Friday, October 19, 2018

कलयुग बैठा मार कुंडली जाऊं तो मैं कहाँ जाऊं अब हर घर मे रावण बैठा इतने राम कहाँ से लाऊं-भोला नाथ मिश्रा

आज विजय दशमी का पावन अवसर है और आज ही देर सबेर नारी शक्ति को अपमानित कर अधर्म अन्याय की डगर पर चलकर राक्षसराज लंकापति रावण संत महात्माओं का खून जजिया टैक्स के रूप में वसूलता था।आज हम सबसे पहले अपने सभी शुभचिंतकों पाठकों अग्रजों को असत्य पर सत्य एवं अन्याय पर न्याय की विजय के प्रतीक दशहरे की दिल की गहराई से  शुभकामनाएं देते हुए आप सभी के उज्जवल भविष्य की मंगल कामना करते हैं।कल शारदीय नवरात्रि का समापन हुआ है उसके समापन होते ही महीनों से अजेय बने रावण का अंत हो जाता है और जगतजननी सीता माता उसके बंधन से मुक्त हो जाती हैं।रावण इतना ताकतवर था कि उसे मारने के लिए भगवान विष्णु को रामचन्द्र जी के रूप में श्री अयोध्या नगरी में मनु सतरूपा के वंशज चक्रवर्ती सम्राट राजा दशरथ के यहाँ जन्म लेना पड़ा इसके बावजूद भी वह मर नहीं पा रहा था। नवरात्रि की व्यस्तता से छुट्टी मिलते ही आदि शक्ति के विभिन्न स्वरूप रावध वध में सहयोग देने आने के कारण ही विभीषण से भेद पाकर भगवान राम उसका अमृत कोष सुखाकर मारने में सफल हो सके।आज का दिन बहुत ही पावन है क्योंकि आज ही राक्षसराज का अंत हुआ है और लंका में भी रामराज्य की परिकल्पना साकार हुयी है।हम आज उस अत्याचारी अन्यायी जुल्मी दशानन का अंत होगा जिसने सीताजी का अपहरण तो जरुर कर लिया था लेकिन किसी तरह की छेड़छाड़ जोरजबरदस्ती न कर वह उन्हें लेकर सीधे अपने राजमहल नहीं बल्कि राजमहल से दूर अपनी उस अशोक वाटिका में ले गया था जहाँ शोक नाम की कोई चींज नहीं थी और रातदिन महिला रक्षक उनकी रखवाली करते थे। आज हम उस रावण के मरने पर खुशी मना रहे हैं जो कभी सीताजी से मिलने अकेले नहीं गया और जब भी उनके पास गया अपनी पत्नी के साथ गया। इतना ही हम उस रावण की चरित्रहीनता पर आक्रोश व्यक्त करते हैं जिसने सीताजी को विवाह करने के लिए सोचने का एक माह का समय दिया था और मात्र धमकी दी थी कि अगर एक महीने बाद शादी से इंकार किया तो तलवार से मार डालूँगा। आज हम उस रावण का पुतला फूंकने जा रहे हैं जिसने अपनी बहन के अपमान का बदला लेने के लिए सीताजी का अपहरण तो किया किन्तु उनको अपमानित प्रताड़ित नहीं किया।सभी जानते हैं कि राम रावण युद्ध त्रेतायुग में हुआ था और भगवान को खुद अवतरित होकर रावण जैसे महापापी राक्षस को मारना पड़ा था। रावण व्यक्ति नहीं बल्कि एक प्रवृत्ति है और वह हर युग में रही है लेकिन उसके कलेवर बदलते रहे हैं।आजकल के कलियुगी रावण उस रावण से काफी अलग नीति सिद्धांत वाले हैं और वह जब कहीं बेवश बेसहारा नारी शक्ति स्वरूपा को पा जाते हैं तो वह उसके अस्तित्व को लूटने मेंं देर नहीं लगाते हैं। उस समय एक सीता का अपहरण मात्र हुआ था लेकिन आजकल रोजाना कहीं न कहीं सीताओं का अपहरण ही नहीं बल्कि उनके साथ जबरिया दुष्कर्म भी किया जाता है तथा कुछ की नृशंस हत्या तक कर दी जाती है।इस समय सोशल मीडिया के माध्यम से मीट टू अभियान चलाकर तमाम कलियुगी सीताओं के चीरहरण के मामले देश दुनिया में चर्चा का विषय बने हुये है और राजनैतिक छौंके लगाकर आगामी लोकसभा चुनावों को मजबूती देने की कोशिश हो रही है। इसके चलते करीब दो दर्जन महिला पत्रकारों के आरोपों से घिरे केन्द्रीय मंत्री जाने माने वरिष्ठ पत्रकार रह चुके एमजे अकबर को कल अंततः अपने पद से इस्तीफा दे ही देना पड़ा क्योंकि विपक्षी सरकार की घेराबंदी करने लगे थे। मीट टू के अलावा तमाम ऐसी ही घिनौनी घटनाएं अबतक देश दुनिया को झकझोड़ चुकी हैं और कानून में बदलाव भी किया जा चुका है लेकिन अपहरण बलात्कार हत्या की आये दिन घटनाएं हो रही हैं।असली सूफी संतों महात्माओं को इन कलियुगी रावणों के समक्ष अपने अस्तित्व का खतरा पैदा हो गया है क्योंकि दो चार दस बीस मछली ही पूरे तालाब को गंदा कर देती हैं।कहने का मतलब है कि जिस रावण के मरने का हम सभी जश्न मना रहे हैं उससे कई गुना अधिक व्यभिचारी अत्याचारी पापाचारी रावण एक की जगह गली मुहल्लों शहरों नहीं बल्कि धरती पर टहल रहे हैं। इस समय कुछ देशों में नारी शक्ति का शारीरक शोषण ही नहीं बल्कि रस चूसने के बाद उन्हें  गुलाम बनाकर बेचा जा रहा तथा उनका अपहरण करके उनके साथ जबरिया कुकर्म किया जाता है। आज एक बार भी सीता का अस्तित्व खतरे में हैं और कलियुग में रावण की हवश शैतानी हो गई है जो दुनिया भर में चिंता का विषय बनी हुई है। आज फिर एक बार धरती इन कलियुगी रावणों से कराहने लगी है और उनके विनाश के लिये भगवान राम को पुकार रही हैं।इन रावणों से नारी शक्ति की इज्ज़त आबरु बचाकर धर्म की स्थापना के लिये भगवान के अवतरण की जरूरत आ गयीं है। धन्यवाद।। भूलचूक गलती माफ।। सुप्रभात / वंदेमातरम् / गुडमार्निंग / नमस्कार / अदाब / शुभकामनाएं ।। ऊँ भूर्भुवः स्वः --------/ ऊँ नमः शिवाय।।
          भोलानाथ मिश्र
वरिष्ठ पत्रकार/समाजसेवी
रामसनेहीघाट, बाराबंकी यूपी

