Tap news india

Hindi news ,today news,local news in india

Breaking news

गूगल सर्च इंजन

Sunday, 28 February 2021

14:14

रामू सिंह बने आईरा के म्याऊ ब्लाक सचिव

बदायूं ऑल इंडिया रिपोर्टर एसोसिएशन आईरा के राष्ट्रीय अध्यक्ष फरीद कादरी के आदेश अनुसार जनपद बदायूं की जिला कार्यशैली वर्ष 2021 मैं निम्नलिखित पदाधिकारियों को मनोनीत किया गया जिसमें जनपद बदायूं के लिए पत्रकार रामू सिंह आईरा का ब्लाक म्याऊ सचिव के पद पर मनोनीत किया गया नवनियुक्त ब्लाक म्याऊ सचिव का संगठन के लोगों ने स्वागत किया उसके बाद रामू सिंह ने सभी का आभार व्यक्त किया उन्होंने कहा कि उन्हें जो जिम्मेदारी दी गई है उस पर वे खरा उतरेंगे और पद की जिम्मेदारी निभाएंगे
14:13

समग्र सामाजिक परिवर्तन हेतु वजीरगंज में हुआ तहसील स्तरीय विचार गोष्ठी का आयोजन

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि के अवसर पर समग्र सामाजिक परिवर्तन का संकल्प लेकर जनपद भर में होने वाले जनजागरण कार्यक्रमों की श्रृंखला में भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के तत्वावधान में ए बी एस स्कूल वजीरगंज में  "" नारी के प्रति बढ़ते अपराध व निवारण के उपाय "" विषयक तहसील स्तरीय संगोष्ठी का आयोजन भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मार्गदर्शक धनपाल सिंह की अध्यक्षता में, तहसील समन्वयक देवेश शंखधार के संयोजन में किया गया। मुख्य अतिथि के रूप में व्यवस्था सुधार मिशन के जनक व भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड़ एडवोकेट उपस्थित रहे। विशिष्ट अतिथि के रूप में अभियान के मार्गदर्शक एम एल गुप्ता, एस सी गुप्ता, कैप्टन राम सिंह, रामगोपाल माहेश्वरी व राजेश गुप्ता उपस्थित रहे।

सर्वप्रथम उपस्थित जनों ने राष्ट्रपिता  के चित्र पर पुष्प अर्पित किये। तदन्तर जिला समन्वयक एम एच कादरी व भारतीय कृषक पंचायत के सह संयोजक वेदपाल सिंह कठेरिया द्वारा राष्ट्र राग "" रघुपति राघव राजाराम .......""  का सामुहिक कीर्तन कराया गया।

संरक्षक एम एल गुप्ता द्वारा ध्येय गीत " जीवन में कुछ करना है तो मन को मारे मत बैठो....." प्रस्तुत किया गया। केंद्रीय कार्यालय प्रभारी रामगोपाल व मंडल समन्वयक शमसुल हसन ने संगठन का परिचय ,रीति नीति, कार्य पद्धति , उद्देश्यों व परिणामों से परिचित कराया। बिसौली तहसील के सूचना कार्यकर्ताओं को परिचय पत्र भी वितरित किए गए। पंचायत चुनाव में सूचना कार्यकर्ताओं की भूमिका निर्धारित करने हेतु जनपद में शिक्षित, ईमानदार प्रतिनिधियों का चुनाव करने हेतु गाँव गाँव मतदाता संकल्प सभाओं के आयोजन की योजना भी बनायी गयी।

मुख्य अतिथि के रूप में विचार व्यक्त करते हुए व्यवस्था सुधार मिशन के जनक एवं भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड एडवोकेट ने कहा कि बिसौली तहसील के प्रमुख सूचना/सामाजिक कार्यकर्ता व साहित्यकार आज बड़े ही महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा करने यहां एकत्र हुए हैं, हम समस्या पर नहीं समाधान पर चर्चा करने एकत्र हुए हैं। समाधान का हिस्सा बनने हेतु प्रशिक्षण की आवश्यकता है। हर गांव में एक प्रशिक्षित व्यक्ति पूरे गांव के परिवर्तन का कारण बनेगा। इस प्रकार के आयोजन जनपद भर में होने से आने वाले समय में बदायूँ जनपद देश का प्रथम भ्रष्टाचार मुक्त, अपराध मुक्त, व्यभिचार मुक्त, आत्म निर्भर जनपद बन सकेगा और बदायूँ में उत्पन्न हुआ विचार पूरे देश को दिशा देने का कार्य करेगा। प्रशिक्षित कार्यकर्ता लक्ष्य प्राप्त करने हेतु कर्तव्य पथ पर अग्रसर रहे। पंचायत चुनावों में भी हमे महत्वपूर्ण भूमिका निभानी हैं।


श्री राठोड़ ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के विचारों से प्रेरित होकर उनकी पुण्यतिथि के अवसर पर वर्ष 2011 मे संगठन की स्थापना हुई। महात्मा गांधी ने हर विषय पर विचार दिए हैं, उनके नारी के संदर्भ में व्यक्त किए गए विचार वर्तमान परिस्थितियों में सर्वाधिक प्रासंगिक हैं। गांधी जी के विचारों का अनुसरण किया जाए तो समाज में नारी के प्रति आदर का भाव विकसित होगा। कठोर कानून बनाने से घटनाएं नही रुकेंगी बल्कि सामाजिक चेतना से ही दुष्कर्म की घटनाएं रुकेंगी। गाँधी जी के विचारों को जन जन तक पहुचाने का कार्य सूचना/ सामाजिक कार्यकर्ता करेंगे। जनपद बदायूं मे उघैती कांड की पुनरावृत्ति न हो, धर्म स्थलों में नारी की अस्मिता पर हमले न हो,  महिलाओं के प्रति श्रद्धा व आस्था का वातावरण निर्मित हो, इसके लिए संगठन की ओर से जनपद में पचास प्रमुख स्थानों पर विचार गोष्ठियों के आयोजन का निर्णय लिया गया है, इन गोष्ठियों में साहित्यकारों की भी महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। साहित्यकार सामाजिक परिवर्तन का कारण बनेंगे। धर्म स्थलों में शिक्षित और प्रशिक्षित व्यक्ति ही धार्मिक कार्य कराए, इसके लिए भी मुहिम चलाई जाएगी। सोशल मीडिया के सकारात्मक व सृजनात्मक प्रयोग की आवश्यकता है। वर्तमान समय में सोशल मीडिया समाज को प्रभावित कर रही है। संदिग्घ चरित्र के पुरुषों और महिलाओं को चिन्हित कर उन्हें उपेक्षित व बहिष्कृत करने का साहस नागरिकों को जुटाना पड़ेगा। इस दिशा में समाज को जाग्रत करने मे सूचना कार्यकर्ताओं की बड़ी भूमिका रहेगी।

कार्यक्रम में जनपद के पांच श्रेष्ठ साहित्यकारों सरिता सिंह, अखिलेश सोलंकी, हिलाल बदायूनी, सुग्रीव वार्ष्णेय, फरीद इदरीश को शाल व माला भेंटकर सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम में 80 वर्ष से100 वर्ष आयु की पाँच वयोवृद्ध महिलाओं सुशीला देवी, भाग्यवती, सरोज देवी, शारदा देवी, शशिबाला देवी  को फूल माला पहनाकर व शाल उड़ाकर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर प्रमुख रूप से अभय माहेश्वरी, सतेंद्र सिंह, आर्येन्दर पाल सिंह, अखिलेश सोलंकी, भानु प्रताप सिंह, महेश चंद्र, जयकिशन लाल, विपिन कुमार सिंह, अरुण कुमार, अजय कुमार, अशोक कुमार कमल, रामबाबू, राजकुमार, सुरेश गुप्ता, प्रशांत शर्मा, सुमित, आदि उपस्थित रहे।
ब्लाक प्रमुख वजीरगंज सुमिता वार्ष्णेय की विशिष्ट उपस्थिति रही।

कार्यक्रम का संचालन कवि व साहित्यकार पवन शंखधार ने किया। 
अंत में कार्यक्रम संयोजक देवेश शंखधार  ने सभी का आभार प्रकट किया।
07:49

सपा नेता वारिस अली अंसारी ने गोला नगर में किया क्रिकेट टूर्नामेंट का उद्घाटन

139 गोला विधानसभा के गोला नगर स्थित केडिया फॉर्म में क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि *वारिस अली अंसारी* जी ने खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर मैच का शुभारंभ किया, *मैच का टॉस राजेंद्र नगर टीम एवं टीम अशियाना के बीच हुआ*  टीम राजेंद्रनगर ने टॉस जीत कर सर्वप्रथम बैटिंग का निर्णय किया और 36 रन पर आल आउट हो गए दूसरी पारी खेलकर *आशियाना टीम* ने जीत हासिल की !!

इस अवसर पर टूर्नामेंट कराने वाली कमेटी के सम्मानित सदस्य सचिन, मोनू, राजा, अमन ने मुख्य अतिथि *वारिस अली* का जोरदार स्वागत किया !!

क्रिकेट टूर्नामेंट के इस अवसर पर समाजवादी पार्टी के मृदुल शुक्ला, सोमचंद्र प्रजापति, अर्जुन सिंह अर्कवंशी, मुकेश यादव एवं काफी संख्या में दर्शक उपस्थित रहे ||

Saturday, 27 February 2021

07:56

डेहरा जोहड़ी ग्राम पंचायत के "प्रकाश चंद सैनी" बने प्रदेश सचिव

जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर जागरूकता अभियान व पर्यावरण संरक्षण को लेकर संगठन निर्माण की दिशा में राष्ट्रीय स्तर की संस्था स्टैंड विथ नेचर की राजस्थान प्रदेश इकाई का हुआ गठन।
स्टैंड विथ नेचर राजस्थान में पर्यावरण की बेहतरी के लिए और जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर राष्ट्रीय अध्यक्ष लोकेश भिवानी की अध्यक्षता में जनजागरण अभियान को समर्पित युवाओ की एक राज्य स्तरीय टीम का गठन किया गया है। जिसमें मुकेश आलराउंड प्रदेश अध्यक्ष, शबनम अजहरी उपाध्यक्ष, नीमकाथाना गुहाला के प्रकाश चंद सैनी प्रदेश सचिव और मयंक जानी को कोषाध्यक्ष मनोनीत किया गया है।
टीम की राजस्थान राज्य इकाई के प्रदेश सचिव प्रकाश चंद सैनी ने बताया की कमिटी का मुख्य उद्देश्य आने वाले दिनों पूरे राज्य में जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण प्रदूषण के मुद्दे पर जनजागरण अभियान चलाना है। इसके लिए राज्यभर के प्रयावर्णविदों के साथ मिलकर पूरे राजस्थान में "पर्यावरण जनजागृति यात्रा " निकाली जायेगी।जिसमें राज्य के सरकारी और गैर सरकारी संस्थाओं के साथ से स्कूलों और कॉलेज में सेमिनार के माध्यम से  छात्र-छात्राओं को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने का काम करेंगे।
04:37

धूमधाम से मनाई गई सन्त रविदास जी की जयन्ती

आज दिनांक 27 फरवरी 2021 को जनपद लखीमपुर खीरी के 139 गोला विधानसभा के नगर गोला गोकरननाथ में समाजवादी पार्टी के निवर्तमान नगर अध्यक्ष व पूर्व प्रत्याशी नगर पालिका परिषद गोला व ह्यूमन वेलफ़ेयर फॉउंडेशन के अध्यक्ष *वारिस अली अंसारी* के आवास पर संत गुरु रविदास जी की जयंती मनाई गई इस अवसर पर उनके जीवनकाल पर भी चर्चा की गई संत गुरु रविदास जी भारत के विशेष महापुरुषों में से एक हैं जिन्होंने अपने अध्यात्मिक वचनों से सारे संसार को एकता भाईचारा पर जोर दिया है।

संत रविदास जी ने जीवन भर समाज में फैली हुई कुरीतियां जैसे जात पात के अंत के लिए काम किया है संत रविदास जी ने ऊंच-नीच की भावना तथा ईश्वर भक्त के नाम पर किए जाने वाले विवादों को सारहीन तथा निरर्थक बताया तथा सबको परस्पर मिलजुल कर व प्रेम पूर्वक रहने का उपदेश दिया।

   संत रविदास जी के उपदेश  आज भी समाज के कल्याण तथा उत्थान के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण हैं इन्हीं गुण के कारण संत रविदास जी को अपने समय के समाज में अत्यधिक सम्मान मिला और इसी कारण आज भी लोग इन्हें श्रद्धापूर्वक स्मरण करते हैं इस अवसर पर समाजवादी पार्टी के निवर्तमान नगर अध्यक्ष वारिस अली अंसारी, निवर्तमान विधानसभा अध्यक्ष अशोक वर्मा, पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के विधानसभा अध्यक्ष सोम चंद्र प्रजापति, मृदुल शुक्ला,लाल मोहम्मद अंसारी, राजू भार्गव, नंद किशोर भार्गव , सरदार टीटू सिंह ,  मुकेश भार्गव, राधेश्याम, जलीस अंसारी,सर्वेश गौतम ,, आसिफ अंसारी , अमीर हसन इदरीसी , आरिफ अली मंसूरी, नैमिष वर्मा , मोहन भार्गव , मुन्ना अंसारी और बहुत से समाजवादी कार्यकर्ता एवं साथी गण उपस्थित रहे।
04:34

भाजपा का जिला पंचायत वार्ड वार चुनाव पर मंथन

भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश के आवाहन पर आगामी पंचायत चुनाव के दृष्टिगत जिला पंचायत वार्ड वार बैठकों का आयोजन हो रहा है।
जिला पंचायत वार्ड वार बैठक दिनांक 26, 27, 28 फरवरी को होना सुनिश्चित हुई है इसी के क्रम में आज बदायूं जनपद के 13 जिला पंचायत वार्ड में में बैठक संपन्न हुई।
जिनमें खुकड़ी, ब्यौर, हुसैनपुर करौतिया, बगरैंन, रहेड़िया, मोहम्मदपुर मई, लक्ष्मीपुर, नाधा, रसूलपुर कलां, अहमदनगर असौली, बांस बरौलिया, ककोड़ा, खेड़ा बुजुर्ग शामिल है।

जिला पंचायत वार्ड अहमदनगर असोली में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रदेश महामंत्री अनुसूचित मोर्चा डीपी भारती ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को पंचायत चुनाव हर हाल में जीतना है। पार्टी के कार्यकर्ता उसके लिए अभी से कमर कस लें। पंचायत चुनाव का बिगुल बज चुका है। देश की जनता मोदी जी और योगी जी के साथ है। देश और प्रदेश में विकास बिना जातिवाद बिना भेदभाव के निरंतर हो रहा है जिससे उत्तर प्रदेश उत्तम प्रदेश बनने की ओर अग्रसर है।
डीसीबी चेयरमैन उमेश राठौर ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार में विकास गांव, कस्बा, शहर में गरीब, मजदूर, किसान, शोषित, वंचित लोगों तक पहुंचा है। वास्तव में इतिहास में पहली बार ऐसा हो रहा है। आप सभी कार्यकर्ताओं से आवाहन करता हूं कि पंचायत चुनाव में अपने अपने बूथ से कमल खिला कर भेजना यही मोदी जी के हाथों को और अधिक मजबूत करने का मौका है।

इस मौके पर अलग अलग स्थान पर डीसीबी चेयरमैन उमेश राठौर डीपी भारती स्वतंत्र प्रकाश गुप्ता गोविंद शर्मा राजेश यादव संजीव गुप्ता अनुज महेश्वरी अजय मथुरिया आशीष शर्मा राहुल शंकर आर सोबरन सिंह कालीचरण दिवाकर राहुल सिंह वीरपाल राजेश शर्मा रितेश सिंह नत्थू लाल वर्मा के पी सिंह लेखपाल यादव राधाचरण गुप्ता डालचंद मिश्रा अनेक पाल कश्यप अवनीश शाक्य चरण सिंह लोधी धीरेंद्र सिंह लालू सिंह नीतू पाल मयंक दीक्षित देव सिंह यादव ताराचंद कश्यप सर्वेश शाक्य सेवाराम कश्यप सहदेव सागर मधुसूदन गुप्ता अमित कुमार सिंह ज्ञानेंद्र सिंह रजत गुप्ता सहित अन्य कार्यकर्ता उपस्थित रहे।
04:33

