजेश गुप्ता, लक्ष्मण सिंह, दिनेश चैधरी, रहीस अहमद, प्रमोद शंखधार, धर्मपाल राजपूत, श्यामनिवास, शमीम हुसैन, सतेंद्र उपाध्याय, संजय शर्मा, मृदुलेश यादव, अनूप कुमार सिंह, राहुल रस्तोगी, अरुणा तोमर, कुंवरपाल, ओमेंद्र शर्मा, राजेश कुमार सिंह, श्रीकृष्ण यादव, सुनील कुमार, मनोज यादव, विपुल तोमर, सूमेंद्र पाल सिंह, आशीष दुबे, सुरजीत सिंह, अभिषेक यादव, गजेंद्र राजपूत, विनोद शर्मा, राजेश शाक्य, अनिल शंखधार, जयप्रकाश आर्य, अजयवीर सिंह, प्रताप सिंह, धर्मवीर गुप्ता, उमेश दीक्षित, रेखारानी, आमेंद्र, भुवनेंद्र पाल, अमर सिंह, अखिलेश मिश्रा, उदयवीर सिंह, अवनीत सक्सेना, मुकेश बाबू, सीमा भारती, आराम सिंह, श्रीपाल शाक्य, जगनंदन शर्मा, विनोद कुमार, सोहनलाल शाक्य, भगवानदास, जगतपाल वर्मा अनीता शर्मा आदि ने हस्ताक्षर युक्त पत्र भेजा है।