19 अक्टूबर 2018 तारों की चाल बताएंगी आपका हाल

️️आज दिनाँक 19-अक्टूबर-2018 का राशिफल

प्रस्तुत राशिफल आपकी चन्द्र राशि पर आधारित हैं | यदि आपको अपनी चन्द्र राशि नहीं पता है तो आप हमे Astroakpandey@Gmail.com पर ई मेल करके अपनी चन्द्र राशि की जानकारी ले सकते हैं| By ज्योतिर्विद अभय पाण्डेय 8707572209
मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ)
आज के दिन सार्वजिनक कार्यो आपका महत्त्वपूर्ण योगदान स्वयं के साथ परिजनों का भी मान बढ़ाएगा किसी अपरिचित से कहासुनी भी हो सकती है धैर्य से काम लें। मध्यान तक घरेलू अथवा अन्य कार्यो में व्यस्त रहेंगे जिससे व्यवसायिक कार्यो में फेरबदल करना पड़ेगा। अधीनस्थों के प्रति नरमी रखें आज इनके सहयोग से ही धन लाभ की प्राप्ति होगी लेकिन ज्यादा जिम्मेदारी वाले कार्य भी ना सौपे अन्यथा नुकसान भी हो सकता है। धन लाभ आवश्यकतानुसार होगा ज्यादा पाने के चक्कर मे हाथ आये लाभ से भी वंचित ना रह जाये इसका ध्यान रखें। हर में कार्य अधिक रहने के कारण महिलाए बेचैन रहेंगी आरोग्य में कमी आयेगी।

वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)
आज का दिन आपके लिये कामना पूर्ति वाला रहेगा। स्वयंजन एवं सहकर्मियों से विवेकी व्यवहार रखें अन्यथा इच्छाओं पर पानी फेरते समय नही लगाएंगे। व्यवसायी वर्ग को आज आकस्मिक धन मिलने की सम्भवना है लेकिन पहले दिमागी कसरत भी करनी पड़ेगी इससे घबराए ना धन और सम्मान दोनो मिलेंगे। नौकरी पेशाओ को भी आज अतिरिक्त आय बनाने के अवसर मिलेंगे लेकिन ज्यादा प्रलोभन में ना पढ़ें अन्यथा हानि के साथ किसी से कहा सुनी भी हो सकती है। सहकर्मियो का पूरा ख्याल रखेंगे आज आपसे प्रसन्न रहेंगे जिससे कार्य समय पर पूर्ण कर लेंगे। घर की स्थिति सुख दायक रहेगी परिजनों का स्नेह मिलने से थकान भूल जाएंगे। आरोग्य भी बना रहेगा।

मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा)
आज का दिन प्रतिकूल रहेगा खराब सेहत आज प्रत्येक कार्य मे बाधक बनेगी फिर भी जबरदस्ती कार्य करेंगे जिससे कम समय मे अधिक थकान बनेगी। घर का वातावरण भक्तिमय रहेगा पूजापाठ आदि में सम्मिलित होने के अवसर सुलभ होंगे परन्तु मानसिक रूप से आज किसी भी कार्य मे उत्साह नही रहेगा। कार्य क्षेत्र पर भी व्यवहारिकता मात्र रहेगी मजबूरी में किये गए कार्य फलित नही होंगे सीमित साधन से काम निकालना पड़ेगा। व्यवसायी वर्ग आज व्यवसाय से काफी उम्मीद लगाए रहेंगे लेकिन आशा निराशा में बदलेगी। घर मे कुछ ना कुछ परेशानी में डालने वाले प्रसंग लगे रहेंगे।

कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)
आज परिस्थितियां आपके पक्ष में रहेंगी भाग्य का साथ भी मिलने से सोची हुई योजनाए निर्विघ्न पूर्ण कर सकेंगे। दिन के आरंभ में घर मे पूजा पाठ के कारण भाग-दौड़ करनी पड़ेगी लेकिन इसका आध्यत्मिक लाभ भी किसी ना किसी रूप में अवश्य मिलेगा। मन के आज शांत रहने से किसी भी कार्य को बेहतर रूप से कर सकेंगे कार्य व्यवसाय में विलंब के बाद भी धन लाभ के अवसर मिलते रहेंगे धन लाभ थोड़े थोड़े अंतराल  पर होते रहने से संतुष्ट रहेंगे। महिलाए सेहत का विशेष ध्यान रखें कमजोरी अथवा अन्य शारीरिक समस्या बनेगी। धार्मिक यात्रा एवं कार्यो में खर्च होगा।

सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)
आज का दिन धन-धान्य में वृद्धि करने वाला रहेगा। दिन का आरंभिक भाग घरेलू व्यस्तता के कारण व्यावसायिक कार्यो से लाभ नही उठा सकेंगे। लेकिन मध्यान बाद से स्थिती पूर्ण रूप से आपकी पकड़ में रहेगी बाजार में तेजी रहने से लाभ के अवसर मिलते रहेंगे प्रतिस्पर्धा भी आज कुछ अधिक रहेगी लेकिन आपके व्यवसाय पर इसका ज्यादा असर नही पड़ेगा धन लाभ आज निश्चित ही आशाजनक रहेगा। नौकरी वाले लोग आज काम की जगह इधर उधर की बातों पर ज्यादा ध्यान देंगे अधिकारी वर्ग से कहा सुनी हो सकती है। घर मे सुख के साधनों की वृद्धि होगी खर्च भी करना पड़ेगा। स्वास्थ्य संबंधित थोड़ी बहुत समस्या लगी रहेगी।

कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)
आज के दिन आप अपनी कमियों को छुपाने का प्रयास करेंगे। लोगो के आगे अपनी बुद्धि चातुर्य का प्रदर्शन करेंगे बाहर से व्यवहारिकता लेकिन अंदर से ईर्ष्या और अहम की भावना रहेगी। परिजन को छोड़ अन्य सभी लोग आपकी मनगढंत बातो के झांसे में आसानी से आ जाएंगे लेकिन पोल खुलने के बाद लोगो का आपके ऊपर से विश्वास कम होगा। कार्य व्यवसाय में सोची हुई योजना स्वयं अथवा सहकर्मी की गलती से अनियंत्रित रहेगी। धन लाभ के अवसर मिलेंगे परन्तु सभी अवसरों का लाभ नही उठा सकेंगे फिर भी काम चलाऊ हो ही जायेगा। परिजनों के आगे ज्यादा अक्लमंदी ना दिखाये बेज्जती हो सकती है।

तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)
आज का दिन बनते कार्यो में विघ्न खड़े करेगा। दिन का पहला भाग शांति से व्यतीत करेंगे लेकिन इसके बाद किसी ना किसी उलझन में फंसते ही रहेंगे जिस भी कार्य को करने का मन बनाएंगे वह किसी ना किसी अभाव के कारण आरम्भ नही हो सकेगा। कार्य व्यवसाय में भी आज अकस्मात हानि के योग बन रहे है धन संबंधित मामले निवेश अथवा उधार के कार्य को आज निरस्त ही रखे।
धन लाभ अधिक परिश्रम के बाद अल्प मात्रा में होगा। घर मे भी किसी से नुकसान होने की संभावना है सतर्क रहकर कार्य करें। सेहत में भी कुछ ना कुछ कमी लगी रहेगी।

वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)
आज का दिन आशानुकूल रहने से दिन भर प्रसन्न रहेंगे आज आपकी दिनचार्य व्यवस्थित नही रहेगी फिर भी सौभाग्य वृद्धि के योग बनने से सभी तरह से खुशहाली मिलेगी। काम-धंधा दिन के आरंभ से मध्यान तक इसके बाद संध्या से रात्रि तक प्रगति पर रहेगा। आज आपके द्वारा गलती से किया कार्य भी कुछ ना कुछ लाभ ही देकर जाएगा। सार्वजनिक क्षेत्र पर अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिलेगा। प्रतिस्पर्धा में किसी से आंतरिक मतभेद होने की भी संभावना है। पारिवारिक जीवन आनदमय रहेगा सभी सदस्य एक दूसरे को आदर देंगे भाई बंधु से थोड़ी नोंकझोंक हो सकती है परन्तु स्थिति गंभीर नही होगी। थकान को छोड़ सेहत ठीक रहेगी।

धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे)
आज का दिन पूर्वार्ध में अस्त व्यस्त रहेगा लेकिन आज आपके सभी कार्य सही दिशा में आगे बढ़ेंगे मध्यान तक व्यक्तिगत अथवा अन्य कारणों से व्यवसायिक कार्यो में विलंब होगा। लेकिन धीरे धीरे गाड़ी पटरी पर आने लगेगी व्यवसाय में थोड़ी तेजी मंदी लगी रहेगी कुछ समय के लिये मानसिक बेचैनी बनेगी लेकिन संध्या तक धन की आमद संतोष जनक हो जाएगी। नए कार्यो में निवेश करना आज शुभ रहेगा। उधारी अथवा अन्य लेन देन के कारण किसी से गरमा गरमी होने की संभावना है। गृहस्थ में आज अन्य दिनों की अपेक्षा शांति रहेगी तालमेल की कमी रहने के बाद भी स्थिति सामान्य रहेगी। शरीर मे कुछ कमी अनुभव करेंगे।

मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी)
आज का दिन अकस्मात लाभ की प्राप्ती कराएगा लेकिन ध्यान रखें लापरवाही से कार्य करने पर आज जो विचार में नही रहेगा वह घटना घट सकती है। मध्यान तक का समय मानसिक रूप से शांति प्रदान करेगा। आध्यात्मिक आयोजनों में सम्मिलित होंगे धर्म कर्म के प्रति आस्था बढ़ेगी लेकिन अन्य व्यस्तता के चलते चाह कर भी अधिक समय नही दे सकेंगे महिलाए आज धर्म के रंग में रंगी रहेंगी सेहत संबंधित शिकायत रहने के बाद भी सामर्थ्य से अधिक कार्य करने पर बाद में स्थिति गंभीर होने की संभावना है। कार्य व्यवसाय से अचानक धन मिलने पर प्रसन्न रहेंगे। सरकारी कार्य मे आज ढील ना दे वर्ना लंबे समय तक पूर्ण नही कर सकेंगे।

कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)
आज का दिन आपके लिये विपरीत फलदायक रहेगा। परिवार के सदस्य आपसे अधिक सहयोग की अपेक्षा रखेंगे लेकिन टालमटोल करने पर घर का वातावरण खराब होगा। कार्य क्षेत्र पर लाभ की उम्मीद लगाए रहेंगे परन्तु आज मानसिक रूप से अशान्त रहने के कारण वहां से भी सकारात्मक परिणाम नही मिल सकेंगे फिर भी धन संबंधित उलझन अकस्मात लाभ होने से कुछ हद तक शांत रहेंगी। घरेलू खर्च के साथ अन्य खर्च आने से बजट प्रभावित होगा।  घर मे आज मनमानी व्यवहार से बचें अन्यथा मनोकामना पूर्ति होने की जगह अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। सेहत मानसिक क्लेश के कारण शिथिल रहेगी।

मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)
आज आपका मानसिक संतुलन स्थिर नही रहेगा असमंजस की स्थिति के कारण पल पल में निर्णय बदलेंगे इससे कार्य विलंब के साथ अन्य लोगो को परेशानी होगी फिर भी स्वार्थी पूर्ति के कारण आज आपसे कोई शिकायत नही करेगा। मन आज अनैतिक कार्यो में जल्दी आकर्षित होगा स्वभाव में भी उदण्डता रहेगी बिना कलह किये किसी कार्य को नही करेंगे। कार्य क्षेत्र पर भी मन मर्जी व्यवहार के कारण जिस लाभ के अधिकारी है उसमें कमी आएगी। धन की आमद आज पूर्व नियोजित रहेगी थोड़ी बहुत अतिरिक्त आय भी बना लेंगे लेकिन खर्च के आगे आज कमाई कम ही लगेगी। मौसमी बीमारियों एवं संयम की कमी के कारण सेहत बिगड़ सकती है।

Thursday, October 18, 2018

राम जन्मभूमि परिसर निरमोही अखाड़ा एवम हिन्दू महासभा को सौंपा जाए-कौशिक

आज अखिल भारत हिन्दू महासभा के मुख्यालय हिन्दू महासभा भवन मे श्री राम जन्म भूमि के पक्षकारो द्वारा एक संवाददाता सम्मेलन किया गया जिसमे अ. भा. हि. महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश कौशिक, रा. महामत्री मुन्ना कुमार शर्मा, रा. प्रवक्ता प्रमोद पंडित जोशी, एवं श्री पंच रामानन्दीय निर्मोही अखाडा के महन्त दिनेन्द्रदास जी पक्षकार, महन्त घनश्याम दास, प्रभात सिन्घ्, एवं मुगल बादशाह बहादुर शाह ज़फ़र के उत्तराधिकारी नवाब शाह मुहम्मद शुएब खान तथा अनेक सदस्य शामिल हुए और संवाददाता सम्मेलन मे केन्द्र. सरकार एवं यू.पी. सरकार से श्री राम जन्म भूमि मन्दिर एवम परिसर को अधिग्रहित करके मन्दिर को एवं मन्दिर निर्माण के लिये संग्रहित धन, भूमि, पत्थर, कीमती धातु, आदि को रामानन्दीय निर्मोही अखाडा एवं अखिल भारत हिन्दू महासभा को सौपने की मान्ग की मांगे न माने जाने पर उच्चतम न्यायालय मे श्री रामजन्म भूमि मुकदमे के पक्षकारो द्वारा पूरे देश मे जन आन्दोलन करने की घोषणा की गयी 2014 के लोक सभा चुनाव मे श्री नरेन्द्र मोदी ने श्री राम जन्म भूमि मन्दिर के निर्माण के लिए बडे बडे वादे करने के बाव्जूद साढे  चार साल बाद भी कोई कदम इस ओर नही बढ़ाया मन्दिर के पक्षकारो ने उच्चतम न्यायालय मे अपनी जीत पर विश्वास प्रकट करते हुए कहा कि हम शीघ्र ही श्री राम जन्म भूमि  पर भव्य राम मंदिर का निर्माण करेंगे और ये मान्ग की कि सर्वोच्च न्यायालय इस मामले मे लगातार सुनवाई करके शीघ्र निर्णय दे जिस से श्री राम जन्म भूमि मन्दिर का निर्माण का मार्ग का प्रशस्त हो सके