भगवान का असली शत्रु अहंकार - आचार्य परमानंद

गोविन्द राणा बदायूं -    बिल्सी क्षेत्र के ग्राम रिसौली में भागवत कथा के चौथे दिवस में आचार्य परमानंद महाराज ने भगवान प्राप्ति के मार्गों पर आने वाली बाधाओं को विस्तार से समझाते हुए कहा कि जीवन में जिनको अहंकार होता है वही भगवान के सबसे बड़े शत्रु होते हैं अहंकार को नष्ट करने के लिए ईश्वर ने नर रूप में जन्म लिया और दुष्ट शक्तियों का नाश कर आम जनमानस के लिए शांति और सुख का मार्ग दिखाया भगवान का नाम प्रतिदिन लेना चाहिए, जो लोग धामिँक कामो क कल पर टाल देते है बह कल कभी आता ही नही ,यह उदगार रिसौली मे चल रही भागवत कथा के चौथे दिन कथा आचाँय परमानंद महाराज जी ने व्यक्त किये,उन्होने कहा कि मनुष्य को कभी अहंकार नही करना चाहिए, क्योकि परमात्मा का सबसे बडा शत्रु अहंकार ही है, इस जीवन का  भरोसा नही इसलिये कोई भी धमँ का कायँ कल पर नही छोडना चाहिएः क्योकि कल कभी आता ही नही है,यह बात रावण ने युद्घ भूमि मे मरते समय राम से कहा कि मैने कई जरूरी काम कल पर टाल दिये मगर आज तक कल नही आया, कथा में महेशसिहं,योगेन्द्रपालसिहं दुष्यतशमाँ, के०जी,शमाँ गोपालसिसौदिया, आकाशदीप हरपाल माथुर,कौशलसिहं शिवओमसिहं उदयराजसिहं अरूणसिहं राजेन्द्रसिहं दामोदर पाल अतुलसिहं महिपाल कश्यप सहित भारी संख्या मे महिलाए मौजूद थे
04:29

सांसद ने अपने दो दिवसीय दौरे में किया कई स्थानों का दौरा


बदायूॅ-    सांसद डा. संघमित्रा मौर्य ने अपने दो दिवसीय दौरे के पहले दिन सडक हादसें मे मृतकों के परिजनों से मिलने पहुंची और गमगीन परिवार को सांत्वना देते हुए ढांढस बंधाया।

सांसद डा. संघमित्रा मौर्य सबसे पहले सम्राट अशोक नगर के सडक हादसे मे मृतक के परिजनों से मुलाकात की। उन्होंने दुखी परिवार को हर संभव मदद देने का वादा किया। इसके बाद सांसद डा. संघमित्रा मौर्य बिल्सी के वार्ड नंबर 8 व 5 के सडक हादसे मे मृतकों के परिवार से मुलाकात की और गमगीन परिवार को दुःख की घड़ी में ढांढस बंधाया। उन्होंने दुखी परिवार को हर संभव मदद देने का वादा किया। इस दौरान बदायूं सांसद प्रतिनिधि तीर्थेन्दृ सिंह पटेल बिल्सी सांसद प्रतिनिधि शिशुपाल शाक्य सांसद मीडिया प्रभारी निष्कर्ष प्रताप सिंह चेयरमैन अनुज वार्ष्णेय बिल्सी नगर अध्यक्ष गगन राठी शेखर सक्सेना सचिन मौर्य विवेक मौर्य नितिन मौर्य अनूप सिंह मुनीश पाल पूर्व चेयरमैन जगदीश सिंह अंकित शाक्य आदि लोग मौजूद रहे
01:27

मजदूर किसान एकता दिवस मनाने गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे सीटू कार्यकर्ता- गंगेश्वर दत्त शर्मा


 नोएडा, संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर संयुक्त ट्रेड यूनियन का 27 फरवरी 2021 मजदूर किसान एकता दिवस के तहत बड़ी संख्या में मजदूरों ने गाजीपुर, सिंधु व टिकरी बॉर्डर पर धरनारत किसानों के आंदोलन में हिस्सा लिया। 
गाजीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन में सीटू कार्यकर्ताओं के साथ शामिल हुए सीटू दिल्ली एनसीआर राज्य कमेटी के उपाध्यक्ष व गौतमबुधनगर के जिलाध्यक्ष गंगेश्वर दत्त शर्मा ने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए किसान विरोधी 3 कृषि कानूनों व मजदूर विरोधी 4 लेवर कोड़ों व  बिजली संशोधन विधेयक के खिलाफ चल रहे आंदोलन से नई परिस्थितियां बनी है और मजदूर ट्रेड यूनियन संगठन व किसान संगठन एक मंच पर आए हैं और आज संत रविदास जयंती व चंद्रशेखर आजाद के शहीदी दिवस को मजदूर किसान एकता दिवस के रूप में मनाया गया है और अब आंदोलन को तेज करने के लिए मजदूर किसान एक साथ मिलकर लड़ेंगे उन्होंने कहा कि जब तक सरकार कृषि कानूनों व लेबर कोड़ों को रद्द नहीं करेगी यह आंदोलन जारी रहेगा।
मजदूर किसान एकता- जिंदाबाद, तीन कृषि कानून वापस लो, 4 लेवर कोड़ वापस लो, बिजली संशोधन विधेयक वापस लो के जोरदार नारों के साथ सीटू के बैनर तले नोएडा से सीटू नेता गंगेश्वर दत शर्मा, लता सिंह, विनोद कुमार, पूनम देवी, राम स्वारथ, इशरत जहां, राज करण सिंह व पूर्वी दिल्ली सीटू कमेटी से पुष्पेंद्र सिंह और सीटू गाजियाबाद कमेटी के नेता दिनेश मिश्रा, जेपी शुक्ला, ईश्वर त्यागी, जी एस तिवारी, रवीन्द्र सिंह के नेतृत्व में बड़ी संख्या में मजदूरों ने गाजीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन में हिस्सा लिया।


Friday, 26 February 2021

03:54

भारतीय कांग्रेस कमेटी विचार विभाग की बैठक में दर्जनों ने ली सदस्यता

आज सेक्टर 10 स्थित कांग्रेस पार्टी के नेता अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी विचार विभाग के राष्ट्रीय संयोजक तरुण भारद्वाज जी के कार्यालय पर महानगर कांग्रेस कमेटी नोएडा अध्यक्ष शहाबुद्दीन के नेतृत्व में नोएडा सेक्टर 76 अमरपाली सिलीकान सिटी निवासी शंकर कृष्णन जी को अपने साथियों सहित कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराई इस मौके पर महानगर अध्यक्ष साबुद्दीन ,अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी विचार विभाग संयोजक तरुण भारद्वाज, युवा कांग्रेस गौतम बुध नगर जिला अध्यक्ष पुरुषोत्तम नागर, उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी अल्पसंख्याक विभाग प्रदेश महासचिव लियाकत चौधरी ,महानगर कांग्रेस कमेटी नोएडा महासचिव रिजवान चौधरी ,महानगर कांग्रेस कमेटी नोएडा सचिव कुशल पाल बघेल ,महानगर कांग्रेस कमेटी नोएडा उपाध्यक्ष डॉ सीमा  के द्वारा शंकर कृष्ण , अमित कुमार सिंह, सोनू चौधरी ,गजेंद्र चौधरी ,सुमित ,विवेक कुमार तमाम साथियों के साथ कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ली और शंकर कृष्ण ने  कहा की पूरी निष्ठा ईमानदारी के साथ  नोएडा में कांग्रेस पार्टी को डोर टू डोर मजबूत करने की बात कही और नौएडा विभिन्न के अपार्टमेंट व‌ सेक्टरों में अधिक से अधिक लोगों को कांग्रेस पार्टी से जुड़ने का कार्य किया जाएगा उसके बाद नव वर्ष 2021 के आदरणीय प्रियंका गांधी जी द्वारा नोएडा के विभिन्न विभिन्न स्थानों पर  कैलेंडर को वितरण किया गया
03:32

27 फरवरी 2021 मजदूर किसान एकता दिवस मनाने गाजीपुर बॉर्डर किसान आंदोलन स्थल जाएंगे सीटू कार्यकर्ता- गंगेश्वर दत्त शर्मा


 नोएडा, संत गुरु रविदास जयंती व शहीद चंद्रशेखर आजाद के शहीदी दिवस 27 फरवरी 2021 को मजदूर किसान एकता दिवस के रूप में मनाने के किसान संगठनों/ मजदूर संगठनों के फैसले को लागू करने के लिए आज 26 फरवरी 2021 सीटू कार्यकर्ताओं की बैठक सेक्टर- 8, नोएडा कार्यालय पर हुई। बैठक में निर्णय लिया गया कि 27 फरवरी 2021 को प्रातः 10:30 बजे मजदूर किसान एकता दिवस मनाने के लिए सीटू कार्यकर्ता गाजीपुर बॉर्डर किसान आंदोलन स्थल पर जाएंगे। 
वहीं दूसरी ओर श्रमिक विकास संगठन के जिला अध्यक्ष रामजी पांडे ने नोएडा में डोर टू डोर जाकर श्रमिको से मुलाकात की व 28 फरवरी रविवार को लोगों से अरविंद केजरीवाल की किसान रैली में मेरठ पहुंचने की अपील की ।
बैठक के माध्यम से अपील करते हुए सीटू जिलाध्यक्ष गंगेश्वर दत्त शर्मा ने ट्रेड यूनियन कार्यकर्ताओं/ मजदूरों से समय से गाजीपुर बॉर्डर पहुंचने की अपील किया

Thursday, 25 February 2021

16:18

बिलासा देवी केंवट एयरपोर्ट टेस्टिंग फ्लाइट की हुई सफल लैंडिग 1 मार्च से दिल्ली के लिए उड़ान सुरु

tap news India deepak tiwari 
बिलासपुर.छत्तीसगढ़ के बिलासपुर से बहुप्रतीक्षित उड़ान का इंतजार खत्म हो गया। लंबी जद्दोजहद और लड़ाई के बाद गुरुवार को एयरपोर्ट पर टेस्टिंग फ्लाइट की सफल लैंडिंग हुई। एलाइंस एयर की इस फ्लाइट को दोपहर करीब 2 बजे रायपुर से कैप्टन चिराग ठक्कर बिलासपुर लेकर पहुंचे। वहीं दूसरी ओर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस पर खुशी जताते हुए एयरपोर्ट का नाम 'बिलासा देवी केंवट एयरपोर्ट' करने की घोषणा कर दी।
बिलासपुर के चकरभाटा एयरपोर्ट के रन-वे पर जैसे ही फ्लाइट लैंड हुई वहां मौजूद लोगों ने ताली बजाकर उसका स्वागत किया। इससे पहले फ्लाइट ने एयरपोर्ट के ऊपर दो चक्कर लगाए। इसके बाद एयरपोर्ट का नया नाम बिलासा देवी केंवट एयरपोर्ट सोशल मीडिया पर आ गया। CM भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ मछुआरा समाज और मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष एमआर निषाद के आग्रह पर एयरपोर्ट का नया नामकरण कर दिया।
सप्ताह में 4 दिन दिल्ली से 2 फ्लाइट होंगी संचालित
बिलासपुर से दिल्ली के लिए ATR 72 एयरक्राफ्ट की दो फ्लाइट सोमवार, बुधवार, शुक्रवार और रविवार को संचालित होगी। पहली फ्लाइट दिल्ली से रवाना होकर जबलपुर होते हुए अपराह्न 3.20 बजे बिलासपुर पहुंचेगी। यहां से 3.45 बजे प्रयागराज होते हुए दिल्ली लौटेगी। (दिल्ली-जबलपुर-बिलासपुर (1520-1545)-प्रयागराज-दिल्ली)।
इसी तरह दूसरी फ्लाइट दिल्ली से प्रयागराज होते हुए शाम 4 बजे बिलासपुर पहुंचेगी। यहां से फिर 4.30 बजे जबलपुर होते हुए दिल्ली जाएगी (दिल्ली-प्रयागराज-बिलासपुर (1600-1630)-जबलपुर-दिल्ली)। इसके पहले एलाइंस एयर ने बुधवार शाम को उड़ानों का शेड्यूल जारी कर दिया है। 1 मार्च की उड़ान के लिए टिकटों की बुकिंग भी अब से शुरू हो गई है।
रायपुर बनेगा कार्गो हब, अंबिकापुर व जगदलपुर से भी शुरू हो सकती है उड़ान
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्रीय उड्‌डय मंत्री हरदीप सिंह पुरी से बिलासपुर से दिल्ली, मुंबई और कोलकाता से एयर कनेक्टीविटी की अनुमति देने का आग्रह किया था। वहीं रायपुर में कार्गो हब की सुविधा विकसित करने के लिए AAI के चेयरमेन को स्थल निरीक्षण के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही अंबिकापुर व जगदलपुर एयरपोर्ट से महानगरों के लिए विमान सेवा शुरू करने का भी सकारात्मक आश्वास मिला है।
16:16

महंगे पेट्रोल-डीजल के विरोध में ममता का ई-स्कूटी से सफर रास्ते में गिरते-गिरते बचीं सुरक्षाकर्मियों ने संभाला

tap news India deepak tiwari 
कोलकाता. पश्चिम बंगाल में TMC बनाम BJP की सियासी जंग तेज हो गई है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को बढ़ती महंगाई को लेकर केंद्र सरकार के विरोध में सचिवालय के लिए ई-स्कूटी से निकलीं। बीच रास्ते में दीदी से स्कूटी नहीं संभली और वे गिरते-गिरते बचीं। सुरक्षाकर्मीयों ने उन्हें ऐन मौके पर गिरने से बचा लिया। संभलने के बाद वे फिर से सचिवालय की ओर निकल पड़ीं।
ममता बनर्जी ने अपने गले में महंगाई का पोस्टर लगा रखा था। उन्होंने पेट्रोल-डीजल और गैस की कीमतें बढ़ने के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया। पोस्टर में केंद्र सरकार को महंगाई रूपी राक्षस के तौर पर दिखाया गया। इसमें केंद्र सरकार से सवाल था कि आपके मुंह में क्या है? आपने पेट्रोल-डीजल और गैस सभी जरूरी चीजों की कीमतें बढ़ा दी हैं।
ममता ने इस दौरान केंद्र सरकार पर निशाना साधा। कहा, 'BJP ने नोटबंदी कराई, तेल की कीमतें बढ़ा दीं। मोदी सरकार ने सब कुछ बेच दिया। BSNL से लेकर कोयला तक सब कुछ बिक गया। ये सरकार आम जनता, युवाओं और किसानों की एंटी है। इसे बंगाल से तो दूर रखना ही है, केंद्र से भी हटाना होगा।'
ममता बनर्जी ने अपने गले में एक पोस्टर लगा रखा था। इसमें केंद्र सरकार को राक्षस रूपी महंगाई के रूप में दिखाया गया है। साथ ही पूछा गया है कि, आपके मुंह में क्या है? आपने पेट्रोल-डीजल और गैस सभी जरूरी चीजों की कीमतें बढ़ा दी हैं।
ममता बनर्जी ने अपने गले में एक पोस्टर लगा रखा था। इसमें केंद्र सरकार को राक्षस रूपी महंगाई के रूप में दिखाया गया है। साथ ही पूछा गया है कि, आपके मुंह में क्या है? आपने पेट्रोल-डीजल और गैस सभी जरूरी चीजों की कीमतें बढ़ा दी हैं।
एक दिन पहले ही मोदी को बताया था दंगाबाज
बुधवार को ही ममता बनर्जी ने हुगली में रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ विवादित बयान दिया था। उन्होंने मोदी को देश का सबसे बड़ा दंगाबाज कह दिया। ममता ने कहा कि जैसा अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ हुआ, मोदी के साथ उससे भी बुरा होगा। हिंसा से कुछ हासिल नहीं हो सकता।
ममता ने कहा कि बंगाल पर बंगाल का शासन होगा। गुजरात का बंगाल पर शासन नहीं होगा। मोदी बंगाल पर राज नहीं करेंगे। गुंडे बंगाल पर शासन नहीं करेंगे। ममता ने अपने भतीजे अभिषेक बनर्जी की पत्नी से CBI की पूछताछ पर कहा कि यह बंगाल की महिलाओं का अपमान है।
नड्‌डा ने कहा- ममता ने बंगाल में केवल हिंसा को बढ़ाया
BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेनी नड्‌डा भी बंगाल के दौरे पर हैं। इस दौरान उन्होंने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। कहा, 'ममता ने बंगाल में केवल हिंसा को बढ़ाया है। केंद्र सरकार की योजनाओं को यहां लागू नहीं होने देती हैं। भ्रष्टाचार में लिप्त हैं।'
16:14