एस के मिश्रा की रिपोर्ट


राम कृष्ण की धरती पर बढ़ती नकली कलयुगी भगवान की संख्या

भारतवर्ष सूफी संत महात्माओं देवी देवताओं ही नहीं बल्कि साक्षात भगवान विष्णु की प्रिय जन्म एवं कर्मस्थली माना जाता है। ग्रंथों पुरुणों एवं इतिहास में वर्णित अधिकांश  सूफी संतों महात्माओं देवी देवताओं की कर्मभूमि भारत की धराधाम से जुड़ी हुई है। यहाँ पर राम, कृष्ण परशुराम, महाबीर, कबीर, रहीम, मीराबाई, तुकाराम, परमहंस, स्वामी विवेकानंद, गुरु गोविंद साहब, जगजीवन साहेब, हाजी वारिस अली शाह, ख्वाजा गरीब नवाज, मलामत शाह, गुरु गोरखनाथ ,साईनाथ आदि जहाँ यहाँ पर खेलकूद बड़े होकर मानवता का संदेश और मनुष्य को मनुष्यता का पाठ पढ़ाकर हर जीव में ईश्वर की मौजूदगी को प्रमाणित कर मानवीय संवेदनाओं के साथ ईश्वरीय राह पर जीवन निर्वहन करने का पाठ पढ़ाया है। यहीं कारण है कि यहाँ के रहने वालों में अधिकांश लोग श्रद्धा आस्था भक्ति में सरोबोर हैं और अज्ञानता वश वह साधारण मनुष्य या पांखडी को भी संत भगवान एवं देवदूत मानकर उसे ईश्वर मानने लगते हैं।इस समय सैकडों लोग ऐसे हैं जो अपने को भगवान का अवतार बताकर कर लोगों से अपनी पूजा अर्चना करवाकर कलियुगी भगवान बने हुये हैं जबकि सभी जानते हैं कि ईश्वर एक हैं और उसके प्रिय सूफी संत महात्मा अनेकों हैं।संत महात्माओं के बारे में कहा गया है कि उनकी मुलाकात तब हो पाती है जब पिछले कई जन्मों के पुण्य एकत्र होकर उदय होते हैं। इधर कुछ लोग संत महात्मा भगवान के नाम पर धंधा करने एवं दूकान चलाने लगे है और हजारों लाखों लोग इनके मायाजाल में फंसकर उन्हें भगवान तुल्य मानने लगे थे।इधर एक दशक में एकायक संत महात्मा भगवान के नाम पर लोगों को बेवकूफ बनाकर लोगों एवं महिलाओं  का शोषण करने के पर्दाफाश होने का दौर शुरु हो गया है।इसी एक दशक में हैं हिन्दू उग्रवाद नया शब्द बन गया और तमाम संत महात्माओं को आतंकी जैसा बनाकर जेल में ठूंस दिया गया है। इनमें कई लोग निर्दोष साबित हो चुके हैं और कुछ मामले आज भी विचाराधीन चल रहे हैं।इसी तरह अबतक कई तथाकथित कलियुगी संत महात्माओं बाबाओं के भी चेहरा बेनकाब हो चुके है और वह आज वह जेल में हवा खा रहे हैं।वह चाहे बापू आशाराम हो चाहे बाबा राम रहीम हो जो संत के साथ फिल्मी हीरो बनकर हीरोइन के साथ मजा भी उड़ा रहे थे और मामला खुलने पर गिरफ्तारी के समय सरकार के छक्के छूट गये थे। इसी दशक में ही हरियाणा सरकार के सिंचाई विभाग के अवर अभियंता से सतलोक आश्रम के स्वंयभू संतशिरोमणि बने रामपाल को जेलगामी होकर उम्र कैद के साथ एक एक लाख के जुर्माने की सजा हो गयी। हिंसार हरियाणा की अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने परसों मंगलवार को उन्हें हत्या एवं अन्य अपराधिक मामलों में दोषी करार देकर सजा सुनाई गई है।इस फैसले के बावजूद उनके अनुयायी उन्हें निर्दोष मानकर आरोपी के बयान का वीडियो वायरल कर पुलिस पर झूठे मामले में फंसाने का आरोप लगा रहे हैं। आश्रम में गत नवम्बर 14 में हत्या के मामले में उनकी गिरफ्तारी को लेकर व्यापक हंगामा मारपीट हत्या आदि सबकुछ हुआ था और इस घटना में छः लोगों की मौत हो गई थी। पुलिस का आरोप है कि रामपाल के सम्बंध नक्सलियों से भी थे और उन्होंने तमाम लोगों को अपने आश्रम में बंधक बना रखा था। आरोपों की गंभीरता को देखते हुए न्यायालय द्वारा रियायती न्यूनतम सजा सुनाई गई है और साक्ष्यों सबूतों के आधार पर सुनाई गई है जो न्याय के तराजू पर सही और असत्य दोनों हो सकती हैं क्योंकि कानून अंधा होता है और गवाही व साक्ष्य उसकी आंखें एवं विवेक न्यायाधीश होता है।इतना तो सत्य है कि उनकी गिरफ्तारी के दौरान हिंसा एवं मौतें हुयी थी जिन्हें आसानी से टाला जा सकता था। यह सच है कि इस बदलते दौर में भी लोगों का विश्वास न्यायालय के प्रति बरकरार है और लोग मानते हैं कि अदालत में दूध का दूध और पानी का पानी हो जाता है। धन्यवाद।। भूलचूक गलती माफ।। सुप्रभात / वंदेमातरम् / गुडमार्निंग / नमस्कार / अदाब / शुभकामनाएं ।। ऊँ भूर्भुवः स्वः --------/ ऊँ नमः शिवाय।।
          भोलानाथ मिश्र
वरिष्ठ पत्रकार/समाजसेवी
रामसनेहीघाट, बाराबंकी यूपी

मेरठ कैंट से जासूसी के आरोप में सेना का जवान गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश में मेरठ कैंट से सेना का एक जवान गिरफ्तार कर लिया गया। न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, उस पर जासूसी करने का आरोप लगा है। फिलहाल उससे पूछताछ की जा रही है।हालांकि, अभी तक उसकी पहचान के बारे में कोई खुलासा नहीं किया गया है।आरोपी जवान सिग्नल रेजीमेंट का बताया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उस पर सेना की गोपनीय जानकारियां भी लीक करने का आरोप है।
जवान की गिरफ्तारी के बाद जांच एजेंसियां यह भी पता लगाने में जुटी हैं कि कहीं और लोग भी तो उसके साथ जासूसी में नहीं शामिल थे। आपको बता दें कि इससे पहले महाराष्ट्र के नागपुर स्थित ब्रह्मोस यूनिट से ऐयरोस्पेस इंजीनियर निशांत अग्रवाल को जासूसी के आरोप में पकड़ा गया था।महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश एंटी टेरर स्क्वॉड (एटीएस) की संयुक्त कार्रवाई में उसे गिरफ्तार किया गया था। पूछताछ के लिए उसे नागपुर से लखनऊ लाया गया था। आरोप है कि वह पाकिस्तानी इंटेलिजेंस एजेंसियों के संपर्क में था। वह उनसे फेसबुक पर नेहा शर्मा और पूजा रंजन नाम की आईडी से चैट करता था।यूपी एटीएस के एक अधिकारी के अनुसार, “बेहद संवेदनशील काम से जुड़े होने के बाद भी अग्रवाल इंटरनेट पर सक्रिय रहता था। वह इसी वजह से टारगेट बना। वह उसके अलावा लिंक्डइन पर भी सक्रिय था।अग्रवाल पर ऑफिशिलय सीक्रेट्स एक्ट की धारा 3,4,5 और 9, भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 419, 420, 467, 468, 120 (बी) और 121 (ए) व आईटी एक्ट की धारा 66 (बी) के तहत मामला दर्ज किया गया था। खबर लिखे जाने तक उसके उसके खातों की जांच-पड़ताल जारी थी। रिपोर्ट्स के अनुसार, उसके निजी कंप्यूटर में ऐसी गोपनीय और संवेदनशील जानकारियां पाईं गई, जो उसमें नहीं होनी चाहिए थीं।