भारत भेजा जाएगा नीरव मोदी deepak tiwari

tap news India deepak tiwari 
लंदन. PNB घोटाले में वॉन्टेड हीरा कारोबारी नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण पर ब्रिटेन की कोर्ट में गुरुवार को आखिरी सुनवाई हुई। इसमें कोर्ट ने नीरव को भारत भेजने की मंजूरी दे दी। लंदन में वर्चुअल हियरिंग के बाद जज सेमुअल गूजी ने कहा कि नीरव मोदी को भारत में चल रहे केस में जवाब देना होगा। उन्होंने माना कि नीरव मोदी के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं। 2 साल चली कानूनी लड़ाई के बाद यह फैसला आया है।
जज ने कहा कि नीरव मोदी को भारत भेजा जाता है तो ऐसा नहीं है कि उन्हें वहां इंसाफ न मिले। कोर्ट ने नीरव मोदी की मानसिक स्थिति ठीक न होने की दलील भी खारिज कर दी है। कहा कि ऐसा नहीं लगता उन्हें ऐसी कोई परेशानी है। कोर्ट ने मुंबई की ऑर्थर रोड जेल की बैरक नंबर-12 को नीरव के लिए फिट बताया। साथ ही कहा कि भारत प्रत्यर्पण होने पर भी उन्हें इंसाफ मिलेगा। 19 मार्च, 2019 को गिरफ्तार किए गए नीरव मोदी पर मनी लॉन्ड्रिंग, सबूतों से छेड़छाड़ और गवाहों को डराने की साजिश रचने का आरोप है।
मुंबई की जेल लंदन की सेल से कहीं बेहतर
भारत में जेल के माहौल और मेडिकल अरेंजमेंट्स पर अदालत ने कहा मुंबई की आर्थर रोड जेल लंदन में नीरव की अभी की सेल से कहीं बेहतर दिखती है। दरअसल, नीरव के वकीलों ने दलील दी थी कि कोरोना के बाद के हालात और भारत में जेलों की खराब हालत के कारण उनकी दिमागी हालत पर असर पड़ सकता है। कोर्ट ने ये दोनों बातें नकार दीं।
प्रत्यर्पण को लेकर अब आगे क्या?
पंजाब नेशनल बैंक (PNB) के 14 हजार करोड़ से भी अधिक के लोन की धोखाधड़ी का आरोपी नीरव इस समय लंदन की वांड्सवर्थ जेल में बंद है। लंदन कोर्ट में जज सेमुअल गूजी के फैसले के बाद मामला अब ब्रिटेन के गृह मंत्रालय के पास जाएगा। प्रत्यर्पण को लेकर कोर्ट के फैसले पर गृह मंत्री प्रीति पटेल आखिरी मोहर लगाएंगी।
हालांकि, नीरव के पास अभी हाईकोर्ट में अपील करने का रास्ता खुला है। अगर वे हाईकोर्ट नहीं जाते हैं और गृह मंत्री प्रत्यर्पण की इजाजत दे देती हैं तो नीरव को भारत लाने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। इस मामले में भारत की होम मिनिस्ट्री का कहना है कि नीरव मोदी के जल्द प्रत्यर्पण के लिए ब्रिटेन के अफसरों के साथ संपर्क किया जाएगा।
नीरव ने हाईकोर्ट में अपील की तो क्या होगा?
1. भारतीय जांच एजेंसियों को कोर्ट में साबित करना होगा कि माल्या पर लगे आरोप ब्रिटेन के कानून के तहत भी अपराध हैं।
2. अगर आरोप साबित होते हैं तो हाईकोर्ट नीरव के प्रत्यर्पण का ऑर्डर दे सकता है।
3. हाईकोर्ट यह भी देखेगा कि क्या नीरव के प्रत्यर्पण से ह्यूमन राइट्स का वॉयलेशन तो नहीं होगा।
4. ऐसे में नीरव को भारत लाने में भारतीय एजेंसियों को कम से कम 10 से 12 महीने का वक्त लग सकता है।
वकीलों ने नीरव को मानसिक रूप से बीमार बताया था
इससे पहले वकीलों ने दावा किया कि नीरव मोदी मानसिक रूप से बीमार है। साथ ही उन्होंने भारत की जेल में सुविधाएं न होने के दावे किए। भारतीय एजेंसियों की ओर से क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस (CPS) मामले की पैरवी कर रहा है। CPS की बैरिस्टर हेलन मैल्कम ने कहा था कि मामला बिल्कुल स्पष्ट है। नीरव ने तीन पार्टनर वाली अपनी कंपनी के जरिये अरबों रुपए का बैंक घोटाला किया। जबकि बचाव पक्ष के वकीलों ने कहा कि मामला विवादित है। नीरव मोदी पर गलत आरोप लगाए गए हैं।
14 हजार करोड़ रुपए से भी अधिक लोन धोखाधड़ी का आरोपी
नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी ने बैंक अधिकारियों के साथ मिलकर पंजाब नेशनल बैंक में करीब 14 हजार करोड़ रुपए से भी अधिक के लोन की धोखाधड़ी की। यह धोखाधड़ी गारंटी पत्र के जरिए की गई। उस पर भारत में बैंक घोटाला और मनी लॉन्ड्रिंग के तहत दो प्रमुख मामले CBI और ED ने दर्ज ‍किए हैं। इसके अलावा कुछ अन्य मामले भी उसके खिलाफ भारत में दर्ज हैं। नीरव मोदी ने अपने प्रत्यर्पण के आदेश के खिलाफ ब्रिटेन की अदालत में चुनौती दी थी।
19 मार्च 2019 से जेल में है नीरव
नीरव मोदी 19 मार्च 2019 को गिरफ्तार होने के बाद से जेल में है। उसने कई बार जमानत हासिल करने की कोशिश की थी, लेकिन हर बार उसकी याचिका खारिज हो गई, क्योंकि उसके फरार होने का जोखिम है।
16:11

डिजिटल मीडिया गाइडलाइन को समझिए:tap news India deepak tiwari

नई दिल्ली.डिजिटल मीडिया के लिए जारी हुई नई गाइडलाइन का सबसे बड़ा फायदा उन यूजर्स को मिलने जा रहा है, जिनकी सोशल मीडिया या OTT के खिलाफ शिकायतें अब तक नहीं सुनी जाती थीं। सबसे ज्यादा नकेल बड़ी सोशल मीडिया कंपनियों पर कसी गई है। उन्हें गाइडलाइन पर अमल के लिए तीन महीने का वक्त मिला है। हालांकि, सरकार इस सवाल का जवाब टाल गई कि गंभीर आपत्तिजनक कंटेंट के मामलों में जेल किसे होगी? यूजर को या सोशल मीडिया को?
सिलसिलेवार तरीके से जानते हैं कि इस गाइडलाइन की जरूरत क्यों पड़ी, इसमें यूजर्स और कंपनियों के लिए क्या है और सरकार क्या करने वाली है...
मामला 2018 से शुरू हुआ, जब सुप्रीम कोर्ट ने गाइडलाइन बनाने को कहा
इस मामले की शुरुआत 11 दिसंबर 2018 से हुई, जब सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से कहा कि वह चाइल्ड पोर्नोग्राफी, रेप, गैंगरेप से जुड़े कंटेंट को डिजिटल प्लेटफॉर्म्स से हटाने के लिए जरूरी गाइडलाइन बनाए। सरकार ने 24 दिसंबर 2018 को ड्राफ्ट तैयार किया। इस पर 177 कमेंट्स आए।
किसान आंदोलन के बाद गाइडलाइन का मुद्दा सबसे ज्यादा गरमाया
सोशल मीडिया में फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन के इस्तेमाल बनाम गलत इस्तेमाल को लेकर लंबे वक्त से डिबेट चल रही थी। इस मामले में अहम मोड़ किसान आंदोलन के वक्त से आया। 26 जनवरी को जब लाल किले पर हिंसा हुई तो सरकार ने सोशल मीडिया कंपनियों पर सख्ती बरती।
सरकार का कहना था कि अगर अमेरिका में कैपिटल हिल पर अटैक होता है तो सोशल मीडिया पुलिस कार्रवाई का समर्थन करता है। अगर भारत में लाल किले पर हमला होता है तो आप डबल स्टैंडर्ड अपनाते हैं। ये हमें साफतौर पर मंजूर नहीं है।
OTT यानी ओवर द टॉप प्लेटफॉर्म्स पर भी अश्लीलता परोसने के आरोप लग रहे हैं। इस बार संसद सत्र में OTT को लेकर सांसदों की तरफ से 50 सवाल पूछे गए। पिछले 3 साल से देश में OTT प्लेटफॉर्म्स तेजी से बढ़े। पिछले साल मार्च से जुलाई के बीच इसमें सबसे ज्यादा 30% की ग्रोथ हुई। मार्च 2020 में 22.2 मिलियन OTT यूजर्स थे, जो जुलाई 2020 में 29 मिलियन हो गए। देश में अभी 40 बड़े OTT प्लेटफॉर्म्स हैं।
गाइडलाइन के दायरे में 4 तरह के प्लेटफॉर्म्स आएंगे
सरकार ने गाइडलाइन में चार शब्दों का इस्तेमाल किया है। पहला- इंटरमीडिएरीज। दूसरा- सोशल मीडिया इंटरमीडिएरीज। तीसरा- सिग्निफिकेंट सोशल मीडिया इंटरमीडिएरीज। चौथा- OTT प्लेटफॉर्म्स।
इंटरमीडिएरी के मायने ऐसे सर्विस प्रोवाइडर से हैं, जो यूजर्स के कंटेंट को ट्रांसमिट और पब्लिश तो करता है, लेकिन न्यूज मीडिया की तरह उस कंटेंट पर उसका कोई एडिटोरियल कंट्रोल नहीं होता। ये इंटरमीडिएरीज आपके इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स हो सकते हैं। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हो सकते हैं या ऐसी वेब सर्विसेस हो सकती हैं जो आपको कंटेंट अपलोड करने, पोस्ट करने या पब्लिश करने की इजाजत देती हैं।
सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के यूजर्स के लिए 4 कॉमन फायदे
1. आपकी शिकायतें सुनी जाएंगी
अब तक यूजर्स के पास सोशल मीडिया पोस्ट्स के खिलाफ आवाज उठाने के लिए रिपोर्ट बटन था, लेकिन शिकायतों के निपटारे का पुख्ता सिस्टम नहीं था। अब सोशल और डिजिटल मीडिया कंपनियों को ऐसा मैकेनिज्म बनाना होगा, जहां यूजर्स या विक्टिम अपनी शिकायत दर्ज करा सकेंगे।
2. शिकायतें कौन सुनेगा, यह पता रहेगा
अब तक यूजर्स को यह नहीं पता होता कि सोशल मीडिया पोस्ट्स के खिलाफ रिपोर्ट करने पर उस पर कौन विचार कर रहा है। अब कंपनियों को यूजर्स की शिकायतें निपटाने वाले अधिकारी की नियुक्ति करनी होगी। ऐसे अधिकारी का नाम और उसके कॉन्टैक्ट डिटेल्स बताने होंगे।
3. शिकायतों पर कितने दिन में कार्रवाई होगी, यह पता रहेगा
अभी यूजर्स को कोई टाइमफ्रेम भी नहीं मिलता कि कब तक उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई होगी। गाइडलाइन के तहत शिकायत अधिकारी को 24 घंटे के अंदर सुनवाई करनी होगी और 15 दिन के अंदर शिकायत को निपटाना होगा।
4. महिलाओं की शिकायतों पर 24 घंटे में एक्शन होगा
यूजर्स और खासकर महिलाओं की गरिमा के खिलाफ पाए जाने वाले कंटेंट को अब कंपनियों को 24 घंटे के अंदर हटाना हाेगा। इसका फायदा उन मामलों में मिलेगा, जिनमें महिलाओं की प्राइवेसी खतरे में पड़ती हो, न्यूडिटी या सेक्शुअल एक्ट से जुड़ा मसला हो या उनकी फोटो किसी ने मॉर्फ की हो।
वॉट्सऐप, फेसबुक जैसे बड़े सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर सख्त नकेल
सोशल मीडिया इंटरमीडिएरीज के दायरे में छोटे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स आएंगे। उन्हें ऊपर बताई गाइडलाइन माननी होगी, जो सभी प्लेटफॉर्म्स के लिए कॉमन है। अब सवाल उठता है कि सिग्निफिकेंट सोशल मीडिया इंटरमीडिएरीज क्या है?
यहां सिग्निफिकेंट सोशल मीडिया इंटरमीडिएरीज के मायने ऐसे प्लेटफॉर्म से हैं, जहां यूजर्स की संख्या ज्यादा है। जाहिर है कि इसके दायरे में 53 करोड़ यूजर्स वाली वॉट्सऐप, 44.8 करोड़ यूजर्स वाली यू-ट्यूब, 41 करोड़ यूजर्स वाली फेसबुक, 21 करोड़ यूजर्स वाली इंस्टाग्राम और 1.75 करोड़ यूजर्स वाली ट्विटर आएगी।
बड़े सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर 8 तरह से सख्ती, फर्स्ट ओरिजिन के बारे में बताना होगा
1. सबसे बड़ी सख्ती यह है कि सोशल मीडिया कंपनियों को आपत्तिजनक पोस्ट्स के फर्स्ट ओरिजिन को ट्रेस करना होगा। यानी सोशल मीडिया पर खुराफात सबसे पहले किसने शुरू की? अगर भारत के बाहर से इसका ओरिजिन है, तो भारत में इसे किसने सबसे पहले सर्कुलेट किया, यह बताना होगा।
2. देश की संप्रभुता, सुरक्षा, पब्लिक ऑर्डर, फॉरेन रिलेशंस और रेप जैसे मामलों में फर्स्ट ओरिजिन की जानकारी देनी होगी। जिन आरोपों के साबित होने पर 5 साल से ज्यादा की सजा हो सकती है, ऐसे मामलों में ओरिजिन बताना होगा। कंटेंट बताने की जरूरत नहीं होगी।
3. सरकार के बनाए कानूनों और नियमों पर अमल सुनिश्चित करने के लिए सोशल मीडिया कंपनियों को चीफ कम्प्लायंस ऑफिसर नियुक्त करना होगा। यह ऑफिसर भारत में रहने वाला व्यक्ति होना चाहिए।
4. एक नोडल कॉन्टैक्ट पर्सन नियुक्त करना होगा, जिससे सरकारी एजेंसियां 24X7 कभी भी संपर्क कर सकें। यह नोडल ऑफिसर भी भारत में रहने वाला व्यक्ति होना चाहिए।
5. बड़ी सोशल मीडिया कंपनियों को हर महीने कम्प्लायंस रिपोर्ट जारी करनी होगी कि कितनी शिकायतें आईं और उन पर क्या कदम उठाए गए।
6. ऐसी कंपनियों को अपनी वेबसाइट और मोबाइल ऐप पर भारत में मौजूद उनका एक कॉन्टैक्ट एड्रेस भी बताना होगा।
7. सोशल मीडिया पर मौजूद यूजर्स वेरिफाइड हों, इसके लिए वॉलंटरी वेरिफिकेशन मैकेनिज्म बनाना होगा। SMS पर OTP के जरिए इस तरह का वेरिफिकेशन हो सकता है।
8. अगर कोई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म किसी यूजर के कंटेंट को रिमूव करता है तो आपको यूजर को इस बारे में सूचना देनी होगी, उसके कारण बताने होंगे और यूजर की बात सुननी होगी।
OTT प्लेटफॉर्म्स को 6 बातें माननी होंगी, बच्चों को दूर रखने के लिए पैरेंटल लॉक मिलेगा
1. OTT प्लेटफॉर्म्स की एक बॉडी सुप्रीम कोर्ट या हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज या इस फील्ड के किसी विशेषज्ञ व्यक्ति की अध्यक्षता में बने। यह बॉडी शिकायतों की सुनवाई करे और उस पर जो जजमेंट आए, उसे माने। यह ठीक उसी तरह होगा, जिस तरह टीवी चैनल अपने कंटेंट के लिए खेद जताते हैं या जुर्माना देते हैं। ऐसा करने को सरकारें उनसे नहीं कहतीं। वे खुद करते हैं। यह सेल्फ रेगुलेशन है।
2. OTT और डिजिटल मीडिया को डिटेल्स/डिस्क्लोजर पब्लिश करने होंगे कि वे इन्फॉर्मेशन कहां से पाते हैं।
3. शिकायतें निपटाने का सिस्टम वैसा ही रखना होगा, जैसा बाकी इंटरमीडिएरीज के लिए है। यानी शिकायतें रिपोर्ट करने के लिए सिस्टम बनाएं, शिकायत निपटाने वाले अधिकारी की नियुक्ति करें और उसका कॉन्टैक्ट डिटेल्स बताएं, तय टाइमफ्रेम में शिकायतों का निपटारा करें।
4. OTT प्लेटफॉर्म्स को 5 कैटेगरी में अपने कंटेंट को क्लासिफाई करना होगा। U (यूनिवर्सल), U/A 7+, U/A 13+, U/A 16+ और A यानी एडल्ट।
5. U/A 13+ और इससे ऊपर की कैटेगरी के लिए पैरेंटल लॉक की सुविधा देनी होगी ताकि वे बच्चों को इस तरह के कंटेंट से दूर रख सकें।
6. एडल्ट कैटेगरी में आने वाले कंटेंट देखने लायक उम्र है या नहीं, इसका भी वेरिफिकेशन मैकेनिज्म बनाना होगा।
डिजिटल न्यूज मीडिया में भी सेल्फ रेगुलेशन पर जोर
डिजिटल न्यूज मीडिया के पब्लिशर्स को प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया और केबल टीवी नेटवर्क रेगुलेशन एक्ट से जुड़े नियमों को मानना होगा ताकि प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया के बीच रेगुलेशन का सिस्टम एक जैसा हो। सरकार ने डिजिटल न्यूज मीडिया पब्लिशर्स से प्रेस काउंसिल की तरह सेल्फ रेगुलेशन बॉडी बनाने को कहा है।
16:07