मध्यप्रदेश में कलम के सिपाही की हत्या

भोपाल– मप्र में आजका दिन पत्रकारिता जगत के लिये अशुभ रहा । आज एक और पत्रकार प्रदेश सरकार की उदासीनता और भ्रष्ट तंत्र के खिलाफ़ आवाज उठाकर अपने प्राणों की आहूति दे गया।आज फ़िर एक बार प्रदेश में पत्रकार सुरक्षा कानून की आवश्यकता मेहसूस हुई । संभवतः अन्य पत्रकारों की हत्याओं के मामलों की तरह यह मामला लम्बी और बेनतीजा जाँच के नाम पर कागजों में दफन हो जायेगी।गौरतलब हो कि होशंगाबाद जिले के वरिष्ठ पत्रकार एव साप्ताहिक समाचार पत्र सतरस्ते के बेताल के संपादक प्रमोद सराठे “मिश्रा” का शव कल शाम पुलिस को सतरस्ते पर स्थित मुखर्जी काम्प्लेक्स के फ्लेट नम्बर 301 मे दिवंगत पत्रकार के  ही कमरे में संदिग्ध हालात मे मिला।पडोसियों द्वारा पत्रकार के बंद ताला लगे घर में बुरी तरह बदबू आने पर पुलिस को ख़बर देने के बाद यह मामला उजागर हुआ । सूत्रों के मुताबिक़ पत्रकार की लाश एक सप्ताह के पूर्व की है। शव मे कीड़े लग चुके है । प्रत्यक्ष दर्शी  की माने तो प्रमोद मिश्रा का शव घर के अंदर कमरे मे था और बाहर से ताला लगा हुआ था। बहरहाल मौके पर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी पहुच चुके थे। फोरेंसिक एक्सपर्ट भी मौके पर पहुंची है ।
मालूम हो कि दिवंगत पत्रकार प्रमोद मिश्रा की लाश जिस हालात मे मिलना बताया जा रहा है उससे तो पूरा मामला संदिग्ध लग रहा है। क्योकि पत्रकार की लाश अंदर कमरे मे और बाहर से ताला लगा होना किसी बडी घटना की और इशारा कर रहा है।मामला सन्देहास्पद तो है ही वहीं मौजूद साक्ष्य और हालात पत्रकार की हत्या की और इशारा कर रहे । मामला पत्रकार से जुड़ा होने एवं साक्ष्य हत्या के मिलने से पुलिस इस घटनाक्रम की पुलिस बारीकी से जांच कर रही है पुलिस अधीक्षक होशंगाबाद भी हत्या होने से इंकार नही कर रहे।अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति भारत ने प्रदेश में पत्रकारों की सुरक्षा के प्रति सरकार की उदासीनता पर चिन्ता व्यक्त करते हुये प्रदेश में अविलम्ब पत्रकार सुरक्षा क़ानून लागू करनें पर बल दिया । समिति की होशंगाबाद इकाई अध्यक्ष लोकेश मालवीय सहित प्रदेश सचिव इकपाल जुनेजा , पुष्पेंद्र भार्गव , सह सचिव गजेन्द्र गुप्ता , संदीप मेहरा ने ज़िले के वरिष्ठ पत्रकार की संदिग्ध मौत को हत्या होने की आशंका करते हुये पुलिस अधीक्षक से जाँच की मांग की ।समिति की राष्ट्रीय सचिव सरोज जोशी ने घटना की निंदा करते हुये होशंगाबाद इकाई को निर्देशित किया है कि इस सम्बन्ध में ज्ञापन कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक होशंगाबाद को सोंपा जाये सर जी।