दूसरे देशों के टेलेंट को रोकना हमारे हित में नहीं-अमेरिका

tap news India deepak tiwari 
न्यूयाॅर्क. अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का एक और फैसला पलटते हुए ग्रीन कार्ड पर लगी रोक हटा दी है। पूर्व राष्ट्रपति ट्रम्प ने कोरोना महामारी के कारण बढ़ती बेरोजगारी से निपटने का हवाला देते हुए 2020 के अंत तक ग्रीन कार्ड जारी करने पर रोक लगा दी थी, जिसे 31 दिसंंबर को उन्होंने मार्च अंत तक के लिए बढ़ा दिया था। बाइडेन के इस फैसले से अमेरिका में एच-1 बी वीजा पर काम करने वाले लाखों भारतीयों को फायदा होगा।
बाइडेन ने बुधवार को कहा कि लोगों काे कानूनी तौर पर अमेरिका आने से रोकना देश हित में नहीं है। यह अमेरिका के उद्योगों को भी प्रभावित करता है, जिसका विश्वभर के प्रतिभाशाली लोग हिस्सा हैं।
क्या है ग्रीन कार्ड प्लान?
काम के लिए दूसरे देशों से आने वाले लोगों को अमेरिका ग्रीन कार्ड जारी करता है। इसकी वैलिडिटी 10 साल होती है। इसके बाद इसे रिन्यू कराना होता है। यह एक तरह से अमेरिका का परमानेंट रेजिडेंट कार्ड है। इसका रंग हरा होता है, इसलिए इसे ग्रीन कार्ड कहा जाने लगा।
ग्रीन कार्ड के लिए लंबी वेटिंग
अब तक अमेरिका ने हर देश के लिए 7% का कोटा तय कर रखा था। बाकी लोग वेटिंग लिस्ट में चले जाते थे। समय के साथ वेटिंग लिस्ट लंबी होती गई। एक अनुमान के मुताबिक, करीब 20 लाख लोग ऐसे हैं जो ग्रीन कार्ड मिलने का इंतजार कर रहे हैं। नए कानून से यह लिमिट हट जाएगी। अब मेरिट के आधार पर ग्रीन कार्ड मिला करेगा।
भारतीय IT पेशेवरों को सबसे ज्यादा फायदा
हर साल अमेरिका 85,000 नए एच-1 बी वीजा देता है। इनमें से लगभग 70% यानी 60,000 वीजा भारतीय IT पेशेवरों के लिए जारी किए जाते हैं। नए वीजा का रजिस्ट्रेशन 9 मार्च से शुरू हाेगा, जो 25 मार्च तक चलेगा। 31 मार्च काे लाॅटरी सिस्टम से सफल आवेदकाें की घाेषणा की जाएगी।
16:05

तीसरे चरण का टीकाकरण 4 दिन बाद, कोरोना वैक्सीन लेने के लिए मोबाइल पर जाएगा मैसेज रहें तैयार

tap news India deepak tiwari 
गया.पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों और दूसरे चरण में फ्रंट लाइन वर्कर्स के टीकाकरण के बाद अब बुजुर्गों की बारी है। तीसरे चरण में 50 साल के उम्र वाले लोगों का टीकाकरण होगा। बस 4 दिन के बाद यानी 1 मार्च से टीकाकरण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। गया के मगध मेडिकल कॉलेज असप्ताल में तैयारी पूरी कर ली गई है। पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों व दूसरे चरण में फ्रंट लाइन वर्कर्स के टीकाकरण का काम चल रहा है। इसके बाद अब तीसरे चरण की शुरुआत होने जा रही है। इसमें 50 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोगों का टीकाकरण के साथ ही गंभीर रूप से पीड़ित बीमार लोगों को भी टीका लगाया जाएगा।
माइक्रो प्लानिंग कर लाभुकों की सूची तैयार
टीकाकरण के लिए माइक्रो प्लानिंग कर लाभुकों की सूची तैयार की जाएगी। सभी पंजीकृत लोगों को तय समय की सूचना उनके मोबाइल पर भेजी जायेगी। योग्य लाभार्थियों के टीकाकरण का ध्यान रखा जाएगा। राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने जिलाधिकारी को पत्र के माध्यम से आवश्यक निर्देश भी दिया है। पत्र में कहा गया है कि कोविड 19 टीकाकरण के संचालन की रणनीति के तहत अगले प्राथमिकता समूह के अंतर्गत बुजुर्ग और ऐसे लोगों को शामिल करना है, जो किसी गंभीर रोग से ग्रसित हैं।
टीकाकरण के लिए तैयारी जोरों पर
एक मार्च 2021 से शुरू होने वाले तीसरे चरण के टीकाकरण के लिए तैयारी तेज कर दी गई है। किसी भी परिस्थिति में टीकाकरण के लिए प्राथमिकता के आधार पर योग्य लाभार्थियों का ही टीकाकरण किया जाएगा। सूची से बाहर के अन्य व्यक्तियों का टीकाकरण नहीं किया जाएगा।
खुद से करना होगा रजिस्ट्रेशन
आमलोगों को खुद से मोबाइल पर रजिस्ट्रेशन करना होगा, जिसके बाद उन्हें वैक्सीनेशन की साइट मैसेज से बताई जाएगी। सामान्य लोगों का वैक्सीनेशन सेशन पिनकोड के आधार पर निर्धारित किया जाएगा। पिनकोड के आधार पर तैयार सेशन साइट के हिसाब से संबंधित लोगों को मैसेज जाएगा और उसी आधार पर ही पूरी वैक्सीनेशन प्रक्रिया चलेगी। ऑनलाइन एप के माध्यम से रजिस्ट्रेशन के लिए पहले से ही तैयार रहना होगा।
16:04

बीमारी आम और खास को देखकर नहीं आती सभी लगाएं मास्क

कोरोना अभी गया नहीं है:tap news India deepak tiwari विधानसभा में जनप्रतिनिधियों के मास्क न लगाने पर बोले चिकित्सा शिक्षा मंत्री- बीमारी आम और खास को देखकर नहीं आती, सभी लगाएं मास्क
भोपाल. मध्यप्रदेश में कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है। इसको लेकर सरकार अलर्ट पर है। इस बीच विधानसभा के चल रहे सत्र में मंगलवार को कई जनप्रतिनिधि बिना मास्क के नजर आए। इस मामले पर बुधवार को मध्यप्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि बीमारी आम और खास को देखकर नहीं आती है। विधायक, सांसद या मंत्री या किसी भी वर्ग के लोग हों उन सभी को मास्क लगाना चाहिए। यह मास्क लगाना हमारे और हमारे परिवार की सुरक्षा के लिए है। निश्चित रूप से जनजागरण बहुत जरूरी है। मैं सभी से निवेदन करूंगा कि सभी अनिवार्य रूप से मास्क लगाएं। खास कर जहां भीड़ है या जब हम सार्वजनिक स्थान पर हों। सारंग ने कहा कि कोरोना पीड़ितों की संख्या बढ़ रही है। यह चिंता का विषय है। संक्रमण को रोकने के लिए जिला क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक हुई है। इसमें हर जिले की स्थिति के अनुसार कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना गया नहीं है। उसकी गति मध्यम हुई थी। मध्यप्रदेश सरकार ने मरीजों के इलाज के लिए समुचित व्यवस्था की है। महाराष्ट्र की सीमा से सटे जिलों में थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है। मास्क और सोशल डिस्टेसिंग के लिए जनजागरण अभियान भी चला रहे हैं।
मरीजों का बेहतर इलाज उपलब्ध करा रही सरकार
विधानसभा सत्र के दौरान कोरोना महामारी में किए गए खर्चे पर कांग्रेस श्वेत पत्र लाने की तैयारी कर रही है। जिसको लेकर मंत्री ने कहा कि कांग्रेस किस मुंह से श्वेत पत्र लाने की बात कर रही है। जब प्रदेश में कमलनाथ सरकार थी। उस दौरान कोरोना वायरस आ चुका था। कांग्रेस सरकार उस समय जैकलिन के ऊपर करोड़ों रुपए खर्च करने की तैयारी में थी। हमारी सरकार ने तो लोगों को लोगों कोरोना से बचाने का काम किया है। मंत्री ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान को साधुवाद करता हूं। कांग्रेस के दौरान 35 टेस्ट प्रदेश में हुआ करते थे। जो कि अब 35 हजार हो रहे है।
कांग्रेस ने शुरू की नई परंपरा
विधानसभा के उपाध्यक्ष पद पर सारंग ने कहा कि भाजपा ने परंपरा बनाई थी कि सत्ता पक्ष के पास अध्यक्ष पद हो और विपक्ष के पास उपाध्यक्ष का पद हो, लेकिन कमलनाथ जी ने आकर नई परंपरा शुरू की। उन्होंने सत्ता पक्ष को ही अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का पद दिया। निश्चित रूप से कमलनाथ जी ने जो परंपरा शुरू की है हम उसको निभाएंगे।
कांग्रेस में न नीति न नीयत
गुजरात नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस की हार पर सारंग ने कहा कि कांग्रेस की नैया डूब चुकी है और डूबती नैया को कोई भी बचाने की जिम्मेदारी नहीं लेता। कांग्रेस में ना नीति है न नीयत है और न नेता है। इसलिए कांग्रेस की यह गति है। मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय चुनावों में भाजपा प्रचंड बहुमत से जितेंगी। जैसा गुजरात में कमल खिला है वैसा ही कमल मध्यप्रदेश में भी खिलेगा।
04:41

अरविंद केजरीवाल के दिल्ली मॉडल से प्रभावित होकर भारतीय जनता पार्टी के जिला कार्यकारिणी सदस्य प्रवीण कुमार धीमान ने थामा AAP का दामन

  अरविंद केजरीवाल के दिल्ली मॉडल से प्रभावित होकर भारतीय जनता पार्टी नोएडा महानगर के पूर्व जिला कार्यकारिणी सदस्य प्रवीण कुमार धीमान ने भाजपा छोड़कर आज आम आदमी पार्टी का दामन थाम लिया ।आम आदमी पार्टी के जिला अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह जादौन ने आज प्रवीण कुमार धीमान को पार्टी में विधिवत शामिल कराया व स्वागत किया और उन्हें बधाई दी तथा कहा की प्रवीण कुमार के आने से आम आदमी पार्टी जिले में और मजबूत  होगी।                   

       जिला महासचिव व पार्टी प्रवक्ता संजीव निगम ने जानकारी दी कि दिल्ली के मुख्यमंत्री व पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल की 28 फरवरी को मेरठ में होने वाली महापंचायत में गौतम बुद्वनगर जिले की तीनों विधानसभाओं नोएडा ,दादरी एवं जेवर भारी संख्या में कार्यकर्ता मेरठ पहुचेंगे ।सभी तैयारियां लगभग पूर्ण हो चुकी है।
04:34

पैरागान अप्रैल प्राइवेट लिमिटेड कंपनी पर मजदूरों ने किया प्रदर्शन- गंगेश्वर दत्त शर्मा

 नोएडा, गैर कानूनी तरीके से नौकरी से निकाले गए कर्मचारियों ने कंपनी मैसर्स- पैरागान अप्रैल प्राइवेट लिमिटेड बी- 37 व 59 होजरी कंपलेक्स फेस टू नोएडा गौतम बुद्ध नगर की दूसरी इकाई बी- 71 व 72 होजरी काम्प्लेक्स फैस-2, नोएडा पर प्रदर्शन किया उक्त कंपनी के प्रबंधकों ने बातचीत के लिए श्रमिकों को और यूनियन नेताओं को वार्ता के लिए बुलाया जिस पर श्रमिक धरना प्रदर्शन स्थगित कर बातचीत में गए तो वार्ता में प्रबंधकों ने कार्य पर रखने पर असहमति व्यक्त किया और उन्हें कानूनी रूप से चुकता हिसाब देने पर सहमति दी जब श्रमिक इस पर सहमत हो गए तो कंपनी प़बंधको ने लॉक डाउन की अवधि का वेतन, कानूनी रूप से नोटिस वेतन व छटनी मुआवजा देने से मना कर बनी सहमति को तोड़ दिया और इस तरह वार्ता टूट गई जिस पर श्रमिकों ने पुनः तय किया कि 3 मार्च 2021 को पैरागान अप्रैल प्राइवेट लिमिटेड बी- 37 व 59, होजरी काम्प्लेक्स फेस टू नोएडा कंपनी पर अपने-अपने परिवारों को साथ लेकर बड़ा धरना प्रदर्शन करेंगे। सीटू नेता राम स्वारथ ने कहा कि कंपनी प्रबंधक श्रम व कारखाना कानूनों का खुला उल्लंघन कर श्रमिकों का आर्थिक व मानसिक रूप से शोषण कर रहे हैं जिसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और 03 मार्च 2021 को कंपनी पर मजदूरों द्वारा दिए जाने वाले धरना प्रदर्शन में सीटू कार्यकर्ता भी बढ़ चढ़कर हिस्सा लेंगे।

रामस्वारथ
सीटू नेता
9555429548

Tuesday, 23 February 2021

18:04

डीजल की महंगाई दिखाने ट्रैक्टर से आए तेजस्वी, सब्जियों का रेट दिखाने आलू-प्याज लेकर पहुंचे कांग्रेसी MLA

tap news India deepak tiwari 
पटना.बजट सत्र में शामिल होने के लिए विपक्ष के विधायकों का सोमवार को अलग-अलग अंदाज देखने को मिला। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव डीजल-पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ, किसान कानून के विरोध और किसानों के आंदोलन के समर्थन में ट्रैक्टर से विधानमंडल के पास पहुंचे, लेकिन पुलिस ने ट्रैक्टर के साथ अंदर जाने की अनुमति नहीं दी। इसके बाद वे कुछ दूर तक पैदल चले। फिर दूसरी गाड़ी में बैठकर सदन तक पहुंचे, वहीं कांग्रेस नेता शकील अहमद आलू , प्याज और अनाज लेकर विधानमंडल परिसर पहुंचे। वे प्याज के बढ़ते दामों का विरोध और किसान आंदोलन के समर्थन में ये सब लेकर आए थे।
तेजस्वी के 2 गार्ड को किया गया बाहर
तेजस्वी के ट्रैक्टर प्रदर्शन की वजह से विधानसभा गेट पर कुछ देर के लिए जाम लग गया। कुछ मंत्रियों और कई विधायकों की गाड़ियां फंसी नजर आईं। वहीं, तेजस्वी यादव के दो गार्ड आर्म्स के साथ गेट के अंदर आ गए थे। उन्हें सुरक्षाबलों ने बाहर किया। तेजस्वी यादव ने कहा कि सरकार किसान विरोधी है। किसानों को उनकी मेहनत का फल नहीं मिल रहा है। सरकार को ध्यान दिलाने के लिए वे ट्रैक्टर से विधानमंडल पहुंचे हैं। वहीं, कांग्रेस नेता शकील अहमद ने कहा है कि आलू-प्याज की कीमत आसमान छू रही है। आम लोग महंगाई से परेशान हैं। लेकिन सरकार इस ओर ध्यान नहीं दे रही है।
विभिन्न मुद्दों पर सरकार के खिलाफ नारेबाजी
विधानसभा परिसर में कई जगह विपक्षी सदस्य पोस्टर और बैनर लेकर विभिन्न मुद्दों पर सरकार का विरोध करते नजर आए। उधर, विधान परिषद के मुख्य गेट पर भी ऐसा ही नजारा देखने को मिला। विधानपरिषद के बाहर विपक्षी सदस्यों ने मैट्रिक परीक्षा के पर्चे लीक होने के मामले पर बिहार बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर को बर्खास्त करने की मांग करते हुए प्रदर्शन किया। विधानसभा के गेट पर वामपंथी विधायकों ने बैनर और पोस्टरों के साथ विभिन्न मुद्दों को लेकर सरकार का विरोध करते हुए प्रदर्शन किया। उसके बाद नारेबाजी करते हुए पैदल ही विधानमंडल परिसर के अंदर गए।
18:01

पालघर में 3 शादियों में पड़ा छापा जाने क्यों

tap news India deepak tiwari
मुंबई.मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे द्वारा बढ़ते Covid-19 मामलों को देखते हुए राज्य भर में प्रतिबंध लगाए जाने के ठीक एक दिन बाद पालघर के जिलाधिकारी डॉ माणिक गुरसेले ने रविवार की देर रात तीन विवाह समारोहों में छापा मारा। इस दौरान 800 से अधिक लोगों को बिना किसी सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का पालन किए शराब पीते और डांस करते हुए पाया गया। खास यह है कि शादी में शामिल हुए ज्यादातर लोगों ने मास्क भी नहीं लगाया था।
इस घटना के बाद शादी के आयोजकों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है, लेकिन अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। डॉ माणिक गुरसेले ने रविवार की देर रात पालघर के सतपति, शिरगांव और उमरोली-बिरवाड़ी में हो रही तीन शादियों पर छापा मारा था। डॉ माणिक गुरसेले ने बताया, 'हमने उमेश पाटिल, कुंदन महात्रे, दीपक जाधव, चंद्रकांत तांडेल, तुषार ठाकुर और चंद्रकांत ठाकुर के खिलाफ IPC की धारा 188 (अवज्ञा), महामारी रोग अधिनियम 1987 और आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत मामला दर्ज किया है।
तीनों दूल्हों के पिता के खिलाफ केस हुआ दर्ज
जिलाधिकारी गुरसेले ने कहा, "हमने केवल 50 मेहमानों के लिए अनुमति दी है। शादी में शामिल लोग सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनने सहित किसी भी नियम का पालन नहीं कर रहे थे। वे बिना किसी डर के खुलकर डांस कर रहे थे। सतपति और बोइसर थानों में इनके खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं। कई मेहमान शराब भी पी रहे थे। तीनों दूल्हों के पिता, डिस्क जॉकी, कैटरर, हॉल मालिक और एक अन्य के खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं।"
जिले में 1202 लोगों की अबतक हुई मौत
पालघर जिले में पिछले दो दिनों में मास्क नहीं पहनने पर 189 लोगों से करीब 36,150 जुर्माना वसूला गया है। वहीं यहां 45,697 कोरोना पेशेंट अब तक मिले हैं और अब तक 1,202 लोगों की इस बीमारी से मौत हो चुकी है।
17:59

न्यूजीलैंड में बिना तारों के होगी बिजली सप्लाई

tap news India deepak tiwari 
ऑकलैंड.बिना तारों के बिजली की सप्लाई की कल्पना साकार होने वाली है। आने वाले महीनों में न्यूजीलैंड की एक फर्म एमरोड, ऊर्जा वितरण कंपनी पावरको और टेस्ला मिलकर इसका ट्रायल करने जा रहे हैं। ये तीनों ऑकलैंड उत्तरी द्वीप में स्थित एक सोलर फार्म से कई किमी दूरदराज स्थित बस्तियों में बीम एनर्जी के जरिए बिजली पहुंचाने की तैयारी कर रहे हैं।
इस टेक्नोलॉजी के तहत माइक्रोवेव की बहुत पतली बीम के रूप में बिजली पहुंचाई जाएगी। पावर बीमिंग की इस प्रक्रिया का पहले भी इस्तेमाल किया जा चुका है, लेकिन यह सेना से जुड़े काम और अंतरिक्ष से जुड़े प्रयोगों तक ही सीमित था। 1975 में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने माइक्रोवेव के जरिेए 1.6 किमी दूरी तक 34.6 किलोवॉट बिजली भेजने का रिकॉर्ड बनाया था। हालांकि इसका इस्तेमाल व्यावसायिक उपयोग के लिए नहीं किया गया।
शुरुआत में कम दूरी तक बिजली भेजी जाएगी
एमरोड कंपनी के फाउंडर ग्रेग कुशनिर ने बताया कि हम शुरुआत में 1.8 किमी तक कुछ किलोवॉट बिजली भेजेंगे। धीरे-धीरे दूरी और पावर में बढ़ोतरी करेंगे। उन्होंने बताया कि इससे दूरदराज इलाकों में बिजली भेजने पर तारों के भारी भरकम खर्च से निजात मिलेगी।
कुशनिर के मुताबिक बिना तारों के बिजली पहुंचाने की दो और टेक्नोलॉजी पर उनकी कंपनी काम कर रही है। इनमें से एक रिले है, ये निष्क्रिय उपकरण है। यह लैंस की तरह काम करता है और माइक्रोबीम को रीफोकस करके कम से कम ट्रांसमिशन लॉस के जरिए बिजली पहुंचाता है। दूसरे मेटामटेरियल्स हैं। ये पहले से ही क्लोकिंग डिवाइस में लगाए जाते रहे हैं। ये युद्धपोत और लड़ाकू विमान को रडार से बचने में मदद करते हैं। पर साथ ही ये विद्युत चुंबकीय तरंगों को बिजली में बेहतर तरीके से बदलने में सक्षम हैं।
एमरोड के अलावा सिंगापुर की ट्रांसफरफाई, अमेरिका की पावरलाइट टेक्नोलॉजी भी हवा से बिजली भेजने की योजना पर काम कर रही हैं। जापान की मित्सुबिशी भी सोलर पैनल लगे उपग्रहों से बिजली सप्लाई की संभावना तलाश रही है।
इंसानों को जोखिम नहीं, एहतियात के लिए बीम को लेजर से कवर देंगे
हवा में बिजली सप्लाई के जोखिम पर कुशनिर का कहना है कि इन बीम्स का घनत्व काफी कम होगा। इसलिए इंसान और जानवरों पर इसका बहुत असर नहीं होगा। फिर भी एहतियात के लिए इन बीम्स को एक तरह से लेजर के पर्दे से कवर कर दिया जाएगा। लंदन के इंपीरियल कॉलेज की स्टडी के मुताबिक इंसान या अन्य डिवाइसों को इससे कोई खतरा नहीं होगा।
17:57

दुबई एयरपोर्ट पर अब आपका चेहरा ही पासपोर्ट होगा, बायोमैट्रिक टेक्नोलॉजी से पैसेंजर की पहचान होगी

tap news India deepak tiwari 
दुबई.दुबई एयरपोर्ट पर अब पैसेंजर्स को सफर के लिए लंबी लाइनों से राहत मिल जाएगी। एयरपोर्ट अथॉरिटी ने लेटेस्ट फेस रिकग्निशन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल शुरू कर दिया है। इसके अलावा आंखों की पुतलियों (iris) के जरिए भी पैसेंजर का आईडेंटिफिकेशन किया जाएगा। दरअसल, इन दोनों के इस्तेमाल से ही पहचान पूरी की जाएगी। एयरपोर्ट एडमिनिस्ट्रेशन के मुताबिक, उसने पूरे प्रॉसेस को बायोमैट्रिक मोड में पूरा करने का फैसला किया है।
बायोमैट्रिक पैसेंजर जर्नी
इस प्रोजेक्ट को बायोमैट्रिक पैसेंजर जर्नी नाम दिया गया है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ने कहा- इस प्रोग्राम से पैसेंजर्स को सहूलियत मिलेगी। कोविड-19 के दौर में कॉन्टैक्ट फ्री जर्नी जरूरी थी। अब पैसेंजर्स एयरलाइन स्टाफ के संपर्क में नहीं आएंगे। इसके लिए 122 स्मार्ट गेट्स बनाए गए हैं। किसी भी गेट पर 5 से 9 सेकंड्स ही लगेंगे।
दुबई एयरपोर्ट के डायरेक्टर मेजर जनरल मोहम्मद अहमद अल मायरी ने कहा- हमने अमीरात एडमिनिस्ट्रेशन और दूसरे सहयोगियों की मदद से यह प्रॉसेस शुरू किया है। एक स्मार्ट टनल भी बनाई गई है। हम फ्यूचर टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल इसलिए कर रहे हैं, ताकि पैसेंजर्स को एयरपोर्ट पर किसी तरह की दिक्कत न हो। फिलहाल, हर रोज तीन हजार पैसेंजर्स इस तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं। हालांकि, पुराना तरीका भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यह पैसेंजर्स पर डिपेंड करता है कि वो कौन सा तरीका प्रॉसेस चुनते हैं।
ऐसा होगा प्रॉसेस
पैसेंजर जब दुबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंचेगा तो फेस और आईरिस रिकग्निशन के जरिए चेक इन पर उसकी पहचान होगी। यह एक बार ही होगा और भविष्य के लिए डेटा कलेक्ट हो जाएगा। इसके बाद जितने भी स्मार्ट गेट्स से वह गुजरेगा, उन सभी पर बायोमैट्रिक टेक्नोलॉजी का डेटा मैच होगा और गेट खुलते जाएंगे। हालांकि, जेब में पासपोर्ट होना जरूरी होगा। बिजनेस लाउंज में जाने के लिए बोर्डिंग पास दिखाने की जरूरत नहीं होगी, फेस रिकग्निशन से गेट खुल जाएंगे और पैसेंजर यहां पहुंच सकेगा।
17:56

मंगल ग्रह से आई आवाज

deepak tiwari
वॉशिंगटन.अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा (NASA) ने मार्स यानी मंगल ग्रह की पहली ऑडियो रिकॉर्डिंग जारी की। 10 सेकंड की इस ऑडियो क्लिप में बहुत मामूली आवाज है। नासा के मुताबिक, यह उसके पर्सीवरेंस रोवर के उतरने के बाद वहां मौजूद धूल और मिट्टी पर पड़े दबाव की वजह से पैदा हुई। नासा ने इसके साथ ही लाल ग्रह पर पर्सीवरेंस रोवर की लैंडिंग का वीडियो भी जारी किया है। इस रोवर ने गुरुवार को मंगल ग्रह पर लैंडिंग की थी।
लैंडिग के बाद माइक्रोफोन ने काम नहीं किया था
मीडिया रिपोर्ट्स में नासा के हवाले से कहा गया है कि गुरुवार को जब पर्सीवरेंस ने मार्स पर लैंडिंग की थी उस दौरान इसके माइक्रोफोन ने काम करना अचानक बंद कर दिया था। यही वजह है कि लैंडिंग के दौरान का इसका ऑडियो सामने नहीं आ सका था। हालांकि, इसके बाद माइक्रोफोन ने काम करना शुरू कर दिया और अब इसकी पहली क्लिप नासा ने जारी की है।
मिशन के कैमरा और माइक्रोफोन सेक्शन इंजीनियर डेव ग्रुएल ने कहा- 10 सेकंड के इस क्लिप में बहुत धीमी और मामूली आवाज सुनी जा सकती है, लेकिन रिसर्च के लिहाज से यह बेहद कीमती है।
वीडियो क्लिप भी जारी
ऑडियो के साथ ही नासा ने एक लैंडिंग टाइम (टच डाउन) वीडियो जारी किया है। 3 मिनट 25 सेकंड के इस वीडियो में तीन फ्रेम हैं। इसमें दिखता है कि रोवर ने कैसे लैंडिंग की। हीट शील्ड और पैराशूट भी नजर आते हैं। इसी वीडियो में नासा के स्टाफ की खुशी के पल भी कम्पाइल किए गए हैं। नासा ने कहा- यह इतिहास में पहली बार हुआ जब मार्स पर लैंडिंग का वीडियो और तस्वीरें ली गई हैं। हम इनका अध्ययन शुरू कर चुके हैं।
रोवर बिल्कुल सही हालत में
पर्सीवरेंस की मिशन मैनेजर जेसिका सैमुअल्स ने कहा- अब तक सभी चीजें वैसी ही हैं, जैसी हम चाहते थे। यह बिल्कुल हमारी उम्मीदों के मुताबिक ही काम कर रहा है। अब हम जल्द ही इसके साथ मौजूद हेलिकॉप्टर की पहली उड़ान पर फोकस करेंगे। फिलहाल, शुरुआती तैयारियां की जा रही हैं।
17:54

अब मुस्लिम सांसदों से भी नहीं मिल सकेंगे इमरान खान

deepak tiwari
कोलंबो.पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान मंगलवार को दो दिन के श्रीलंका दौरे पर कोलंबो पहुंचे। प्रधानमंत्री बनने के बाद यह उनका पहला श्रीलंका दौरा है। हालांकि, श्रीलंका की इस पहली ही यात्रा में इमरान की किरकिरी हो रही है। एक हफ्ते में दूसरी बार श्रीलंका की गोटबाया राजपक्षे सरकार ने उन्हें झटका दिया। पिछले हफ्ते श्रीलंकाई संसद में उनके भाषण का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया था। अब श्रीलंका के मुस्लिम सांसदों से मीटिंग के प्रोग्राम को शेड्यूल से हटा दिया गया है।
इमरान के शेड्यूल के मुताबिक, उन्हें श्रीलंका मुस्लिम कांग्रेस के लीडर रऊफ हकीम और ऑल सीलोन मक्कल कांग्रेस के लीडर रिशाद बाथीउद्दीन से मुलाकात करनी थी। इस मीटिंग को श्रीलंकाई सरकार ने रद्द कर दिया है।
दो नहीं तीन झटके मानिए
पाकिस्तान के ARY टीवी चैनल के मुताबिक, श्रीलंका सरकार ने एक हफ्ते में इमरान के तीन कार्यक्रम रद्द किए। पहला- संसद में होने वाला भाषण टाला। दूसरा- मुस्लिम सांसदों से मुलाकात भी नहीं हो सकेगी। तीसरा- स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स भी नहीं जा सकेंगे। आखिरी दो कार्यक्रमों को कथित तौर पर सुरक्षा का हवाला देकर टाला गया है।
हकीकत क्या है
सच्चाई ये है कि श्रीलंका में लंबे वक्त से मुस्लिम विरोधी भावनाएं हैं। यहां बौद्ध समुदाय की संख्या सबसे ज्यादा है। पिछले दिनों यहां के बौद्ध समुदाय ने मस्जिदों में जानवरों की कुर्बानी का विरोध किया। इस पर रोक के लिए रैलियां निकाली गईं। कोविड-19 के दौर में आरोप लगा कि महामारी से मारे गए मुस्लिमों के शव दफनाने के बजाए जलाए जा रहे हैं। इमरान ने सार्वजनिक तौर पर इस मुद्दे को उठाया और इसका विरोध किया।
राजपक्षे सरकार की आशंका
इमरान ने अफगानिस्तान दौरे पर मुस्लिम कार्ड खेला था। श्रीलंकाई सरकार को आशंका है कि वे इस दौरे पर भी ऐसा कर सकते हैं। इसलिए हर उस प्रोग्राम को इमरान के शेड्यूल से हटा दिया गया, जिससे श्रीलंका में सवाल उठ सकते हैं। संसद में भाषण को तो साफ तौर पर इसलिए रद्द किया गया, क्योंकि इससे भारत नाराज हो सकता था। आशंका थी कि इमरान वहां कश्मीर का मुद्दा उठा सकते हैं। भारत ने कोविड-19 के दौर में श्रीलंका की काफी मदद की। हाल ही में करीब पांच लाख वैक्सीन वहां मुफ्त भेजी गईं।
35 साल बाद कोलंबो में इमरान
इमरान खान 1986 में आखिरी बार श्रीलंका गए थे। उस वक्त वे पाकिस्तान की क्रिकेट टीम के कप्तान थे। इस दौरे में उन्होंने श्रीलंकाई अंपायरों पर पक्षपात का आरोप लगाया था।
17:51

हरियाणा सरकार ने लागू किया नया नियम

deepak tiwari
फरीदाबाद.अगर आपके बच्चे का नाम उसके जन्म प्रमाणपत्र में अपडेट नहीं है तो आपके लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार ने जन्म प्रमाण पत्र में नाम चढ़वाने की समय सीमा बढ़ाकर 31 दिसंबर 2024 कर दी है। राज्य सरकार ने इसके लिए अधिसूचना जारी कर दी है।
अभी तक जन्म प्रमाण पत्र के लिए लोगों को चंडीगढ़ तक धक्के खाने पड़ते हैं। लेकिन, अब ऐसा नहीं करना पड़ेगा। इसके अलावा एक खास बात यह है कि नई सुविधा नगर निगम में ही मिलेगी। अभिभावकों को सिर्फ जरूरी कागजात उपलब्ध कराने होंगे। नगर निगम जन्म एवं मृत्यु रजिस्ट्रेशन के नोडल अफसर राजेंद्र दहिया ने कहा कि जिन लोगों ने अपने बच्चों के प्रमाण पत्र मेंं नाम नहीं चढ़वाया है, उन्हें सरकार ने मौका दिया है तो फायदा उठाएं।
बता दें कि किसी भी सरकारी अथवा प्राइवेट अस्पताल अथवा घर पर पैदा होने वाले बच्चों का नगर निगम से जन्म प्रमाण पत्र बनवाना अनिवार्य है। क्योंकि बगैर प्रमाण पत्र के स्कूलों में दाखिले नहीं होते। अब अन्य बहुत से कार्याें के लिए भी जन्म प्रमाण पत्र अनिवार्य हो गया है। वैसे तो अस्पतालों में पैदा होने वाले बच्चों का रिकार्ड खुद ब खुद नगर निगम के रिकार्ड में आ जाता है। लेकिन उसमें सिर्फ अस्पताल का नाम, जन्मदिन, मां और बाप का नाम ही लिखा होता है। बच्चे का नाम नहीं होता, इसी के लिए नई सुविधा दी गई है।
06:10

पानीपत में किसानों ने संभाली पगड़ी

 deepak tiwari
पानीपत.पानीपत टोल प्लाजा पर किसान और मजदूरों ने पगड़ी संभाल दिवस मनाकर तीनों कृषि कानून वापस होने तक आंदोलन जारी रखने का संकल्प लिया। किसानों ने कहा कि शहीद सरदार भगत सिंह के चाचा अजित सिंह ने पगड़ी संभाल आंदोलन की शुरूआत करके अंग्रेजों को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था। इसी तरह किसान भी मौजूदा सरकार को तीनों कृषि कानून वापस लेने पर मजबूर करेंगे, तब तक आंदोलन जारी रहेगा।
भारतीय किसान यूनियन के जिला प्रधान कुलदीप बलाना, किसान नेता बिंटू मलिक और सीटू पदाधिकारी सुनील दत्त ने कहा कि किसान संयुक्त मोर्चा के आह्वान पर मंगलवार को किसान-मजदूरों ने पगड़ी संभाल दिवस मनाया। उन्होंने बताया कि 1906-07 के दौरान शहीद भगत सिंह के चाचा अजित सिंह ने इस आंदोलन की शुरूआत की थी। 9 महीने चले इस आंदोलन के कारण अंग्रेजों को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था।
1836 में आज ही के दिन अखिल भारतीय किसान सभा की स्थापना करने वाले सहजानंद सरस्वती की जयंती भी है। किसानों ने दोनों महापुरुषों को याद किया। किसान नेताओं ने कहा कि अब 2020-21 में 550 किसान संगठनों के किसान संयुक्त मोर्चा ने कृषि कानूनों को लेकर सरकार के खिलाफ ऐसा ही आंदोलन छेड़ा है। इस आंदोलन में भी सरकार को कृषि कानून वापस लेने पर मजबूर किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि कृषि कानून वापस लेने और न्यूनतम समर्थन मूल्य गारंटी कानून लागू होने तक वह संघर्ष जारी रखेंगे। इस दौरान सेवा सिंह, डॉ. सुरेंद्र मलिक, दिलावर सिंह राठी, राममोहन राय, विजेंद्र स्वामी, ईश्वर सिंह, अशोक पंवार, नवीन सपड़ा, जय भगवान, हुकुम सिंह, स्वामी अग्निवेश, पायल, राममेहर, रामकिशन आर्य, शीशपाल आदि उपस्थित रहे।

Monday, 22 February 2021

18:02

पिकअप से दोगुना वजन ढोने में सक्षम हैं ये 7 फुट के सोनू-मोनू रोज पीते हैं 4-4 किलो दूध

नागौर.मजबूत कद-काठी के कारण देश-दुनिया में प्रसिद्ध नागौरी नस्ल के बैलों का पावर इन दिनों नागौर के श्रीरामदेव पशु मेले में देखने को मिल रहा है। जिला मुख्यालय पर चल रहे राज्य स्तरीय पशु मेले में देशभर से खासकर राजस्थान, यूपी, एमपी, पंजाब, हरियाणा से बड़ी संख्या में व्यापारी बैलों की खरीदारी के लिए यहां पहुंच रहे हैं। मेले में नागौरी नस्ल के एक से बढ़कर एक बैलों की कई शानदार जोड़ियां यहां पहुंची है, उनके मालिक व्यापारियों के सामने बैलों की चलने की चाल दिखाकर उनकी खासियत से रूबरू करवा रहे हैं। मेला फरवरी अंत तक चलेगा।
ऐसे ही दो बैलों सोनू-मोनू की जोड़ी भी श्रीरामदेव पशु मेले में पहुंची। जिनके बारे में मालिक पशुपालक निंबाराम, पुरखाराम व रामकुमार ने जानकारी दी। ये ही इन दोनों बैलों को लेकर यहां पहुंचे थे। जिन्होंने बताया कि एक बैल को प्रतिदिन सुबह 4 लीटर का दूध, सुबह-शाम ज्वार और मूंग का 5-5 किलो हरा चारा, सुबह-शाम 5 किलो बाजरी व खल का बांटा दिया जाता है। साथ ही डाइट में मैथी व गेहूं का उबला दलिया, प्रतिदिन-250 तिलों की तेल शामिल है।
12-12 क्विंटल माल ढुलाई की क्षमता
दोनों एक दिन में 5 एकड़ भूमि जोत सकते हैं। दोनों बैलों की क्षमता 12-12 क्विंटल (2400 किलो) माल की ढुलाई करने की है। जानकारी के मुताबिक, एक पिकअप की क्षमता 1360 किलो तक होती है।
नागौरी नस्ल के बैलों की यह रोचक जानकारी
सींग : छोटे व सुडौल।
आंखें : हिरण जैसी
मुंह : छोटा तथा त्वचा मुलायम।
गर्दन : चुस्त और पतली होती है। चमड़ी (कामल) लटकी नहीं है।
कान : छोटे व बराबर। सुनने की क्षमता तेज।
चौड़ाई : आगे का सीना मजबूत व चौड़ा होता है। पुठ्ठा घोड़े की तरह गोल।
थूई : सीधी व लंबी, पीछे नहीं मुड़ती
खुर : नारियल जैसे गोल। तेजी से आगे बढ़ाने में सक्षम।
लंबाई : 7 फूट से ज्यादा है।
रंग : अपेक्षाकृत सफेद, शांति का प्रतीक
ऊंचाई : 6 फूट से ज्यादा है। सामान्यतः: नागौरी बैलों की यही ऊंचाई होती है।
टांगें : टांगें पतली व मजबूत, अधिक भार पर झुकती नहीं।
पूंछ : पतली और घुटने से लंबी।
04:24

कांग्रेस कमेटी नोएडा के अध्यक्ष शहाबुदीन के नेतृत्व में नव वर्ष 2021 के कलेंडर वितरित

आज दिनांक 22.2.2021 को महानगर कांग्रेस कमेटी नोएडा के अध्यक्ष शहाबुदीन के नेतृत्व में नव वर्ष 2021 के कैलेंडर के वितरण का शुभारंभ वेस्ट ब्लॉक के गाँव हरौला सेक्टर 5  के उत्तर प्रदेश काँग्रेस कमेटी के सद्स्य सतेन्द्र शर्मा एव महासचिव यतेन्द्र शर्मा व ब्लॉक अध्यक्ष जीतू शर्मा सचिव विक्रम चौधरी के द्वारा महिला कांग्रेस अध्यक्ष उषा शर्मा के निवास से शुरुआत की गई यहाँ पर सभी महिलाओं को कैलेंडर वितरित किये गये,उसके बाद वेस्ट ब्लॉक के अंतर्गत आने वाले सेक्टर 15 ए  नोएडा सेवादल के अध्यक्ष विक्रम सेठी के यहाँ वितरित किये गए वेस्ट ब्लॉक के सेक्टर 15 नयाबांस अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश महासचिव लियाक़त चौधरी के कार्यालय पर भी लोगो को कैलेंडर वितरित किए गए,नार्थ ब्लॉक कर अध्य्क्ष जावेद खान के सेक्टर 12 में भी वितरित किए,बॉस बल्ली मार्किट सेक्टर 10 में महानगर अध्यक्ष के कार्यालय पर भी दिए गए,पूर्व प्रत्याशी राजेन्द्र अवाना ने बताया कि नव वर्ष 2021 कैलेंडर पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की राष्ट्रीय महासचिव यूपी प्रभारी श्रीमती प्रियंका गाँधी का संदेश दिया गया है प्रत्येक घर पर पहुचाने का लक्ष्य कार्यकर्ताओ को दिया गया है,अखिल भारतीय काँग्रेस कमेटी के सदस्य दिनेश अवाना ने कहा है कि कांग्रेस का एक एक कार्यकर्ता मजबूती से 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए मेहनत कर रहा है पूरे नोएडा शहर में लोगो कैलेंडर वितरित किये जायँगे,उत्तर प्रदेश काँग्रेस कमेटी के सद्स्य सतेन्द्र शर्मा ने कहा है कि एक एक गाँव एक एक सेक्टर एव प्रत्येक घर तक नव वर्ष 2021 का कैलेंडर पहुँचाना है आज से पूरे महानगर शहर में शुरआत की गई है,इस अवसर पर महानगर अध्यक्ष शहाबुदीन,पूर्व प्रत्याशी राजेन्द्र अवाना,एआईसीसी सद्स्य दिनेश अवाना,उत्तर प्रदेश काँग्रेस कमेटी के सद्स्य सतेन्द्र शर्मा,महासचिव यतेन्द्र शर्मा,महिला अध्य्क्ष श्रीमती उषा शर्मा,सचिव विक्रम चौधरी,ब्लॉक अध्यक्ष जीतू शर्मा,अल्पसंख्यक विभाग के महासचिव लियाक़त चौधरी, ब्लॉक अध्यक्ष जावेद खान, महासचिव रिजवान चौधरी,दिशांत चौधरी,सेवादल के अध्यक्ष विक्रम सेठी,आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे

Sunday, 21 February 2021

17:32

बकरियों के बाड़े में घुसा तेंदुआ युवक ने किया मुकाबला

deepak tiwari
गुड़गांव.गुड़गांव में एक जंगली जानवर के आबादी में घुस आने से खौफ का माहौल बन गया। बताया जाता है कि यहां एक तेंदुआ बकरियों के बाड़े में घुस गया। इससे पहले कि वह शिकार कर पाता, बाड़े के मालिक परिवार के युवक ने उसका मुकाबला पकड़ लिया। हालांकि वह खुद गंभीर रूप से जख्मी हो गया, लेकिन बकरियों को बचाने में कामयाब रहा। बहादुरी तो देखिए कि शरीर पर कई जगह टांके लगाने पड़े। बावजूद इसके वह दोबारा बकरियों के बाड़े में ही जाकर सोया।
घटना अरावली की पहाड़ी से सटे सोहना इलाके में बने बकरियों के बाड़े में शुक्रवार की रात को घटी। खेड़ला गांव के निवासी जयवीर पुत्र मल्लाह बकरियों के बाड़े में सोया हुआ था। तभी शुक्रवार रात करीब 12 बजे एक तेंदुआ बकरियों के बाड़े में घुस गया। जैसे ही जयवीर की आंखों के सामने एक बकरी पर तेंदुआ झपटा तो जयवीर ने तेंदुए को लाठी मार दी। इसके बाद तेंदुए ने जयवीर पर हमला कर दिया और उसके दोनों हाथों पर तेंदुए ने नाखूनों से गहरे जख्म हो गए।
जयवीर का कहना है कि उसने तेंदुए को घायल होने के बाद भी चार लाठियां मारी और इसका नतीजा रहा कि तेंदुआ भाग खड़ा हुआ। इसके बाद परिजनों ने घायल जयवीर को सोहना अस्पताल में भर्ती कराया। वहां उसके शरीर पर गंभीर घाव होने की वजह से कई जगह टांके लगाने पड़े। इसके बावजूद जयवीर डरा नहीं और शनिवार की रात को भी वह दोबारा बकरियों के बाड़े में ही जाकर सो गया।
17:30

आंदोलन के 90 दिन:19 दिन में प्रदेश में 10 महापंचायतें

 deepak tiwari 
कुंडली बॉर्डर.दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के आंदोलन के शुक्रवार को 90दिन पूरे हो गए। 28 दिन से तो सरकार और किसानों के बीच बातचीत भी ठप है। इस दौरान आंदोलन में नए सिरे से जान फूंकने के लिए किसान नेता हरियाणा, पंजाब और उत्तरप्रदेश में महापंचायतें कर रहे हैं। लेकिन, अब भाकियू नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने हरियाणा-पंजाब में किसान महापंचायतें बंद करके बॉर्डर पर ही आंदोलन मजबूत करने का आह्वान किया है।
बता दें कि फरवरी के 19 दिनों में किसान नेता हरियाणा में 10 महापंचायतें कर चुके हैं। इनके जरिये राज्य का करीब 75% हिस्सा कवर हो चुका है। इनसे लोकल स्तर पर समर्थन जरूर बढ़ा है, पर बॉर्डर पर आंदोलन प्रभावित हुअा। 19 दिनों में मोर्चे की सिर्फ 3 बैठकें ही हुईं, जबकि पहले हर दूसरे दिन मीटिंग कर रणनीति पर निर्णय लिया जाता था। नियमित बैठकें न होने का मुद्दा कुंडली बॉर्डर पर मंच से कई बार उठा है। वहां बैठे किसान कहने लगे हैं कि नेता महापंचायत करें, लेकिन बैठकें भी नियमित रूप से करें। वहीं, संयुक्त किसान मोर्चा ने 23 फरवरी को ‘पगड़ी सम्भाल’ दिवस मनाने का ऐलान किया है।
किसान नेता गुरनाम चढ़ूनी ने शुक्रवार को वीडियो जारी कर कहा कि ये जो महापंचायतों का सिलसिला शुरू हुआ है, उसकी हरियाणा और पंजाब में जरूरत नहीं है। यहां तो पहले ही बहुत जागृति है। मेरे ख्याल में लोग भी इन्हें नहीं चाह रहे हैं। अपील है कि सभी भाई इन्हें अब बंद कर दें। खापों से भी यही अनुरोध है। सभी गांव अनुसार लोगों की ड्यूटी लगाएं, जो बॉर्डर पर स्थाई रूप से बैठें, जिससे बॉर्डर पर आंदोलन में मजबूती आए।
महापंचायत का दौर हुआ तेज तो राजनीतिक दल भी हो गए सक्रिय
प्रदेश में कहीं इनेलो तो कहीं कांग्रेस किसान महापंचायत के नाम पर कार्यक्रम करने लगी है। वहीं, किसानों की पंचायतों में भी कई जगह राजनीतिक लोग मंच पर आ रहे हैं। किसान नेता भी मंच से सरकार की जगह भाजपा का विरोध कर रहे हैं। पश्चिम बंगाल तक में जाकर विरोध की बात कह रहे हैं। वहीं, सरकार भी महापंचायतों के कारण वार्ता की पहल न कर अपने मत वाले किसान नेताओं को खापों से मिलने और समझाने में लगा दिया है।
दिल्ली हिंसा में गायक निक्कू, पंधेर व कई किसान नेताओं की तस्वीरें जारी
दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को लाल किला हिंसा मामले में कई किसान नेताओं व अन्य की तस्वीरें जारी की हैं। इनमें किसान नेता रुलदु सिंह, सरवण पंधेर, गायक इंदरजीत सिंह निक्कू की तस्वीरें शामिल हैं। पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने दोहराया कि किसानों ने विश्वासघात किया है। ट्रैक्टर रैली की शर्तें तोड़ी गई हैं। हिंसा का अंदेशा सच साबित हुआ। अभी 152 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, लेकिन कुछ लोग जांच में शामिल होने से बच रहे हैं। लेकिन, यह उनकी इच्छा पर नहीं चलेगा, हम नोटिस भेज रहे हैं।
पुलिस आए तो घेरकर बैठाएं: गुरनाम
किसान नेता चढ़ूनी ने कहा कि दिल्ली पुलिस गिरफ्तार करने आए तो गांव में ही घेरकर बैठा लो। उन्हें खिलाओ-पिलाओ और जिला अधिकारी के आने के बाद तब ही छोड़ो जब वे यह कह दें कि दोबारा पुलिस गांव में नहीं आएगी।
17:27

जयपुर :कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन

deepak tiwari 
जयपुर.कृषि कानूनों के खिलाफ जयपुर सहित प्रदेशभर में शनिवार को कांग्रेस का पैदल मार्च आयोजित किया गया। परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास की अगुवाई में चला तो पैदल मार्च, लेकिन विधायक डॉ. महेश जोशी ऊंट पर सवार थे। आदर्श नगर विधायक रफीक खान व किशनपोल विधायक अमीन कागजी हाथी। कुछ विधायक और कांग्रेस नेता ट्रैक्टरों पर सवार दिखे, कारें और बाइक भी इस मार्च का हिस्सा रहीं। यानी पैदल कम, वाहनों पर ज्यादा।
इस मार्च में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा को भी शामिल होना था, लेकिन ऐनवक्त पर दोनों शामिल नहीं हुए। बताया जा रहा है कि सीएम नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की बैठक के कारण नहीं आ पाए, वहीं डोटासरा स्वास्थ्य खराब होने की वजह से नहीं आए। प्रदेश कांग्रेस के आह्वान पर इसी तरह का मार्च हर जिला मुख्यालय पर पार्टी की ओर से आयोजित किया गया।
कांग्रेस के झंडे और कानूनों के खिलाफ तख्तियां
मार्च में कार्यकर्ता कांग्रेस के झंडे और हाथ में तख्तियां लिए हुए थे। इन पर कृषि कानून को वापस लेने के नारे लिखे हुए थे। यह मार्च चांदपोल बाजार से छोटी चौपड़, त्रिपोलिया गेट, बड़ी चौपड़, रामगंज चौपड़, सूरजपोल अनाज मंडी होकर गलता गेट तक पहुंचा।
मार्च की तैयारियों के लिए कल बैठक की, लेकिन अनुशासन और रणनीति की कमी दिखी
पैदल मार्च की तैयारियों के लिए एक दिन पहले यानी शुक्रवार को कांग्रेस ने बैठक कर रणनीति बनाई थी। परिवहन मंत्री खाचरियावास और मुख्य सचेतक महेश जोशी ने जयपुर के विधायकों और नेताओं के साथ बैठक कर स्थानीय नेताओं को भी इसमें जिम्मेदारियां दी थी। मार्च के दौरान अनुशासन और रणनीति की कमी साफ दिखाई दी। जयपुर के बड़े नेता अपने-अपने समूहों में छितराए हुए से चलते रहे, पूरा मार्च शुरु से लेकर अंत तक तीन- चार टुकड़ों में बंटकर चला, इस वजह से बड़ा मार्च दिखाई नहीं दिया।
मास्क गायब, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं
सत्ताधारी पार्टी की ओर से अधिकृत रूप से भले ही प्रदेश की जनता को मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग सहित सभी प्रकार के नियमों की पालना की दुहाई दी जाती रहे, लेकिन उसी पार्टी के कार्यक्रम में कोई नियम नहीं, कोई कानून नहीं। न तो किसी नेता या कार्यकर्ता ने मास्क पहना और न ही सोशल डिस्टेंसिंग की पालना की गई। शनिवार को ही सीएम अशोक गहलोत ने देश के एक-दो राज्यों में बढ़े कोरोना केस को देखते हुए प्रदेशवासियों से कहा है कि वे नियमों का पालन गंभीरता से करें, इसके बावजूद कांग्रेस की रैली में उनकी अपील का कोई असर दिखाई नहीं दिया।
सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद कृषि कानून थोपना चाहता है केंद्र
मंत्री खाचरियावास ने कहा कि किसान आंदोलन में अब तक 200 से ज्यादा किसानों की मौत हो चुकी है। दो दर्जन से ज्यादा किसानों ने आत्महत्या कर ली है। सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानूनों पर रोक लगा दी है, इसके बावजूद भाजपा की मोदी सरकार देश के किसानों पर ये कानून थोपना चाहती है। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा पेट्रोल-डीजल महंगा करके, गैस सिलेंडर की सब्सिडी खत्म करके, गैस सिलेंडर को 200 रुपए बढ़ाकर देश की जनता की पीठ में खंजर घोंप चुकी है।
17:24

अमेरिका में घरों के पंखों पर भी जमी बर्फ की चादर

 deepak tiwari 
न्यूयॉर्क.दुनिया की सुपरपावर अमेरिका में लोगों की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। कोरोना के बाद अब यहां ठंड ने लोगों को बदहाल कर दिया है। सबसे खराब हालात टेक्सास में है। यहां घर के अंदर तक बर्फ जम गई है। पंखों पर बर्फ की परतें चढ़ने लगी हैं। ठंड के चलते लोग घर में और कारों में दम तोड़ रहे हैं।
खाने के लिए लग रही लंबी लाइनें
टेक्सास में पानी और बिजली का संकट है। यहां अब सरकार की तरफ से लोगों को खाने के पैकेट बांटे जा रहे हैं। इसके लिए लंबी-लंबी लाइनें लग रही हैं। बर्फबारी के चलते बिजली के ग्रिड फेल हो गए। इस कारण राज्य के बड़े हिस्से में 5 दिन तक बिजली, गैस सप्लाई ठप रही।
जमा देने वाली सर्दी में हीटर नहीं चले। लोगों ने ठंड से बचने के लिए कमरों और कारों में पहुंचकर खुद को पैक कर लिया। इससे कार्बन मोनो ऑक्साइड बढ़ गई और उन्होंने दम तोड़ दिया। कुछ की जान हाइपोथर्मिया से गई। ओहियो समेत ऐसी कई घटनाओं में अब तक 58 लोगों की मौत हो चुकी है।
टेक्सास में भीषण सर्दी से पानी सप्लाई के पाइप फट गए, जिससे राज्य की 2.9 करोड़ में से आधी आबादी पानी के संकट से जूझ रही हैं। हूस्टन के एक स्टेडियम के बाहर पानी की बोतल पाने के लिए सैकड़ों लोगों की लाइन लग रही है।
17:22

जंगल में लकड़ी-गोबर बीनने गई यशोदा को रोते हुए मिली नवजात

 deepak tiwari 
सीपत.सीपत थाना क्षेत्र के ग्राम कुकदा और कुली के बीच जंगल मे कुछ महिलाओं के साथ कुकदा की यशोदा बाई हर दिन की तरह शनिवार की सुबह लकड़ी-गोबर बीनने गई थी। इसी बीच उसे बच्चे के रोने की आवाज सुनाई दी। उनके बिना देर किए आवाज की दिशा में बढ़ना शुरू किया तो देखा कि जंगल के बीच खेत की मेढ़ में एक नवजात बच्ची बिलख बिलखकर रो रही है। उसने अपने साथ आईं महिलाओं की मदद से उस बच्ची की जिंदगी बचा ली।
पुलिस 112 की मदद से बच्ची चाइल्ड लाइन को सौंप दी गई। सीपत क्षेत्र में एक बार फिर शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। किसी निर्मोही मां ने अपने जिगर के टुकड़े नवजात को जंगल के बीच खेत की मेढ़ में छोड़ दिया। शुक्र है कि भगवान ने उसके पास मदद के लिए मां को भेज दिया। सीपत थाना क्षेत्र के ग्राम कुकदा और कुली के बीच जंगल मे कुछ महिलाओं के साथ कुकदा की यशोदा बाई पति बहोरिकराम कुर्रे 50 वर्ष लकड़ी-गोबर बीनने गई थी।
उसने बताया कि उसे अचानक से बच्ची के रोने की आवाज सुनाई दी तो उसी दिशा में आगे बढ़कर देखने चली गई। देखा कि खेत की मेढ़ में एक नवजात जो बच्ची बिलख-बिलखकर रो रही थी। यशोदा बाई अन्य महिलाओं की मदद से उस बच्ची को लेकर गांव के सरपंच के पास पहुंची।
सरपंच ने पुलिस 112 को कॉल किया और घटना की जानकारी दी। नवजात बच्ची को 112 के माध्यम से सीपत स्थित शासकीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाए। यहां बच्ची के स्वास्थ्य का परीक्षण किया गया। स्वस्थ होने पर बिलासपुर चाइल्ड केयर के स्टॉफ को सीपत थाना बुलाकर नवजात उन्हें सौंप दिया गया।
फिर मिला नवजात
डेढ़ माह पहले 2 जनवरी को सीपत थाना क्षेत्र के ग्राम उच्चभट्ठी में भी इसी तरह का मामला सामने आया था। किसी ने पटवारी पुल में एक नवजात को झोले में बंद कर छोड़ दिया था। उसे उच्चभट्ठी के सरपंच नारायण साहू ने एनजीओ के माध्यम से बिलासपुर के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया था।
17:19

तीन बेटियों समेत माता-पिता की नदी में डूबने से गई जान, कपड़ा धोने के दौरान हुआ हादसा

 deepak tiwari 
पुणे.पुणे के मुलशी तहसील में रविवार सुबह नदी में कपड़ा धोने के दौरान तीन बच्चों समेत मां-बाप की डूबने से मौत हो गई। घटना सुबह 11 बजे की है। बताया जा रहा है कि कोलवन गांव के पास एक नदी में माता-पिता अपने बच्चों को लेकर कपड़े धोने गए थे। इसी दौरान पांचों नदी में डूब गए। उधर, इस दौरान मौके पर मौजूद लोगों ने मामले की जानकारी पुलिस को दी। घटनास्थल पर रेस्क्यू टीम के साथ पहुंची पुलिस ने पांचों शव बरामद कर लिया है।
मृतकों की पहचान शंकर दशरथ लायगुडे (उम्र 38), पूर्णिमा शंकर लायगुडे (36), अर्पिता शंकर लायगुडे ( 20), राजश्री शंकर लायगुडे (13), आणि अंकिता शंकर लायगुडे (12) के रूप में हुई है। घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने पांचों शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और आगे की कार्रवाई में जुट गई है। बताया जा रहा है कि महिला और उसका पति कपड़े धोने का काम करते थे। आशंका जताई जा रही है कि मां-पिता कपड़े धो रहे थे, इसी दौरान बच्चे नहाते-नहाते गहरे पानी में चले गए। उन्हें बचाने में माता-पिता की भी मौत हो गई।
17:17

कोरोना को लेकर बांद्रा इलाके के 5 पब में छापेमारी

tap news India deepak tiwari 
मुंबई.कोरोना संकट को देखते हुए BMC की कार्रवाई जारी है। शनिवार देर रात मुंबई के बांद्रा इलाके के 5 पब में BMC के अधिकारियों ने छापेमारी की, इस दौरान पब में काफी भीड़ थी, जिसके बाद सभी ग्राहकों को चेतावनी और मास्क लगाने की हिदायत देकर छोड़ दिया गया।
पब कर्मचारियों पर पैंडेमिक एक्ट के तहत मामला दर्ज
कार्रवाई के दौरान BMC के अधिकारियों ने पब से संबंधित कर्मचारियों पर 188 पैंडेमिक एक्ट के तहत बांद्रा पुलिस में मामला दर्ज कराया है। वहीं BMC के अधिकारियों और कर्मचारियों का कहना है कि अगले आदेश आने तक इसी तरह की कार्रवाई की जाएगी।
राज्य में कोरोना के केसों में फिर एक बाद बड़ी वृद्धि देखने को मिल रही है। स्थिति इतनी भयावह हो गई है कि राज्य में एक बार फिर लॉकडाउन का संकट मंडरा रहा है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे और महाराष्ट्र के मंत्री बच्चू कडू दोनों दूसरी बार कोरोना पॉजिटिव हुए हैं। इनके अलावा दो ऑफिस स्टाफ के कोविड पॉजिटिव होने के बाद महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले क्वारैंटाइन हो गए हैं।
राज्य में अब तक 20 लाख 87 हजार 632 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 19 लाख 89 हजार 963 लोग ठीक हो चुके हैं, जबकि 51 हजार 713 मरीजों की मौत हो गई। 44 हजार 765 मरीज ऐसे हैं, जिनका इलाज चल रहा है।
17:15

पटौदी खानदान में फिर गूंजी किलकारी करीना ने मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में दिया बेटे को जन्म

tap news India deepak tiwari 
मुंबई.पटौदी खानदान में फिर किलकारियां गूंजी हैं। करीना कपूर ने बेटे को जन्म दिया है। रिपोर्ट्स की मानें तो करीना को शनिवार शाम करीब 5:30 बजे मुंबई के ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां रविवार सुबह करीब 8:30 बजे बेटे का जन्म हुआ। सैफ अली खान ने प्रेस को भेजे स्टेटमेंट में लिखा है, 'हमारे यहां बेटा हुआ है। मां और बच्चा दोनों सुरक्षित और सेहतमंद हैं। शुभचिंतकों के प्यार और सपोर्ट के लिए शुक्रिया।'
photo-करीना के दूसरे बेटे के जन्म के बाद उनके पिता रणधीर कपूर, पति सैफ अली खान और बेटे तैमूर ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल पहुंचे।
करीना के पिता रणधीर कपूर ने एक न्यूज वेबसाइट से कहा, 'करीना और बच्चा दोनों ठीक हैं। मैंने अभी तक अपने नाती को नहीं देखा है। लेकिन मैंने करीना से बात की है और उसने मुझे बताया कि वो ठीक है और बच्चा भी स्वस्थ है। मैं बहुत खुश हूं और बच्चे को देखने के लिए उत्सुक हूं। रणधीर ने बताया तैमूर और सैफ दोनों भी बहुत एक्साइटेड हैं।'
बच्चे के जन्म से पहले नए घर में शिफ्ट हुए थे सैफ-करीना
दूसरे बच्चे के जन्म से पहले ही सैफ और करीना अपने नए घर में शिफ्ट हो चुके थे। उनका यह घर बहुत बड़ा है। इस घर में आलीशान लाइब्रेरी, स्विमिंग पूल और एक स्पेशल नर्सरी भी बनवाई गई है। जहां तैमूर अपने छोटे भाई के साथ समय बिता सकेंगे।
सारा के जन्मदिन पर अनाउंस की थी प्रेग्नेंसी
सैफ और करीना ने 16 अक्टूबर 2012 को मुंबई में शादी की थी। 20 दिसंबर 2016 को उनके बेटे तैमूर अली खान का जन्म हुआ। 12 अगस्त 2020 को सारा अली खान (सैफ और उनकी पहली पत्नी अमृता सिंह की बेटी) के 25वें जन्मदिन पर सैफ-करीना ने ऐलान किया था कि वे दूसरी बार पैरेंट्स बनने जा रहे हैं।
प्रेग्नेंसी के दौरान भी शूटिंग बंद नहीं की थी
करीना ने डिलीवरी से पहले भी काम करना बंद नहीं किया था। शनिवार को उन्हें अपनी टीम और मेकअप आर्टिस्ट मिक्की कॉन्ट्रैक्टर के साथ शूट के लिए रवाना होते देखा गया था। करीना दिसंबर में रिलीज होने जा रही 'लाल सिंह चड्ढा' में नजर आएंगी, जिसकी शूटिंग उन्होंने प्रेग्नेंसी के दौरान पूरी की। इसके अलावा वे करन जौहर की अपकमिंग फिल्म 'तख्त' में दिखाई देंगी। वहीं सैफ अली खान की अपकमिंग फिल्में 'आदिपुरुष', 'भूत पुलिस' और 'बंटी बबली 2' हैं।
17:13

ऑस्ट्रेलियन ओपन के बादशाह बने जोकोविच

tap news India deepak tiwari 
मेलबर्न.वर्ल्ड नंबर-1 सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने वर्ल्ड नंबर-4 रूस के डेनिल मेदवेदेव को हराकर ऑस्ट्रेलियन ओपन टाइटल जीत लिया। यह उनका रिकॉर्ड 9वां खिताब है। इससे पहले वे 2008, 2011, 2012, 2013, 2015, 2016, 2019 और 2020 में भी ऑस्ट्रेलियन ओपन जीत चुके हैं। जोकोविच ने मेदवेदेव को लगातार सेटों में 7-5, 6-2, 6-0 से हरा दिया। जोकोविच का यह कुल 18वां ग्रैंड स्लैम खिताब है। वे अब तक करियर में 9 ऑस्ट्रेलियन ओपन, 5 विम्बलडन, 3 यूएस ओपन और 1 फ्रेंच ओपन जीत चुके हैं।
जोकोविच ने सबसे ज्यादा 9 बार ऑस्ट्रेलियन ओपन जीता
जोकोविच ने अब तक कुल 17 बार ऑस्ट्रेलियन ओपन टूर्नामेंट खेला है। जिसमें से वे सबसे ज्यादा बार चैम्पियन बने हैं। इसके बाद रोजर फेडरर और रॉय इमरसन ने 6-6 बार और आंद्रे अगासी, जैक क्रोफॉर्ड और केन रोजवेल ने 4-4 बार यह खिताब अपने नाम किया है।
ऑस्ट्रेलियन ओपन में जोकोविच ने 90% मैच जीते
जोकोविच का इस ग्रैंड स्लैम में 90% विनिंग रिकॉर्ड है। उन्होंने अब तक इस टूर्नामेंट में 83 मैच खेले हैं। इसमें से 75 में उन्हें जीत और 8 मैच में हार मिली है। उन्हें आखिरी बार 2018 में एच चुंग के हाथों लगातार सेटों में हार मिली थी।
जोकोविच का लगातार तीसरा ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब
2008 में पहली बार जोकोविच ने ऑस्ट्रेलियन ओपन जीता।
2009 में एंडी रोडिक के खिलाफ हीट स्ट्रेस की वजह से रिटायर हुए।
2010 में जो विल्फ्रेड सोंगा के हाथों क्वार्टरफाइनल में हार मिली।
2011, 2012, 2013 लगातार तीन साल यह ग्रैंड स्लैम जीता।
2014 में वावरिंका ने क्वार्टरफाइनल में हराया।
जोकोविच ने 2015, 2016 में फिर टूर्नामेंट अपने नाम किया।
2017 में इस्तोमिन ने उन्हें सेकंड राउंड में हराया था।
2018 में एच चुंग ने लगातार सेटों में हराया।
2019, 2020 और 2021 लगातार 3 साल खिताब जीता।
फेडरर, नडाल और मरे के खिलाफ जोकोविच का शानदार रिकॉर्ड
ऑस्ट्रेलियन ओपन में जोकोविच ने फेडरर, नडाल और मरे के खिलाफ14 साल से कोई मैच नहीं हारा है। आखिरी बार फेडरर ने 2007 में राउंड-4 मुकाबले में जोकोविच को हराया था। तब जोकोविच 19 साल के थे और फेडरर नंबर-1 खिलाड़ी थे।
रोजर फेडरर के खिलाफ 4 मैच जीते, 1 हारा।
एंडी मरे के खिलाफ 5 मैच जीते।
राफेल नडाल के खिलाफ 2 मैच जीते।
मेदवेदेव ने नहीं दी कोई चुनौती
पिछले कुछ राउंड से शानदार फॉर्म में चल रहे मेदवेदेव कोई चुनौती पेश नहीं कर सके। इससे पहले सेमीफाइनल में उन्होंने ग्रीस के वर्ल्ड नंबर-5 स्टेफानोस सितसिपास को 6-4, 6-2, 7-5 से हराया था। वहीं, क्वार्टरफाइनल में मेदवेदेव ने रूस के ही आंद्र रुबलेव को 7,5, 6-3, 6-2 से हराया था।
जोकोविच तोड़ देंगे फेडरर का रिकॉर्ड
वर्ल्ड नंबर-1 जोकोविच अगले महीने फेडरर के सबसे ज्यादा हफ्ते पहली पोजिशन पर रहने के रिकॉर्ड को तोड़ देंगे। फेडरर टेनिस करियर में कुल 310 हफ्ते नंबर-1 रहे हैं। वहीं, जोकोविच को नंबर-1 रहते 307 हफ्ते हो चुके हैं। 8 मार्च, 2021 को वे 311 हफ्ते नंबर-1 रहते शुरू करेंगे।
सिर्फ नडाल ही जोकोविच को रिकॉर्ड तोड़ने से रोक सकते थे
नडाल के पास जोकोविच को फेडरर का रिकॉर्ड तोड़ने से रोकने का मौका था। अगर नडाल ATP कप, ऑस्ट्रेलियन ओपन और रोटरडैम ओपन जीत जाते, तो वे ATP रैंकिंग में जोकोविच को पीछे छोड़ सकते थे। हालांकि, नडाल ने चोट की वजह से ATP कप से नाम वापस ले लिया था। वहीं, ऑस्ट्रेलियन ओपन के क्वार्टरफाइनल में सितसिपास के हाथों उन्हें हार मिली।
ATP ने रैंकिंग और रेटिंग को फ्रीज किया
इसलिए अब जोकोविच का फेडरर के रिकॉर्ड को तोड़ना तय है। साथ ही ATP रैंकिंग को भी फ्रीज कर दिया गया है। इसका मतलब किसी भी खिलाड़ी के जीतने-हारने से उनकी रेटिंग और रैंकिंग पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।
ऑस्ट्रेलियन ओपन वुमन्स फाइनल:वर्ल्ड नंबर-3 ओसाका ने दूसरी बार खिताब जीता, पहली बार कोई ग्रैंड स्लैम फाइनल खेल रहीं ब्रेडी को हराया
जापान की टेनिस स्टार नाओमी ओसाका ने दूसरी बार ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब अपने नाम किया। उन्होंने वुमन्स सिंगल्स के फाइनल में अमेरिका की जेनिफर ब्रेडी को सीधे सेटों में 6-4, 6-3 से शिकस्त दी। दोनों के बीच यह मुकाबला एक घंटा और 17 मिनट तक चला।
मैच में एक भी बार नहीं लगा कि 25 साल की ब्रेडी ने ओसाका को परेशान भी किया हो। वर्ल्ड नंबर-3 ओसाका ने यह मैच आसानी से जीत लिया। वहीं, वर्ल्ड नंबर-24 ब्रेडी का किसी भी ग्रैंड स्लैम का यह पहला फाइनल था।
ओसाका का ओवरऑल चौथा ग्रैंड स्लैम
ओसाका ने अब तक किसी भी ग्रैंड स्लैम में 4 बार फाइनल खेला और हर बार जीत हासिल की। उन्होंने अब तक 2 यूएस ओपन (2020, 2018) और 2 बार ऑस्ट्रेलियन ओपन (2021, 2019) खिताब जीता है। पिछले साल ही यूएस ओपन खिताब जीता। फाइनल में उन्होंने बेलारूस की विक्टोरिया अजारेंका को 1–6, 6–3, 6–3 से शिकस्त दी थी।
10:01

अमेरिका में टला बड़ा विमान हादसा: यात्रियों को ले जा रहे प्लेन के इंजन में लगी आग

tap news India deepak tiwari
अमेरिका में रविवार को बड़ा विमान हादसा टल गया। डेनवर से होनोलुलु जा रहे बोइंग 777 के इंजन में उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही आग लग गई। उस वक्त विमान 15 हजार फीट की ऊंचाई पर था। हालांकि, पायलट की सूझबूझ से हादसा टल गया। उसने तुरंत कंट्रोल स्टेशन को मैसेज किया और वापस डेनवर में विमान की सुरक्षित लैंडिंग करा ली। विमान में 231 पैसेंजर्स और 10 क्रू मेंबर्स थे।
लोगों से अपील- मलबे से दूर रहें
इस घटना की जांच के लिए नेशनल ट्रांसपोर्ट सिक्योरिटी बोर्ड (NTSB) ने टीम गठित कर दी है। विमान का मलबा काफी बड़े इलाके में फैल गया है। मफील्ड पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वे मलबे को ना छुएं और ना ही उसके पास जाएं।
प्लेन में बैठे पैसेंजर ने जलते इंजन का वीडियो बनाया
प्लेन के इंजन में आग लगते ही फ्लाइट में अफरा-तफरी मच गई। हालांकि, पायलट ने उन्हें हिम्मत बंधाई। साथ ही कहा कि वह सुरक्षित लैंडिंग की हर संभव कोशिश कर रहे हैं। इस दौरान एक पैसेंजर ने जलते हुए इंजन का वीडियो बना लिया। सोशल मीडिया पर शेयर करते ही यह वायरल हो गया।
धमाके के बाद विमान लगातार नीचे आ रहा था
एक यात्री डेविड डेल्युसिया ने डेनवर पोस्ट को बताया- 'मैं ईमानदारी से कह रहा हूं कि किसी पॉइंट पर जाकर हम मरने वाले थे। ऐसा सोचने की वजह भी थी। धमाके के बाद हम लगातार ऊंचाई से नीचे की तरफ आते जा रहे थे। आग से विमान के अंदर भी गर्मी बढ़ने लगी थी।'
2018 में भी बोइंग 777 का इंजन फेल हुआ था
यह विमान करीब 26 साल पुराना था। इसमें दो प्रैट एंड व्हिटनी PW4000 इंजन लगे थे। फरवरी 2018 में भी बोइंग 777 के एक पुराने विमान का इंजन फेल हो गया था। तब भी कम समय में ही सुरक्षित लैंडिंग करा ली गई थी।
06:07

साहित्यकार सूचना व सामाजिक कार्यकर्ता बनेंगे समग्र सामाजिक परिवर्तन का कारण

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि के अवसर पर समग्र सामाजिक परिवर्तन का संकल्प लेकर जनपद भर में होने वाले जनजागरण कार्यक्रमों की श्रृंखला में भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के तत्वावधान में जे एस पैलेस, बिल्सी में  "" नारी के प्रति बढ़ते अपराध व निवारण के उपाय "" विषयक तहसील स्तरीय संगोष्ठी का आयोजन भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के संरक्षक डॉ राम रतन सिंह पटेल की अध्यक्षता में, तहसील समन्वयक आकाश तोमर व सह तहसील समन्वयक अखिलेश सोलंकी के संयोजन में किया गया। मुख्य अतिथि के रूप में व्यवस्था सुधार मिशन के जनक व भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड़ एडवोकेट उपस्थित रहे। विशिष्ट अतिथि के रूप में अभियान के मार्गदर्शक एम एल गुप्ता, धनपाल सिंह, कैप्टन राम सिंह, रामगोपाल माहेश्वरी व राजेश गुप्ता उपस्थित रहे।

सर्वप्रथम उपस्थित जनों ने राष्ट्रपिता  के चित्र पर पुष्प अर्पित किये। तदन्तर जिला समन्वयक एम एच कादरी व भारतीय कृषक पंचायत के सह संयोजक वेदपाल सिंह कठेरिया द्वारा राष्ट्र राग "" रघुपति राघव राजाराम .......""  का सामुहिक कीर्तन कराया गया।

संरक्षक एम एल गुप्ता द्वारा ध्येय गीत " जीवन में कुछ करना है तो मन को मारे मत बैठो....." प्रस्तुत किया गया। केंद्रीय कार्यालय प्रभारी रामगोपाल व मंडल समन्वयक शमसुल हसन ने संगठन का परिचय ,रीति नीति, कार्य पद्धति , उद्देश्यों व परिणामों से परिचित कराया। बिल्सी तहसील के सूचना कार्यकर्ताओं को परिचय पत्र भी वितरित किए गए। पंचायत चुनाव में सूचना कार्यकर्ताओं की भूमिका निर्धारित करने हेतु जनपद में शिक्षित, ईमानदार प्रतिनिधियों का चुनाव करने हेतु गाँव गाँव मतदाता संकल्प सभाओं के आयोजन की योजना भी बनायी गयी।

मुख्य अतिथि के रूप में विचार व्यक्त करते हुए व्यवस्था सुधार मिशन के जनक एवं भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड एडवोकेट ने कहा कि बिल्सी तहसील के प्रमुख सूचना/सामाजिक कार्यकर्ता व साहित्यकार आज बड़े ही महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा करने यहां एकत्र हुए हैं, हम समस्या पर नहीं समाधान पर चर्चा करने एकत्र हुए हैं। समाधान का हिस्सा बनने हेतु प्रशिक्षण की आवश्यकता है। हर गांव में एक प्रशिक्षित व्यक्ति पूरे गांव के परिवर्तन का कारण बनेगा। इस प्रकार के आयोजन जनपद भर में होने से आने वाले समय में बदायूँ जनपद देश का प्रथम भ्रष्टाचार मुक्त, अपराध मुक्त, व्यभिचार मुक्त, आत्म निर्भर जनपद बन सकेगा और बदायूँ में उत्पन्न हुआ विचार पूरे देश को दिशा देने का कार्य करेगा। प्रशिक्षित कार्यकर्ता लक्ष्य प्राप्त करने हेतु कर्तव्य पथ पर अग्रसर रहे। पंचायत चुनावों में भी हमे महत्वपूर्ण भूमिका निभानी हैं।


श्री राठोड़ ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के विचारों से प्रेरित होकर उनकी पुण्यतिथि के अवसर पर वर्ष 2011 मे संगठन की स्थापना हुई। महात्मा गांधी ने हर विषय पर विचार दिए हैं, उनके नारी के संदर्भ में व्यक्त किए गए विचार वर्तमान परिस्थितियों में सर्वाधिक प्रासंगिक हैं। गांधी जी के विचारों का अनुसरण किया जाए तो समाज में नारी के प्रति आदर का भाव विकसित होगा। कठोर कानून बनाने से घटनाएं नही रुकेंगी बल्कि सामाजिक चेतना से ही दुष्कर्म की घटनाएं रुकेंगी। गाँधी जी के विचारों को जन जन तक पहुचाने का कार्य सूचना/ सामाजिक कार्यकर्ता करेंगे। जनपद बदायूं मे उघैती कांड की पुनरावृत्ति न हो, धर्म स्थलों में नारी की अस्मिता पर हमले न हो,  महिलाओं के प्रति श्रद्धा व आस्था का वातावरण निर्मित हो, इसके लिए संगठन की ओर से जनपद में पचास प्रमुख स्थानों पर विचार गोष्ठियों के आयोजन का निर्णय लिया गया है, इन गोष्ठियों में साहित्यकारों की भी महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। साहित्यकार सामाजिक परिवर्तन का कारण बनेंगे। धर्म स्थलों में शिक्षित और प्रशिक्षित व्यक्ति ही धार्मिक कार्य कराए, इसके लिए भी मुहिम चलाई जाएगी। सोशल मीडिया के सकारात्मक व सृजनात्मक प्रयोग की आवश्यकता है। वर्तमान समय में सोशल मीडिया समाज को प्रभावित कर रही है। संदिग्घ चरित्र के पुरुषों और महिलाओं को चिन्हित कर उन्हें उपेक्षित व बहिष्कृत करने का साहस नागरिकों को जुटाना पड़ेगा। इस दिशा में समाज को जाग्रत करने मे सूचना कार्यकर्ताओं की बड़ी भूमिका रहेगी।

कार्यक्रम में जनपद के पांच श्रेष्ठ साहित्यकारों जोगेंद्र सिंह जुगनू, सुवीन कुमार माहेश्वरी, प्रदीप विशाल रायजादा, मनमोहन मक्कार व सोमेंद्र सोम को शाल व माला भेंटकर सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम में 80 वर्ष से100 वर्ष आयु की पाँच वयोवृद्ध महिलाओं  रम्पा देवी, मिथलेश, चमेली देवी, रामवती व रामबेटी  को फूल माला पहनाकर व शाल उड़ाकर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर प्रमुख रूप से अभय माहेश्वरी, आर्येन्दर पाल सिंह, देवेश शंखधार,  महेश चंद्र, वीरेंद्र कुमार, सतेन्द्र सिंह,भानु प्रताप सिंह, ,राजवीर, भुवनेश , रजनेश, सत्यवीर सिंह, हरिओम, श्रीराम,मोरपाल सिंह, पुत्तूलाल, नितिन, यादराम, बाबूराम, मोनू सिंह, नरेश कुमार, शिवम, नरेश कुमार, गजेंद्र पाल, अजयपाल, जय प्रकाश, मसर्रत अली , रवि कुमार, जुल्फिकार, उदयभान सिंह, हरिओम गुप्ता, किशनवीर, भुवनेश कुमार, राजवीर, प्रमोद कुमार, रिजवान, पिंकुल कुमार, मुनेश कुमार, राजीव कुमार चौहान, विपिन कुमार सिंह , विकास कुमार, वीरेंद्र कुमार, योगेश सक्सेना, अविनाश शंखधार, बलभद्र सिंह, राजवीर, प्रमोद कुमार, पिंकुल सिंह, बब्लू सोलंकी, रणवीर सिंह, विनीत कुमार सिंह, विकास कश्यप, राजीव सक्सेना, शशांक सक्सेना, रोहन राम, मोहम्मद इब्राहीम, मीरा देवी, नीलोफर, जय किशन, रवींद्र सिंह,  भानु प्रताप सिंह, किशनवीर आदि उपस्थित रहे।

कार्यक्रम का संचालन कवि व साहित्यकार षत वदन शंखधार ने किया। 
अंत में कार्यक्रम संयोजक अखिलेश सोलंकी  ने सभी का आभार प्रकट किया।